भेरात

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

भेरात नारायण सिंह रावत गणित पुरोहितान के अनुसार भारत की एक प्रमुख जनजाति हैं। कर्नल जेम्स- टॉड के अनुसार कुम्भलमेर से अजमेर तक की पर्वतीय श्रृंखला के अरावली अंश परिक्षेत्र को मेरवाड़ा कहते है। मेर+ वाड़ा अर्थात मेरों का रहने का स्थान। कतिपय इतिहासकारों की राय है कि " मेर " शब्द से मेरवाड़ा बना है। यहां सवाल खड़ा होता है कि क्या मेर ही रावत है। कई इतिहासकारो का कहना है किसी समय यहां विभिन्न समुदायो के समीकरण से बनी 'रावत' समुदाय का बाहुल्य रहा है जो आज भी है। कहा यह भी जाता... है कि यह समुदाय परिस्थितियों और समय के थपेड़ों से संघर्ष करती कतिपय झुंझारू आदिवासी समुदायों से बना एक समीकरण है। श्री प्रकाश चन्द्र मेहता ने अपनी पुस्तक " आदिवासी संस्कृति व प्रथाएं के पृष्ठ 201 पर लिखा है कि मेवात मे मेव व मेरवाड़ा में मेर का वर्चस्व था।

सन्दर्भ[संपादित करें]