चारण (जाति)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
चारण

Chāran Gordhan Singh on a Terrace at Night ca. 1725.jpg

बीकानेर रियासत में एक चारण, सन् 1725 - (मेट्रोपोलिटन कला संग्रहालय)
धर्म हिन्दू धर्म
भाषा राजस्थानी भाषाहरियाणवीमारवाड़ीमेवाड़ीगुजरातीसिन्धीमराठीहिन्दी
देश भारतपाकिस्तान
क्षेत्र राजस्थानहरियाणा[1]गुजरातमध्य प्रदेश[2]महाराष्ट्र[3]सिंध[4]बलूचिस्तान[5]

चारण (असंलिव: Cāraṇ; संस्कृत: चारण; गुजराती: ચારણ; उर्दू: چاران; अ.ध्व.व: cɑːrəɳə) भारतीय उपमहाद्वीप की एक जाति है जो राजस्थान, सिंध, गुजरात, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, हरियाणा और बलूचिस्तान के निवासी हैं। ऐतिहासिक रूप से, चारण कवि और इतिहासकार होने के साथ-साथ योद्धा और जागीरदार भी रहे हैं। चारण सैन्य क्षत्रपों , इतिहासकारों, कृषि विशेषज्ञों, व व्यापारियों के रूप में प्रतिष्ठित थे। मध्ययुगीन राजपूत राज्यों में चारण मंत्रियों, मध्यस्थों, प्रशासकों, सलाहकारों और योद्धाओं के रूप में स्थापित थे। शाही दरबारों में कविराजा (राज कवि और इतिहासकार) का पद मुख्यतया चारणों के लिए नियोजित था।[6][7][8][9][10][11][12][13][14]

ऐतिहासिक रूप से दैवीय माने जाने पर, एक चारण का अलंघ्य व अवध्य होना उनके प्रति पवित्र मान्यता का प्रमाण था; जिन्हे हानि पहुँचाना गौहत्याब्रह्महत्या के समान एक अपराध माना जाता था।[15][16] संस्थागत और धार्मिक रूप से स्वीकृत सुरक्षा के साथ-साथ, वे व्यवहारस्वरूप निडर होकर शासकों और उनके दुष्कृत्यों की आलोचना करते थे,[17][18] शासकों के बीच राजनीतिक विवादों में मध्यस्थता करते थे,[16] और पश्चिमी भारत के संघर्ष-ग्रस्त क्षेत्रों में व्यापारिक गतिविधियों के संरक्षक के रूप में कार्य करते थे।[19][20]

प्राचीन संस्कृत ग्रंथों में, चारणों को देवताओं की स्तुति हेतु ऋचाओं का पाठ करते हुए और मंदिर में देव-प्रतिमा की उपासना करते हुए चित्रित किया गया है।[21][22]

चारण के संदर्भ ऋग्वेद, रामायण, महाभारत, और श्रीमद भागवद के साथ-साथ जैन प्रबंध में पाए जाते हैं। प्राचीन काल के संस्कृत के महान कवि-नाटककार कालिदास ने भी अपने शास्त्रीय नाटकों में चारण चरित्र प्रमुखता से दर्शाएँ है। चारण परंपरा ऐतिहासिक युग में ऋषि संस्थान के रूप में आरंभ हुई-महान ऋषियों की संस्था जो वनों, हिमालय या अन्य ऊंचे पर्वतों, समुद्र या नदी के किनारे रहते हुए राजकुमारों के लिए आश्रमों का संचालन करते थे।[22]

धार्मिक संस्कृति चारण अपने पूर्वजों की भी पूजा करते हैं। चारण प्रारम्भ से ईश्वर के उपासक एवं प्रकृति पूजक 'वैदिक' सनातन धर्मी रहे है।

चारणों का अपना एक लम्बा इतिहास रहा है।चारणों का साहित्य-लेखन में विशेष योगदान रहा है।

पौराणिक ग्रंथ[संपादित करें]

चारण वंश महाभारत जैसे प्राचीन हिंदू-ग्रन्थों के चारण ऋषि-मुनियों के रूप में मिलते हैं, जिनके बारे में कहा जाता है कि उन्होने राजा पांडु की देखभाल तब की जब वे हिमालय में "चारणों की भूमि" में रह रहे थे और जब बाद में पांडु की मृत्यु हुई, तब हिमालय के सहश्रों चारणों ने कुंती और पांडवों को सुरक्षित हस्तिनापुर ले जाकर धृतराष्ट्र को सौंपा। विभिन्न ग्रंथ चारण वंश को शास्त्रीय परंपराओं, सांस्कृतिक देवताओं से जोड़ते हैं और हिमालय, सुमेर, व दक्षिणी भारत आदि में चारणों का पौराणिक और ऐतिहासिक निवास स्थान बताते हैं।[23]

अन्य पौराणिक ग्रंथ चारण वंश को सुमेर पर्वत के अर्ध-दिव्य देव चारण से संबंधित करती हैं। ऐसी ही एक ग्रंथ में बताया गया है कि कैसे देव-चारणों को दैवीय जनसंख्या में वृद्धि होने से सुमेरु पर्वत छोड़ना पड़ा, जिसके कारण अन्य दैवीय और अर्ध-दिव्य मूल के कई समूह भी सुमेरु छोड़ कहीं और चले गए।[23]

प्राचीन काल[संपादित करें]

वाल्मीकि रामायण, महाभारत और पुराणों सहित भारत के प्राचीन महाकाव्यों में चारणों के कई संदर्भ मिलते हैं। ये चारणों से जुड़े स्थानों अथवा प्राचीन घटनाओं में चारणों की भूमिका पर प्रकाश डालते हैं।

सामाजिक संरचना[संपादित करें]

समाज के एक बड़े वर्ग द्वारा चारणों को दिव्य माना जाता है। राजपूत सहित इस क्षेत्र के अन्य प्रमुख समुदायों द्वारा चारण जाति की महिलाओं को देवी के रूप में पूजा जाता है।[24] सदियों से, चारण एक वादे को तोड़ने के बजाय मरना पसंद करने की प्रतिष्ठा के लिए जाने जाते थे।[25]

एक चारण अन्य सभी चारणों को समान मानेगा, भले ही वे एक-दूसरे को न जानते हों और उनकी आर्थिक या भौगोलिक स्थिति मौलिक रूप से भिन्न हो।[26]

अनिल चन्द्र बनर्जी, इतिहास के प्रोफेसर और पूर्व विभागाध्यक्ष कलकत्ता विश्वविध्यालय , ने कहा है कि:

"उनमें ब्राह्मण और क्षत्रियों की पारंपरिक विशेषताओं का संयोजन है। ब्राह्मणों की तरह, उन्होंने साहित्यिक गतिविधियों को अपनाया और उपहार स्वीकार किए। राजपूतों की तरह, वे शक्ति पूजक थे और युद्धों में भाग लेते थे। वे शत्रु की तलवार का पहला वार झेलने के लिए किले के मुख्य द्वार पर सबसे आगे खड़े रहते थे।"[27]

बनर्जी के विचारों से अन्य इतिहासकार जी.एन. शर्मा भी साझा किया, जिन्होंने कहा है कि:

"चारण राजस्थान में बेहद आदरणीय और प्रभावशाली माने जाते हैं। इस जाति की विशेषता यह है कि यह अपने चरित्र में राजपूतों और ब्राह्मणों की विशेषताओं को पर्याप्त रूप से संयोजित करती है।"[28]

गोत्र[संपादित करें]

चारण समुदाय में स्थान और संस्कृति से अलग अलग भागों में विभाजन किया जा सकता है। राजस्थान के चारणों को मारू-चारण और कच्छ (गुजरात) के चारणों को काछेला-चारण कहते हैं। मारू-चारणों में गोत्र है:- रोहड़िया, देथा, रतनूं, आशिया, मेहड़ू, किनिया, सौदा, आढ़ा, आदि। काछेला-चारणों में:- नरा, चोराडा, चुंवा, अवसुरा, मारू, बाटी और तुंबेल।[29]

याचक जातियाँ[संपादित करें]

वह सम्मानित वर्ग के लोग जो चारणों से दान ग्रहण करने का अधिकार रखते हैं:[30][31]

  1. कुलगुरू ब्राह्मण: चारणों के कुलगुरु उज्जैन से आते हैं और गाँवों-गाँव फिर कर दान प्राप्त कर यजमानों के नाम दर्ज करते हैं।[32]
  2. पुरोहित (प्रोयत): राजगुरु अथवा राजपुरोहित ब्राह्मण जो चारणों को राखी (रक्षासूत्र) बांधते हैं।
  3. रावल: रावल ब्राह्मण इनकी वंशावली भी लिखते हैं और इनको तरह तरह के स्वांग (तमाशे) प्रस्तुत कर प्रसन्न करते हैं।[33]
  4. मोतीसर: जो चारणों की कीर्ति करते हैं, उनके द्वारा किए गए महान कार्यों का बखान करते हैं।[34]
  5. भाट (रावजी): ये भी पीढ़ियां (वंशावली) लिखते हैं और शादी-विवाह पर नेगदापे लेते हैं। मारवाड़ के चारणों व राठोड़ों, दोनों के भाट 'चंडीसा' घराने से होते हैं।
  6. ३ प्रकार के ढोली:
    1. धोला
    2. बीरमपोता
    3. गोयन्दपोता इनमे से गोयन्दपोतों का ज़्यादा लिहाज़ रक्खा जाता है क्योंकि इनका पूर्वज गोयन्द 16वीं सदी के आहुवे के धरने में चारणों के साथ मरा था।

इनके अलावा भी चारणों के याचकों में मांगणियार व लंगा है जो लोक संगीत के माध्यम से मनोरंजन करते हैं।[35]

रीति रिवाज़[संपादित करें]

राजस्थान में, चारण व राजपूत जैसी उच्च जातियों में विधवा पुनर्विवाह जैसी प्रथा वर्जित थी[36]पर्दा प्रथा का कड़ाई से पालन किया जाता था।[37]

अभिवादन की रीति[संपादित करें]

चारण एक दूसरे को 'जय माताजी की' कहकर अभिवादन करते हैं।[38] कुछ राजपूत भी 'जय माता जी' कहते है परंतु अधिकतर ' खमा घणि ' का प्रयोग करते हैं ।

उत्तराधिकार[संपादित करें]

एक रीति-रिवाज जिसमें चारण राजपूतों से भिन्न हैं, वह उनके उत्तराधिकार के नियम है। 'चारणिया बंट', जैसा कि लोकप्रिय रूप से जाना जाता था, पुत्रों के बीच भूमि के समान विभाजन को इंगित करता है जबकि राजपूतों में, भूमि का एक बड़ा हिस्सा बड़े बेटे को दिया जाता था।[37]

खाद्य और पेय[संपादित करें]

उनके खाने-पीने की आदतें राजपूतों से मिलती जुलती हैं। चारण अफीम (क्षेत्रीय भाषाओं में अमल) की खपत और शराब पीने का आनंद लेते थे, जो इस क्षेत्र के राजपूतों में भी प्रचलित हैं।[39]

अफीम सेवन[संपादित करें]

राजपुताना में 'रॉयल कमीशन ऑन अफीम' की पहली रिपोर्ट में, चारण सामंती स्थिति के अनुसार सबसे अधिक अफीम उपभोग करने वाले समुदाय में पाए गए थे।[40]

जिन अवसरों पर अफीम लेना अनिवार्य माना जाता था वे थे:[40]

  1. सगाई।
  2. शादियां
  3. एक दामाद का ससुराल आने पर।
  4. मृत्यु के बाद राजपूतों और चारणों द्वारा 12 दिनों के लिए और अन्य जातियों द्वारा उससे कम अवधि के लिए।
  5. राजपूतों और चारणों में एक पुत्र के जन्म पर।
  6. राजपूतों और चारणों में एक लड़के के सबसे पहले बाल मुंडन पर।
  7. राजपूतों और चारणों द्वारा दाढ़ी की छँटाई (बीच में) पर।
  8. 'आखातीज' पर्व पर।
  9. सुलह होने पर।
  10. अन्य त्योहारों, मैत्रीपूर्ण सभाओं और कुछ खास अवसरों पर मंदिरों में करना भी सही माना जाता था।

ऐतिहासिक भूमिकाएं[संपादित करें]

कवि एंव इतिहासकार[संपादित करें]

राजस्थानी और गुजराती साहित्य, प्रारंभिक और मध्ययुगीन काल से लेकर 19वीं शताब्दी तक, मुख्य रूप से चारणों द्वारा रचित है। चारण और राजपूतों का संबंध इतिहास में बहुत गहरा है। चूंकि चारण राजपूतों के साथ-साथ युद्धों में भाग लेते थे, वे न केवल उन युद्धों के साक्षी थे बल्कि समकालीन राजपूत जीवन का हिस्सा बनने वाले कई अन्य अवसरों और प्रकरणों के भी साक्षी थे। ऐसे युद्धों और घटनाओं के बारे में लिखे गए काव्य ग्रन्थों में दो गुण समाहित थे: बुनियादी ऐतिहासिक सत्य और विशद, यथार्थवादी और सचित्र वर्णन; विशेष रूप से नायकों, साहसी उपलब्धियों और युद्धों का।[41]

चारण साहित्य की शैली अधिकतर वर्णनात्मक है और इसे दो रूपों में वर्गीकृत किया जा सकता है: कथात्मक और प्रकीर्ण काव्य। चारण साहित्य के कथात्मक काव्यरूप को विभिन्न नामों से जाना जाता है, जैसे, रास, रासौ, रूपक, प्रकाश, छंद, विलास, प्रबंध, आयन, संवाद, आदि। इन काव्यों की पहचान मीटर से भी कर सकते हैं जैसे, कवित्त, कुंडलिया, झूलणा, निसाणी, झमाल और वेली आदि। प्रकीर्ण काव्यरूप की कविताएँ भी इनका उपयोग करती हैं। [41] डिंगलभाषा में लिखे गए विभिन्न स्रोत, जिन्हें बात (वार्ता), ख्यात, विगत, पिढ़ीआवली और वंशावली के नाम से जाना जाता है, मध्ययुगीन काल के अध्ययन के लिए प्राथमिक आधार-सामग्री का सबसे महत्वपूर्ण निकाय है।[42]

हालांकि, चारणों के लिए, काव्य रचना और पाठ एक पारंपरिक 'क्रीड़ा' थी, जो सैन्य सेवा, कृषि, और अश्व (घोड़ों) और पशु व्यापार के प्राथमिक आय उत्पादक व्यवसायों के अधीन था। तथापि, महत्वाकांक्षी और प्रतिभाशाली चारण युवा व्यापक मार्गदर्शन के लिए अन्य चारण विद्वानों से पारंपरिक शिक्षा ग्रहण करते थे। एक विद्वान द्वारा शिष्य के रूप में स्वीकार किये जाने पर, वे काव्य रचना और कथन के आधारभूत ज्ञान के साथ-साथ विशेष भाषाओं में उपदेश और उदाहरण द्वारा प्रशिक्षण प्राप्त करते थे। इनका संस्मरण और मौखिक सस्वर पाठ करने पर ज़ोर दिया जाता था। चारण शिष्य प्राचीन रचनाओं का पाठ करते हुए अपनी शैली में लगातार सुधार करते थे। डिंगल, संस्कृत, ब्रजभाषा, उर्दू और फारसी जैसी भाषाओं का ज्ञान भी विशिष्ट आचार्यों की सहायता से प्राप्त किया जाता था। इस प्रकार, अध्ययन किए गए विषयों में न केवल इतिहास और साहित्य, बल्कि धर्म, ज्योतिष, संगीत और शकुन ज्ञान भी शामिल थे।[42][43]

उस समय के प्रख्यात चारण कवि राजदरबार का भाग थे, जिन्हें कविराज के पद से भी जाना जाता था और दरबार में असाधारण रूप से प्रभावशाली होते थे।[42][43] ऐसे चारण विद्वान शासकों द्वारा विशेषकर रूप से सम्मानित किए जाते थे। विद्वानों को राज्य से लाख पासव या करोड़ पासव जैसे पुरस्कार प्रदान किए जाते थे। इन पुरस्कारों में सासण-जागीर भूमि, घोड़े, हाथी, शस्त्र और आभूषण शामिल थे।[44]

प्रशासक[संपादित करें]

अपने प्रशासनिक और अनुष्ठान पदों के अनुसार, चारण राजपूताना, सौराष्ट्र, मालवा, कच्छ, सिंध और गुजरात सहित क्षेत्र के दरबारों के अभिन्न अंग थे। वे विभिन्न प्रशासनिक और राजनयिक पदों के अलावा, प्रायः प्रमुख राज्य गणमान्य व्यक्तियों के रूप में स्थापित थे।[45][46][47][48]

चारण जैसे पारंपरिक रूप से उच्च स्थित व साक्षर समुदाय से होना, राजकीय पदों पर चयन और प्रगति के लिए योग्यता मानदंडों में से एक था। उन्नीसवीं सदी के राजपुताना के राज्यों में राजनीतिक अफसरशाही में पदों पर भर्ती समुदाय और मान्यता प्राप्त स्थापित वंश पर आधारित थी। साक्षरता और सेवा की परंपराओं के साथ एक स्वदेशी समुदाय के रूप में चारण समुदाय ने वरिष्ठ राजकीय नियुक्तियों में महत्वपूर्ण योगदान दिया। ऐसे प्रशासनिक वर्ग के व्यक्तियों को राज्य सेवा के परिणामस्वरूप जागीर और राजकीय सम्मान भी प्रदान किया जाता था।[49] मध्ययुगीन काल के दौरान, चारण, राजपूत और बनिया, रियासतों में प्रशासन पर हावी थे।[50] चारणों के शासकों के साथ घनिष्ठ संबंध थे जो उन्हे अत्यधिक विश्वासपात्र समझते थे; फलस्वरूप, ब्रिटिश शासन के पूर्व, वे मध्यकालीन राज्यों में अधिकांश राजनीतिक प्रसंगों में मध्यस्थों की भूमिका निभाते थे।[51]

उन्नीसवीं और बीसवीं शताब्दी में दीवान (प्रधान मंत्री) जैसे पदों पर कार्यरत्त कुछ प्रमुख चारण प्रशासक: मेवाड़ के कविराजा श्यामलदास, मारवाड़ के कविराजा मुरारदान और किशनगढ़ के रामनाथजी रतनूं थे।[49][52] सीकर का रतनूं परिवार भी एक ऐसा अफसरशाही वंश था जिसके सदस्य सीकर, ईडर, किशनगढ़ और झालावाड़ रियासतों के दीवान थे।[49][53]

मध्यस्थ एंव राजनीतिज्ञ[संपादित करें]

चारणों ने राजनीतिक समझौतों और वित्तीय लेनदेन में विषयों में राजनीतिज्ञ, प्रत्याभूतिकर्ता और मध्यस्थ की महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।[54] ऐतिहासिक दृष्टि से, युद्ध के बाद राजाओं के बीच कोई भी संधि या संरक्षक और ग्राहकों के बीच किसी अनुबंध को एक चारण मध्यस्थ के बिना वैध नहीं माना जाता था।[55] चूंकि चारणों को पवित्र माना जाता था और उन्हें हानि पहुंचाना पाप माना जाता था, इसलिए जब भी कानूनी गारंटी की आवश्यकता होती थी, उन्हें ज़मानत के रूप में चुना जाता था। इसलिए, महत्वपूर्ण समझौते, संलग्नता, संचालन सौदा, ऋणों की वसूली, लेन-देन, और यहां तक कि संधियों पर हस्ताक्षर करने की अध्यक्षता हमेशा एक चारण द्वारा की जाती थी। अभिलेखों के अनुसार, उन्होने सोलहवीं शताब्दी से लेकर 1816 ईस्वी तक, भू-राजस्व के संग्रह के लिए एक प्रतिभूति की भूमिका को भी निभाया।[56][57]

ऐसे मामलों में जब शासक इन अनुबंधों का सम्मान नहीं करते थे या जब स्वयं चारण पर अन्याय किया जाता था, तो वे अपराधी पर एक चारण की मृत्यु का श्राप देते हुए, स्वयं को घायल कर देते थे, यहां तक ​​कि स्वयं को काट देते थे या जल जाते थे। आत्म-बलिदान के घोष को दर्शाने वाले उनकी कृपाण का निशान उनके हस्ताक्षर के रूप में प्रयोग किया जाता था।[58]

इसके अलावा, वे विभिन्न राजपूत कुलों या शाखाओं के बीच होने वाले संघर्ष के पारंपरिक मध्यस्थ थे। राजपूत कुल अपने परिवार और बच्चों को हिंसा के समय में सुरक्षा के लिए चारणों के घरों में भेज देते थे।[59] शत्रुतापूर्ण या युद्धरत समूहों के बीच बातचीत में दूतों और मध्यस्थों की भूमिका चारण द्वारा निभाई जाती थी।[60][61] उन्होंने युद्ध के समय दूत के रूप में कार्य किया।[62] यहां तक कि अंग्रेजों ने भी चारणों से उन्नीसवीं सदी की शुरुआत के सौराष्ट्र शांति समझौतों में मध्यस्थता करने का आह्वान किया।[58][63]

समय के साथ रियासतों के प्रशासन में ब्रिटिश औपनिवेशिक हस्तक्षेप ने चारणों की इस पारंपरिक भूमिका का क्षय हुआ।[45] हालांकि, औपनिवेशिक काल में भी, चारणों का वाणिज्यिक लेनदेन और वित्तीय अनुबंधों में गवाह या गारंटर के रूप में लंबे समय से चला आ रहा कार्य जारी रहा।[64] 1857 की भारतीय क्रांति के दौरान चारणों के विद्रोह से पूर्व, वे सेंट्रल गुजरात ब्रिटिश नेटवर्क का विश्वसनीय हिस्सा थे, जो राजकुमारों और जनता, या राजकुमारों और अंग्रेजों के बीच मध्यस्थ के रूप में प्रतिष्ठित थे।[65]

व्यापार[संपादित करें]

उन्होंने राजपुताना, मालवा और गुजरात के क्षेत्रों में वाहकों और व्यापारियों का व्यवसाय ग्रहण करके अपनी पवित्र स्थिति का लाभ उठाया क्योंकि वे किसी भी प्रकार के सीमा शुल्क से मुक्त थे।[66]

विभिन्न राज्यों के बीच दण्ड मुक्ति से वस्तु परिवहन के अपने विशेषाधिकार का प्रयोग करते हुए और मवेशियों की बड़ी संपत्ति का उपयोग करते हुए, चारण "उत्तर-पश्चिमी भारत में व्यापार का आभासी एकाधिकार" स्थापित करने में सक्षम हुए। कई चारण धनी व्यापारी और साहूकार थे। उनके कारवां को लुटेरों के खतरे से बीमाकृत माना जाता था।[67][68] राजस्थान में, काछेला चारण व्यापारियों के रूप में उत्कृष्ट थे।[69][70]

अपनी अनुकूल स्थिति का उपयोग करते हुए चूंकि उन्हें "निरंतर और परेशान करने वाले महसूल से छूट थी ... वे धीरे-धीरे मुख्य वाहक और व्यापारी बन गए"। मालाणी में, चारणों को "बड़े व्यापारियों" के रूप में वर्णित किया गया था जिनके पास महान विशेषाधिकार थे क्योंकि एक पवित्र जाति को पूरे मारवाड़ में स्थानीय करों से छूट थी।[71]

चारण व्यापारियों के बड़े कारवां उत्तर में मारवाड़ और हिंदुस्तान तक और पूर्व में गुजरात के रास्ते मालवा तक जाते थे। वे हाथीदांत, नारियल और सूखे खजूर सहित विभिन्न वस्तुओं का व्यापार करते थे, जो वे कच्छ से ले जाते और मारवाड़ और हिंदुस्तान से मक्का और तंबाकू वापस लाते। अफ्रीका से गुजरात के मांडवी लाए गए हाथीदांत को चारण व्यापारीयों द्वारा अनाज और कपड़े के बदले में खरीदा जाता था। वहां से वे हाथीदांत का विक्रय मारवाड़ में करते थे।[72]

सत्रहवीं और अठारहवीं शताब्दी के अंत तक, वे मुगल, राजपूत और अन्य गुटों की युद्धरत सेनाओं के लिए माल और हथियारों के प्रमुख आपूर्तिकर्ताओं के रूप में उभरे। वे पंजाब से लेकर महाराष्ट्र तक के बाजारों में अपने माल का विक्रय करते थे।[73]

मारवाड़ में नमक-व्यापार में हजारों लोग शामिल थे जिसमे बैल और ऊंट जैसे मवेशियों का प्रयोग होता था। पुष्करणा ब्राह्मणों और भीलों के साथ चारण नमक-व्यापार में संलग्न थे और उन्हें सीमा शुल्क के भुगतान से छूट थी। सिंणधरी के काछेला चारण तिलवाड़ा से नमक इकट्ठा करते थे और मारवाड़ के अन्य हिस्सों में विक्रय करते थे। चारणों को "महान व्यापारी के रूप में देखा गया था... जो ... कोई कर नहीं चुकाते और उस मुश्किल समय में जब हर ओर लूट का प्रकोप था ...  ... हालांकि हजारों रुपये की संपत्ति के साथ व्यापार करते लेकिन कभी भी उनके सामान से छेड़छाड़ नहीं होती"।[74]

लंबी यात्रा की आवश्यकताओं के कारण या सिद्धांतविहीन डाकुओं और समय-समय पर बारिश से बचाव के लिए, चारण व्यापारियों ने अपने शिविरों को गढ़नुमा बस्तियों के रूप में बनाया। कभी-कभी, ये गढ़नुमा बस्तियाँ भैंसरोड़गढ़ जैसे किलों के रूप में विकसित हो जाती थी। कुछ चारण व्यापारी रजवाड़ों (रियासतों) के विशेषाधिकार प्राप्त वाहक थे और इस प्रकार शाही घराने से उनका सीधा संपर्क था। उनके कारवां में उनके माल और छावनियों की सुरक्षा के लिए सेनाएँ भी शामिल होती थीं। कोटा जैसी रियासतों के दस्तावेज़ कई चारण व्यापारियों के नाम दर्ज करते हैं जो अपने विशाल कारवां के साथ क्षेत्र के समृद्ध व्यापारियों के रूप में जाने जाते थे और पश्चिमी भारत के बाजारों के साथ व्यापार करते थे।[75]

उत्तर पश्चिमी भारत में ब्रिटिश आधिपत्य की स्थापना के बाद उनके द्वारा व्यापार प्रथाओं पर औपनिवेशिक हस्तक्षेप जैसे नमक पर एकाधिकार और रेलवे की शुरूआत ने समग्र व्यापारिक ढांचे को प्रभावित किया, जिससे चारण, लोहाना और बंजारा सहित परिवहन व्यवसाय में समुदायों की अपरिवर्तनीय गिरावट आई। नतीजतन, उनमें से कुछ व्यापारियों और साहूकारों के रूप में बस गए जबकि अन्य ने कृषि को अपना लिया।[74]

अठारहवीं शताब्दी में जेम्स टॉड ने मेवाड़ में काछेला चारणों पर टिप्पणी की, जो पेशे से व्यापारी थे:

यह एक नया और दिलचस्प दृश्य था: चारणों का मर्दाना व्यक्तित्व, उनके नायक, या नेताओं ने, एकतरफा झुकी हुई ऊँची ढीली पगड़ी के साथ, बहते हुए सफेद बागे में, जिसमें से माला बंधी हुई थी; जिसमे उनके पितृेश्वर (पूर्वजों) की छवि के सोने के विशाल हार पहने हुए थे, पूरे माहौल को ऐश्वर्य और गरिमा प्रदान की।[76][56]

व्यापार के संरक्षक[संपादित करें]

यदि आवश्यक हो तो चारण तलवार और ढाल के माध्यम से ; या फिर, शत्रुओं की अधिक संख्या होने पर, स्वयं की जान देकर अपने प्रभार को सौंपे गए माल की रक्षा करने के लिए प्रतिष्ठित थे।[72]

मालपुरा, पाली, सोजत, अजमेर और भीलवाड़ा के महत्वपूर्ण केंद्रों में संरक्षक के रूप में चारणों को "माल-सामान के सबसे बड़े वाहक" के रूप में वर्णित किया गया था।[77] पूरे राजस्थान, गुजरात और मालवा (मध्य प्रदेश) के व्यापारिक मार्गों में, चारण पूरी यात्रा के दौरान व्यापार के संरक्षक के रूप में जाने जाते थे। [78] कारवां का रास्ता सुइगाम (गुजरात), सांचोर, भीनमाल, जालोर से पाली तक होता था।[79] व्यापार मार्गों के उनके ज्ञान के साथ एक चारण की पवित्रता ने उन्हें आदर्श कारवां अनुरक्षण के रूप में प्रतिष्ठित किया।[68] विभिन्न वस्तुओं को ले जाने वाले घोड़ों, ऊंटों और बैलों के कारवां रेगिस्तान और जंगली पहाड़ियों के उजाड़ हिस्सों से गुजरते थे जो हमेशा डाकुओं और डकैतों के खतरे में रहते थे। चारण ने यहाँ संरक्षक और अनुरक्षक के रूप में कार्य किया। कारवां रक्षक के रूप में, "पवित्र चारण" डकैतों के प्रयासों को विफल कर देते।[69][80]

यदि तलवार और ढाल से अपने काफिले की रक्षा करने के लिए पर्याप्त शक्ति नहीं होती, तो वे स्वयं को आघात पहुँचाने या मारने का उद्घोष करते। उस समय की सामाजिक-सांस्कृतिक व्यवस्था में चारणों की स्थिति को देखते हुए, एक चारण की जानबूझकर हत्या एक गौहत्या जैसे घृणित अपराध के बराबर थी। इस प्रकार, यदि एक चारण ने अपने संरक्षण के तहत कारवां के किसी भी उल्लंघन पर आत्महत्या कर ली, तो आत्महत्या के लिए जिम्मेदार लुटेरों को "एक चारणाघात मृत्यु का पाप अर्जित होना, माना जाता था।" इस प्रकार, चारणों की सुरक्षा के तहत, वस्तुओं को एक क्षेत्र से दूसरे क्षेत्र में ले जाया जाता था।[81][82][74][72]

अश्व व्यापार[संपादित करें]

घोड़ों का व्यापार चारणों के प्रमुख व्यवसायों में से एक था।[83][84] काछेला चारण (कच्छ और सिंध से) और सोरठिया चारण (काठियावाड़ से) जैसे कुछ चारण उप-समूह ऐतिहासिक रूप से घोड़ों के प्रजनन और व्यापार में संलग्न थे।[85][86] घोड़ों से समान संबंध ने चारण और काठी जाति के बीच घनिष्ठ बंधन को भी जन्म दिया। कुछ काछेला चारण पश्चिमी राजस्थान में मालाणी (बाड़मेर, राजस्थान) के आसपास बस गए, जो अपने घोड़ों के प्रजनन के लिए उल्लेखनीय था। इस क्षेत्र के मारवाड़ी घोड़ों को मालाणी घोड़ों के नाम से जाना जाने लगा। अठारहवीं शताब्दी तक, बीकानेर राज्य में अश्व व्यापार का अधिकांश व्यवसाय चारणों और अफ़गानों द्वारा नियंत्रित किया जाता था। चारण अश्वविक्रेताओं का व्यापार-तंत्र बहुत अच्छा माना जाता था। अश्वविक्रेता चारणों के प्रभाव के एक अन्य उदाहरण में, काछेला उपसमूह का एक चारण नाथ संप्रदाय के  नेता के तत्वावधान में मारवाड़ शासक, महाराजा तख्त सिंह के दरबार में पहुंचा, और अपने घोड़ों का विपणन किया, जिसमें 10 घोड़े सीधे शासक द्वारा स्वयं खरीदा गये थे।[87][69][88]

आधुनिक काल[संपादित करें]

1947 में भारत की स्वतंत्रता और लोकतंत्र की स्थापना के बाद, रियासतों का भारतीय संघ में विलय कर दिया गया। कुछ ही समय बाद, 1952 में, भारत सरकार द्वारा जागीरदारी प्रणाली (सामंती भूमि कार्यकाल प्रणाली) को समाप्त कर दिया गया था। इसने उच्च जातियों जैसे चारण (साथ ही राजपूतों) के प्रभुत्व को प्रतिकूल रूप से प्रभावित किया जो सामंती वर्ग का हिस्सा थे। उनके पास अब संपूर्ण गाँव की भूमि नहीं थी क्योंकि स्वामित्व जाट और पटेल जैसे समुदायों को हस्तांतरित कर दिया गया था जो उस भूमि पर श्रमिकों के रूप में खेती करते थे।[8][89]

हालांकि, चारण आज भी भूमि के बड़े हिस्से का स्वामित्व रखते हैं और एक निश्चित पारंपरिक जीवन शैली को बनाए रखते हैं। महिलाएं घूंघट व पर्दे का पालन जारी रखती हैं।[6] चारण कृषि के लिए अपनी भूमि का उपयोग करते हैं और श्रमिकों को खेतों पर रखते है। वर्तमान में, आधुनिक शिक्षा के अनुकूल होने से सफेदपोश सरकारी नौकरियों से भी संबंधित है।[89]

उल्लेखनीय लोग[संपादित करें]

14वी शताब्दी[संपादित करें]

15वी शताब्दी[संपादित करें]

16वी शताब्दी[संपादित करें]

17वी शताब्दी[संपादित करें]

18वी शताब्दी[संपादित करें]

19वी शताब्दी[संपादित करें]

20वी शताब्दी[संपादित करें]

भारतीय साहित्य में योगदान[संपादित करें]

चारण साहित्य, साहित्य की एक विधा के रूप में सुस्थापित है। डिंगल भाषा और साहित्य का अस्तित्व मुख्यतः चारणों के कारण है। झवेरचन्द मेघाणी ने चारण साहित्य को १३ उपविधाओं में विभाजित किया है।

  • (१) स्तवन - देवी-देवताओं की स्तुतियाँ
  • (२) बीरदवालो - नायकों, सन्तों और संरक्षकों की प्रसंशा
  • (३) वरन्नो - युद्ध का वर्णन
  • (४) उपलम्भो - उन राजाओं की आलोचना/निन्दा जो अपनी शक्ति का दुरुपयोग करके कोई गलत कार्य करते हैं।
  • (५) थेकड़ी - किसी महनायक के साथ किए गए विश्वासघात का मजाक उड़ाना
  • (६) मरस्या या विलाप-काव्य -- योद्धाओं, संरक्षको, मित्रों या राजा के मृत्योपरान्त शोक व्यक्त करने के लिए रचित काव्य, जिसमें उस व्यक्ति के चारित्रिक गुणों के अलावा अन्य क्रिया-कलापों का वर्णन किया जाता है।
  • (७) प्रेमकथाएँ
  • (८) प्राकृतिक सुन्दरता का वर्णन, ऋतु वर्णन, उत्सव वर्णन
  • (९) अस्त्र-शस्त्र का वर्णन
  • (१०) सिंह (शेर), घोड़े, ऊँट और भैंसों की प्रसंसा
  • (११) शिक्षाप्रद एवं व्यावहारिक चतुराई से सम्बन्धित कहावतें
  • (१२) प्राचीन महाकाव्य
  • (१३) अकाल और दुर्दिन के समय प्रजा की पीड़ा का वर्णन

चारणी साहित्य का एक अन्य वर्गीकरण यह है-

  • ख्यात : राजस्थानी साहित्य के इतिहासपरक ग्रन्थ जिनको रचना तत्कालीन शासकों ने अपनी मान-मर्यादा एवं वंशावली के चित्रण हेतु करवाई। उदाहरण - मुहणोत नैणसी री ख्यात, दयालदास को बीकानेर रां राठौड़ा री ख्यात आदि।
  • वंशावली : इस श्रेणी की रचनाओं में राजवंशों की वंशावलियाँ विस्तृत विवरण सहित लिखी गई हैं, जैसे राठौड़ा री वंशावली, राजपूतों री वंशावली आदि।
  • दवावैत – यह उर्दू-फारसी की शब्दावली से युक्त राजस्थानी कलात्मक लेखन शैली है, किसी की प्रशंसा दोहों के रूप में की जाती है।
  • वार्ता या वात : वात का अर्थ कथा या कहानी से है । राजस्थान मे ऐतिहासिक, पौराणिक, प्रेमपरक एवं काल्पनिक कथानकों पर अपार वात साहित्य है।
  • रासो (सैन्य महाकाव्य) -- राजाओं की प्रशंसों में लिखे गए काव्य ग्रन्थ जिनमें उनके युद्ध अभियानों व वीरतापूर्ण कृत्यों के विवरण के साथ उनके राजवंश का विवरण भी मिलता है। बीसलदेव रासी, पृथ्वीराज रासो आदि मुख्य रासो ग्रन्थ हैं।
  • वेलि -- राजस्थानी वेलि साहित्य में यहाँ के शासकों एवं सामन्तों की वीरता, इतिहास, विद्वता, उदरता, प्रेम-भावना, स्वामिभक्ति, वंशावली आदि घटनाओं का उल्लेख होता है। पृथ्वीराज राठौड़ द्वारा रचित 'वेलि किसन रुकमणी री' प्रसिद्ध वेलि ग्रन्थ है।
  • विगत : यह भी इतिहासपरक ग्रन्थ लेखन की शैली है। 'मारवाड़ रा परगना री विगत' इस शैली की प्रमुख रचना है।
  • प्रकास : किसी वंश अथवा व्यक्ति विषेष की उपलब्धियाँ या घटना विशेष पर प्रकाश डालने वाली कृतियाॅं ‘प्रकास‘ कहलाती है। राजप्रकास, पाबू प्रकास, उदय प्रकास आदि इनके मुख्य उदाहरण है।
  • वचनिका : यह एक गद्य-पद्य तुकान्त रचना होती है, जिससे अन्त्यानुप्रास मिलता है। राजस्थानी साहित्य में "अचलदास खाँची री वचनिका" एवं "राठौड़ रतनसिंह जी महेस दासोत से वचनिका" प्रमुख हैं। वचनिका मुख्यतः अपभ्रंश मिश्रित राजस्थानी मे लिखी हुई हैं।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "List of Backward Classes | Welfare of Scheduled Caste & Backward Classes Department, Government of Haryana". haryanascbc.gov.in. अभिगमन तिथि 2022-04-29.
  2. Bhargava, Hem Bala (2000). Royalty, Feudalism, and Gender: As Portrayed by Foreign Travellers (अंग्रेज़ी में). Rawat Publications. पृ॰ 192. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-7033-616-7. Heber writes that not only in Rajputana but in the wilder districts of South-west more war-like Charans were found. In Gujarat and Malwa the merchants and travellers hired Charans to protect them through their journey.
  3. Hiramani, A. B. (1977). Social Change in Rural India (अंग्रेज़ी में). B. R. Publishing Corporation. पृ॰ 47.
  4. Commissioner, Pakistan Office of the Census (1962). Population Census of Pakistan, 1961: West Pakistan: 1.Karachi. 2.Lahore. 3.Gujranwala. 4.Rawalpindi. 5.Lyallpur. 6.Multan. 7.Quetta. 8.Peshawar. 9.Hyderabad. 10.Sukkur. 11.Bahawalpur. 12.Hazara. 13.Sialkot. 14.Sargodha. 15.Mianwali. 16.Jhang. 17.Loralai. 18.Sibi. 19.Jacobabad. 20.Campbellpur. 21.Gujrat. 22.Bannu. 23.Jhelum. 24.Tharparker. 25.Larkana. 26.Thatta. 27.Mekran (अंग्रेज़ी में). There are other castes of Hindus i.e. , Brahmans , Lohanas , Khatries , Sutars , Charans , Sonaras , Kalals etc.
  5. Kothiyal, Tanuja (2016-03-14). Nomadic Narratives: A History of Mobility and Identity in the Great Indian Desert (अंग्रेज़ी में). Cambridge University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-316-67389-8. Charan migratory history traces their movements between Baluchistan, Jaisalmer, Marwar, Gujarat and Kutch.
  6. Palriwala, Rajni (1993). "Economics and Patriliny: Consumption and Authority within the Household". Social Scientist. 21 (9/11): 47–73. JSTOR 3520426. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0970-0293. डीओआइ:10.2307/3520426. In Rajasthan, they were bards and 'literateurs', but also warriors and jagirdars, holders of land and power over men; the dependents of Rajputs, their equals and their teachers. On my initial visit and subsequently, I was assured of this fact vis-a-vis Panchwas and introduced to the thakurs, who in life-style, the practice of female seclusion, and various reference points they alluded to appeared as Rajputs. While other villagers insisted that Rajputs and Charans were all the same to them, the Charans, were not trying to pass themselves off as Rajputs, but indicating that they were as good as Rajputs if not ritually superior....most of the ex-landlord households, the Charans and one Pathan, remained in the middle and upper ranks of village society
  7. Sharma, K. L. (2019-02-02). Caste, Social Inequality and Mobility in Rural India: Reconceptualizing the Indian Village (अंग्रेज़ी में). SAGE Publishing India. पपृ॰ 322–323. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-93-5328-202-8. Charans, a landowning caste (ex-zamindars), Brahmins and Banias were at the centre of the village...the upper castes, namely, Brahmins, Charans and Banias were dominant and grabbed new jobs and opportunities.
  8. Patel, Tulsi (2006-11-30). Fertility Behaviour: Population and Society in a Rajasthan Village (अंग्रेज़ी में). OUP India. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-568706-4. The jagir was held by members of the Charan caste...By this criterion most of the vegetarian castes enjoy a high rank while the non-vegetarian castes belong to the lower category, except Charan and Rajput who belong to the highest category, despite being non-vegetarian and non-teetotaler...While the abolition of feudal land tenures has led to downward mobility of Charans and Rajputs, it has helped upward mobility of Patels and Jats...Except for Charans and Rajputs, all others cultivate land as tenants and sharecroppers, especially if their own holding is small...However, Brahmins do take up wage labour in agriculture, unlike Banias, Charans and Rajputs...My entry into homes of higher castes, especially those of Charans and Rajputs, was not easy either.
  9. Paul, Kim (1993-01-01). "Negotiating sacred space: The Mandirand the Oran as contested sites". South Asia: Journal of South Asian Studies. 16 (sup001): 49–60. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0085-6401. डीओआइ:10.1080/00856409308723191. In the past some Charans were agriculturalists, engaged in farming lands which were divided equally between male descendants of the lineage. Others were cowherds and caravan escorts....
  10. Harald Tambs-Lyche (9 August 2017). Transaction and Hierarchy: Elements for a Theory of Caste. Routledge. पृ॰ 130. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-351-39396-6. Their vegetarian, non-violent and economically puritan ethos conflicts with the Charan tradition, marked by the aristocratic values...Some Charan bards received lands in jagir for their services, and in parts of Marwar, certain Charan families were effectively Darbars.
  11. Marcus, George E. (1983). Elites, Ethnographic Issues (अंग्रेज़ी में). University of New Mexico Press. पृ॰ 219. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-8263-0658-6. Charans were court poets and historians, "bards".
  12. Shah, P. R. (1982). Raj Marwar During British Paramountcy: A Study in Problems and Policies Up to 1923 (अंग्रेज़ी में). Sharda Publishing House. पृ॰ 194. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-7855-1985-0. The Charans constituted a body of faithful companions of the Rajputs. They composed poems in praise of the heroic deeds of the Rajputs, and thus inspired them with courage and fortitude. They also guarded the mansions of their patrons, gave protection to their women and children during emergency and also acted as tutors for the young ones. In return land gifts and honours were conferred upon them. The Charans, who could not devote themselves to intellectual pursuits, took to trade. They also protected merchants and travellers passing through desolate regions and forests.
  13. Gupta, Saurabh (2015-10-01). Politics of Water Conservation: Delivering Development in Rural Rajasthan, India (अंग्रेज़ी में). Springer. पृ॰ 42. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-3-319-21392-7. Sharma (ibid) argues that the ex-Zamindars (or landlords) who own big landholdings even today are influential but those who do not retain it are not only less influential but have also slid down the scale of status hierarchy. The families most affected by this belong to the Rajputs, Jats, Charans and Brahmins (all traditionally powerful caste groups).
  14. Hastings, James M. (2002). Poets, Sants, and Warriors: The Dadu Panth, Religious Change and Identity Formation in Jaipur State Circa 1562-1860 Ce (अंग्रेज़ी में). University of Wisconsin--Madison. पृ॰ 23. In Rajasthan, the Charans are a highly esteemed caste seen as occupying a social position slightly lower than that of Brahmins but above that of Rajputs, with whom they maintain a symbiotic relationship...Like Rajputs, with whom they often shared company, Charans would eat meat, drink liquor and engage in martial activities...Although, in a way, poetic composition and recitation was for them a “pastime” subordinate to the primary income producing occupations of military service, agriculture, and horse and cattle trading...
  15. Hastings, James M. (2002). Poets, Sants, and Warriors: The Dadu Panth, Religious Change and Identity Formation in Jaipur State Circa 1562-1860 Ce (अंग्रेज़ी में). University of Wisconsin--Madison. पृ॰ 23. In Rajasthan, the Charans are a highly esteemed caste seen as occupying a social position slightly lower than that of Brahmins but above that of Rajputs, with whom they maintain a symbiotic relationship...Like Rajputs, with whom they often shared company, Charans would eat meat, drink liquor and engage in martial activities...They were, and often still are, viewed as seers, intermediaries who are closer to the sacred than ordinary mortals. It is said, for instance, that it was considered that killing a Charan was a sin comparable to killing a Brahmin, so that at times a Charan warrior could scatter his enemies just by charging straight at them and tempting them to kill him.....Although, in a way, poetic composition and recitation was for them a “pastime” subordinate to the primary income producing occupations of military service, agriculture, and horse and cattle trading...
  16. Kapadia, Aparna (2018-05-16). Gujarat: The Long Fifteenth Century and the Making of a Region (अंग्रेज़ी में). Cambridge University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-107-15331-8. Charans accompanied these warriors in battles, sang of their glory in war, and, as late as the nineteenth century, served as guarantors and diplomats for their lieges on account of their sacred association with various forms of the mother goddess." "The Carans and the vocabulary of negotiation and alliance that they represented stood as guarantors of a mutually accepted legal system between clans. This was enforced by the sacrality of the mother goddess embodied by the person of the Caran.
  17. Bulletin on Narcotics (अंग्रेज़ी में). United Nations, Department of Social Affairs. 1994. The Charans (also known as Deviputras - sons of the goddess) occupy a place analogous to the Brahmins elsewhere in the country. They performed many of the functions of the Brahmins. Like Brahmins, it was considered a great sin to hurt or kill a Charan. Because of the institutionalized and religiously sanctioned protection which the Charans enjoyed, they could fearlessly admonish the rulers, however bitter it might appear to the latter.
  18. Jain, Pratibha; Śarmā, Saṅgītā (2004). Honour, Status & Polity (अंग्रेज़ी में). Rawat Publications. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-7033-859-8. At times , they used their immunity to criticize and censure their patrons whenever they deviated from the path of rectitude. Their satirical verses known as Chhand Bhujang or 'serpentine stanza' acted as checks on wanton behaviour of the rulers." "Some historians have categorized the Charans with the Brahmins in the social hierarchy and in terms of their proximity and utility to Rajput political culture even placed them at a higher pedestal than that of the Brahmins.
  19. Basu, Helene (2005). "Practices of Praise and Social Constructions of Identity: The Bards of North-West India". Archives de sciences sociales des religions. 50 (130): 81–105. JSTOR 30116669. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0335-5985. डीओआइ:10.4000/assr.2795. No contract between kings after a war, or between patrons and clients agreeing the terms whereby services be rendered, nor any other contract was considered valid without a Chāran guaranteeing on his own and/or the life of his family that the terms agreed upon would be fulfilled. They provided the same service for merchants and traders on their long treks through the desert up north, when they accompanied caravans for their protection against plundering bandits. नामालूम प्राचल |s2cid= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  20. Śrivastava, Vijai Shankar (1981). Cultural Contours of India: Dr. Satya Prakash Felicitation Volume (अंग्रेज़ी में). Abhinav Publications. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-391-02358-1. There was, however, a very novel and extremely intriguing device which the Chārans of Rajasthan and Western India used to employ for the security of merchandise in transit. The guardians of the merchandise were almost invariably Chāraṇs, and the most desperate outlaw seldom dared commit any outrage on caravans under the safeguard of these men.
  21. Goswami, Sambodh (2007). Female Infanticide and Child Marriage (अंग्रेज़ी में). Rawat Publications. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-316-0112-9. Another sacred book considers Charans as having God like characteristics since they are well versed in the art of poetry and are able to write verses on the spot and at the moment.
  22. Meghāṇi, Jhaverchaṅd (2000). "Elegiac "Chhaṅd" and "Duhā" in Charani Lore". Asian Folklore Studies. 59 (1): 41–58. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0385-2342. डीओआइ:10.2307/1179026. References to the Charans are found in Rig-Veda, Ramayan, Mahabharat, and Shrimad Bhagvad as well as in Jain Prabandha. Kalidas, a great Sanskrit poet-playwright of ancient times, has immortalized the Charans by casting them in his classical plays. In the Puranas, the Charans have been described as chanters of paeans to the divine and as priests worshipping temple icons. The Charani tradition began in the historic age in the form of rishi-the institution of great sages who were supposedly running hermitage-boarding schools for princes while living in the forests, the Himalayas or other high mountains, on the seashores or riverbanks.
  23. Kamphorst, Janet (2008). In praise of death: history and poetry in medieval Marwar (South Asia). Leiden: Leiden University Press. OCLC 614596834. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-90-485-0603-3. ...Various myth-histories relate Charan ancestry to classical traditions, Sanskritic gods and mythical and/or historical abodes in the Himalayas...The Maru Charan of Marwar, for example, relate their ancestry to semi-divine beings or spirit-beings like the half-divine Siddhas of Vedic lore and Puranic Sutas who used to eulogize the gods and allegedly became demi-gods themselves...Maru and other Charan lineages have also been traced to Charan Munis of the Mahābhārat, of whom it is said that they looked after Raja Pandu when he stayed in the “Land of Charans” and who, after Pandu’s demise, accompanied his queen and son on their way to Dhritarashtra in Hastinapur. Other comparable tales relate Charan ancestry to the semi-divine DevCharan of Mount Sumeru. One such tale records how the Dev-Charan are thought to have left Mount Sumeru due to the increase in members of the divine populace, which caused several groups of divine and semi-divine origin to move elsewhere...
  24. Shah, A. M.; Shroff, R. G. (1958). "The Vahīvancā Bāroṭs of Gujarat: A Caste of Genealogists and Mythographers". The Journal of American Folklore. 71 (281): 246–276. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0021-8715. डीओआइ:10.2307/538561.
  25. "Caran | Definition, Ballads, & Facts | Britannica". www.britannica.com (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2022-06-09.
  26. Thompson, Gordon R. (1991). "The Cāraṇs of Gujarat: Caste Identity, Music, and Cultural Change". Ethnomusicology. 35 (3): 381–391. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0014-1836. डीओआइ:10.2307/851968.
  27. Banerjee, Anil Chandra. (1983). Aspects of Rajput State and Society. पपृ॰ 124–125. OCLC 12236372.
  28. Sharma, G. N. (1968). Social Life in Medieval Rajasthan. Agra: Lakshmi Narayan Agarwal Educational Publisher. पृ॰ 111.
  29. Commissioner, India Census (2018-02-22). Census of India, 1901, Volume 25, Parts 1-2 (अंग्रेज़ी में). Creative Media Partners, LLC. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-378-47136-4.
  30. Qanungo, Kalika Ranjan; Kānūnago, Kālikā Rañjana (1960). Studies in Rajput History (अंग्रेज़ी में). S. Chand.
  31. Singh, Hardyal (1990). The Castes of Marwar, Being Census Report of 1891 (अंग्रेज़ी में). Books Treasure.
  32. Kothiyal, Tanuja (2016-03-14). Nomadic Narratives: A History of Mobility and Identity in the Great Indian Desert (अंग्रेज़ी में). Cambridge University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-316-67389-8. The genealogists for Charans were Brahmins from Ujjain who periodically inscribed their genealogies in their accounts.
  33. Vidyarthi, Lalita Prasad; Sahay, B. N. (1980). Applied Anthropology and Development in India (अंग्रेज़ी में). National. The Rawals provide entertainment particularly for the people of Charan caste by arranging night long shows.
  34. Prabhākara, Manohara (1976). A Critical Study of Rajasthani Literature, with Exclusive Reference to the Contribution of Cāraṇas (अंग्रेज़ी में). Panchsheel Prakashan. Motisar is a caste which keeps the genealogies of Carans, sings their praises and begs money of them. The Motisars themselves are often good composers.
  35. "Musafir". LA Phil (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2022-06-15.
  36. Hunter, William Wilson (2020-11-19). The Imperial Gazetteer Of India (Volume Xxi) Pushkar To Salween (अंग्रेज़ी में). Alpha Editions. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-93-5421-782-1.
  37. Commissioner, India Census (2018-02-22). Census of India, 1901, Volume 25, Parts 1-2 (अंग्रेज़ी में). Creative Media Partners, LLC. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-378-47136-4.
  38. "Rajasthan District Gazetteers: Nagaur". INDIAN CULTURE (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2021-09-18.
  39. Singh, Khushwant (1982). We Indians. Delhi: Orient Paperbacks. OCLC 10710940.
  40. Opium, Great Britain Royal Commission on (1895). First Report of the Royal Commission on Opium: With Minutes of Evidence and Appendices (अंग्रेज़ी में). H.M. Stationery Office.
  41. Maheshwari, Hiralal (1980). History of Rajasthani Literature (अंग्रेज़ी में). Sahitya Akademi.
  42. Ziegler, Norman P. (1976). "The Seventeenth Century Chronicles of Mārvāṛa: A Study in the Evolution and Use of Oral Traditions in Western India". History in Africa. 3: 127–153. JSTOR 3171564. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0361-5413. डीओआइ:10.2307/3171564. नामालूम प्राचल |s2cid= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  43. Rao, Velcheru Narayana; Nārāyaṇarāvu, Vēlcēru; Shulman, David Dean; Subrahmanyam, Sanjay (2003). Textures of Time: Writing History in South India 1600-1800 (अंग्रेज़ी में). Other Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-59051-044-5.
  44. Paul, Kim (1993-01-01). "Negotiating sacred space: The Mandirand the Oran as contested sites". South Asia: Journal of South Asian Studies. 16 (sup001): 49–60. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0085-6401. डीओआइ:10.1080/00856409308723191. In the past some Charans were agriculturalists, engaged in farming lands which were divided equally between male descendants of the lineage. Others were cowherds and caravan escorts....
  45. Kapadia, Aparna (2022). "Imagining Region in Late Colonial India: Jhaverchand Meghani and the Construction of Saurashtra (1921–47)". The Journal of Asian Studies (अंग्रेज़ी में): 1–20. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0021-9118. डीओआइ:10.1017/S0021911822000080. Movement was also integral to the work of the Charans, who emerged as the preservers of Rajput culture and served various administrative and diplomatic functions...Historically, violence was fundamental to Charans’ preservation of their sacred and ethical authority. From about the thirteenth century, Charans had served various bureaucratic functions for their patrons, including as security for private or government transactions. नामालूम प्राचल |s2cid= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  46. "Development of social, religious and economic structure in medieval Rajasthan: A study with reference to conditions during 1201-1707 a.d | International Journal of Development Research (IJDR)". www.journalijdr.com. अभिगमन तिथि 2022-07-01.
  47. Vinay, Srivastava (2004). Methodology and Fieldwork (अंग्रेज़ी में). Oxford University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-566727-1.
  48. Mahārāṇā Pratāpa ke pramukha sahayogī. Rājasthānī Granthāgāra. 1997.
  49. Rudolph, Susanne Hoeber; Rudolph, Lloyd I. (1984). Essays on Rajputana: Reflections on History, Culture, and Administration (अंग्रेज़ी में). Concept Publishing Company. At the outer edge of qualification norms is standing in one of the respectable (usually twice-born) and traditionally literate castes or communities of Rajputana-such as Rajputs, Oswals, Maheshwaris, Kayasths, Charans, Brahmans, and Muslims....the bureaucratic lineages in and out of power, whether from within (mutsaddi, Rajput, Muslim, Charan etc.)...Prominent Charan Dewans or senior court servants included Kaviraj (court poet) Shyamaldas at Udaipur and Kaviraj Murardan at Jodhpur.
  50. Bhasin, Veena (2005). Medical Anthropology, Tribals of Rajasthan (अंग्रेज़ी में). Kamala-Raj Enterprises. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-85264-35-6. The states were divided into various categories of Jagirs. During medieval period, Rajputs, Charans and Baniyas dominated the princely states. The Rajputs had a dominant status either as central ruler or Jagirdar and Thikanedar though lower to the Brahmins in ritual hierarchy. Next to them in status were Baniyas, followed by clean artisans, peasants and service castes. Baniya , though in minority had skills to run the administration . The status of Brahmin was subordinate in administration; instead Charans were close to the Rajputs. Vidal ( 1997 ) portray a picture of society and kingship in Sirohi area of Rajasthan where bards appeared as the real ideologues
  51. Bhati, N. S. (1979). Studies in Marwar History (अंग्रेज़ी में). Rajasthani Shodh Sansthan. The Charans acted as bards to the royal family but due to their intimate relations with the rulers they enjoyed their confidence and many times they acted as mediators in political affairs and enjoyed hereditry Jagir (Sasan) rights.
  52. Marcus, George E. (1983). Elites, Ethnographic Issues (अंग्रेज़ी में). University of New Mexico Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-8263-0658-6.
  53. Śekhāvata, Raghunāthasiṃha (1998). Shekhawati Pradesh ka rajnitik itihas. Ṭhā. Mallūsiṃha Smr̥ti Granthāgāra. दीवानजी का बास तेजमालजी नामक रत्नू चारण को सीकर ठिकाने की ओर से 1500 बीघा भूमि चंदपुरा गांव की सीमा में दी । तेजमालजी के तीन पुत्र रामनाथ , बद्रीदान व स्योबक्सजी बताये जाते हैं । रामनाथ किशनगढ़ राज्य के दीवान बने , स्योबक्स जी झालावाड़ व बद्रीदान माधोसिंह सीकर के दीवान थे । बद्रीदान को माधोसिंह ने बोदलासी ( नेछवा के पास ) की छः हजार बीघा भूमि प्रदान की । इनके पुत्र कुमेरदानजी सीकर ठिकाने में दीवान थे । चंदपुरा आज दीवानजी का बास के नाम से जाना जाता है । बद्रीदान के वंशज दीवानजी का बास व बोदलासी दोनों जगह रहते हैं ।
  54. Kapadia, Aparna (2018-05-16). Gujarat: The Long Fifteenth Century and the Making of a Region (अंग्रेज़ी में). Cambridge University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-107-15331-8. Charans accompanied these warriors in battles, sang of their glory in war, and, as late as the nineteenth century, served as guarantors and diplomats for their lieges on account of their sacred association with various forms of the mother goddess.
  55. Basu, Helene (2005). "Practices of Praise and Social Constructions of Identity: The Bards of North-West India". Archives de sciences sociales des religions. 50 (130): 81–105. JSTOR 30116669. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0335-5985. डीओआइ:10.4000/assr.2795. No contract between kings after a war, or between patrons and clients agreeing the terms whereby services be rendered, nor any other contract was considered valid without a Chāran guaranteeing on his own and/or the life of his family that the terms agreed upon would be fulfilled. They provided the same service for merchants and traders on their long treks through the desert up north, when they accompanied caravans for their protection against plundering bandits. नामालूम प्राचल |s2cid= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  56. Weinberger-Thomas, Catherine (1999). Ashes of Immortality: Widow-Burning in India (अंग्रेज़ी में). University of Chicago Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-226-88568-1.
  57. Schaflechner, Jürgen (2018). Hinglaj Devi: Identity, Change, and Solidification at a Hindu Temple in Pakistan (अंग्रेज़ी में). Oxford University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-085052-4. Charans were also warrantors for contracts, guaranteeing adherence to certain agreements between two parties with their lives.
  58. Rao, Aparna; Casimir, Michael J. (2008). Nomadism in South Asia (अंग्रेज़ी में). Oxford University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-569890-9. One of their functions was the witnessing and guaranteeing of important transactions. Their power of enforcement lay in the threat to kill themselves, if necessary, to bring supernatural forces to bear against the violator.
  59. Singh, Sabita (2019-05-27). The Politics of Marriage in India: Gender and Alliance in Rajasthan (अंग्रेज़ी में). Oxford University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-909828-6. The Charans were also used by the rulers for political negotiations as is evident from the fact that in the case of enmity between Rathore Rao Rinmal of Sojat (son of Rao Chuda) and Bhattis, the Bhattis sent Charan Sandhayach to plead with Rinmal not to trouble them. He succeeded in his task, which led to the establishment of matrimonial alliance between the two sides....Also, the importance of the Charans in the social structure of Rajasthan can be assessed from the fact that the Ranis (queens), who had young children, but had resolved to commit sati, would hand over their children to the care of the Charans, indicating the kind of trust that they enjoyed. There are examples of handing over children to the Brahmins also, but these examples are far less than those of the Charans.
  60. Chatterji, Anjali; Chatterjee, Anjali (2000). "Sectional President's Address: ASPECTS OF MEDIEVAL INDIAN SOCIETY: GLEANINGS FROM CONTEMPORARY LITERATURE". Proceedings of the Indian History Congress. 61: 196–241. JSTOR 44148098. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 2249-1937. Due to their intimate relation with rulers charans enjoyed their confidence and often they acted as mediators in political affairs and also enjoy hereditary Jagirs i.e., Sasan rights.
  61. Saran, Richard; Ziegler, Norman P. (2001). The Mertiyo Rathors of Merto, Rajasthan: Select Translations Bearing on the History of a Rajput Family, 1462-1660, Volumes 1-2 (अंग्रेज़ी में). University of Michigan Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-472-03821-3. Caran Jhuto appears in this passage as a go-between. Carans in Rajasthan, because of their sacred status, often assumed this role in negotiations between hostile or warring groups.
  62. Allen, Charles; Dwivedi, Sharada (1984). Lives of the Indian Princes (अंग्रेज़ी में). BPI Publishing. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-86982-05-1. They also acted as intermediaries in negotiating marriages, in guaranteeing the settlement of debts and disputes and as emissaries in times of war.
  63. "The Desert Frontier: A History of Travel and Nomadism". Sahapedia (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2022-07-14. The Charans acted as arbitrators and guarantors in dealings and agreements between Rajputs, once again resorting to taga if one party did not keep his end of the bargain. Such glorification of death worked in a society dominated by a Rajput community that set great store by dying in the battlefield for Rajput men and by self-immolation for their women.
  64. Snodgrass, Jeffrey G. (2004). "The Centre Cannot Hold: Tales of Hierarchy and Poetic Composition from Modern Rajasthan". The Journal of the Royal Anthropological Institute. 10 (2): 261–285. JSTOR 3804151. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 1359-0987. डीओआइ:10.1111/j.1467-9655.2004.00189.x. Well into the colonial period, however, Charans continued to perform one of their other long-standing functions, which was to serve as witnesses or guarantors to commercial transactions and financial contracts. Some also carried on as providers of a related service, which was to act as guarantors of the security of caravans conveying goods in transit....Not least among these was the fact that the British might have seen royal bards – as arbitrators of disputes, witnesses to contracts and agreements, protectors of hostages, educators of kings and their offspring, composers of history, and indeed establishers of truth – as competitors of a kind and thus sought to eliminate them (Vidal 1997).
  65. "Gujarat in 1857 – When Hindus and Muslims fought together". Tribunehindi.com (अंग्रेज़ी में). 2017-11-25. अभिगमन तिथि 2022-07-14.
  66. Vashishtha, Professor V.K. (2016). "Transformation in the Position of Charan Community in Rajputana States during Colonial Period" (PDF). Rajasthan History Congress. 31: 155–166 – वाया RAJHISCO.
  67. Matheson, Sylvia A. (1984). Rajasthan, Land of Kings (अंग्रेज़ी में). Vendome Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-86565-046-6.
  68. "Living goddesses, past and present in North-west India, German Scholars on India – Global InCH- International Journal of Intangible Cultural Heritage" (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2022-01-14.
  69. Chandra, Yashaswini (2021-01-22). The Tale of the Horse: A History of India on Horseback (अंग्रेज़ी में). Pan Macmillan. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-93-89109-92-4.
  70. Choudhry, P. S. (1968). Rajasthan Between the Two World Wars, 1919-1939 (अंग्रेज़ी में). Sri Ram Mehra. The Kachela Charans were traders . They were shrewd merchants and lighter dues were levied on them than on others.
  71. Kothiyal, Tanuja (2016-03-14). Nomadic Narratives: A History of Mobility and Identity in the Great Indian Desert (अंग्रेज़ी में). Cambridge University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-316-67389-8. The genealogists for Charans were Brahmins from Ujjain who periodically inscribed their genealogies in their accounts.
  72. Hooja, Rima (2006). A History of Rajasthan (अंग्रेज़ी में). Rupa & Company. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-291-0890-6.
  73. Bagchi, Amiya Kumar (2002). Capital and Labour Redefined: India and the Third World (अंग्रेज़ी में). Anthem Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-84331-068-6.
  74. Kothiyal, Tanuja (2016-03-14). Nomadic Narratives: A History of Mobility and Identity in the Great Indian Desert (अंग्रेज़ी में). Cambridge University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-316-67389-8. The genealogists for Charans were Brahmins from Ujjain who periodically inscribed their genealogies in their accounts.
  75. Upadhyaya, Rashmi (2010). "The Position of Charans in Medieval Rajasthan" (PDF). Rajasthan History Congress. 26: 31–38 – वाया rajhisco.
  76. Niyogi, Chandreyee (2006-04-05). Reorienting Orientalism (अंग्रेज़ी में). SAGE Publishing India. पृ॰ 78. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-93-5280-548-8.
  77. "Rajasthan, District Gazetteers: Pali". INDIAN CULTURE (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2022-01-14.
  78. Sato (Professor.), Masanori (1997). Economy and Polity of Rajasthan: Study of Kota and Marwar, 17th-19th Centuries (अंग्रेज़ी में). Publication Scheme. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-86782-14-9.
  79. "The Rajput States and the East India Company". INDIAN CULTURE (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2022-01-14.
  80. Paul, Kim (1993-01-01). "Negotiating sacred space: The Mandirand the Oran as contested sites". South Asia: Journal of South Asian Studies. 16 (sup001): 49–60. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0085-6401. डीओआइ:10.1080/00856409308723191.
  81. Hunter, William Wilson (2020-11-19). The Imperial Gazetteer Of India (Volume Xxi) Pushkar To Salween (अंग्रेज़ी में). Alpha Editions. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-93-5421-782-1.
  82. Sahai, Nandita Prasad (2006). Politics of Patronage and Protest: The State, Society, and Artisans in Early Modern Rajasthan (अंग्रेज़ी में). Oxford University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-567896-3.
  83. Jansen, Jan; Maier, Hendrik M. J. (2004). Epic Adventures: Heroic Narrative in the Oral Performance Traditions of Four Continents (अंग्रेज़ी में). Lit. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-3-8258-6758-4.
  84. Deva, B. Chaitanya (1992). INTRODUCTION TO INDIAN MUSIC (अंग्रेज़ी में). Publications Division, Ministry of Information and Broadcasting, Government of India. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-230-2103-4.
  85. Social Scientist (अंग्रेज़ी में). Indian School of Social Sciences. 2005.
  86. Dutson, Judith (2012-05-07). Storey's Illustrated Guide to 96 Horse Breeds of North America (अंग्रेज़ी में). Storey Publishing. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-60342-918-4.
  87. Kamphorst, Janet (2008). In praise of death: history and poetry in medieval Marwar (South Asia). Leiden: Leiden University Press. OCLC 614596834. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-90-485-0603-3.
  88. Saxena, Rajendra Kumar (2002). Karkhanas of the Mughal Zamindars: A Study in the Economic Development of 18th Century Rajputana (अंग्रेज़ी में). Publication Scheme. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-86782-75-0.
  89. Agrawal, Arun; Agrawal, Associate Professor of Political Science Arun (1999). Greener Pastures: Politics, Markets, and Community Among a Migrant Pastoral People (अंग्रेज़ी में). Duke University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-8223-2233-7. Brahmins, Rajputs, and Charans, the upper castes, form just 10 percent of the population...The charans and the patels have the highest landholding figures in the village..Although the members of the panchayat are drawn from different castes, charans, patels, and brahmins form a majority in it...

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]