पासी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
पासी
पासी की ऐक पलटन
पासी सैनिक अवध
विशेष निवासक्षेत्र
बिहार,उत्तर प्रदेश,महाराष्ट्र,उत्तराखंड,आंध्र प्रदेश, तेलंगाना
भाषाएँ
हिंदी,मराठी,पंजाबी,भोजपुरी
धर्म
हिंदू,सनातन

पासी उत्तर भारत में निवास करने वाली एक हिन्दू दलित जाति है। इसे पूर्वी उत्तर प्रदेश में पासी और राजवंशी नाम से जाना जाता है, उत्तर प्रदेश में पासी अनुसूचित जाति के अंतर्गत आते हैं इन्हें कुछ जगह इन्हें रावत ठाकुर कहते है इनको उच्च श्रेणी के अंतर्गत रखा गया है कुछ राज्यों में इन्हे एससी और ओबीसी श्रेणी में रखा गया है। भरपासी कैथवास पासी रावतपासी गूजरपासी इनकी मुख्य उपजाती है [1] पासी का काम राज करना है ,इन्हें राजवंशी भी कहते हैं ।[2].यह जाती समूह एक ऐसा वर्ग है जो राजा है[3] आंध्र प्रदेश, तेलंगाना राज्य में उन्हें पिछडी जाति में रखा गया है [4][5] वे उत्तर भारतीय राज्यों पंजाब बिहार और उत्तर प्रदेश अरूणाचल प्रदेश में रहते हैं।

व्यवसाय

पासी का पारंपरिक पेशा शासन अथवा राज्य करने के रूप में है[6] पासी औऱ रावत के नाम से भी जाना जाता है. पंजाब बिहार, ओड़िशा, उत्तर प्रदेश में राजवंशी और रावत अथवा भर जाती है.

निवास क्षेत्र

इस जाति के लोग मुख्यत: पंजाब उत्तर प्रदेश के सभी जिलों और बिहार में निवास करते हैं। भारत के अन्य प्रदेशों में पासी जाति को पासी, बौरासी,राजपासी, कैथवास, रावत, बहोरिया, मोठी इत्यादि नाम से जाना जाता हैं इन की भाषा हिंदी ,मराठी, 'पंजाबी' भोजपुरी होती है ।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

समाज में स्थान

शब्द पासी की एक व्युत्पत्ति संस्कृत के पाशिका से भी बताई जाती हैँ ।[7]

पासी समुदाय के उल्लेखनीय लोगों गंगा बक्स रावत, महाराजा बिजली पासी , महाराजा सुहेलदेव पासी ,छीता पासी ,सातन पासी,अमन राजपीयू जपला और ऊदा देवी पासी का नाम आता है।[8][9][10]

सन्दर्भ

  1. "Constitution (Scheduled Castes) Order, 1950" (PDF). socialjustice.nic.in. मूल (PDF) से 11 जुलाई 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 18 अप्रैल 2020.
  2. Badri Narayan (2012). Women Heroes and Dalit Assertion in North India: Culture, Identity and Politics. SAGE. पृ॰ 136. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780761935377.
  3. India's Communities: H - M (अंग्रेज़ी में). Oxford University Press. 1998. पपृ॰ page 2796. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-563354-2.सीएस1 रखरखाव: फालतू पाठ (link)
  4. "National Commission for Backward Classes". www.ncbc.nic.in. अभिगमन तिथि 2020-09-07.
  5. "National Commission for Backward Classes". www.ncbc.nic.in. अभिगमन तिथि 2020-09-07.
  6. Narayan, Badri (2006-11-14). Women Heroes and Dalit Assertion in North India: Culture, Identity and Politics (अंग्रेज़ी में). SAGE Publications. पपृ॰ p 136. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-7619-3537-7.सीएस1 रखरखाव: फालतू पाठ (link)
  7. Singh, Kumar Suresh; Bhanu, B. V.; India, Anthropological Survey of (2004). Maharashtra (अंग्रेज़ी में). Popular Prakashan. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-7991-102-0. मूल से 3 नवंबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 18 अप्रैल 2020.
  8. Narayan, Badri (2009). Fascinating Hindutva: Saffron Politics and Dalit Mobilisation (अंग्रेज़ी में). SAGE Publications. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-7829-906-8.
  9. Connerney, Richard D. (2009). The Upside Down Tree: India's Changing Culture (अंग्रेज़ी में). Algora Publishing. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-87586-650-5. अभिगमन तिथि 18 अप्रैल 2020.
  10. "Another first by Yogi Adityanath: Chapters on Pasi community icons to be included in UP school books". The Financial Express. 1 अप्रैल 2018. मूल से 6 अप्रैल 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 18 अप्रैल 2020.

बाहरी कड़ियाँ