जाट

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

वर्ष 2016 तक, जाट, भारत की कुल जनसंख्या का २ प्रतिशत हैं।[1]

एन्साइक्लोपीडिया ब्रिटेनिका के अनुसार,

२१वीं सदी के पूर्वार्द्ध में, पंजाब की कुल जनसंख्या का २० प्रतिशत जाट थी, लगभग १० प्रतिशत जनसंख्या ब्लोचिस्तान, राजस्थान और दिल्ली तथा २ से ५ प्रतिशत जनसंख्या सिन्ध, उत्तर-पश्चिम सीमान्त और उत्तर प्रदेश में रहती थी। पाकिस्तान के ४० लाख जाट मुस्लिम हैं; भारत के लगभग ६० लाख जाट दो अलग जातियों के रूप में विभाजित हैं: एक सिख जो मुख्यतः पंजाब केन्द्रित हैं तथा अन्य हिन्दू हैं। (स्रोत से लिए गये वाक्य का हिन्दी अनुवाद)[2]

स्वतंत्रता से पूर्व[संपादित करें]

हिन्दुस्तान टाइम्स के २०१२ के आकलन के अनुसार, भारत में जाटों की सम्भावित संख्या ८.२५ करोड के लगभग है।[3]

भारतीय गणराज्य[संपादित करें]

राजस्थान, उत्तर प्रदेश और दिल्ली जैसे राज्यों में कुछ विशिष्ट जाट गौत्र अन्य पिछड़ा वर्ग के रूप में वर्गीकृत की गयी हैं।[4][5][6][7]

२०वीं सदी और वर्तमान में जाट हरियाणा[8] और पंजाब[9] में राजनैतिक रूप से अग्रणी भूमिका निभा रहे हैं। भारत के छटे प्रधानमंत्री चरण सिंह सहित कुछ जाट नेता ख्यात राजनेताओं के रूप में उभरे।

पाकिस्तान[संपादित करें]

पाकिस्तान में बड़ी संख्या में जाट मुस्लिम रहते हैं और पाकिस्तानी पंजाब तथा मौटे तौर पर पाकिस्तान में सार्वजनिक जीवन में प्रमुख भूमिका में हैं। इसके अतिरिक्त पाकिस्तान-प्रशासित कश्मीर में भी जाट समुदाय निवास करते हैं।

पाकिस्तान में भी जाट नेता विशिष्ट राजनेता हैं जैसे आसिफ अली ज़रदारी और हिना रब्बानी खर[10]

संस्कृति और समाज[संपादित करें]

सेना[संपादित करें]

14वें मूर्रे जाट लांसर्स (रिसालदार मेजर)

भारतीय सेना में बड़ी संख्या में जाट लोग हैं जिसमें जाट रेजिमेंट, सिख रेजिमेंट, राजपूताना राइफल्स और ग्रेनेडियर्स शामिल हैं, जिनमें उन्हें वीरता और बहादुरी के विभिन्न पुरस्कार प्राप्त हुये हैं। जाट लोग पाकिस्तानी सेना (मुख्यतः पंजाब रेजिमेंट) में शामिल हैं।[11]

धार्मिक धारणा[संपादित करें]

इतिहासकार खुशवन्त सिंह, के अनुसार, जाटों ने उन्हें कभी भी ब्राह्मणवाद को स्वीकार नहीं किया।[12]

जाट अपने पूर्वजों की पूजा करते हैं जिसे जथेरा बोला जाता है।[13]

वर्ण स्थिति[संपादित करें]

हिन्दू वर्ण व्यवस्था में जाटों की स्थिति अस्पष्ट है। कुछ स्रोतों के अनुसार जाट क्षत्रिय[14] अथवा "निम्नीकृत क्षत्रिया" माने जाते हैं, जिन्हें ब्राह्मणवाद के संस्कार और अनुष्ठानों को नहीं अपनाते और इस तरह शूद्र के रूप में माने जाने लगे।[15] इतिहासकार उमा चक्रवर्ती के अनुसार जाटों ने समय के साथ अपने वर्ण में सुधार किया है। उनके अनुसार आठवीं सदी में जाट अछूत/चांडाल मानें जाते थे जो ११वीं सदी तक शूद्र वर्ण तक विकसित हुये और १७वीं सदी में जाट विद्रोह के बाद कुछ जाटों ने जमीदारों की स्थिति प्राप्त की।[16]

जाट जाति को राजपूतों द्वारा क्षत्रिय वर्ण में न माने जाने के दोनों समुदायों में हिंसक घटनायें घटित हुई।[17] उस समय आर्य समाज द्वारा यह दावा किया गया कि जाट भारत-सीथिया मूल के हैं।[18]

गौत्र पद्धति[संपादित करें]

जाट लोग विभिन्न गोत्रों में विभक्त हैं जिनमें से कुछ गौत्र एक दूसरे पर अधिव्यापित होती हैं।[19]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Jat Agitation: Everything you need to know : Current Affairs" (अंग्रेज़ी में). 25 फ़रवरी 2016. http://indiatoday.intoday.in/education/story/jat-agitation/1/604023.html. अभिगमन तिथि: २४ मई २०१६. 
  2. Britannica, Encyclopedia. "Jat (caste)". Encyclopædia Britannica. p. 1. Archived from the original on २७ जनवरी २०१६. http://www.britannica.com/EBchecked/topic/301575/Jat. अभिगमन तिथि: २४ मई २०१६ 2010. 
  3. चटर्जी, सौभद्रा (14 जनवरी 2012). "Government turns focus on Jat quota" (अंग्रेज़ी में). हिन्दुस्तान टाइम्स (नई दिल्ली). Archived from the original on १२ मार्च २०१३. https://web.archive.org/web/20130312131306/http://www.hindustantimes.com/India-news/NewDelhi/Minorities-done-government-turns-focus-on-Jat-quota/Article1-797307.aspx. 
  4. "Upper castes rule Cabinet, backwards MoS" (अंग्रेज़ी में). द टाइम्स ऑफ़ इंडिया. http://timesofindia.indiatimes.com/home/lok-sabha-elections-2014/news/Upper-castes-rule-Cabinet-backwards-MoS/articleshow/35624877.cms. 
  5. "Sheila puts Delhi Jats on OBC list" (अंग्रेज़ी में). एक्सप्रेस इंडिया. 23 अक्टूबर 1999. Archived from https://web.archive.org/web/20120120161910/http://www.expressindia.com/news/ie/daily/19991023/ige23036.html the original on २० जनवरी २०१२. https://web.archive.org/web/20120120161910/http://www.expressindia.com/news/ie/daily/19991023/ige23036.html. 
  6. "So why are the Gujjars hungry for the ST pie?". Sify. http://sify.com/news/so-why-are-the-gujjars-hungry-for-the-st-pie-news-national-jegr99ahfcd.html. 
  7. "Political Process in Uttar Pradesh". google.co.in. http://books.google.co.in/books?id=S46rbUL6GrMC&pg=PA166&lpg=PA166. 
  8. "Caste and Democratic Politics in India". google.co.in. http://books.google.co.in/books?id=2UX2-pnGoScC&pg=PA197&lpg=PA197.htm. 
  9. "PremiumSale.com Premium Domains". indianmuslims.info. http://www.indianmuslims.info/news/2007/january/21/india_news/history_of_punjab_politics_jats_do_it.html. 
  10. "Foreign Minister Hina Rabbani Khar" (अंग्रेज़ी में). फर्स्ट पोस्ट (इंडिया). Archived from the original on १९ अक्टूबर २०१३. https://web.archive.org/web/20131019040904/http://www.firstpost.com/hina-rabbani-khar/video/foreign-minister-hina-rabbani-khar/3753808q03h1H0MiMB11.html. "Hina Rabbani Khar was born on 19 November 1977 in Multan, Punjab, Pakistan in a Muslim Jat family." 
  11. इयान सुम्नेर (2001) (अंग्रेज़ी में). The Indian Army 1914–1947 [भारतीय सेना १९१४–१९४७]. लंदन: ओस्प्रे. pp. 104–105. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-84176-196-6. 
  12. सिंह, खुशवन्त (2004) (अंग्रेज़ी में). A History of the Sikhs: 1469–1838 [सिखों का इतिहास: १४६९–१८३८] (2, चित्रित सं॰). ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस. प॰ 15. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-19-567308-5. OCLC 438966317. http://books.google.co.in/books?id=MD9uAAAAMAAJ. 
  13. झूत्ती, संदीप एस॰ (2003) (अंग्रेज़ी में). The Getes. पूर्व एशियाई भाषाएँ और सभ्यताएँ विभाग, पेन्सिलवेनिया विश्वविद्यालाय. OCLC 56397976. http://books.google.co.in/books?id=wciBAAAAMAAJ. "The Jats of the Panjab worship their ancestors in a practice known as Jathera." 
  14. मिलर, डी॰बी॰ (1975) (अंग्रेज़ी में). From hierarchy to stratification: changing patterns of social inequality in …. ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटि प्रेस. प॰ 64. http://books.google.com/books?ei=zTWdS7mmDIOUlAS-9fGtCQ&cd=7&id=K98EAAAAMAAJ&dq=jat+kshatriya&q=Jat+kshatriya#search_anchor. 
  15. खन्ना, सुनिल के॰. "Jat (जाट)". In एम्बर, मेलविन (अंग्रेज़ी में). Encyclopedia of Medical Anthropology [चिकित्सा नृविज्ञान का विश्वकोश]. प॰ 777. http://books.google.com.au/books?id=W_nVHIDgbogC&pg=PA777. 
  16. चक्रवर्ती, उमा (2003) (अंग्रेज़ी में). Gendering caste through a feminist lens [नारीवादी नज़रिये से लैंगिक जाति] (प्रथम प्रतिमुद्रित सं॰). कलकत्ता: स्ट्री (भटकल और सेन). आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-85604-54-1. http://books.google.co.in/books?id=nLMDxv_L-U8C&lpg=PA23&dq=jats%20are%20shudra%20caste&pg=PA23. 
  17. स्टेर्न, रोबर्ट डब्ल्यू॰ (1988) (अंग्रेज़ी में). The Cat and the Lion: Jaipur State in the British Raj [बिल्ली और शेर: ब्रितानी राज में जयपुर राज्य]. लीडेन: ब्रिल्ल. प॰ 287. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9789004082830. http://books.google.co.uk/books?id=NK1MhWq-9VkC&pg=PA287. 
  18. जफ्फरेलोट, क्रिस्टोफ (2010) (अंग्रेज़ी में). Religion, Caste & Politics in India [भारत में धर्म, जाति और राजनीति]. प्राइमस बूक्स. प॰ 431. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9789380607047. http://books.google.co.uk/books?id=XAO3i_gS61wC&pg=PA431. 
  19. मार्शल, जे॰ए॰ (1960) (अंग्रेज़ी में). Guide to Taxila [तक्षिला का मार्गदर्शन]. कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी प्रेस. प॰ 24. 

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]