सिनसिनवार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

सिनसिनवार जाटों का गोत्र है । इस गोत्र वाले जाटों का उद्गम भरतपुर जिले के सिनसिनी नामक गाँव से माना जाता है।[1] भरतपुर के जाट राजा सूरजमल भी सिनसिनवार गोत्र के जाट थे। सिनसिनी गाँव का नाम सिनसिना देव के आधार पर रखा गया है।[2] महाभारत शल्य पर्व में इसका उल्लेख है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. आर॰वी॰ सोलोमन, जे॰डब्ल्यू॰ बॉन्ड. Indian States: A Biographical, Historical, and Administrative Survey [भारतीय राज्य: एक जैविक, ऐतिहासिक और प्रशासनिक सर्वेक्षण] (अंग्रेज़ी में). एशियन एजुकेशन सर्विस. पृ॰ १५७. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 812061965X.
  2. टॉनी मैकक्लेंघन (१९९६). Indian Princely Medals: A Record of the Orders, Decorations, and Medals of the Indian Princely States [भारतीय रियासत पदक: भारतीय रियासतों के आदेश, सजावट और पदकों का रिकॉर्ड] (अंग्रेज़ी में). लेंसर पब्लिशर्स. पृ॰ 70. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1897829191.