अहीर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
अहीर

Veerahir.jpg

भारतीय तोपखानों रेजीमेंट(वीर अहीर) 1945
धर्म हिन्दू
भाषा हिन्द-आर्य भाषाएँ
वासित राज्य भारतीय उपमहाद्वीप, मुख्यतः उत्तर भारत, महाराष्ट्र,गुजरात आदि राज्यों

अहीर प्रमुखतः एक भारतीय जाति समूह है,जिसके सदस्यों को यादव समुदाय के नाम से भी पहचाना जाता है तथा अहीर व यादव या राव साहब[1][2] शब्दों को एक दूसरे का पर्यायवाची समझा जाता है।[3] अहीरों को एक जाति, वर्ण, आदिम जाति या नस्ल के रूप मे वर्णित किया जाता है, जिन्होने भारत व नेपाल के कई हिस्सों पर राज किया है।[4]

शब्दार्थ[संपादित करें]

अमरकोष मे गोप शब्द के अर्थ गोपाल, गोसंख्य, गोधुक, आभीर, वल्लब, ग्वाला व अहीर आदि बताये गए हैं।[5]

प्राकृत-हिन्दी शब्दकोश के अनुसार भी अहिर, अहीर, आभीर व ग्वाला समानार्थी शब्द हैं।[6] हिन्दी क्षेत्रों में अहीर, ग्वाला तथा यादव शब्द प्रायः परस्पर समानार्थी माने जाते हैं।.[7][8] वे कई अन्य नामो से भी जाने जाते हैं, जैसे कि गवली,[9] घोसी या घोषी अहीर,[10] तथा बुंदेलखंड मे दौवा अहीर।[11]

पौराणिक आभीर जाति से उद्भव[संपादित करें]

तमिल भाषा के एक- दो विद्वानों को छोडकर शेष सभी भारतीय विद्वान इस बात से सहमत हैं कि अहीर शब्द संस्कृत के आभीर शब्द का तद्भव रूप है।[12]

यादव वंश प्रमुख रूप से आभीर (वर्तमान अहीर),[12] अंधक, व्रष्णि तथा सत्वत नामक समुदायों से मिलकर बना था, जो कि भगवान कृष्ण के उपासक थे। [13][14] आभीरों को म्लेच्छ देश में निवास करने के कारण अन्य स्थानीय आदिम जातियों के साथ म्लेच्छों की कोटि में रखा जाता था तथा वृत्य क्षत्रिय कहा जाता था।[15] महाभारत में भी युद्धप्रिय, घुमक्कड़, गोपाल अभीरों का उल्लेख मिलता है।[16] आभीरों का उल्लेख अनेक शिलालेखों में पाया जाता है। शक राजाओं की सेनाओं में ये लोग सेनापति के पद पर नियुक्त थे। आभीर राजा ईश्वरसेन का उल्लेख नासिक के एक शिलालेख में मिलता है। ईस्वी सन्‌ की चौथी शताब्दी तक अभीरों का राज्य रहा। अंततोगत्वा कुछ अभीर राजपूत जाति में अंतर्मुक्त हुये व कुछ अहीर कहलाए, जिन्हें राजपूतों सा ही योद्धा माना गया।[17]

आजकल की अहीर जाति ही प्राचीन काल के आभीर हैं।[18][19] सौराष्ट्र के क्षत्रप शिलालेखों में भी प्रायः आभीरों का वर्णन मिलता है। पुराणों व बृहतसंहिता के अनुसार समुद्रगुप्त काल में भी दक्षिण में आभीरों का निवास था।[20] उसके बाद यह जाति भारत के अन्य हिस्सों में भी बस गयी। मध्य प्रदेश के अहिरवाड़ा को भी आभीरों ने संभवतः बाद में ही विकसित किया। राजस्थान में आभीरों के निवास का प्रमाण जोधपुर शिलालेख (संवत 918) में मिलता है, जिसके अनुसार आभीर अपने हिंसक दुराचरण के कारण निकटवर्ती इलाकों के निवासियों के लिए आतंक बने हुये थे।[21]

यद्यपि पुराणों में वर्णित अभीरों की विस्तृत संप्रभुता 6ठवीं शताब्दी तक नहीं टिक सकी, परंतु बाद के समय में भी आभीर राजकुमारों का वर्णन मिलता है, हेमचन्द्र के "दयाश्रय काव्य" में जूनागढ़ के निकट वनथली के चूड़ासम राजकुमार गृहरिपु को यादव व आभीर कहा गया है। भाटों की श्रुतियों व लोक कथाओं में आज भी चूड़ासम "अहीर राणा" कहे जाते हैं। अंबेरी के शिलालेख में सिंघण के ब्राह्मण सेनापति खोलेश्वर द्वारा आभीर राजा के विनाश का वर्णन तथा खानदेश में पाये गए गवली (ग्वाला) राज के प्राचीन अवशेष जिन्हें पुरातात्विक रूप से देवगिरि के यादवों के शासन काल का माना गया है, यह सभी प्रमाण इस तथ्य को बल देते हैं कि आभीर यादवों से संबन्धित थे। आज तक अहीरों में यदुवंशी अहीर नामक उप जाति का पाया जाना भी इसकी पुष्टि करता है।[22]

इतिहास[संपादित करें]

अहीरों की ऐतिहासिक उत्पत्ति को लेकर विभिन्न इतिहासकर एकमत नहीं हैं। परंतु महाभारत या श्री मदभागवत गीता के युग मे भी यादवों के आस्तित्व की अनुभूति होती है तथा उस युग मे भी इन्हें आभीर,अहीर, गोप या ग्वाला ही कहा जाता था।[23] कुछ विद्वान इन्हे भारत मे आर्यों से पहले आया हुआ बताते हैं, परंतु शारीरिक गठन के अनुसार इन्हें आर्य माना जाता है।[24] पौराणिक दृष्टि से, अहीर या आभीर यदुवंशी राजा आहुक के वंशज है।[25] शक्ति संगम तंत्र मे उल्लेख मिलता है कि राजा ययाति के दो पत्नियाँ थीं-देवयानी व शर्मिष्ठा। देवयानी से यदु व तुर्वशू नामक पुत्र हुये। यदु के वंशज यादव कहलाए। यदुवंशीय भीम सात्वत के वृष्णि आदि चार पुत्र हुये व इनहि की कई पीढ़ियों बाद राजा आहुक हुये, जिनके वंशज आभीर या अहीर कहलाए।[26]

आहुक वंशात समुद्भूता आभीरा इति प्रकीर्तिता। (शक्ति संगम तंत्र, पृष्ठ 164)[27]

इस पंक्ति से स्पष्ट होता है कि यादव व आभीर मूलतः एक ही वंश के क्षत्रिय थे तथा "हरिवंश पुराण" मे भी इस तथ्य की पुष्टि होती है।[28]

भागवत में भी वसुदेव ने आभीर पति नन्द को अपना भाई कहकर संबोधित किया है व श्रीक़ृष्ण ने नन्द को मथुरा से विदा करते समय गोकुलवासियों को संदेश देते हुये उपनन्द, वृषभान आदि अहीरों को अपना सजातीय कह कर संबोधित किया है। वर्तमान अहीर भी स्वयं को यदुवंशी आहुक की संतान मानते हैं।[29]

ऐतिहासिक दृष्टिकोण से, अहीरों ने 108 A॰D॰ मे मध्य भारत मे स्थित 'अहीर बाटक नगर' या 'अहीरोरा' व उत्तर प्रदेश के झाँसी जिले मे अहिरवाड़ा की नीव रखी थी। रुद्रमूर्ति नामक अहीर अहिरवाड़ा का सेनापति था जो कालांतर मे राजा बना। माधुरीपुत्र, ईश्वरसेन व शिवदत्त इस बंश के मशहूर राजा हुये, जो बाद मे यादव राजपूतो मे सम्मिलित हो गये।[1]

कोफ (कोफ 1990,73-74) के अनुसार - अहीर प्राचीन गोपालक परंपरा वाली कृषक जाति है जिन्होने अपने पारंपरिक मूल्यों को सदा राजपूत प्रथा के अनुरूप व्यक्त किया परंतु उपलब्धियों के मुक़ाबले वंशावली को ज्यादा महत्व मिलने के कारण उन्हे "कल्पित या स्वघोषित राजपूत" ही माना गया।[30] थापर के अनुसार पूर्व कालीन इतिहास में 10वीं शताब्दी तक प्रतिहार शिलालेखों में अहीर-आभीर समुदाय को पश्चिम भारत के लिए "एक संकट जिसका निराकरण आवश्यक है" बताया गया।[30]

मेगास्थनीज के वृतांत व महाभारत के विस्तृत अध्ययन के बाद रूबेन इस निष्कर्ष पर पहुँचे कि " भगवान कृष्ण एक गोपालक नायक थे तथा गोपालकों की जाति अहीर ही कृष्ण के असली वंशज हैं, न कि कोई और राजवंश।"[31]

वर्गीकरण[संपादित करें]

प्रमुख रूप से अहीरो के तीन सामाजिक वर्ग है- यदुवंशी, नंदवंशीग्वालवंशी। इनमे वंशोत्पत्ति को लेकर बिभाजन है। यदुवंशी स्वयं को महराजा यदु का वंशज बताते है। नंदवंशी नंद के वंशज हैं व ग्वालवंशी प्रभु कृष्ण के ग्वाल सखाओ से संबन्धित बताए जाते है।[1] एक अन्य दंतकथा के अनुसार भगवान कृष्ण जब असुरो का वध करने निकलते है तब माता यशोदा उन्हे टोकती है, उत्तर देते देते कृष्ण अपने बालमित्रो सहित यमुना नदी पार कर जाते है। कृष्ण के साथ असुर वध हेतु यमुना पार जाने वाले यह बालसखा कालांतर मे अहीर नंदवंशी कहलाए।[32]

अहीरों का बहू संख्यक कृषक संवर्ग स्वयं को ग्वाल अहीरों से श्रेष्ठ व जाट, राजपूत, गुर्जर आदि कृषक वर्गों के बराबर का मानता है। ग्वाल अहीरों का प्रमुख व्यवसाय पशुपालन व दुग्ध-व्यापार है तथा यह वर्ग उत्तर प्रदेश की सीमाओं व हरियाणा के फ़रीदाबाद व गुड़गाँव जनपदों में पाया जाता है। प्रारम्भ में तीव्र रहा यह विभेद अब कम हो चला है।[33] बनारस के ग्वाल अहीरों को 'सरदार' उपनाम से संबोधित किया जाता है।[34][35]

मानव वैज्ञानिक कुमार सुरेश सिंह के अनुसार, अहीर समुदाय लगभग 64 बहिर्विवाही उपकुलों मे विभाजित है। कुछ उपकुल इस प्रकार है- जग्दोलिया, चित्तोसिया, सुनारिया, विछवाल, जाजम, ढडवाल, खैरवाल, डीवा, मोटन, फूडोतिया, कोसलिया, खतोड़िया, भकुलान, भाकरिया, अफरेया, काकलीय, टाटला, जाजड़िया, दोधड़, निर्वाण, सतोरिया, लोचुगा, चौरा, कसेरा, लांबा, खोड़ा, खापरीय, टीकला तथा खोसिया। प्रत्येक कुल का एक कुलदेवता है। मजबूत विरासत व मूल रूप से सैन्य पृष्ठभूमि से बाद मे कृषक चरवाहा बनी अहीर जाति स्वयं को सामाजिक पदानुक्रम मे ब्राह्मण व राजपूतो से निकटतम बाद का व जाटो के बराबर का मानती है। अन्य जातियाँ भी इन्हे महत्वपूर्ण समुदाय का मानती है।[1]

योद्धा जाति के रूप में[संपादित करें]

अहीर ऐतिहासिक पृष्ठभूमि से एक लड़ाकू जाति है।[36] 1920 मे ब्रिटिश शासन ने अहीरों को एक "कृषक जाति" के रूप मे वर्गीकृत किया था जो कि उस कTल में "लड़ाकू जाति" का पर्याय थी। ,[37] वे 1898 से सेना में भर्ती होते रहे थे।[38] तब ब्रिटिश सरकार ने अहीरों की चार कंपनियाँ बनायीं थी, इनमें से दो 95वीं रसेल इंफेंटरी में थीं।[39] 1962 के भारत चीन युद्ध के दौरान 13 कुमायूं रेजीमेंट की अहीर कंपनी द्वारा रेजंगला का मोर्चा भारतीय मीडिया में सरहनीय रहा है। .[40][41] वे भारतीय सेना की राजपूत रेजीमेंट में भी भागीदार हैं।[42] भारतीय हथियार बंद सेना में आज तक बख्तरबंद कोरों व तोपखानों में अहीरों की एकल टुकड़ियाँ विद्यमान हैं।[43]

इन्हे भी देखे[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. राजस्थान, भाग-1, कुमार सुरेश सिंह Rajasthan, Anthropological Survey of India, 1998, आईएसबीएन-9788171547661, पृष्ठ-44,45
  2. Bhārgava, Gopāla (2011). Hariyāṇā kī kalā evaṃ saṃskr̥ti. Dillī: Kalpaza Pablikeśansa. पृ॰ 168. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788178358895. अभिगमन तिथि 6 मई 2016.
  3. Garg, Gaṅga Ram, संपा॰ (1992). Encyclopaedia of the Hindu world. 1. Concept Publishing Company. पपृ॰ 113–114. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-7022-374-0. अभिगमन तिथि 2012-12-03.
  4. Majupuria, Trilok Chandra; Majupuria, Indra (1979). Peerless Nepal: Covering Broad Spectrum of the Nepalese Life in Its Right Perspective. M. Devi. पृ॰ 20.
  5. Amarkosha-Amarsingh Virachit ( Vishwanath Jha) Sampurna, Pt. Vishwanath Jha, Motilal Banarsidass Publishe, 2007, पृष्ठ- 254, आईएसबीएन- 9788120826205
  6. Haragovindadāsa Trikamacanda Seṭha (1963). Prakrit-Sanskrit-Hindi dictionary. Motilal Banarsidass Publ. पृ॰ ९८. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788120802391. अभिगमन तिथि 17 फरवरी 2016.
  7. Susan Bayly (2001). Caste, Society and Politics in India from the Eighteenth Century to the Modern Age. Cambridge University Press. पृ॰ 383. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-521-79842-6. अभिगमन तिथि 7 October 2011. Quote: Ahir: Caste title of North Indian non-elite 'peasant'-pastoralists, known also as Yadav."
  8. Swartzberg, Leon (1979). The north Indian peasant goes to market. Delhi: Motilal Banarsidass. पृ॰ 11. अभिगमन तिथि 7 October 2011. Quote: "As far back as is known, the Yadava were called Gowalla (or one of its variants, Goalla, Goyalla, Gopa, Goala), a name derived from Hindi gai or go, which means "cow" and walla which is roughly translated as 'he who does'."
  9. Nijjar, B. S. (2008). Origins and History of Jats and Other Allied Nomadic Tribes of India: 900 B.C.-1947 A.D. Atlantic Publishers & Dist,. पृ॰ 188. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788126909087. अभिगमन तिथि 2012-12-03.
  10. Nijjar, B. S. (2008). Origins and History of Jats and Other Allied Nomadic Tribes of India: 900 B.C.-1947 A.D. Atlantic Publishers & Dist,. पृ॰ 189. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788126909087. अभिगमन तिथि 2012-12-03.
  11. Ravindra K. Jain (2002). Between History and Legend: Status and Power in Bundelkhand. Orient Blackswan. पृ॰ 30. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788125021940.
  12. Kripal Chandra Yadav (1967). Ahīravāla kā itihāsa, madhyayuga se 1947 Ī. taka. the University of California. अभिगमन तिथि 17 फरवरी 2016.
  13. Society and religion: from Rugveda to Puranas By Jayant Gadkari, URL((http://books.google.co.in/books?id=Zst_7qaatp8C&pg=PA184))
  14. While discussing about the Puranic accounts, Hem Chandra Raychaudhuri used the term, Yadava clans for the Andhakas, the Vrishnis and the Kukuras (Raychaudhuri, Hemchandra (1972). Political History of Ancient India, Calcutta: University of Calcutta, p.447fn3). But Ramakrishna Gopal Bhandarkar used the term Yadava tribes for the Satvatas, the Andhakas and the Vrishnis (Bhandarkar, R. G. (1995). Vaisnavism, Saivism and Minor Religious Systems, Delhi: Asian Educational Service, ISBN 978-81-206-0122-2, p.11).
  15. रोमिल थापर कृत Ancient_Indian_Social_History:_Some_Interpretations, पृष्ट-149, ओरिएंट ब्लैकस्वान प्रकाशन, 1978, आइ॰एस॰बी॰एन॰- 9788125008088
  16. Chandrakanta (2007). Katha Satisar. Rajkamal Prakashan Pvt Ltd. पृ॰ 55. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788126713615. अभिगमन तिथि 28 फरवरी 2016.
  17. An̐dhere_ke_juganū रांगेय राघव कृत, Publisher-Śabdakāra, 1974, Original from the University of California
  18. डॉ॰ पी॰ जयरामन (2005). Bhakti ke Aayaam. Vani Prakashan. पपृ॰ 44, 45, 46. अभिगमन तिथि 28 फरवरी 2016.
  19. व्यास, श्यामा प्रसाद (1986). राजस्थान के अभिलेखों का सांस्कृतिक अध्ययन, 700 Ī.-1200 Ī. राजस्थान ग्रन्थागार. पृ॰ 118. अभिगमन तिथि 12 जून 2016.
  20. Tripathi, Rama Shankar (1942). History of ancient India (अंग्रेज़ी में) (1st. ed., repr. संस्करण). Delhi: Motinal Banarsidass. पृ॰ 244. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788120800182. अभिगमन तिथि 4 April 2016.
  21. Tej Ram Sharma (1989). A Political History of the Imperial Guptas: From Gupta to Skandagupta. Concept Publishing Company. पृ॰ 87. अभिगमन तिथि 7 September 2014.
  22. Enthoven, R॰E॰ (1990). The Tribes and Castes of Bombay: Ill, Volume 1. Asian Educational Services. पृ॰ 25. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788120606302. अभिगमन तिथि 29 अप्रैल 2016.
  23. मिथिला के यादव, मीनक्षी सिन्हा, महाराजा लक्ष्मीश्वर सिंह शोध समिति, 1993
  24. भाषा भूगोल व सांस्कृतिक चेतना, विजय चन्द्र, विद्या प्रकाशन, 1996 मूल प्रकाशक: द यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया, पृष्ठ 26
  25. मित्तल, द्वारका प्रसाद (1970). हिन्दी साहित्य में राधा. जवाहर पुस्तकालय. अभिगमन तिथि 19 जून 2016.
  26. भाषा भूगोल व सांस्कृतिक चेतना, Vijaya Candra Publisher Vidyā Prakāśana, 1996 Original from the University of California, पृष्ठ 28
  27. भाषा भूगोल व सांस्कृतिक चेतना, Vijaya Candra Publisher Vidyā Prakāśana, 1996 Original from the University of California, पृष्ठ 28,29,30
  28. Agrawal, Ramnarayan (1981). Braja kā rāsa raṅgamc̃a. the University of Michigan: Neśanala. अभिगमन तिथि 19 अप्रैल 2016.
  29. मित्तल, द्वारका प्रसाद (1970). हिन्दी साहित्य में राधा. जवाहर पुस्तकालय. अभिगमन तिथि 31 जुलाई 2016.
  30. Hiltebeitel, Alf (1999). Rethinking India's oral and classical epics Draupadī among Rajputs, Muslims, and Dalits [भारत के मौखिक व शास्त्रीय महाकाव्यों का पुनर्विचार]. Chicago: University of Chicago Press. पृ॰ 133. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780226340555. अभिगमन तिथि 6 अगस्त 2016.
  31. Dahlaquist, Allan (1996). Megasthenes and Indian Religion. Motilal Banarsidass Publ. पृ॰ 85. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788120813236. अभिगमन तिथि 11 अक्तूबर 2016.
  32. People of India: Maharashtra, Part 1 by Kumar Suresh Singh, पृष्ठ-58, आईएसबीएन=9788179911006
  33. Bhārgava, Gopāla (2011). Hariyāṇā kī kalā evaṃ saṃskr̥ti. Dillī: Kalpaza Pablikeśansa. पृ॰ 194. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788178358895. अभिगमन तिथि 6 मई 2016.
  34. Mukharjī, Viśvanātha (2009). Banā rahe Banārasa (Punarnavā saṃskaraṇa. संस्करण). Nayī Dillī: Bhāratīya Jñānapīṭha. पपृ॰ 88, 110. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788126317134.
  35. Siṃha, Dilīpa (2007). Bhāshā, sāhitya aura saṃskr̥ti-śikshaṇa (1. saṃskaraṇa. संस्करण). Nayī Dillī: Vāṇī Prakāśana. पृ॰ 151. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788181436191. अभिगमन तिथि 6 मई 2016.
  36. K. S. Singh, B. K. Lavania (1998). Rajasthan, Part 1. Popular Prakashan. पृ॰ 45. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788171547661.
  37. Rajit K. Mazumder (2003). The Indian army and the making of Punjab. Orient Blackswan. पृ॰ 105. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-7824-059-6. अभिगमन तिथि 2011-03-28.
  38. Pinch, William R. (1996). Peasants and monks in British India. University of California Press. पृ॰ 90. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-520-20061-6. अभिगमन तिथि 2012-02-22.
  39. M. S. A. Rao (1 May 1979). Social movements and social transformation: a study of two backward classes movements in India. Macmillan. अभिगमन तिथि 2011-03-28.
  40. Guruswamy, Mohan (20 November 2012). "Don't forget the heroes of Rezang La". The Hindu. अभिगमन तिथि 2014-07-13.
  41. "'Nobody believed we had killed so many Chinese at Rezang La. Our commander called me crazy and warned that I could be court-martialled'". The Indian Express. 30 October 2012. अभिगमन तिथि 2014-07-13.
  42. V. K. Shrivastava (2000). Infantry, a Glint of the Bayonet. Lancer Publishers. पृ॰ 135. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788170622840.
  43. Rajat Pandit (2013). "Army rejects calls to raise new units based on caste or religion". TNN (अंग्रेज़ी में). The Times of India. The Times of India. अभिगमन तिथि 13 अप्रैल 2016.