रसिया

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

रसिया ब्रज क्षेत्र मे होली पर गए जाने वाले लोक गीतों का एक प्रकार है जो कि मुख्यतः भगवान श्रीकृष्ण व राधा जी के प्रेम पर आधारित होते हैं।[1]

शाब्दिक अर्थ[संपादित करें]

प्रेमी, कामुक व व्यसनी व्यक्ति, गाने बजाने का शौकीन व्यक्ति तथा होली के अवसर पर गया जाने वाला हास परिहास मूलक गीत।[2]

प्रयोग[संपादित करें]

यद्यपि जमींदारी प्रथा के अंत के साथ कई लोक परम्पराओ का भी अंत हो गया परंतु बुंदेलखंड मे फाग व ब्रज मे रसिया आज भी होली के अवसर पर गया जाता है।[3] रसिया का प्रयोग आम नौटंकी मे भी कलाकार जरूरत के अनुसार करते है।[4]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ सूत्र[संपादित करें]

  1. वर्मा, श्याम बहादुर (2010). Prabhat Brihat Hindi Shabdakosh (vol-2). Prabhat Prakashan. पृ॰ 2092. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788173157707.
  2. बहरी, हरदेव (1990). हिन्दी शब्दकोश. Rajpal & Sons. पृ॰ ६९५. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788170280866. मूल से 4 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 8 जनवरी 2016.
  3. त्यागी, रवीन्द्रनाथ (2007). कबूतर, कौवे और तोते (द्वितीय संस्करण). भारतीय ज्ञानपीठ. पपृ॰ १३२, १३३. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788126313938. मूल से 4 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 8 जनवरी 2016.
  4. डाकू. सुबोध पॉकेट बुक्स. पृ॰ २८. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9789380402185. मूल से 4 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 8 जनवरी 2016. |firstlast1= missing |lastlast1= in first1 (मदद)