साँसिया

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

साँसिया अथवा सांसी खानबदोश जनजाति है जो मूल रूप से राजस्थान की है। मध्यकालीन भारत के समय में उनका कुछ बिखराव हुआ जिससे अब यह जनजाति राजस्थान के अतिरिक्त हरियाणा और पंजाब में भी पायी जाती है। उनकी भाषा को साँसी बोली अथवा साँसी अथवा केवल भिलकी के नाम से जाना जाता है यह हिन्द-आर्य भाषाओं में सबसे अधिक लुप्तप्राय भाषा है जिसके लगभग 60,000 (वर्ष 2002 के अनुसार) जानने वाले हैं।[1][2]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Ethnologue.com: Ethnologue report for Sansi". मूल से 10 अक्तूबर 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 4 नवंबर 2018.
  2. "Language in India: Endangered Language: A Case Study of Sansiboli". मूल से 27 अक्तूबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 4 नवंबर 2018.