विकिपीडिया:सत्यापनीयता

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

विकिपीडिया में, सत्यापनीयता का मतलब है कि ज्ञानकोश को पढ़ रहे लोग और संपादन कर रहे लोग यह जाँच सकें कि जानकारी विश्वसनीय स्रोत से आई है। विकिपीडिया मूल शोध को प्रकाशित नहीं करता है। इसकी सामग्री इसके संपादकों की मान्यताओं या अनुभव के आधार पर निर्धारित होने की बजाय पहले से प्रकाशित जानकारी से होती है। भले ही आपको यकीन है कि कुछ सच है, जोड़े जाने से पहले वो सत्यापनीय होनी चाहिये। जब विश्वसनीय स्रोत असहमत हो, विभिन्न सूत्रों का क्या कहना है प्रस्तुत करें, प्रत्येक पक्ष को उसका उचित भार दें और तटस्थ दृष्टिकोण बनाए रखें।

विकिपीडिया के मुख्य स्थान में सभी सामग्री, जिसमें लेख, सूचियों और कैप्शन में सब कुछ शामिल है, सत्यापनीय होनी चाहिये। सभी कोटेशन, और कोई भी सामग्री जिसकी सत्यापनीयता को चुनौती दी गई है या दी जाने की संभावना, में सीधे सामग्री का समर्थन करने वाला इनलाइन सन्दर्भ शामिल होना चाहिये। जिस किसी सामग्री को स्रोत की जरूरत है पर है नहीं, हटाई जा सकती है। कृपया जीवित लोगों के बारे में विवादास्पद सामग्री जो कि स्रोतहीन या अविश्वसनीय स्रोत से स्रोतित है तुरंत निकाल दें।

सत्यापनीयता, मूल शोध नहीं और तटस्थ दृष्टिकोण विकिपीडिया की मुख्य सामग्री नीतियाँ हैं। वे सामग्री का निर्धारण करने के लिए एक साथ काम करते हैं, तो संपादकों को सभी तीनों के मुख्य बिंदुओं को समझना चाहिए।

स्रोत प्रदान करने की जिम्मेदारी[संपादित करें]

नीति लघु पथ:
वि:बोझ
वि:स्रोतहीन

सभी सामग्री सत्यापनीय होनी चाहिये। सत्यापनीयता प्रदर्शित करने का बोझ उस संपादक के साथ है जो सामग्री जोड़ता है या पुनर्स्थापित करता है। जो योगदान का समर्थन करने के लिये विश्वसनीय स्रोत का उद्धरण प्रदान करके तृप्त हो जाता है।[1]

कोई भी सामग्री जिसमें उसका समर्थन करने के लिये विश्वसनीय स्रोत की कमी है, हटाई जानी चाहिये और विश्वसनीय स्रोत के लिए एक इनलाइन संदर्भ के बिना नहीं बदली जानी चाहिए। ये हो या न हो और कितनी जल्दी हो यह सामग्री और लेख के समग्र स्थिति पर निर्भर करता है। कुछ मामलों में, संपादकों को उन्हें संदर्भ प्रदान करने के लिए समय देने के बिना सामग्री हटाने पर आपत्ति हो सकती; अंतरिम कदम के रूप में उद्धरण प्रदान करें का टैग जोड़ने पर विचार करें।[2] टैगिंग या इनलाइन संदर्भ की कमी के कारण सामग्री को हटाने पर, कृपया अपनी चिंता व्यक्त करें कि सामग्री के लिए प्रकाशित विश्वसनीय स्रोत नहीं हो सकता है और इसलिए यह सत्यापनीय नहीं हो सकता है।[3] अगर आपको लगता है कि सामग्री सत्यापनीय है, तो हटाने या टैग करने से पहले आपको खुद इनलाइन संदर्भ प्रदान करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।

विश्वसनीय स्रोत[संपादित करें]

नीति लघु पथ:
वि:विश्वसनीय स्रोत
वि:सन्दर्भ
वि:स्रोत

क्या विश्वसनीय स्रोत के रूप में गिना जाता है[संपादित करें]

विकिपीडिया में शब्द "स्रोत" के तीन अर्थ हैं:

  1. कृति के प्रकार (कुछ उदाहरण में शामिल हैं दस्तावेज़, लेख, या पुस्तक)
  2. कृति के निर्माता (उदाहरण के लिए, लेखक)
  3. कृति के प्रकाशक (उदाहरण के लिए, नेशनल बुक ट्रस्ट)

सभी तीन विश्वसनीयता प्रभावित कर सकते हैं।

विश्वसनीय, तृतीय पक्ष, प्रकाशित स्रोतों पर लेख आधारित करें जिनकी तथ्य की जाँच और सटीकता के लिए प्रतिष्ठा हो। स्रोत सामग्री प्रकाशित की गई होनी चाहिये, जिसके लिये हमारे उद्देश्यों के लिए परिभाषा है "किसी रूप में जनता के लिए उपलब्ध कराया गया है"।[4] अप्रकाशित सामग्री विश्वसनीय नहीं मानी जाती है। सीधे लेख में प्रस्तुत सामग्री का समर्थन करने वाले और किए गए दावों के लिए उपयुक्त स्रोतों का उपयोग करें। किसी भी स्रोत का औचित्य प्रसंग पर निर्भर करता है। सबसे अच्छे स्रोत के पास तथ्यों, कानूनी मुद्दों, साक्ष्य और तर्क की जाँच और विश्लेषण करने के लिये पेशेवर संरचना होती है। इन मुद्दों को दी गई संवीक्षा की मात्रा जितनी ज़्यादा होगी, स्रोत उतना ही अधिक विश्वसनीय होगा। जीवित लोगों या चिकित्सा से संबंधित सामग्री के सोर्सिंग में विशेष रूप से सावधान रहें।

यदि उपलब्ध हैं, शैक्षणिक और सहकर्मी की समीक्षा वाले प्रकाशन आमतौर पर इतिहास, चिकित्सा, और विज्ञान के क्षेत्र में सबसे विश्वसनीय स्रोत हैं।

संपादक विश्वसनीय गैर-शैक्षणिक स्रोतों से सामग्री का उपयोग कर सकते हैं, विशेष रूप से जब यह सम्मानित मुख्यधारा प्रकाशनों में दिखाई देती है। अन्य विश्वसनीय स्रोतों में शामिल हैं:

  • विश्वविद्यालय स्तर की पाठ्यपुस्तक
  • सम्मानित प्रकाशन गृहों द्वारा प्रकाशित पुस्तक
  • पत्रिकाएं
  • दैनिकी
  • मुख्यधारा के अखबार

संपादक इसी मापदंड के अधीन इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का उपयोग कर सकते हैं।

अखबार और पत्रिका ब्लॉग[संपादित करें]

अपने वेब साइटों पर कई अखबार, पत्रिकाएं, और अन्य समाचार संगठन मेजबान कॉलम रखते है, जिसे वो ब्लॉग कहते हैं। ये स्वीकार्य स्रोत हो सकता है अगर लेखक पेशेवर हैं, लेकिन सावधानी के साथ उन का उपयोग करें क्योंकि ब्लॉग समाचार संगठन की सामान्य तथ्य की जाँच प्रक्रिया के अधीन नहीं किया गया हो सकता। अगर समाचार संगठन ब्लॉग में राय रचना प्रकाशित करता है, तो उसे लेखक पर आरोपणीय कर दें (उदाहरण के लिए "राहुल कुमार ने लिखा है ...")। कभी भी स्रोतों के रूप में पाठकों द्वारा छोड़े गए ब्लॉग पोस्ट का उपयोग न करें।

विश्वसनीय स्रोत सूचनापट[संपादित करें]

विशेष कथन के लिए विशिष्ट स्रोत की विश्वसनीयता पर चर्चा करने के लिए, अंग्रेज़ी विकिपीडिया के इस सूचनापट पर परामर्श करें, जो विशेष मामलों के लिए इस नीति को लागू करना चाहता है।

अभिगम्यता[संपादित करें]

स्रोतों तक पहुँच[संपादित करें]

कुछ विश्वसनीय स्रोतों पर आसानी से नहीं पहुँचा जा सकता है। उदाहरण के लिए, किसी ऑनलाइन स्रोत को भुगतान की आवश्यकता हो सकती है और कोई प्रिंट स्रोत केवल विश्वविद्यालय पुस्तकालयों या अन्य ऑफ़लाइन स्थानों में उपलब्ध हो सकता है। उनके पास पहुँचना कठिन है या उपयोग करना महँगा हैं सिर्फ इसलिए स्रोतों को अस्वीकार न करें।

गैर-हिन्दी स्रोत[संपादित करें]

गैर-हिन्दी स्रोतों का उद्धरण देना[संपादित करें]

गैर हिन्दी स्रोतों के उद्धरण की अनुमति दी जाती है। बहरहाल, क्योंकि यह हिन्दी भाषा की विकिपीडिया है, हिन्दी भाषा के स्रोतों को गैर हिन्दी स्रोतों के मुकाबले प्राथमिकता दी जाती है जब भी बराबर की गुणवत्ता और प्रासंगिकता के हिन्दी स्रोत उपलब्ध हैं।

अन्य मुद्दे[संपादित करें]

सत्यापनीयता शामिल किए जाने की गारंटी नहीं है[संपादित करें]

हालांकि लेख में शामिल की जाने वाली जानकारी सत्यापनीय होनी चाहिये, इसका मतलब यह नहीं है कि सारी सत्यापनीय जानकारी लेख में शामिल की जानी चाहिये। आम सहमति निर्धारित कर सकती है कि कुछ निश्चित जानकारी लेख में सुधार नहीं करती है और यह लोपित कर देनी चाहिये या इसके बजाय अलग लेख में प्रस्तुत की जानी चाहिए। शामिल किए जाने के लिये आम सहमति प्राप्त करने की जिम्मेदारी विवादित सामग्री को शामिल करने की मांग करने वालों पर है।

असाधारण दावों के लिये असाधारण स्रोतों की आवश्यकता[संपादित करें]

नीति लघु पथ:
वि:असाधारण

कोई असाधारण दावे के लिये कई उच्च गुणवत्ता वाले स्रोतों की आवश्यकता है। जैसे:

  • कई मुख्यधारा स्रोतों द्वारा कवर नहीं की गई आश्चर्य की बात या जाहिरा तौर पर महत्वपूर्ण दावे;
  • चुनौती दिये गए दावे जो प्राथमिक या स्वयं प्रकाशित स्रोतों से विशुद्ध रूप से समर्थित है या फिर उनसे जिनका हित से स्पष्ट संघर्ष है;
  • किसी बयान की रिपोर्ट किसी के द्वारा जो अजीब आचरण लगती है, या किसी हित के खिलाफ जिसका पहले बचाव किया था;
  • प्रासंगिक समुदाय के भीतर प्रचलित दृश्य का खण्डन कर रहे दावे, या जो काफी मुख्यधारा मान्यताओं को बदल देगा, विशेष रूप से विज्ञान, चिकित्सा, इतिहास, राजनीति, और जीवित लोगों की जीवनी में। यह विशेष रूप से सच है जब समर्थक कहें कि उन्हें चुप करने की साजिश चल रही है।

टिप्पणियाँ[संपादित करें]

  1. जब कोई संपादक किसी स्रोत को प्रदान करता है, जो वह मानता या मानती ​​है, अच्छी नीयत में, कि पर्याप्त है, फिर बाद में सामग्री को हटाने वाले संपादक का ये दायित्व है कि वो विकिपीडिया से इसके बहिष्कार का औचित्य साबित करने वाली विशिष्ट समस्याओं को व्यक्त करें (उदाहरण के लिए, एक छोटी सी बात पर अनुचित जोर, अज्ञानकोशीय सामग्री, आदि)। फिर सभी संपादकों से उम्मीद की जाती है कि वो आम सहमती हासिल करने में मदद करें और सामग्री वापस जोड़े जाने से पहले पाठ या सोर्सिंग के साथ कोई भी समस्या को सही करे।
  2. ये हो सकता है कि लेख में इतने कम उद्धरण हो कि विशिष्ट उद्धरण प्रदान करें का टैग जोड़ना अव्यावहारिक हो, जिस मामले में अनुभाग को {{unreferencedsection}} से टैग करे या {{refimprove}} के साथ या पूरे लेख को {{unreferenced}} के साथ। विवादित श्रेणी या बहुविकल्पी पृष्ठ के मामले में, वार्ता पृष्ठ पर संदर्भ के लिये पूछने पर विचार करें।
  3. टैगिंग या ऐसी सामग्री हटाते समय, कृपया ध्यान रखें इस तरह के संपादन आसानी से गलत समझे जा सकते है। कुछ संपादक दूसरों पर आपत्ति करते है जो जीर्ण, अक्सर और स्रोतहीन जानकारी को बड़े पैमाने पर विलोपन करते है, विशेष रूप से जब सामग्री में सुधार करने के अन्य प्रयास न हो। केवल एक विशेष दृष्टिकोण की सामग्री पर ध्यान केंद्रित नहीं करें, क्योंकि ऐसे आप पर आरोप लग सकते है कि आप वि:निदृ का उल्लंघन कर रहे है। इसके अलावा ये देखें कि सामग्री पृष्ठ पर किसी और उद्धरण से समर्थित तो नहीं है। इन सब कारणों से, स्पष्ट रूप से संवाद करने की सलाह दी जाती है कि आपके पास कारण है कि प्रश्नास्पद सामग्री सत्यापित नहीं की जा सकती है।
  4. इसमें इस तरह की सामग्री शामिल है:- सार्वजनिक रूप से सुलभ अभिलेखागार में दस्तावेज, स्मारकों पर शिलालेख, समाधि, आदि जो किसी को भी देखने के लिए उपलब्ध हैं।