परिहार गोत्र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

परिहार एक भारतीय उपनाम है।[1][2]जो मुख्य रूप से कोली, जाट, गुर्जर और राजपूत लोगों का गोत्र है।[3] ये लोग मुख्यतः भारत में राजस्थान, उत्तर प्रदेश एवं गुजरात निवास करते हैं। परिहार या पड़िहार अग्निवंशी क्षत्रिय है और सूर्यवंशी पुरुषोत्तम श्री राम के अनुज श्री लक्ष्मण जी के वंशज कहे जाते हैं। इन्हें अग्निकुल का भी कहा जाता हैं। कुछ इतिहास में समुपलब्ध साक्ष्यों तथा भविष्यपुरांण में समुपवर्णित विवेचन कर सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय बनारस के विद्वानों के द्वारा बतौर प्रमाण यजुर्वेदसंहिता, कौटिल्यार्थशास्त्र, श्रमद्भग्वद्गीता, मनुस्मृति, ऋकसंहिता पाणिनीय अष्टाध्यायी, याज्ञवल्क्यस्मृति, महाभारत, क्षत्रियवंशावली, श्रीमद्भागवत, भविष्यपुरांण इत्यादि में भी परिहार एवं विन्ध्य क्षेत्रीय वरगाही उपाधि धारी परिहारों का वर्णन मिलता है। जो ध्रुव सत्य है। यह वंश मध्यकाल के दौरान मध्य-उत्तर भारत के एक बड़े हिस्से में राज्य करने वाला वंश था , जिसकी स्थापना नागभट्ट प्रतिहार ने ७२५ ई० में की थी। इनके पुत्र वत्सराज प्रतिहार ने कन्नौज के शासक इन्द्रायुध को परास्त कर कन्नौज पर अधिकार कर इसे आगे बढ़ाया। इसलिए वत्सराज को 'रणहस्तिन्' कहा गया है। इस राजवंश के लोग स्वयं को श्री राम के अनुज श्री लक्ष्मण के वंशज मानते हैं, जिसने अपने भाई राम को एक विशेष अवसर पर प्रतिहार की भाँति सेवा की। इस राजवंश की उत्पत्ति, प्राचीन कालीन ग्वालियर प्रशस्ति अभिलेख से ज्ञात होती है। अपने स्वर्णकाल साम्राज्य पश्चिम में सतलुज नदी से उत्तर में हिमालय की तराई और पुर्व में बंगाल-असम से दक्षिण में सौराष्ट्र और नर्मदा नदी तक फैला हुआ था। सम्राट मिहिभोज महान,, इस राजवंश का सबसे प्रतापी और महान राजा थे। अरब लेखकों ने उनके काल को सम्पन्न काल बताते हैं। इतिहासकारों का मानना है कि इस राजवंश ने भारत को अरब हमलों से लगभग ३०० वर्षों तक बचाये रखा था। वर्तमान में इस राजवंंश के मूलतः ठीकाने जालोर जिले ( Panseri ) में है परिहार और प्रतिहारो को एक ही माना जाता है और इनका मूलतः सबसे बड़ा गांव छायन हैं जो जैसलमेर जिले में है पहले इनका राज मंडोर में था। नागभट्ट, नागभट्ट-II और मिहिर भोज जैसे महान शासक प्रतिहार वंश से संबंधित है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Katariya, Adesh (2007-11-25). Ancient History of Central Asia: Yuezhi origin Royal Peoples: Kingdoms (अंग्रेज़ी में). Adesh Katariya. मूल से 9 फ़रवरी 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 21 अप्रैल 2020.
  2. Tod, James (1873). Annals and Antiquities of Rajast'han, Or, The Central and Western Rajpoot States of India (अंग्रेज़ी में). Higginbotham and Company.
  3. विद्या प्रकाश त्यागी (2009). Martial races of undivided India [अविभाजित भारत की योद्धा जातियाँ] (अंग्रेज़ी में). ज्ञान बुक्स प्राइवेट लिमिटेड. पृ॰ 71. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788178357751.

गुर्जर प्रतिहार