मीणा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

मीणा अथवा मीना मुख्यतया भारत के राजस्थान, मध्य प्रदेश , उत्तर प्रदेश, हरियाणा और महाराष्ट्र इन राज्यों में निवास करने वाली एक आदि-वासी क्षत्रिय जाति है। राजस्थान राज्य में सभी मीणा आदिवासी हिन्दू अनुसूचित जनजाति हैं,[1] मीणा मध्यप्रदेश मेंं विदिशा के सिरोंज क्षेत्र को छोड़कर बाकी अन्य पिछड़ा वर्ग के तहत आते हैं। महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश और हरियाणा मे भी मीणा जाति अन्य पिछड़ा वर्ग मे ही आती है। [2] [3]

Ram Narayan Meena

पुराणों के अनुसार मीणा जाति के 2 वर्ग है।

जमीदार मीणा

• चौकीदार मीणा

मीणाओं का आरम्भिक परिचय[संपादित करें]

मीणा मुख्यतया भारत के राजस्थान राज्य में निवास करने वाली एक जाति है। मीणा जाति भारतवर्ष की प्राचीनतम जातियों में से मानी जाती है । वेद पुराणों के अनुसार मीणा जाति मत्स्य(मीन) भगवान की वंशज है। पुराणों के अनुसार चैत्र शुक्ला तृतीया को कृतमाला नदी के जल से मत्स्य भगवान प्रकट हुए थे। इस दिन को मीणा समाज जहां एक ओर मत्स्य जयन्ती के रूप में मनाया जाता है वहीं दूसरी ओर इसी दिन संम्पूर्ण राजस्थान में गणगौर का त्योहार बड़ी धूम धाम से मनाया जाता है। मीणा जाति का गणचिह्न मीन (मछली) था। मछली को संस्कृत में मत्स्य कहा जाता है। प्राचीनकाल में मीणा जाति के राजाओं के हाथ में वज्र तथा ध्वजाओं में मत्स्य का चिह्न अंकित होता था, इसी कारण से प्राचीनकाल में मीणा जाति को मत्स्य माना गया।

प्राचीन ग्रंथों में मत्स्य जनपद का स्पष्ट उल्लेख है जिसकी राजधानी विराट नगर थी,जो अब जयपुर वैराठ है। इस मस्त्य जनपद में अलवर,भरतपुर एवं जयपुर के आस-पास का क्षेत्र शामिल था। आज भी मीणा लोग इसी क्षेत्र में बहुत अधिक संख्या में रहते हैं।

मीणा जाति के भाटों(जागा) के अनुसार मीणा जाति में 12 पाल,32 तड़ एवं 5248 गौत्र हैं।

मध्य प्रदेश के भी लगभग २३ जिलो मे मीणा समाज निवास करता है ।

मूलतः मीणा एक सत्तारूढ़ [जाति] थे, और मत्स्य, यानी, राजस्थान या मत्स्य संघ के शासक थे, लेकिन उनका पतन स्य्न्थिअन् साथ आत्मसात से शुरू हुआ और पूरा जब ब्रिटिश सरकार ने उन्हें राजपूतों के साथ मिलकर "आपराधिक जाति" में डाल दिया तब। यह कार्रवाई, राजस्थान में राजपूत राज्य के साथ उनके गठबंधन के समर्थन में लिया गया निर्णय थी |

मीणा राजा आम्बेर (जयपुर) सहित राजस्थान के प्रमुख भागों के प्रारंभिक शासक थे।

पुस्तक 'संस्कृति और भारतीय जातियों की एकता "RSMann द्वारा में कहा गया है कि मीणा, राजपूतों के समान एक क्षत्रिय जाति के रूप में मानी जाती ह परुंतु  इतिहा में उल्लेख  बहुत कम किया गया हैै।

प्राचीन समय में राजस्थान मे मीणा वंश के राजाओ का शासन था। मीणा राज्य मछली (राज्य) कहा जाता था। संस्कृत में मत्स्य राज्य का ऋग्वेद में उल्लेख किया गया था. बाद में भील और मीणा, विदेशी लोगों से जो कि सिंध्, हेप्थलिते या अन्य मध्य एशियाई गुटों के साथ आये थे, से मिश्रित हुए।

मीणा मुख्य रूप से मीन भगवान और (शिव) की पुजा करते थे/हैं। मीणाओ मे कई अन्य हिंदू जातिओं की तुलना में महिलाओं के लिए बेहतर अधिकार रहे हैं। विधवाओं और तलाकशुदा का पुनर्विवाह एक आम बात है और इसेअच्छी तरह से अपने समाज में स्वीकार कर लिया है। इस तरह के अभ्यास वैदिक सभ्यता का हिस्सा हैं।

आक्रमण के वर्षों के दौरान,और १८६८ के भयंकर अकाल में,तबाह के तनाव के तहत कै समुह बने। एक परिणाम के रूप मे भूखे परिवारों को जाति और ईमानदारी का संदेह का परित्याग करने के लिए पशु चोरी और उन्हें खाने के लिए मजबूर होना परा।.

विषय सूची

1 वर्ग

2 मीणा जाति के प्रमुख राज्य निम्नलिखित थे

3 मीणा राजाओं द्वारा निर्मित प्रमुख किले

4 मीणा राजाओं द्वारा निर्मित प्रमुख बाबड़ियां

5 मीणा राजाओं द्वारा निर्मित प्रमुख मंदिर :

6 मीणा समुदाय में उल्‍लेखनीय व्‍यक्ति

मीणा जाति प्रमुख रूप से निम्न वर्गों में बंटी हुई है[संपादित करें]

जमींदार या पुरानावासी मीणा : जमींदार या पुरानावासी मीणा वे हैं जो प्रायः खेती एवं पशुपालन का कार्य बर्षों से करते आ रहे हैं। ये लोग राजस्थान के सवाईमाधोपुर, करौली,दौसा व जयपुर जिले में सर्वाधिक हैं|

चौकीदार या नयाबासी मीणा : चौकीदार या नयाबासी मीणा वे मीणा हैं जो अपनी स्वछंद प्रकृति के कारण चौकीदारी का कार्य करते थे। इनके पास जमींने नहीं थीं, इस कारण जहां इच्छा हुई वहीं बस गए। उक्त कारणों से इन्हें नयाबासी भी कहा जाता है। ये लोग सीकर, झुंझुनू, एवं जयपुर जिले में सर्वाधिक संख्या में हैं।

प्रतिहार या पडिहार मीणा : यह अपूर्ण ज्ञान है। प्रतिहार या पड़िहार एक गोत्र है अलग से मीना नही है इस गोत्र के मीणा टोंक, भीलवाड़ा, तथा बूंदी जिले में बहुतायत में पाये जाते हैं। यह गोत्र अपनी प्रभुत्वता के कारण एक अलग पहचान रखती है । प्रतिहार का शाब्दिक अर्थ उलट का प्रहार करना होता है। ये लोग छापामार युद्ध कौशल में चतुर थे इसलिये प्रतिहार कहलाये।

रावत मीणा : रावत मीणा अजमेर, मारवाड़ में निवास करते हैं।

भील मीणा : ये लोग सिरोही, उदयपुर, बांसवाड़ा, डूंगरपुर एवं चित्तोड़गढ़ जिले में प्रमुख रूप से निवास करते हैं।

मीणा जाति के प्रमुख राज्य निम्नलिखित थे

खोहगंग का चांदा राजवंश

मांच का सीहरा राजवंश

गैटोर तथा झोटवाड़ा के नाढला राजवंश

आमेर का सूसावत राजवंश

नायला का राव बखो [beeko] देवड़वाल (द॓रवाल) राजवंश

नहाण का गोमलाडू राजवंश

रणथम्भौर का टाटू राजवंश

नाढ़ला का राजवंश

बूंदी का उषारा एवम् मोटिश राजवंश

मेवाड़ का मीणा राजवंश

माथासुला ओर नरेठका ब्याड्वाल

झान्कड़ी अंगारी (थानागाजी) का सौगन मीना राजवंश

प्रचीनकाल में मीणा जाति का राज्य राजस्थान में चारों ओर फ़ैला हुआ था|

मीणा राजाओं द्वारा निर्मित प्रमुख किले

तारागढ़ का किला बूंदीे

आमागढ़ का किला

हथरोई का किला

खोह का किला

जमवारामगढ़ का किला

मीणा राजाओं द्वारा निर्मित प्रमुख बाबड़ियां

भुली बाबड़ी ग्राम सरजोली

मीन भग्वान राणी जी की बावड़ी बूंदी बावदी,सरिस्का,अल्वररर्

पन्ना मीणा की बाबड़ी,आमेर

खोहगंग की बाबड़ी,जयपुर

मीणा राजा चन्द की आभानेरी चाँद बावड़ी

मीणा राजाओं द्वारा निर्मित प्रमुख मंदिर :

दांत माता का मंदिर, जमवारामगढ़- सीहरा मीणाओं की कुल देवी

शिव मंदिर, नई का नाथ, बांसखो,जयपुर

आशावरी माता, नाँढला(बडगोती),घाट खानीयाँ ,सरकारी स्कुल के पिछे, चूलगिरी, आगरा रोड़, जयपुर

बांकी माता का मंदिर, रायसर,जयपुर-ब्याडवाल मीणाओं की कुलदेवी

बाई का मंदिर, बड़ी चौपड़,जयपुर

ज्वालादेवी का मंदिर, जोबनेर,जयपुर

टोडा महादेव का मंदिर, टोडामीणा, जमवारामगढ़, जयपुर

सेवड माता का मंदिर

मीन भगवान का मंदिर, मलारना चौड़,सवाई माधोपुर (राजस्थान)

मीन भगवान का मंदिर, चौथ का बरवाड़ा,सवाई माधोपुर (राजस्थान)

मीन भगवान का मंदिर, खुर्रा,लालसोट, दौसा (राजस्थान)

इतिहास प्रसिद्द पूरात्वविद स्पेन निवासी फादर हेरास ने 1940- 1957 तक सिन्धु सभ्यता पर खोज व शोद्द कार्य किया 1957 में उनके शोद्द पत्र मोहन जोदड़ो के लोग व भूमि शोद्द पत्र संख्या-4 में लिखा है मोहन जोदड़ो सभयता के समय यह प्रदेश चार भागो में विभक्त था जिनमे एक प्रदेश मीनाद था जिसे संस्कृत साहित्य में मत्स्य नाम दिया गया और साथ ही यह भी लिखा की मीना (मीणा) आर्यों और द्रविड़ो से पूर्व बसा मूल आदिवासी समुदाय था जो ऋग्वेद काल के मत्स्यो के पूर्वज है जिसका गण चिह्न मछली (मीन) था | इस समुदाय का प्राचीनतम उल्लेख ऋग्वेद में किया गया है वहा लिखा है ये लोग बड़े वीर पराक्रमी और शूरवीर है पर आर्य राजा सुदास के शत्रु है इसका ही उल्लेख डिस्ट्रिक गजेटियर बूंदी 1964 के पृष्ट -29 पर भी किया गया है | हरमनगाइस ने अपनी पुस्तक द आर्ट एण्ड आर्चिटेक्चर ऑफ़ बीकानेर के पृष्ट -98 पर मीणा समुदाय की प्राचीनता का उल्लेख करते हुए लिखा है की मीणा आदिवासी लोग मत्स्य लोगो के वंसज है जो आर्यों की और से लडे राजा सुदास से पराजित हुए और महाभारत के युद्द में मत्स्य जनपद के शासक के रूप में शामिल हुई | महाभारत युद्द में हुई क्षति से ये बिखर गए छोटे छोटे अनेक राज्य अस्तित्व में आ गए जिनमे इनका पूर्व का कर्द राज्य गढ़ मोरा महाभारत काल में जिसका शासक ताम्र ध्वज थे मोरी वंश प्रसिद्द हुवा जिसका राजस्थान में अंतिम शासक चित्तोड़ के मान मोर हुए जिसे बाप्पा रावल ने मारकर गुहिलोतो का राज्य स्थापित किया जो आगे जाकर सिसोदिया कहलाया | मोरी (मोर्य) साम्राज्य के अंत और गुप्त सामराज्य के समय अनेक छोटे छोटे राज्य हो गए मेर,मेव और मीणा कबीलाई मेवासो के रूप में अस्तित्व में आये .उत्तर से आने वाली आक्रमण करी जातियों ने इनको काफी क्षति पहुचाई .शेष बचे गणराज्यो को समुद्रगुप्त ने कर्द राज्य बनाया उस समय मेरवाडा में मेर मेवाड़ में मेव और ढूढाड में मीणा काबिज थे हर्ष वर्धन के समय उसके अधीन रहे | हर्ष वर्धन के अंत के बाद पुन जोर पकड़ा | कई राज्य बने कमजोर थे उन्होंने ताकत अर्जित करी |

वरदराज विष्णु को हीदा मीणा लाया था दक्षिण से आमेर रोड पर परसराम द्वारा के पिछवाड़े की डूंगरी पर विराजमान वरदराज विष्णु की एतिहासिक मूर्ति को साहसी सैनिक हीदा मीणा दक्षिण के कांचीपुरम से लाया था। मूर्ति लाने पर मीणा सरदार हीदा के सम्‌मान में सवाई जयसिंह ने रामगंज चौपड़ से सूरजपोल बाजार के परकोटे में एक छोटी मोरी का नाम हीदा की मोरी रखा। उस मोरी को तोड़ अब चौड़ा मार्ग बना दिया लेकिन लोगों के बीच यह जगह हीदा की मोरी के नाम से मशहूर है। देवर्षि श्री कृष्णभट्ट ने ईश्वर विलास महाकाव्य में लिखा है, कि कलयुग के अंतिम अश्वमेध यज्ञ केलिए जयपुर आए वेदज्ञाता रामचन्द्र द्रविड़, सोमयज्ञ प्रमुखा व्यास शर्मा, मैसूर के हरिकृष्ण शर्मा, यज्ञकर व गुणकर आदि विद्वानों ने महाराजा को सलाह दी थी कि कांचीपुरम में आदिकालीन विरदराज विष्णु की मूर्ति के बिना यज्ञ नहीं हो सकता हैं। यह भी कहा गया कि द्वापर में धर्मराज युधिष्ठर इन्हीं विरदराज की पूजा करते था। जयसिंह ने कांचीपुरम के राजा से इस मूर्ति को मांगा लेकिन उन्होंने मना कर दिया। तब जयसिंह ने साहसी हीदा को कांचीपुरम से मूर्ति जयपुर लाने का काम सौंपा। हीदा ने कांचीपुरम में मंदिर के सेवक माधवन को विश्वास में लेकर मूर्ति लाने की योजना बना ली। कांचीपुरम में विरद विष्णु की रथयात्रा निकली तब हीदा ने सैनिकों के साथ यात्रा पर हमला बोला और विष्णु की मूर्ति जयपुर ले आया। इसके साथ आया माधवन बाद में माधवदास के नाम से मंदिर का महंत बना। अष्टधातु की बनी सवा फीट ऊंची विष्णु की मूर्ति के बाहर गण्शो

मध्ययुगीन इतिहाप्राचहिन समय मे मीणा राजा आलन सिंह ने,एक असहाय राजपूत माँ और उसकबच्चे को उसके दाबच्चे, ढोलाराय को दिल्ली भेजा,मीणाराज्य का प्रतिनिधितकरने के लिए। राजपूत ने इस् एहसान के लिए आभार मे राजपूत सणयन्त्रकारिओ केया और दीवाली पर निहत्थे मीनकि लाशे बिछा दि,जब वे पित्र तर्पन रस्में कर रहे थे। मीणाओ को उस् समय निहत्था होना होता था। जलाशयों को"जो मीणाऔ के मृत शरीर के साथ भर गये। ] और इस प्रकार कछवाहा राजपूतों ने खोगओन्ग पर विजय प्राप्त की थी, सबसे कायर हर्कत और राजस्थान के इतिहास में शर्मनाक।

एम्बर के कछवाहा राजपूत शासक भारमल हमेशा नह्न मीणा राज्य पर हमला करता था, लेकिन बहादुर बड़ा मीणा के खिलाफ सफल नहीं हो सका। अकबर ने राव बड़ा मीणा को कहा था,अपनी बेटी कि शादी उससे करने के लिए। बाद में भारमल ने अपनी बेटी जोधा की शादी अकबर से कर दि। तब अकबर और भारमल की संयुक्त सेना ने बड़ा हमला किया और मीणा राज्य को नस्त कर दिया। मीणाओ का खजाना अकबर और भारमल के बीच साझा किया गया था। भारमल ने एम्बर के पास जयगढ़ किले में खजाना रखा ।

कुछ अन्य तथ्य

कर्नल जेम्स- टॉड के अनुसार कुम्भलमेर से अजमेर तक की पर्वतीय श्रृंखला के अरावली अंश परिक्षेत्र को मेरवाड़ा कहते है । मेर+ वाड़ा अर्थात मेरों का रहने का स्थान । कतिपय इतिहासकारों की राय है कि " मेर " शब्द से मेरवाड़ा बना है । यहां सवाल खड़ा होता है कि क्या मेर ही रावत है । कई इतिहासकारो का कहना है किसी समय यहां विभिन्न समुदायो के समीकरण से बनी 'रावत' समुदाय का बाहुल्य रहा है जो आज भी है । कहा यह भी जाता है कि यह समुदाय परिस्थितियों और समय के थपेड़ों से संघर्ष करती कतिपय झुंझारू समुदायों से बना एक समीकरण है । सुरेन्द्र अंचल अजमेर का मानना है कि रावतों का एक बड़ा वर्ग मीणा है या यो कह लें कि मीणा का एक बड़ा वर्ग रावतों मे है । लेकिन रावत समाज में तीन वर्ग पाये जाते है -- 1. रावत भील 2. रावत मीणा और 3. रावत राजपूत । रावत और राजपूतो में परस्पर विवाह सम्बन्ध के उदाहरण मुश्किल से हि मिल पाए । जबकि रावतों और मीणाओ के विवाह होने के अनेक उदाहरण आज भी है । श्री प्रकाश चन्द्र मेहता ने अपनी पुस्तक " आदिवासी संस्कृति व प्रथाएं के पृष्ठ 201 पर लिखा है कि मेवात मे मेव मीणा व मेरवाड़ा में मेर मीणाओं का वर्चस्व था।

महाभारत के काल का मत्स्य संघ की प्रशासनिक व्यवस्था लौकतान्त्रिक थी जो मौर्यकाल में छिन्न- भिन्न हो गयी और इनके छोटे-छोटे गण ही आटविक (मेवासा ) राज्य बन गये । चन्द्रगुप्त मोर्य के पिता इनमे से ही थे । समुद्रगुप्त की इलाहाबाद की प्रशस्ति मे आ...टविक ( मेवासे ) को विजित करने का उल्लेख मिलता है राजस्थान व गुजरात के आटविक राज्य मीणा और भीलो के ही थे इस प्रकार वर्तमान ढूंढाड़ प्रदेश के मीणा राज्य इसी प्रकार के विकसित आटविक राज्य थे ।

वर्तमान हनुमानगढ़ के सुनाम कस्बे में मीणाओं के आबाद होने का उल्लेख आया है कि सुल्तान मोहम्मद तुगलक ने सुनाम व समाना के विद्रोही जाट व मीनाओ के संगठन ' मण्डल ' को नष्ट करके मुखियाओ को दिल्ली ले जाकर मुसलमान बना दिया ( E.H.I, इलियट भाग- 3, पार्ट- 1 पेज 245 ) इसी पुस्तक में अबोहर में मीणाओ के होने का उल्लेख है (पे 275 बही) इससे स्पष्ट है कि मीणा प्राचीनकाल से सरस्वती के अपत्यकाओ में गंगा नगर हनुमानगढ़ एवं अबोहर- फाजिल्का मे आबाद थे ।

रावत एक उपाधि थी जो महान वीर योध्दाओ को मिलती थी वे एक तरह से स्वतंत्र शासक होते थे यह उपाधि मीणा, भील व अन्य को भी मिली थी मेर मेरातो को भी यह उपाधिया मिली थी जो सम्मान सूचक मानी जाती थी मुस्लिम आक्रमणो के समय इनमे से काफी को मुस्लिम बना...या गया अतः मेर मेरात मेहर मुसमानो मे भी है ॥ 17 जनवरी 1917 में मेरात और रावत सरदारो की राजगढ़ ( अजमेर ) में महाराजा उम्मेद सिह शाहपूरा भीलवाड़ा और श्री गोपाल सिह खरवा की सभा मेँ सभी लोगो ने मेर मेरात मेहर की जगह रावत नाम धारण किया । इसके प्रमाण के रूप में 1891 से 1921 तक के जनसंख्या आकड़े देखे जा सकते है 31 वर्षो मे मेरो की संख्या में 72% की कमी आई है वही रावतो की संख्या में 72% की बढोत्तर हुई है । गिरावट का कारण मेरो का रावत नाम धारण कर लेना है ।

सिन्धुघाटी के प्राचीनतम निवासी मीणाओ का अपनी शाखा मेर, महर के निकट सम्बन्ध पर प्रकाश डालते हुए कहा जा सकता है कि -- सौराष्ट्र (गुजरात ) के पश्चिमी काठियावाड़ के जेठवा राजवंश का राजचिन्ह मछली के तौर पर अनेक पूजा स्थल " भूमिलिका " पर आज भी देखा जा सकता है इतिहासकार जेठवा लोगो को मेर( महर,रावत) समुदाय का माना जाता है जेठवा मेरों की एक राजवंशीय शाखा थी जिसके हाथ में राजसत्ता होती थी (I.A 20 1886 पेज नः 361) कर्नल टॉड ने मेरों को मीना समुदाय का एक भाग माना है (AAR 1830 VOL- 1) आज भी पोरबन्दर काठियावाड़ के महर समाज के लोग उक्त प्राचीन राजवंश के वंशज मानते है अतः हो ना हो गुजरात का महर समाज भी मीणा समाज का ही हिस्सा है । फादर हैरास एवं सेठना ने सुमेरियन शहरों में सभ्यता का प्रका फैलाने वाले सैन्धव प्रदेश के मीणा लोगो को मानते है । इस प्राचीन आदिम निवासियों की सामुद्रिक दक्षता देखकर मछलि ध्वजधारी लोगों को नवांगुतक द्रविड़ो ने मीणा या मीन नाम दिया मीलनू नाम से मेलुहा का समीकरण उचित जान पड़ता है मि स्टीफन ने गुजरात के कच्छ के मालिया को मीणाओ से सम्बन्धीत बताया है दूसरी ओर गुजरात के महर भी वहां से सम्बन्ध जोड़ते है । कुछ महर समाज के लोग अपने आपको हिमालय का मूल मानते है उसका सम्बन्ध भी मीणाओ से है हिमाचल में मेन(मीणा) लोगो का राज्य था । स्कन्द में शिव को मीणाओ का राजा मीनेश कहा गया है । हैरास सिन्धुघाटी लिपी को प्रोटो द्रविड़ियन माना है उनके अनुसार भारत का नाम मौहनजोदड़ो के समय सिद था इस सिद देश के चार भाग थे जिनमें एक मीनाद अर्थात मत्स्य देश था । फाद हैरास ने एक मोहर पर मीणा जाती का नाम भी खोज निकाला । उनके अनुसार मोहनजोदड़ो में राजतंत्र व्यवस्था थी । एक राजा का नाम " मीणा " भी मुहर पर फादर हैरास द्वारा पढ़ा गया ( डॉ॰ करमाकर पेज न॰ 6) अतः कहा जा सकता है कि मीणा जाति का इतिहास बहुत प्राचीन है इस विशाल समुदाय ने देश के विशाल क्षेत्र पर शासन किया और इससे कई जातियो की उत्पत्ती हुई और इस समुदाय के अनेक टूकड़े हुए जो किसी न किसी नाम से आज भी मौजुद है ।

आज की तारीख में 10-11 हजार मीणा लोग फौज में है बुदी का उमर गांव पूरे देश मे एक अकेला मीणो का गांव है जिसमें 7000 की जनसंख्या मे से 2500 फौजी है टोंक बूंन्दी जालौर सिरोही मे से मीणा लोग बड़ी संख्या मे फौज मे है। उमर गांव के लोगो ने प्रथम व द्वीतिय विश्व युध्द लड़कर शहीदहुए थे शिवगंज के नाथा व राजा राम मीणा को उनकी वीरता पर उस समय का परमवीर चक्र जिसे विक्टोरिया चक्र कहते थे मिला था जो उनके वंशजो के पास है । देश आजाद हुआ तब तीन मीणा बटालियने थी पर दूर्भावनावश खत्म कर दी गई थी

तूंगा (बस्सी) के पास जयपुर नरेश प्रतापसिंह और माधजी सिन्धिया मराठा के बीच 1787 मे जो स्मरणिय युध्द हुआ उसमें प्रमुख भूमिका मीणो की रही जिसमे मराठे इतिहास मे पहली बार जयपुर के राजाओ से प्राजित हुए थे वो भी मीणाओ के कारण इस युध्द में राव चतुर और पेमाजी की वीरता प्रशंसनीय रही । उन्होने चार हजार मराठो को परास्त कर मीणाओ ने अपना नाम अमर कर दिया । तूँगा के पास अजित खेड़ा पर जयराम का बास के वीरो ने मराठो को हराया इसके बदले जयराम का बास की जमीन व जयपुर खजाने मे पद दिया गया ।

कृतमाला नदी[संपादित करें]

श्रीमत्स्य अवतार:- मत्स्य अवतार की उत्पत्ति कृतमाला नदी नदी किनारे हुई थी ।

नंदिनी सिन्हा कपूर, एक इतिहासकार जिन्होंने प्रारंभिक भारत का अध्ययन किया है, कि अपनी पहचान को फिर से बनाने के प्रयास में 19 वीं शताब्दी ईस्वी की शुरुआत से मीनाओं की मौखिक परंपराओं को विकसित किया गया था। वह इस प्रक्रिया के बारे में कहती है, जो 20 वीं शताब्दी के दौरान जारी रही

The Minas try to furnish themselves a respectable present by giving themselves a glorious past". In common with the people of countries such as Finland and Scotland, the Meenas found it necessary to invent tradition through oral accounts, one of the primary uses of which is recognised by both historians and sociologists as being "social protest against injustices, exploitation and oppression, a raison d'être that helps to retrieve the image of a community."

कपूर नोट करते हैं कि मीनाओं के पास न केवल अपने स्वयं के एक रिकॉर्ड किए गए इतिहास की कमी है, बल्कि मध्ययुगीन फारसी खातों और औपनिवेशिक काल के रिकॉर्ड दोनों द्वारा एक नकारात्मक तरीके से चित्रित किया गया है। मध्यकाल से लेकर ब्रिटिश राज तक, मीणाओं के संदर्भ में उन्हें हिंसक, अपराधियों को लूटने और एक असामाजिक जातीय आदिवासी समूह के रूप में वर्णित किया गया है [4]

वर्ग[संपादित करें]

मीणा जाति प्रमुख रूप से निम्न वर्गों में बंटी हुई है जमींदार या पुरानावासी मीणा : जमींदार या पुरानावासी मीणा वे हैं जो प्रायः खेती एवं पशुपालन का कार्य बर्षों से करते आ रहे हैं। ये लोग राजस्थान के सवाईमाधोपुर,करौली,दौसा व जयपुर जिले में सर्वाधिक हैं| चौकीदार या नयाबासी मीणा : चौकीदार या नयाबासी मीणा वे मीणा हैं जो अपनी स्वछंद प्रकृति के कारण चौकीदारी का कार्य करते थे। इनके पास जमींने नहीं थीं, इस कारण जहां इच्छा हुई वहीं बस गए। उक्त कारणों से इन्हें नयाबासी भी कहा जाता है। ये लोग सीकर, झुंझुनू, एवं जयपुर जिले में सर्वाधिक संख्या में हैं। प्रतिहार या पडिहार मीणा : इस वर्ग के मीणा टोंक, भीलवाड़ा, तथा बूंदी जिले में बहुतायत में पाये जाते हैं। प्रतिहार का शाब्दिक अर्थ उलट का प्रहार करना होता है। ये लोग छापामार युद्ध कौशल में चतुर थे इसलिये प्रतिहार कहलाये। रावत मीणा : रावत मीणा अजमेर, मारवाड़ में निवास करते हैं। भील मीणा : ये लोग सिरोही, उदयपुर, बांसवाड़ा, डूंगरपुर एवं चित्तोड़गढ़ जिले में प्रमुख रूप से निवास करते हैं।


मीणा मुख्य रूप से राजस्थान राज्य में पाया जाने वाला एक समुदाय है। इस समुदाय का नाम मीन शब्द से लिया गया है, जिसका अर्थ है मछली। ब्रिटिश शासन के समय, मीणा आदिवासी समुदाय को ‘आपराधिक जनजाति’ के रूप में प्रशंसित किया गया था। राजस्थान में राजपूत साम्राज्य के साथ अपना गठबंधन बनाए रखने के लिए यह कृत्य किया गया था, इस तथ्य को भी प्रकट करता है कि ये मीणा जनजाति अभी भी राजपूतों के साथ युद्ध में थीं, अपने खोए हुए राज्यों को पकड़ने के लिए छापामार हमलों में लिप्त थीं। मीणा मुख्य रूप से राजस्थान के पूर्वी भाग में रहते हैं, जिनमें सवाई माधोपुर जिला, दौसा जिला, जयपुर, धौलपुर और करौली जिले जैसे जयपुर और भरतपुर क्षेत्र शामिल हैं। वे भरतपुर जिले और बयाना जिले और शेखावटी क्षेत्र में जयपुर-सीकर और राज्य के उत्तर-पूर्व क्षेत्र अलवर में भी रहते हैं। इस समुदाय के लोग मध्य प्रदेश के उत्तर-पश्चिमी भागों सहित कोटा, झालावाड़ और बूंदी में भी बड़ी संख्या में पाए जाते हैं।

मीणा जनजाति की उत्पत्ति[संपादित करें]

मीणा मौखिक इतिहास में कई मिथकों और किंवदंतियों के माध्यम से अपनी उत्पत्ति की कहानी बताते हैं। मीणा पौराणिक कथाएं, मत्स्य अवतार या भगवान विष्णु के दसवें अवतार से उनकी उत्पत्ति का पता लगाती हैं। मीणा राजस्थान में संख्यात्मक रूप से सबसे बड़ी जनजाति है। वे एक बार जयपुर और अलवर के पूर्व राज्यों पर शासन करते थे और अनिवार्य रूप से एक कृषि समुदाय थे। हिंदू कैलेंडर के अनुसार, मीणा समुदाय के लोग `चैत्र शुक्ल पक्ष` के तीसरे तीथ पर विष्णु के नाम पर मीनेश जयंती मनाते हैं। यह विश्वास मुख्य रूप से मत्स्य पुराण के ग्रंथ पर आधारित है।

मीणा जनजाति का इतिहास[संपादित करें]

प्राचीन भारतीय ग्रंथ ऋग्वेद में दर्शाया गया है कि मीणाओं के राज्य को संस्कृत में मत्स्य साम्राज्य कहा जाता था। राजस्थान के मीणा जनजाति के लोग आज तक भगवान शिव, भगवान हनुमान और भगवान कृष्ण के साथ-साथ देवी (देवी) की पूजा करते रहे हैं। मीणा आदिवासी समुदाय भील जनजाति के समुदाय सहित अन्य जनजातियों के साथ अंतरिक्ष साझा करता है। वास्तव में ये मीणा जनजाति अन्य जनजातीय समुदायों के सदस्यों के साथ बहुत अच्छे संबंध साझा करती हैं। मीणा लोग वैदिक संस्कृति के अनुयायी हैं और यह भी उल्लेख किया गया है कि मीणा समूहों में भारमान और सिथियन पूर्वज थे। आक्रमण के वर्षों के दौरान, 1868 में मीणाओ के कई नए समूहों का गठन किया गया है, जो कि अकाल के तनाव के कारण राजपुताना को उजाड़ दिया।

राजस्थान के इतिहास में मीणाओं का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। इससे पहले, राजपूत और मीणा प्रमुखों ने दिल्ली के तोर राजाओं के अधीन रहते हुए देश के एक बड़े हिस्से पर शासन किया। मीणा समुदाय को मुख्य रूप से चार बुनियादी क्षेत्रों में जमींदार मीणा, चौकीदार मीणा, परिहार मीणा और भील मीणा में रखा गया था। पूर्व में मिनस देश के विभिन्न संप्रदायों में बिखरे हुए थे और आसपास के क्षेत्र में बदलाव के कारण उनके चरित्र अलग-अलग हैं। करौली, सवाई माधोपुर, जयपुर, गंगापुर क्षेत्र के मिनस पिछले चार सौ वर्षों के लिए सबसे महत्वपूर्ण काश्तकार हैं। कई गाँवों से धनगर और लोधियों को मिनास द्वारा बाहर निकाला गया और उनके कब्जे को फिर से स्थापित करने में कामयाबी मिली।

मीणा जनजाति की संस्कृति[संपादित करें]

कहा जाता है कि मेओ जनसंख्या की उत्पत्ति मीणाओं से हुई थी और इस कारण से मीणाओं की नैतिकता और संस्कृति में समानता है। राजपूतों को मीणाओं, गुर्जर समुदाय, जाट और अन्य योद्धा जनजातियों का प्रवेश माना जाता है। त्यौहार, संगीत, गीत और नृत्य इस बात का प्रमाण हैं कि इन मीणा जनजातियों की संस्कृति और परंपरा काफी उज्ज्वल है। यद्यपि मीना जनजाति इन त्योहारों को प्राप्त करती हैं, लेकिन उन्होंने स्थानीय मूल के अपने अनुष्ठानों और संस्कारों को शामिल किया है। उदाहरण के लिए, नवरात्रि का सातवां दिन मीना जनजातियों के लिए उत्सव का समय है, जो कलाबाजी, तलवारबाजी और नाच-गाने के साथ आनन्दित होते हैं। मिनस दृढ़ता से विवाह की संस्था में विश्वास करते हैं। यह भोपा पुजारी हैं जो कुंडली के आधार पर मंगनी में शामिल होते हैं। इस राजस्थानी आदिवासी समुदाय में इस तरह के महान उत्सव के लिए बुलाते हैं। त्यौहारों की अधिकता मीना जनजातियों द्वारा भी मनाई जाती है। इस तथ्य की पुष्टि भगवान विष्णु के नाम पर मीनेश जयंती को प्राप्त करने की सैकड़ों प्राचीन संस्कृति से होती है। वे अपने समुदाय में जन्म, विवाह और मृत्यु से संबंधित सभी अनुष्ठानों को करने के लिए एक ब्राह्मण पुजारी को नियुक्त करते हैं। अधिकांश मिनास हिंदू धर्म का पालन करते हैं।

मीणा जनजाति की वेशभूषा[संपादित करें]

मीणा समुदाय के लोगों के कपड़े अन्य जनजातीय लोगों से काफी मिलते-जुलते हैं, मुख्यतः महिलाओं के कपड़े डिजाइन में सूक्ष्म अंतर के साथ शैली में बहुत समान हैं। एक मीना महिला की पोशाक में ओधना, घाघरा, कांचली और कुर्ती शामिल होती है। अविवाहित मीणा लड़कियां लुगडा नामक एक साड़ी पहनती हैं। दबी-वली लुडी एक विशेष ओधना है जो मीना महिलाओं द्वारा पहना जाता है और हमेशा लाल और हरे रंग का होता है। टखने की लंबाई वाला घाघरा, जो आमतौर पर नीले रंग के डिजाइन के साथ गहरे लाल रंग के कपड़े से बना होता है, एक मीणा महिला की पहचान करने के लिए एक विशिष्ट चिह्न है।

मीणा महिलाएं गहने के साथ खुद को सजाना पसंद करती हैं। मीना महिलाओं का सबसे प्रमुख आभूषण `बोरला` है, जो उनकी वैवाहिक स्थिति का प्रतीक है। महिलाएं `हांसली` को गले में पहनती हैं, नाक में `नाथ`, कानों में `टिमनीया`,` पैंची’,`चूड़ी`,`गजरा` और हाथों में चूड़ियाँ और ऊपरी बाजुओं में `बाजूबंद` पहनती हैं। । सभी विवाहित महिलाएँ हमेशा लाख की बनी `चूड़ा` पहनती हैं। वे अपने पैरों पर `कडी` और` पाजेब` भी पहनते हैं। चांदी का उपयोग सिर और गर्दन के आभूषणों के लिए किया जाता है, जबकि पैरों के गहने पीतल से तैयार किए जाते हैं। मीणा महिलाएं आमतौर पर सोना नहीं पहनती हैं। वैवाहिक स्थिति के बावजूद, एक मीना महिला अपने बालों को ढीला नहीं करती है। बाल करना उनकी नियमित जीवन शैली का एक हिस्सा है। यह आमतौर पर माथे के बीच में होता है, जिसे `बोरला` के साथ बंद किया जाता है, जो विवाहित महिलाओं के मामले में नकली पत्थरों से जड़ी होती है। अविवाहित लड़कियां अपने बालों को एक ही ब्रैड में पहनती हैं, जो एक गाँठ में समाप्त होता है।

मीणा व्यक्ति की पोशाक में धोती, कुर्ता या बंदगी और पगड़ी होती है, हालांकि युवा पीढ़ी ने शर्ट को पजामा या पतलून के साथ अपनाया है। सर्दियों के दौरान, मीणा पुरुष एक शॉल पहनते हैं जो उनके शरीर के ऊपरी हिस्से को कवर करता है। उनकी सामान्य हेडड्रेस पोटिया है, जिसे सजावटी टेप के साथ चारों ओर लपेटा जाता है। गोटा वर्क वाला रेड-प्रिंटेड हेडगियर भी पहना जाता है। एक शाल, जिसे गले में पहना जाता है, वह भी लाल और हरे रंग में होता है। दिलचस्प बात यह है कि शादी से मीणा व्यक्ति की वेशभूषा में बदलाव आता है। शादी के समय एक लंबा लाल रंग का ऊपरी वस्त्र पहना जाता है। यह बछड़ा-लंबाई वाला और सीधा है, जिसके किनारे लंबे हैं और पूरी आस्तीन के हैं। वे सामान्य रूप से धोती को निचले वस्त्र के रूप में पहनते हैं, जो कि टखनों के ठीक नीचे होता है। यह कड़ा पहना जाता है और `डॉलांगी` या` तिलंगी` धोती की तरह लिपटा होता है। मीना पुरुष ज्यादा आभूषण नहीं पहनते हैं। सबसे आम गहने कान के छल्ले होते हैं जिन्हें `मुर्की` कहा जाता है। शादी के समय अन्य सामान में एक बड़ी तलवार और कलाई पर एक `कड़ा` शामिल होता है। पुरुष अपने बालों को छोटा और आमतौर पर, खेल दाढ़ी और छोटी मूंछें पहनते हैं।

मीणा समुदाय के साथ टैटू भी लोकप्रिय हैं। मीना महिलाएं अपने हाथों और चेहरे पर टैटू प्रदर्शित करती हैं। सबसे आम डिजाइन डॉट्स, फूल या उनके स्वयं के नाम हैं। वे अपनी आँखों में कोहल पहनते हैं और शरीर के अलंकरण के रूप में चेहरे पर काले डॉट्स। गोदना पुरुषों के साथ ही लोकप्रिय है और उनके नाम, पुष्प रूपांकनों, आकृतियों और देवताओं के साथ आमतौर पर उनके अग्रभाग हैं। मीना जनजातियों द्वारा बोली जाने वाली मुख्य भाषाओं में हिंदी भाषा, मेवाड़ी, मारवाड़ी भाषा, धुंदरी, हरौटी, मालवी भाषा, गढ़वाली भाषा, भीली भाषा, आदि शामिल हैं।

इन्हें देखे[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Yüksel Sezgin (2011). "Human Rights and Legal Pluralism". Social Science › General. LIT Verlag Münster. पृ॰ 41. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9783643999054. मूल से 12 अक्तूबर 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 8 October 2014.
  2. Mahendra Lal Patel (1997). "Awareness in Weaker Section: Perspective Development and Prospects". Economic development projects. M.D. Publications Pvt. Ltd. पृ॰ 35. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788175330290. मूल से 12 अक्तूबर 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 8 October 2014.
  3. Shri JAGDISH THAKOR, YOGI ADITYANATH, KHAGEN DAS & KIRODI LAL (19 August 2012). "Castes under proposal for inclusion in SC/ST Category". UNSTARRED QUESTION NO 651 by Shri JAGDISH THAKOR, YOGI ADITYANATH, KHAGEN DAS & KIRODI LAL. GCONNECT.IN. मूल से 19 जून 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 June 2015.सीएस1 रखरखाव: एक से अधिक नाम: authors list (link)
  4. Kapur, Nandini Sinha (2007). "The Minas: Seeking a Place in History". In Bel, Bernard (ed.). The Social and the Symbolic. Sage. pp. 129–131. ISBN 9780761934462

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]