सोलंकी वंश

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सोलंकी वंश मध्यकालीन भारत का एक राजपूत राजवंश था। सोलंकी गोत्र राजपूतों में आता है[1] सोलंकी राजपूतों का अधिकार गुर्जर देश और कठियावाड राज्यों तक था। ये ९वीं शताब्दी से १३वीं शताब्दी तक शासन करते रहे।इन्हे गुर्जर देश का चालुक्य भी कहा जाता था। यह लोग मूलत: सूर्यवंशी व्रात्य क्षत्रिय हैं और दक्षिणापथ के हैं परंतु जैन मुनियों के प्रभाव से यह लोग जैन संप्रदाय में जुड गए । उसके पश्चात भारत सम्राट अशोकवर्धन मौर्य के समय में कान्य कुब्ज के ब्राह्मणो ने ईन्हे पून: वैदिकों में सम्मिलित किया ।।[2]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. D. P. Dikshit (1980). Political History of the Chalukyas of Badami. Abhinav Publications. https://books.google.com/books?id=lEB11tKmCgcC&pg=PA21&lpg. 
  2. N. Jayapalan (2001). History of India. Atlantic Publishers & Distri. प॰ 146. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-7156-928-1. https://books.google.com/books?id=tU1yDpYlu38C&pg=PA146&dq. "V. A. Smith and A. M. T. Jackson also endorsed the view that Chalukyas were a branch of famous Gurjar"