सुहेलदेव

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

सुहेलदेव श्रावस्ती से अर्ध-पौराणिक भारतीय राजा हैं। कहा जाता है कि इन्होंने 11वीं शताब्दी की शुरुआत में बहराइच में ग़ज़नवी सेनापति सैयद सालार मसूद ग़ाज़ी को पराजित कर मार डाला था। 17वीं शताब्दी के फारसी भाषा के ऐतिहासिक कल्पित कथा मिरात-ए-मसूदी में उनका उल्लेख है। 20वीं शताब्दी के बाद से, विभिन्न हिंदू राष्ट्रवादी समूहों ने उन्हें एक हिंदू राजा के रूप में चिह्नित किया है जिसने मुस्लिम आक्रमणकारियों को हरा दिया।

किंवदंती[संपादित करें]

सालार मसूद और सुहेलदेव की कथा फारसी भाषा के मिरात-ए-मसूदी में पाई जाती है। यह मुगल सम्राट जहाँगीर (1605-1627) के शासनकाल के दौरान अब्द-उर-रहमान चिश्ती ने लिखी थी। पौराणिक कथा के अनुसार, सुहेलदेव श्रावस्ती के राजा के सबसे बड़े पुत्र थे। पौराणिक कथाओं के विभिन्न संस्करणों में, उन्हें सकरदेव, सुहीरध्वज, सुहरीदिल, सुहरीदलध्वज, राय सुह्रिद देव, सुसज और सुहारदल समेत विभिन्न नामों से जाना जाता है।[1]

महमूद ग़ज़नवी के भतीजे सैयद सालार मसूद ग़ाज़ी ने 16 वर्ष की आयु में सिंधु नदी को पार कर भारत पर आक्रमण किया और मुल्तान, दिल्ली, मेरठ और अंत में सतरिख पर विजय प्राप्त की। सतरिख में, उन्होंने अपने मुख्यालय की स्थापना की और स्थानीय राजाओं को हराने के लिए सेनाओं को भेज दिया। सैयद सैफ-उद-दीन और मियाँ राजब को बहराइच को भेज दिया गया था। बहराइच के स्थानीय राजा और अन्य पड़ोसी हिंदू राजाओं ने एक संघ का गठन किया लेकिन मसूद के पिता सैयद सालार साहू गाजी के नेतृत्व में सेना ने उन्हें हरा दिया। फिर भी उन्होंने उत्पात मचाना जारी रखा और इसलिए सन् 1033 में मसूद खुद बहराइच में उनकी प्रगति को जाँचने आया। सुहेलदेव के आगमन तक, मसूद ने अपने दुश्मनों को हर बार हराया। अंत में सन् 1034 में सुहेलदेव की सेना ने मसूद की सेना को एक लड़ाई में हराया और मसूद की मौत हो गई।

मसूद को बहराइच में दफनाया गया था और सन् 1035 में वहाँ उसकी याद में एक दरगाह बनाई गई थी। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) का दावा है कि उस जगह पहले हिंदू संत और ऋषि बलार्क का एक आश्रम था और फ़िरोज़ शाह तुग़लक़ के द्वारा उसे दरगाह में बदल दिया गया।

राजनीतिकरण[संपादित करें]

विभिन्न जाति समूहों ने सुहेलदेव को अपने आप में से एक के रूप में दर्शाने का प्रयास किया है। मिरात-ए-मसूदी के मुताबिक, सुहेलदेव "भर थारू" समुदाय से संबंधित थे। बाद के लेखकों ने उनकी जाति को "भर राजपूत", राजभर, थारू और जैन राजपूत रूप में वर्णित किया है।

1940 में, बहराइच के एक स्थानीय स्कूली शिक्षक ने एक लंबी कविता की रचना की। उन्होंने सुहेलदेव को जैन राजा और हिंदू संस्कृति के उद्धारकर्ता के रूप में पेश किया। कविता बहुत लोकप्रिय हो गई। 1947 में भारत के धर्म आधारित विभाजन के बाद, कविता का पहला मुद्रित संस्करण 1950 में दिखाई दिया। आर्य समाज, राम राज्य परिषद और हिंदू महासभा संगठन ने सुहेलदेव को हिंदू नायक के रूप में प्रदर्शित किया। अप्रैल 1950 में, इन संगठनों ने राजा के सम्मान में सालार मसूद के दरगाह में एक मेला की योजना बनाई। दरगाह समिति के सदस्य ख्वाजा खलील अहमद शाह ने सांप्रदायिक तनाव से बचने के लिए जिला प्रशासन को प्रस्तावित मेले पर प्रतिबंध लगाने की अपील की।[1] तदनुसार, धारा 144 (गैरकानूनी असेंबली) के तहत निषिद्ध आदेश जारी किए गए थे। स्थानीय हिंदुओं के एक समूह ने आदेश के खिलाफ एक मार्च का आयोजन किया और उन्हें दंगा भड़काने के आरोप में गिरफ्तार किया गया। उनकी गिरफ्तारी का विरोध करने के लिए हिंदुओं ने एक सप्ताह के लिए स्थानीय बाजारों को बंद कर दिया और गिरफ्तार होने की पेशकश की। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेता भी विरोध में शामिल हो गए और लगभग 2000 लोग जेल गए। अंत में प्रशासन ने आदेशों को वापस ले लिया।[1] वहाँ 500 बीघा भूमि पर कई चित्रों और मूर्तियों के साथ सुहेलदेव का एक मंदिर बनाया गया था।

1950 और 1960 के दशक के दौरान, स्थानीय राजनेताओं ने सुहेलदेव को पासी राजा बताना शुरू किया। पासी एक दलित समुदाय है और बहराइच के आस-पास एक महत्वपूर्ण वोटबैंक भी है। धीरे-धीरे पासी ने सुहेलदेव को अपनी जाति के सदस्य के रूप में महिमा मंडित करना शुरू कर दिया। बहुजन समाज पार्टी ने मूल रूप से दलित मतदाताओं को आकर्षित करने के लिए सुहेलदेव मिथक का इस्तेमाल किया।[2] बाद में, भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी), विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने भी दलितों को आकर्षित करने के लिए इसका इस्तेमाल करना शुरू कर दिया। 1980 का दशक शुरू होने के बाद, बीजेपी-वीएचपी-आरएसएस ने सुहेलदेव मिथक का जश्न मनाने के लिए मेले और नौटंकी का आयोजन किया, जिसमें उन्हें मुस्लिम आक्रमणकारियों के खिलाफ लड़े एक हिंदू दलित के रूप में दिखाया गया।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "RSS और पासी राजा सुहेलदेव: पौराणिक पात्र और वोटबैंक की राजनीति". द क्विंट (अंग्रेज़ी में). 25 फरवरी 2018. अभिगमन तिथि 29 जून 2018.
  2. "सुहेलदेव को लेकर छिड़ी जंग, राजा बोलो- किसके हो संग". पत्रिका. अभिगमन तिथि 29 जून 2018.