बकुलाही नदी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
बकुलाही नदी
Bakulahi River
बलकुनी नदी
Bakulahi Nadi.jpg
बकुलाही नदी
स्थान
देश  भारत
राज्य उत्तर प्रदेश
भौतिक लक्षण
नदीशीर्ष 
 • स्थानभरतपुर झील, रायबरेली ज़िला
नदीमुख सई नदी (गोमती नदी)
 • स्थान
खजुरनी, प्रतापगढ़ ज़िला
लम्बाई 177 कि॰मी॰ (110 मील)
जलसम्भर लक्षण
विश्वनाथगंज के शनि देव मंदिर से गुज़रती बकुलाही नदी

बकुलाही नदी (Bakulahi River) भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में बहने वाली एक नदी है। यह रायबरेली ज़िले के भरतपुर झील से उत्पन्न होकर उत्तर प्रदेश के कई ज़िलों से गुज़रती है।[1][2][3][4]

इतिहास[संपादित करें]

बकुलाही नदी अति प्राचीन वेद वर्णित नदी है। इस नदी का प्राचीन नाम 'बालकुनी' था, किन्तु बाद में परिवर्तित होकर 'बकुलाही' हो गया। बकुलाही शब्द लोक भाषा अवधी का शब्द है। जनश्रुति के अनुसार बगुले की तरह टेढ़ी-मेढ़ी होने के कारण भी इसे बकुलाही कहा जाता है।

उद्गम[संपादित करें]

बकुलाही नदी उद्गम का उत्तर प्रदेश के रायबरेली ज़िला के भरतपुर झील से हुआ है। वहां से चलते हुए यह नदी बेंती झील, मांझी झील और कालाकांकर झील से जलग्रहण करते हुए बड़ी नदी का स्वरूप प्राप्त करती है।प्रतापगढ़ मुख्यालय के दक्षिण में स्थित मान्धाता ब्लॉक को हरा-भरा करते हुए यह नदी आगे जाकर खजुरनी गांव के पास गोमती नदी की सहायक नदी सई में मिल जाती है।

पौराणिक उल्लेख[संपादित करें]

बकुलाही नदी का संक्षिप्त वर्णन वेद पुराण तथा कई धर्मग्रंथों में है। महर्षि वाल्मीकि द्वारा रचित वाल्मीकि रामायण में बकुलाही नदी का उल्लेख किया गया है। वाल्मीकि रामायण में बकुलाही नदी का जिक्र इस प्रकार है, जब भगवान राम के वन से वापस आने की प्रतीक्षा में व्याकुल भरत के पास हनुमान जी राम का संदेश लेकर पहुंचते हैं। हनुमान जी से भरत जी पूछते हैं कि मार्ग में उन्होंने क्या-क्या देखा। इस पर हनुमान जी का उत्तर होता है-

सो अपश्यत राम तीर्थम् च नदी बालकुनी तथा बरूठी,
गोमती चैव भीमशालम् वनम् तथा।

वहीं इस नदी का वर्णन श्री भयहरणनाथ चालीसा के पंक्ति क्रमांक 27 के इन शब्दों में है-

बालकुनी इक सरिता पावन।
उत्तरमुखी पुनीत सुहावन॥

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "'राज और समाज' का साझा प्रयास: बकुलाही पुनरोद्धार". Indiawaterportal.org. मूल से 8 August 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 7 August 2014.
  2. "गोलियों की तड़तड़ाहट से थर्राई बकुलाही की तराई". अमर उजाला. 29 July 2014. मूल से 8 अगस्त 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 7 August 2014.
  3. "संसद में गूंजी थी बकुलाही की धारा". जागरण. 12 May 2012.
  4. "Location: Policy Level". तरुण भारत संघ (अंग्रेज़ी में). मूल से 8 August 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 7 August 2014.