बदलाव

Jump to navigation Jump to search
सम्पादन सारांश रहित
12वीं शताब्दी के प्रारंभ में, भारत पर [[इस्लामी आक्रमणों]] के पश्चात, उत्तरी व केन्द्रीय भारत का अधिकांश भाग [[दिल्ली सल्तनत]] के शासनाधीन हो गया; और बाद में, अधिकांश उपमहाद्वीप [[मुगल]] वंश के अधीन। दक्षिण भारत में [[विजयनगर साम्राज्य]] शक्तिशाली निकला। हालांकि, विशेषतः तुलनात्मक रूप से, संरक्षित दक्षिण में, अनेक राज्य शेष रहे अथवा अस्तित्व में आये।
 
==भारत में ब्रितानी उपनिवेश==
17वीं शताब्दी के मध्यकाल में [[पुर्तगाल]], [[डच]], [[फ्रांस]], [[ब्रिटेन]] सहित अनेकों युरोपीय देशों, जो कि भारत से व्यापार करने के इच्छुक थे, उन्होनें देश में स्थापित शासित प्रदेश, जो कि आपस में युद्ध करने में व्यस्त थे, का लाभ प्राप्त किया। अंग्रेज दुसरे देशों से व्यापार के इच्छुक लोगों को रोकने में सफल रहे और [[१८४० ई]] तक लगभग संपूर्ण देश पर शासन करने में सफल हुए। [[१८५७ ई]] में ब्रिटिश इस्ट इंडिया कम्पनी के विरुद्ध असफल विद्रोह, जो कि [[भारतीय स्वतन्त्रता का प्रथम संग्राम|भारतीय स्वतन्त्रता के प्रथम संग्राम]] से जाना जाता है, के बाद भारत का अधिकांश भाग सीधे [[अंग्रेजी शासन]] के प्रशासनिक नियंत्रण में आ गया।
 
== आधुनिक स्वतन्त्र भारत ==
[[चित्र:Partition of India.PNG|अंगूठाकार|भारत की स्वतन्त्रता और विभाजन साथ-साथ]]
{{main|आधुनिक भारत|स्वतन्त्रता के बाद भारत का संक्षिप्त इतिहास}}

दिक्चालन सूची