विकिपीडिया:मूल शोध नहीं

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
Nutshell.png इस लेख का सार: विकिपीडिया मूल विचार को प्रकाशित नहीं करता है: विकिपीडिया में सभी सामग्री एक विश्वसनीय, प्रकाशित स्रोत के उपर आरोपणीय होनी चाहिए। लेख में प्रकाशित सामग्री का कैसा भी नया विश्लेषण या संश्लेषण नहीं हो सकता जो किसी निष्कर्ष तक पहुँचता है या संकेत करता है जो स्रोतों ने स्पष्ट रूप से खुद नहीं कहा।

विकिपीडिया के लेखों में मूल शोध शामिल नहीं होना चाहिये। वाक्यांश "मूल शोध" ऐसी सामाग्री जैसे तथ्य, आरोपों और विचारों के लिये प्रयोग होता है जिसके लिए कोई विश्वसनीय, प्रकाशित स्रोत मौजूद नहीं हैं।[1] इसमें प्रकाशित सामग्री का कैसा भी विश्लेषण या संश्लेषण शामिल है जो किसी निष्कर्ष पर पहुँचता है या संकेत करता है जो स्रोतों ने नहीं कहा है। आप मूल शोध नहीं जोड़ रहे है प्रदर्शित करने के लिये आपको प्रकाशित विश्वसनीय स्रोत उपलब्ध करने के लिये सक्षम होना चाहिये जो सीधे लेख के विषय से संबंधित है और सीधे प्रस्तुत की जा रही सामग्री का समर्थन करता हैं। (मूल शोध नहीं की यह नीति वार्ता पृष्ठों के लिए लागू नहीं होती।)

मूल शोध का निषेध होने का मतलब है कि लेख में जोड़ी गई सभी सामग्री विश्वसनीय प्रकाशित स्रोत पर आरोपणीय हो, चाहे वास्तव में आरोपित न हो।[1] सत्यापनीय नीति कहती है कि सभी कोटेशन के लिए विश्वसनीय स्रोत का इनलाइन उद्धरण प्रदान किया जाना चाहिए और कुछ भी जिसको चुनौती दी है या दी जाने की संभावना हो—लेकिन स्रोत उन सामग्री के लिए भी मौजूद होना चाहिए जिसको चुनौती नहीं दी गई हो। उदाहरण के लिए: विवरण "पेरिस फ्रांस की राजधानी है" के लिये कोई स्रोत की जरूरत नहीं है, क्योंकि कोई इस पर आपत्ति करेगा इसकी कम ही संभावना है और हम जानते है कि इसके लिये स्रोत मौजूद है। विवरण आरोपणीय है भले ही आरोपित नहीं है।

सामग्री को विश्वसनीय स्रोतों पर आरोपित करने की आवश्यकता के बावजूद, आपको उनकी साहित्यिक चोरी या उनके कॉपीराइट का उल्लंघन नहीं करना चाहिए। काफी हद तक स्रोत की सामग्री के अर्थ को बरकरार रखते हुए लेख को अपने ही शब्दों में लिखा जाना चाहिए।

स्रोतों का प्रयोग[संपादित करें]

शोध जिसमें इस और अन्य सामग्री की नीतियों के प्रावधानों के भीतर मौजूदा स्रोतों से सामग्री का संग्रह और आयोजन शामिल हो एक विश्वकोश लिखने के लिए आधारभूत है। सबसे अच्छा तरीका है विषय पर सबसे विश्वसनीय स्रोतों का शोध करना और उनका कहना अपने ही शब्दों में संक्षेप में प्रस्तुत करना। लेख में हर कथन स्रोत पर आरोपणीय हो जिसने उसे स्पष्ट रूप से कहा है। स्रोत सामग्री ध्यान से सारांशित या उसका अर्थ या निहितार्थ को बदले बिना अलग ढंग से व्यक्त की जानी चाहिए। ध्यान रखे कि स्रोतों में व्यक्त किये गए से परे न जाया जाए, या स्रोत के इरादे से असंगत तरीके से उन्हें इस्तेमाल करें जैसे प्रसंग से बाहर सामग्री का उपयोग करना। संक्षेप में, स्रोतों से चिपके रहे।

अगर कोई विश्वसनीय तृतीय पक्ष स्रोत विषय पर नहीं पाया जा सकता है, तो विकिपीडिया पर इसके बारे में लेख नहीं होना चाहिए। अगर आप कोई नई खोज करते है, विकिपीडिया ऐसी खोज की घोषणा करने की जगह नहीं है।

प्रकाशित सामग्री का संश्लेषण[संपादित करें]

नीति लघु पथ:
वि:संश्लेषण

किसी निष्कर्ष तक पहुँचने के लिये या संकेत करने के लिए कई स्रोतों से सामग्री का संयोजन न करें जो स्पष्ट रूप से स्रोतों में से किसी ने नहीं कहा। इसी तरह, स्पष्ट रूप से स्रोत में नहीं कहे गए निष्कर्ष तक पहुंचने या संकेत करने के लिए स्रोत के विभिन्न भागों का संयोजन न करें। अगर एक विश्वसनीय स्रोत कहता है क और दूसरा कहता है ख तो ग के उपर संकेत करने के लिए दोनों को न जोड़े जिसका दोनों स्रोतों में से किसी में उल्लेख नहीं है। यह एक नए निष्कर्ष पर संकेत करने के लिए प्रकाशित सामग्री का संश्लेषण होगा जो कि मूल शोध है

  • मूल संश्लेषण का एक सरल उदाहरण:

N संयुक्त राष्ट्र का कथित उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा बनाए रखना है, लेकिन इसके निर्माण के बाद से दुनिया भर में 160 युद्ध हुए है।

  • वाक्य के दोनों हिस्से विश्वसनीय रूप से स्रोतित किये गए हो सकते है, लेकिन यहाँ वे संयुक्त राष्ट्र विश्व शांति बनाए रखने में नाकाम रहा है कि संकेत करने के लिए संयोजित किये गए है। अगर किसी विश्वसनीय स्रोत ने इस तरह से सामग्री को संयोजित नहीं किया है, तो यह मूल शोध है। एक ही सामग्री का उपयोग विपरीत संकेत करने के लिए उपयोग एक साधारण बात होगी। ये व्याख्या करता है कि जब स्रोतों का पालन नहीं हो तो कितनी आसानी से सामग्री का हेरफेर किया जा सकता है:

N संयुक्त राष्ट्र का कथित उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा बनाए रखना है और इसके निर्माण के बाद से दुनिया भर में केवल 160 युद्ध हुए है।

अनुवाद और प्रतिलेखन[संपादित करें]

ईमानदारी से स्रोत सामग्री का अनुवाद हिन्दी में करना या ऑडियो या वीडियो स्रोतों में बोले गए शब्दों को उतारना मूल शोध नहीं माना जाता है।

नियमित गणना[संपादित करें]

नियमित गणनाओं की गिनती मूल शोध के रूप में नहीं की जाती, अगर संपादकों के बीच आम सहमति है कि गणना का परिणाम स्पष्ट, सही और स्रोतों का एक सार्थक प्रतिबिंब है। बुनियादी अंकगणित जैसे संख्या जोड़ना, इकाइयाँ परिवर्तित करना या किसी व्यक्ति की उम्र की गणना करना नियमित गणना के कुछ उदाहरण है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "मौजूद" से समुदाय का मतलब है कि विश्वसनीय स्रोत प्रकाशित किया गया है और अभी भी मौजूद है—दुनिया में कहीं भी, किसी भी भाषा में, चाहे वो इंटरनेट पर उपलब्ध हो या नहीं—भले ही वर्तमान में लेख में कोई स्रोत नामित नहीं है—लेख जिनमें फिलहाल किसी भी प्रकार का स्रोत नामित नहीं है इस नीति के साथ पूरी तरह अनुरूप हो सकते है जब तक कि एक उचित उम्मीद है कि पूरी सामग्री प्रकाशित, विश्वसनीय स्रोत द्वारा समर्थित है।