रावणा राजपूत

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

रावणा राजपूत एक भारतीय जाति है । वे दरोगा के रूप में जानी जाने वाली जातियों में से हैं, [1] जो क्षत्रिय स्थिति का दावा करते हैं। [2] रावणा राजपूत क्षत्रिय वर्ण से विभक्त वह समूह / वर्ग है जो रियासतकाल में भूमि न रहने पर पर्दा प्रथा कायम नहीं रख पाया । इसलिए रियासतों और ठिकानों में सेवक के विभिन्न पदों(किलेदार,सेनापति,दीवान) पर रहकर या कृषक के रूप में अपने परिवार का जीविकोपार्जन किया। रावणा राजपूत गौरवशाली क्षत्रिय वर्ग का वह समाज है, जो देश-प्रेम, त्याग, वीरता, मर्यादा, प्रियता एवं देश सेवा भाव के कारण अपना पृथक अस्तित्त्व रखता है। रावणा राजपूतों को का अपना गौरवशाली अतीत एवं इतिहास है। आज यह नवसृजित नाम मारवाड़ की सीमाओं को लांग कर राजस्थान के अनेक ज़िलों में प्रचलित है।[3]

मूल[संपादित करें]

रावणा राजपूत एक सवर्ण जाति है।[4] उनके वंशजों को मूल रूप से राजपूत समुदाय ने राजपूतों के रूप में स्वीकार नहीं किया था। [5] उन्हें राजपूत राजकुमारों की पत्नियों से संतान माना जाता था [6] [7] [8][6] [9] उन्होंने शाही राजपूत परिवारों को गार्ड, सैनिकों और घरेलू नौकरों के रूप में सेवा दी। [10]

अपनी हैसियत बढ़ाने के लिए, इन लोगों ने खुद को एक जाति में संगठित किया, [11] और खुद को "रावणा राजपूत" के रूप में पेश किया। हालाँकि, ब्रिटिश भारतीय जनगणना अधिकारियों ने राजपूत स्थिति के उनके दावे को खारिज कर दिया। [12]

वर्तमान स्थिति[संपादित करें]

ऐतिहासिक रूप से, रावण राजपूतों को जाति आधारित भेदभाव का सामना करना पड़ा है। [13] उच्च जाति के राजपूत उन्हें हीन मानते हैं, खासकर विवाह के लिए। [8] फिर भी, रावण राजपूत खुद को ग्रामीण जाति पदानुक्रम में सर्वोच्च स्थान पर रखते हैं। [7]

बिजनेस स्टैंडर्ड की 2013 की एक रिपोर्ट के अनुसार, राजस्थान राज्य की कुल आबादी में रावण राजपूतों की संख्या लगभग 7% है। [14] उन्हें सकारात्मक कार्रवाई के लिए अन्य पिछड़ा वर्ग का दर्जा दिया गया है। [15]

जुलाई 2017 में, रावण राजपूत समुदाय ने गैंगस्टर आनंदपाल सिंह की कथित फर्जी मुठभेड़ की हत्या के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया, जो उनके समुदाय के थे और उनके गांव में एक नायक माना जाता था। [16] आनंदपाल सिंह को जाट-राजपूत प्रतिद्वंद्विता को बढ़ाने के लिए जाने जाते थे, [17] और उनकी मृत्यु के बाद के आंदोलन ने सामान्य राजपूत समुदाय को एकजुट किया। [18]

संदर्भ[संपादित करें]

 

  1. Varsha Joshi (1995). Polygamy and Purdah: Women and Society Among Rajputs. Rawat. पृ॰ 199. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-8-170-33275-6.
  2. K.S.Singh (1998). Rajasthan, Volume 1. Popular. पृ॰ 305,306. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-8-171-54766-1.
  3. दास, सरंगधर (1940). Bikaner: A Report Submitted to the President, All India States Peoples' Conference. के०बी० मेनन, कार्यालय सचिव, ऑल इंडिया स्टेट्स पीप्ल्स कॉन्फ्रेन्स. पृ॰ 49.
  4. कोठारी, कोमल (1894). The Castes Of Marwar. पपृ॰ xi.
  5. लिंडसे, हार्लन (1992). Religion and Rajput Women: The Ethic of Protection in Contemporary Narratives. कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय प्रेस. पपृ॰ 145, 167. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-520-07339-5.
  6. गौर, डी. डी. (1978). Constitutional Development of Eastern Rajputana States. उषा. पृ॰ 49. OCLC 641457000. These slave communities were known by various names, such as Darogas, Chakars, Hazuris, Ravana- Rajputs, darogas, Khawas.
  7. श्रीवास्तव, विनय कुमार (1997). Religious renunciation of a pastoral people. ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय प्रेस. पृ॰ 266. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-564121-9. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> अमान्य टैग है; "Vinay_1997" नाम कई बार विभिन्न सामग्रियों में परिभाषित हो चुका है
  8. अहमद, सलिक (13 जुलाई 2017). "Why Rajputs in Rajasthan have erupted in anger over gangster Anandpal's encounter killing". हिंदुस्तान टाइम्स. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> अमान्य टैग है; "Salik_HT" नाम कई बार विभिन्न सामग्रियों में परिभाषित हो चुका है
  9. चौधरी, पी०एस० (1968). Rajasthan between the two world wars, 1919-1939. श्री राम मेहरा. पृ॰ 97. According to the census report of 1921, there were 1,60,755 slaves in Rajputana, including 10,844 born domestic slaves in Bikaner and 43,100 in Jodhpur. They mostly belonged to the Chakars and Daroga classes, and were divided into many groups such as Hazurias, Ravana Rajputs, Chellas and Gollas.
  10. मनचन्दा, बिन्दू (2001). Jaisalmer: The City of Golden Sands and Strange Spirits. हार्पर कोलिन्स प्रकाशन भारत. पृ॰ 92. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-7223-434-8.
  11. Narendra Kumar Singhi; Rajendra Joshi (1995). Folk, Faith & Feudalism: Rajasthan Studies. Rawat Publications. पृ॰ 119. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-7033-273-2.
  12. दास, सरंगधर (1940). Bikaner: A Report Submitted to the President, All India States Peoples' Conference. के०बी० मेनन, कार्यालय सचिव, ऑल इंडिया स्टेट्स पीप्ल्स कॉन्फ्रेन्स. पृ॰ 49.
  13. Mahim Pratap Singh (2017-06-30). "Anand Pal Singh, gangster Rajasthan can't forget". The Indian Express. अभिगमन तिथि 2017-07-20.
  14. "Ravana Rajput Samaj warns BJP, Cong of using NOTA in Raj polls". Business Standard. 10 November 2013.
  15. "The Man without a smile". Tehelka Magazine, Vol 9, Issue 13. 31 March 2012. मूल से 6 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 25 जून 2020.
  16. "Anandpal's family seeks CBI probe; native village protests killing". Hindustan Times. 25 June 2017.
  17. "Gangster Anand Pal Singh: A man who is making news even after his death". Financial Express. 30 June 2017.
  18. Prakash Bhandari (19 July 2017). "DNA ANALYSIS: Raje again demonstrates political acumen in politically sorting out Anandpal case". DNA.