विकिपीडिया:चौपाल/पुरालेख 50

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
पुरालेख 49 पुरालेख 50 पुरालेख 51

अनुक्रम

हिन्दी विकिपीडिया पर हिन्दी दिवस के उपलक्ष्य में 14 सितंबर से लेख प्रतियोगिता

@Innocentbunny, Mala chaubey, Anamdas, , Sniggdha rai, Somesh Tripathi, Sushilmishra, Suyash.dwivedi, अनुनाद सिंह, चंद्र शेखर, SM7, संजीव कुमार, Hindustanilanguage, NehalDaveND, Swapnil.Karambelkar, Kamini Rathee, Ganesh591, Gaurav561, Hunnjazal, J ansari, अजीत कुमार तिवारी, ShriSanamKumar, Jayprakash12345, आशीष भटनागर, चक्रपाणी, राजू जांगिड़, और भोमाराम सुथार: @संजीव जी, अनिरुद्ध जी, माला जी, सिद्धार्थ जी, हिंदुस्तानवासी जी, अजीत जी, और प्रॉन्स जी: एवं और सभी सक्रिय सदस्यगण।

14 सितंबर को हिन्दी दिवस के उपलक्ष्य में हिन्दी विकिपीडिया पर लेख प्रतियोगिता का आयोजन किया गया है। हिन्दी दिवस विकिपीडिया पर पूरे महीने तक मनाया जाएगा। लेख प्रतियोगिता से विभिन्न विषयों पर हिन्दी में ज्यादा से ज्यादा लेख बनाने का आशय है। हिन्दी विकिपीडिया में प्रथम बार ही कोई ऐसा कार्यक्रम स्थानिक रूप से होने जा रहा है। इस प्रतियोगिता में सम्मिलित होने के लिए सभी सक्रिय सदस्यों को सादर निमंत्रण।

कृपया इस प्रतियोगिता में जुड़ने के लिए और अधिक जानकारी हेतु वि:हिन्दी दिवस देखें।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 04:22, 10 सितंबर 2017 (UTC)

हिन्दी दिवस लेख प्रतियोगिता से जुड़ें

नमस्ते सर्वेभ्यः
आप सब जानते ही है कि 14 सितम्बर को हिन्दी दिवस है और इस उपलक्ष्य में हिन्दी भाषा को बढ़ावा देने, हिन्दी भाषा के ज्ञानकोष को और भी समृद्ध करने हेतु योगदानकर्ताओं को नए नए लेख बनाने के लिए प्रेरित करने हेतु 14 सितम्बर से 30 सितम्बर तक हिन्दी विकिपीडिया पर लेख प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा है। इस अभियान में जुड़कर विकिपीडिया को समृद्ध बनाने में सहयोग दें।

निर्णायक

इस प्रतियोगिता के परिणाम निर्धारण, गुणांकन और लेखों की जाँच की प्रक्रिया हेतु एक समिति के गठन की आवश्यकता है। प्रतियोगिता के संचालकों का निर्णय अंतिम होगा। इस कार्य में सहयोग देने के लिए प्रबंधन और पुनरीक्षण कार्य के अनुभवी सदस्यों को सादर आमंत्रित किया जाता है। निर्णायक मंडल में सम्मिलित होने के लिए स्वैच्छिक रूप से अपना नाम नीचे सूची में जोड़े।

इस कार्य के लिए प्रबंधन और पुनरीक्षण का अनुभव आवश्यक है फिर भी कुछ सदस्य जो इस कार्य के लिए योग्य प्रतीत हो रहे हैं, उत्सुक है तो कृपया संचालकों को संदेश भेजकर भी अपनी इच्छा व्यक्त कर सकते हैं। इस कार्य में सहयोगी  होने के लिए अपना नाम यहाँ दर्ज कराएं।

चर्चा में भाग लें

इस प्रतियोगिता में नीति निर्धारण, गुणांकन, लेखों की जांच, प्रतियोगिता का प्रचार-प्रसार आदि कार्यो के लिए आप सभी का सहयोग वाँछित है। विकिपीडिया वार्ता:हिन्दी दिवस पृष्ठ पर चर्चा में भाग लें।

प्रतियोगिता में जुड़े

हिन्दी विकिपीडिया पर स्थानिक तौर पर इस प्रकार की प्रतियोगिता का आयोजन प्रथम बार किया जा रहा है। इस की सफलता या निष्फलता हम सभी योगदानकर्ताओं के ऊपर निर्भर है। प्रथम प्रयास सफल होगा तो आगे भी इस प्रकार की प्रतियोगिताओं का आयोजन हो पायेगा। इसलिए आज ही इस प्रतियोगिता में जुड़िये और दूसरों को भी जोड़िए।

प्रतियोगिता में सम्मिलित होने के लिए यहाँ अपना नामांकन करायें।

सहायता

इस प्रतियोगिता के विषय में अधिक जानकारी हेतु वि:हिन्दी दिवस पृष्ठ पर नियम और लेख मार्गदर्शिका पढ़ें। अधिक जानकारी हेतु वि:हिन्दी दिवस/सूचना और वि:हिन्दी दिवस/सहायता देखें। और भी कोई सवाल हैं तो वार्तापृष्ठ पर लिखें या तो संचालकों का संपर्क करें।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 04:46, 12 सितंबर 2017 (UTC)

एक राष्ट्रीय समाचार चैनल का इनपुट एडिटर होने के नाते मैं अपने मित्रों की किस प्रकार मदद कर सकता हूं। --कलमकार वार्ता 17:45, 13 सितंबर 2017 (UTC)
ये जानकर खुशी हुई। कृपया वि:हिन्दी दिवस/प्रतिभागी पर नामांकन कर दीजिए और जुड़ जाइये। आप और कार्यों में भी सम्मिलित हो सकते हैं।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 04:49, 14 सितंबर 2017 (UTC)

Featured Wikimedian [September 2017]

Wikimedia India logo.svg

Greeting, on behalf of Wikimedia India, I, Krishna Chaitanya Velaga from the Executive Committee, introduce you to the Featured Wikimedian of the Month for September 2017, Swapnil Karambelkar.

Swapnil Karambelkar is one of the most active Wikimedians from the Hindi community. Swapnil hails from Bhopal, Madhya Pradesh, and by profession a Mechanical Engineering, who runs his own firm based on factory automation and education. Swapnil joined Wikipedia in August 2016, through "Wiki Loves Monuments". He initially started off with uploading images to Commons and then moved onto Hindi Wikipedia, contributing to culture and military topics. He also contributes to Hindi Wikibooks and Wikiversity. Soon after, he got extensively involved in various outreach activities. He co-organized "Hindi Wiki Conference" in January 2017, at Bhopal. He delivered various lectures on Wikimedia movement in various institutions like Atal Bihari Hindi University, Sanskrit Sansthanam and NIT Bhopal. Along with Suyash Dwivedi, Swapnil co-organized the first ever regular GLAM project in India at National Museum of Natural Heritage, Bhopal. Swapnil is an account creator on Hindi Wikipedia and is an admin on the beta version on Wikiversity. Swapnil has been instrumental in establishing the first Indic language version of Wikiversity, the Hindi Wikiversity. As asked regarding his motivation to contribute to the Wikimedia movement, Swapnil says, "It is the realization that though there is abundance of knowledge around us, but it is yet untapped and not documented".

@Swapnil.Karambelkar: हार्दिक बधाई। --अनामदास 08:20, 17 सितंबर 2017 (UTC)
@Swapnil.Karambelkar: बधाई AbhiSuryawanshi (वार्ता) 19:28, 20 सितंबर 2017 (UTC)

जयपुर में प्रशिक्षण कार्यशाला

नवंबर माह के प्रथम अथवा द्वितीय सप्ताहांत में जयपुर में एक प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें वरिष्ठ प्रबंधकों व पुनरीक्षकों द्वारा विकिपीडिया के रखरखाव एवं प्रबंधन के बारे में जानकारी दी जाएगी। इच्छुक सदस्य कृपया अपना नामांकन करें और संकेत करें कि क्या आप यात्रा एवं ठहरने हेतु सहायता की आवश्यकता है अथवा नहीं। कार्यशाला हेतु त्वरित अनुदान की अनुशंसा की जाएगी अतः रेल यात्रा का ही खर्च दिया जा सकता है। --अनामदास 08:30, 17 सितंबर 2017 (UTC) अधिक जानकारी एवं सम्मिलित होने के लिए प्रशिक्षण कार्यशाला-जयपुर पृष्ठ पर जाए।

शुभकामनाएं AbhiSuryawanshi (वार्ता) 19:26, 20 सितंबर 2017 (UTC)
हिंदी विकिपीडिया समुदाय के लिए बहुत अच्छा विचार है इसे भरपूर समर्थन मिलना चाहिए,मेरी और से हार्दिक शुभकामनाये। स्वप्निल करंबेलकर (वार्ता) 06:26, 25 सितंबर 2017 (UTC)

तिथि की अनुकूलता पर १ अक्टूबर २०१७ तक यहाँ मत व्यक्त करें --सुयश द्विवेदी (वार्ता) 19:59, 28 सितंबर 2017 (UTC)

RfC regarding "Interlinking of accounts involved with paid editing to decrease impersonation"

There is currently a RfC open on Meta regarding "requiring those involved with paid editing on Wikipedia to link on their user page to all other active accounts through which they advertise paid Wikipedia editing business."

Note this is to apply to Wikipedia and not necessarily other sister projects, this is only to apply to websites where people are specifically advertising that they will edit Wikipedia for pay and not any other personal, professional, or social media accounts a person may have.

Please comment on meta. Thanks. Send on behalf of User:Doc James.

MediaWiki message delivery (वार्ता) 21:07, 17 सितंबर 2017 (UTC)

सदस्य स्वप्निल करम्बेलकर जी का स्वतः परीक्षित स्तर हेतु नामांकन

सदस्य स्वप्निल करम्बेलकर जी का स्वतः परीक्षित स्तर हेतु नामांकन किया गया है। रखरखाव में संलग्न सभी सदस्यों से निवेदन है कि कृपया अपना मत यहाँ व्यक्त करें। --अनामदास 02:33, 18 सितंबर 2017 (UTC)

राजू जांगिड़ जयपुर कार्यशाला हेतु CIS से यात्रा अनुदान

@Innocentbunny, Mala chaubey, Anamdas, , Sniggdha rai, Somesh Tripathi, Sushilmishra, Suyash.dwivedi, अनुनाद सिंह, चंद्र शेखर, SM7, संजीव कुमार, Hindustanilanguage, NehalDaveND, Swapnil.Karambelkar, Kamini Rathee, Ganesh591, Gaurav561, Hunnjazal, J ansari, अजीत कुमार तिवारी, ShriSanamKumar, Jayprakash12345, आशीष भटनागर, चक्रपाणी, और भोमाराम सुथार: @संजीव जी, अनिरुद्ध जी, माला जी, सिद्धार्थ जी, हिंदुस्तानवासी जी, अजीत जी, और प्रॉन्स जी: एवं और सभी सक्रिय सदस्यगण।

नमस्ते सभी विकिमित्रों,

जैसा कि आप सभी को पता ही होगा कि अनामदास जी ने यहीं पर एक प्रस्ताव रखा है कि जयपुर में एक विकिपीडिया तकनीकी कार्यशाला होनी है इसके लिए बड़ी ग्रांट के बजाय रैपिड ग्रांट ही ले पाएंगे क्योंकि समय बहुत कम है। इसलिये मैं भी इस जयपुर में होने वाले विकिपीडिया के वर्कशॉप में शामिल होना चाहता हूँ लेकिन अभी मैं पुणे, महाराष्ट्र में हूँ और यहाँ से जयपुर पहुँचने में रेल से तकरीबन 23-24 घंटे लग रहे है इसलिए मैं चाहता हूँ कि CIS से हवाई यात्रा के लिए अनुदान माँगू, तो आपकी क्या राय है कि मुझे इसके लिए CIS से अनुदान के लिये अनुरोध करना चाहिए या नहीं । आप मेरे योगदान यहाँ पर देख सकते है। --•●राजू जांगिड़ (चर्चा करें●•) 03:23, 19 सितंबर 2017 (UTC)

समर्थन

  • Symbol support vote.svg समर्थन--☆★[[u:Chandresh Chhatlani|Chandresh Chhatlani (वार्ता) 06:09, 28 सितंबर 2017 (UTC)]] (✉✉) 02:56, 24 सितंबर 2017 (UTC)
  • Symbol support vote.svg समर्थन- जयपुर कार्यशाला के उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए अधिक से अधिक सदस्यों का जुड़ना आवश्यक है। राजू जी के योगदान को देखते हुए यह स्वाभाविक लगता है कि वे अगले स्तर पर पहुँचें व प्रशिक्षण लेकर विकिपीडिया के रखरखाव और प्रबंधन में और उत्साह से योगदान करें। अतः इस अनुदान हेतु मेरा हृदय से समर्थन है। बाकी सदस्यों से भी निवेदन है कि अपना मत व्यक्त करें ताकि समुदाय की आमराय के हिसाब से अनुदानदाताओं को निर्णय लेना सुगम हो सके। --अनामदास 17:09, 19 सितंबर 2017 (UTC)
  • Symbol support vote.svg समर्थन - नियमानुसार पूर्ण समर्थन। अजीत कुमार तिवारी वार्ता 04:41, 20 सितंबर 2017 (UTC)
  • Symbol support vote.svg समर्थन - यद्यपि कम दूरी/समय से आने वालो के लिए खर्चे का प्रावधान है परन्तु राजूजी को बहुत दूर से आना है जिसमे समय अधिक लगेगा अतः CIS से यात्रा अनुदान हेतु पूर्ण समर्थन।स्वप्निल करंबेलकर (वार्ता) 05:44, 20 सितंबर 2017 (UTC)
  • Symbol support vote.svg समर्थन - अनुभवी सदस्यों का और अधिक प्रशिक्षण देना ही इस कार्यशाला का उद्देश्य है,पूर्व में भी CIS ने इस प्रकार से सदस्यों की सहायता की है जिसके लिए वे साधुवाद के पात्र है, यह अनुदान निश्चित ही राजू जी की सहायता करेगा अतः पूर्ण समर्थन -- सुयश द्विवेदी (वार्ता) 05:42, 20 सितंबर 2017 (UTC)
  • Symbol support vote.svg समर्थन ---मुज़म्मिलुद्दीन (वार्ता) 09:23, 20 सितंबर 2017 (UTC)
  • Symbol support vote.svg समर्थन--जयप्रकाश >>> वार्ता 10:14, 20 सितंबर 2017 (UTC)
  • Symbol support vote.svg समर्थन-- AbhiSuryawanshi (वार्ता) 19:22, 20 सितंबर 2017 (UTC)
  • Symbol support vote.svg समर्थन-- अनुनाद सिंह (वार्ता) 02:41, 21 सितंबर 2017 (UTC)
  • Symbol support vote.svg समर्थन-- Sush_0809 06:12, 21 सितंबर 2017 (UTC)
  • Symbol support vote.svg समर्थन-- Aditi1601
  • Symbol support vote.svg समर्थनManavpreet Kaur (वार्ता) 11:06, 22 सितंबर 2017 (UTC)
  • Symbol support vote.svg समर्थन --Abhinav619 (वार्ता) 15:58, 22 सितंबर 2017 (UTC)
  • Symbol support vote.svg समर्थन पूर्ण समर्थन ----आशीष भटनागरवार्ता 01:48, 23 सितंबर 2017 (UTC)
  • Symbol support vote.svg समर्थन--☆★आर्यावर्त (✉✉) 02:56, 24 सितंबर 2017 (UTC)
  • Symbol support vote.svg समर्थन-- ॐNehalDaveND 04:16, 24 सितंबर 2017 (UTC)
  • Symbol support vote.svg समर्थन--Abhijeet Safai (वार्ता) 08:40, 30 सितंबर 2017 (UTC)
  • Symbol support vote.svg समर्थन- जे. अंसारी वार्ता -- 06:11, 8 अक्टूबर 2017 (UTC)

विरोध

टिप्पणी

अधिकार त्याग पर पुनर्विचार

@Innocentbunny, Mala chaubey, Anamdas, , Sniggdha rai, Somesh Tripathi, Sushilmishra, Suyash.dwivedi, अनुनाद सिंह, चंद्र शेखर, SM7, संजीव कुमार, Hindustanilanguage, Swapnil.Karambelkar, Kamini Rathee, Ganesh591, Gaurav561, Hunnjazal, J ansari, अजीत कुमार तिवारी, ShriSanamKumar, Jayprakash12345, आशीष भटनागर, चक्रपाणी, और भोमाराम सुथार: @संजीव जी, अनिरुद्ध जी, माला जी, सिद्धार्थ जी, हिंदुस्तानवासी जी, अजीत जी, और प्रॉन्स जी: एवं और सभी सक्रिय सदस्यगण।इस स्थान पर मिले मार्गदर्शन अनुसार पुनर्विचार के लिये समुदाय के सम्मुख उपस्थित हूँ। पुनर्विचार अर्थात् मैंने जो विचार किया है, वो आप सभी के सम्मुख प्रस्थापित करता हूँ इस में यदि आपको लगे कि मुझे अभी भी पुनर्विचार की आवश्यकता है, तो स्वदोष का उन्मूलन करने के लिये सज्ज हूँ। सर्वप्रथम तो आप वार्ता:2017 अमरनाथ यात्रा हमला इस वार्ता पृष्ठ की चर्चा देखें, जिसमें पीयूषजी ने बिना तर्क दिये तार्किक रूप से सही लिख कर विवाद को जन्म दिया है। यदि हिन्दी विकिपीडिया में मैं हिन्दी शब्दों का प्रयोग नहीं कर सकता, तो हिन्दी विकिपीडिया में सम्पादन का क्या लाभ? मैं ये नहीं कह रहा हूँ कि हमला शब्द अनुचित है, परन्तु इससे आक्रमण शब्द अनुचित नहीं हो जाता। यदि मेरे लिये हमला शब्द अनुचित होता, तो मैं अन्य पृष्ठो के शीर्षक में प्रयुक्त उस शब्द के परिवर्तन का प्रयास करता। अतः मेरे व्यवहार से ही ये स्पष्ट है कि मैं उस शब्द का विरोधी नहीं हूँ।
90 प्रतिशत जनसमुदाय अमुक शब्द का उपयोग करते हैं, तो उनको जैसे अमुक शब्द प्रयोग करने का अधिकार है, वैसे ही 10 प्रतिशत लोग जो समानार्थी अन्य शब्द उपयोग करते हैं उनको भी होना चाहिए। उसमें अधिकतर लोग आज कल इस शब्द का प्रयोग कर रहे हैं, तो वो 10 प्रतिशत लोग भी वही शब्द उपयोग करें ये आदेश नहीं दिया जा सकता। यहाँ वही हुआ है। जैसे कोई भी समाचारवाहिनी, कार्यक्रम या साक्षात्कार आप देखें। वहाँ मेरे को, हमारे को मैंने ये करा जैसे शब्दों का 80 प्रतिशत उपयोग होता है। यदि भविष्य में इन शब्दों का उचित रूप में स्वीकार कर लिया जाए, तो मुझे, हमें, मैंने किया इत्यादि शब्द अनुचित नहीं हो जाते। यद्यपि अधिकतर लोग 'मेरे को' बोल रहे हों, परन्तु जो 'मुझे' बोल रहे हैं उन्हें ये नहीं कहा जा सकता कि सब लोग 'मेरे को' बोलतें है, तो तुम वहीं करो।
जब तर्क नहीं होते, तो स्वतन्त्र और मुक्त नीति की बात होती है। तर्क ये दिया जाता है कि, वो लेख तुमने बनाया, तो तुम्हारा नहीं हो जाता। उसे यहाँ कोई भी परिवर्तित कर सकता है। उसी तर्क के आधार पर जब मैं कहता हूँ कि 2013 सांबा-हीरानगर आतंकी हमला इस शीर्षक में परिवर्तन कर मैं आक्रमण शब्द जोड़ देना चाहता हूँ, तो वो विकि कार्यों में विघ्न उत्पन्न होने का कार्य हो जाता है।
वार्ता:2017 अमरनाथ यात्रा हमला इस चर्चा के समय मेरे सम्मुख कुछ तथ्य आये। तो जैसे कहा गया कि ये तथ्य नहीं है, या ये होना चाहिये, वो सब मैंने अन्तर्भूत किया(जो उचित था, वो परिवर्तन किया)। जहाँ ये मार्गदर्शन मिला कि केवल भारतीय समाचार वाहिनीयों को आधार बनाकर नहीं लिखना चाहिये, तो मैंने अन्य देश के भी समाचारपत्रों का सन्दर्भ, जो उनके द्वारा संकेत दिया गया, उसके आधार पर ही निष्पक्ष लिखा। सब सन्दर्भ सहित लिखा था। फिर भी दुर्व्यवहार जो मेरे साथ हुआ, वो आपके सम्मुख है। मैंने वो सब अन्तर्भूत किया, जो मुझे कहा गया। फिर भी पक्षपात् हुआ तो मेरे साथ ही।
एक पक्ष में कहा जाता है कि, चर्चा करो। चर्चा करने से समाधान अवश्य मिलेगा। वहीँ पक्षान्तर में बिना चर्चा के ही निर्णय कर देना या परिवर्तन कर देना, ये कितना उचित है? जो घटनाक्रम चला उससे ये स्पष्ट हो गया कि, हिन्दी विकिपीडिया पर हिन्दी शब्दों का उपयोग ही निषद्ध है। आप उन्हीं शब्दों का प्रयोग कर सकते हैं, जो प्रबन्धक/कों ने पढ़ें है, या उनके द्वारा प्रयोग के योग्य हैं। न्यूनतया जिन शब्दों का प्रयोग होता है, वो वर्जित ही है। (केवल उसको घोषित नहीं किया गया है।) इस सार को प्राप्त कर मैंने हि.वि में अपना स्थान कहीं अनुभव नहीं किया। मैं हिन्दी लिखना चाहता हूँ। परन्तु हिन्दी शब्द यदि हि.वि पर "हिन्दी नहीं है", तो मेरा किया सम्पादन व्यर्थ ही होता है। प्रयोजनमनुद्दिश्य न मन्दोऽपि प्रवर्तते ॥ अर्थात् व्यर्थ कार्य तो मूर्ख भी नहीं करते हैं ऐसा मैंने सुना है। सन्दर्भ
मेरा निवेदन है कि, मेरे त्याग के निर्णय पर विचार करने से कोई लाभ नहीं। अपि तु ऊपर जो तथ्य दिये हैं या मैंने जो तर्क उपस्थापित किया गया है, उसके सन्दर्भ में विचार किया जाए तो ही इस चर्चा का लाभ होगा। शब्द का उपयोग यदि नीति विरुद्ध है, तो मेरा मार्गदर्शन करें। अस्तु। ॐNehalDaveND 03:33, 19 सितंबर 2017 (UTC)

टिप्पणी

मैं आजकल व्यक्तिगत कारणों से विकिपीडिया के लिए समय नहीं निकाल पा रहा हूँ अतः अधिक विस्तार में न जाते हुए सभी की ओर से हुए किसी भी ऐसे व्यवहार के लिए, जिसे आपने दुर्व्यवहार की संज्ञा देना उचित समझा, आपसे क्षमा याचना करता हूँ और निवेदन करता हूँ कि कृपया अपना योगदान जारी रखें। मतभेद चलते रहते हैं मनभेद नहीं होना चाहिए। विस्तार में फिर कभी। अस्तु। --अनामदास 17:16, 19 सितंबर 2017 (UTC)
मेरे विचार में आपका शब्दचयन सही है, किंतु हर कोई अपने ज्ञान से ही सोचता है अतः सभी सही हैं। ज्ञानियों को क्रोध उचित नहीं। --अनामदास 17:18, 19 सितंबर 2017 (UTC)

कुछ नही, आप तो लिखना शुरू कर दीजिए। 'आक्रमण' ही लिखिए, 'हमला' नहीं। यही संविधानसम्मत भी है- संविधान ने घोषणा की है कि हिन्दी, संस्कृत और भारतीय भाषाओं से शब्द ग्रहण करेगी। 'आक्रमण' को सिंहल व्यक्ति भी समझ जाएगा, तमिल भी, मलयाली भी, काश्मीरी और नेपाली भी। 'हमला' का प्रयोग कर सकते हैं तो 'अटैक' क्या बुरा है? नुक्ता मत लागाइए। यही नीतिसम्मत है। 'ज़िला' नहीं, 'जिला' लिखिए। अनुनाद सिंह (वार्ता) 17:55, 19 सितंबर 2017 (UTC)

@अनुनाद सिंह: जी, संविधान सम्मत तो शायद अरबी अंको का हिंदी लिखते समय प्रयोग भी है। पर यहाँ इसे लागू नहीं कराया जा पाया। बहरहाल जो शब्द हिंदी ने पहले से ग्रहीत कर रखे हैं उन्हें हटा कर संस्कृत अथवा भारतीय भाषाओं से शब्द लाये जायेंगे यह घोषणा शायद संविधान नहीं करता। खिड़की को वातायन बना देने से संविधान कौन सी सेवा अथवा हिंदी भाषा का कौन सा उत्कर्ष हो जाएगा कृपया कभी इसपर भी प्रकाश डालियेगा परन्तु शायद यह बाद में उचित होगा, फिलहाल तो आपको राय इस बात पर देनी चाहिए कि ऐसे कारणों से दायित्व छोड़ना उचित है अथवा नहीं। @Anamdas: जी पता नहीं ग़ज़ल सुनते हैं या गजल। --SM7--बातचीत-- 18:41, 19 सितंबर 2017 (UTC)
@SM7: जी, आपको शायद पता नहीं है कि संविधान ने तथाकथित 'हिन्दुस्तानी' को नहीं, 'हिन्दी' को राजभाषा घोषित किया है। दोनों में अन्तर भी जानते होंगे। संविधान ने 'आरबी अंकों' को मान्यता नहीं दी है, 'हिन्दू अंकों के अन्तरराष्ट्रीय स्वरूप' को मान्यता दी है। पर मैं आपसे चर्चा करने से डरता हूं क्योंकि आप कभी-न-कभी ३६० डिग्री की पल्टी मार जाते हैं। 'भाषा की शुद्धता' के विरुद्ध कुछ भी लिख सकते हैं किन्तु हिन्दी में अरबी-फारसी शब्दों के अपने 'परमशुद्ध रूप में प्रयोग' (नुक्ता न छूटने पाये) के समर्थन में जिहाद करने के लिए सदा तैयार रहते हैं।03:19, 20 सितंबर 2017 (UTC)
@अनुनाद सिंह: जी, 180 अंश पे दो दिशाओं में चलने का प्रयास वो लोग भी करते हैं जिन्होंने संस्कृताइजेशन को "हिंदी हित" और अपने को "स्वघोषित हिंदी हितैषी" मान रखा है। उदाहरणार्थ, जब हिंदी बोलने वालों की संख्या गिनाना हो और विश्व में किसी ख़ास पदानुक्रम पर हिंदी को प्रतिष्ठित कराना हो तो सारे यूपी-बिहार की भाषा उन्हें हिंदी दिखती है, तब वहाँ नहीं फ़रमाते कि लखनऊ-इलाहाबाद वाले "हिंदी" नहीं "हिन्दुस्तानी" बोलते या बलिया-छपरा-दरभंगा वाले "बिहारी" बोलते। तब बड़े-बड़े भाषाई (ग़ैर-धारदार) हथियार लेकर साबित करने में जुट जाते कि यह हिंदी ही है। वहीं जब विकिपीडिया जैसी आम जगह पर लखनऊ वाला हिंदी लिखता है तो तुरंत 180 अंश की पलटी मार के उसकी भाषा में अरबी-फ़ारसी खोज लिया जाया करता है और उससे आग्रह किया जाता है कि "हिंदी" लिखिए जनाब "हिन्दुस्तानी" नहीं। इस दुतारफेपन की ओर आपका ध्यान नहीं जाता? संख्या का ही अनुमान बता दीजियेगा कि कितने लोग "हिन्दुस्तानी" बोलते-लिखते हैं और कितने संविधान सम्मत उस भाषा को जो हिन्दुस्तानी नहीं है। 'परमशुद्ध रूप में प्रयोग' कहाँ हो पाता सर जी, देवनागरी लिपि में अरबी के चार किसिम के ज लिखने की गुंजाइस कहाँ है? हम तो नुकता लगा के काम चलाने की कोसिस करते हैं जो भी भारी लगता (आप जैसों को) जबकि बहुत कुछ संस्कृत वाला फूलमाला प्रतीत होता। --SM7--बातचीत-- 06:26, 20 सितंबर 2017 (UTC)
@SM7: जी, 'भाषा' ऐसे ही परिभाषित होती है। 'आम' नाम वाले फल को ही ले लीजिए। १० ग्राम भार वाला आम भी मिल सकता है, २ किलो वाला भी। आम का वृक्ष १ मीटर ऊँचा भी हो सकता है और ५० मीटर ऊँचा भी। एक आम वह भी होता है जिसका स्वाद इमली से कम खट्टा नहीं होता (कच्चे में) और दूसरा वह भी होता है जो सेब जैसा मीठा। कच्चे आम प्रायः हरे रंग के होते हैं किन्तु 'सिन्दूरी आम' सिन्दूरी रंग का होता है। सभी आम ही हैं। कोई भाषा नहीं है जिसका रूप पूरे 'क्षेत्र' में एक ही हो। अंग्रेजी के कितने रूप हैं आपको पता होगा। हिन्दी भी भिन्न-भिन्न होते हुए 'एक' है। आप इलाहाबाद की बात करते हैं, इलाहाबाद और बनारस के ही लोगों ने हिन्दी का आन्दोलन चलाया और हिन्दी के विकास के प्रतिमान स्थापित किए।अनुनाद सिंह (वार्ता) 12:59, 20 सितंबर 2017 (UTC)
@अनुनाद सिंह: जी, यदि सभी आम हैं, दूसरे किसी फल से तुलना करते वक़्त जब सभी को आम कहते हैं, तो खुद खाने के समय कलमी और बीजू में विभेद क्यों करते हैं। इस विविधता पर रंदा मार के सब सपाट कर देना किसी प्रकार की मजबूरी हो यह भी अनुचित है परन्तु इस विवशता के बहाने किसी ख़ास क़िस्म को ही शुद्ध मानना और उसे बढ़ावा देना "हिंदी हित" कहलाये यह कैसे न्यायसंगत ठहराया जा सकता? इलाहाबाद-बनारस के हिंदी हेतु योगदान से भी काफ़ी सीमा तक परिचित हूँ (पढ़ा है) और इनके आपसी अंतर्विरोधों से भी। आपने नीचे एक टिप्पणी में लिखा है "पिछले पन्द्रह-बीस वर्षों से भारत में एक अघोषित अभियान चला"। क्षमा चाहता हूँ - यह पंद्रह-बीस साल पुराना नहीं है, न ही अघोषित ही। अघोषित अभियान वह था/है जो लगभग स्वतन्त्रतापूर्व से हिंदी में चल रहा इसके शुद्धीकरण का - हाँ इस शुद्धीकरण के ख़िलाफ़ लोगों ने "जिहाद" (आपके ही शब्दों में ही, वैसे इसे बग़ावत कहें तो अधिक समीचीन हो) अवश्य किया। अफ़सोस कि उर्दू में मतरूक़ात के विरुद्ध यह भी नहीं हो पाया। कम से कम उतना नहीं जितना हिंदी में हुआ। "छद्मवेशधारी माफियागिरी" की पहचान के मामले शायद आपको मेरे विचार 180 अंश पे लगें, पर घुट्टी हमें हिंदी की शुरूआत से यह पिलाई गई है कि जो संस्कृतनिष्ठ है वही शुद्ध है या अच्छी हिंदी है। यह घुट्टी पिए हुओं को "हिंदी हित" कुछ और ही दीखता। यदि वास्तव में आपको हिन्दुस्तानी भी आम दिखती है और मानक हिंदी भी, तो जब केवल "हिंदी" कहा जाता है तो उसे आम की तरह क्यों नहीं लेते हैं उसमें से हिन्दुस्तानी वाले आम छाँटने क्यों लगते हैं? --SM7--बातचीत-- 15:43, 20 सितंबर 2017 (UTC)
@SM7: जी, 'देशी आम' और 'विदेशी आम' में अन्तर करना बहुत आवश्यक है। हिन्दी आन्दोलन का यही तर्क था कि उर्दू-फारसी के शब्द और उनकी लिपि हमारे क्षेत्र के लिए असहज, अप्राकृतिक, विदेशी हैं। ये दासता के परिणाम भी हैं, साधन भी। यह काम केवल भारत में हुआ हो, ऐसा भी नहीं। कई देशों में हुआ है। तुर्की जैसे मुसलमान-बहुल देश ने 'विदेशी लिपि' का ही त्याग नहीं किया, 'विदेशी शब्दों' के अप्रयोग का विधान बनाकर अपनी 'तुर्क संस्कृति' की रक्षा की। जबकि भारत में कुछ लोग 'हाय फारसी, हाय नुक्ता' कह-कह-कर छाती पीटे जा रहे हैं। प्रचलित शब्दों' का हिन्दी में उपयोग होना चाहिए', इसकी बखिया स्वप्निल जी ने नीचे उधेड़ी है, उसे भी देख लीजिएगा। अनुनाद सिंह (वार्ता) 03:36, 21 सितंबर 2017 (UTC)
@अनुनाद सिंह: जी, "हिन्दुस्तानी" आम कब से विदेशी हो गया ? --SM7--बातचीत-- 04:19, 21 सितंबर 2017 (UTC)
@SM7: जी, 'हिन्दुस्तानी आम' की दुकान गांधीजी ने खोली थी, एक समुदायविशेष को तुष्ट करने के लिए। (वैसे ही जैसे खिलाफत से भारत का कोई सीधा सम्बन्ध न होते हुए भी खिलाफत आन्दोलन चलाया था।) अनुनाद सिंह (वार्ता) 04:33, 21 सितंबर 2017 (UTC)
@अनुनाद सिंह: अभी यह बिक रहा है कि नहीं यूपी बिहार में? कि यूपी बिहार वाले विदेशी भाषा बोलते हैं? और गांधीजी ने खोली थी, यह तथ्य सुधार लें, हिन्दुस्तानी उस मानक हिंदी का पूर्वरूप है जिसकी दूकान कुछ लोग संस्कृति रक्षा के नाम पे चलाना चाहते। --SM7--बातचीत-- 05:48, 21 सितंबर 2017 (UTC)
@SM7: जी, नहीं बिक रहा है। उत्तर प्रदेश और बिहार वाले जो भाषा बोलते हैं वह विदेशी नहीं है, लेकिन उसे विदेशी बनाने के बहुत से उपक्रम चले थे और अब भी गुप्त रूप से चलाये जा रहे हैं।अनुनाद सिंह (वार्ता) 07:52, 21 सितंबर 2017 (UTC)
@अनुनाद सिंह: जी, चलिए कम से कम यह तो माना आपने कि यह देसी ही है। लगे हाथों यह भी बता दें कि हिंदी में इसे गिना जाय या अलग भाषा के रूप में। साथ ही एक और जिज्ञासा है, हिंदी पट्टी में अंगूर बिकता है कि द्राक्षा ?--SM7--बातचीत-- 14:16, 21 सितंबर 2017 (UTC)
@SM7: जी, कहाँ मान लिया कि देसी ही है, किसको मान लिया? मेरे किस वाक्य से आपने यह समझ लिया? अब दूसरी बात पर। भोजपुरी क्षेत्र में टैक्सोनॉमी का प्रचलन है या वर्ग/श्रेणी का?

┌───────────────────────────────────────────┘
@अनुनाद सिंह: जी, ऊपर आपने लिखा है - उत्तर प्रदेश और बिहार वाले जो भाषा बोलते हैं वह विदेशी नहीं है तो यह प्रतीत हुआ कि आपने स्वीकारा कि "हिन्दुस्तानी भाषा" विदेशी नहीं देसी ही है। क्योंकि यहाँ तो अंगूर ही बेचते ख़रीदते खाते हैं। भोजपुरी वाला उदाहरण आप प्रश्न के उत्तर के रूप में ढूँढ के लाये हैं तो "टैक्सोनॉमी" कोई प्रचलित शब्द नहीं है, न ही इसका भोजपुरी अनुवाद मौजूद है, वर्ग और श्रेणी भी आम प्रचलित शब्द नहीं - कलास या कटेगरी जरूर चलन में हैं पुराने लोगों में दर्जा भी, पर इनमें से कोई टैक्सोनॉमी का समानार्थी नहीं इसलिए मूल अंगरेजी ही लिखा है, आपको कोई भोजपुरी शब्द पता हो तो सुझाएँ। आगे स्पष्ट पता चले मुझे इसके लिए साफ़-साफ़ बता भी दें कि "हिन्दुस्तानी भाषा" (जिसका नाम आपने ऊपर लिया कि "हिन्दी", "हिन्दुस्तानी" नहीं) देसी है या विदेशी। वैसे आपने लिखा है "देशी आम" और "विदेशी आम" में अन्तर करना बहुत आवश्यक है, साथ ही विदेशी शब्दों के अप्रयोग का विधान बनाकर संस्कृति रक्षा की बात भी कही है। अमरुद और आलू खाते हैं या संस्कृति अभी बचा रखी है? अमरुद हमारे यहाँ का बहुत प्रसिद्ध है, "सफेदा" और "सुरखा" नाम से। इन्हें क्या "श्वेतक" और "आलक्तक" लिखने से इनका संस्कार हो जाएगा?--SM7--बातचीत-- 18:36, 21 सितंबर 2017 (UTC)

@SM7: जी, द्राक्ष का उपयोग बहुत देखा है। 'द्राक्षासव' का नाम बचपन में ही सुन लिया था। मुझे कोई सन्देह नहीं कि द्राक्ष शब्द से हिन्दी क्षेत्र सुपरिचित है। हाँ, सामान्य प्रचलन में 'अंगूर' ही है। किन्तु यह चर्चा आपके इसी धारणा के सुधार के लिए किया जा रहा है कि 'प्रचलित शब्दों' का ही उपयोग किया जाना चाहिए। स्वप्निल जी ने नीचे यही कहा है। बाजार में लोग अंगूर भी नहीं, 'ग्रेप्स' बोल रहे हैं, अपने एक वर्ष के बच्चे को 'ग्रेप्स-ग्रेप्स' ही रटा रहे हैं- तो क्या 'हिन्दी विकि' पर ग्रेप्स ही लिखा जाय? बिलकुल नहीं। भाषा 'बहती' कम है, 'बहायी जाती' अधिक है। यहूदियों ने तो अपने संकल्प से हिब्रू की सूखी नदी को 'सुजला' कर दिया। (बुरा मत मानिएगा, यहूदियों का नाम लेना पड़ा) भारत के कामरेडों ने भारतीयता की जड़ों को धीरे-धीरे काटने के लिए 'भाषा बहता नीर' का अप्रासंगिक गलत भाष्य दिया और उसी गलत भाष्य का दुष्प्रचार किया। (याद कीजिए, 'भारत की बार्बादी तक, जंग रहेगी.....) । 'टैक्सोनामी' शब्द भोजपुरी क्षेत्र के लिए विदेशी ही नहीं, अप्रचलित ही नहीं, अपरिचित भी है। यह बताइए कि भोजपुरी को देवनागरी लिपि में क्यों लिख रहे हैं? (कहीं कोई नियम है क्या?)। भोजपुरी को कोई नया पारिभाषिक शब्द रचना हो तो वह संस्कृत पर आधारित क्यों नहीं होना चाहिए? मैने सिंहल की पारिभाषिक शब्दावली देखी है। उसे देखकर ऐसा लगता है कि हिन्दी की सारी संस्कृतनिष्ठ शब्दावली साधिकार ले ली गयी हो। भोजपुरी क्षेत्र तो संस्कृत का केन्द्र रहा है, आज भी पूरा वातावरण संस्कृतमय है। भोजपुरी पर आपके 'भाषायी व्यवहार' से सम्बन्धित मेरे पास बहुत से प्रश्न हैं किन्तु विषयान्तर नहीं करना चाहता।अनुनाद सिंह (वार्ता) 02:46, 22 सितंबर 2017 (UTC)
@अनुनाद सिंह: जी, भोजपुरी अथवा विषयांतर के लिए मेरा वार्ता पन्ना खुला हुआ है और आपके प्रश्नों का सदैव स्वागत रहेगा। मेरे द्वारा द्राक्षासव नाम सुनने और इसका अर्थ समझने के बीच काफ़ी लंबा समयांतराल था। सुनने समझने बोलने में अंगूर ही रहा। प्रचलन द्राक्षा और ग्रेप्स के बीच में ही है - अंगूर का। हिंदी विकिपीडिया पर अंगूर की जगह कोई "ग्रेप्स" लिखे तो मैं अवश्य उसे टोकूंगा और उसकी जगह अंगूर लिखने को कहूँगा, परन्तु इसका कारण यह नहीं होगा कि ग्रेप्स विदेशी है अथवा इससे संस्कृति ख़तरे में पड़ रही बल्कि यही कारण दूँगा कि "ग्रेप्स" प्रचलन में नहीं है। प्रचलन "हो रहा है" और "है" में अंतर है। अगले बीस-तीस सालों में "अंगूर" की जगह लोग "ग्रेप्स" ही अधिक प्रयोग करने लगें तो प्रचलन उसी का कहलायेगा। तब विकिपीडिया पर कोई ग्रेप्स लिखे तो बिलकुल उचित भी होगा। बीच में एक ऐसा भी दौर हो सकता जिस समय दोनों में किसका प्रचलन अधिक है तय करना मुश्किल हो, उस समय आपको दोनों के प्रयोग की छूट देनी पड़ेगी। अभी जब इस तरह की चीजें प्रचलन में आ रही हैं आप यहाँ भी उनका विरोध कर सकते और यह उचित होगा, पर यह विरोध इसलिए हो कि वो शब्द विदेशी है, यह कारण उचित नहीं है। विदेशी होने के कारण उसका विरोध करने के लिए हमें अलग मंचों का सहारा लेना होगा क्योंकि विकिपीडिया किसी चीज को प्रचारित करने का मंच नहीं है। हम साधन के रूप में इसे इस्तेमाल नहीं करते। मुझे किसी के संकल्प पर ऐतराज नहीं कि वह "द्राक्षा" प्रचलित कराना चाह रहा, विकिपीडिया को इसका साधन बनाने पर ऐतराज है। आप यहूदियों की तरह संकल्प कर लीजिये कि अंगूर की जगह द्राक्षा और खिड़की की जगह वातायन प्रचलित करा के मानेंगे, मुझे कोई आपत्ति नहीं, परन्तु जब यह प्रचलन में आ जाय तब विकिपीडिया पे लिखें। अपने संकल्प को पूरा करने का माध्यम इसे न बनायें। दूसरी बात, देसी और विदेशी में अंतर करना और संस्कृति रक्षा की बात करना - ऊपर मेरे किये प्रश्नों का आपने उत्तर नहीं दिया देसी और विदेशी में आप किस प्रकार अंतर करते हैं और किसे-किसे संस्कृति का हिस्सा मानते हैं - परन्तु इस तरह की कोई नीयत बाँध के विकिपीडिया पर संपादन करना बिलकुल भी उचित नहीं है। यह इस तरह के शुद्धीकरण अभियान का भी स्थल नहीं है। इसके लिए आप किसी और मंच का सहारा ले सकते हैं। आपने कहा - भाषा 'बहती' कम है, 'बहायी जाती' अधिक है - मुझे नहीं पता किस आधार पर कह रहे हैं। लेकिन हम यहाँ जो बह रही है उसी के हिसाब से लिखने आये हैं, क्या बहायी जानी चाहिए के अनुसार नहीं। किसी को, किसी कारण वश, बहायी जानी चाहिए के अनुसार लिखना है तो यह अनुचित है। --SM7--बातचीत-- 12:36, 22 सितंबर 2017 (UTC)
@SM7: जी, यही तो मैं भी कह रहा हूँ कि नीयत बाँध के विकिपीडिया पर नहीं लिखना चाहिए। हिन्दी विकि पर खोज-खोजकर नुक्ता लगाना और फारसीकरण करना क्या विकि-नीति है? अपने घर में ही शब्द उपलब्ध है, उसका उपयोग न करना और 'टैक्सोनॉमी' को सात समुन्दर पार से माँग कर लाना और उपयोग करना भी विकिनीति नहीं है। विकि हिन्दी के अशुद्धीकरण (विकृतिकरण) का स्थल भी तो नहीं है। 'भाषा बहायी जाती है' - मुझे पूरा विश्वास है कि आप इसका अर्थ और आधार जानते हैं। आप कह रहे हैं कि कल 'ग्रेप्स' अधिक प्रचलित हो जायेगा तो आप 'ग्रेप्स' ही लिखेंगे- तो आज ही लिख दीजिए, मैं कहता हूँ कि अंगूर से बहुत अधिक 'ग्रेप्स' खाये जा रहे हैं। नुक्ता लगाकर 'वक़्त' मत लीखिये, 'टाइम' लिखिये क्योंकि अंगूठा-छाप से लेकर पीएचडी तक सब 'टाइम' ही बोल रहे हैं। अनुनाद सिंह (वार्ता) 13:44, 22 सितंबर 2017 (UTC)
@अनुनाद सिंह: जी, आज ही नहीं लिख सकता - अंगूर से बहुत अधिक 'ग्रेप्स' खाये जा रहे हों उस बुरे(?) वक़्त के आने में अभी टाइम है। और भविष्य कौन जानता है, हो सकता है ऐसा समय कभी आये ही नहीं। कदाचित आया तो आपको "मैं कहता हूँ..." का उद्घोष नहीं करना पड़ेगा। मैं भी कह रहा हूँ कि नीयत बाँध के विकिपीडिया पर नहीं लिखना चाहिए - देसी-विदेशी में अंतर करके लिखना आप बिना नीयत बाँधे कर लेते हैं? "हिन्दुस्तानी" नहीं बल्कि "हिन्दी" लिखने का आग्रह करना नीयत बँधवाना नहीं है? अंगूर को द्राक्षा में बदलना और कहना कि यह शुद्ध है, बिना नीयत बाँधे हो रहा है? कल को कोई नहर नामक पन्ना कुल्या पर स्थानान्तरित कर देगा और कह देगा कि खुद से बह गयी?--SM7--बातचीत-- 16:52, 22 सितंबर 2017 (UTC)
  • @NehalDaveND: जी जीवन में उतार - चढ़ाव आते रहते है ,कभी अच्छे तो कभी बुरे दिन, जैसा कि अनुनाद जी ने कहा है वैसी ही मेरी राय है। आप अपने निरन्तर योगदान जारी रखें।--•●राजू जांगिड़ (चर्चा करें●•) 04:29, 20 सितंबर 2017 (UTC)

मैं भी अलविदा करना चाहूंगा

वैसे भी मैं कुछ समय से अधिक सक्रिय नहीं हूँ और इसका कारण भी यहीं है।हिन्दी विकिपीडिया में ही हिन्दी के हितों की रक्षा के लिए हमें लड़ना पड़ रहा है।

  • हिन्दी विकिपीडिया में देवनागरी के बदले कुछ प्रबंधकों के द्वारा अरबी अंको को लागू करने का प्रयत्न करना।
  • अंग्रेज़ी भाषा में अनुप्रेषण को शीह नामांकन करने के बाद प्रबंधक अंग्रेजी शीर्षक को हटाने के बदले नामांकन ही हटा देते हैं। अनुरोध करने पर भी नहीं हटाते और अपनी मनमानी करके हिन्दी विकिपीडिया में अंग्रेज़ी भाषा शीर्षक के अनुप्रेषित करने की प्रथा को अनुमोदन दे रहे हैं।
  • अब तो प्रबंधको ने शब्दों के चयन की स्वतंत्रता को छीनकर अपनी मनमानी करना आरंभ कर दिया। वातायन का खिड़की कर दिया और आक्रमण का हमला।
  • उन्होंने अपने ढ़ेर सारे नियम बना रखे हैं और जाड़ते रहते हैं। मनमानी चलाते हैं। किसी नए प्रबंधक, पुनरीक्षक का नामांकन होता है तो हमारे प्रबंधक उन्हें मदद करने के बदले विरोध करते हैं। ताकि उनकी ही मनमानी चलती रहे?
  • आशीष जी एक हिन्दी हित रक्षक प्रबंधक दिखे थे लेकिन उनके बनाये लेखों को निर्वाचित बनाने की समीक्षा में भी इन्होंने भाग नहीं लिया और एक भी लेख निर्वाचित नहीं हो पाया। आशीष जी को बदनाम करने के, उनको साइड में करने के प्रयास भी किये गए।

और भी बहुत से कारण हैं। जो समस्या जय जी के साथ हुई थी मेरे साथ भी हुई है और उनके लिए भी यहीं प्रबंधक जिम्मेदार है। इसलिए अब यहाँ काम करने का मन ही नहीं होता।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 03:41, 20 सितंबर 2017 (UTC)

आर्यावर्त जी, आपने अपने विचार लिख दिये, अच्छा किया। लेकिन हिन्दी विकि का त्याग मत कीजिए, इसमें हिन्दी का या हिन्दी विकि का क्या दोष है? हमे दुष्प्रचार को समझना होगा, उसके प्रतिकार का मार्ग निकालना होगा। पिछले पन्द्रह-बीस वर्षों से भारत में एक अघोषित अभियान चला। 'संस्कृताइज्ड हिन्दी' के विरुद्ध, 'गंगा-जमुनी संस्कृति' को मजबूत करने के लिए (या तुष्टीकरण के लिए?), 'भाषा बहता नीर' की घुटी पिलायी गयी। इसके पीछे एक छद्मवेषधारी माफिया काम कर रहा था। बहुत से सीधे-सादे किन्तु नकलची और पिछलग्गू प्रकृति के लोग इसके शिकार हुए। कुछ नहीं समझ आये तो कह दीजिए कि 'हिन्दी का सरलीकरण' होना चाहिए नहीं तो हिन्दी का विकास नहीं होगा। संस्कृत कठिन थी इसलिए भारत से समाप्त हो गयी? अरे ये तो बताओ कि लैटिन और हजारों अन्य भाषाएँ क्यों और कैसे समाप्त हो गयीं? आजकल पालि क्यों नहीं बोली जाती? कहते हैं कि वह 'आम जन' की भाषा थी।अनुनाद सिंह (वार्ता) 05:59, 20 सितंबर 2017 (UTC)
अनुनाद जी, कुछ समय से में कम सक्रिय हूँ और इसका कारण भी यह संघर्ष ही है। अभी तो मैं वि:हिन्दी दिवसा के कार्य को सम्पन्न करने के लिए कटिबद्ध हूँ। इस चर्चा के बाद भी यदी समस्या का समाधान नहीं मिलता है तो या तो इस स्थान को छोडना ठीक रहेगा या तो लड़ना पड़ेगा। अभी हम विकिपीडिया पर हिन्दी माह मना रहे हैं और आप हिन्दी विकि में ही हिन्दी के हाल देख रहे हैं। आप को अपने लिए नहीं तो हिन्दी के हितो की रक्षा के लिए भी प्रबन्धक होना चाहिए था। आप ही हमारी उम्मीद हैं। वर्तमान स्थिति में हिन्दी विकिपीडिया में हिन्दी असुरक्षित है।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 10:08, 20 सितंबर 2017 (UTC)

प्रश्न

@NehalDaveND: जी, पहली बार आपने "व्यक्तिगत कारणों" से यह दायित्व छोड़ने हेतु लिखा। पुनर्विचार करने पर उपरोक्त कारण बता रहे हैं। उपरोक्त में से कौन सा कारण आपके पुनरीक्षण दायित्व के निर्वाह में बाधक बन रहा? क्या यह दायित्व आपको इसलिए दिया गया था कि क्षुब्ध होने पर आप इसे वापस करने की घोषणा कर सकें?--SM7--बातचीत-- 18:19, 19 सितंबर 2017 (UTC)

स्वान्तः सुखाय के लिये मैं विकिपीडिया पर कार्य करता हूँ। ये मेरा व्यक्तिगत सुख है। ये सुख न मिलने से मेरा सम्पादन कार्य या यहाँ कार्य करना अन्य दायित्व पर सम्भव नहीं है। व्यर्थ ही है। क्योंकि जो कार्य किया जाता है मेरे द्वारा उसे हिन्दी माना नहीं जाता। उसे अन्यथा ही देखा जाता है। एक कथा सुनी थी। कुत्तों और बकरीओं की। नदी पर बने सेतु पर कुत्ते कलह कर जलमग्न होते हैं और उससे विपरीत बकरीयाँ परस्पर सहमती प्रदान करती हैं। भाषा रूपी बकरी को कोई विपत्ति नहीं कि, आक्रमण शब्द उपयोग हो या हमला। उनके लिये तो दोनों शब्द अपने हैं। परन्तु उन भाषा के उपयोग करने वाले केवल अपने रङ्ग के अनुकूल भाषा के उपयोग पर ही जिहाद कर देते हैं। जब तक निष्पक्ष हैं, तब तक ही आप बहुत चतुर हैं। परन्तु जब व्यक्ति के शब्दों में लक्षणा को जानकर भी अभिधा के लिये प्रश्न करते हैं, तो वो पक्षधरता प्रत्यक्ष होती है। प्रतिप्रश्न पुछने के लिये क्षमा चाहता हूँ। आप स्वयं अपना मत देवें कि ...
  1. क्या एक ही शब्द के उपयोग के लिये किसी को विवश करना उचित है?
  2. मुझे कहा गया कि, भारतीय समाचार क्षेत्र के ही मत में वो आतंकवादी हैं, अन्यों के लिये वो आक्रमणकारी हैं। मैंने उन्हीं के सन्दर्भ में से उनको दर्पण दिखाया कि वें आतंकवादी ही हैं। वैसे ही खिड़की का वातायन हुआ। अन्य के कृत्य से ही ये उदाहरण मिला है। आपने वो लेख (खिड़की) बना दिया था, तो मेरा उसमें अन्यथा करना अनुचित प्रतीत होता है। क्योंकि यदि बकरी (भाषा) के परिप्रक्ष्य में देखा जाए, तो दोनों उचित हैं। वैसे ही जब आक्रमण शब्द मैंने उपयोग किया। फिर उसे बकरी के विपरीत परिप्रेक्ष्य में देखा जाए तो मैं क्या करूं? मैं कह रहा हूँ कि जिसे हमला उपयोग करना है, हमला वाले आक्रमण का विरोध न करें और आक्रमण वाले हमला शब्द का। इस में क्या आगे ऐसा नहीं होगा ये आप कह सकते हैं?
  3. आगे बात चली कि अंक भारतीय संविधान ने लिया है नहीं लिया है इत्यादि। समाधान सर्वदा ऐसा होता है कि दोनों को त्याग करना पड़े। यदि कोई एक पक्ष अपने शत प्रतिशत उचित मानता है, तो वो अन्य पक्ष के लिये अन्याय करता है। समाधान अत्यन्त सरल है। निवेश में अरबी अंक उचित है (क्योंकि सभी साँचे अनुकूल होते हैं) उसके लिये अनेक लोग सहमत हैं और दर्शन में देवनागरी अंक हो इस के लिये भी सहमति होगी। समस्या को कठोर करने से मतभेद मनभेद में परिवर्तित हो ही जाता है। तो क्या ऐसा करने में आप कोई प्राथमिक चर्चारंभ करेंगें?
  4. आपने जिस प्रकार मुझे प्रश्न किया, क्या बिना चर्चा के निर्यण घोषित करने वाले पीयूषजी के लिये आपके मन में कोई प्रश्न नहीं हुआ? क्योंकि निष्पक्ष जनों को एक पक्ष पर ही विचार करना नहीं होता। तो क्या आपके पास ये करने के लिये समय होगा?

आशा है इस बार आप लक्षणा और व्यंजना की अवगणना नहीं करेंगे। अस्तु। ॐNehalDaveND 06:50, 20 सितंबर 2017 (UTC)

@NehalDaveND: जी, उपरोक्त प्रश्नों का उत्तर अवश्य देता अगर आपने इन्हें चर्चा का विषय बनाया होता। लेकिन आपने ऐसा नहीं किया बल्कि पहले दायित्व छोड़ने की सूचना देकर ध्यानाकर्षण जरूरी समझा (जितना आपकी कार्यशैली से प्रकट हो रहा है)। और चाह रहे हैं कि इस बहाने आप उन मुद्दों पर अपना पक्ष प्रस्तुत करें। मेरा प्रश्न यथावत है और नितांत अभिधा में है, दायित्व का इस तरह का प्रयोग आप कैसे कर सकते हैं?--SM7--बातचीत-- 15:35, 20 सितंबर 2017 (UTC)
उपरोक्त तर्क जिसमे "प्रचलित शब्द " होने की बात कही गई है.
  • मेरा प्रश्न१ : क्या किसी अंग्रेजी दैनिक पत्र के शीर्षक में कोई हिंदी का शब्द प्रकाशित किया जा सकता है? फिर यह खिचड़ी भाषा हिंदी में ही क्यों? अधिकतर पत्रों की भाषा प्रदूषित हो चुकी है.अतः संदर्भो के लिए उनके "प्रचलित " शब्दों को लेना कहा तक उचित?
  • मेरा प्रश्न२ :जब हिंदी में शब्द उपलब्ध हो तो अन्य भाषा के शब्दों का प्रयोग क्यों? "प्रचलन में है " तर्क सही नहीं क्योकि हम (विकिपीडिया/ऑनलाइन साहित्य ही )भविष्य में तय करेंगे की क्या प्रचलन में रहेगा। रेलगाड़ी अथवा ट्रैन का प्रयोग उचित चूँकि इसके लिए हिंदी में कभी शब्द रहा ही नहीं ,परन्तु जो शब्द हिंदी के है उन्हें प्राथमिकता देनी चाहिए नहीं तो वे भी "प्रचलन " से बाहर हो जायेंगे। जैसे अंग्रेजी में wanna शब्द "प्रचलन" में है परन्तु विश्वकोश में प्रयोग के लिए उपयुक्त नहीं।
  • भाषा की शुद्धता उसके शब्दकोष से निर्धारित की जाती है।यदि शब्दकोष में वो शब्द हो तो प्राथमिकता उसे मिलनी चाहिए।स्वप्निल करंबेलकर (वार्ता) 02:27, 21 सितंबर 2017 (UTC)
@Swapnil.Karambelkar: जी, यहाँ चर्चा मूल रूप से दायित्व छोड़ने पे हो रही। और मैंने नेहल जी से उनके दायित्व छोड़ने की घोषणा के औचित्य पर प्रश्न किया है। लगे हाथ सब इसी चर्चा में निपटा लेंगे क्या ?--SM7--बातचीत-- 04:27, 21 सितंबर 2017 (UTC)
@SM7:मूल विषय (या उसका सार) यह था कि कुछ लोग नेहल जी को हिन्दी शब्दों का प्रयोग करने से प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से रोक रहे हैं। ऐसी स्थिति में वे आपने दायित्व का निर्वाह करने में असमर्थ सिद्ध हो रहे हैं। इसलिए चर्चा सही चल रही है। नेहल जी ने जो प्रश्न किए हैं उसी के उत्तर में इस मामले का हल छिपा हो सकता है।--अनुनाद सिंह (वार्ता) 04:49, 21 सितंबर 2017 (UTC)
क्षमा चाहता हूँ, पर मुसे परिस्थित 180 डिग्री पे दिख रही। एक विवाद पे अपना पक्ष रखने के लिए ध्यानाकर्षण के उपकरण के रूप में एक दायित्व का उपयोग किया जा रहा है। --SM7--बातचीत-- 05:42, 21 सितंबर 2017 (UTC)
@SM7: जी, सही है, अब आप १८० अंश पर घूमना शुरू कर दिए हैं। चर्चा सही तरह से शुरू हुई थी और सही तरीके से चल रही है। -- अनुनाद सिंह (वार्ता) 07:57, 21 सितंबर 2017 (UTC)
@अनुनाद सिंह: यानि आप इस तरह के विवाद शुरू करके अपना पक्ष रखने का माध्यम बनाने को उचित समझते हैं?--SM7--बातचीत-- 14:22, 21 सितंबर 2017 (UTC)
@SM7: जी, किसी के द्वारा कोई महत्वपूर्ण समस्या उठाने को आप 'विवाद' का नाम देकर उत्तर देने से बचने का प्रयास तो नहीं कर रहे हैं?-- अनुनाद सिंह (वार्ता) 15:50, 21 सितंबर 2017 (UTC)


एस.एम.7 जी आपके कहने पर मैं इस विवाद को समाप्त कर क्षमा चाहता हूँ। इस आशा में कि आप मेरे प्रश्नों का उत्तर देंगे। अन्यत्र नये अनुभाग में आप से प्रश्न करता हूँ। आशा ये है कि आप वहाँ उत्तर न देने का कोई अन्य कारण प्रस्तुत करेंगे। परन्तु वास्तविकता और आशा के मध्य का अन्तर भी जानना आवश्यक है। ॐNehalDaveND 03:02, 21 सितंबर 2017 (UTC)
मेरे कहने पर कुछ न करें महोदय! कृपया इतना बड़ा बोझ मुझ पर न लादें। आपने अपने व्यक्तिगात निर्णय में स्वयं को अनिर्णय की स्थिति में पाकर यहाँ चर्चा आरंभ की है। और यह चौपाल है, मेरे लिए प्रश्न यहाँ अनुभाग बना के न लिखें। और समाप्त क्या कर रहे हैं ? आप निर्णय पर पहुँच गए ?--SM7--बातचीत-- 04:31, 21 सितंबर 2017 (UTC)
जी मैंने निर्णय कर लिया है कि अब इस समस्या का समाधान होगा। ॐNehalDaveND 05:13, 21 सितंबर 2017 (UTC)

Discussion on synced reading lists

CKoerner (WMF) (talk) 20:35, 20 सितंबर 2017 (UTC)

SM7 को प्रश्न

@SM7:जी आप से प्रश्न पुछना चाहता हूँ कि ...

  1. क्या एक ही शब्द के उपयोग के लिये किसी को विवश किया जा सकता है?
  2. खिड़की का वातायन करना अनुचित है, तो आक्रमण का हमला करना क्यों अनुचित नहीं है?
  3. अंक का जो विवाद है, उस में निवेश में अरबी अंक और परिणाम में भारतीय अंक हो तो क्या आप उस समस्या का समाधान करने के लिये तत्पर हैं?
  4. बिना चर्चा के "तार्किक रूप से सही" कहने वाले पीयूषजी से आप प्रश्न करेंगे कि क्या तर्क है, जो उस निर्णय पर बिना चर्चा के भी सही है?
  5. इस सम्पादन में जो परिवर्तन हुए हैं, जिस में सन्दर्भों का निष्कासन हुआ है और शब्दों को परिवर्तित किया गया है, उसके लिये आप क्या कार्यवाही करेंगें?

मैंने ये अनुभव किया है। जब तर्क समाप्त हो जाते हैं, तो ऐसे कारण देकर उसे टाला जाता है, जो वास्तव में एक व्यक्ति नहीं करता है। आप से इन प्रश्नों पर वैसे ही स्पष्ट उत्तर की अपेक्षा है, जैसी भाषा में आप अन्यों से प्रश्न पूछते हैं। अस्तु। ॐNehalDaveND 03:13, 21 सितंबर 2017 (UTC)

किसी ने 'द्वितीय विश्वयुद्ध' को 'दूसरा विश्व युद्ध' कर दिया था। कारण दिया था 'द्वितीय' एक संस्कृत शब्द है।'अनुनाद सिंह (वार्ता) 04:26, 21 सितंबर 2017 (UTC)
हमला और आक्रमण में अंतर
  • हमला: हमला प्रायः और अस्त्र -शस्त्र रहित भी हो सकते हैं।
  • आक्रमण : जब हमला योजनाबद्ध हो और अस्त्र -शस्त्र प्रयुक्त हों। वहां आक्रमण शब्द प्रयुक्त होना चाहिए।

-- ए० एल० मिश्र (वार्ता) 14:49, 21 सितंबर 2017 (UTC)

ये संपादन अपने आप में एक आक्रमण है। इस प्रकार हिन्दी की, हिन्दी के शब्दों की दुर्दशा देखकर कोई भी हिन्दीप्रेमी योगदान देना नहीं चाहेगा। ये तो अब सीधे सीधे ही लेख बनाने वालें के साथ अतिक्रमण हो रहा है। न केवल आक्रमण का हमला, परन्तु का लेकिन, देवनागरी अंको के अरबी कर दिए। सभी संस्कृतनिष्ठ हिन्दी शब्दों को बदल दिया गया। ये तो अब बहुत बड़ी समस्या हो गई है।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 17:12, 21 सितंबर 2017 (UTC)
  • पिछले बहुत दिनों से सक्रिय नहीं रह पाने के कारण मैं इस चर्चा से अलग चल रह आथा, किन्तु अभी इस चर्चा पर कुछ उड़ती दृष्टि डाली। इस सन्दर्भ में ये लिखना चाहूंगा कि एक शब्द होता है हमलावर, जिसका अर्थ है हमला करने वाला। अब यहां वर प्रत्यय का प्रयोग किया गया है जो कि उर्दु (संभवतः फारसी मूल) से आया है। हिन्दी में आक्रमणकारी शब्द होता है। इस को ध्यान में रखते हुए हम शायद इस निष्कर्ष पर पहुंच पायें कि हमला हिन्दी मूल का हो, इसमें सन्देह है, किन्तु आक्रमण तो निश्चितरूप से हिन्दी का ही शब्द है।
  • एक शायद बेकार का तर्क ये भी है कि हमला छोटा व आक्रमण बड़े हमले के लिये प्रयोग होता है, किन्तु ये बेकार का ही तथ्य है।
कई निजी समाचार टीवी चैनल्स पर उर्दु का अत्याधिक मिश्रण किया जाता है, जैसे आजतक पर विशेषरूप से शख़्स, आदि। अब अगली पीड़ी तो उसे पढ़ते पढ़ते हिन्दी चैनल के कारण इसे हिन्दी शब्द ही समझेंगे व उदाहरण के साथ तर्क भी देंगे।
*एक सीधा सादा तरीका समाधान ढूंढने का ये भी हो सकता है कि हमला हिन्दी हो न हो, किन्तु आक्रमण पर सभी एकमत होंगे तो कम से कम आक्रमण पर आक्रमण न किया जाये व उसे रहने ही दिया जाये।(मेरे विचार में) आशीष भटनागरवार्ता 02:01, 23 सितंबर 2017 (UTC)
हम आशीष भटनागर के विचारों से सहमत हैं। -- ए० एल० मिश्र (वार्ता) 06:08, 23 सितंबर 2017 (UTC)
आशीष जी ने निःसंदेह अच्छे से समझाया। मेरे विचार से भी, हम सब एक मत से उनकी इस बात को समझ सकते है और मान सकते है। पूर्ण रूप से सहमत। स्वप्निल करंबेलकर (वार्ता) 06:15, 23 सितंबर 2017 (UTC)
उपर की चर्चा के प्रकाश में हमें हिन्दी विकि की शैली-मार्गदर्शिका का पुनर्निर्माण करना चाहिए। अन्य बातों के साथ इसमें नुक्ते के प्रश्न और 'प्रचलन' को कितना महत्व दिया जाय - इन दोनों से सम्बन्धित नीति होनी चाहिए। कौन निर्धारित करेगा कि एक शब्द, दूसरे की अपेक्षा अधिक प्रचलित है? वर्तमान शैली-मार्गदर्शिका अत्यन्त एकांगी है और पढ़ने पर ऐसा लगेगा कि हिन्दी में विशेष रूप से नुक्ते की रक्षा के लिए रची गयी है।-- अनुनाद सिंह (वार्ता) 07:42, 23 सितंबर 2017 (UTC)
भाषा विज्ञान में यह एक स्थापित तथ्य है कि हिन्दी शब्दों के बहुत सारे मुख़्तलिफ़ मूल होते हैं। तद्भव, तत्सम, संस्कृत, प्राकृत, अरबी, तुर्कीयाई, फ़ारसी, द्रविड़, चीनी, पुर्तगाली, अंग्रेज़ी, आदि। वैसे तो "हिन्दी" भी फ़ारसी/अरबी से लिया गया शब्द है, ज़रा बता दीजिए इसका संस्कृतकरण कैसे करेंगे आप लोग? हमारी सदियों पुरानी भाषा, ज़बान-ए हिन्द, हिन्दुस्तानी खाड़ीबोली यानि कि हिन्दी की इस बेइज़्ज़ती बन्द कीदिए अब।
विकिपीडिया:लेखन शैली में साफ़ लिखा है कि "हिन्दी विकिपीडिया पर लेख रोजमर्रा की सामान्य हिन्दी अर्थात खड़ीबोली (हिन्दुस्तानी अथवा हिन्दी-उर्दू) में लिखे जाने चाहिये। हालाँकि तकनीकी तथा विशेष शब्दावली हेतु शुद्ध संस्कृतिनष्ठ हिन्दी के ही प्रयोग की संस्तुति की जाती है।" - यह सही शैली-मार्गदर्शिका है और विकी के सारे लिखने और पढ़ने वालों के लिए सबसे उत्तम है।
इस ज़ाहिर सी बात को समझाने की ज़रूरत नहीं है कि "हमला", "ज़िम्मेदारी", "अंगूर", "और", "लेकिन" आदि सारे शब्द हिन्दी की आम शब्दावली में आते हैं, इनकी जगहों पर फ़ालतू संस्कृतनिष्ठ शब्दों का इस्तेमाल करना बेकार है। "आक्रमण", "उत्तरदायित्व", "द्राक्षा", "एवं", "किन्तु-परन्तु" जैसी शब्दावली हिन्दी की आम और प्रचलित बोलचाल की शब्दावली में कभी नहीं आते हैं। तकनीकी अवधारणाओं और उच्च शब्दावली के लिए हम उपयुक्त संस्कृतनिष्ठ शब्दों का इस्तेमाल ज़रूर करेंगे लेकिन किसी राजनैतिक या धार्मिक कट्टरपंथी विचारधारा के लिए हमारी प्रचलित और आम शब्दावली का अनादर मत कीजिए। विकिपीडिया अपने मास संस्कृताइज़ेशन और सेफ़्रोनाइज़ेशन आन्दोलन चलाने के लिए जगह नहीं है। अगर आप लोग संस्कृत के इतने बड़े प्रेमी हैं, तो sa.wikipedia.org/ पर जाइए और ख़ूब लिखिए। हर भाषा अपनी प्रचलित शब्दावली का इस्तेमाल करना चाहिए, वैसे ही अगर हमें हिन्दी में लिखना है तो हम हिन्दी की प्रचलित शब्दावली की नज़रअंदाज़ी कैसे कर सकते हैं?
सादर, --सलमा महमूद 22:33, 23 सितंबर 2017 (UTC)
सलमा जी ने समस्या का मूल बता दिया, जो ये लेखन शैली नीति। इसमें बदलाव हो या तो विकि में निराश होकर लिखना छोड़ दें। ये सब अब नहीं।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 03:23, 24 सितंबर 2017 (UTC)
@Salma Mahmoud:आप अपना आतंकवाद क्यों नहीं उर्दू विकि पर जा कर करती हैं? "फ़ालतू संस्कृतनिष्ठ शब्दों का इस्तेमाल करना बेकार है।" इस वाक्य से आपने आरम्भ किया तो अब मैं शान्त नहीं रहूंगा। महिला हैं, अतः इतना ही लिखा। महिला का सम्मान करते हुए मैंने सर्वदा आप से चर्चा की है। परन्तु आपको पहले चर्चा करने की शैली ज्ञात हो ये आवश्यकता है। जब भी आप से बात करते हैं, आप विषय को अन्यत्र ले जाती हैं, और अपमान जनक शब्दों का प्रयोग करती हैं। यहाँ चर्चा ये हो रही है कि, जैसे हमला शब्द का प्रयोग स्वतन्त्रता से उपयोग किया जा सकता है, क्योंकि वो एक हिन्दी शब्द के रूप में गिना जाता है, तो हिन्दी शब्द के रूप में ही गिने जाने वाले आक्रमण शब्दो के प्रयोग पर प्रतिबन्ध क्यों लगाया गया है?

आपने कहा वो आतंकवादी नहीं है और सभी स्रोत कहते हैं, वो आतंकवादी थे। एक भी स्रोत ले कर आवें, जहाँ लिखा है कि वो आक्रमणकारी थे। आपने जितनी भी बातें कहीं, वो सभी पक्षपात से परिपूर्ण थीं। अपनी विचारधारा के समान आपकी चर्चा के अंश भी निर्मूल और पक्षपाती हैं। आप कदाचित् उन लोगों की अवगणना कर रही हैं, जो शुद्ध भाषा में बोलते हैं। कभी भोपाल जाएं और वहाँ की हिन्दी विश्वविद्यालय में देखें, बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय और इग्नू में भी हिन्दी का स्तर देखें। स्वयं निरक्षर लोग कक्षा में न जाकर जब शब्दों को केवल बातों के शब्दों से सिखते हैं, तो वो मेरेको, तेरेको, अपनको ही सिखते हैं। किसी भी भाषा के किसी भी तज्ज्ञ सें पुछें कि, क्या बोलने की भाषा और लिखने की भाषा में अन्तर होता हैं? उत्तर यदि सकारात्मक न हो, तो कहें। सर्वदा भाष्यमाणा भाषा और लेख्यमाना भाषा भिन्न भिन्न स्तरों पर होती हैं। क्योंकि लेखन को भाषण से अधिक प्राधान्यता मिलती हैं। आपकी बात नहीं कर रहा हूँ। परन्तु जो लोग सभ्य हैं, वो सोचकर और उचित अनुचित का निर्णय करके लिखते हैं, क्योंकि ये एक अभिलेख हो सकता है।
यदि भाषा की दृष्टि से देखें, जो तर्क आप दे रही हैं, तो हमला और आक्रमण दोनों हिन्दी शब्द हैं। यदि कोई हमला शब्द, जो आपके ऐनक में अधिक बोला जाने वाला हिन्दी शब्द है, तो आक्रमण कोई हिन्दी से निष्कासित नहीं हो जाता। वो भी हिन्दी शब्द ही रहेगा, भले ही कल हमला शब्द भी अप्रचलित हो जाए और उसके स्थान पर कोई अन्य शब्द प्रचलित हो। जब दोनों शब्द हिन्दी हैं, तो आप केवल "हमला", "ज़िम्मेदारी", "अंगूर", "और", "लेकिन" इन शब्दों के प्रयोग पर ही कैसे पक्षपातपूर्ण रूप से विवश कर सकती हैं? यदि "हमला", "ज़िम्मेदारी", "अंगूर", "और", "लेकिन" इत्यादि शब्द उचित हिन्दी हैं, तो "आक्रमण", "दायित्व", "द्राक्षा", "परन्तु" इत्यादि अनुचित सिद्ध करें कि ये हिन्दी नहीं हैं।
अब आपने जो लिखा है कि, 'तकनीकी अवधारणाओं और उच्च शब्दावली के लिए हम उपयुक्त संस्कृतनिष्ठ शब्दों का इस्तेमाल ज़रूर करेंगे' ये आपके शब्द स्मरण रखना और यदि विस्मृत हो जाएँ, तो चिन्ता न करें, मैं आपको इस चर्चा का सन्दर्भ दे कर स्मरण करवाउंगा। मैं इस के पश्चात् हिन्दी विकिपीडिया पर जितने भी इस प्रकार के नीतिगत पृष्ठ हैं, उनमें परिवर्तन का प्रकल्प आरंभ करूंगा। उस समय आप ये न कहना कि यहाँ भी बोलनें में आने वाले प्रसिद्ध शब्द ही होनें चाहिए, क्योंकि नीति सामान्य लोगो को पढ़नी है। जैसे एस.एम.7 जी प्रश्नों का उत्तर देनें से कतरा रहे हैं, आप भी मेरे प्रश्नों का उत्तर देनें से कतराना नहीं। यदि वास्तव में आपके लिये भाषा महत्त्वपूर्ण हैं और आप हिन्दी में प्रयुक्त होने (अधिक उपयोग होने वाले और न्यून उपयोग होनो वाले) सभी शब्दों को हिन्दी के अन्तर्भूत मानते हैं, (भाषा विज्ञान में यह एक स्थापित तथ्य है कि हिन्दी शब्दों के बहुत सारे मुख़्तलिफ़ मूल होते हैं। तद्भव, तत्सम, संस्कृत, प्राकृत, अरबी, तुर्कीयाई, फ़ारसी, द्रविड़, चीनी, पुर्तगाली, अंग्रेज़ी, आदि। वैसे तो "हिन्दी" भी फ़ारसी/अरबी से लिया गया शब्द है) तो जैसे हमें ये चिन्ता नहीं कि आप लेकिन लिखें उत परन्तु, वैसे ही आपको भी चिन्ता नहीं होनी चाहिये कि सामने वाला परन्तु लिखें उत लेकिन। हिन्दी को अपनी राजनैतिक या धार्मिक कट्टरपंथी विचारधारा के आधार पर विभक्त न करें। विकिपीडिया अपना शाब्द-आतंकवाद और जिहादी आन्दोलन चलाने के लिए स्थान नहीं है।
यदि आप चाहते हैं कि, आगे से हम केवल तर्कों और तथ्यों पर चर्चा करें, तो अपने शब्दों के चयन पर विचार करें। क्योंकि आपके प्रत्युत्तर के पश्चात् मैं भी उसी भाषा में प्रत्युत्तर दूंगा, जिसका प्रयोग आप करेंगें। आपने असभ्यता का आरम्भ किया था, तो आपको ही इसका अन्त करना होगा। यदि आप मुझे फिर से ऐसा कुछ लिखेंगे, तो मैं भी लिखूंगा। अस्तु। ॐNehalDaveND 04:08, 24 सितंबर 2017 (UTC)

नेहाल जी फिर से अपने ज्ज़बातों में आकर गालियाँ दे रहे हैं। इंडिया के इंटरनेट यूज़रों की गिनती पूरी अमरीका की आबादी से भी ज़्यादा है, लेकिन हिन्दी विकी पर सदस्यगण और लेखों की गिनती इतनी कम क्यों है? क्योंकि यहाँ पर उन बयालीस करोड़ से ज़्यादा लोगों की ज़बान की बेइज़्ज़ती हो रही है। अगर आम हिन्दुस्तानियों की बोली से प्रेम करना, और इसकी इज़्ज़त करना अब एक "जिहाद" है तो समझिए कि मैं मुजाहिद हूँ। अगर हिन्दी से इतनी नफ़रत है तो यहाँ से ज़रूर जाइएगा। इस सदियों पुरानी ज़बान की विकिपीडिया पर अपनी इस नई हिन्दुत्ववादी कट्टरपंथी लिंग्विस्टिक पियूरिज़्म विचारधारा का प्रचार मत कीजिए। "हमला हिन्दी मूल का हो, इसमें सन्देह है, किन्तु आक्रमण तो निश्चितरूप से हिन्दी का ही शब्द है।" - इसी "तर्क" के मुताबिक़ शब्द "हिन्दी" भी "हिन्दी मूल" का नहीं है। यह भी भाषा विज्ञान द्वारा स्थापित तथ्य है कि हिन्दी और उर्दू एक ही भाषा है। मैने अभी आप लोगों को इस बात के बारे में समझाया कि हिन्दी की शब्दावली के विभिन्न स्रोत होते हैं। तो इस तर्कहीन, अवैज्ञानिक, अनपढ़ और मूर्खतापूर्ण प्रसाव पर हिन्दी विकी की लेखन शैली नीति का पुनर्निर्माण करना अनावश्यक है। लिखित रूप में खाड़ीबोली, हिन्दुस्तानी अथवा सामान्य हिन्दी का इस्तेमाल नेहाल डेव जी की इस नक़ली, बेकार में संस्कृतनिष्ठ भाषा से बहुत ही ज़्यादा आम है। तो सामान्य व प्रचलित हिन्दी शब्दावली का विकिपीडिया पर इस्तेमाल करना बिल्कुल ही जायज़ है। सादर, --सलमा महमूद 12:03, 24 सितंबर 2017 (UTC)
सलमा जी,
'हिन्दी' का नाम लेकर आप हिन्दी के फारसीकरण का समर्थन कर रहीं हैं। दूसरों पर 'भगवाकरण' का आोप लगाकर पूरा हरा-काला करने का ही यत्न हो रहा है। आप 'हिन्दी के अपमान' का नाम लेकर वैसे ही आक्रमण कर रही हैं जैसे काश्मीर में आतंकी सेना की छद्मवर्दी में घुसकर आक्रमण करते हैं। पर यह बार-बार सफल नहीं हो सकता। जिसे आप 'हिन्दी' कह रहीं हैं उसे लोगों ने १०० वर्ष पहले ही समझ लिया था कि यह उर्दू-फारसी है, हम पर एक प्रकार की गुलामी लादी गयी है, इससे हमे मुक्ति पाना है- यह सब सोचकर एक आन्दोलन चलाया और सफल हुए। पिछले १५-२० वर्षों में कुछ लोगों ने 'सरलता' का नाम लेकर हिन्दी के क्रियोलीकरण की प्रक्रिया शुरू की। जिसका परिणाम यह दिख रहा है कि आपको 'आक्रमण', 'तथा', 'एवं', 'किन्तु' आदि शब्द कठिन लगने लगे हैं। सलमा जी, ये वे शब्द हैं जो पूरे भारत ही नहीं, पड़ोसी देशों में भी बोले समझे जाते हैं। 'हिन्दी' शब्द विदेशियों ने दिया तो क्या हुआ? अपने शब्द होते हुए भी हम विदेशी शब्द प्रयोग करेंगे? हिन्दी और उर्दू कितनी एक हैं और कितनी अलग है, सबको पता है। दोनों एक हैं तो दोनों के लिए अलग-अलग पुरस्कार क्यों है? कई राज्यों में हिन्दी प्रथम भाषा और उर्दू द्वितीय भाषा क्यों है? समय आने पर परायी भाषा को सभी देशों ने एकबार में या धीरे-धीरे हटाया है। तुर्की और बांगलादेश को देखिए। चीनी-जापानी कठिन कही जाती हैं लेकिन वे सरल शब्दों की खोज में सउदी-अरब तो नहीं जाते।- अनुनाद सिंह (वार्ता) 13:37, 24 सितंबर 2017 (UTC)

‍‍‍‍‍ ‍

जिसे हम अप्रचलित शब्द कहते हैं, उनमें से कई सारे शब्द दूसरे भाषाओं में आम बोलचाल में उपयोग होते हैं और ऐसे शब्द जो अंग्रेजी का हिन्दी में अनुवाद के लिए बनाए गए हैं, वे सब सच में अप्रचलित ही हैं। क्योंकि उन्हें केवल हिन्दी में अनुवाद करने हेतु ही बनाया गया है। तो ऐसे शब्द आप लोग केवल पुस्तकों में ही देखेंगे, या हो सकता है कि कुछ लोग उसी शब्द को बोलते हों, पर अंग्रेजी माध्यम में पढ़ने वाले अधिकांश लोग उस शब्द से परिचित नहीं होते हैं, हालांकि ऐसे शब्दों को विकिपीडिया में आसानी से लिख सकते हैं। क्योंकि उनका कोई अन्य रूप हिन्दी के शब्द के रूप में प्रचलित नहीं है। समस्या केवल उन शब्दों में उत्पन्न हो जाती है, जिसका कोई और शब्द पहले से ही काफी प्रचलित हो।

प्रचलित/अप्रचलित का मुद्दा आधारहीन है, इसका मापन सम्भव नहीं। कौन सा सिद्धान्त कहता है कि प्रचलित को ही लिखा जाएगा? यह तो भाषा संरक्षण की नीति के विरुद्ध है। यह नीति उन भषाओं का गला ही दबा देगी जो मरणासन्न हैं। यदि प्रचलित को ही लिखना होता तो वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग बनाने की आवश्यकता क्या थी? तकनीकी शब्द-निर्माण के लिए लगभग सभी सभ्य और आत्मसम्मानी देशों ने संस्थाएँ बनायी है। अनुनाद सिंह (वार्ता) 17:53, 25 सितंबर 2017 (UTC)

विद्यालयों में क ख ग वाली पुस्तकों में अं से अंगूर और से दवात लिखा होता है। शुरू से हमें "अंगूर" शब्द ही हिन्दी में पढ़ाया जाता है, यदि अचानक हम उसे कुछ और कर देंगे तो किसी को अच्छा नहीं लगेगा। पढ़ाई में "अंगूर" शब्द ही प्रचलित है और लोग भी अंगूर शब्द से तुरंत समझ जाते हैं। द्राक्षा जैसा शब्द तो मैंने पहली बार यहीं सुना था।

पहले आपने यह लिखा था कि 'द्राक्षासव' आपने सुना था किन्तु उसका अर्थ बहुत बाद में समझ आया था। अनुनाद सिंह (वार्ता) 17:53, 25 सितंबर 2017 (UTC)

आवश्यकता, दायित्व जैसे कई सारे शब्द तो हिन्दी माध्यम के पुस्तकों में रहते ही हैं और अंग्रेजी माध्यम में हिन्दी विषय में भी इसका उपयोग होता ही होगा। तो सभी को इसका अर्थ पता ही होगा, पर बातचीत में इन शब्दों का बहुत ही कम उपयोग है। फिर भी इनके उसे कोई समस्या नहीं है। पर समस्या ऐसे शब्दों से हो जाती है, जो हिन्दी माध्यम की पुस्तकों में होती ही नहीं है और उसका विकिपीडिया में उपयोग किया जाता है। अंगूर और खिड़की शब्द का उपयोग पुस्तकों में भी होता है और सामान्य बातचीत में भी बहुत उपयोग होता है। इसके अलावा फिल्मों में गानों में भी इसका उपयोग किया गया है।

यह एक सुप्रसिद्ध तथ्य है कि लिखित भाषा, बोलचाल की भाषा से बहुत भिन्न होती है। इतना ही नहीं, विषय के अनुसार भाषा बदलनी पड़ती है। गणित की अपनी भाषा है, रसायन की अपनी भाषा है। दार्शनिक विषयों पर 'बॉलीवुड की भाषा' में नहीं लिखा जा सकता। अनुनाद सिंह (वार्ता) 17:53, 25 सितंबर 2017 (UTC)

कोई भी शब्द किसी एक माध्यम से प्रचलित नहीं हो सकता। विकिपीडिया में यदि हम अंगूर को द्राक्षा भी कर दें तो शायद अंगूर शब्द अप्रचलित हो जाये, पर द्राक्षा का प्रचलित होना मुश्किल है। पर अंगूर शब्द अप्रचलित हुआ तो उसका स्थान अंग्रेजी शब्द ही ले लेगा। वैसे भी धीरे धीरे अंग्रेजी के शब्द बहुत ही अधिक हो रहे हैं। फिल्मों से लेकर समाचार पत्रों में भी अंग्रेजी के शब्द अधिक हो रहे हैं। ऐसे समय में यदि हम किसी प्रचलित हिन्दी शब्द को हटा कर उसके स्थान पर दूसरे शब्द को लाने का प्रयास करेंगे तो इसका लाभ केवल अंग्रेजी के शब्द को ही मिलेगा। शायद हिन्दी में ढेर सारे अंग्रेजी शब्द के प्रचलित होने का कारण भी यही है कि हम उसे दूसरे भाषा का शब्द है बोल कर उसे अलग कर के दूसरे शब्दों को प्रचलित करने में समय व्यर्थ कर देते हैं। ऐसे सभी शब्दों में आज फिल्मों या समाचार पत्रों में ज्यादातर अंग्रेजी के शब्द ही आ गए हैं।

ये 'वक्त-समय-टाइम' किसी का हाइपोथेसिस है, स्थापित सिद्धान्त नहीं। इस पर बहुत चर्चा हुई है। मैं इसे तर्कहीन मानता हूँ। अनुनाद सिंह (वार्ता) 17:53, 25 सितंबर 2017 (UTC)
(सत्यम् मिश्र और हुञ्जाल एक ही व्यक्ति के दो अवतार तो नहीं??)

यदि हमें इन शब्दों का प्रचार भी करना है तो ऐसा प्रचार करना चाहिए कि पढ़ने वाले को बहुत ही आसानी से इन शब्दों का ज्ञान हो जाये। इस तरह से करना है कि जिसे इस के बारे में कुछ भी पता न हो, वो इस शब्द को देख कर याद रख सके।

वैसे यदि आप थोड़ा ध्यान से सोचेंगे तो आपको पता चलेगा कि आपको कई सारे अंग्रेजी शब्दों का ज्ञान है। शायद ऐसे शब्दों का भी ज्ञान है, जिसका हिन्दी अर्थ भी आपको पता नहीं होगा। पर इसका सबसे बड़ा कारण यही है कि हमारे ही पाठ्यपुस्तकों में हिन्दी के साथ साथ अंग्रेजी नाम भी दिया होता है और हम अपने आप ही उन शब्दों को याद कर लेते हैं, जबकि हमारा उद्देश्य भी ऐसा नहीं होता है। केवल शब्दों के साथ रखने के कारण हिन्दी के अर्थ और परिभाषा के कारण ही हम उन शब्दों के अर्थ और परिभाषा को जान लेते है और किसी को न तो उसका ध्यान होता है और न ही वो उसे पढ़ने में अपना समय व्यर्थ करता है। ये सभी अपने आप ही हो जाता है। आप यदि उन शब्दों को फिर से देखोगे, तो आपको उसी समय उसका अर्थ समझ आ जाएगा क्योंकि उसे आप हिन्दी शब्द और परिभाषा के साथ ही देखे हो।

पर हम ऐसा शायद कभी नहीं कर सकते, क्योंकि हम उसके स्थान पर तो अंग्रेजी नाम ही लिख देते हैं, जिससे सभी को अर्थ पता चल सके या गूगल, बिंग आदि में पहले स्थान पर दिख सके, हालांकि लोग गूगल का अधिक उपयोग करते हैं और वो अपने आप ही हिन्दी चुने हुए लोगों के लिए अनुवाद कर के हिन्दी में ही परिणाम दिखा देता है और उस कारण हिन्दी विकिपीडिया का लेख ऊपर दिख जाता है। और जो लोग हिन्दी को परिणाम दिखाने के लिए नहीं चुने हैं, उन लोग चाहें तो हिन्दी में भी लिख लें, बहुत कम संभावना है कि हिन्दी विकिपीडिया का ऊपर दिखेगा। और यदि वे लोग अंग्रेजी में लिख दिये तो हिन्दी का कोई लेख तो दिखेगा ही नहीं, चाहे हिन्दी में कितना भी अंग्रेजी लिख लें।

हमें हिन्दी के शब्दों के लेखों में अंग्रेजी शब्दों को रखने की कोई जरूरत ही नहीं है, क्योंकि गूगल अपने आप ही उन शब्दों को खोजने से हिन्दी में हिन्दी विकिपीडिया के लेख को आगे ले आएगा और यदि कोई लेख में शब्द खोजने लगा तो उसे दूसरे भाषाओं की कड़ी में तो मिल ही जाएगा। वैसे यदि कोई विकिपीडिया में ही उस शब्द को ढूँढने लगे तो भी सन्दर्भ में एक भी जगह उसका अंग्रेजी शब्द हुआ तो उससे वो लेख मिल ही जाएगा।

गूगल बिंग आदि की बात पता नहीं क्यों कर रहे हैं। यह अपने-आप में एक अलग विषय है। अनुनाद सिंह (वार्ता) 17:53, 25 सितंबर 2017 (UTC)

यदि कोई शब्द थोड़ा ही प्रचलित है तो उसके स्थान पर कोई और हिन्दी शब्द लिखने से भी चलेगा, पर जो शब्द पाठ्यपुस्तकों में भी रहता है, फिल्मों के गानों में भी उपयोग किया जाता है और सामान्य बातचीत में भी उपयोग किया जाता है, ऐसे शब्दों को हटाना ठीक नहीं है। पर यदि बाद में कोई हिन्दी शब्द उसके स्थान पर प्रचलित हो जाये तो उसे लिख सकते हैं। लेकिन तब तक ऐसा करना सही नहीं है। यदि "अंगूर" शब्द उर्दू में है तो ये और भी अच्छा है, क्योंकि इससे शब्द को प्रचलित रखने या और अधिक प्रचलित करने में बहुत आसानी होगी। पर दो अलग अलग शब्दों के चक्कर में ही हम रहे तो तीसरे अंग्रेजी शब्द को प्रचलित बनाने का ही कार्य करेंगे। हो सकता है कि कभी द्राक्षा शब्द भी प्रचलन में आ जाये, पर उससे यही होगा कि हिन्दी भाषी सोचेगा कि किस शब्द का उपयोग करूँ और किस शब्द का नहीं, और अंत में वो हो सकता है कि अंग्रेजी शब्द का उपयोग करने की सोचे। पर हम सभी "अंगूर" शब्द को ही प्रचलित बनाए रखने का प्रयास करें तो हिन्दी में हमेशा ही लोग "अंगूर" ही लिखेंगे और कोई उसके स्थान पर अंग्रेजी शब्द लिखने की सोचेगा ही नहीं।

वैसे किसी शब्द के प्रचार करने हेतु हमें केवल यही तरीका मिलता है कि उस लेख का नाम उस शब्द से बदल दिया जाये, पर एक ही माध्यम से इस तरह का प्रचार करने से ऐसे शब्द जो प्रचलन में नहीं हैं या कम हैं, उनके स्थान पर आसनी से उपयोग कर सकते हैं। शायद कम प्रचलित शब्दों को हटाने से कोई समस्या नहीं होगी। पर हमें पहले अंग्रेजी के शब्दों को हटाना पड़ेगा और नए आ रहे शब्दों को रोकना भी पड़ेगा। क्योंकि फारसी आदि भाषाओं से शब्दों का आना तो वैसे भी बंद हो गया है और नए शब्द आ भी नहीं सकते या आए भी तो किसी को समझ नहीं आएंगे, पर अंग्रेजी में ऐसा नहीं है। अभी अंग्रेजी के कई सारे शब्द हिन्दी में उपयोग हो रहे हैं पर ऐसे शब्दों की संख्या बहुत तेजी से बढ़ रही है। इस कारण हमें पहले अंग्रेजी के शब्दों के बारे में सोचना चाहिए और उसका उचित अनुवाद और उसके स्थान पर ठीक तरीके से हिन्दी शब्दों का उपयोग करना चाहिए।

हिन्दी में लिखते समय कई बार दो या उससे अधिक शब्दों में से एक को चुनना पड़ता है। उसके कारण समस्या भी उत्पन्न हो जाती है और लिखने का काम धीमा हो जाता है। हिन्दी विकि में "श्रेणी" शब्द का ही उपयोग होता है। इस कारण सभी सक्रिय सदस्यों को इसका अर्थ पता होगा। लेकिन हम उसके जगह कोई और शब्द भी रख दें तो कुछ लोग भ्रम में रहेंगे कि श्रेणी का उपयोग करें या किसी और शब्द का उपयोग सही रहेगा। उसके बाद हो सकता है कि वे लोग अंग्रेजी के ही शब्द को लिखने लगें क्योंकि उन्हें "श्रेणी" शब्द ही याद नहीं रहेगा। दो या दो से अधिक शब्दों के किसी भाषा में उपयोग से दोनों ही शब्द कमजोर हो जाते हैं और उनका उपयोग लगभग आधा हो जाता है। यदि मान लें कि कोई शब्द पचास प्रतिशत प्रचलित है और कोई दूसरा शब्द भी उतना ही प्रतिशत प्रचलित है। तो कोई व्यक्ति यदि कुछ लिख रहा हो तो वो उन दोनों में से कौनसा शब्द उपयोग करेगा? वो यही देखेगा कि किस शब्द का उपयोग अधिक हो है और उसे ऐसा लगा कि बड़ी संख्या में ऐसे लोग हैं, जो उस शब्द को समझ नहीं पाएंगे तो वो अपने लेख में उस शब्द के स्थान पर कोई सभी को समझ में आने लायक शब्द खोजेगा। पढ़ाई में तो वैसे भी अंग्रेजी पढ़ाया जाता ही है, चाहे आप हिन्दी माध्यम में भी क्यों न पढ़े हों। इस कारण वो इन दोनों शब्दों के स्थान पर अंग्रेजी शब्द को चुन लेगा।

दो या दो से अधिक शब्दों के किसी भाषा में उपयोग से दोनों ही शब्द कमजोर हो जाते हैं - सत्य से कोसों दूर है। सू्र्य के बीसों पर्याय हमें रटाए जाते थे। रामचरित मानस पढ़िए, पता चलेगा कितने पर्याय प्रयुक्त होते है। अनुनाद सिंह (वार्ता) 17:53, 25 सितंबर 2017 (UTC)

आप लोगों ने फुट डालो और राज करो की नीति के बारे में तो सुना ही होगा। शब्द भाषा की शक्ति होती है और जिस भाषा के जिस शब्द का अधिक उपयोग करें, वो उतना ही शक्तिशाली होता है। लेकिन दो या उससे अधिक शब्द के उपयोग करने से ये कुछ "फुट डालो और राज करो" की नीति के समान हो जाएगा। जिसके कारण शब्दों की शक्ति आधी या और कम हो जाएगी। इस कारण यदि हिन्दी में कोई एक शब्द प्रचलित है तो उसे ही उपयोग करना सही रहेगा।

फारसी आदि भाषाओं से जितने शब्द हिन्दी में आए हैं, उतने ही रहेंगे, अब उनकी संख्या नहीं बढ़ने वाली, पर हमें अंग्रेजी से आने वाले शब्दों को ही रोकना चाहिए, क्योंकि उसके कई सारे शब्द हिन्दी के प्रचलित शब्दों की जगह ले रहे हैं और उनके शब्द तो अभी भी आ रहे हैं। "रेडियो", "मोबाइल" जैसे शब्दों को रखने में कोई बुराई नहीं है, पर हॉरर, रिलीज़, स्टोरेज, जैसे कई सारे अंग्रेजी शब्दों को रोकना चाहिए। इस तरह के शब्दों को हम तभी रोक सकेंगे, यदि हम हिन्दी के वर्तमान प्रचलित शब्दों को ही प्रचलित करने और प्रचलन में बनाए रखने का प्रयास करें।

कुछ विदेशी शब्दों को छोड़कर सभी को हटाना चाहिए- कुछ को तुरन्त, कुछ को समयबद्ध रूप में धीरे-धीरे। हिन्दी की घोषित नीति होनी चहिए कि उसे ऐसे शब्द अपनाने-बनाने हैं जिससे वह अन्य भारतीय भाषाओं के और भी निकट आ सके। अनुनाद सिंह (वार्ता) 17:57, 25 सितंबर 2017 (UTC)

हमें केवल प्रचलित शब्दों का ही उपयोग नहीं करना है। हम सभी हिन्दी के शब्दों के बारे में लेख में बता सकते हैं कि अंगूर को इन इन नामों से भी जाना जाता है। इस तरह से नाम बताएँगे तो उनके मन में कहीं न कहीं वो नाम तो रहेगा ही, जिससे हो सकता है कि भविष्य में "द्राक्षा" शब्द ही अंगूर से अधिक प्रचलित हो जाये, पर उसे प्रचलित करने के लिए पूरे लेख का नाम बदल देंगे तो दोनों शब्द अप्रचलित हो सकते हैं और ये भी हो सकता है कि लोग कारण विकिपीडिया में आना ही छोड़ दें कि इसके शब्द उन्हें समझ ही नहीं आते हैं। इसके साथ साथ ये भी हो सकता है कि उन्हें हिन्दी ही कठिन लगने लगे, क्योंकि उन्हें शब्दों का उतना ज्ञान ही नहीं हैं।

-- नया कुछ नहीं है, पुनर्पुनरावृत्ति ।।।।।।।। अनुनाद सिंह (वार्ता) 17:53, 25 सितंबर 2017 (UTC)

यदि कोई बच्चा बचपन से अंगूर खाते हुए उसे अंगूर के ही नाम से जानता हो और बाद में उसे कहा जाये कि ये द्राक्षा है तो हम उसी समय अंगूर शब्द की शक्ति को दस प्रतिशत तक कम कर देंगे। उससे उस बच्चे को कभी लिखने कहा जाये कि ये इस फल का क्या नाम है तो वो सोचेगा फिर लिखेगा। जबकि उसे अंगूर शब्द ही पता होगा तो उसे सोचने की जरूरत भी नहीं होगा और वो तेजी से उस शब्द को लिख देगा। अंग्रेजी के शब्दों के कारण वैसे भी हिन्दी के शब्दों की शक्ति कमजोर हो रही है। ऐसे समय में यदि हम जानबूझ कर हिन्दी के प्रचलित शब्दों को मारने का प्रयास करें तो ये सच में शब्दों को मारना ही होगा। पर जिस शब्द के लिए आप उस शब्द को मारने की सोच रहे हैं, वो शब्द भी कोई उपयोग नहीं करेगा और उसके जगह अंग्रेजी के शब्द ही आ जाएँगे।

पुनरावृत्ति अनुनाद सिंह (वार्ता) 17:53, 25 सितंबर 2017 (UTC)

अंग्रेजी के शब्द दूसरे भाषाओं में उतने नहीं आए हैं और न ही उतने तेजी से आ रहे हैं। सिर्फ हिन्दी ही है, जिसमें इसके शब्द अन्य भाषाओं की तुलना में सबसे अधिक आ रहे हैं। इसका कारण भी हम ही लोग हैं, जो हिन्दी के प्रचलित शब्दों के स्थान पर अप्रचलित शब्द का उपयोग करते हैं। इसका दूसरा कारण भी इसी से जुड़ा है। हम शब्दों के अनुवाद में किसी एक शब्द का ही सही ढंग से उपयोग नहीं करते हैं। इस कारण किसी सॉफ्टवेयर या वेबसाइट का अनुवाद करें तो ऐसा लगता है जैसे वो शब्द किसी को समझ ही नहीं आएगा।

वैसे अनुवाद से ही एक और समस्या याद आई। हम लोग अनुवाद में एक ही शब्द का उपयोग कभी नहीं करते, खास तौर से दो अलग अलग अंग्रेजी शब्दों के लिए तो कभी नहीं करते हैं। उदाहरण के लिए, यदि लिखना शब्द और टाइप शब्द अंग्रेजी में दोनों अलग अलग है। हम टाइप शब्द के लिए या तो टाइप शब्द ही उपयोग करते हैं या टंकण ही लिख देते हैं। पर चाहे हम कम्प्युटर में लिखें या किसी कागज में लिखें, लिख तो दोनों में ही रहे हैं, पर हम उसमें कभी "लिखना" शब्द का उपयोग नहीं करते हैं। अंग्रेजी में एप्लिकेशन शब्द का उपयोग आवेदन और अनुप्रयोग दोनों में उपयोग हो जाता है, फिर भी कोई समस्या उन्हें नहीं आती है। क्योंकि उन्हें पता है कि दोनों का अलग अलग जगह अलग अलग अर्थ होगा। वैसे ही कम्प्युटर में लिखने का अर्थ कम्प्युटर में टाइप करना ही होगा, पर हम उसके जगह टाइप या टंकण जैसे शब्द का उपयोग करते हैं। ऐसे में "लिखना" शब्द अप्रचलित तो नहीं होगा, लेकिन उसका इस शब्द के लिए भी उपयोग करने से वो काफी प्रचलित हो जाता और कम से कम "टंकण" शब्द से तो अच्छा ही रहता।

अप्रसांगिक, सन्दर्भच्युत। अनुनाद सिंह (वार्ता) 17:53, 25 सितंबर 2017 (UTC)

हमें पढ़ाई से जुड़े लेखों के निर्माण करते समय इस पर ध्यान देना चाहिए कि लेख का नाम हिन्दी माध्यम के पुस्तकों के अनुसार हो, ताकि विद्यार्थी आसानी से उन शब्दों को खोज सकें। हिन्दी माध्यम में कोई भी पढ़ा हो तो उसे "अंगूर" शब्द पता ही होगा, पर कहीं द्राक्षा शब्द तो बताया ही नहीं गया है। पर्यायवाची शब्दों के बारे में पढ़ाते समय फूल, नदी, पानी, आकाश, धरती आदि के बारे में ही बताया जाता था, किसी फल के बारे में न तो बताया गया और न ही पुस्तकों में लिखा था। क्या इस शब्द का उपयोग किसी पढ़ाई के पुस्तकों में हो रहा है ? यदि नहीं हो रहा तो इसे "अंगूर" ही रखना उचित है। ताकि अंगूर शब्द को हम अत्यधिक प्रचलित कर सकें और कोई भी इसके स्थान पर अंग्रेजी शब्द लिखने की सोच भी न सके। पर ऐसा तभी होगा, जब हम सब मिल कर "अंगूर" शब्द का ही हर जगह उपयोग करेंगे। अंगूर शब्द का तो पुस्तकों में उपयोग तो होता ही है और कई फिल्मों में भी "अंगूर" शब्द का उपयोग हो ही रहा है। तो ऐसे में इस शब्द स्थान पर कोई और शब्द लिखना कहीं से भी उचित नहीं है। पर यदि किसी को अंग्रेजी शब्द से ही प्यार हो तो इसे वापस द्राक्षा कर दें, और कुछ साल बाद अंग्रेजी के शब्द के रूप में परिणाम देखने को मिल जाएँगे। हो सकता है कि उसके कुछ साल बाद कोई आकर इसे अंग्रेजी शब्द में लिखने की सोचे, क्योंकि "अंगूर" शब्द का उपयोग कम होने से यकीनन अंग्रेजी के शब्द को ताकत मिलेगी और उसका उपयोग और तेजी से होने लगेगा। आप लोग चाहें तो इसे द्राक्षा ही रखें, पर किसी भी जगह इन शब्दों के स्थान पर अंग्रेजी के शब्द का उपयोग हुआ तो उसके दोषी आप ही लोग होंगे।

पुनरावृत्ति ।।।। 17:53, 25 सितंबर 2017 (UTC)

अंगूर और द्राक्षा की बात समाप्त कर अब हमला और आक्रमण में आता हूँ। पहले से ही कई लेखों में हम लोगों ने "हमला" शब्द ही उपयोग किया है। इसी शब्द का उपयोग हिन्दी समाचार पत्रों में बहुत ज्यादा किया जाता है। गूगल या बिंग आदि में कोई घटना के बारे में खोजता तो उसे ___ हमला वाला सुझाव पहले दिखता, इस कारण वो उसी शब्द को खोजता, वैसे भी आक्रमण शब्द से हमला शब्द अधिक प्रचलित है। पर इसका ये अर्थ नहीं है कि आक्रमण शब्द लिखने से कोई समझ नहीं सकेगा। आक्रमण शब्द का उपयोग इतिहास के पुस्तकों में कई बार हुआ है और इस कारण कोई भी हिन्दी माध्यम का विद्यार्थी उस शब्द को बहुत ही आसानी से समझ सकता है। पर यहाँ मेरा उद्देश्य यही था कि हमला शब्द अधिक लोग खोजेंगे और उसका लाभ हिन्दी विकिपीडिया को अधिक लोगों के आने से मिलेगा। इसके अलावा पहले के कई लेखों में भी हम लोगों ने और पहले सक्रिय रहने वाले सदस्यों ने भी "हमला" शब्द का ही उपयोग किया है। यदि हम इस तरह के सभी घटनाओं में "हमला" शब्द ही उपयोग करें तो ये शब्द ही प्रचलित रहेगा और इसके स्थान पर कोई अंग्रेजी शब्द उपयोग करने की सोचेगा भी नहीं। पर हम ऐसे प्रचलित हिन्दी शब्दों का ही उपयोग नहीं करेंगे तो हम उसे अप्रचलित होने का कारण दे रहे हैं। इस तरह से ही शब्द अप्रचलित होते जाएँगे, जो अभी अन्य सभी शब्दों से भी अधिक प्रचलित है। हमला भी हिन्दी शब्द ही है। यदि न भी हो तो भी उसका लाभ हिन्दी को ही मिल रहा है, क्योंकि ये शब्द अंग्रेजी का नहीं है। वर्तमान समय में हमें केवल अंग्रेजी से ही खतरा है। बाकी दुनिया के किसी भी भाषा से हिन्दी को कोई खतरा नहीं है। पर इस तरह से प्रचलित हिन्दी शब्द को हटा कर उसके स्थान पर दूसरे हिन्दी शब्द का उपयोग हो तो पहले वाले शब्द की शक्ति थोड़ी न थोड़ी कम हो ही जाएगी, चाहे आप किसी एक लेख में भी इस तरह का बदलाव क्यों न करें, पर प्रभाव सभी जगह पड़ेगा ही, लेकिन इसका प्रभाव आपके इच्छा अनुसार न हो कर इससे अंग्रेजी शब्द को लाभ मिलेगा। आप चाहें तो "आक्रमण" शब्द को दो देशों के युद्ध के लेखों में उपयोग करें, उससे कोई भी आपको नहीं रोकेगा। उससे एक तरह से हिन्दी का विकास ही होगा, क्योंकि इस का अधिक से अधिक उपयोग वहीं मिलता है। इस तरह से दोनों शब्दों का अलग अलग जगह उपयोग करेंगे तो लोगों को शब्द चुनने में कोई समस्या नहीं होगी और लोग उन दोनों शब्दों को आसानी से समझ भी लेंगे। इस तरह से दोनों शब्दों का प्रचार हो सकता है।

आक्रमण शब्द इतिहास से जुड़े लेखों में उपयोग करना सबसे अच्छा रहेगा। पढ़ाई जाने वाली पुस्तकों में इसका सबसे अधिक उपयोग "इतिहास" विषय के पुस्तक में मिलता है। "किसी देश ने किसी दूसरे देश के ऊपर आक्रमण कर दिया" इस तरह का बहुत सारा वाक्य आपको उस तरह के पुस्तकों में देखने को मिलेगा। एक तरह से इन दोनों शब्दों को अलग अलग जगह उपयोग करने के कारण अर्थ में इसी तरह का बदलाव भी हो गया है। इस कारण "आक्रमण" शब्द उस तरह लेखों में बहुत अच्छा लगता है। वहीं "हमला" शब्द का उपयोग समाचार वालों ने बहुत ज्यादा किया है, वो भी इस तरह के हमलों के लिए ही किया है। इस कारण इस तरह के घटनाओं के लिए "हमला" शब्द सबसे सटीक और उपयोगी रहेगा। वैसे कोई यदि इस घटना के बारे में खोजेगा और देखेगा कि सभी जगह हमला लिखा हुआ और केवल विकिपीडिया में ही "आक्रमण" लिखा हुआ है तो उसे अजीब लगेगा। मुझे यकीन है कि सभी को ये शब्द समझ में तो आ ही जाएगा, पर इस तरह के घटनाओं में "हमला" शब्द ज्यादा अच्छा रहेगा। केवल समझने में ही नहीं, बल्कि खोज परिणाम में भी इसका प्रभाव होगा। इससे देखने वाले तो अधिक आएंगे ही और साथ ही साथ इस शब्द का प्रचलन भी अधिक रहेगा। इस शब्द की जगह अंग्रेजी का शब्द न ले ले, इस कारण हमें इसके उपयोग में कभी कमी नहीं होने देना है। ताकि कई सालों बाद भी इस शब्द के बारे में सभी को पता रहे और ये प्रचलन में बना रहे।

शब्दों को प्रचलित करना काफी कठिन कार्य है, क्योंकि इसके लिए कई सारे माध्यमों की जरूरत होती है और प्रचार भी ऐसा करना होता है कि पढ़ने या सुनने वाले को अर्थ भी समझ आ जाये। यदि आप विज्ञापन देखते हो तो उसमें आपने जरूर देखा होगा कि कई बार हिन्दी शब्द के बाद अंग्रेजी शब्द बोल दिया जाता है। या साथ साथ उस शब्द को भी बोला जाता है। जिससे लोगों को अंग्रेजी शब्द भी समझ आ जाये और हिन्दी भी। एक तरह से जिसे हिन्दी शब्द न पता हो उसे पता चल सकता है, और जिसे अंग्रेजी शब्द न पता हो, उसे अंग्रेजी शब्द का पता चल जाता है। हो सकता है कि इस तरह से हिन्दी को लाभ मिलता हो, पर ज्यादातर तो ऐसे शब्द ही होते हैं, जिसे हिन्दी भाषी जानते हों और उसका अंग्रेजी नाम न पता हो, इस कारण अंग्रेजी शब्द का ही प्रचार हो जाता है। पता नहीं इस तरह के विज्ञापन का उद्देश्य क्या है, पर हमें तो एक ही शब्द का प्रचार है। ताकि वो शब्द कभी अप्रचलित न हो सके।

वैसे हमारी भाषा यदि अंग्रेजी से बच गई तो फिर कोई समस्या नहीं होगी, क्योंकि अंग्रेजी के शब्द ही अभी की सबसे बड़ी समस्या है। जिसका काफी हद तक कारण हिन्दी भाषी ही हैं। कई हिन्दी भाषी अपने बच्चों को हिन्दी माध्यम के विद्यालयों में नहीं पढ़ाते हैं। तो वे लोग कई सारे हिन्दी शब्द कभी समझ ही नहीं पाते हैं। ऐसे में कोई उस तरह से पढ़ा हिन्दी भाषी हिन्दी में योगदान करना भी चाहे तो उसे ऐसा ही लगेगा कि ये शब्द हिन्दी में होते ही नहीं या बहुत कम उपयोग होते हैं, इस कारण वो अंग्रेजी शब्द को ही प्रचलित मान लेता है। ठीक उसी प्रकार कई बार ऐसा होता है कि हम अंग्रेजी के प्रचलित शब्द को हटाने की कोशिश करते हैं, ऐसा कर तो सकते हैं, पर जब तक हर माध्यम से उस शब्द का प्रचार न हो, तब तक लोग उसे अप्रचलित ही मान लेंगे और विकि में किसी को आने का मन ही नहीं करेगा। क्योंकि उसे शब्द समझ ही नहीं आएंगे। पर हमें कोशिश यही करना है कि संज्ञा को छोड़ कर सभी का अनुवाद कर के ही डाल दें, क्योंकि संज्ञा का अनुवाद तभी सही रहता है, जब सभी को उसका दूसरा शब्द पता हो। अंग्रेजी शब्द का इस चर्चा से लेना देना नहीं है, पर एक तरह से अंग्रेजी के शब्द का ही इस चर्चा से अधिक लेना देना है। मैं बस इसमें यही बोल रहा हूँ कि संज्ञा शब्द यदि हिन्दी में न हो तो उसे अंग्रेजी में रख लेने में कोई बुराई नहीं है, जैसे, सर्वर, सीडी, आदि। पर हमें इसका भी ध्यान रखना चाहिए कि बाकी सभी का अनुवाद होता ही है। यदि कोई शब्द न हो तो उसका परिभाषा के अनुसार अर्थ लिख सकते हैं। पर गैर-संज्ञा शब्दों को हिन्दी में ही लिखना चाहिए। पर ऐसा हम लोग नहीं करते हैं और कई गैर-संज्ञा शब्द को अंग्रेजी में ही लिख देते हैं और संज्ञा शब्द का अनुवाद करने लगते हैं। यदि किसी संज्ञा शब्द का हिन्दी में अर्थ न हो तो उसका उपयोग वैसे भी कम ही होगा। और आज के समय में कई लोग उसका पहले ही अंग्रेजी शब्द जान जाते हैं, इस कारण उसका अनुवाद करने से वो कठिन बन जाता है। अर्थात समझने में कठिन हो जाता है। वैसे जिसने भी विलेज पंप को गाँव का पंप आदि करने के स्थान पर चौपाल करने का सुझाव दिया था, उसने वाकई बहुत अच्छा कार्य किया है। हमें भी अनुवाद इसी तरह करना चाहिए। ठीक वैसे ही उपयोगकर्ता शब्द के स्थान पर सदस्य शब्द का उपयोग बहुत ही अच्छा है। एक तो सदस्य लिखना बहुत ही छोटा होता है और इस शब्द का उपयोग भी बहुत आसानी से होता है। हम इस शब्द का मेम्बर के लिए भी कर सकते हैं और यूज़र के लिए भी कर सकते हैं। इस कारण इस शब्द का प्रचार काफी अधिक हो है। इस कारण इसे प्रचलित रखने में हमें थोड़ा कम मेहनत करना पड़ेगा। हमें अपनी सोच इसी तरह बदलनी होगी और अंग्रेजी के शब्दों के लिए कोई नया शब्द ढूँढने के स्थान पर इसी तरह दूसरे शब्द का उपयोग करना चाहिए। जैसे टाइप के लिए भी "लिखना" और उपयोगकर्ता के लिए भी "सदस्य" शब्द का उपयोग।

भारतीयों में एक गुप्त शक्ति है जो उन्हें अदम्य बनाती है। कितने सारे पुस्तकालय जला दिए गये फिर भी ३ करोड़ से अधिक संस्कृत पाण्डुलिपियाँ उन्होने बचा ली। दस-बीस वर्ष नहीं, हजारों वर्ष तक बचाये रखा। अनुनाद सिंह (वार्ता) 17:53, 25 सितंबर 2017 (UTC)

हमला और आक्रमण में से हम किसी एक ही शब्द का उपयोग नहीं कर सकते, क्योंकि दोनों ही किसी न किसी तरह से प्रचलित ही हैं। लेकिन आक्रमण शब्द किसी देश या साम्राज्य के मध्य युद्ध से जुड़ा है तो दूसरा "हमला" शब्द किसी पर भी चाकू से हमला करने को भी हम "हमला" कह सकते हैं। यदि हमें इन दोनों को प्रचलन में बनाए रखना है तो हमें इन दोनों का अलग अलग कार्यों में उपयोग करना चाहिए, ताकि लोग आसानी से तुरंत फैसला ले सकें और इन शब्दों का उपयोग कर सकें। पर "हमला" शब्द समाचारों में काफी प्रचलित है। इस कारण मेरी राय में इसे ही ___ हमला में उपयोग किया जाना चाहिए और "आक्रमण" शब्द दो देशों या साम्राज्य के मध्य लड़ाई में उपयोग होता है, तो उसे उसमें उपयोग करना ज्यादा अच्छा होगा।

समाचार मुख्यतः 'श्रव्य-दृष्य' है, हिन्दी विकि पर 'लिखा' जाता है। दोनों की भाषा की अलग होगी। कोई नहीं मानेगा कि 'चाकू से हमला करना ठीक है' और 'चाकू से आक्रमण करना गलत'। किसी शब्दकोश में दिए अर्थ के अनुसार आपने लिखा हो तो कृपया उसका सन्दर्भ दीजिए।अनुनाद सिंह (वार्ता) 17:53, 25 सितंबर 2017 (UTC)

अब हमला और आक्रमण वाली बात से हट कर खिड़की और वातायन में आता हूँ। इसमें तो साफ है कि लोगों को खिड़की शब्द के बारे में अच्छी तरह जानकारी होगा ही। खिड़की नाम से एक धारावाहिक भी बना था। शायद पिछले कुछ वर्षों में ही प्रसारित हो चुका है। कुछ हिन्दी गानों में भी "खिड़की" शब्द का उपयोग हुआ है। इनमें कुछ नए फिल्म भी हैं। पुस्तकों में भी साफ साफ कई जगह केवल और केवल खिड़की शब्द का उपयोग हुआ है। इसे बदलने का तो कोई कारण ही नहीं था।

वैसे सलमा जी ने जब आक्रमण को हमला करने हेतु लेख के नाम परिवर्तन का अनुरोध किया था, तो वहाँ मैंने कई सारे समाचार सन्दर्भ दिये थे, कि इतने सारे समाचार स्रोत "हमला" शब्द का ही उपयोग कर रहे हैं। वैसे सभी समाचार स्रोत इसका उपयोग न भी करें, पर पिछले कई लेखों का नाम इसी अनुसार ही रखा गया है। इस बारे में भी मैंने कहा था। उस समय मुझे जल्दी थी कि "हमला" शब्द के उपयोग करने से पाठकों की संख्या में थोड़ी बढ़ोत्तरी होगी ही। पर उस दौरान आधे से अधिक समय तक उसका नाम आक्रमण ही रखा गया था, शायद उसके कारण जितने लोग आने थे, उससे थोड़े कम आए होंगे। वैसे आक्रमण शब्द तो प्रचलित ही है, लेकिन उसका इस तरह उपयोग नहीं किया गया है, इस कारण इस घटना को खोजने वाले भी "हमला" लिख कर ही खोजते या खोजेंगे।

यह शुद्ध कपोलकल्पना है कि 'हमला' देखकर अधिक लोग हिन्दी विकी पर आयेंगे। हिन्दी विकी पर सामग्री खोजते हुए लोग आते हैं और निराश होकर लौटना पड़ता है- इसे ठीक करना होगा। अनुनाद सिंह (वार्ता) 17:53, 25 सितंबर 2017 (UTC)

वैसे हिन्दी विकिपीडिया में कुछ लेखों के नामों को बदलने से इस तरह के शब्द प्रचलित नहीं हो सकते, पर यकीनन इससे विकि पाठकों को अच्छा नहीं लगेगा, जो खिड़की वाला लेख देखने के लिए इसे खोलेंगे और नाम ही बिल्कुल अलग दिखेगा। मैंने ऊपर भी कहा है कि प्रचलित हिन्दी शब्दों के कमजोर होने से उसका लाभ पूरी तरह अंग्रेजी को ही मिलेगा। इस कारण इस लेख का नाम "खिड़की" ही रखना ठीक रहेगा, पर इसमें जानकारी के लिए आप "वातायन" लिख सकते हैं। ताकि लोगों को पता रहे कि इसे वातायन भी बोलते हैं।

पढ़ाई की पुस्तकों में इसे खिड़की के नाम से ही देखा हूँ, कहीं भी वातायन नहीं देखा। क्या आपके पढ़ाई के पुस्तक में "वातायन" नाम लिखा है ? वैसे बचपन से ही हिन्दी नाम के रूप में "खिड़की" शब्द ही बताया जाता है। इसे अचानक से "वातायन" करने से किसको अच्छा लगेगा? जबकि कई जगह इसी शब्द का उपयोग मिल रहा है।

यदि अंग्रेजों ने भी इस तरह से शब्दों को बदला होता तो बहुत से लोग इसका विरोध ही करते, पर उनके कार्य बहुत धीमे धीमे हुआ है। इस कारण कई सारे शब्द ऐसे हैं, जिसे हम जानते हुए भी उपयोग कर लेते हैं। हमें प्रचलित हिन्दी शब्दों से ही लेख का शीर्षक रखना चाहिए, ताकि लोगों को हिन्दी बहुत ही आसान लगे और अन्दर में उन शब्दों का उल्लेख करना चाहिए, जैसे अंगूर को द्राक्षा भी कहा जाता है।, खिड़की को वातायन भी कहा जाता है, आदि । इससे लोगों को धीरे धीरे ही इन शब्दों के बारे में पता चलेगा और हमें विकिपीडिया के साथ साथ दूसरे माध्यमों से भी इन शब्दों का प्रचार करना पड़ेगा, क्योंकि एक माध्यम से इसका प्रचार करेंगे तो प्रचार भी अच्छे से नहीं होगा और लोगों को अच्छा नहीं लगेगा।

बचपन से ही "अंगूर", "खिड़की" जैसे शब्द हिन्दी के ही बोले गए और पढ़ाई में भी इन शब्दों का उल्लेख था, ऐसे में उसे अचानक से बदलने से ऐसा लग रहा है जैसे मैं जिस हिन्दी को जानता हूँ और जिस कारण से विकिपीडिया में योगदान दे रहा, वो हिन्दी कोई और ही है।

अ़़ब़ ऩुक़़्त़ा क़ी ब़ा़त़, ज़ो श़ा़य़द क़िस़ी भ़ी ह़िऩ़्द़ी म़ाध़्य़म़ क़े व़िद्यार्थी को पता ही नहीं होगी और इसके कारण मेरे कुछ दोस्तों का दिमाग भी खराब हो जाता है। वैसे मुझे इसके बारे में विकिपीडिया में आने से पहले कुछ पता ही नहीं था और न ही इसका उच्चारण पता है। पढ़ाये जाने वाले किसी भी पुस्तक में मैंने एक भी नुक्ता नहीं देखा। पता नहीं विकिपीडिया में पढ़ाई से जुड़े लेखों में भी नुक्ते का इतना उपयोग क्यों होता है। पर मुझे इससे अभी तो कोई समस्या नहीं है, पर कुछ फॉन्ट में नुक्ते के कारण अक्षर समझ ही नहीं आते थे, उसे बदलने के बाद ही मैं नुक्ते वाले अक्षरों को समझ पाया। खास कर ऐसे शब्द जिसमें नुक्ता भी हो और तिरछा किया गया हो, वो तो बिल्कुल कोई अलग शब्द ही लगने लगता है। इसके अलावा एक और समस्या दो अलग अलग नुक्ते में है।

नुक्ते़ अ़ल़ग़ अ़ल़ग़ भ़ी ह़ोत़े है़ं, इ़स़क़ा प़त़ा़ भ़ी़ क़ई़ स़म़य़ क़े ब़ा़द प़त़ा च़ल़ा। जै़से फ़ = फ़, ज़ = ज़ दोनों ओ़़ऱ नु़क़्त़े है़ं, ल़ेक़िऩ द़ोऩों ए़क़ ऩह़ीं ह़ै। इ़स़क़े क़ाऱण़ ख़ोज़ऩे मे़ं और कड़ी जोड़ने में समस्या उत्पन्न होती है और कई बार एक से अधिक लेख भी बन जाता है। इसके कारण कुछ अन्य जगहों पर भी समस्या उत्पन्न हो गई है। खास कर लिखने वाले वेबसाइट में, जिसमें हिन्दी में कितने तेज लिख सकते हो, वो पता चलता है। वो सब ठीक से काम ही नहीं करता है। उसका कारण भी नुक्ता ही है। दो अलग अलग तरह के नुक्ते के कारण आप आसानी से लिख ही नहीं सकते। मैंने उन सभी को इस समस्या को हल करने लिए ईमेल भी किया था, पर एक का ही जवाब आया और वे भी समस्या को समझ नहीं पा रहे। चाहें तो पूरे विकि से नुक्ते को न हटाएँ, पर पढ़ाई से जुड़े लेखों में नुक्ते को रखना ठीक नहीं है, क्योंकि पुस्तकों में नुक्ते का उपयोग नहीं किया जाता है और शायद किसी भी हिन्दी माध्यम के विद्यार्थी को नुक्ते के बारे में पता नहीं होगा । यदि वो किसी अन्य माध्यम से इसकी जानकारी प्राप्त न किया हो। वैसे इनपुट टूल के कारण नुक्ता डालने में कोई समस्या नहीं आती है। पर इनस्क्रिप्ट उपयोग करने वालों को व्यर्थ में बहुत मेहनत करनी पड़ती है। पूरे विकिपीडिया से हटाएँ या न हटाएँ, पर मुझे लगता है कि इसे उन सभी लेखों से हटा देना ही सही होगा, जो पढ़ाई से जुड़े हैं। रसायन, भूगोल, गणित, विज्ञान आदि से। वैसे पूरे जगह से नुक्ता हटा भी दें तो एक नई समस्या उत्पन्न हो जाएगी। लगभग सभी इनपुट टूल जैसे गूगल या माइक्रोसॉफ़्ट इनपुट टूल में अपने आप ही कई जगह नुक्ता आ जाता है। तो नुक्ता वाले लेख तो लोग बना ही लेंगे और खोजने वाले नुक्ते के साथ भी खोज सकते हैं।

अंकों के बारे में हम लोगों ने पहले भी बहुत सी चर्चाओं में चर्चा किए हैं। शायद सभी का यही निर्णय निकला था कि लेखों में जो अंक पहले से है, उसे ही पूरे लेख में रखा जाये। उसे बदला न जाये। वैसे इसका एक और हल भी है, पूरी तरह उपयोग तो नहीं कर सकते पर उसका लाभ जरूर होगा। हम लेखों में जितना हो सके, उतने जगहों पर संख्या को अंकों के स्थान पर शब्दों में लिख सकते हैं। जैसे आठ लोगों की मौत, तीन लोग डूब कर मर गए, या उन्नीस लोगों की सड़क दुर्घटना में मौत आदि। कुछ लोग जो अंग्रेजी माध्यम में पढ़ाई करते हैं, वे लोग अंकों को अंग्रेजी में ही बोल देते हैं। इस समस्या का हल भी इसी से हो जाएगा। इससे उन लोगों को शब्द याद रहेगा और हमें भी अंकों के बारे में उतना सोचना नहीं पड़ेगा।

संख्यासूचक शब्दों को अंकों में लिखा जाय या शब्दों में? - इस सम्बन्ध में एक अच्छी नीति हमे बतायी गयी थी। साहित्य आदि लिखते समय शब्दों का करें ( आठ पहर लिखिए, ८ पहर नहीं।) गणित, विज्ञान आदि में अधिक से अधिक अंकों का प्रयोग करना चाहिए। इतिहास में भी तिथियाँ आदि अंकों में लिखी जानी चाहिए ( भारत सन् १९४७ में स्वतन्त्र हुआ। )अनुनाद सिंह (वार्ता) 17:53, 25 सितंबर 2017 (UTC)

ऊपर की सारी चर्चाओं को देख कर ऐसा लगता है कि हमें हर परियोजना हेतु शब्दावली का निर्माण करना चाहिए और उन्हीं शब्दों का उपयोग लेखों में करना चाहिए। जैसे विकिपरियोजना फिल्म में फिल्म में उपयोग होने वाले सभी शब्दों का उसके अर्थ के साथ सूची रहेगा, जिससे कोई भी सदस्य आसानी से उन सूचियों से देख कर नाम लिख लेगा, इससे इस तरह की समस्या काफी हद तक कम हो जाएगी और साथ ही साथ इससे हिन्दी के शब्दों का प्रचार भी काफी अच्छे से हो सकता है। इसका सबसे बड़ा लाभ उस विषय पर लिखने वाले सदस्यों को होगा और वो भी कोई नया सदस्य या जो उस विषय पर पहली बार लिख रहा हो।

प्रथम विश्व युद्ध या पहला विश्व युद्ध और द्वितीय विश्व युद्ध या दूसरा विश्व युद्ध में तो प्रथम और द्वितीय रखने में क्या समस्या हो सकती है ये तो समझ नहीं आ रहा, पर पाठ्यपुस्तकों में तो प्रथम और द्वितीय शब्द का बहुत ज्यादा उपयोग किया जाता है। इतिहास में प्रथम विश्व युद्ध और द्वितीय विश्व युद्ध लिखा रहता है।

मैं जब क्रिकेट से जुड़ा लेख बना रहा था तो मुझे ऐसा लगा कि कोई एक शब्दावली हर परियोजना में होनी चाहिए, जिसे देख कर आसानी से अनुवाद किया जा सके। जब गूगल से अनुवाद करते हैं तो उसमें कई बार सही शब्द नहीं आता है या अर्थ ही नहीं दिखाता है, इस कारण मजबूरी में अंग्रेजी शब्द का ही उपयोग कर लेते हैं। पर शब्दावली रहेगा तो तुरंत कोई भी उसका हिन्दी अर्थ लिख देगा। हो सकता है कि इससे कई लोगों को अनुवादक की जरूरत भी न पड़े। हिन्दी के शब्दों का प्रचार करने और विवादों को दूर रखने में ये उपयोगी सिद्ध होगा। पर इसका निर्माण सभी से पूछ कर और सभी की सहमति से ही करना चाहिए। इस बात का भी ख्याल रखना पड़ेगा कि अलग अलग परियोजनाओं में अलग अलग तरह के शब्दों का उपयोग होता है। जैसे विकिपीडिया में हम रिवियू को पुनरीक्षण लिखते हैं और अन्य जगहों में "समीक्षा" लिखते हैं।

एक ही शब्द के अलग-अलग सन्दर्भों में अलग-अलग अर्थ होते ही हैं। 'कम्प्लेक्स नम्बर' और 'फ्युएल कम्प्लेक्स' और 'इनफेरिआरिटी कम्प्लेक्स' में 'कम्प्लेक्स' का अर्थ समान नहीं है। अनुनाद सिंह (वार्ता) 17:53, 25 सितंबर 2017 (UTC)

इसके अलावा मुझे लगता है कि हमें शब्दों के साथ साथ अनुवाद विकि पर भी ध्यान देना चाहिए, उसके लिए भी हमें एक परियोजना का निर्माण करना चाहिए, जिसमें हम सभी मिल कर शब्दों को चुन कर सूची का निर्माण कर सकें। कई बार वहाँ लोग ऐसे शब्द लिख देते हैं, जो दूसरे में कुछ और व तीसरे में कुछ और होती है। सबसे ज्यादा पुनरीक्षण शब्द को समीक्षा लिख दिया जाता है। हटाने के शब्द को निकालें या अवरोध वाले शब्द को बार बार ब्लॉक लिख देते हैं। प्रतिबंध और अवरोध को भी इधर उधर कर के लिखा गया है। उसमें कई सारे शब्द में मात्रा त्रुटि भी है और कई में व्याकरण त्रुटि भी है। इस कारण हमें इस परियोजना की आवश्यकता है, जिससे इस तरह के अनुवादों को उसी समय सुधार कर लिया जाये और सभी जगह एक ही शब्द लिख रहे।

हिन्दी विकिपीडिया में कई सारे अनुवाद अनुवादविकि के अनुवाद से अलग हैं, इस कारण कई सारे गलत अनुवाद दिखाई नहीं दे रहे हैं, कुछ दूसरे एक्स्टेंसन में भी कई लोगों ने खराब अनुवाद किए हैं। उन्हें भी ठीक करना पड़ेगा। पर उन सभी को ठीक करने से पूर्व हमें इस नई परियोजना का निर्माण करना पड़ेगा, जिससे शब्दों को चुनने में हमें कोई परेशानी न हो और कोई दूसरा सदस्य यदि कोई उल्टा सीधा अनुवाद कर दे तो हम उसे शब्दावली दिखा सकते हैं। पर अभी कोई दूसरे शब्द को सही बोले तो हम कुछ नहीं कर सकते। वैसे कई लोग वहाँ पृष्ठ, पन्ना, पेज, तीनों को ही लिख देते हैं। इस तरह की समस्या भी दूर हो जाएगी। -- (वार्ता) 17:01, 24 सितंबर 2017 (UTC)

@अनुनाद सिंह: जी, दो दिनों के लिए विकिपीडिया पर नहीं था न ही आपने मेरी अंतिम टिप्पणी पर कोई टिप्पणी की। ऊपर इस लंबी टिप्पणी के लेखक "सदस्य:स" जी हैं। आपके कुछ वाक्यों से ऐसा लग रहा जैसे इसे आप मेरी टिप्पणी समझ बैठे। स जी की उपरोक्त बातों में कई से सहमत और कई से असहमत हूँ और समय मिलते ही लिखूँगा। बस एक चीज नहीं समझ में आई, आप हर उस व्यक्ति को हुन्जजल का अवतार क्यों घोषित करने लगते जिससे आपकी असहमति हो? क्या आपको मालुम नहीं कि कठपुतली होना एक गंभीर ग़लती है और केवल संदेह के आधार पर किसी पर इसका आरोप लगाना भी? मेरे खाते पर हुंजाजल की कठपुतली होने का संदेह व्यक्त करके क्या साबित करना चाह रहे?--SM7--बातचीत-- 10:13, 26 सितंबर 2017 (UTC)

@SM7: तीनों के विचारों में, भाषा में, शैली में इतनी अधिक समानता है कि मन तीनों को अलग मानने को तैयार ही नहीं होता। भारत में लभ जिहाद चल सकता है तो हिन्दी विकि पर क्यों नहीं? - अनुनाद सिंह (वार्ता) 13:14, 26 सितंबर 2017 (UTC)
@अनुनाद सिंह, SM7, और : नेहल जी से मेरी व्यक्तिगत बातचीत हो गयी है और वो इस मुद्दे को इतना तूल देने के समर्थन में नहीं हैं। उनके हिंदुस्तानवासी जी और SM7 जी से कुछ छोटे विवाद (असहमतियाँ) हैं जिन्हें बहुत आसानी से सुलझा लिया जायेगा। इस पर इस तरह की लम्बी वार्ता और आपस में कठपुतली कहना शोभा नहीं देता। मुझे स जी, SM7 जी और Hunnjazal जी की शैली, भाषा और विचार अलग-अलग लगते हैं। कई बार देखने के नज़रिये से भी समानता दिखाई दे सकती है जैसे हम सभी हिन्दी विकि के योगदानकर्त्ता हैं और हिन्दी भाषा अपनी समानता को प्रदर्शित करती है। अतः मेरा अनुरोध है कि आप सभी लोग, कृपया अपनी गलतियाँ स्वीकार करके (यदि आपको नहीं लगता कि आपने गलती की है तो भी क्षमा माँग सकते हो) विवाद का अन्त करें। इस विवाद के समय को विकि-विकास में लगायें।☆★संजीव कुमार (✉✉) 18:11, 26 सितंबर 2017 (UTC)

@अनुनाद सिंह: जी, आपके द्वारा प्रस्तुत किये गए संदेह को मैंने सूचनापट पर रख दिया है और आशा करता हूँ इसका निर्णय बाकी के प्रबंधकगण करेंगे। आपसे उमीद करता हूँ कि आप नेहल जी के दायित्व छोड़ने के निर्णय पर चर्चा आगे बढ़ायेंगे। उक्त निर्णय में यदि भाषा शैली और/अथवा किसी अन्य नीतिगत प्रश्न पर निर्णय आप पहले आवश्यक समझते हों (अथवा कोई अन्य सदस्य आवश्यक समझता हो) तो कृपया अपने विचार स्पष्ट रूप से प्रस्ताव के रूप में लिखें। यदि किसी को पहले उन विवादों पर निर्णय सुनाना आवश्यक लगता हो जिनके कारण आदरणीय नेहल जी ने अपने अधिकार त्याग की चर्चा आरंभ की तो कृपया उसे अलग और स्पष्ट अनुभाग में लिखें और सबकी राय लें।

@SM7: जी, प्रबन्धक सूचनापट्ट पर आप के सन्देश को मैने पढ़ लिया है। संजीव कुमार जी ने संक्षेप में अपने विचार भी रख दिये हैं। आप और हुञ्जाल जी हिन्दी के प्रबन्धक हैं। क्या आपको नहीं लगता कि शंका को निर्मूल करने का सबसे अच्छा तरीक यह होता कि आप दो कदम और आगे जाकर अपना चेक यूजर कराने का प्रस्ताव स्वयं देते? हिन्दी विकी पर कठपुतली के इतिहास में हुञ्जाल जी का नाम भी अंकित है। अनुनाद सिंह (वार्ता) 04:08, 27 सितंबर 2017 (UTC)
@अनुनाद सिंह: जी, जो तरीका मुझे सबसे अच्छा लगा वही किया है। विकि के इतिहास में या तो आप जैसे इतिहासी लोगों को रूचि है या विवाद प्रेमी जनता को जिसे इतिहास का उद्धरण देना प्रिय है, मेरी कोई रूचि नहीं। हुन्जजल जी अब प्रबंधक नहीं हैं। मैं हूँ, परन्तु मैं बतौर प्रबंधक शायद इस मामले में कुछ नहीं कर सकता। थोड़ा धैर्य रखिये, बाक़ी प्रबंधकों पर भी विश्वास न हो तो ये दो क़दम का फ़ासला आप ख़ुद भी तय कर सकते हैं, आशा करता हूँ इतना चलने के लिए तो तैयार ही होंगे जो यह आरोप लगाया है। --SM7--बातचीत-- 18:45, 27 सितंबर 2017 (UTC)
@SM7:जी, आश्चर्य है कि इतिहास से सहसा घृणा हो गयी, वैराग्य आ गया। क्या नैतिकता की सारी बातें इतिहास हो गयीं? आपको पता है कि सोने को आग से डर नहीं लगता क्योंकि आग में जाकर सोना शुद्धतर होकर निकलता है। एक प्रबन्धक अपनी जाँच से डरे तो जनता में क्या सन्देश जाएगा?


@अन्य सदस्य -- यह अनुभाग मुझसे प्रश्न के रूप में लिखा गया था। जो मेरे वार्ता पन्ने पे किया जाना चाहिए था। अनुरोध करने पर वहाँ भी लिखा गया और पहले उन प्रश्नों का उत्तर माँगा जा रहा जिनकी वज़ह से आदरणीय नेहल जी को यहाँ आना पड़ा। मेरे उत्तर देने के विलम्ब को "कतराना" कहा गया। स्पष्ट कर दूँ कि जिन बातों पर मुझसे प्रश्न पूछा जा रहा उनका उत्तर मैं अभी कदापि नहीं दूँगा। कारण भी बता देता हूँ, मेरी स्पष्ट राय है कि विवाद पर चर्चा करने हेतु दायित्व छोड़ने का प्रस्ताव रखा गया है। जब तक इसका निर्णय नहीं होता किसी ऐसे विवाद पर मैं कोई टिप्पणी नहीं करूँगा जिसे पहले ही सामान्य रूप से सुलझाया जा सकता था। नेहल जी (और एक और मित्र ने जाने की धमकी दी है) की कार्यशैली देखते हुए ही इस नतीज़े पे पहुँचा हूँ कि ये लोग मात्र ध्यानाकर्षण हेतु ऐसे मुद्दे इस रूप में उछालते है। यकीन न हो तो कृपया इसी पन्ने पे ऊपर देखें, (छोटा सा उदाहरण दे रहा) नेहल जी ने एक लेख को निर्वाचित घोषित कर दिया क्योंकि "मेरा ये करने का उद्देश ये था कि कोई तो आगे आये और इस विषय पर चर्चा करे।" और विकीतर वाट्स एप समूह में इसे "बम फोड़ने" की संज्ञा भी दी थी (क्षमा प्रार्थी हूँ अनौपचारिक समूह की बात लिखने के लिए)।

उक्त तरीकों से शहीद बनने और त्याग की भावना (दायित्व त्याग) दिखाने का प्रयास ये लोग कर रहे -- और माननीय अनुनाद जी का कहना है कि पवित्र युद्ध में भाग लेने वाले (जिहादी) हम हैं। ख़ुद ये लोग टीम बना कर विकिपीडिया को पवित्र करने का अभियान चला रहे और आरोप हमपे कि हम जिहाद कर रहे। खिड़की को वातायन किया जा रहा कि यह शुद्ध किया जा रहा, और टोको तो हम जा रहे, तुम हमें छोड़ने पे मजबूर कर रहे इसलिए खलनायक हुए। सामने वाले को निन्दित करने का बेहतरीन तरीका खोजा है। आरोप लगा दो, ख़ुद अच्छे साबित हो गए।

कृपया सदस्यगण इस तरह के आरोपों पर चर्चा करें और ऐसी प्रवृत्ति का उपचार सुझाएँ। --SM7--बातचीत-- 19:57, 26 सितंबर 2017 (UTC)

एक समय था जब हिन्दुस्तानीलेन्गुएज और हिन्दुस्थानवासी को एक समझा जाता था। फिर शनैः शनैः वो भ्रम दूर होता गया। अभी कुछ दिनों पूर्व की ही बात है, जब किसी पुरातन सदस्य का नाम ले कर कठपुतलि लेखा बनाई गयी थी, जिससे प्रबन्धक के लिये नामांकन किया और पुनरीक्षक पद के लिये भी आवदेन किया गया था। व्यवहार पर शंका करना और उसको व्यक्त करना अत्यावश्यक है। फिर वो असत्य या सत्य सिद्ध हो तो किसी की जय या पराजय नहीं होती, अपि तु समुदाय का हित होता है। अतः इसे आप अपनी प्रतिष्ठा का विषय न बनाएँ।

"कतराना" शब्द आज भी उचित है और निर्वाचित लेख के समय भी उचित ही था। विकिपीडिया पर स्वान्तः सुखाय कार्य होता है और कभी कभी निष्क्रिय होना भी अत्यन्त लाभकारी होता है। इस नीति का प्रबन्धकगण अनुचित लाभ ले रहे हैं। जब किसी चर्चा पर मत देने की बात आती है या निर्णय करने की बात आती है, तो जानकर या तो निष्क्रिय हो जोते हैं या अन्य बात करते हैं। अभी तो आपके द्वारा दो दिन ही विलम्ब से उत्तर (नहीं) दिया गया। परन्तु निर्वाचित लेख के समय तो बहुत दिन हो चुके थे। अब पुछा जाये तो अन्य ही कारण मिलेगा।
आपको जो प्रश्न किये हैं, वे आपको किसी सदस्य के रूप में पुछे नहीं गये। वे प्रश्न प्रबन्धक के रूप में आप से किये गये हैं। अतः अपने दायित्व से भागने का प्रयास न करें। आपकी प्रथम टिप्पणी से मैं देख रहा हूँ कि आप बात को घुमा रहे हैं। फिर भी मैं आप जैसे चाहते हैं, वैसे करने का प्रयास कर रहा हूँ। इसलिये नहीं कि मुझे किसी को अनुचित सिद्ध करना है। इसलिये कि मुझे समस्या का समाधान चाहिए। परन्तु प्रबन्धक के रूप में आप समाधान करने के स्थान पर पहले क्यों नहीं किया? अधिकार की आड क्यों ली? यहाँ क्यों लिखा? अमुक लेख का शीर्षक क्यों बदला? इत्यादि प्रतिप्रश्न कर विवाद को बढा रहे हैं। वास्तव में यदि आप निष्पक्ष हैं और हिन्दी की एक शैली के प्रति पक्षपाती नहीं, तो अपना मत प्रस्थापित करने से बचते (कतराते) क्यों दिख रहे हैं?
बम फोड़ना शब्द प्रयोग कोई अनुचित नहीं था। क्योंकि यही वास्तविकता है कि, जब सब से मत मांगा जाता है, तब कुछ लोग निष्क्रियता का आवरण ले लेते हैं। फिर जैसे निर्णय अन्तिम चरम पर होता है, तो विवाद उत्पन्न किया जाता है। क्या एक प्रबन्धक के रूप में आपको पता नहीं था कि उस लेख के सन्दर्भ में क्या समस्या चल रही थी? अब आप कहेंगे मेरा ध्यान नहीं था। परन्तु खिड़की का वातायन होने पर आपका ध्यान है और इतना विशाल विवाद आपके ध्यान में नहीं था? या आप प्रतीक्षा कर रहे थे कि देखते हैं मेरे विचार के अनुरूप निर्णय हो तो उचित है, अन्यथा मैं कूद पडूंगा। कौन प्रबन्धक बनेगा और किसको अमुक अधिकार मिलेंगे ये नेपथ्य में ही निश्चित हो जाता है। ये व्यक्ति ? इसने तो उस दिन मुझ से अमुक प्रश्न किये थे। ये नहीं। वो? हाँ वो अच्छा है। उसने उस समय अच्छा तर्क दिया था (जो मेरे अनुकूल था)। इसे आगे बढाते हैं।
नेपथ्य में विवाद के समाधान पर कार्य करना कोई अनुचित कार्य नहीं है। सब चाहते थे कि निर्वाचित लेख पर कोई अपना मत देवें। परन्तु जिनके पास ये क्षमता थी वो अघोषित रूप से अपने दायित्व से भाग रहे थे और अपने अधिकारों का अवलम्बन (आड) लेकर अधिकार का दुरुपयोग कर रहे थे। वो अधिकार के अवलम्बन में चर्चा न करना यदि उचित है, तो मेरा अधिकार त्यागने की बात कर चर्चा करवाना भी उचित ही है। वास्तव में ये आरोप ही है कि मैंने अधिकारों के अवलम्बन में चर्चा करवाई। फिर भी उसका समाधान ये है कि, चाहे इस चर्चा का निर्णय पक्ष में या विपक्ष में आये मैं ये अधिकार त्याग दूंगा। इस वाक्य से मेरी मन्शा स्पष्ट है। द्राक्षा, वातायान इत्यादि की जो बात है, वो मैं स्वीकार करता हूँ। वहाँ स्थिति ये थी कि, मैंने अधिक शुद्ध शब्दों के प्रयोग का सोचा। क्योंकि समाज में स्थानप्राप्त शब्दों को तो सब जानते ही हैं। वो खोजेंगे तो अनुप्रेषण के माध्यम से वो खोज ही लेंगे। परन्तु उनको वास्तविक शब्द नहीं पता चलेगा। उदा.। खिड़की सब उपयोग सब करते हैं, तो उसे खोजा ही जाएगा। अतः उसको कोई समस्या नहीं है। परन्तु उससे किसी को वातायन शब्द का ज्ञान नहीं होगा। यदि हम खड़की को अनुप्रेषित कर वातायन की ओर भेजें, तो अंगूर जानने वाले को वातायन शब्द का भी बोध होगा और खिड़की शब्द तो वो जानता ही है। परन्तु आप लोगो के ऐनक में ये कृत्य अन्यथा है। अतः मैं स्वीकारता हूँ कि वो मेरी क्षति थी। परन्तु यहाँ जो विषय है, उस में जानकर किसी के द्वारा प्रयुक्त शब्द को परिवर्तित कर अपने सीमित (पक्षपाती) ज्ञान के आधार पर एक ही शब्द उपयोग करने के लिये अन्य को विवश किया जा रहा है। इन दोनों अंशों को आपने स्पष्ट रूप से समान सिद्ध करने का प्रयास किया।
दो व्यक्तिओं के मध्य मतभेद होता है और तृतीय व्यक्ति आता है, जिसे समाधान ज्ञात है। अब वो व्यक्ति समाधान देगा और विवाद समाप्त करेगा। परन्तु यहाँ तर्क दिया जाता है कि, उस में से एक व्यक्ति यदि ऐसे करता तो विवाद होता ही नहीं या समाधान हो सकता था, अतः मैं समाधान नहीं दूंगा। ये हास्यास्पद और स्पष्टरूप से उत्तर देने से बचने का प्रयास ही कहा जाएगा। क्योंकि वो उस द्वितीय व्यक्ति के पक्ष का तर्कसंगत पाता है और अपनी विचारधारा के अनुरूप व्यक्ति के पक्ष को और अपने पक्ष को तर्कहीन।
संजीवजी से मेरी विस्तृत बात हुई है। मैं उनसे भी निवेदन किया है और उसका ही यहाँ पुनरावर्तन कर रहा हूँ। मैं विवाद नहीं चाहता और न मैंने विवाद आरम्भ किया है। मैंने लेख बनाया और उस में जितने भी तथ्यों का अभाव बताया गया वो मैंने लेख में अन्तर्भूत किये। परन्तु एक पक्षपाती रूप से शीर्षक और लेख में प्रयुक्त हिन्दी शब्द को आक्रमण, दायित्व इत्यादि शब्दों के प्रयोग से रोका गया। संख्या विवाद जो वास्तविक विवाद है भी नहीं। क्योंकि अंक परिवर्तक नामक उपकरण बना हुआ है। जिसे जो चाहे वो अंक देख सकता है। फिर भी वो अन्य के प्रयुक्त अंक को परिवर्तन करते हैं। इससे अधिक लेख में दिये उचित सन्दर्भों को नीकाला गया और पक्षपातपूर्ण लेख सज्ज किया गया। तो ऐसा करने वाले को दण्ड हो मैं नहीं चाहता परन्तु हिन्दी शब्दों के प्रयोग के लिये स्वतन्त्रता हो इतना ही हो ऐसा मैंने कहा।
जब मैंने खिड़की का वातायान किया और अंगूर का द्राक्षा किया तो उसे पूर्ववत् कर दिया गया, तो अब इस अनुचित कृत्य के लिये कार्यवाही की याचना मुझे किसी भी प्रकार का भयादोहन (blackmail) नही लगता। किसी अन्य पद्धति से हो सकता था, परन्तु वास्तविकता ये है कि नहीं हुआ। अब नहीं हुआ तो कभी नहीं होना चाहिये ऐसी नीति का त्याग कर पूर्वकाल में असिद्ध को सिद्ध करना चाहिये। अस्तु। ॐNehalDaveND 08:39, 27 सितंबर 2017 (UTC)

सलमाजी भारत नामका एक देश है, जहाँ शताब्दीयों से नहीं युगों से मूर्तिपूजक, मूर्तिपूजा के न मानने वाले, ईश्वरवादी, ईश्वर में न मानने वाले लोग रहते हैं। उन लोगो की भावना को आहत करने वाले कुछ तत्त्वों को जब कहा जाता है कि, ये करना है तो जिस देश में ऐसा होता है, वहाँ चले जाएँ। तब वो कहते हैं कि ये देश उतना ही हमारा है, जितना तुम सबका। उस तर्क को मैं दे रहा हूँ। यदि हिन्दी के शब्दावली विभिन्न भाषाओं से प्रभावित है और भाषाविज्ञान भी उसके लिये तर्क देता है, तो किसी एक ही पक्ष की भाषा के उपयोग करने वालों का विरोध क्यों न करूं? और ये भाषा जितनी आपकी है उतनी मेरी भी है, तो मैं कहीं जा कर क्यों लिखूँ? मैं यहाँ लिखूँ या नहीं ये कोई मुजाहिद निश्चित नहीं करेगा। ॐNehalDaveND 09:09, 27 सितंबर 2017 (UTC)


  • दोस्तों यहाँ चर्चा विश्वकोश निर्माण की नहीं, भाषा निर्माण की हो चली है। ये हमारे बस में नहीं है और हमारा काम भी नहीं है। कृपया यहाँ विकिपीडिया पर अपनी राजनीतिक आस्था लेकर युद्ध न चलाया जाए। हमारा मकसद हिन्दी में विश्वकोशीय जानकारी देना है, किसी राजनीतिक पद्धति या शब्द को प्रचारित करना नहीं है। इसके लिये ही साधारण शब्द उपयोग करने की अनुशंसा है और की गई है। कृपया इसी को ध्यान में रखें। जो कोई (मतलब हर कोई) ऐसा नहीं कर सकता वो जाने को स्वतंत्र है। उसके लिये इतना बवाल और शोर-शराबा करने की जरूरत नहीं। हम में से हर कोई किसी न किसी मकसद के लिये आया था यहाँ पर, तो जाहिर है जब वो मकसद पूरा होते हुए न लगे तो मन उखड़ जाता है और कुछ करने का मन नहीं करता। इसका उपाय यही हो सकता है कि मकसद बदल लिया जाए या विदा ली जाए। परिपक्व लोग इसे शांति से करेंगे और कुछ नहीं। पर इससे वास्तविकता नहीं बदलती। खैर इस मामले को तूल न दिया जाए और जो विकिपीडिया निर्माण के लिये आए हैं, वो अपने काम में लग जाए। जिनको कुछ और करना है वो दूसरा माध्यम तलाश लें। धन्यवाद।--हिंदुस्थान वासी वार्ता 10:55, 27 सितंबर 2017 (UTC)
@हिंदुस्थान वासी: जी, आपके इस 'साधारण शब्द' का क्या अर्थ निकाला जाय? मैं यदि सीधे-सीधे कहूँ तो हममे से जो सबसे कम पढ़ा-लिखा, सबसे कम हिन्दी जानने वाला, या सबसे मूर्ख होगा उसकी हिन्दी शब्दावली का उपयोग करना पड़ेगा तब जाकर हम सही अर्थों में कह सकेंगें कि हम 'साधारण शब्दों' का उपयोग कर रहे हैं।क्या आप इसके लिए तैयार हैं? उदाहरण के लिए ऊपर आपने जो 'दोस्तों' का प्रयोग किया है, साधारण जनता वही उपयोग करती है। किन्तु हिन्दी का व्याकरण कहता है कि उसके स्थान पर 'दोस्तो' सही है।-- अनुनाद सिंह (वार्ता) 13:11, 27 सितंबर 2017 (UTC)
इसके लिये कोई नीतिगत चर्चा पृष्ठ बना के विचार किया जाना चाहिए। ये मुद्दा कई महीनों के अंतराल पर उठता रहता है, इसका समाधान होना चाहिए। "प्रचलित" शब्द कैसे तय होंगे इसपर भी बात होनी चाहिए, खासतौर से शीर्षक में। अंदर पाठ में तो ज्यादा किसी को कोई आपत्ति नहीं होगी। मूल मुद्दा संस्कृत या फ़ारसी का न बनाकर (विश्वकोश की) भाषा की सरलता और उपयोगिता पर होना चाहिए।--हिंदुस्थान वासी वार्ता 18:31, 27 सितंबर 2017 (UTC)
विश्वकोश का निर्माण का आधार भाषा है यहाँ पर। हिन्दी भाषा में विश्वकोश बनाने के लिये ही सब प्रयत्न कर रहे हैं। परन्तु जो लोग अपनी राजनीतिक आस्था को गुप्त रख कर अन्यों पर राजनीतिक आस्था के लिये युद्ध करने का आरोप करें, तो उन्हें दर्पण देख लेना चाहिए। यहाँ किसी के जाने के और न जाने के विषय मैं जो बात हो रही है, वो किसी ऐसे व्यक्ति के कारण आरम्भ हुई जो अपनी मनमानी करना चाहता है। किसी अन्य को विवश करना चाहता है कि उसको और उसके राजनीतिक आस्था वालों को जो शब्द आता है, उसका ही सब लोग उपयोग करें। 'तार्किक रूप से सही' बोल कर मनमानी कर लते हैं, अतः आप से वैसे भी हि.वि के सदस्यों की चिन्ता की अपेक्षा नहीं है। परन्तु ध्यान रहे, जो अधिकार आपके पास है, वो निर्माण के लिये विनाश के लिये नहीं। जाने न जाने की चर्चा तो एस.एम.7 जी ने पहले ही समाप्त करवा दी। अब यहाँ चर्चा समाधान की हो रही है, जो आपके स्वभाव में नहीं। ॐNehalDaveND 12:03, 27 सितंबर 2017 (UTC)
नेहल जी, ये तो साफ़ है कि आप संस्कृत शब्द का प्रचार ही करना चाहते हैं और ऐसे शायद संस्कृत विकिपीडिया के लिये नए सदस्य खोज रहे हैं। उसे हिन्दी बताकर सबको "शुद्ध" करना चाहते है। क्या मैंने कोई शब्द जबरदस्ती करने के लिये हो-हल्ला किया है? जो लोगों को सही लगा होने दिया। अब आप कभी जाने का और कभी न जाने की कहते हैं। कोई ढंग का लेख बनाइये, क्यों शब्द को प्रचारित करने में हमारा समय बर्बाद कर रहे।
आप बार-बार अमरनाथ हमला की चर्चा को ले आते हैं। उसकी सच्चाई सबको दिख रही है। वहाँ सब लोग हमला शब्द करने के साथ थे (आप को छोड़कर), वो भी तर्क के साथ। आप ही नए-नए जुगाड़ निकाल रहे थे उसको न होने देने से। हर किसी का सम्पादन हटा रहे थे। जरूर आपका उन लोगों के प्रति सहानुभूति हो सकती है और आपका लेख के साथ लगाव भी। पर आप वहाँ सिर्फ एक तरफा ही लिख रहे थे जिसे आप "सच्चाई" मानते हैं। मैंने उस लेख में कोई सम्पादन नहीं किया है। नाम बदलने की चर्चा खुली हुई थी मैंने उसको बंद किया। उसके बाद से आप यहाँ पर बचकानी हरकत कर रहे जो आपको शोभा नहीं देता। आपको पुचकारने का काम खत्म, अब बड़े हो जाइए और परिपक्वता से कार्य करें।
आपके साथ शब्द प्रचार में बिल्कुल साथ नहीं दिया जाएगा। इस विषय (विदेशी शब्द से हिन्दी को "शुद्ध" करना) में कोई समाधान की गुंजाइश नहीं है और कोई समझौता नहीं किया जा सकता। इनको प्रचारित करने का कोई और साधन खोज लें। धन्यवाद।--हिंदुस्थान वासी वार्ता 18:31, 27 सितंबर 2017 (UTC)
वो लेख अब जिस स्थिति में है, उस का आप समर्थन कर रहे हो। क्योंकि उस में शब्दों का परिवर्तन किया गया और सन्दर्भ नीकाले गये। इसे प्रबन्धक के रूप में समर्थन देना अनुचित आपको नहीं लगा इस में मुझे कोई आश्चर्य नहीं है। पुचकारने की आपकी कोई मन्शा नहीं हो ये अच्छी बात है, परन्तु अपनी मनमानी करना नहीं। मैंने प्रचलित अप्रचलित की कभी बात नहीं की है। परन्तु जब कुछ लोगोने तर्क दिये, तो मैंने उनके तर्कों के अनुगुण भी मेरा कार्य उचित है, ये तर्क दिया था। अन्यथा मेरा एक ही मत है, जैसे अन्यों को शब्दों के प्रयोग में सब को स्वतन्त्रता है, वैसे मुझे भी हो। फिर उस में ये अप्रचिलत है या मुझे समझ नहीं आता या अशिक्षित लोगों को समझ नहीं आयेगा इत्यादि कारण देना अनुचित है। समाधान वैसे भी आप से होने की कोई अपेक्षा नहीं थी न है। यदि आप एकाकी प्रबन्धक के रूप में निर्णय ले कर इस चर्चा को बंद करें, तो आप स्वतन्त्र हैं। परन्तु मेरा प्रश्न सर्वदा एक ही रहेगा कि, क्यों एक ही शब्द के प्रयोग पर किसी सम्पादक को विवश किया जा रहा है? ये मनामानी नहीं, तो क्या? ॐNehalDaveND 03:31, 28 सितंबर 2017 (UTC)
इस सम्पादन में जो परिवर्तन हुए हैं, जिस में सन्दर्भों का निष्कासन हुआ है और शब्दों को परिवर्तित किया गया है, यदि ऐसा होता रहा, तो सर्वदा शब्द युद्ध में ही सम्पादक व्यस्त रहेगा। क्योंकि उसने जो शब्द लिखें, जो उसके मन में हैं, उसे बारंबार परिवर्तित करने से कार्य कभी आगे नहीं बढ़ेगा। अंक परिवर्तक निर्मित है, जिसे जो अंक चाहिये वो देखें। उस में किसी लेख में जाकर अंको के परिवर्तन करने की आवश्यकता क्यों हैं? तब जब कुछ लोग अरबी अंक को लिखना चाहते हैं और कुछ देवनागरी। एक शब्द के तो अनेक पर्यायवाची शब्द होते हैं, तो मुझे जो पर्याय अच्छा लगता है, उसे ही में जा कर लेखों में परिवर्तित कर दूं, तो मुझे आप विकिकार्यो में विघ्न उत्पादन करने की श्रेणी में डालते हैं और समान कार्य कोई अन्य करता है, तो उसे पुचकारते हैं। ये प्रबन्धक के मत अनुरूप कार्य करने वालों के प्रति पक्षपात नहीं तो क्या है। मैं केवल शब्दों के प्रयोग में स्वतन्त्रता तो चाहता हूँ। इस में सब ने राजनीति, धार्मिकता और बहुत कुछ जोड़ दिया। उसका उत्तर इसलिये दिया क्योंकि वो आरोप लगा रहे थे। वास्तव में शुद्ध और स्तय विचार मेरा शब्दों के परिवर्तन से होने वाले विवादो के प्रति थी। परन्तु चर्चा को बारं बार यहाँ वहाँ ले जाया गया। इससे प्रश्नों के उत्तर नहीं मिले और समाधान भी नहीं। आप से तो समाधान की कोई अपेक्षा भी नहीं थी अतः अधिकार छोड़ जा रहा था। परन्तु आपके स्थान पर सत्यंजी ने पुछा की पुनर्विचार करें अन्यथा मैं कुछ कहे बिना ही त्याग देता। क्योंकि मुझे पूर्ण विश्वास था कि, आप बिना कुछ चर्चा किये मेरे अधिकार हटा देंगे और सह समाप्त हो जाएगा। परन्तु ये चर्चा चली। वास्तव में सत्यं जी मेरे विरुद्ध केवल दिख रहे हैं, परन्तु प्रत्येक समय वो किसी न किसी प्रकार मुझे मार्ग बताते गये और अन्त में मैंने उनके संकेतो को ग्रहण किया और अधिकार त्याग की बात को अनुचित स्वीकार कर समस्या का समाधान करना चाहा। परन्तु अभी आपके प्रत्युत्तर से स्पष्ट है, कि मैंने पहले विचार जो किया था कि समाधान असम्भव है, वहीं होगा। अब @Innocentbunny, Mala chaubey, Anamdas, , Sniggdha rai, Somesh Tripathi, Sushilmishra, Suyash.dwivedi, अनुनाद सिंह, चंद्र शेखर, SM7, संजीव कुमार, Hindustanilanguage, Swapnil.Karambelkar, Kamini Rathee, Ganesh591, Gaurav561, Hunnjazal, J ansari, अजीत कुमार तिवारी, ShriSanamKumar, Jayprakash12345, आशीष भटनागर, चक्रपाणी, और भोमाराम सुथार:

@संजीव जी, अनिरुद्ध जी, माला जी, सिद्धार्थ जी, हिंदुस्तानवासी जी, अजीत जी, और प्रॉन्स जी: प्रबन्धकगण और अन्य सदस्य जो निर्णय ले मेरे लिये स्वीकार्य होगा। अधिकार की ये बात थी ही नहीं शब्द स्वतन्त्रता की बात थी। जिसे अधिकार की आड़ लेना कहा गया। परन्तु ऊपर मैंने जो सत्य था वो सब के सम्मुख प्रस्थापित किया। अब पुचकारना कहें या चर्चा करना आप सब निर्धारित करें। शब्द प्रयोग की स्वतन्त्रता ही न हो ऐसा कैसे हो सकता है? ॐNehalDaveND 03:46, 28 सितंबर 2017 (UTC)

जयपुर कार्यशाला हेतु अनुदान आवेदन

जैसा कि सभी माननीय सदस्यों को सूचित किया जा चुका है कि हिंदी विकिमीडियन्स सदस्यदल के तत्वावधान में जयपुर में ११-१२ नवंबर के दिन एक अनुरक्षण प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। इसमें होने वाले व्यय हेतु विकिमीडिया फॉऊण्डेशन को अनुदान के लिए निवेदन किया गया है, कृपया अपना समर्थन दें। लिंक नीचे दिया है:

meta:Grants:Project/Rapid/Swapnil Karambelkar/Hindi Wikimedians Technical Meet Nov 2017 at Jaipur --अनामदास 11:28, 24 सितंबर 2017 (UTC)

दिल्ली सम्मेलन का अनुदान प्रस्ताव

@Innocentbunny, Mala chaubey, Anamdas, , Sniggdha rai, Somesh Tripathi, Sushilmishra, Suyash.dwivedi, अनुनाद सिंह, चंद्र शेखर, SM7, संजीव कुमार, Hindustanilanguage, NehalDaveND, Swapnil.Karambelkar, Kamini Rathee, Ganesh591, Gaurav561, Hunnjazal, J ansari, अजीत कुमार तिवारी, ShriSanamKumar, Jayprakash12345, आशीष भटनागर, चक्रपाणी, और भोमाराम सुथार: @संजीव जी, अनिरुद्ध जी, माला जी, सिद्धार्थ जी, हिंदुस्तानवासी जी, अजीत जी, और प्रॉन्स जी: एवं और सभी सक्रिय सदस्यगण।

नमस्ते सभी विकिमित्रों,

जैसा कि हम काफी पहले से ही चर्चा कर रहे है कि दिल्ली में एक सम्मेलन हो ,और अब लगभग ऐसा लग रहा है कि हम सम्मेलन को जनवरी 2018 में अवश्य कर लेंगे। लेकिन इस सम्मेलन की ग्रांट अभी तक हमने सबमिट नहीं की है और कार्य आज ही करना है तो कृपया ग्रांट प्रस्ताव को देखें और सुझाव दें। प्रस्ताव यहाँ है।--•●राजू जांगिड़ (चर्चा करें●•) 12:54, 25 सितंबर 2017 (UTC)

  1. Symbol support vote.svg समर्थन पूर्ण समर्थन है आगे बढ़िए -- सुयश द्विवेदी (वार्ता) 13:52, 25 सितंबर 2017 (UTC)
  2. Symbol support vote.svg समर्थन पूर्ण समर्थन,भोपाल सम्मेलन हुए एक वर्ष हो जाएगा और उसमे लिए संकल्पो को और आगे ले जाएंगे। इस सम्मलेन की महती आवश्यकता है ,देर आये दुरुस्त आये। स्वप्निल करंबेलकर (वार्ता) 13:57, 25 सितंबर 2017 (UTC)
  3. Symbol support vote.svg समर्थन-----Sush_0809 09:25, 26 सितंबर 2017 (UTC)
  4. Symbol support vote.svg समर्थन--मुज़म्मिलुद्दीन (वार्ता) 10:59, 26 सितंबर 2017 (UTC)
  5. Symbol support vote.svg समर्थन -- अनुनाद सिंह (वार्ता) 13:44, 26 सितंबर 2017 (UTC)
  6. Symbol support vote.svg समर्थन -- अतीव प्रतीक्षित सम्मेलन को पूर्ण समर्थन। इसके लिये अनेक विचार बिन्दु प्रतीक्षारत हैं, जिन पर निर्णय लेने हेतु सम्मेलन की प्रतीक्षा है। --आशीष भटनागरवार्ता 16:49, 28 सितंबर 2017 (UTC)

पात्रता

@Innocentbunny, Mala chaubey, Anamdas, , Sniggdha rai, Somesh Tripathi, Sushilmishra, Suyash.dwivedi, अनुनाद सिंह, चंद्र शेखर, SM7, संजीव कुमार, Hindustanilanguage, NehalDaveND, Swapnil.Karambelkar, Kamini Rathee, Ganesh591, Gaurav561, Hunnjazal, J ansari, अजीत कुमार तिवारी, ShriSanamKumar, Jayprakash12345, आशीष भटनागर, चक्रपाणी, और भोमाराम सुथार: @संजीव जी, अनिरुद्ध जी, माला जी, सिद्धार्थ जी, हिंदुस्तानवासी जी, अजीत जी, और प्रॉन्स जी: एवं और सभी सक्रिय सदस्यगण।

कृपया इस फॉर्म को भरें- यह एक पात्रता मानदंड है (अनुदान प्राप्त करने के लिए, यह अनिवार्य है) - https://docs.google.com/forms/d/e/1FAIpQLSdmkCEAk7wkDETUMa-BeKGjuL8mpRy_2NUc8vCxQDdFFjH8Xg/viewform?usp=sf_link AbhiSuryawanshi (वार्ता) 09:28, 30 सितंबर 2017 (UTC)
कमसे कम १० लोगो के जवाब चाहिए, अभी तक एक भी नहीं है। कृपया २ मिनिट दीजिये। - https://docs.google.com/forms/d/e/1FAIpQLSdmkCEAk7wkDETUMa-BeKGjuL8mpRy_2NUc8vCxQDdFFjH8Xg/viewform?usp=sf_link AbhiSuryawanshi (वार्ता) 07:37, 4 अक्टूबर 2017 (UTC)

हिन्दी दिवस लेख प्रतियोगिता के समय में वृद्धि

नमस्ते सर्वेभ्यः

अभी हिन्दी विकिपीडिया पर हिन्दी दिवस लेख प्रतियोगिता चल रही है जिसका आरंभ 14 सितंबर हिन्दी दिवस के दिन हुआ था। जैसे अभूतपूर्व प्रतिसाद मिला है, सदस्यों की राय के अनुसार इसे १४ दिन तक ही रखने के बदले पूरे एक महीने तक चलानी चाहिए जिससे अधिक से अधिक लेखों का निर्माण हो सकें और नए द्सदस्यों को भी जोड़ा जा सके। अतः इस प्रतियोगिता की समय मर्यादा 30 सितंबर से बढ़ाकर १३ अक्तूबर तक बढ़ायी जाती है। १४ सितंबर से १३ अक्तूबर तक ये प्रतियोगिता चलेगी। आप इस प्रतियोगीता से जुड़े नहीं है तो अभी भी जुड़ सकते हैं।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 08:10, 26 सितंबर 2017 (UTC)

धन्यवाद ! इस निर्णय से अवश्य ही अच्छे लेख तथा प्रतियोगी आएँगे --सुयश द्विवेदी (वार्ता) 20:29, 26 सितंबर 2017 (UTC)

पृष्ठ हटाने हेतु चर्चा का पृष्ठ

नमस्ते। साँचा:भारत के राज्यों और संघक्षेत्रों के राज्यपाल और लॅफ़्टिनॅण्ट गवर्नर हटाने हेतू मै नामांकन कर रहा हुं। पर किसी कारण से [[विकिपीडिया:पृष्ठ हटाने हेतु चर्चा/साँचे/भारत के राज्यों और संघक्षेत्रों के राज्यपाल और लॅफ़्टिनॅण्ट गवर्नर]] पृष्ठ बन नही रहा है। क्या कोई सहायता कर सकता है? Dharmadhyaksha (वार्ता) 06:24, 27 सितंबर 2017 (UTC)

-कृपया बताइये कहाँ एवं क्या परेशानी है। मैं सहायता करने का इच्छुक हूँ। स्वप्निल करंबेलकर (वार्ता) 08:09, 27 सितंबर 2017 (UTC)
@Swapnil.Karambelkar: पता नही कहा क्या गडबड हैं। "[[विकिपीडिया:पृष्ठ हटाने हेतु चर्चा/साँचे/भारत के राज्यों और संघक्षेत्रों के राज्यपाल और लॅफ़्टिनॅण्ट गवर्नर]]" ये तो red link भी नहीं दिख रही। Dharmadhyaksha (वार्ता) 10:19, 27 सितंबर 2017 (UTC)
@: जी, क्या यह पहले अपने आप बन जाता था ? मुझे ध्यान नहीं कि यह समस्या अभी आई है या पहले से ही है। कृपया साँचों और ट्विंकल का कोड देखें और बतायें। --SM7--बातचीत-- 19:00, 27 सितंबर 2017 (UTC)
मैंने हहेच नामांकन किया तब ट्विंकल में ये पृष्ठ निर्माण नहीं हुआ। खोज के परिणाम में खोजा, वहाँ कोई पृष्ठ नहीं बना हो तो लाल अक्षरों में दिखता है और उसे बनाने का विकल्प आता है लेकिन इस में नहीं आया। अतः समस्या ट्विंकल में नहीं है। शायद ये पृष्ठ में कोई ऐसा शब्द हो जो पृष्ठ बनाने से सुरक्षित किया गया हो।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 03:32, 28 सितंबर 2017 (UTC)
ये [[विकिपीडिया:पृष्ठ हटाने हेतु चर्चा/साँचे/भारत के राज्यों और संघक्षेत्रों के राज्यपाल और लॅफ़्टिनॅण्ट गवर्नर]] बिना नो विकि लगाए ही नो विकि के प्रारूप में ही प्रदर्शित हो रहा, मतलब पृष्ठ की कड़ी या पृष्ठ न बना हो तो उसकी लाल कड़ी दिखनी चाहिए जो नहीं हो रही।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 03:40, 28 सितंबर 2017 (UTC)
मैंने परीक्षण हेतु मेरे प्रयोगपृष्ठ पर हहेच नामांकन किया, जिस में ट्विंकल से चर्चा का पृष्ठ बन गया। मतलब कि ट्विंकल में कोई क्षति नहीं है। हहेच पन्ने को मैंने उपरोक्त पन्ने के नाम पर स्थानांतरित करने का प्रयत्न किया जो सफल नहीं रहा। निम्नलिखित त्रुटि दिख रही है:
आपको इस पृष्ठ को स्थानांतरित करने की अनुमति नहीं हैं, निम्नलिखित कारण की वजह से:
अनुरोधित पृष्ठ का शीर्षक अमान्य, खाली, या अंतर-भाषीय / अंतर-विकि शीर्षक से गलत ढंग से जुड़ा हुआ है। इसमें एक या एक से अधिक ऐसे अक्षर-स्वरूप (character) हैं जो शीर्षक में इस्तेमाल नहीं किए जा सकते हैं

अतः समस्या का समाधान इसमें से ही मिल जाएगा।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 04:01, 28 सितंबर 2017 (UTC)
इस शीर्षक का आकार 291 बाइट्स है, जबकि 255 बाइट्स से अधिक आकार के शीर्षक बनाने की अनुमति नहीं है। -- (वार्ता) 04:11, 28 सितंबर 2017 (UTC)

प्रतियोगिता में मैंने जो भी लेख लिखे हैं सभी को शीघ्र हटाने का नामांकन किया गया है जिसमे शीघ्र हटाने हेतु असंगत/गलत श्रेणी व1 • अर्थहीन नाम अथवा सम्पूर्णतया अर्थहीन सामग्री वाले पृष्ठ भी चुनी गई है

प्रिय सदस्य:स तथा सदस्य:आर्यावर्त जी, मैंने इस प्रतियोगिता के लिये बड़े परिश्रम से दिन-रात एक कर के ६ लेख लिखे हैं, मैंने प्रथम बार विकिपीडिया में सम्पादन का कार्य किया है. मुझे हिंदी टंकण तक करने का पूर्ण ज्ञान नहीं है बस कर लेता हूँ. और मेरे सभी ६ लेखों को हटाने का नामांकन दो सदस्यों सदस्य:Dharmadhyaksha तथा सदस्य:Swapnil.Karambelkar ने कर दिया है और अभी अभी वे सभी लेख पूर्णरूप से विकिपीडिया से मुझसे बिना किसी चर्चा के हटा दिए गए हैं.

अपितु मैंने सभी शर्तों को ध्यान में रखने का प्रयास किया है लेकिन सदस्य:Chandresh Chhatlani जी के लेख को पढ़ कर मैनें अपने लेख समान्य शैली में लिख दिए थे. सोचा था कि संचालकों से कुछ मार्गदर्शन मिलेगा तो सुधार करूँगा. प्रतियोगिता के अंतिम दिनों में जुड़ने के कारण ज्यादा ही जोश भी है इसलिये गलतियाँ स्वाभाविक हैं. परन्तु मैंने पूर्ण रात्रि अपने लेखों को समर्पित कर दी थी जिनका ऐसा तिरस्कार मेरे दिल को असहनीय कष्ट दे गया है.

कृपया मेरे साथ थोडा सा उदार रवैया अपनाएं और मुझे मार्गदर्शित करें कि मैं प्रतियोगिता के लायक क्यों नहीं हूँ. मेरे लेख और नामांकन सूचना पृष्ठ में और लेख यथास्थान सूचीबद्ध किये गए हैं. कृपया उनको देख कर अपना निर्णय बताएं कि मुझे आगे क्या करना है? कम से कम मेरे द्वारा बनाये गए लेखों को मेरे सदस्य पृष्ठ के उप पृष्ठों में ही डाल दें. --Shubhanshu Singh Chauhan Vegan (वार्ता) 19:09, 27 सितंबर 2017 (UTC)

हमे शुभांशु की बात को भी ध्यान से सुनना चाहिए। मैं भी समझता हूँ कि अपने वर्तमान रूप में इनके द्वारा बनाए गये लेख रखे नहीं जा सकते। किन्तु क्या कुछ परिवर्तन करके हिन्दी विकि पर रखने योग्य बनाया जा सकता है? मुझे इसकी बहुत सम्भावना दिख रही है। -- अनुनाद सिंह (वार्ता) 02:44, 28 सितंबर 2017 (UTC)
शुभांशु जी, हिन्दी दिवस प्रतियोगिता के माध्यम से हिन्दी विकिपीडिया में जुडने के लिए धन्यवाद और आपका स्वागत है। जैसा कि आपने लिखा है, आप के हिसाब से आप की बात सही है किन्तु विकिपीडिया की नीतियों के अनुसार विकिपीडिया में लिखने की शैली कुछ अलग प्रकार की होती है और लेख का विषय भी कुछ अलग प्रकार का होता है जो साहित्यिक प्रकार के लेखन से भिन्न है। इसके लिए पहले आपको विकिपीडिया को समझना होगा। विकिपीडिया एक ज्ञानकोश है, जहां जानकारी का संग्रह होता है। अतः प्रथम तो आप जी विषय में लेख बना रहे हैं वो विषय ज्ञानकोषीय मतलब कि इतिहास में स्थान देने योग्य या तो महत्वपूर्ण होना चाहिए। विकिपीडिया की लिखने की शैली भी अलग है, यहाँ तृतीय पक्ष के तौर पर तटस्थता पूर्वक लिखा जाता है। आप विकिपीडिया से जुड़े ही हैं तो थोड़े समय में विकिपीडिया की कार्यशैली से अवगत हो जाएँगे और बाद में आपको इस प्रकार कि समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ेगा।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 04:18, 28 सितंबर 2017 (UTC)
जी नमस्कार u:आर्यावर्त सम्पादक महोदय, मैंने सदस्य:Chandresh Chhatlani जी का लेख भी अपने लेखों के साथ ध्वस्त होते हुए देखा तब समझ में आया कि हमने प्रतियोगिता को थोड़ा गलत समझ लिया था. हमें लगा कि यह प्रतियोगिता विकी से थोड़ा अलग हट के सिर्फ हिंदी दिवस के अवसर पर बनी है. जबकि इसका उद्देश्य नए विकी लेख बनाना मात्र था. चलिए अब हम अगली बार कोई अच्छा लेख भी लिखेंगे. तब तक अभ्यास करते रहेंगे. आपकी बात मै समझ चुका हूँ तथा मुझे अब किसी प्रकार का दुःख नहीं है. परन्तु जैसा कि वार्ता पृष्ठ में लिखा है कि मेरे पृष्ठ के उप पृष्ठ पर ये पृष्ठ मैं डलवाने का आपसे आग्रह कर सकता हूँ और मैंने किया भी है जिसका कोई उत्तर नहीं दिया गया. तो क्या मेरा आग्रह ठुकराया गया है? यदि आप नहीं करना चाहते तो मुझे उप पृष्ठ बनाने का तरीका बताएं. मैं खुद बना लेता हूँ. आप ईमेल से उनकी सामग्री ही भेज दें. धन्यवाद! --Shubhanshu Singh Chauhan Vegan (वार्ता) 19:06, 28 सितंबर 2017 (UTC)
@Vegan Bareilly: महोदय यह जानकार अच्छा लगा की आपने वरिष्ठ सदस्यों बातें धैर्य पूर्वक पढ़कर प्रतियोगिता के उद्देश्यों को समझा और खुले मन से स्वीकारा, हिन्दी विकिपीडिया पर आपका स्वागत है --सुयश द्विवेदी (वार्ता) 19:23, 28 सितंबर 2017 (UTC)
सुयश द्विवेदी जी समर्थन तथा प्रोत्साहन हेतु आपका धन्यवाद! -- Shubhanshu Singh Chauhan Vegan (वार्ता) 19:57, 28 सितंबर 2017 (UTC)

हिन्दी विकि के नाम से आर्थिक व्यवहार

नमस्ते सर्वेभ्यः

हिन्दी विकिपीडिया में एक और हम सब लेख बनाने में, चौपाल पे चर्चा आदि कार्यों में व्यस्त हैं और ज्ञानकोश को समृद्ध करने के लिए लगातार अपना योगदान दे रहे हैं। दूसरी और आजकल हिन्दी विकिपीडिया के लिए आजकल लाखो रुपयों के आर्थिक व्याहर हो रहे हैं। जिस विषय में समुदाय को अवगत करने के लिए और योग्य निर्णय लेने के लिए ये संदेश यहाँ स्थापित कर रहा हूँ।

समस्या १

कुछ दिन पूर्व चौपाल पर एक प्रस्ताव आया कि हिन्दी विकिपीडिया के लिए एक विज्ञापन प्रचार समिति का गठन किया जाये और इसके लिए केवल ३ सदस्य आमंत्रित हैं। उक्त संदेश में ये नहीं बताया गया था कि हिन्दी विकिपीडिया के लिए फाउंडेशन के द्वारा लाखो रूपिये के अनुदान से एडवरटाइजिंग होने वाला है। ये प्रस्ताव चौपाल के पुरालेख में चला गया, वहाँ ही चर्चा हुई, रातोरात बाहर से कुछ ऐसे सदस्य जिनका योगदान हिन्दी विकि पर ना के बराबर है, आ गए और उनकी समिति भी बन गई जिस में कोई हिन्दी विकिपीडियन नहीं है। ३ से अधिक सदस्यों को भी ले लिया गया और लाखो रूपियों से हिन्दी विकि का प्रचार होने वाला है लेकिन हमें कुछ भी पता नहीं कि ये कैसे होगा, कब कहाँ होगा और कौन कर रहा। समुदाय को कुछ भी पता नहीं।

समस्या २

मेटा पर यहाँ स:AbhiSuryawanshi जी ने, हिन्दी विकिपीडिया के नाम पे ४४००० डॉलर यानी २८ लाख से अधिक रुपयों कि ग्रांट प्राप्त करने हेतु प्रस्ताव रखा है। मैंने यहाँ उनसे पूछा कि इतनी बड़ी ग्रांट लेने का निर्धार कब हो गया हमें तो कुछ पता भी नहीं। उत्तर में उन्होने बताया कि:-

  • चौपाल पे समुदाय से चर्चा करके ये तय किया गया है। (मुझे यहाँ एसी कोई चर्चा नहीं मिली।)
  • सभी प्रबन्धको को व्यक्तिगत कॉल करके बताया गया था। (प्रबंधक ही इसकी पुष्टि कर सकते हैं।)
  • वोटसेप आदि में चर्चा की थी। (मुझे पता नहीं)
  • मेटा पर हिन्दी विकिमेडियन सदस्य दल के पन्ने पर चर्चा। (वहाँ कोई चर्चा नहीं, दो दिन पूर्व सदस्य ने खुद आगामी कार्यक्रम के रूप में एक कड़ी डाल दी थी।)

और तो और इसमें कुछ और समस्याएँ भी हैं। जिसके विषय में भी मैं समुदाय का ध्यान आकर्षित करना चाहूँगा।

  • ये प्रस्ताव का इतिहास देखने से पता चलता है कि पहले ये प्रस्ताव कुछ और ही था और सितंबर में इसमें बदलाव करके ४४००० डॉलर की ग्रांट की रकम जोड़ी गई हैं। जो यहाँ १ सितंबर के पहले के अवतरण में देखा जा सकता है कि ये प्रस्ताव पहले कुछ और था।
  • इतिहास में जाकर देखें तो २०१४ से ये प्रस्ताव वहाँ पे है। तब समर्थन भी करवाए गए थे। लेकिन तब कुछ और ही था और अब कुछ और ही है। समर्थन ले लेने के बाद पूरा प्रस्ताव ही बदल गया है।
  • क्या सदस्य हिन्दी विकिपीडियन है?
  • क्या समुदाय को पता है कि हम ये कार्यक्रम कर रहे हैं और २८ लाख की ग्रांट ले रहे हैं?
  • जब जब भी आर्थिक व्यवहारों की बात आती है बाहर से कुछ लोग आ जाते हैं जो योगदान देने नहीं आते किन्तु ग्रांट लेने में ही रुचि रखने वाले हैं, उनके लिए हमारे पास कोई नीति है? क्या करना चाहिए?
समस्या ३

राजू जी २०१८ में विकिपीडिया का सम्मेलन करवा ने हेतु ५ लाख की ग्रांट ले रहे हैं। जो प्रस्ताव यहाँ है। राजू जी के नाम से इसका संचालन भी उपरोक्त सदस्य के द्वारा ही हो रहा है। कुछ दिन पूर्व राजू जी ने मुझे बताया कि उनकी आयु 18 से 19 साल है। अब इतना छोटा विद्यार्थी 5 लाख की ग्रांट का आर्थिक व्यवहार कैसे कर सकता है? इस ग्रांट के पन्ने पर इतिहास में जाकर देखा जाये तो पहले ये कुछ और ग्रांट का प्रस्ताव था जो सम्मेलन 2017 में होने वाला था और तब वापस ले लिया गया था। उसी प्रस्ताव में पुराने समर्थनों के आधार पर रकम, वर्ष आदि में पूरा बदलाव हो गया और पुराने समर्थनों के आधार पर ही ग्रांट ली जा रही है। 1 लाख रुपया तो cis को केवल ग्रांट के संचालन हेतु दिये जाने वाले है।

  • ये भी बता दें कि इस प्रकार से कार्यक्रमों से हिन्दी विकि को क्या क्या लाभ हुआ है?--☆★आर्यावर्त (✉✉) 05:18, 28 सितंबर 2017 (UTC)
Gnome3-surprise.svg
ये आंकड़े पढने के बाद के धर्माध्यक्ष॰॰॰ Dharmadhyaksha (वार्ता) 07:39, 28 सितंबर 2017 (UTC)]]
२०१४ से अब तक AbhiSuryawanshi के ५०० संपादन भी नही है और कुल १० लेखों मे संपादन किया है। संपादनों की संख्या ज्यादा मायने नही रखती, पर शायद ये महोदय इतने कम योगदान में हिन्दी विकि ठिक से समझे भी नही होगे। Dharmadhyaksha (वार्ता) 08:26, 28 सितंबर 2017 (UTC)
आपके विचार से मैं सहमत हूँ। ऐसा लगता है विकिमीडिया फाउंडेशन के उदार रवैये का गलत इस्तेमाल किया जा रहा है। वह कमजोर विकिपीडियाओं को मजबूत बनाने के लिये हर संभव मदद करने को तैयार है तो कुछ लोगों ने इसके फायदा लिया है। इस पर विचार किया जाए। @Dharmadhyaksha: उनको अधिकार इसलिये दिया गया है क्योंकि वो परिचित है। वह सम्मेलन आदि ही करते हैं। इसलिये उनके छोटे मोटे योगदान जाँचने की जरूरत अधिकार देने वाले प्रबंधक को महसूस नहीं हुई।--हिंदुस्थान वासी वार्ता 09:08, 28 सितंबर 2017 (UTC)
@हिंदुस्थान वासी: क्या कौन से अधिकार?! मै समझा नहीं। अनुदान तो कोई भी मांग सकता है। पर क्या वह व्यक्ति उसके लिए योग्य है या नही वह जानना जरुरी है। खैर, बाकी चर्चा तो Grants talk:IdeaLab/Hindi Wikipedia Outreach पर होगी अब। Dharmadhyaksha (वार्ता) 09:41, 28 सितंबर 2017 (UTC)
मै भी आर्यावर्त जी की बातों से सहमत हू। जो व्यक्ति केवल ग्रांट के लिए आते है वो सही नहीं है। उनका योगदान भी होना चाहिए। 28 लाख कोई मामूली रकम नहीं है। मै हिन्दी विकि पर जब से आया हू तब से अभी तक भोपाल सम्मेलन हुआ है जो रैपिड ग्रांट पर था लगभग 1.5 लाखा का। अगर दो लाख का भी हम ओसत ले तो हम 14 सम्मेलन 28 लाख मे करा सकते है। और छोटे मोटे कॉलेज मे शिक्षण भी कर सकते है। यदि 14 सम्मेलन मे 10 मे भी शिक्षण किया और 5 सदस्य प्रति शिक्षण जोड़े तो 50 लोग भी हिन्दी विकि पर बहुत मदद कर सकते है। लेकिन 28 लाख एक ही चीज पर खर्चा करना सही है। एक वैश्विक नीति है कि Don't put all egg in One Basket अर्थात सारे अंडे एक ही टोकरी मे मत डालो। हमे भी केवल छोटे छोटे कार्यक्रम करने चाहिए। और उनमे मिली नाकामी से सीखना चाहिए। 28 लाख का जुआ एक कार्यक्रम पर बिलकुल सही नहीं है। और जो लोग केवल ग्रांट के लिए आ रहे है उन्हे रोका जाना चाहिए।-जयप्रकाश >>> वार्ता 04:24, 29 सितंबर 2017 (UTC)
बिलकुल तार्किक है कि चौपाल पर चर्चा किए बिना हिंदी विकि के नाम पर ग्रांट नहीं ली जानी चाहिए। लेकिन सवाल यह है कि ग्रांट देने वाले दे कैसे रहे हैं? अवश्य ही ऐसे कुछ नियम अथवा छिद्र हैं जिनके बारे में अधिकांश समुदाय जानता नहीं है। योगेश जी ने यह संदेश चौपाल पर दिया इसके लिए उनका साधुवाद। लेकिन कहीं ऐसा न हो कि अनुदान लेने वाले वहाँ अनुदान ले लें और हम यहाँ चर्चा करते रहें। अतः सर्वप्रथम अपनी आपत्तियों को वहाँ दर्ज करवाना अत्यावश्यक है, जहाँ अनुदान प्रदाता इसे देखने वाले हैं। यह अवश्य कह दूँ कि न तो आलोचकों को प्रस्तावकों की नीयत पर शक करने की आवश्यकता है, और न ही प्रस्तावकों को आलोचकों की। सकारात्मक तरीके से सवाल रखे जाने चाहिएँ (प्रस्तावक भी अनुभवी और पुराने सदस्य हैं), सकारात्मक तरीके से जवाब भी दिए जाने चाहिएं (प्रस्तावक कितने ही पुराने और अनुभवी हों, उन्हें यह देखना चाहिए कि उनकी कार्यपद्धति से संदेह उत्पन्न हो रहा है)। विकिपीडिया की आपसी सद्भावना की नीति के अनुसार ही प्रश्न किए जाने चाहिएँ, प्रश्नकर्ता उचित उत्तर मिलने पर समर्थन करने को तैयार रहे, व प्रस्तावक उचित उत्तर न दे सकने की स्थिति में प्रस्ताव वापिस लेने अथवा प्रस्नकर्ता के सुझाव के अनुसार परिवर्तन करने को तैयार रहे। इस चर्चा से वातावरण प्रदूषित न हो इसका दोनों पक्ष ध्यान रखें।
ऊपर एक प्रश्न में प्रबंधकों की भूमिका पर सवाल उठाया गया है। एक प्रबंधक होने के नाते मैं अपना उत्तर प्रस्तुत करना चाहूँगा। जहाँ तक प्रबंधक से हुई चर्चा की बात है तो मेरा स्पष्ट मत है कि मेरे साथ किसी की फोन पर हुई कोई भी बात मेरे व्यक्तिगत विचार हो सकते हैं, किसी भी प्रकार से उसे हिंदी विकिपीडिया समुदाय की राय समझ लिया जाएगा या इस प्रकार दिखाया जाएगा तो मैं इसका सख्त विरोध करता हूँ। मेरे विचार एकदम स्पष्ट हैं - किसी भी व्यक्तिगत वार्तालाप की जिम्मेदारी मैं नहीं लेता और किसी भी प्रकार से मेरी किसी भी बात को समुदाय की बात नहीं समझा जाए। मैं पूर्णतया पारदर्शिता में विश्वास करता हूँ और इस बारे में मुझे कोई संदेह नहीं है कि जब तक चौपाल में कोई बात स्पष्ट नहीं लिख दी जाती तब तक किसी को भी उसे समुदाय की राय मानने का अधिकार नहीं है। प्रबंधक का अर्थ सिर्फ विकि में संपादन के अतिरिक्त किए जाने वाले रखरखाव में भाग लेना मात्र है, प्रबंधक का अर्थ समुदाय का प्रतिनिधित्व कतई नहीं है, जब तक कि चौपाल पर ऐसा स्पष्ट जनादेश न ले लिया जाए। समुदाय ही सर्वोपरि है, जिसके लिए चौपाल ही सर्वाधिक उचित मंच है। हालाँकि हम लोग हैंगआऊट, व्हट्सअप आदि पर भी सामूहिक चर्चाएँ करते हैं, लेकिन यहाँ भी मेरा स्पष्ट मत है कि ऐसी कोई भी चर्चा अथवा निर्णय मान्य नःीं जब तक कि चौपाल पर समुदाय उसे स्वीकृत न कर ले। --अनामदास 06:55, 29 सितंबर 2017 (UTC)

प्रस्ताव ३ के बारे बात की जाए तो जितना मुझे पता है उसके अनुसार राजू जी को भविष्य में तैयार करने के लिए आगे रखा गया है। आप ध्यान से देखें तो पाएंगे कि कई अनुभवी व्यक्ति उनके साथ हैं। आशा है इससे आपकी चिंता का निवारण हो गया होगा। यदि आप भी उनकी सहायता करना चाहें तो आपका भी स्वागत है। बाकी तकनीकी खामियों के बारे में प्रस्तावपृष्ठ पर ही आपत्ति दर्ज करवाना उचित रहेगा। --अनामदास 07:05, 29 सितंबर 2017 (UTC)


स्पष्टीकरण

समस्या २

सवाल पूछने के लिये धन्यवाद मैं पूरी कोशिश करूँगा सभी सदस्यों को उनके सवालों के जवाब मिले -

संक्षेप में मेरी समज में यह कुछ सवाल हैं

चौपाल पर जो भी जानकारी दी वह पूरी नहीं थी और सबसे अहम चीज की धन के बारे में चौपाल पर बात नहीं की

जहां तक धन की बात है हमने अभी हाल ही में इसपर फैसला किया है। आप सब ग्रैंड पेज पर देख सकते है की २५% स्पोनसएशिप हमे मिली है और कोशिश जारी है की हम पूरी स्पॉन्सरशिप प्रदान करले। अगर धन की बात को हटा दे तो पूरा प्रपोजल हिंदी में यहाँ हुआ था।

आप सब ग्रैंड पेज पर देख सकते है की २५% स्पोनसएशिप हमे मिली है और कोशिश जारी है की हम पूरी स्पॉन्सरशिप प्रदान करले। आप सब जानते है की सरकारे देर दूरस्थ फैसले लेती है। और यही वजह है देर से डाला। हमने विदेशी राज्य मंत्री से तक बात किया है और प्रयास जारी है। विदेश में हिंदी के बढ़ा-वे का कार्य विदेश मंत्रालय करता है और इस प्रचार पर काफी राशि खर्च भी करता है और वह आप सब देख अपेंडिक्स मे सकते है। जी हाँ देर ही सही हमें धन की बात साझा कर देनी थी। हमने प्रोजेक्ट ग्रांट के नियमो के अनुसार हिंदी मेलिंग लिस्ट पर तुरंत डाल दिया लेकिन चौपाल पर नहीं, हम आगे से ध्यान रखेंगे। हम माफी मांगते है। जहा तक बिना बताये ग्रांट लेना की है कोई भी प्रोजेक्ट ग्रांट बिना कम्युनिटी रिव्यु के नहीं पास होती है। कम्युनिटी को सूचित करा जाता है की ग्रांट सबमिट हुई है। फिर भी गलती के लिए माफी मांगते है |

जो धन माँगा गया है वो बहुत ज्यादा है और उचित नहीं

आप सब को पता है की अमेरिका में और भारत में आर्थिक फर्कः है फिर भी अमेरिका के औसत से बहुत कम है(https://www.payscale.com/research/US/Job=Program_Manager%2C_Non-Profit_Organization/Salary) | अमेरिका से स्पोंसरशिप मिल ही चुकी है और का प्रयास हम कर ही रहे है और भारत सरकार से भी। इसके अथवा में आप को साझा करना चाहूंगा की बाकि प्रोजेक्ट ग्रांट्स के बारे मे भारत से कई प्रोजेक्ट ग्रैंड है और आप आर्थिक अंतर देखे तो हम ऐसा कुछ ज्यादा नहीं मांग रहे है | २२ लांख रुपये लोग हिंदुस्तान में भी मांग रहे है जिसमे हिंदी पर भी काम होगा | खैर प्रोजेक्ट ग्रांट का मकसद पूरा करना उद्देश्य है न की तुलना और हम भरोसा दिलाते है की हम उद्देश्य पूरा करेंगे। कैसे क्या कार्य करेंगे - वो हमने चार्ट वह बुलेट पॉइंट्स से बताया है। कृपया राय दे | इसके अलावा हम यह भी साझा करना चाहते है की बाकी हिंदुस्तानी भाषा पर कितना खर्च किया गया है|


भारत में छोटी छोटी कार्य करना भहतर है ना की अमेरिका या विदेश में कही और

इसमें कोई संदेह नहीं कि भारत मे और कार्य होने चाहिए। परंतु ध्यान दें कांफ्रेंस और प्रोजेक्ट ग्रैंट दो अलग चीज़ है और कांफ्रेंस ग्रांट पर भी हम आगे आ रहे है। आप सब को पता है कि बहुत सारे भारत के वासी विदेश में रहते है। इनके पास लैपटॉप इंटरनेट की कोई समस्या नहीं होती है और इनकी पहेली या फिर दूसरी भाषा आज भी हिंदी होती है। गौर करे भारत सरकार विदेश में हिंदी पर क्यों इतना खर्चा करे गी और हिंदी सेक्रेटेरिएट देश से बाहर क्यों खोलेगी। क्या भारत सरकार के लिये देश का विकास सबसे पहले नहीं है ? फ्रांस कभी फ्रेंच को , स्पेन कभी स्पेनिश को या फिर इंग्लैंड कभी इंग्लिश को अपने देश तक सीमित नहीं रखता है। अमेरिका के चैप्टर भी इसका समर्थन कर रहे है अगर वो हिंदी को बढ़ावा देना चाहते है तो वह कुछ गलत नहीं कर रहे है हमें उनका आभारी होना चाहिए |

समुदाय के लोगो को भरोसे में नहीं लिया

हैंगऑउट, व्हाट्सप्प, कांफ्रेंस कॉल और चौपाल पर बात तो करी पर लोगो ने जैसे बताया है आगे से वैसे ही करेंगे और चौपाल पर ज्यादा सतर्क रहेंगे | ध्यान दे कम्युनिटी से पूछे बिना कोई ग्रांट नहीं आगे जाती है।

समर्थन बहुत पुराने है और बहुत कुछ बदल चुका है

यह कार्य २०१४ से प्लान किया जा रहा है अगर आप विस्तार से देखे तो सारी हिंदुस्तानी भाषा पर काम करने का इरादा है पर चर्चा में यह साफ़ हुआ की एक भाषा से शुरू किया जाएगा। हिंदी इस लिए क्योंकि भारत सरकार विदेश में हिंदी पर बहुत काम करती है और हम चाहते है की फाउंडेशन का पैसे कम से काम उपयोग हो।

अगर कुछ चीज़े रह गयी हो तो ज़रूर बताये और एक बार माफ़ी माँगना चाहूंगा। AbhiSuryawanshi (वार्ता) 22:06, 29 सितंबर 2017 (UTC)

बाकी भारतीय भाषा और उनके कर्मचारी और कार्यक्रमों पे किया जा रहा खर्चा -
स्टाफ स्तर रुपया (INR) डॉलर (US$)
1 भारतीय भाषा विकास - विकि कर्मचारी वेतन
1.1 संचालक 562,647.36 82,09.024982
1.2 प्रबंधक 1,056,000 15,407.04
1.3 कार्यक्रम अधिकारी 99,7603.2 14555.03069
1.4 कार्यक्रम अधिकारी 912093.6 13,307.44562
1.5 कार्यक्रम अधिकारी 954,848.4 13,931.23816
1.6 कार्यक्रम सहयोगी 501600 7,318.344
Total 4984792.56 72728.1234
Sr. No. भाषा रुपया (INR) डॉलर (US$)
1 Language Area Plans
1.1 कन्नड़ विकिपीडिया 626000 10,116.16
1.2 कन्नड़ विकिसोर्स 601000 9,712.16
1.3 कोंकणी 818400 13,225.34
1.4 मराठी 873400 14,114.14
1.5 ओड़िआ विकिपीडिया 656648 10,611.43
1.6 ओड़िआ विकिसोर्स 636648 10,288.23
1.7 तेलुगू विकिपीडिया 627048 10,133.10
1.8 तेलुगू विकिसोर्स 577048 9,325.10
Total 5416192 87,525.66

इसी के कारण बाकी के विकी समुदाय बढ़ रहे है और एक दिन हमसे आगे भी निकल जाएंगे। उनके पास कर्मचारी हैं जो साझेदारी / पार्टनरशिप्स बढ़ाते है। जर्मन विकिपीडिया वालो का तो ९० लोगोका कार्यालय है।

हिंदी के लिए भी बढ़ना हैं तो भारत सरकार द्वारा दिया गया हात पकड़ना चाहिए और आगे बढ़ना चाहिए ऐसे मुझे लगता है।

बात आती है मेरी - मैंने पिछले ७ साल में - सूडान, कैरो , न्यू यॉर्क, बोस्टन, सँन फ्रांसिस्को, सँन डिएगो, न्यू इंग्लैंड, बर्लिन जैसी जगहों पे विकी के लिए उपक्रम किये है और वहा पर ६ साल तक पूछते थे की आप हिंदी पे क्यों कुछ नहीं करते (ऑफलाइन काम), २०१५ में पहला हिंदी सम्मेलन मैंने ही आयोजित किया था (सबके मदत से), आप जिस हिंदी व्हाट्सप्प ग्रुप पे बात करते हो - वो भी मैंने ही शुरू किया था । और उसके बाद काम के बजह से दूर जाना पड़ा था - अब काम करने के लिए प्रायोजक तक ढूंढ लिए तो लोग बोलते है ये कहा से आगया। विकि के इतिहास के पन्नो में झांको तो आधे देशो के कार्यक्रमो में मेरा नाम मिलेगा। हिंदी में देरी से आने के लिए माफ़ी चाहता हु और अगली बार से पारदर्शिता पर और मेहनत लूंगा।

AbhiSuryawanshi (वार्ता) 06:39, 30 सितंबर 2017 (UTC)


ग्रांट प्रस्ताव में एक और छलावा

जैसा कि कुछ सदस्यो ने बिना हिन्दी विकिपीडिया समुदाय की आम सहमती लिए बिना ही मेटा पर हिन्दी विकिपीडिया के नाम पे 44000 डॉलर-28 लाख रुपये की ग्रांट ली जा रही है और समुदाय को पता ही नहीं था। ये विषय पे चौपाल पे और ग्रांट के वार्तापृष्ठ पर चर्चा चल रही है। ये चर्चा यहाँ है:-

ग्रांट के वार्तापृष्ठ की चर्चा का पाठ

I'm Active user and reviewer on Hindi Wikipedia. In my information hindi wiki dont know about this proposal. No any discussion i local village pump. All endorsement are very old, sice 2014. Community do not know about this. After endorsement that time this proposal is totally changed now.user submitted this high budget request without community discussion.--आर्यावर्त (talk) 16:30, 26 September 2017 (UTC)

This proposal came out of Hindi Wikipedia 2014 and 2015 meet-up and national conference. Photos as well as links provided. Apart from that in last two months, updated links were shared on all possible platforms. Sorry if you missed them, I am listing notifications -
Recent Aug 2017 Community Notifications
Community space Reference
Hindi Wiki Village Pump Link
WM Hindi User Group Link
Hindi WM Mailing List Link
Phone Calls/

feedback

Called All admins

on Hi Wiki

WhatsApp Group discussions
Hindi Wiki

Google Hangout Log

Link

Thank you AbhiSuryawanshi (talk) 18:58, 26 September 2017 (UTC)

u provide vilage pump link but there is no ant discussion related about your 48000 doller grant proposel. m asking here to community about this proposel but community do not know abot. also u updated (in grant page) 48000 doller related changes in september. in auguest this proposel is diff.
  • in user group page, you updated your self. only link. no any discussion. i think you are making fraud.
  • admin replyed here, admin is not community.
  • i have in hagout discussin. you taking only abot activity plan. not talking about your proposel. we dnt know you making grant proposel.

so i thiunk its fraud. please withdraw this proposel and next time do not make any grant proposel for hiwiki without community discussion. thanks.--आर्यावर्त (talk) 14:45, 29 September 2017 (UTC)

Dear Yogesh-ji (आर्यावर्त),
Interestingly - you were the only person involved in this grant discussion on Hindi Wikipedia Village pump. I am attaching the screenshot in case if you forgot it. Fortunately everything is documented and it is still in Village Pump archives.
You talked about the grant amount and asked for program details, and I shared it (proposal summary in Hindi) - adding another screenshot and VP archive link.
As per as exact amount and timing is concerned - we were negotiating with sponsors and were hopeful about getting 100% however, we got 25% and after receiving confirmation - we updated grant proposal and immediately sent notifications. We are hopeful about getting 100% external support in future after running this pilot project.
I would appreciate if you can provide explanation behind your surprise, is there any misunderstanding? Thank you bringing it to our notice, we have sent another notification with updated grant budget (and Hindi translation) to mailing list as well as Village Pump. Your feedback is valuable and it will help us in future. AbhiSuryawanshi (talk) 10:37, 30 September 2017 (UTC)
Dear abhishek ji read my responce carefully in this discussion mainteind by you. i have aske you in this discussion no detail about my question. in this duscussion community dont supporting you to make this grant proposel. thanks.--आर्यावर्त (talk) 05:51, 1 October 2017 (UTC)

उपरोक्त चर्चा में उल्लेखित चौपाल की चर्चा

सदस्य ने उपरोक्त चर्चा में चौपाल की जिस चर्चा का उल्लेख किया है वो चर्चा यहाँ ये पुरालेख में है और सदस्यो के लिए में उसे नीचे डाल रहा हूँ:-

न्यू यॉर्क में रहने वाले स्वयंसेवक हिंदी विकिपीडिया से ज्यादा लोग जोड़ने के लिये प्रयास शुरू कर रहे हैं। अगर कोई न्यू यॉर्क में है और अगर आपक स्वयंसेवक स्तर पे कार्यशाला में सहभागी होना चाहते हैं तो कृपया यहाँ पर अपना नाम दर्ज करे। AbhiSuryawanshi (वार्ता) 04:29, 15 अगस्त 2017 (UTC)

@AbhiSuryawanshi जी, इसमें न तो दिनांक, स्थल कार्यक्रम, खर्छ का विवरण है और न ही कोइ विशेष जानकारी है। आपसे अनुरोध और हम अपेक्षा रखते हैं कि आप हिन्दी विकि के नाम से कोई कार्यक्रम कर रहे हैं तो हिन्दी विकि समूदाय को विश्वास में लेने के बाद कीजीये तो अवश्य हमारा समर्थन रहेगा। आप २४ लाख जी ग्रांत माग रहे हैं किन्तु समूदाय को इस बात का कुछ भी पता नहीं है।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 10:18, 18 अगस्त 2017 (UTC)
@आर्यावर्त जी, २४ लाख की बात कहा पे हो रही हैं? अगर आपको पता है तो समुदाय को भी बताइये। कृपया लिंक दीजिये। धन्यवाद। AbhiSuryawanshi (वार्ता) 17:25, 18 अगस्त 2017 (UTC)
तब आप ही कृपया पूरी जानकारी विस्तार से बताएं। मेरे पास तो यहीं जानकारी है।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 13:51, 20 अगस्त 2017 (UTC)

टिप्पणी

  • उपरोक्त चर्चा में सदस्य ने सदस्य ने कुछ भी जानकारी नहीं दी थी। मेरे द्वारा पुछने पर उन्होने कहाँ कि 24 लाखा की ग्रांट? आपको पता हो तो कड़ी दीजिये! अब इस चर्चा के आधार पर ग्रांट कैसे माँग सकते हैं? तब कुछ और कह रहे अब 24 लाख से भी अधिक रकम की ग्रांट का प्रस्ताव हो गया और समुदाय को बताए बिना ही ग्रांट प्रस्ताव सबमिट भी कर दिया गया है।
  • उपरोक्त चर्चा में हिन्दी सदस्य का उल्लेख किया गया है और कड़ी भी दी है है। वहाँ जाकर इतिहास में देखा जाये तो जो भी जानकारी है इसी सदस्य ने रख दी है और कड़ी दे दी है। वहाँ कोई चर्चा दिख नहीं रही। और तो और हमारे द्वारा चुने गए ध्वजवाहक इस विषय में मौन रहकर कोई भी स्पष्टता नहीं कर रहे हैं।
  • जिस हेंगाउट चर्चा का हवाला इसमें दिया गया है, उक्त चर्चा में मैं भी था। वहाँ इस प्रकार की ग्रांट लेने की कोई भी चर्चा नहीं हुई थी।
  • ये प्रस्ताव सबमिट हो गया है और उसे रोकने के लिए सदस्य दल के ध्वजवाहको के द्वारा अभी भी क्यों कोई कदम नहीं उठाए जा रहे?
  • चौपाल के पुरालेख की चर्चा से ये भी साबित हो जाता है कि 18 अगस्त को ही मेरे द्वारा सदस्य को सूचित किया गया था कि आप बिना समुदाय की अनुमति लिए 24 लाख की ग्रांट ले रहे है। वहाँ पुछने पर सदस्य ने कोई जानकारी नहीं दी और तो और ये सूचित करने के बावजूद भी हिन्दी विकिपीडिया के नाम से ग्रांट प्रस्ताव डालने से पहले समुदाय की समहती लेना उचित नहीं समझा।
  • अगर इस प्रकार की कार्यप्रणाली और कार्यो को अभी अनुमति दे दी जाएगी तो आगे किसी को भी इस प्रकार से बिना समुदाय को बताए या तो बताना कुछ और दिखाना कुछ और करके कितनी भी रकम की ग्रांट लेने के लिए प्रोत्साहन मिलेगा।
  • इसके पहेले की चर्चा में सदस्य ने बताया है की उन्होने 25% स्पोंसर ढूँढे हैं और 100% स्पोनसरशिप ढूंढ रहे हैं। विकिपीडिया के लिए हम चन्दा माँग ते हैं? क्या समुदाय को पता है कि हम चन्दा माँग रहे हैं? क्या समुदाय ने ऐसा कुछ तय किया है कि हम हिन्दी विकिपीडिया के लिए चन्दा मांगे? क्या ये सही है?इसकी अनुमति किसने दी?--☆★आर्यावर्त (✉✉) 06:30, 1 अक्टूबर 2017 (UTC)

अतिरिक्त स्पष्टीकरण

नमस्ते आर्यावर्त जी,
इससे पहले की में आप के प्रश्न का उत्तर दूँ में आप से अनुरोध करता हूँ कि आप यह चर्चा समस्या २ के अंतर्गत ही करे | इससे बाकी लोगों के लिए पढ़ना आसान रहेगा |
मेरे द्वारा पुछने पर उन्होने कहाँ कि 24 लाखा की ग्रांट? आपको पता हो तो कड़ी दीजिये! अब इस चर्चा के आधार पर ग्रांट कैसे माँग सकते हैं? तब कुछ और कह रहे अब 24 लाख से भी अधिक रकम की ग्रांट का प्रस्ताव हो गया और समुदाय को बताए बिना ही ग्रांट प्रस्ताव सबमिट भी कर दिया गया है।
आप से अनुरोध है कि आप कल की चौपाल स्पष्टीकरण को पढ़े| जब मैंने यह बात साझा करी थी तब तक कोई ग्रांट का इरादा नहीं था | जैसा की कल साझा किया हम स्पॉन्सरशिप का प्रयास कर रहे थे और अभी भी कर रहे है |
जब आप ने २४ लाख कि बात करी तब मैंने आप से ही पूछा यह किसने बोला हमने खुद कोई गणना नहीं कि थी | और मैं फिर पूछता हूँ यह किसने बोला था आप ने  इसका उत्तर नहीं दिया | जहाँ तक इससे अधिक ग्रांट का सवाल है|
इसका २४ लाख की आप की बात से कोई मेल नहीं है | जहाँ तक ज्यादा धन की बात है इसके बारे में हम कल जानकारी दे चुके है|
उपरोक्त चर्चा में हिन्दी सदस्य का उल्लेख किया गया है और कड़ी भी दी है है। वहाँ जाकर इतिहास में देखा जाये तो जो भी जानकारी है इसी सदस्य ने रख दी है और कड़ी दे दी है। वहाँ कोई चर्चा दिख नहीं रही। और तो और हमारे द्वारा चुने गए ध्वजवाहक इस विषय में मौन रहकर कोई भी स्पष्टता नहीं कर रहे हैं।
जहाँ तक मुझे आप की समस्या समाज में आ रही है आप नाराज़ है की चौपाल पर क्यों नहीं रखा | हमने कल सब कुछ साझा कर दिया है और  पिछली  गलती के लिए माफी भी मांगी है | कृपया ऊपर पढ़े | सभी लोग सवाल करने के लिया आमंत्रित है |
जिस हेंगाउट चर्चा का हवाला इसमें दिया गया है, उक्त चर्चा में मैं भी था। वहाँ इस प्रकार की ग्रांट लेने की कोई भी चर्चा नहीं हुई थी।
में नहीं देख सकता हूँ की आप वहाँ उपस्थित थे (12 अगस्त) | उस दिन ६ सदस्य उपस्थित थे पर आप नहीं | पर इससे कोई फर्क नहीं पड़ता हम आप के सारे उत्तर दे रहे है |
ये प्रस्ताव सबमिट हो गया है और उसे रोकने के लिए सदस्य दल के ध्वजवाहको के द्वारा अभी भी क्यों कोई कदम नहीं उठाए जा रहे?
जैसा की कल कहा प्रस्ताव कम्युनिटी रिव्यू के लिया जाता है फिर ही पारित होता है| यह रैपिड ग्रांट  नहीं है | आप खुद ही प्रोजेक्ट ग्रैंट के पेज पर पढ़ सकते है| कम्युनिटी रिव्यू के लिए हमने बहुत तैयारी किये है | धन का उपयोग कैसे होगा यह टेबल, चार्ट और बुलेट पॉइंट से बताया है | आशा करूँगा की आप इसपर राय दे |
चौपाल के पुरालेख की चर्चा से ये भी साबित हो जाता है कि 18 अगस्त को ही मेरे द्वारा सदस्य को सूचित किया गया था कि आप बिना समुदाय की अनुमति लिए 24 लाख की ग्रांट ले रहे है। वहाँ पुछने पर सदस्य ने कोई जानकारी नहीं दी और तो और ये सूचित करने के बावजूद भी हिन्दी विकिपीडिया के नाम से ग्रांट प्रस्ताव डालने से पहले समुदाय की समहती लेना उचित नहीं समझा।
जहाँ तक बिना बताये ग्रांट डाला इसके बारे में हम कल लिख चुके है और माफ़ी भी मांग चुके है | कृपया ऊपर पढ़े | नहीं पता और क्या कहें- क्या दंड देना चाहेंगे ? मैं आप से १८ अगस्त की बात से सहमत नहीं हूँ |
अगर इस प्रकार की कार्यप्रणाली और कार्यो को अभी अनुमति दे दी जाएगी तो आगे किसी को भी इस प्रकार से बिना समुदाय को बताए या तो बताना कुछ और दिखाना कुछ और करके कितनी भी रकम की ग्रांट लेने के लिए प्रोत्साहन मिलेगा।
कम्युनिटी रिव्यु (समुदाय समीक्षा) : एक शब्द में जवाब| फाउंडेशन भी सतर्क रहता है ऐसा कुछ ना हो | वरना तो लोग हवाई जहाज भी खरीद लेंगे। 
फाउंडेशन के पास १५ से ज्यादा का अनुभव है और वह ऐसी चीज़ो का ख्याल रखते है।  
इसके पहेले की चर्चा में सदस्य ने बताया है की उन्होने 25% स्पोंसर ढूँढे हैं और 100% स्पोनसरशिप ढूंढ रहे हैं। विकिपीडिया के लिए हम चन्दा माँग ते हैं? क्या समुदाय को पता है कि हम चन्दा माँग रहे हैं? क्या समुदाय ने ऐसा कुछ तय किया है कि हम हिन्दी विकिपीडिया के लिए चन्दा मांगे? क्या ये सही है?इसकी अनुमति किसने दी?-
विकिमेडीया फाउंडेशन  सिर्फ ‘और सिर्फ'  चन्दा पर चलती है | यह चंदा लेने का अधिकार फाउंडेशन  और चैपटर  को होता है| जैसा की हमने बताया अमेरिका के चैपटर इसका सहयोग कर रहे है|

---

आशा है  की आपको सभी सवालो का जवाब मिल गया है, और कोई जानकारी चाहिए हो तो ज़रूर पूछे।  बाकी के सदस्य भी अपनी टिपण्णी दे सकते है।  
हम दोनों के मार्ग अलग अलग भले ही हो पर आपका और मेरा मकसद एक ही है - हिंदी विकिपीडिया की तरक्की।   हम एक साथ काम करे तो हम ज्यादा लोगो तक विकिपीडिया पोहोंचा सकते है। 
विशेष निवेदन
अगर आप प्रकल्प में लिखी हुए चीज़ो पर सवाल पूछे तो हम इस कार्यशाला को और बेहतर बना सकते है, जिससे हिंदी का ही फायदा होगा।  धन्यवाद AbhiSuryawanshi (वार्ता) 09:05, 1 अक्टूबर 2017 (UTC)
अभिषेक जी उत्तर देने हेतु धन्यवाद। वैसे ये सवाल आपसे नहीं समुदाय और हमारे सदस्य दाल के ध्वजवाहकों के लिए थे। @Anamdas, Suyash.dwivedi, और आशीष भटनागर: जी स्पष्टता करें और आगे की कार्यवाही करके जो भी हो स्पष्ट रखें। आपसे सवाल ये था कि इस प्रस्ताव में हिन्दी सदस्य दल का भी नाम है, सुयश जी आदि का समर्थन भी वहाँ है और इस कार्य को हिन्दी सदस्य दल की इवेंट के रूप में बताया गया है और ग्रांट माँगी जा रही है तो क्या सदस्य दल ने ये कार्यक्रम तय किया है? चर्चा हुई थी? आप सब भी इसमें जुड़े हुए हैं? ये कार्यक्रम सदस्य दल कर रहा है?

आप लोगों में चर्चा करके इस ग्रांट प्रस्ताव डालने हेतु आपसी सहमति बनी थी? क्या हिन्दी सदस्य दल ने न्यूयॉर्क में भी कोई ब्रांच खोली है? कृपया बताएं। --☆★आर्यावर्त (✉✉) 11:12, 1 अक्टूबर 2017 (UTC)

@आर्यावर्त: - मैंने उत्तर नीचे दिए हैं। उसे पढ़ लें। किसकी कितनी सहमति है आपको पता चल जाएगा। जब आपको पता ही है कि सुयश जी का समर्थन पुराना है तो उक्त प्रश्न का क्या अर्थ है? जब आपको पता ही है कि धन की बात आखरी दिन लिखी गई तो उक्त प्रश्न कयों? जब अपनी व्यक्तिगत वार्ताओं को सामुदायिक समर्थन समझने पर विरोध मैंपहले ही कर चुका तो उक्त प्रश्न क्यों? दूसरी बात- क्या अभिषेक जी सदस्यदल के सदस्य नहीं है? क्या सदस्य दल विकिपीडियनों से अलग है? क्या सदस्यदल की ब्रांच अमरेली में नहीं है? आप प्रश्न पूछने से पहले ही अभिषेक जी को कोई माफिया मान बैठे हैं ऐसा लग रहा है? साथ ही यह भी मान बैठे हैं कि जो आपका समर्थन न करे वह उनका गुर्गा। ध्यान रखें कि यदि आप प्रश्न किसी पूर्वाग्रह से ग्रस्त होकर पूछ रहे हैं तो आप अपनी ही महत्ता कम कर रहे हैं। ध्यान रखें कि आप और हम सभी हिंदी विकि के सम्मानित सदस्य हैं और आपसी सद्भाव ही हिंदी विकि के विकास का एकमात्र उपाय है। आपसी अविश्वास के चलते आजतक हिंदी विकिपीडिया तरक्की नहीं कर पाया है, ध्यान रखें कि आगे यह रोड़ा न बने। यदि कोई किसी कार्य के लिए आगे आ रहा है तो कृपया ऐसे न पेश आएँ कि वे हतोत्साहित हों। इसे देखकर भविष्य में भी कोई आगे नहीं आएगा। प्रस्ताव में कमी निकालना, उसे कम से कम बजट में करना, इस बारे में सुझआव देना हम सबका कर्तव्य है, इस संबंध में आपके सभी प्रश्नों का स्वागत है, किंतु कृपया सकारात्मकता से बात करें और शब्दों का चयन सावधानीपूर्वक करें। एक बार माहौल खराब हुआ सालों की छुट्टी समझिए। यदि आपको प्रस्ताव में खामियां लग रही हैं तो शांतिपूर्वक चर्चा कर बेहतर प्रस्ताव का निर्माण करें। --अनामदास 11:49, 1 अक्टूबर 2017 (UTC)
@आर्यावर्त, Anamdas, और आशीष भटनागर: मैंने अपना स्पष्टीकरण यहाँ (Endorsements) दे दिया है -- सुयश द्विवेदी (वार्ता) 17:36, 1 अक्टूबर 2017 (UTC)

संक्षेप

सबसे पहले @आर्यावर्त: जी से निवेदन है कि चर्चा को सकारात्मक तरीके से करें और दूसरे पक्ष का स्पष्टीकरण न मिलने तक किसी परिणाम तक न पहुँचें। कहीं ऐसा न हो कि अंत में आप स्वयं सहमत हो जाएँ और फिर विरोध मात्र इसी बात का रह जाए कि पुरानी बात से पीछे कैसे हटें। तथ्यपरक बातों पर किसी भी प्रकार का सवाल करने का हक सभी के पास है, लेकिन किसी की नीयत पर सवाल उठाने का अधिकार किसी के पास नहीं है। आपका हर सवाल स्वागत योग्य है - समुदाय को विश्वास में नहीं लिया गया, पूर्व चर्चाओं में धन की बात नहीं की गई, आखरी तारीख को जल्दबाजी की गई, व्यक्तिगत चर्चाओं को सामुदायिक चर्चाओं के समान मान लिया गया, पुराने समर्थनों को आधार बनाया गया, प्रस्ताव में परिवर्तन के बाद समर्थन भी नए सिरे से मांगे जाने चाहिएँं, आदि। आपके इन सभी सवालों से मैं भी सहमत हूँ और आयोजकों को यह स्पष्टीकरण समुदाय के समक्ष देना ही चाहिए। लेकिन इस तमाम प्रस्ताव को फ्रॉड कहने की आपकी बात का समर्थन मैं नहीं करता। शायद आप अनभिज्ञ हैं कि हिंदी विकि का सबसे पहला सम्मेलन २०१५ में @AbhiSuryawanshi: जी ने ही करवाया था। अभिषेक जी का योगदान तब भी हिंदी विकि एक संपादक के रूप में नगण्य योगदान था, लेकिन उस सम्मेलन से हिंदी विकि में एक नया अध्याय जुड़ा। अभिषेक जी का हिंदी विकि पर आज भी नगण्य योगदान होगा, लेकिन यदि वे संपादन के अतिरिक्त कोई योगदान देना चाहते हैं तो क्या इस आधार पर उन्हें रोका जाना उचित है कि इनके संपादन नहीं हैं? टीम में सभी ११ खिलाड़ी हरफनमौला (ऑल राउंडर) हों, ऐसा नहीं होता है। जिसको जो काम अच्छे से आता है उसी का उपयोग किया जाता है। आप बैटिंग में अच्छे हैं तो आप क्या चाहेंगे कि आपकी टीम में सब बैट्समेन ही हों? जिसे बैटिंग नहीं आती, लेकिन गेंदबाजी आती है, तो क्या आप उसे टीम में नहीं लेंगे? आभिषेक जी संपादन न कर पाते हों, लेकिन आयोजनों में, संस्थाओं से संपर्क में निपुण हैं, @Suyash.dwivedi: सुयश जी भी इसी श्रेणी में आते हैं, तो यदि आपका विचार है कि ये लोग हिंदी विकिपीडियन नहीं हैं तो मैं आपसे सहमत नहीं हूँ। जिसे जो कार्य आता हो मैंं विकि के लिए उससे वही योगदान लेने को तैयार हूँ। आशा है आप सहमत होंगे। अभिषेक जी ने इतिहास में अपने किए गए कार्य गिनवा दिए हैं, शायद उनके परिचय के बारे में आपका संशय समाप्त हो गया होगा। मुझे लगता है कि अपने भूतकाल के कार्यों से स्वयं प्रभावित हो अभिषेक जी शायद अतिविश्वास के शिकार हो गए होंगे, तभी उनसे इस प्रकार की चूकें हुईं। अच्छा ही है, यह चर्चा उनके लिए भी एक सबक है।

दूसरी बात यह भी है कि ग्रांट अभी स्वीकार नहीं हुई है, अतः अगर कुछ गड़बड़ हो भी सही प्रस्ताव के स्तरपर ही है, इसलिए तकनीकी तौर पर इसे फ्रॉड नहीं कहा जा सकता। गलत सोचना पाप होता है, करना अपराध। कानून में अपराध की सजा दी जाती है, पाप की नहीं। इसलिए अभी चिंता की बात नहीं है। आपने कहा ध्वजवाहक आगे क्यों नहीं आ रहे, तो मैं पहले ही कह चुका हूँ कि ध्वजवाहक या प्रबंधक समुदाय नहीं है। न ही वो समुदाय का ठेकेदार है और न ही नौकर। ध्वजवाहक उतना ही आम आदमी है जितने आप। ध्वजवाहक को समुदाय का नेता अथवा प्रतिनिधि घोषित करने की परंपरा शुरु न करें, बहुत घातक है। पहले इसी बात पर मैं अभिषेक जी का विरोध कर चुका हूँ, जब उन्होंने कहा कि प्रबंधकों से बात हो गई है। अब आप वही बात कर रहे हैं। सावधान रहें। समुदाय को सर्वोपरि रहने दें। आपको गलत लगा, आप विरोध कर दीजिये, बात समाप्त। आप ही समुदाय हैं। किसी की प्रतीक्षा न करें। आप ने ग्रांट प्रस्ताव पर विरोध कर ही दिया है तो फॉउंडेशन देख ही लेगा, किसी ध्वजवाहक के होने न होने से क्या फर्क पड़ता है। ध्वजवाहक भी ईंसान है, स्वयंसेवक मात्र है। समय मिलेगा, इच्चा होगी तो कार्य करेगा, नहीं होगी तो नहीं करेगा। यहाँ किसी पर कोई कार्य थोपा नहीं जाता है, न ही थोपा जा सकता है। यहाँ हर कोई स्वेच्छा से योगदान करता है। आप अपना करें, दूसरों से आशा न रखें। मुझे अब समय मिला है तो मैं लिख रहा हूँ, कल की कोई गारंटी नहीं है।

योगेश जी की क्लास खत्म। अब अभिषेक जी की बारी। मेरा एक विरोध इस बात को लेकर था कि चाहे मैं प्रबंधक हूँ लेकिन मेरी किसी राय को समुदाय की राय नहीं मान लेना चाहिए। आपने इस बात पर सहमति जता दी है और आगे से ध्यान रखने को कहा है, अतः यह विवाद अब समाप्त माना जाए। आपने शांतिपूर्वक सभी सवालों का जवाब देकर, जहाँ आप तथ्य दे सकते थे वहाँ तथ्य देकर, जहाँ आप नहीं दे सकते थे वहाँ अपनी सभी गलतियों को मानकर आपने संयम का परिचय दिया है। योगेश जी की तीखी बातें सुनकर भी आपने संयम रखा, इसके लिए आप प्रशंसा के पात्र हैं। अब जब आप गलतियाँ स्वीकार ही कर चुके हैं तो कहने को अधिक कुछ बचा नहीं। फिलहाल योगेश जी सहमत हैं कि नहीं, यह योगेश जी ही बताएंगे। रही बात मेरी, तो मेरे मन में जो भी सवाल थे, उनमें से कुछ योगेश जी पहले ही पूछ चुके हैं। अधिकांश के आपने जवाब भी दे दिए हैं। अब मेरे पास कुछ ही सवाल हैं - पहला कि जितनी ग्रांट का प्रस्ताव आपने रखा है, उतने में भारत में १५ रैपिड ग्रांट वाले सम्मेलन करवाए जा सकते हैं। मैं दुविधा में हूँ कि भारत में आम जनता जिसके पास कंप्यूटर ईंटरनेट कम ही हैं उन्हें पहले संगठित किया जाए या आप्रवासी जनता को जिनके पास संसाधन अधिक हैं। इस बात पर समुदाय को चर्चा करनी चाहिए कि प्राथमिकता किसे दी जाए। एक स्पष्टीकरण और मिल जाए तो इस दुविधा को हल करने में मदद कर सकता है, वो यह कि क्या हिंदी समुदाय को दी जाने वाली ग्रांट के लिए कोई कोटा निर्धारित है? क्या आपके प्रस्ताव की ग्रांट उस कोटे में से कटेगी या किसी अलग अंतर्राष्ट्रीय आदि कोटे से? अर्थात् यदि आपकी ग्रांट से हिंदी विकिपीडिया का कोटा प्रभावित होता है तो मैं भारत में १५ सम्मेलनों को प्राथमिकता दूँगा, यदि इससे हिंदी विकि को मिलने वाली ग्रांट पर कोई असर नहीं पड़ता तो आपके प्रस्ताव पर आगे चर्चा की जा सकती है (अभी आपके प्रस्ताव में चर्चा की बहुत गुंजाईश है, उसमें बहुत कुछ ऐसा है जिसका ज्ञान हमें नहीं, अतः हम भी सीखना चाहेंगे अथवा प्रस्ताव को सुधारना चाहेंगे)।

यदि इस प्रश्न का उत्तर मिल जाए तो समुदाय से मेरा निवेदन है कि स्वस्थ मानसिकता से आगे की पूरी चर्चा करें। चर्चा का उद्देश्य अभिषेक जी के प्रस्ताव का सुधार होना चाहिए, यदि हमें लगता है कि वे अनावश्यक खर्च कर रहे हैं तो खर्चा कम करने के सुझाव दें, फ्रॉड का आरोप न लगाएँ। यदि प्रस्तावक न मानें तो प्रस्ताव पर औपचारिक तौर पर फाउंडेशन के सामने विरोध दर्ज करें। यदि किसीको लगता है कि प्रस्ताव गलत है अथवा इसमें फ्रॉड की गुंजाइश है, तो किसी प्रकार का क्रोध करने की आवश्यकता नहीं है, असंयमित भाषा का प्रयोग करने की आवश्यकता नहीं है, कृपया अपने तथ्य प्रस्तुत करें और जवाब मांगे। जवाब से संतुष्ट हों तो ठीक, नहीं तो तर्कसहित विरोध दर्ज करा दें। अंतिम निर्णय फाउंडेशन पर छोड़ दें। कृपया इस बात का खास ध्यान रखें कि वातावरण प्रदूषित न हो। सभी पक्ष संयम रखें। --अनामदास 10:57, 1 अक्टूबर 2017 (UTC)
नमस्कार! मेरे उत्तर या कहें स्पष्टिकरण शतशः अनामदास जी से मेल खाते हैं, अतः उनकी पुनरावृत्ति करने की कोई आवश्यकता नहीं समझता हूं। हाँ अनुदान राशि की गणना में शायद कुछ शीघ्रता दिखाई गयी होगी, किन्तु इस बारे में अभिषेक जी पर पूर्ण विश्वास के साथ लिखूंगा कि इस ्निर्णय पर अविश्वास करने का मुझे कोई कारण नहीं दिखाई देता। उनका अनुभव व कार्यशैली मैंने स्वयं दिल्ली के पिछले सम्मेलन में देखा है। इसमें योगेश जी ये कदापि भी न समझें कि हम उनके साथ नहीं या किसी अन्य के साथ खड़े हो गये, वरन यही बता रहा हूं कि हम सभी साथ हैं, कोई भी अलग नहीं खड़ा है, सभी हिन्दी विकिहित के साथ खड़े हुए हैं - ऐसा भरोसा रखें। हाँ कभी कभी किसी अनदेखे कारणवश कोई सूचना सर्वसाझा करने से (ऐसी मंशा न होने पर भी) रह जाती है, तो उसे अन्यथा न लें।आशीष भटनागरवार्ता 23:29, 6 अक्टूबर 2017 (UTC)

फ़्रौड/धोखा प्रस्ताव डालने में है

@Anamdas: महोदय। आपकी टिप्पणी के लिए धन्यवाद। फ़्रौड शब्द का मतलब हिन्दी में धोखा होता है और इस प्रस्ताव में जो भी धोखा हैं स्वतः स्पष्ट ही है।

  • बिना समुदाय को बताए कि में ये ग्रांट ले रहा हूँ सीधे ही ग्रांट प्रस्ताव सबमिट कर देना। सभी बात समुदाय के समक्ष रखी जाये, आम सहमति बने उसके बाद ही समुदाय के नाम से ग्रांट (वो भी बड़ी) सबमिट कर सकते हैं। यहाँ समुदाय को अवगत न करना और समुदाय के नामपर ग्रांट मांगना वाला धोखा/फ़्रौड दिख रहा।
  • वहाँ ग्रांट प्रस्ताव में चौपाल, सदस्य दल, हेंगाउट, प्रबन्धक आदि के साथ चर्चा करने के बाद ग्रांट मांगी जा रही एसा हवाला देना लेकिन ग्रांट के विषय में ग्रांट प्रस्ताव सबमिट कराते समय न केवल समुदाय जिसके भी साथ चर्चा हुई उसे कुछ भी पता न होना। यहाँ सभी का गलत रूप से उपयोग करके प्रस्तुत करने वाला धोखा/फ़्रौड दिख रहा।
  • पहले ये प्रस्ताव आइडिया लेब में था और आइडिया रखना और ग्रांट लेना ये दोनों भिन्न बाते हैं। पहेले कुछ और रखना और समर्थन लेकर बाद में कुछ और कर देना। (मैं प्रतियोगिता के लिए ग्रांट मांगु और समर्थन ले लूँ, बाद में कुछ और रकम जोड़ दूँ तो ये कैसे चलेगा?) यहाँ एसा ही हुआ है। पहले कुछ और था। ग्रांट सबमिट कराते समय ही 48000 डॉलर की रकम दाल दी गई। और तो और 5 लाख वाली सम्मेलन की ग्रांट में भी पुराने कम ग्रांट वाले और वापस ले लिए गए प्रस्ताव में पुरानी रकम हटाकर रकम 5 लाख की कर दी गई। इतिहास में देखा जा सकता है। यहाँ समर्थन लेकर बाद में अपने हिसाब से बदलाव करने वाला धोखा/फ़्रौड दिख रहा है।

ये सब इस प्रस्ताव को अविश्वासनीय बनाता है और ये सब होने के बाद कैसे विश्वास कर सकते हैं? ये सब बातें आपको बहुत छोटी सी लग रही? अतः ये कोई आरोप नहीं है किन्तु स्वयं स्पष्ट है और ठोस कारण है। इसलिए मैं विश्वास नहीं कर सकता और वहाँ मैंने मेरा विरोध दर्ज करा भी दिया है। फाउंडेशन पे छोडने की बात हो तो मेरा ये मानना है की ग्रांट प्रस्ताव समुदाय की सहमति से ही मांगना चाहिए और मांगना न मांगाना या वापस लेना ये समुदाय के ऊपर निर्भर है। बाद में प्रस्ताव स्वीकार करना या न करना ये फाउंडेशन के ऊपर निर्भर है। जहां तक ग्रांट मांगने और योगदान वाला प्रश्न है मेरा मानना है कि कोई भी एक्सपर्ट का मतलब ये नहीं कि कोई भी, कम से कम समुदाय का उसके ऊपर विश्वास होना चाहिए, वरना हिन्दी विकिपीडिया में बहुत से लोग बाहर से आए हैं, आते हैं और हमें कुछ पता भी नहीं होता। २०१४ के सम्मेलन की बात हो तो मैं तब सक्रिय नहीं था और उसके बाद सदस्य सक्रिय नहीं थे। ३ सालों में बहुत कुछ बदला गया है। सदस्य ने खुद अपनी गलती का स्वीकार किया है और गलती का सुधार तभी हो सकता है कि गलती से रखा गया प्रस्ताव वापस ले लिया जाये और जब समुदाय ये कार्यक्रम करना चाहेगा तब देखा जाएगा। उक्त समय में सदस्य समुदाय का साथ दें, समुदाय के निर्णय का स्वीकार करें। अभी जो हुआ है, विश्वास नहीं किया जा सकता। सदस्य विश्वास स्थापित कराते हैं तो मैं अवश्य समर्थन दूंगा। जहां तक सुयश जी की बात है, भोपाल सम्मेलन की ग्रांट के समय एक अनजान व्यक्ति को हिन्दी विकि की ग्रांट मांगते देखकर तब भी मैंने विरोध किया था, क्योकि सारी चर्चा वोटसेप दल में हुई थी और चौपाल पे चर्चा न होने के कारण सदस्यों को और मुझे भी ज्यादा कुछ पता नहीं था। जब मुझे पता चला कि आप भी इसमे सम्मिलित है और पूरा समुदाय जुड़ा है तो मैंने समर्थन भी दिया था और आज भी दे रहा हौं। विश्वास तो स्थापित हो। मुझे किसी व्यक्ति से व्यक्तिगतरूप से लगाव या आपत्ति नहीं है।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 12:17, 1 अक्टूबर 2017 (UTC)

जब सदस्य ने गलती स्वीकार कर ही ली है तो सुधार का मार्ग सुझाना चाहिए। प्रस्ताव वापिस लेकर बाद में कभी करने की बजाय अच्छा है कि यहीं अभी चर्चा कर ली जाए। प्रस्ताव का सुधार करना, प्रस्ताव को वापिस लेने से बेहतर होगा। यदि न हो पाए तो इतने सदस्यों का विरोध हो ही गया है तो वसे ही अस्वीकृत होना तय ही है। फिर भी जितना संभव हो, उतना सकारात्मक सोचना चाहिए। कई सुधार किए जा सकते हैं जिससे कि पैसा भी व्यर्थ न हो और कुछ काम भी हो जाए, जैसे कि व्यर्थ का खर्चा हटाकर कम कर दिया जाए, या इतने व्यापक स्तर की बजाय एक छोटे स्तर पर प्रारंभ किया जाए। सार यह कि जो हुआ सो हुआ, गलती मान लेने पर क्षमा कर दिया जाना चाहिए और प्रस्ताव के तथ्यों पर चर्चा की जानी चाहिए। मेरा सुझाव है कि अभिषेक जी को फिलहाल न्य़ूनतम संभव स्तर पर प्रस्ताव को सीमित कर देना चाहिए। विस्तृत प्रस्ताव वे समुदाय की सहमति लेकर बाद में प्रस्तुत कर सकते हैं। दिल्ली सम्मेलन इस प्रकार की चर्चा के लिए उपयुक्त रहेगा। --अनामदास 13:10, 1 अक्टूबर 2017 (UTC)
जी, बात न केवल गलती की विश्वास की है और विकि के भविष्य की भी। अविश्वास की स्थिति में अभी प्रस्ताव वापस लेने पर विश्वास स्थापित होने के बाद समुदाय का पूरा समर्थन मिल सकता है। ये कार्य वैसे भी 3 साल से तैयारियों में था, अब कुछ और सही। मुख्य बात ही समुदाय को विश्वास में लेने की है। ये सब होने के बाद भी मैं तुरंत विश्वास कर लूं तो समुदाय को मेरे ऊपर भी विश्वास नहीं करना चाहिए। क्योंकि मेरा ऐसा करना समुदाय के हित में नहीं है। मुझे व्यक्तिगत रूप से प्रस्तावक से कोई समस्या नहीं, न तो हमारा कभी झगड़ा हुआ। न तो उनको रोकने का इरादा, और ऐसा करके न तो मुझे कोई पारितोषिक मिलने वाला है। मैं मानता हूं कि में समुदाय के हित को ही आगे रखु। जिस तरह समस्या का समाधान होने पर सुयश जी को भी हमने स्वीकार किया था, इस प्रस्ताव के ऊपर भी पुख्त चर्चा हो, आम राय बनेगी तब मैं भी समर्थन करूँगा। अभी अविश्वास की स्थिति में विरोध के कारण नुकसान ही है। संयदाय के साथ चलने से फायदा। विश्वास स्थापित होने के बाद ये कार्य सर्व सम्मति से होगा। अतः धैर्य रखें और बिना संयदाय की सहमति प्रस्ताव डालना ही नहीं होता तो अभी प्रस्ताव वापस लेना सर्वोत्तम विकल्प है गलती को सुधार ने का। अभी भी समय है।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 14:09, 1 अक्टूबर 2017 (UTC)
अनामदास जी हमारी कोई सदस्य से व्यक्तिगत दुश्मनी तो नहीं है। लेकिन जिस प्रकार यह कार्य किया गया। वो बिलकुल भी उचित नहीं है। मै भी काफी गलतिया गिना सकता हु। लेकिन दोहराव का कोई फायदा नहीं है। आर्यावर्त जी की बात को भी समझे। जब शुरू से ही समुदाय से बहुत कुछ छुपा रहा तो आगे ऐसा नहीं होगा कोई गारेंट्टी नहीं। अब विश्वास का कोई अर्थ नहीं रहता है। समय के अनुरूप ग्रांट वापिस लेना ही उचित है। जब समुदाय को विश्वास नहीं हो जाएगा। तो ही ग्रांट को आगे करना चाहिए। आप एक बार अपने को आर्यावर्त जी की जगह रखकर देखे। उनके शब्द कडवे है परंतु सोच नहीं। फिर भी यदि आपको ग्रांट सही लग रही है तो केवल फ़ाउंडेशन ही समर्थन के आधार पर फैसला कर लेगी। धन्यवाद-जयप्रकाश >>> वार्ता 04:47, 2 अक्टूबर 2017 (UTC)

@Jayprakash12345:, @आर्यावर्त:, @Anamdas: :

शादी की बाते चल रही है और बोल रहे हैं की मुहूरत तय करने हमे क्यों नहीं बुलाया। शादी करनी है और इसकी मानसिकता बनी है तब सभी रिश्तेदारों को आमंत्रित करके तिथि और बाकी की चीज़े होती है, संयम रखे। समीक्षा का समय अभी शुरू भी नहीं हुवा और आप बोल रहे है की हमें समीक्षा का मौका नहीं मिला, हमारे साथ धोका हुआ। समीक्षा जब ४ अक्टूबर से शुरू है, उसके लिए फाउंडेशन खुद न्योता देगी - तो आपके साथ विश्वास घात किसने किया? विकिपीडिया के ऊपर आपका जितना हक़ है उतना हमारा भी है। 'हम अन्दरवाले और आप बाहरवाले' - ये क्या हैं? विश्वासघात? विकिपीडिया तथ्यों पर चलता है। तथ्यों पे आपका विश्वास ना हो तो इसमें हम क्या करे। माफ़ी पहले भी चुके है और अब भी मांग ही रहे है। दुनिया के सामने जाने से पहले फाउंडेशन कार्यप्रणाली के नियम कानून पढ़ ले, हिंदी वाले बिना नियम पढ़े कुछ भी बोलते इस तरह की प्रतिमा बन रही है। AbhiSuryawanshi (वार्ता) 09:14, 2 अक्टूबर 2017 (UTC)
विकिपीडिया सन्दर्भ के ऊपर चलता है और भले ही १०० लोग समर्थन दे की दिल्ली चीन में है पर एक व्यक्ति संदर्भ के साथ दिल्ली को भारत में बताता है - तो १०० की जगह १ व्यक्ति की जानकारी को रखा जाता है। मान / सन्मान के नाम पर सरकार गिराने की धमकी - ये राजनीति में चलता है।
यह विकिपीडिया है, प्रकल्प पे उसकी मजबूती के हिसाब से चर्चा की जाती है - इस लिए अगर आप अपना वक़्त और ताकत प्रकल्प की चर्चा दे तो ज्यादा फायदा ही होगा।
इस परियोजना से हिंदी को फायदा होगा क्या? सरकारी संस्थाओ के साथ साझीदारी करनी चाहिए? इसमें क्या किया जा सकता हैं ? AbhiSuryawanshi (वार्ता) 09:35, 2 अक्टूबर 2017 (UTC)

@AbhiSuryawanshi:, @आर्यावर्त:, @Anamdas: ठीक है दूल्हा (समुदाय) और दुल्हन (फ़ाउंडेशन) को ही फैसला करने देते है। लेकिन इसे जारी रखते हुए आप हमारे अविश्वास को और ज्यादा मजबूत कर रहे है।-जयप्रकाश >>> वार्ता 04:00, 3 अक्टूबर 2017 (UTC)

@Jayprakash12345:, @आर्यावर्त:, @Anamdas: : आप तो लड़केवाले हो सर, आपको नाराज करके शादी थोड़ेही होगी? आप अगर शादी तोड़ने को कहते हो तो शादी मैं खुद ही तोड़ दूंगा पर ये तो बताये की आपके या किसी के साथ क्या अविश्वास / धोका हुआ है? सभी नियमो के अनुसार ही सब चल रहा है। आपको लगता है की धोका हुआ है तो दोबारा और एक बार माफ़ी मांग रहा हु। आशा है की आपका आशीर्वाद मिलेगा वरना बिना साझेदारी और सरकारी मदत बिना इतने साल कुंवारे थे, और कुछ समय ऐसेही बिता देंगे बिना शादी के। समुदाय तो सवाल पूछ ही लेगा, क्या आप बता सकते है की आपका आशीर्वाद पाने के लिए क्या करना पड़ेगा? परियोजना में सुधार कौनसे करे? AbhiSuryawanshi (वार्ता) 04:50, 3 अक्टूबर 2017 (UTC)

भ्रम और तथ्य

आर्यावर्त जी और अनामदास जी आप की अनुमति से मे कुछ तथ्य साझा करना चाहता हूँ।  

  • प्रोजेक्ट ग्रैंट एक अलग चीज़ है रैपिड ग्रांट से और यह हर वक्त उपलब्ध नहीं होती है।
  • रैपिड ग्रांट की समीक्षा के लिए समय की पाबंदी  नहीं होती।  
  • प्रोजेक्ट  ग्रांट के समीक्षा के लिए फाउंडेशन ने ४ अक्टूबर से १७ अक्टूबर का समय रखा है और सभी विकिमेडिया के स्वयंसेवक सदस्य (हिंदी और बाकी का कोई भी) अपनी राय दे सकते है। 
  • आप इस ग्रांट को रैपिड की तरह देख रहे है इसलिए भी उलझन  है। 
  • आप समीक्षा कालावधी में आधिकारिक तौर पे चर्चा कर सकते है।  समीक्षा समय के पहले चर्चा 'good faith' में शुरू की है।  
  • मैं आप लोगों की अनुमती से फाउंडेशन से पूछना चाहता हूँ कि क्या यह ग्रांट लेने से बाकि हिंदी ग्रांट पर असर पड़े गा - में अनामदास जी को, आशीषजी को और सुयशजी को इस मेल में कॉपी करूँगा। मेरे अनुभव के हिसाब से ऐसा कुछ भी नहीं है फिर भी बेहतर यही है कि हम उनसे साफ पूछे। 
  • हमने इतनी शक्ति लगा दी है सही और गलत निकलने में पर क्या हम ग्रांट पर चर्चा नहीं कर सकते? अगर किसान सिर्फ ऋण राशि की बात करें और खेती की नहीं तो यह गलत हैं। हम सब कब से आगे बढ़ने की बात कर रहे है फिर हम दूसरी भाषा की तरह क्यों नहीं रिव्यू कर सकते? यह वैश्विक मापदंड है। फाउंडेशन सभी को रिव्यू का समय देती है। 
  • में आप सबसे  और एक निवेदन करूँगा कि आप लोग इस ग्रांट की समीक्षा दिल्ली सम्मेलन में भी करे।  मेरी राय में वह एक राष्ट्रीय कांफ्रेंस है  हमे वहां वर्क प्लान बनाना चाहिए - आउटरीच का, प्रतियोगिता का और प्रोजेक्ट ग्रांट का भी। इसकी चर्चा अभी भी जारी रख सकते है। AbhiSuryawanshi (वार्ता) 18:55, 1 अक्टूबर 2017 (UTC)  

राखी टंडन

--मुज़म्मिलुद्दीन (वार्ता) 19:26, 29 सितंबर 2017 (UTC)

दिल्ली भेंट

नमस्ते, अगले रविवार दिल्ली में एक भेंट है|आप में से जो भी दिल्ली में है कृपया आयें| यह अच्छा होगा कि हिंदी विकिपीडियन्स भी आयें|आप और जानकारी यहाँ देख सकते है| CC: ArmouredCyborg,अजीत कुमार तिवारी, आशीष भटनागर,Raavimohantydelhi।-Abhinav619 (वार्ता) 16:43, 1 अक्टूबर 2017 (UTC)

@Dinesh smita, Capankajsmilyo, अनिरुद्ध!, और Anmol.wasan: जी से भी निवेदन है कि कृपया इस भेंटवार्ता में सम्मिलित हों। --अनामदास 00:47, 2 अक्टूबर 2017 (UTC)

धन्यवाद

नमस्कार,

जैसे विकिमीडिया आंदोलन रणनीति प्रक्रिया के पहले चरण का अंत रणनीतिक दिशानिर्देश के बनने के साथ हो रहा है, इसके साथ ही रणनीति समन्वयक के तौर में मेरी अस्थायी भूमिका का भी अंत हो रहा है।

रणनीतिक दिशानिर्देश दस्तावेज़ लगभग तैयार हो गया है। रणनीति प्रक्रिया के दुसरे चरण की तैयारी नवंबर में शुरू होगी। इस अगले चरण में भी आपके शामल होने के लिए संभावनाएँ होंगी ताकि आप हमारे आंदोलन के भविष्य के बारे में होने चर्चाओं में भागीदार बन सकें। आपके समर्थन और मदद के लिए बहुत बहुत धन्यवाद। --SGill (WMF) (वार्ता) 17:55, 1 अक्टूबर 2017 (UTC)

विकिडाटा

नमस्कार विकिपीडिया:विकिडाटा पृष्ठ का निर्माण किया गया है। आप सभी से अनुरोध है इस विषय पर अपने विचार रखे। Capankajsmilyo (वार्ता) 07:55, 2 अक्टूबर 2017 (UTC)

तोकियो विश्वविद्यालय

--मुज़म्मिलुद्दीन (वार्ता) 14:26, 3 अक्टूबर 2017 (UTC)

दीपवंस

--मुज़म्मिलुद्दीन (वार्ता) 14:54, 3 अक्टूबर 2017 (UTC)

अनिवार्य बात - Friendly Space Policy / सद्व्यवहार नीति + समिति निर्माण

फाउंडेशन ने सम्मेलन के लिए 'Friendly Space Policy' बनाने के लिए कहा है - यह बनाये बिना सम्मेलन के ग्रांट नहीं मिलेगी। यह महत्वपूर्ण घटक है।

किस लिए चाहिए -

अगर सम्मेलन में कोई परेशानी महसूस करता है या उसे लगता है की उसे तंग किया जा रहा है - तो उसे यह निति अनुसार समिति के पास न्याय मांगने का अधिकार होगा। इन चीज़ो के लिए 'फ्रेंडली स्पेस पॉलिसी' सारे कार्यक्रमों के लिए अनिवार्य है

यह दिखती कैसी है? नमूना देखने के लिए मिलेगा ? हाँ - आप यहाँ पर सर्वसाधारण पॉलिसी का ढांचा देख सकते है :

कब तक बनानी है - ६ नवंबर २०१७

क्या हम अंग्रेजी की पॉलिसी हिंदी में इस्तेमाल कर सकते है - हां, ज़रूर।

अंग्रेजी में अच्छी तरह से पहलेसेही लिखी है, इसको हम हिंदी में लिख सकते है या इसमें सुधार/बदलाव भी कर सकते है।

मेरे ख़याल से हिंदी में UK(https://wikimedia.org.uk/wiki/Safe_Space_Policy) और DC (https://wikimediadc.org/wiki/Safe_space_policy) को सामने रख कर हिंदी में भाषांतर करना अच्छा होगा।

समिति :

अगर किसी ने किसी सम्मेलन में सहभागी प्रतिभागी को परेशान किया तो यह समिति उस व्यक्ति पर कार्रवाई करेगी (सद्व्यवहार निति अनुसार)।

इसमें ३ से ५ लोग हो सकते है और ये लोग बिना विरोध चुने जाए तो अच्छा है।

सद्व्यवहार नीति बनाने की अंतिम तिथि - १४ अक्टूबर २०१७

अगर आप खुद इस समिति में शामिल होना चाहते है या किसीको नामांकन देना चाहते है, तो उसका नाम निचे लिखे AbhiSuryawanshi (वार्ता) 05:32, 4 अक्टूबर 2017 (UTC)

  1. मैं ,Anamdas जी का नाम प्रस्तावित करता हूँ। Swapnil.Karambelkar (वार्ता) 13:22, 4 अक्टूबर 2017 (UTC)
  2. मैं ,आशीष जी और सुयश जी का नाम प्रस्तावित करता हूँ। और Anamdas जी को समर्थन।--जयप्रकाश >>> वार्ता 01:11, 5 अक्टूबर 2017 (UTC)

  • जयपुर तकनीकी सम्मेलन के कार्यक्रम हेतु ,विकिमीडिया फाउंडेशन द्वारा संस्तुत निम्न नीतियों का अनुसरण अपेक्षित है ।लिंक
  1. सद्व्यवहार की नीति: https://wikimediafoundation.org/wiki/Friendly_space_policy
  2. आचार संहिता: https://wikimediafoundation.org/wiki/Code_of_conduct_policy

दिल्ली सम्मेलन हेतु भी इन्ही नीतियों का अनुसरण किया जाना चाहिए (हिंदी में अनुवाद की आवश्यकता है )। Swapnil.Karambelkar (वार्ता) 13:16, 4 अक्टूबर 2017 (UTC)

Bhubaneswar Heritage Edit-a-thon 2017

Hello,
The Odia Wikimedia Community and CIS-A2K are happy to announce the "Bhubaneswar Heritage Edit-a-thon" between 12 October and 10 November 2017

This Bhubaneswar Heritage Edit-a-thon aims to create, expand, and improve articles related to monuments in the Indian city of Bhubaneswar.

Please see the event page here.

We invite you to participate in this edit-a-thon, please add your name to this list here.

You can find more details about the edit-a-thon and the list of articles to be improved here: here.

Please feel free to ask questions. -- User:Titodutta (sent using MediaWiki message delivery (वार्ता) 09:20, 4 अक्टूबर 2017 (UTC))

स्टेड रोलैंड गर्रोस के शीह नामाँकन पर चर्चा (प्रबंधकों से अनुरोध)

--मुज़म्मिलुद्दीन (वार्ता) 09:13, 5 अक्टूबर 2017 (UTC)

कृपया उन अन्य भारतीय भाषाओं की सूचि दिखाए , जिनका विकिपीडिया incubation में है |

मेरा अनुरोध है की मुख्य पृष्ठ पर उन अन्य भारतीय भाषाओं की सूचि दिखाए , जिनका विकिपीडिया अभी incubation में है | ताकि लोगों को जानकारी मिले एवं उस wiki का विकास हो | जैसे: https://incubator.wikimedia.org/wiki/Wp/mwr

[bug] It is not possible to save your preferences

Hello

Sorry to write in English. Please help translate to your language। I'm also not sure I'm posting at the right place, so please move that message and tell me.

At the moment, it is not possible for you to save your preferences on this wiki. This is a known bug and the developers are working on it.

This is why you can't save some settings or use some Gadgets and tools. This is not due to the release by default of the advanced filters on RecentChanges.

Sorry for that inconvenance, Trizek (WMF) (वार्ता) 13:20, 6 अक्टूबर 2017 (UTC)

"नमस्ते

अंग्रेजी में लिखने के लिए खेद है कृपया अपनी भाषा में अनुवाद करने में सहायता करें मुझे यह भी निश्चित नहीं है कि मैं सही जगह पर पोस्ट कर रहा हूं, इसलिए कृपया इस संदेश को सही जगह ले जाएं और मुझे बताएं।

फिलहाल, इस विकी पर आपकी प्राथमिकताओं को सहेजना संभव नहीं है। यह ज्ञात बग है और डेवलपर इस पर काम कर रहे हैं।

यही कारण है कि आप कुछ सेटिंग सहेज नहीं सकते हैं या कुछ गैजेट्स और टूल का उपयोग नहीं कर पा रहे । यह हालिया परिवर्तनों पर उन्नत फ़िल्टर के डिफ़ॉल्ट रूप से जारी होने के कारण नहीं है। उस असुविधा के लिए क्षमा करें,Trizek (WMF) " :-अनुवाद Swapnil.Karambelkar (वार्ता) 14:05, 6 अक्टूबर 2017 (UTC)

प्रस्ताव

नमस्कार ! एक विचार है जो हिंदी विकिपीडिया मैं सुधार मैं सहायक हो सकता है । भारत तथा विश्व में अनेकानेक छात्र हिंदी पर अध्ययन कर रहे है । अंग्रेजी विकिपीडिया छात्रों के लिए विशेष कार्यक्रम करता रहता है । क्या हिंदी विकिपीडिया भी छात्रों को प्रोत्साहन देने के लिए कोई कार्यक्रम रख सकता है? Capankajsmilyo (वार्ता) 02:46, 7 अक्टूबर 2017 (UTC)

समस्या का समाधान

नमस्ते सर्वेभ्यः
कल से हम सब हिन्दी विकि पर जिस समस्या का सामना कर रहे थे, आज उसका समाधन हो गया है। फिर भी किसी सदस्य को कोई भी परेशानी आ रही हो तो निम्नलिखित बातों पर ध्यान दें।

  • हाल में हुए बदलाव पृष्ठ पर कल से लागू हुआ नया उपकरण आपको पसंद नहीं है, समस्या हो रही है तो पसंद में जाकर उसे निष्क्रिय कर सकते हैं। पसंद में, हाल में हुए बदलाव टैब में बदलावों के बाहर के विकल्प नाम के भाग में 'हाल के परिवर्तनों के बेहतर संस्करण को छुपाये' पर टिक करने से ये निष्क्रिय हो जाएगा।
  • ट्विंकल, होटकेट आदि उपकरण अभी काम कर रहे हैं या नहीं ये देख लें और काम न कर रहे हो तो पसंद में गैजेट(उपकरण) टैब में जाकर उसे पुनः टिक कर दीजिए और सहेज ने के बाद काम करेंगे।

किसी भी सदस्य को और कोई भी परेशानी हो तो यहाँ या मेरे वार्तापृष्ठ पर लिख सकते हैं।-आर्यावर्त (वार्ता) 02:56, 7 अक्टूबर 2017 (UTC)

साँचा:सक्रिय सदस्य

नमस्कार सक्रिय सदस्यों की सूची हेतु {{सक्रिय सदस्य}} का निर्माण किया है | आपसे अनुरोध है कृपया अपना नाम भी इसमें दर्ज करें | धन्यवाद् | Capankajsmilyo (वार्ता) 08:35, 8 अक्टूबर 2017 (UTC)

प्राथमिकता

मनोज जी ने बताया था कि हिंदी विकिसदस्यो के पास काम बहुत अधिक है जो संभव नही हो पा रहा है। इसके लिए चर्चा करके ये निष्कर्ष निकला था की विकिपीडिया:प्राथमिकता का संपादन किया जाए। इसका आरम्भ किया जा चुका है अतः आप सभी से अनुरोध है कि अपने विचार यहां अथवा बताये गए पृष्ठ पर रखें। धन्यवाद Capankajsmilyo (वार्ता) 16:31, 8 अक्टूबर 2017 (UTC)

स्थानांतरण अनुरोध

कृपया विकिपीडिया:हिन्दी विकिपीडिया की गतिविधियां तथा इसके उपपृष्ठो को विकिपीडिया:गतिविधियाँ पर स्थानांतरित कर दें Capankajsmilyo (वार्ता) 03:48, 9 अक्टूबर 2017 (UTC) YesY पूर्ण हुआ--अनामदास 13:18, 9 अक्टूबर 2017 (UTC)

विलय प्रस्ताव

{{ज्ञानसन्दूक वादक}} का {{ज्ञानसन्दूक संगीतज्ञ}} में विलय कर देना चाहिए| Capankajsmilyo (वार्ता) 11:44, 9 अक्टूबर 2017 (UTC)

वादक का मतलब वादन से है और वादन संगीत का एक भाग तो है किन्तु दोनों भिन्न विषय हैं। संगीत में वादन, गायन, राग आदि का समावेश होता है। वादक वाला ज्ञानसन्दुक केवल वादन से जुड़े व्यक्तियों के लिए है और संगीतज्ञ संगीत से जुड़े। अतः विलय करना सही नहीं।--आर्यावर्त (वार्ता) 10:23, 10 अक्टूबर 2017 (UTC)
साँचे पृष्ठों से भिन्न होते है। तो इनकी नाम से पहचान करना ठीक नही होगा। साँचे का स्वयं में कोई अस्तित्व नही है। इन्हें पृष्ठों पर प्रयोग किया जाता है। तो वादक ओर संगीतज्ञ का अंतर मायने नही रखता। मायने ये रखता है कि इन दोनों साँचो मैं किन प्राचालो का प्रयोग किया गया है। अगर वे समान है तो भिन्न भिन्न साँचो का न कोई सार्थक उपयोग है ना महत्व। वही अगर प्राचालो मैं काफी अंतर है तो विलय करना उचित नही। इसी संबंध में मैं एक विकिपृष्ठ पर भी संपादन कर रहा हूँ। आप चाहे तो विकिपीडिया:ज्ञानसन्दूक देख सकते है। Capankajsmilyo (वार्ता) 10:39, 10 अक्टूबर 2017 (UTC)
मुझे ज्ञात है कि साँचे पृष्ठों से भिन्न होते है फिर भी साँचे के नाम उनकी पहचान ही प्रदान करते हैं। रही बात उपयोग की तो दोनों विषयो का स्वतंत्र अस्तित्व होने के कारण दोनों के लिए भिन्न भिन्न प्राचल जोड़ने की पूरी संभावना है। अभी आपको लगता है कि दोनों में प्राचल एक जैसे ही है तो भी कोई समस्या नहीं है क्योंकि वादक लिखो या संगीतज्ञ दोनों काम करेंगे। इसलिए किसी एक साँचे के स्वतंत्र अस्तित्व को हमेशा के लिए मिटा देने की कोई आवश्यकता नहीं है। आप पूर्व भी बहुत से साँचे को मिटा चुके हैं और चर्चा में स्पष्ट विरोध और आम सहमति के बिना ही आप साँचों को मिटाते गए हैं। इससे कोई लाभ नहीं। दोनों भिन्न साँचों में विकास की संभावना ज्यादा है, जैसे संगीतज्ञ में उनके राग, लोकप्रिय अल्बम, गीत आदि जोड़ सकते हैं और वादन वाले में वादन विषयक जानकारी से जुड़े प्राचल जोड़े जा सकते हैं। अतः आपसे अनुरोध है कि कृपया साँचो को मिटाने का कार्य बंद कर दीजिये और हो सके तो नए साँचो का निर्माण कीजिये।--आर्यावर्त (वार्ता) 04:03, 11 अक्टूबर 2017 (UTC)

तूर्यनाद कार्यक्रम भोपाल द्वारा हिन्दी विकिपीडिया के साथ सह-आयोजन हेतु प्रस्ताव

@Anamdas, , अनुनाद सिंह, SM7, संजीव कुमार, Hindustanilanguage, NehalDaveND, Swapnil.Karambelkar, Ganesh591, अजीत कुमार तिवारी, आर्यावर्त, Jayprakash12345, आशीष भटनागर, चक्रपाणी, राजू जांगिड़, और Vijay Tiwari09: @संजीव जी, अनिरुद्ध जी, माला जी, सिद्धार्थ जी, हिंदुस्तानवासी जी, अजीत जी, और प्रॉन्स जी: एवं और सभी सक्रिय सदस्यगण। मित्रो, हाल ही में तूर्यनाद (http://tooryanaad.in/) कार्यक्रम भोपाल द्वारा हिन्दी विकिपीडिया के साथ सह-आयोजन हेतु प्रस्ताव प्राप्त हुआ है,गत वर्ष यहाँ हिंदी विकिपीडिया पर व्याख्यान दिया गया था,यह कार्यक्रम प्रतिवर्ष होता है तथा यह हिंदी भाषा हेतु समर्पित होता है। इस वर्ष यह २७ अक्टूबर २०१७ से (३ दिवसीय) प्रारंभ रहा है मै सम्मानीय सदस्यों से उनके बहुमूल्य सुझावों की शीघ्र अपेक्षा रखता हूँ। -- Suyash.dwivedi (वार्ता) 12:21, 9 अक्टूबर 2017 (UTC)

Symbol support vote.svg समर्थन - गत वर्ष दिए गए परिचय व्याख्यान के परिणाम स्वरुप इस बार हिंदी समारोह तूर्यनाद के साथ विकिपीडिया को सह आयोजन का प्रस्ताव आया है.यह एक सुनहरा अवसर है जब हिंदी विकिपीडिया ,तकनीकी शिक्षण संस्थानों में अपनी उपस्थिति दर्ज करा सकता है.भोपाल के दल से पूर्ण सहयोग का आश्वासन देना चाहूंगा एवं मेरा सुझाव है कि २ दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया जाये। : Swapnil.Karambelkar (वार्ता) 12:44, 9 अक्टूबर 2017 (UTC)
Symbol support vote.svg समर्थन इसके सह आयोजन के साथ साथ इसे आयोजित करने वाले संस्थान से अटल बिहारी वाजपेयी विश्वविद्यालय परियोजना जैसा स्थाई संबंध स्थापित करने की भी बात की जा सकति है। Capankajsmilyo (वार्ता) 13:04, 9 अक्टूबर 2017 (UTC)
Symbol support vote.svg समर्थन इसे जरूर करना चाहिए।--जयप्रकाश >>> वार्ता 20:01, 10 अक्टूबर 2017 (UTC)
मेरा सुझाव है कि इस आयोजन हेतु cis आदि किसी अनुभवी संस्था की मदद लेनी चाहिए। हिंदी विकी पर इस प्रकार के अनिभव रखने वाले लोगों की कमी है अतः cis आदि से मार्गदर्शन का निवेदन करना चाहिए। यदि संस्थान अपनी लैब आदि देने को तैयार हो तो एक वर्कशॉप भी रखी जा सकती है। प्रचार का अवसर खोना नहीं चाहिए ताकि जितना संभव हो उतने नए संपादक प्राप्त किये जा सकें। --अनामदास 17:04, 9 अक्टूबर 2017 (UTC)
Symbol support vote.svg समर्थन हिंदी विकिपीडिया में अधिक से अधिक छात्र आएं तो अच्छ होगा चूँकि यह कार्यक्रम हिंदी भाषा के उन्नयन हेतु है अतः पूर्ण समर्थन है साथ ही CIS का सहयोग मिलता ही तो अच्छा -- सुयश द्विवेदी (वार्ता) 13:19, 12 अक्टूबर 2017 (UTC)
Symbol support vote.svg समर्थन पूर्ण समर्थन है, शिक्षण संस्थानों कि मदद ली जा सकती है, हिंदी के उत्थान के लिए छात्रों में बहुत उत्साह देखने मिलेगा। --पुष्पेन्द्र सिंह दांगी (वार्ता) 10:40, 20 अक्टूबर 2017 (UTC)
Symbol support vote.svg समर्थन --राजू जांगिड़ (वार्ता) 10:58, 20 अक्टूबर 2017 (UTC)
Symbol support vote.svg समर्थन मेरा भी यही विचार है कि हिंदी विकिपीडिया में अधिक से अधिक छात्र आएं तो अच्छ होगा चूँकि यह कार्यक्रम हिंदी भाषा की उन्नति हेतु हैं अतः पूर्ण समर्थन है। --मुज़म्मिलुद्दीन (वार्ता) 13:51, 20 अक्टूबर 2017 (UTC)

देवनागरी अंक

हिंदी विकिपीडिया के साँचो में देवनागरी अंक नहीं आ रहे हैं। इसका कारण पार्वकल मे हुआ यह बदलाव है। देवनागरी अंको को पुनः आरम्भ करने के लिए यहाँ और यहाँ चर्चा चल रही है। क्या आप देवनागरी अंक दोबारा देखना चाहेंगे? Capankajsmilyo (वार्ता) 14:04, 9 अक्टूबर 2017 (UTC)

  1. Symbol support vote.svg समर्थन - वरुण (वार्ता) 16:20, 9 अक्टूबर 2017 (UTC)
  2. Symbol support vote.svg समर्थन-आर्यावर्त (वार्ता) 16:44, 9 अक्टूबर 2017 (UTC)
  3. Symbol support vote.svg समर्थन -- Dharmadhyaksha (वार्ता) 04:33, 10 अक्टूबर 2017 (UTC)
  4. Symbol support vote.svg समर्थन --अनुनाद सिंह (वार्ता) 14:53, 10 अक्टूबर 2017 (UTC)
  5. Symbol support vote.svg समर्थन --Swapnil.Karambelkar (वार्ता) 16:46, 11 अक्टूबर 2017 (UTC)
  6. Symbol support vote.svg समर्थन --जयप्रकाश >>> वार्ता 05:04, 15 अक्टूबर 2017 (UTC)
  7. Symbol support vote.svg समर्थन --राजू जांगिड़ (वार्ता) 12:47, 16 अक्टूबर 2017 (UTC)
  8. Symbol support vote.svg समर्थन --पुष्पेन्द्र सिंह दांगी (वार्ता) 10:44, 20 अक्टूबर 2017 (UTC)
  9. Symbol support vote.svg समर्थन -- @आर्यावर्त: जी ने जिस षडयंत्र (इनपुट सर्वत्र अरबी, आऊटपुट सर्वत्र नागरी, अंकपरिवर्तक इकतरफा) का आरोप @SM7: जी पर लगाया है, उस षडयंत्र का प्रस्ताव वास्तव में मेरा था और वह इस अज्ञान पर आधारित था कि नागरी अंकों का उपयोग साचों व गणना आदि में संभव नहीं है। यदि ऐसा संभव है तो हर हाल में मैं नागरी अंकों का ही समर्थन करूँगा। जो पाठक मात्र अरबी अंक देखना चाहें, उन सदस्यों को वरीयताओं में यह चुनने का विकल्प दिया जा सकता है। अंक परिवर्तक भी है ही। बाकियों का मैं नहीं जानता, लेकिन मेरा यहाँ योगदान करने का उद्देश्य हिंदी को पुनर्जीवित होते देखना है, और हिंदी का वास्तविक रूप तो नागरी अंकों में ही है। समय के साथ चलने के जो सुझाव दिए जा रहे हैं यदि आज से १० साल पहले यह चर्चा होती जब यूनिकोड नहीं था, तो इंटरनेट पर हिंदी को जिंदा रखने के लिए इसे रोमन लिपि में भी लिखना पड़ता तो कोई और चारा न होने की दशा में शायद मैं सहमत होता, लेकिन धन्य हैं वे हिंदी प्रेमी जिन्होंने अपने आपको या हिन्दी के स्वरूप को बदलने के स्थान पर प्रयास किए और सिस्टम को बदल दिया और देवनागरी लिपि में टंकण को समभव व सुविधाजनक बनाया। ठीक यही स्थिति आज है, नागरी अंकों के प्रयोग से फार्मूलों आदि में गणना में असुविधा है तो काम चलता रहे इसके लिए अरबी अंकों के बारे में सोचा जा सकता है लेकिन यदि गणना नागरी अंकों से भी संभव है, तो अरबी अंकों को प्रयोग करने का औचित्य ही नहीं है, सवाल ही नहीं है, कतई नहीं है। मात्र दस चिह्नों की पहचान कोई इतना बड़ा और कठिन कार्य भी नहीं है कि कोई भाग ही जाए। जिस दिन बाकी सदस्य हिंदी विकिपीडिया को रोमन लिपि में लिखने पर सहमत हो जाएंगे तो उस दिन मैं भी अरबी अंकों के प्रयोग के बारे में पुनर्विचार करूँगा। जब तक भाषा देवनागरी लिपि है तो अंक भी देवनागरी ही होने चाहिएँ। धन्यवाद। --अनामदास 08:56, 22 अक्टूबर 2017 (UTC)
Anamdas जी ऊपर वाला वाक्य थोड़ा ठीक कर दें, पहली बार पढ़ने पे मुझे लगा कि "आरोप लगाने का" सुझाव आपका था और आर्यावर्त जी द्वारा क्रियान्वित किया गया। हम कुछ-कुछ खुश भी होने लगे थे। दूसरी बात, हम तो अपनी अज्ञानता स्वीकार कर चुके हैं (नीचे ↓), आपको यह नया वाला ज्ञान कहाँ से मिला कि इससे गणनायें देवनागरी में संभव हो जायेंगी ?--SM7--बातचीत-- 09:45, 22 अक्टूबर 2017 (UTC)
SM7: वाक्य ठीक कर दिया है। नया ज्ञान या नया अज्ञान कहें, इस बात पर आधारित है कि फैब्रिकेटर पर जो पुरानी टिकट आपने दिखाई है, उससे जितना मुझे समझ आया वह यह कि अरबी अंकों का स्थापन मयूर जी द्वारा किए गए निवेदन के पश्चात हुआ। मेरे तकनीकी ज्ञान के बारे में आप जानते ही हैं, अतः मैं तकनीकी बात न लिखकर सामान्य शब्दों में पुनः लिख देता हूँ- मेरी प्रथम वरीयता है कि नागरी अंकों से गणना हो सके ऐसा समाधान करके नागरी अंकों का प्रचलन होना चाहिए। जब तक ऐसा संभव न हो तब तक अरबी अंकों के प्रयोग से भी मुझे कोई आपत्ति नहीं।--अनामदास 10:15, 22 अक्टूबर 2017 (UTC)

विरोध

#Symbol oppose vote.svg विरोध - यदि इसका उद्देश्य हिंदी विकि का डिफॉल्ट अंक सिस्टम बदलवाना है तो। T31279 द्वारा किया गया बदलाव जिन कारणों से किया गया था उनका अभी तक कोई समाधान नहीं है। समाधान के लिए T36193 के रूप में बग लिखा गया था जिसका कोई निराकरण नहीं हो पाया। T155888 पुरानी समस्या का दुहराव मात्र है। T160423 किसलिए लिखा गया है स्पष्ट नहीं। --SM7--बातचीत-- 19:35, 10 अक्टूबर 2017 (UTC)

  1. Symbol oppose vote.svg विरोध - क्यों? देवनागरी अंकों का इस्तेमाल अब अप्रचलित हो गया है। विकिपीडिया इसे पुनः प्रचलित बनाने का स्थान नहीं है। इंटरनेट पर सारे मेजर वेबसाइट (ख़बरें, आधिकारिक/सरकारी पृष्ठ, आदि) अरबी अंकों का इस्तेमाल करते हैं। आजकल के ज़्यादातर हिन्दी पाठ्यपुस्तक, उपन्यास, और अन्य प्रकाशनों में अरबी अंकों का इस्तमाल हो रहा है। जब तक हालिया प्रकाशनों में देवनागरी के अंकों का इस्तेमाल नहीं हो जाएगा, तब तक यहाँ पर भी इसका इस्तेमाल नहीं हो जाएगा। अपने मत आधुनिक हिन्दी स्रोतों पर आधारित करें, न कि तर्कहीन आन्दोलनों पर। सादर, --सलमा महमूद (वार्ता) 14:09, 13 अक्टूबर 2017 (UTC)
  2. Symbol oppose vote.svg विरोध - हिन्दी विकिपीडिया को दोबारा कोई गड्ढे में नहीं जाना देना चाहता।--हिंदुस्थान वासी वार्ता 17:20, 13 अक्टूबर 2017 (UTC)
  3. Symbol oppose vote.svg विरोध आधिकारिक रूप की बात करें तो पाते हैं कि जन्म की श्रेणियों जैसे कि श्रेणी:1910_में_जन्मे_लोग में रोमन अंक का प्रयोग चल रहा जबकि निधन श्रेणियों में देवनागरी अंक हैं जैसे कि श्रेणी:२०१० में निधन । इस असमानता को दूर करने के एक ही मानक आवश्यक है, जैसे कि पहले की श्रेणियों में पाया गया है। --मुज़म्मिलुद्दीन (वार्ता) 14:47, 20 अक्टूबर 2017 (UTC)
मुज़म्मिलुद्दीन जी, क्या 'मानक' का अर्थ यही होता है कि 'अंक या तो केवल रोमन में रहें या केवल देवनागरी में'। 'आवश्यकतानुसार/सुविधानुसार रोमन या देवनागरी में अंक लिखें तो यह 'मानक' नहीं होगा? -- अनुनाद सिंह (वार्ता) 09:56, 22 अक्टूबर 2017 (UTC)
अनुनाद जी, यदि दो अलग रूप से लिखेंगे, लेख शीर्षक/ श्रेणी बनाएँगे, इससे पाठकों में confusion फैलेगा। अन्य भारतीय विकियों को आप देखिए, एक ही मानक अपनाया जा रहा है। उदाहरण के लिए तेलुगु लीजिए: te:వర్గం:1992 తెలుగు సినిమాలు और उर्दू Ur:زمرہ:2005ء کی کتابیں --मुज़म्मिलुद्दीन (वार्ता) 11:04, 22 अक्टूबर 2017 (UTC)
मुज़म्मिलुद्दीन जी, क्या आप कह सकते हैं कि केवल एक अंक-प्रणाली का प्रयोग करने से 'सारे' कान्फ्यूजन दूर हो जाएंगे? उर्दू वाले कितना कान्फ्यूजन झेलते होंगे जब एक ही वाक्य में संख्या बाएँ-से-दाएँ लिखते/पढ़ते होंगे और शेष शब्द दायें से बाएँ? फिर भी उन्होने अपनी लिपि को सीने से लगा रखा है! आप तो फारसी के बारे में भी जानते होंगे, वहाँ तो वे फारसी अंक प्रयोग कर रहे हैं। बंगला विकि पर भी बंगला संख्याएँ लिखी मिल रही हैं। हिब्रू, रूसी, चीनी, जापानी आदि के पास अपने दश-आधारी अंक होते तो क्या वे कभी रोमन का प्रयोग करते? चीनी में इतने 'अक्षर' हैं कि सामान्य की-बोर्ड प्रयोग ही नहीं किया जा सकता। उन्होने तो हार नहीं मान ली।-- अनुनाद सिंह (वार्ता) 12:05, 22 अक्टूबर 2017 (UTC)
  1. Symbol oppose vote.svg विरोध लगभग सभी पुस्तकें/अखबार आदि अरबी अंकों का ही इस्तेमाल करतें हैं। बिंगोब्रो (वार्ता) 14:11, 2 नवम्बर 2017 (UTC)

देवनागरी अंक (चर्चा)

अगर अपने समर्थन या असमर्थन से पहले चर्चा करनी हो तो यहां करे:

  • क्या कोई बता सकता है कि ऐसा करने से फायदा क्या है? या सिर्फ इसलिये इसे लागू करवाना है कि कुछ सदस्यों को ज्ञानसंदूक में देवनागरी अंक देखने हैं। ये भी जानना आवश्यक है कि ऐसा किया ही क्यों गया था और वो कारण आज भी सार्थक है क्या।--हिंदुस्थान वासी वार्ता 14:18, 10 अक्टूबर 2017 (UTC)
क्या ज्ञानसन्दूक में देवनागरी अंक देखने की अभिलाषा रखना स्वाभाविक नहीं है? क्या यह कोई अपराध है? अनुनाद सिंह (वार्ता) 14:53, 10 अक्टूबर 2017 (UTC)
@SM7: आपका पूरा षड्यंत्र अब समझ में आ रहा है। पहले तो आप साँचों में देवनागरी अंक काम नहीं कर रहे इसलिए हमें अरबी अंको को प्रयोग करना ही पड़ेगा एसा कहकर अब तक देवनागरी के स्थान पर अरबी अंको को लागू करने का आपके द्वारा प्रयत्न किया गया है। सदस्यों को पता ही नहीं था कि पूर्व में एसी ही मानसिकता वाले कुछ लोगों ने देवनागरी अंक साँचे में काम न करे और केवल अरबी अंक ही काम करे ऐसे बदलाव किए थे। और अरबी अंक काम कर रहे इस आधार पर बार बार अरबी अंक स्थापित करने का प्रयत्न किया गया है। अब देवनागरी अंक काम नहीं कर रहे थे इस समस्या का समाधान मिल ही गया है तब आपका विरोध यही बात स्पष्ट करता है कि आप देवनागरी अंको को हटाना चाहे थे, है, और तो और आपने अङ्ग्रेज़ी शीर्षकों को भी समर्थन दिया। शुद्ध हिन्दी लिखने वालों को प्रताड़ित किया और अपनिमनमनी चलायी। आपको अङ्ग्रेज़ी इतनी ही पसंद है तो अङ्ग्रेज़ी विकिपीडिया पर चले जाइए। हिन्दी को बर्बाद करने का आपका ये कार्य निंदनीय है। आपके जैसे सदस्य प्रबन्धक बन गए हैं ये हिउंदी विकिपीडिया की कमनसिबी है।--आर्यावर्त (वार्ता) 04:22, 11 अक्टूबर 2017 (UTC)
हमारा समुदाय काफ़ी समझदार है। हमीं अपनी समझ वापस लेते हैं। जिसे जो समझ में आये करे। --SM7--बातचीत-- 16:27, 11 अक्टूबर 2017 (UTC)
  • बहुत ही गैर उचित टिप्पणी आर्यावर्त जी की। हिन्दी प्रेम अच्छा है पर अति किसी चीज की अच्छी नहीं। मेरा भी कोई मत नहीं और इस प्रक्रिया से कोई लेना-देना नहीं।--हिंदुस्थान वासी वार्ता 16:44, 11 अक्टूबर 2017 (UTC)
षड़यंत्र और मनमानी जैसे शब्द इस्तेमाल करने के पीछे निहितार्थ क्या है, समझ से परे है। हिन्दी प्रेम तो ठीक है लेकिन अपनी शर्तों पर प्रेम की जिद तो जानलेवा है। काफी दिनों से देख और पढ़ रहा हूं। एक तबका हिंदी को लेकर ठीक उसी तरह के वाद-विवाद में लीन है जो भारतेंदु हरिश्चंद्र और सितार-ए-हिंदी राजा शिवप्रसाद सिंह के जमाने में संपन्न हो चुका था। हिंदी में संस्कृत के शब्द ठेलकर, गोंचकर आप विकिपीडिया पर गंगाजल छिड़कते हुए तथाकथित शुद्धीकरण अभियान में लगे रहिए, लोकभाषा के रूप और स्वरूप पर इसका कोई असर नहीं पड़ने वाला। तमाम बोलियों को अपनाने वाले लोग हिंदी का प्रयोग संपर्क भाषा के रूप में कर रहे हैं और करते रहेंगे। इसी से हिंदी समृद्ध हुई है, होती रहेगी। इतिहास गवाह है कि जिस भाषा में जितना लचीलापन और बाह्य-सामग्री को ग्रहण करने की क्षमता रही है वो भाषा उतनी ही सशक्त हुई जबकि शुद्धीकरण ने संस्कृत को लोकभाषा से हटाकर ग्रंथों की भाषा बना दिया और पालि, प्राकृत, अपभ्रंश का प्रादुर्भाव हो गया। इसलिए भाषा को कृत्रिम बनाने के उपक्रम में जो भी लोग लगे हैं उनको शुभकामनाएं। बदल डालिए हिंदी विकिपीडिया की भाषा लेकिन साहित्य और संचार की भाषा तो वहीं रहेगी जिसका स्वरूप प्रचलित है। --कलमकार वार्ता 13:27, 13 अक्टूबर 2017 (UTC)


अरबी अंकों का इस्तेमाल सबसे व्यापक है। अपनी एक्टिविज़्म के तहत इन अप्रयुक्त व अप्रचलित देवनागरी अंकों को हम सब पर लागू मत करें। हिन्दी भाषा आगे बढ़ रही है। इसके साथ आगे बढ़िए, या पीछे रहिए, लेकिन हम सब को अपने साथ पीछे मत लेना। हिन्दी विकी और हिन्दी ज़बान को तबाह करने की इस साज़िश अब ख़त्म कीजिए। सादर, --सलमा महमूद (वार्ता) 14:09, 13 अक्टूबर 2017 (UTC)
कलमकार जी, आपने यह नहीं लिखा कि पालि, प्राकृत, अपभ्रंश कितने दिन चलीं और संस्कृत कितने हजार वर्ष? जब पालि, प्राकृत इतनी ही 'प्रोग्रेसिव' और 'आसान' थीं तो मर क्यों गयीं? अंग्रेजी और हिन्दी में किसने अधिक लचीलापन दिखाया है और कौन अधिक सशक्त है? यदि आपका उपरोक्त थेसिस सही था तो १८३५ में भारत में अंग्रेजी लादने का कानून क्यों बनाना पड़ा? लोग अपने-आप सीख जाते। क्यों अमेरिका, ब्रिटेन भारतीयों का 'उन्नत अंग्रेजी' टेस्ट लेकर अपने देश में आने देते हैं? आपका यह थेसिस जापानी, फ्रेंच, जर्मन, रूसी, चीनी, फारसी, हिब्रू वालों को क्यों समझ नहीं आता? हिन्दी का सर्वाधिक विकास किस काल में हुआ? अनुनाद सिंह (वार्ता) 14:52, 13 अक्टूबर 2017 (UTC)

अनुनाद जी, आपके प्रश्नों को एक लंबे उत्तर की दरकार है। फिर भी मैं कोशिश करूंगा कि संक्षेप में ही इन सभी प्रश्नों का समुचित जवाब दिया जाए। आपने पूछा है कि पालि, प्राकृत, अपभ्रंश कितने दिन चलीं और संस्कृत कितने हजार वर्ष? भारत के इतिहास पर नजर डालें तो संस्कृत भाषा की प्राचीनता ऐतिहासिक तथ्यों से परिभाषित नहीं की जा सकती। इसकी कई वजहें हैं, जिनके विस्तार में जाना विषयांतर होगा। जबकि भारत का लिखित इतिहास छठी शताब्दी ईसा पूर्व से उपलब्ध है। यह ठीक-ठीक वही समय है जब गौतम बुद्ध का प्रादुर्भाव हुआ। ये वो समय था जब पालि प्राकृत का प्रचलन शुरू हो चुका था। तो वहीं अपभ्रंश से हिंदी की विभिन्न बोलियों के विकास को हम ग्यारहवीं सदी में साफ तौर पर देख सकते हैं। आपने पूछा है कि 1835 में भारत में अंग्रेजी लादने का कानून क्यों बनाना पड़ा? आपके इस सवाल का भाषा की क्षमता और अक्षमता से कोई सरोकार नहीं। सन् 1835 भारत के इतिहास में वो साल है जब ईस्ट इंडिया कंपनी ने "खल्क खुदा का, मुल्क बादशाह का, हुक्म कम्पनी सरकार का" की औपचारिकता को भी बुहारकर किनारे कर दिया और मुगल बादशाह के नाम पर चल रहे सिक्के भट्टी में पिघलाकर अंग्रेज बादशाह विलियम तृतीय के नाम पर ढाल दिए गए। भारतीय उपनिवेश को पूरी तरह से गुलामी की जंजीरों में जकड़ने के लिए देसी जुबान और पाठ्यक्रम को खारिजकर शासकवर्ग की भाषा को स्थापित करना ही अंग्रेजी कानून को लादने की वजह था। ये अलग बात है कि इस वक्त तक हिंदी खड़ी बोली अपना आधुनिक स्वरूप नहीं ग्रहण कर पाई थी। रही बात रूसी, जापानी, फ्रेंच और जर्मन की शुद्धता का तो इसके लिए जरा इन भाषाओं के इतिहास में गहरे उतरिए आपको अपने सवालों का जवाब खुद ब खुद मिल जाएगा। रूसी साहित्य में लेव तोलस्तोय और फ्योदोर दास्तोयवस्की जैसे रचनाकारों को पढ़िए। इनकी भाषा फ्रेंच के शब्दों से अटी पड़ी है। इनकी रचनाओं के कुछ किरदार तो लगातार फ्रेंच बोलते दिखते हैं। जर्मन भाषा में भी एकरूपता नहीं है पूरब की जर्मन और पश्चिम की जर्मन में जमीन आसमान का अंतर है। जापानी में टोकियो और क्योटो की जापानी में समानता नहीं दिखती। फिर भी लोग भाषा में किस एकरूपता और शुद्धि का राग अलाप रहे हैं। सादर--कलमकार वार्ता 10:12, 14 अक्टूबर 2017 (UTC)

कलमकार जी,
आपने मेरे प्रश्नों का क्या उत्तर दिया है़? झटके में कोई कह सकता है कि आपको हिन्दी ही समझ में नहीं आती। "संस्कृत भाषा की प्राचीनता ऐतिहासिक तथ्यों से परिभाषित नहीं की जा सकती।" का क्या मतलब है? जब आपको संस्कृत की ऐतिहासिकता ही पता नहीं है कि संस्कृत ५०० वर्ष जीवित रही, ५ हजार वर्ष या ५० हजार वर्ष, तो संस्कृत का उदाहरण देना कितना तर्कसंगत है? आपने इस प्रश्न पर मौन क्यों धारण कर लिया कि पालि और प्राकृत जब 'लोक' जे जुड़ी हुई 'आसान' भाषाएँ थीं तो इतनी जल्दी कैसे मर गयीं? कही-सुनी बातें उगलने से इसका उत्तर नहीं मिलेगा। अंग्रेजी के बारे में भी पता नहीं चल रहा है कि आपने उत्तर दिया है या मेरे प्रश्न को प्रकारान्तर से पुनः लिख दिया है। मेरा प्रश्न यह था कि अंग्रेजों ने भारत में अंग्रेजी के प्रचार-प्रसार के लिए आपका नुस्खा क्यों नहीं आजमाया? उन्होने संस्कृत के हजार-दो हजार शब्द ले लिए होते, फारसी के ले लिए होते, कुछ तमिल-तेलुगू के ले लिए होते। ये कानून का सहारा क्यों लेना पड़ा?
लेव तोलस्तोय का कोई किरदार फ्रेन्च बोले जा रहा है तो क्या हो गया? २ हजार वर्ष पहले के संस्कृत नाटकों में कोई संस्कृत बोल रहा है कोई प्राकृत । यह नाटक में सहजता लाने की एक युक्ति है। आज भी प्रयुक्त होती है। इसका भाषा की सरलता से कोई लेना-देना नहीं है न ही भाषायी गुलामी की मानसिकता से। यह बिलकुल अलग बात है। ऐसा नहीं है कि राजा संस्कृत में बोल रहा है और 'सद्भाव' बनाए रखने के लिए बीच-बीच में अरबी या रूसी के शब्द भी मिला लेता है।
"जर्मन भाषा में भी एकरूपता नहीं है पूरब की जर्मन और पश्चिम की जर्मन में जमीन आसमान का अंतर है। जापानी में टोकियो और क्योटो की जापानी में समानता नहीं दिखती।" - ये बात एसएम७ (पूर्वनाम, सत्यम् मिश्र) को मत बताइयेगा नहीं तो जर्मन और जापानी की 'बोलियों' की दुर्गति को लेकर वे आन्दोलित हो सकते हैं। लेकिन मैं तो यह कहूंगा कि आप फिर गलत उपमा दे रहे हैं। लगता है कि आप देसी कहावत 'कोस-कोस पर बदले बानी' नहीं सुने हैं (ये अलग बात है कि यह सोवियत कहावत नहीं है।)। अरे भाई, इसका भी 'भाषा की सरलता' सम्बन्धी आपके थेसिस से कोई सम्बन्ध नहीं है। आप तो ये बताइये कि यहूदी लोग लिपि के लिए रोमन और शब्दों के लिए अरबी अपनाकर हिब्रू को सरल बनाकर उसका प्रसार क्यों नहीं करते? जबकि यहूदियों की बहुत बड़ी संख्या रूस, जर्मनी, फ्रान्स आदि से आयी थी और वे सब तरफ से अरबी क्षेत्रों से घिरे हैं। क्यों फ्रान्स ने विदेशी शब्दों के फ्रेन्च में मिलाने के विरुद्ध कानून बनाया है? क्यों यूके यह शर्त लगाता है कि जिनको अंग्रेजी नहीं आती उनको ब्रिटेन में नहीं घुसने देंगे?
अन्त में बात विकिपिडिया पर गंगाजल छिड़कने की। स्वयं आप ७० वर्ष की अल्पायु में मृत (आत्महत) मार्क्सवाद की जूठन लिए फिर रहे हैं, उसके बारे में क्या कहना चाहेंगे? जूठन का सेवन कब तक जारी रहेगा?
चर्चा साँचों में देवनागरी के अंकों के बारे में है लेकिन पता नहीं अनुनाद जी और आर्यवर्त जी हमेशा इस बेकार शुद्धतावादी मुद्दे को लेकर विकिपीडिया पर चर्चा करना चाहते हैं। माने या न माने, हिन्दी का विकास सिर्फ़ संस्कृत से नहीं बल्कि प्राकृत, अरबी, फ़ारसी, तुर्की, पुर्तगाली, अंग्रेज़ी, आदि में से भी हुआ है। यह कॉल्ड हार्ड लिंग्विस्टिक फ़ैक्ट है। अगर अंग्रेज़ी भाषा के पुनर्निर्माण इस "भाषा शुद्धतावाद" की बुनियाद पर हुआ, तो आज अंग्रेज़ी भाषा ऐसी लगेगी। लेकिन इस तरह की अंग्रेज़ी का अस्तित्व ग़ायब है, क्योंकि इस नक़ली भाषा का इस्तेमाल किसी भी नहीं करते हैं। सादर, --सलमा महमूद (वार्ता) 11:09, 14 अक्टूबर 2017 (UTC)
गुलामी ढोने की आपकी मजबूरी को समझना कठिन नहीं है। -- अनुनाद सिंह (वार्ता) 03:43, 15 अक्टूबर 2017 (UTC)

अनुनाद जी, मुझे हिंदी समझ में आती है या नहीं आती है, इसके लिए जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय की डिग्री और विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की फेलोशिप पर्याप्त है। इसके लिए अब आपसे प्रमाणपत्र की जरूरत नहीं है। दूसरी बात, भाषाओं के इतिहास और भारत पर औपनिवेशिक राज और उसकी नीतियों की तो उसके लिए वैज्ञानिक इतिहास दृष्टि की जरूरत है। मुझ ऐसा प्रतीत हो रहा है कि मैंने इस बिंदु पर वाद विवाद संवाद की पात्रता और अर्हता की अनदेखी कर दी। वैसे गुलामी ढोने का ये जुमला अब बासी पड़ चुका है। कुछ नया सोचिए। इस बिंदु पर ये मेरी आखिरी टिप्पणी है। वैचारिक असहमति में शालीनता के अभाव को देखते हुए बातचीत के इस सिलसिले को यहीं विराम देता हूं। शुभकामनाएं--कलमकार वार्ता 17:48, 15 अक्टूबर 2017 (UTC)

कलमकार जी, मुझे आपसे यही आशा भी थी। मुझे पता था कि आप रटी-रटायी बात बोल रहे हैं और जब उस पर प्रतिप्रश्न किया जायेगा तो पहले 'घुमाने' की कोशिश करेंगे और बाद में बच निकलने का कुछ बहाना ढूढ़ लेंगे। -- अनुनाद सिंह (वार्ता) 11:17, 16 अक्टूबर 2017 (UTC)
ये तो बिलकुल वैसी बात हो गई जैसे चोर कोटवाल को दंड दे। कलमकार जी वाला खाता संदिग्ध है, वे विकि में खाता खोलने के साथ ही विकिपीडिया की शैली आदि से परिचित थे। उनकी नीति स्पष्ट समझ में आ रही है। सलमा जी वाले खाते का सम्पादन इतिहास देखा जाये तो स्वतः ही पता चल जाएगा, कुछ भी कहने की आवश्यकता नहीं। हिंदुस्थानवासी जी जैसे प्रबन्धक भी इसमें सम्मिलित है ये बात अवश्य अनपेक्षित है। एसएम7 जी को मैं धन्यवाद देता हूँ। हिन्दी भाषा सैकड़ो सालो से है और हिन्दी का जन्म ही संस्कृत से हुआ है। अब किसी को संस्कृत से धृणा है तो ये उनकी व्यक्तिगत समस्या है, ये उनका व्यक्तिगत हेतु है। हिन्दी भाषा देवनागरी में लिखी जाती है न कि अरबी में। वो भी युगो से। हिरण्यकश्यपू ने एक बार घोषित कर दिया कि अब से कोई भगवान विष्णु की पुजा नहीं करेगा। हिरण्यकश्यपू ही आज से भगवान है। मंदिर तोड दिये गए, यज्ञ करने पर प्राणदंड था। जैसे सनातन धर्म नष्ट हो गया। किन्तु ये अल्पकालीन था, हमारी भाषा, संस्कृति, धर्म आज भी है। भारत में मुस्लिमो का आक्रमण हुआ, मंदिर तोड़ दिये गए, सोमनाथ मंदिर में ही 1 लाख ब्राह्मणो की हत्या की गई थी। अनेक लोगों को मारकर धर्म परिवर्तन कराया गया। क्या हमारी भाषा और धर्म समाप्त हो गये? वो भी अल्पकालीन था। फिर भारत में अंग्रेज़ आए, भारत के इतिहास को बदला गया ताकि भारत के लोग अपना गौरवपूर्ण इतिहास भूल जाए और भारतीय लोगों में आत्मविश्वास की कमी के कारण स्वयं को दीन, हीन, बिछड़ा हुआ समझे। भारत में कायदे लाद कर जबर्दस्ती अँग्रेजी थोपी गई थी, आज भी हिन्दी को हटाने के लिए भारत के कुछ भागो में आंदोलन चल रहा है। इन लोगों को मन में ठसाया गया है कि अँग्रेजी से ही उनका कल्याण हो सकता है। दक्षिण भारत के भागो में आज भी हिन्दी को समाप्त करने के प्रयत्न हो रहे है। ये पूरा षड्यंत्र तो है ही किन्तु ये भी अल्पकालीन है। ऐसे लोगों के कारण देवनागरी समाप्त नहीं हो जाएगी, काल की गति के साथ ये लोग भी समाप्त हो जाएँगे।

हिन्दी विकिपीडिया हिन्दी में ही लिखा जाता है और देवनागरी में ही लिखा जाता है, आंदोलन तो अनेक चल रहे हैं जैसे इसे अरबी में लिखना। फिजिहिंदी विकिपीडिया देख ही रहे हैं। किन्तु ये हिन्दी विकिपीडिया है और देवनागरी के अंक यहाँ लादे नहीं जा रहे हैं, ये तो प्रारम्भ से ही है, रहेंगे। देवनागरी अंक से ही ये अरबी अंको का जन्म हुआ है। जब अरबी अंको का अस्तित्व नहीं था तब भी ये थे। ये तो मूलाधार है। विकिपीडिया में कुछ सदस्यो ने शुद्ध हिन्दी लिखने वाले को प्रताड़ित किया और इसके कारण अनेक मूलभूत से हिन्दी और विकिपीडिया को समर्पित संपादक विकिपीडिया छोडकर जाने के लिए विवश हो गए। विकिपीडिया में लेख कैसे लिखे वाली नीति भी इस बात का प्रमाण है जो हमारे सामने उपस्थित है। पुरालेख पढ़िये। लवि सिंघल जैसे कठपुतली खातो का भी प्रयोग किया गया और अपने छ्द्म हेतु को कार्यान्वित करने के लिए आक्रमण किया गया था। अनुनाद जी आज भी हमारे समक्ष हैं जो इन चीजों से युद्ध कर चुके हैं और आज भी विकि को समर्पित होकर बिना कोई अधिकार लिए योगदान दे रहे हैं। छ्द्म हेतु की पूर्ति के लिए काम कर रहे सदस्य और अनुनाद जी दोनों का योगदान देखकर ही ज्ञात हो जाएगा की कौन विकि को समर्पित है, विकि का सच्चा शुभचिंतक कौन है। कौन अपने निजी स्वार्थ के लिए लड़ रहा है और कौन विकि के हित के लिए युद्ध कर रहा है। कुछ ऐसे प्रबन्धको को हटाना पड़ा था। तब ये लोगों ने साँचे में अंक बदलवा दिये और ऐसा बदलाव किया गया कि देवनागरी अंक काम करे ही नहीं और हमें अरबी प्रारूप का ही उपयोग करना पड़े। गुजराती में गुजराती अंक काम कर रहे है और कोई समस्या नहीं है। न हो सकती है। बाद में ये कहकर अरबी अंको को लागू करने का प्रयत्न किया गाय कि साँचे में देवनागरी अंक काम नहीं करते है इसलिए अरबी अंको को लागू कर दिया जाये और देवनागरी अंको में लिखने पर ही रोक लगा दी जाये। कारण तो बताए गए थे कि ये लाभ होगा और ये लाभ होगा, तब मैंने इसका विरोध किया था। तब हमें ये पता नहीं था कि देवनागरी अंक काम क्यों नहीं कर रहे। पुरानी चर्चाओ के अनुसार समस्या तो यही थी कि देवनागरी अंक काम नहीं कर रहे इसलिए अरबी अंको का प्रयोग करना पड़ेगा। अब ये समस्या का मूल मिल गया है और ये चर्चा के बाद देवनागरी अंक काम करेंगे। फिर उनका देवनागरी अंको को हटाने का स्वप्न ध्वस्त होते देख ऐसे लोग विरोध कर रहे हैं। देवनागरी अंक थोपे नहीं जा रहे, मूल से, प्रारम्भ से है और रहेंगे। अरबी अंक थोपे जा रहे थे। पहले भी कुछ लोग अपने इस छ्द्म हेतु की पूर्ति के लिए प्रबन्धक बनकर ये कार्यक्रम चला रहे थे। आज भी हमारे प्रबन्धको में ऐसे सदस्यों की संख्या ज्यादा है। ये वहीं लोग है, जो अनिरुद्ध जी, अनुनाद जी को प्रबन्धक बनाने का विरोध करेंगे ताकि उनकी मनमानी चल सके। अनिरुद्ध जी को विकि छोडना पड़ा। अनुनाद जी को प्रबन्धक पद छोडना पड़ा। ये लोगों ने इतने सारे नीति नियम बना दिये कि प्रबन्धक बनना मतलब राष्ट्रपति बनाना हो, कोई प्रबन्धक न बन पाये और सबकुछ उनके हाथों में रहे और उनका छ्द्म कार्य भी चलता रहे। इसके कारण अनेक सदस्यो को आगे बढ्ने का मौका नहीं मिला, नामांकन कराते ही ये लोग वहाँ विरोध करने आ जाते और खुद के बनाए अनेकों नीति नियम जाड़ देते। इसकारण अनेक योगदानकर्ता विकिपीडिया छोडकर चले गए। विकिपीडिया में आज भी ये सब चल रहा है। उनको, ऐसे लोगों को पहचानिए और सोचिए।--आर्यावर्त (वार्ता) 05:10, 16 अक्टूबर 2017 (UTC)

आर्यवर्त, मैं पहले से ही कह चुकी हूँ कि यह ज्ञानकोश है, मंदिर नहीं। आपके सदस्यनाम से ही साफ़ है कि विकी पर आपकी मौजूदगी का मक़सद क्या है। नाम ही तो एक फ़ासीवादी आन्दोलन से जुड़ा है। जिस तरह आपने इस अज़ीमतरीन विस्तृत निबंध को लिखा है, मेरी उम्मीद है कि इंशाअल्लाह आप ऐसे ही विस्तार के साथ हिन्दी विकी के लेखों में विषयवस्तु जोड़ेंगे - बस आपके घटिया, बेबुनियाद हिन्दुत्ववादी बकवास के बग़ैर। ये हिरण्यकश्यपू-सनातन धर्म बकवास और आपके विकृत ऐतिहासिक नज़रिए से मुझे कोई लेना देना नहीं है। आपने ख़ुद अपनी निन्दनीय पक्षपाती भावनाओं को स्पष्ट कर दिया है। ख़ैर, आपसे सियासत के बारे में बहस करने के लिए नहीं आई हूँ। विकी की चर्चाएँ इन सब के लिए मुनासिब स्थान नहीं है। चर्चा अंकों के बारे में है तो वहीं पर मैं चर्चा करूँगी।
अरबी अंकों के बारे में आपके जो भी निजी मत है जैसे कि "देवनागरी अंक से ही ये अरबी अंको का जन्म हुआ है", वग़ैरह - वो यहाँ पर बिल्कुल अप्रासंगिक है। सच्चाई तो यह है कि आधुनिक हिन्दी प्रकाशनों में अरबी अंकों का इस्तेमाल सर्वव्यापक है। यह तो निर्विवाद, अखंडनीय सच्च है।
"हिन्दी भाषा देवनागरी में लिखी जाती है न कि अरबी में।" आप किस को बेवक़ूफ़ बनाने की कोशिश कर रहे हैं? अंग्रेज़ी, स्पेनी, डच, आदि तो रोमन लिपि में लिखी जाती है, तो क्या इन भाषाओं की विकिपीडियाओं में रोमन न्यूम्रल का इस्तेमाल किया जाना चाहिए?
विकी के सबसे आम पहलुओं में से ये है कि हम मूलशोध के मुताबिक़ नहीं बल्कि भरोसेमन्द आधुनिक स्रोतों के आधार पर काम करते हैं और ये भी है कि विकी एक लोकतंत्र नहीं है। इसलिए मैं हिन्दी भाषा के कुछ मशहूर व जाने पहचाने स्रोतों की लिस्ट दूँगी:
भारतीय सरकार: भारतीय हकूमत की दफ़्तरी हिन्दी वेबसाइट.. कहाँ गए देवनागरी अंक?; एक और भारतीय हकूमत के प्रकाशन में ही अरबी अंकों का इस्तेमाल हुआ है। तो अगर मोदी सरकार ही बिना एतराज़ से अरबी अंकों के इस्तेमाल करने के लिए तैयार है तो पता नहीं कि आपके कट्टरवाद किसी और ज़्यादा ऊँचा स्तर पर है या क्या।
और स्रोत: मॉरीशन विश्व हिन्दी सचिवालय, 1999 से भारतीय कृषि अनुसंधान प्रकाशन, डीयू हिन्दी सिलाबस
पाठ्यपुस्तक व शिक्षा संबंधित: कक्षा 12 अर्थशास्त्र, रचनात्मक मूल्यांकन हेतु शिक्षक संदर्शिका कक्षा 9, परीक्षा संबंधी उप-विधी, आपदा प्रबंधन पाठ्यपुस्तक, भौतिकी - असल में इन हिन्दी पाठ्यपुस्तकों में देवनागरी अंकों से ज़्यादा रोमन न्यूम्रल नज़र आ रहे हैं!
ख़बरें: एनडीटीवी न्यूज़, आजतक, दैनिक जागरण, दैनिक भास्कर, ज़ीन्यूज़, एबीपी न्यूज़, बीबीसी हिंदी न्यूज़ - सबकेसब मशहूर ऑन्लाइन हिन्दी न्यूज़ वेबसाइटों पर सिर्फ़ और सिर्फ़ अरबी अंक नज़र आ रहे हैं।
तो यहाँ पर देवनागरी अंक थोपने से पहले इन सारे स्रोतों के लिए ज़िम्मेदार लोगों को अरबी अंकों के ख़तरों के बारे में समझाएँ। आधुनिक हिन्दी प्रकाशनों में बदलाव लाने के बाद ही हम विकिपीडिया पर मुनासिब तब्दीलियाँ लाएँगे। लेकिन जब तक यह नहीं हो जाता, तब तक विकिपीडिया पर डिफ़ॉल्ट में अरबी अंकों का इस्तेमाल किया जाएँगे। साँचों में देवनागरी अंक थोपने की कोई ज़रूरत नहीं है। यह "अंक परिवर्तन" कोम्प्रोमाइज़ ही काफ़ी से ज़्यादा है क्योंकि मेरे ख़्याल से, उपरोक्त स्रोतों के जैसे, विकिपीडिया पर सिर्फ़ और सिर्फ़ अरबी अंकों का इस्तेमाल किया जाना चाहिए।
आदर से, --सलमा महमूद (वार्ता) 23:19, 17 अक्टूबर 2017 (UTC)
सम्माननीय सलमा बहन जी, यहाँ जिस जिस साइट का आपने उल्लेख किया है और उसके आधार पे आप हिन्दी विकिपीडिया में अरबी अंको को थोपना चाहते हैं उनसे अच्छा है कि आप स्वयं उसी साइट पे योगदान दीजिये जहाँ ये सब है। वहाँ ये है तो यहाँ भी होना ही चाहिए ऐसा बिलकुल नहीं है। न तो यहाँ देवनागरी अंक थोपे जा रहे हैं। ये तो प्रारम्भ से ही है और रहेंगे। इसका हिन्दुत्व के साथ कोई लेना देना नहीं है। हिन्दुत्व के अनुसार मैं शरीर नहीं शुद्धात्मा हूँ और जो आपके अंदर भी वहीं ईश्वर का मैं दर्शन कर रहा हूँ। इसलिए तो मैं सदैव आपका सम्मान करता हूँ और भूतकाल की चर्चाओ में भी आपने जो भी आक्षेप किए हो, मैंने आपको आपकी भाषा में प्रत्युत्तर नहीं दिया। हम स्त्रियों का सम्मान करते हैं और मैं व्यक्तिगत रूप से आपका सम्मान करता हूँ। आपके मजहब का भी हम सम्मान करते हैं। अतः आपसे अनुरोध है कि इसे हिन्दुत्व से न जोड़े। हिन्दी देवनागरी अंको में लिखी जाती है और देवनागरी वर्णमाला और अंक इसके आरंभ से ही है अतः कभी भी इसे थोपा हुआ नहीं कहा जा सकता। मेरा जो मत है मैंने स्पष्ट लिख दिया है। आपका मत भिन्न हो सकता है। वैसे भी मैं विकिपीडिया छोडना चाहता हूँ। मेरा स्पष्ट रूप से मानना है कि मुझे हिन्दी लेखन में देवनागरी अंको में नहीं लिखने के लिए कोई बाध्य नहीं कर सकता।--आर्यावर्त (वार्ता) 06:29, 18 अक्टूबर 2017 (UTC)
" ये तो प्रारम्भ से ही है और रहेंगे।" जी ठीक है, हिन्दी विकिपीडिया के शुरुआती दिनों में एक ग़लती की गई थी, तो फिर हम इसमें सुधार नहीं कर सकते हैं क्या?
आप ही थोपने के पक्ष में हैं, मैं नहीं। मैं बस हिन्दी लेखन के मौजूदा तौर-तरीक़ों के मुताबिक़ काम करना चाहती हूँ, और उपरोक्त स्रोतों ने इस बात की पुष्टि भी की है। आप विकिपीडिया पर इस अप्रचलित अंक प्रणाली का पुनःप्रचलन करना चाहते हैं - और विकिनीतियों के तहत पर ही यह बिल्कुल मना है। अगर मैं थोपने के आन्दोलन चलाने की कोशिश कर रही हूँ तो इन अर्थशास्त्र, गणित, भौतिकी, आदि की आधुनिक हिन्दी पाठ्यपुस्तकों में देवनागरी अंकों का प्रयोग क्यों नहीं हुआ है?
"वहाँ ये है तो यहाँ भी होना ही चाहिए ऐसा बिलकुल नहीं है।" - ये विचार पूर्णतः विकिनीतियों के ख़िलाफ़ है। विकिपीडिया पर आम सहमति भरोसेमन्द स्रोतों के आधार पर पहुँची जाती है, न कि आपकी, या किसी और की ज़ाती भावनाओं (या मूलशोध) पर। यहाँ मैंने कई स्रोत दिए जिनके मुताबिक़ यह साबित हुआ है कि आधुनिक हिन्दी में देवनागरी अंकों का प्रयोग बहुत कम है, इसलिए इन अंकों को विकिपीडिया पर थोपने का कोई जायज़ कारण नहीं है।
"हिन्दी देवनागरी अंको में लिखी जाती है और देवनागरी वर्णमाला और अंक इसके आरंभ से ही है अतः कभी भी इसे थोपा हुआ नहीं कहा जा सकता।" ग़लत। पहले से ही कह चुकी हूँ कि अंग्रेज़ी, स्पेनी, डच, आदि तो रोमन लिपि में लिखी जाती है, तो क्या इन भाषाओं की विकिपीडियाओं पर रोमन अंकों (I, II, III, IV, V, आदि) का इस्तेमाल किया जाना चाहिए?
कुछ और मिसालें: थाई लिपि के अपने अंक भी होते हैं - ๐, ๑, ๒, ๓, ๔, आदि - लेकिन आप इनको थाई विकी पर नहीं थोप सकते हैं क्योंकि आधुनिक थाई ज़बान के प्रकाशनों में अरबी अंकों का इस्तेमाल सबसे आम है। सिरिलिक लिपि की भी अपनी अंक प्रणाली है लेकिन रूसी, युक्रेनी, आदि विकिपीडियाओं पर आप इन अंकों को थोप नहीं कर पाएँगे। वैसे ही, आप देवनागरी अंकों को हिन्दी विकिपीडिया पर नहीं थोप सकेंगे।
जहाँ सम्मान की बात है, तो मुझे सहमत है कि आपस में सम्मान रखना बहुत ही ज़रूरी है। लेकिन सबसे ज़रूरी ये है कि हम विकिपीडिया और इसकी नीतियों का सम्मान करें। इन नीतियों से ही विकिपीडिया का जन्म हुआ और इसका विकास इन्हीं के तहत पर होना चाहिए।
इस बात पर भी ग़ौर किया जाए कि विकी एक लोकतंत्र नहीं है - मैं हमारी विकिनीति का हवाला देती हूँ:
"कभी-कभी सम्पादक एक दूसरे के मत जानने के लिए छोटी-मोटी गिनतियाँ कर लेते हैं लेकिन इनके नतीजे सहमती बनाने का इकलौता मार्ग बिलकुल नहीं हैं।" - "औपचारिक चुनाव केवल सदस्यों को कमेटियों के लिए चुनने में प्रयोग होते हैं। सम्पादन में इनके ज़रिये ज़बरदस्ती फ़ैसले करवाने की कोशिश न करें।"
तो इस नीति की बुनियाद पर ये सारे बेवजह और स्रोतहीन वाले "समर्थन" वोट का इस चर्चा में क्या मतलब हो सकता है? सादर, --सलमा महमूद (वार्ता) 12:49, 20 अक्टूबर 2017 (UTC)
सलमा महमूद जी, आपने लिख-लिखकर पूरा पन्ना भर दिया है किन्तु मैं ढूढ़ रहा था कि इसमें कोई 'ठोस तर्क' मिले। आपने 'विकिपीडिया लोकतन्त्र नहीं है', 'मूल शोध', पत्रपत्रिकाओं में रोमन अंकों का प्रयोग आदि सब कुछ यहाँ डाल दिया है। इनमें से सारे सिद्धान्त अपनी जगह पर सत्य हैं किन्तु कौन सा सिद्धान्त कहाँ लगेगा, यह नहीं जानतीं या जानबूझकर उनका गलत सन्दर्भ में प्रयोग कर रहीं हैं। उदाहरण के लिये, 'विकिपीडिया लोकतन्त्र नहीं है' - इसका उपयोग करके हम कह सकते हैं कि रूसी, थाई या इथियोपियाई, दिल्ली विश्वविद्यालय, या झुमरी तलैया विश्वविद्यालय यदि रोमन अंकों का प्रयोग कर रहें हैं तो करें। यदि देवनागरी प्रयोग के अन्य औचित्य हैं तो इसमें संख्या (वोट) नहीं गिनी जायेगी। इसमें भोंदी नकल नहीं की जायेगी (सिरिलिक संख्याओं/रोमन संख्याओं और देवनागरी संख्याओं में अन्तर आपको पता नहीं है क्या?) इसी तरह विकिपीडिया पर देवनागरी अंकों का प्रयोग मूलशोध नहीं है बल्कि विकिपीडिया की मूल भावना के अनुरूप है। मैं ये क्यों कह रहा हूँ? इसलिये कि विकिपीडिया हजारों नहीं तो सैकड़ों भाषाओं का समर्थन करने की नीति का पालन करती है। आपकी नीति पर चलती तो विकि कहती कि 'सारी दुनिया अंग्रेजी बोलती है, केवल अंग्रेजी विकि ही पर्याप्त है।' लेकिन ऐसा नहीं है। यहाँ तक कि यदि कोई भाषा कई लिपियों में लिखी जाती है तो उनके लिए विशेष प्रबन्ध किया है। यूनिकोड कान्शोर्शियम को देवनागरी अंकों के लिये यूनिकोड निर्धारित करने की क्या आवश्यकता थी? आपके अनुसार तो देवनागरी 'मर' गयी है। सलमा जी, देवनागरी अंक संस्कृत में प्रयुक्त होते हैं, मराठी में प्रयुक्त होते हैं, नेपाली में प्रयुक्त होते हैं। वे लोग पूछेंगे कि हमारे देवनागरी अंक किससे कम हैं, तो आप क्या उत्तर देंगी? सलमा जी, लिपि संरक्षण/भाषा संरक्षण एक पवित्र कार्य है जिसे आज पूरा विश्व समर्थन करता है। आश्चर्य नहीं कि अपनी विकि पर भी अधिकांश सदस्यों ने देवनागरी अंकों के प्रयोग का समर्थन किया है। --अनुनाद सिंह (वार्ता) 07:40, 22 अक्टूबर 2017 (UTC)
कुछ महत्वपूर्ण बातें छूट गयीं थीं, उन्हें भी लिख दूँ। जब आप लिखतीं हैं कि यह 'ज्ञानकोश है, मन्दिर नहीं' - तो आपका अज्ञान बरबस सामने आ जाता है। आपको 'ज्ञानकोश' का अर्थ ही पता नहीं है। आप नहीं जानतीं कि 'त्रिभुज कखग एक समकोण त्रिभुज है' और 'Triangle ABC is a right angled triangle' - इन दोनों में ज्ञानकोश की दृष्टि से कोई अन्तर नहीं है। आप यह भी 'अरबी अंको' के जिहाद में यह भी भूल गयीं हैं कि शून्य सहित दस अंकों का विकास, दाशमिक संख्या पद्धति, आदि भारतीयों ने किया था। गंगा में नहा-नहाकर, मंदिर में पूजा करके, संस्कृत के श्लोकों में जो बातें लिख दीं वे आज भी आश्चर्यजनक लगतीं हैं। आपको जानकर बड़ा दुख होगा कि ये अंक ही यात्रा करके इटली, स्पेन तक पहुंचे तो उन्हें इनके प्रयोग में अपूर्व आनन्द आया किन्तु कूपमण्डूकता के चलते उन्होने इन्हें 'अरबी अंक' कह दिया।
दूसरी बात यह कि जब आप 'रोमन अंक बहुत प्रचलित हैं, रोमन अंक बहुत प्रचलित हैं' का ढिढोरा बजाती हैं तो मुझे ब्रिटिश काल के उन लोगों के ढिढोरे की याद आती है जो 'ब्रिटेन का सूरज कभी नहीं डूबता' का ढिढोरा पीट-पीटकर स्वतन्त्रता सेनानियों का मनोबल कम करने का मनोवैज्ञानिक युद्ध लड़ रहे थे। किन्तु उन मनस्वियों को पता था कि गुब्बारा जितना फूला हो, सुई से उसमें छेद करके उसकी 'हवा निकालना' उतना ही आसान होता है। --अनुनाद सिंह (वार्ता) 09:09, 22 अक्टूबर 2017 (UTC)
सदस्य:Anamdas जी,
लिपि और अंकप्रणाली दो अलग चीज़ें हैं। आपने अब स्वयं अपना उद्देश्य को व्यक्त किया है: आप हिन्दी लेखन की मौजूदा सूरतेहाल को तब्दील करना चाहते हैं। विकिपीडिया पर योगदान देने से हम सब के निजी उद्देश्य हो सकते हैं और इसलिए विकिपीडिया की नीतियाँ मौजूद हैं। सो अनामदास जी, अगर हिन्दी में लिखी गई स्कूल और युनिवर्सिटी टैक्स्टबूक में अरबी अंकों का प्रयोग सबसे ज़्यादा है - तो यहाँ पर आप देवनागरी अंकों को क्यों थोपना चाहते हैं? पहले बाहर जाइए, इस देवनागरी अंकप्रणाली का हिन्दी लेखन में पुनःप्रचलन करिए, और फिर वापस आइए और स्रोतसबूत के साथ साबित करिए कि अब हिन्दी लेखन में किस अंकप्रणाली सर्वप्रचलित है।
सदस्य:अनुनाद सिंह जी,
अगर मेरा सदस्यनाम "सीमा मेहता" था न कि "सलमा महमूद" तो क्या आप फिर भी बारम्बार मुझपर "जिहाद" करने का आरोप लगाते? आप मुद्दे पर चर्चा करने के बजाय ज़ाती आक्षेप करना चाहते हैं और हमेशा अपनी घटिया सियासत के तहत गालियाँ देना चाहते हैं। ज़रा माफ़ कीजिए लेकिन मैं आपके स्तर तक नहीं गिरने वाली हूँ। लो आप अज्ञान की बात कर रहे हैं, इसके पहले रोमन अंक (i, ii, iii, iv, v...) और अरबी अंक (1, 2, 3, 4, 5...) में अन्तर के बारे में जानिए। बेशक देवनागरी ज़िन्दा है, ये तो ज़ाहिर सी बात है। मैंने कब कहा कि देवनागरी मर चुकी है? बस ये कि आधुनिक हिन्दी लेखन में एक अलग अंकप्रणाली अब प्रचलित है। इस बात को मैंने स्रोतसबूत के साथ साबित कर दिया है।
मुद्दे पर बात करें:
अनुनाद जी ने बिलकुल ग़लत समझा, या वे जानबूझकर भ्रामक बातें कर रहे हैं। मेरी नीति नहीं, बल्कि विकिपीडिया की नीति स्पष्ट है: हम विश्वसनीय तृतीय पक्ष स्रोतों के अनुसार कार्य करते हैं न कि "मूल भावनाओं" पर। विश्वसनीय तृतीय पक्ष स्रोतों का लोकतंत्र या मूलशोध से कुछ नहीं लेना देना है। ये सारे बातें जो अनुनाद जी कर रहे हैं सब मूलशोध की सबसे उत्तम मिसालें हैं -
"आपको जानकर बड़ा दुख होगा कि ये अंक ही यात्रा करके इटली, स्पेन तक पहुंचे तो उन्हें इनके प्रयोग में अपूर्व आनन्द आया किन्तु कूपमण्डूकता के चलते उन्होने इन्हें 'अरबी अंक' कह दिया।" तो?? अब यही अरबी अंकप्रणाली हिन्दी लेखन में सर्वव्यापक है। अनुनाद जी ने बड़ी चालाकी से इस बात को किसी अप्रासंगिक ब्रिटिश चीज़ से तुलना किया है, क्योंकि वे इसे हरगिज़ ग़लत साबित नहीं कर पाएँगे। विकिपीडिया देवनागरी अंकप्रणाली का पुनःप्रचलन करने के लिए जगह नहीं है।
सौ बार कहकर थक चुकी हूँ, --सलमा महमूद (वार्ता) 12:08, 22 अक्टूबर 2017 (UTC)
सलमा जी, मैने आपको 'जिहादी' कहा है कोई 'नादिरशाह की बुआ' या 'औरंगजेब की दीदी' नहीं कहा। 'जिहाद' पर इतना लाल-पीला होने से पहले आप एक बार वह भी पढ़ लीजिए जो आपने स्वयं आर्यावर्त के लिये लिखा है। (( आर्यवर्त, मैं पहले से ही कह चुकी हूँ कि यह ज्ञानकोश है, मंदिर नहीं। आपके सदस्यनाम से ही साफ़ है कि विकी पर आपकी मौजूदगी का मक़सद क्या है। नाम ही तो एक फ़ासीवादी आन्दोलन से जुड़ा है।))
सलमा जी, विकिपीडिया वालों को समझाइये कि 'रोमन के साम्राज्य में कभी सूर्यास्त नहीं होता (मैं सौ बार कह चुकी हूँ)' , क्यों इतनी सारी लिपियों में विकि लिखवा रहे हो!!
सलमा जी, 'विकि लोकतन्त्र नहीं है', 'मूलशोध', 'स्रोत' आदि का मतलब एक बार फिर पढ़ लीजिए।
अनुनाद सिंह (वार्ता) 12:42, 22 अक्टूबर 2017 (UTC)
सलमा जी ये 'अंक प्रणाली' क्या होती है? थोड़ा प्रकाश डालिये ना? 'लिपि और अंकप्रणाली दो अलग चीज़ें हैं।' - इस पर थोड़ा और प्रकाश डलिये ना? मैंने तो देखा है कि विकिपीडिया पर जिस भी लिपि का लेख लिखा गया है, उसी के साथ उस लिपि में प्रयुक्त अंक-संकेतों (या संख्या संकेतों) का भी वर्णन किया गया है। जरा ये भी बताइयेगा कि जो चर्चा चल रही है वह अंकों के बारे में है, संख्याओं के बारे में है, अंक-संकेतों के बारे में है, संख्या-प्रणाली के बारे में है या किसी और बारे में?-- अनुनाद सिंह (वार्ता) 12:58, 22 अक्टूबर 2017 (UTC)
साफ़ है कि उपरोक्त चर्चा में आर्यवर्त ने सनातन धर्म के कथित महान और गौरवपूर्ण इतिहास के बारे में बयान दिया। उन्होंने भारत के मुसलमानों की तुलना एक राक्षस हिरण्यकशिपु से किया था, जैसे कि सारे मुसलमान हिन्दू धर्म, संस्कृति, इतिहास, मन्दिर, आदि को नष्ट करना चाहते थे। ये सारे सांप्रदायिक आक्षेप उन्होंने स्वय्ं व्यक्त किया। फिर भी मैंने आपसे और उनसे भी कहा कि मुझे सियासत के बारे में बहस नहीं करनी है।
अनुनाद जी, आपने मुज़म्मिल के साथ ऊपर की चर्चा में बंगाली, उर्दू और फ़ारसी विकियों की अंकप्रणालियों का ज़िक्र किया। आम बंगाली मीडिया में आप देख सकते हैं कि पूरबी नागरी अंकों (১, ২, ৩, ৪, आदि) का प्रयोग ज़्यादा है - आनन्दाबाज़ार बीबीसी बंगाली बांग्लादेश सरकार बांग्ला अकादमी पश्चिम बंगाल सरकार - इसलिए इनके इस्तेमाल बंगाली विकी पर भी हो रहा है। फ़ारसी के हालिया प्रकाशनों में पूरबी अरबी अंकों (۲, ۳, ۴, ۵, आदि) का इस्तेमाल भी सबसे व्यापक है, इरानी हकूमत वोआन्यूज़ एरान अख़बार फ़ारस न्यूज़, इसलिए इनके इस्तेमाल फ़ारसी विकी पर भी हो रहा है। लेकिन उर्दू में पश्चिमी अरबी अंक ज़्यादा प्रयुक्त है और इसलिए उर्दू विकी पर उन अंकों का प्रयोग हो रहा है। वैसे ही हम देख सकते हैं कि हिन्दी की आम मीडिया में भी पश्चिमी अरबी अंक ज़्यादा नज़र आते है, और इसलिए हिन्दी विकी पर देवनागरी अंकों को लागू करने के लिए कोई कारण नहीं है। --सलमा महमूद (वार्ता) 13:29, 22 अक्टूबर 2017 (UTC)
सलमा महमूद जी, मैं तो यह देख रहा हूँ कि आर्यावर्त और नेहल दोनो बार-बार आपसे 'जबान संभाल के' बात करने का निवेदन कर रहे हैं और आप उनको तरह-तरह की गालियाँ (फालतू, बेकार, शुद्धतावादी, ऐक्टिविज्म, गंगाजल आदि) दिये जा रहीं है। मुझे तो लग रहा है कि आप अपने नाम (स्त्री नाम) का भरपूर दुरुपयोग कर रहीं हैं।
फिर आपने रटी-रटायी बातें लिख दीं। यदि विकिपीडिया पर 'प्रचलन' कोई आधार होता तो संस्कृत विकि, लैटिन विकि, भोजपुरी विकि आदि नहीं होते। भोजपुरी का तो लिखित 'साहित्य' लगभग शून्य है।
पुराने प्रश्न फिर पूछ रहा हूँ। चर्चा आगे बढ़े इसके लिये कृपया बताएँ कि जो चर्चा चल रही है वह अंकों के बारे में है, संख्याओं के बारे में है, अंक-संकेतों के बारे में है, संख्या-प्रणाली के बारे में है या किसी और बारे में? यह 'ज्ञानकोश' की आपकी समझ जानने के लिये यह भी जानना चाहता हूं कि कोई लिख दे कि 'त्रिभुज कखग का क्षेत्रफल १२ वर्ग सेमी है' तो क्या यह 'अज्ञानकोशीय' हो जायेगा?
अनुनाद सिंह (वार्ता) 14:17, 22 अक्टूबर 2017 (UTC)

दिशा

मेरे विचार से यह चर्चा गलत दिशा में जा रही है। हिंदी भाषा की शुद्धता तो केंद्रबिंदु था ही नही। अंको की लिपि था। जो।भी तर्क इसके समर्थन अथवा विरोध में दिए जा रहे है वो सीधे सीधे भावनाओ से प्रेरित है न कि ठोस तथ्यों से। कृपया सभी अपनी निजी भावनाओ को किनारे कर इस विषय से सीधी संबंधित बात करे तो निष्कर्ष पर पहुंचना सरल हो पायेगा। दो प्रश्न भी यहाँ महत्वपूर्ण है। १) ऐसा किया ही क्यों गया था? @SM7: आपके द्वारा दिये गए phab से कुछ जानकारी तो मिलती है परंतु स्पष्टता नही है। इसका एक कारण शायद यह भी है कि वहाँ दी गयी बहुत सी कड़िया अब उपस्थित नही है। अगर इसका एक संक्षिप्त विवरण दे सके तो सहायक होगा। २) अरबी अंको को प्राथमिकता देने से क्या लाभ है और देवनागरी अंको को समाप्त करना क्यों आवश्यक है? क्या देवनागरी अंको से कोई हानि होती है? Capankajsmilyo (वार्ता) 11:34, 14 अक्टूबर 2017 (UTC)

आपकी बात पूर्णतः सहमत हूँ कि यह चर्चा देवनागरी अंकों के हिन्दी विकि पर उपयोग के बारे में है। इससे किसी ने विषयान्तर कर दिया तो उत्तर देना मुझे आवश्यक लगा। विषयान्तर करने में मैं भी सहयोगी बना, इसके लिए क्षमा चाहता हूँ। चर्चा को पटरी पर लाने के लिए आपका धन्यवाद।--अनुनाद सिंह (वार्ता) 03:55, 15 अक्टूबर 2017 (UTC)

presenting the project Wikipedia Cultural Diversity Observatory and asking for a vounteer in हिन्दी Wikipedia

Hello everyone,

My name is Marc Miquel and I am a researcher from Barcelona (Universitat Pompeu Fabra). While I was doing my PhD I studied whether an identity-based motivation could be important for editor participation and I analyzed content representing the editors' cultural context in 40 Wikipedia language editions. Few months later, I propose creating the Wikipedia Cultural Diversity Observatory in order to raise awareness on Wikipedia’s current state of cultural diversity, providing datasets, visualizations and statistics, and pointing out solutions to improve intercultural coverage.

I am presenting this project to a grant and I expect that the site becomes a useful tool to help communities create more multicultural encyclopaedias and bridge the content culture gap that exists across language editions (one particular type of systemic bias). For instance, this would help spreading cultural content local to हिन्दी Wikipedia into the rest of Wikipedia language editions, and viceversa, make हिन्दी Wikipedia much more multicultural. Here is the link of the project proposal: https://meta.wikimedia.org/wiki/Grants:Project/Wikipedia_Cultural_Diversity_Observatory_(WCDO)

I am searching for a volunteer in each language community: I still need one for the हिन्दी Wikipedia. If you feel like it, you can contact me at: marcmiquel *at* gmail.com I need a contact in your every community who can (1) check the quality of the cultural context article list I generate to be imported-exported to other language editions, (2) test the interface/data visualizations in their language, and (3) communicate the existance of the tool/site when ready to the language community and especially to those editors involved in projects which could use it or be aligned with it. Communicating it might not be a lot of work, but it will surely have a greater impact if done in native language! :). If you like the project, I'd ask you to endorse it in the page I provided. In any case, I will appreciate any feedback, comments,... Thanks in advance for your time! Best regards, --Marcmiquel (वार्ता) 21:49, 9 अक्टूबर 2017 (UTC) Universitat Pompeu Fabra, Barcelona

टूल

यह टूल उन पृष्ठों की सूची देता है जिन्हें सबसे ज़्यादा देखा जा रहा है। क्योंकि इनकी लोकप्रियता बाकी पृष्ठों से अधिक है तो इनके रखरखाव तथा सुधार की आवश्यकता भी बाकी पृष्ठों से अधिक हो जाती है। क्या इस विषय में चरणबद्ध एवं लक्ष्यकेन्द्रित पद्यति से कोई कार्य किया जा सकता है? Capankajsmilyo (वार्ता) 11:04, 10 अक्टूबर 2017 (UTC)

इन्हें सुधारने और विस्तार करने का कार्य तो किया जा सकता है, लेकिन जिन विषयों पर रुचि न हो, उस विषय से जुड़े लेखों का विस्तार और सुधार कठिन हो जाता है। सुधालेख वाली परियोजना से भी इस कारण कोई लाभ नहीं हुआ। -- (वार्ता) 12:44, 21 अक्टूबर 2017 (UTC)

मुझे कोई अनुमति चाहिए

मै दिन भर हिंदी विकिपीडिया में एडिट करता हूं और लेख भी लिखता हूं, क्या आप मुझे कोई अनुमति देंगे मै सही लेख लिखता हूं और सही संपादन करता हूं आप मुझे "बाट समूह", "स्वतःपरीक्षित सदस्य" , "रोलबैकर" , "पुनरीक्षक" या कुछ भी अनुमति दे दीजिए ताकि मै दिन भर हिंदी विकिपीडिया के देख रेख कर सकू इसकी वजह यह है कि बहुत से लोग गलत गलत संपादन करते है और मै दिन भर यही देखते रहता हूं मैंने दो लेख भी लिखा है मै अपने इस अनुमति का गलत उपयोग नहीं करूंगा जो हिंदी विकिपीडिया के खिलाफ हो।मुझे लगता है कि हिंदी विकिपीडिया इंग्लिश विकिपीडिया जैसे सुरक्षित नहीं है इसमें कोई भी कुछ कर देता है और इसका सुधार करने वाले बहुत कम अनुमति वाले है मुझे ये अनुमति मिल जाएगा तो मै दिन भर हिंदी विकिपीडिया में गलत संपादित करने वालो की सुधार करूंगा। धन्यवाद्। मेडफॉर्यूसंदेश छोड़े! 12:45, 10 अक्टूबर 2017 (UTC)

आपका खाता केवल कल ही बनाया गया है। कृपया और अनुभव पाएँ। वैसे भी ऐसे अधिकार नहीं दिया जाता है। कृपया अपने सकारात्मक योगदान जारी रखें। आपको खुद नामांकित किया जाएगा।--हिंदुस्थान वासी वार्ता 14:14, 10 अक्टूबर 2017 (UTC)
 : हिंदुस्थान वासी माननीय प्रबन्धक महोदय जी मैंने देखा कि शिवम कुमार श्रीवास्तव के नाम से तीन पृष्ठ बनाए गए है और सदस्य अपने नाम का प्रष्ठ बना रहा है और ये विकिपीडिया के नियम के आधीन है कृपया आप इसकी जांच करिए और मुझे कुछ आज्ञा दीजिए मैंने आवेदन पृष्ठ पर आवेदन किया है बाट का और पुनः रक्षित का तो मै ऐसे फाल्तू के पृष्ठ बनाने वालो को बता सकूं और हटाने के लिए नामांकन कर सकू मै दिन भर यही करता हूं विकिपीडिया में दिन बाहर चालू रहता हूं मेरा कोई काम नहीं है मेरा काम यही है कि मै हिंदी विकिपीडिया में ध्यान रख सकू और मैंने कुछ पृष्ठ बनाए हैं और कुछ संपादन किया है जो एक दम सत्य है भले मेरा खाता एक दिन पूराना है पर मुझे अनुभव बहुत है और मै विश्वास योग्य हूं आप मेरे ऊपर एक महीने के लिए भरोसा करिए और सिर्फ मुझे एक महीने के लिए कोई हक दीजिए बाट का चाहे पुनः रक्षित का मै अपना काम अच्छे से करूंगा और तारीफ के लायक काम करूंगा।धन्यवाद मध्य प्रदेशसंदेश छोड़े! 07:57, 13 अक्टूबर 2017 (UTC)

सहायता

  • माननीय प्रबंधक महोदय मैंने ये खाता बनाया है नया मुझे इसे अब हमेशा चलाना है मै अच्छे से संपादन करूंगा पहले मै सदस्य:MadeforU चलाता था पर मैंने अब नया खाता बनाया है जिसे मै अब हमेशा चलाऊंगा अगर मै अब कोई भी खाता बनाऊ तो आप उसे बंद कर सकते है मुझ पर एक बार भरोसा करिए मै अब कोई अन्य खाता नहीं बनूंगा कृपया मेरा खाता सुनक्षित करिए।
  • और मै किसी के भी द्वारा किए गए संपादन को "वापस नहीं कर पा रहा हूं(Reverted) क्या आप इसमें मेरी कोई मदद कर सकते है।नमनसंदेश छोड़े! 12:45, 10 अक 03:20, 11 अक्टूबर 2017 (UTC)
d इंडिया जी आप सब कुछ जानते हैं।--आर्यावर्त (वार्ता) 04:34, 11 अक्टूबर 2017 (UTC)
आपके परिचय पृष्ट से पता चलता है कि आप 'उन्नत हिन्दी' में योगदान कर सकते हैं। लेकिन लेखों को देखने से पता चलता है कि कम्प्यूटर द्वारा अनुवाद करके बनाये गये हैं और उनकी भाषा 'मशीनी' भाषा है। इसका क्या कारण है? अनुनाद सिंह (वार्ता) 05:45, 11 अक्टूबर 2017 (UTC)
  • @अनुनाद सिंह: जी, इसका कारण यह है कि कुछ लेख खुद लिख रहा हूं और जो समझ में नहीं आता उसे कम्प्यूटर द्वारा अनुवाद कर रहा हूं पर सब मैंने सही सही ही लेख लिखा है और मैंने भी देखा कि मैंने जो लेख लिखे है वो मशीनी भाषा लग रहे है, पर मै इस पर काम कर रहा हूं और सारे लेखों को सुधारने की कोशिश में लगा हूं जहा तक है मै दो से तीन दिन के अंदर सब सही कर दूंगा और जहां तक है कुछ दिनों में इंग्लिश विकिपीडिया में जितने लेख है उतने ही अपने हिंदी विकिपीडिया में भी होंगे और मै उसी कोशिश में लगा हूं। नमनसंदेश छोड़े! 12:45, 10 अक 08:12, 11 अक्टूबर 2017 (UTC)

मै लॉगिन कहे नहीं कर पा रहा हूं

माननीय प्रबन्धक महोदय जी, मै लॉगिन कहे नहीं कर पा रहा हूं लॉगिन करने पे मेरा खाता वैश्विक रूप से अवरुद्ध बता रहा है मुझे कारण बता सकते है? मैंने क्या गलती किया है मैंने अपने मेहनत से इतने सारे लेख लिखे है मैंने कोई गलती भी नहीं किया है तो क्यों लॉगिन नहीं कर पा रहा हूं । नमन मिश्रा — इस अहस्ताक्षरित संदेश के लेखक हैं -2405:204:e187:5295:e1e4:dd9b:d15a:6e35 (वार्तायोगदान) 17:41, 11 अक्टूबर 2017 (UTC)

ये हो क्या रहा है क्या कोई मुझे इसकी जानकारी देगा

क्या मेरी कोई मदद करेगा मुझे लेख लिखना है पर मेरा खाता नहीं खुल रहा है तो मैंने दूसरा खाता बनाया है और मेरा खाता क्यों नहीं खुल रहा मुझे इसकी जानकारी चाहिए मैंने कुछ गलती भी नहीं किया है मैंने अपना काम सिर्फ सही किया है और मै सच्चा हूं भरोसे के लायक हूं, कोई मुझे बताएगा की मेरा खाता क्यों नहीं खुल रहा है मेरा खाता है जो नहीं खुल रहा है MadeforU और नमन मिश्रा दोनों वैश्विक रूप से अवरुद्ध बता रहा है लॉगिन करने पर जबकि किसी ने अवरुद्ध नहीं किया है तो भी मै परेशान हूं, जब मैंने लॉगिन करके कुछ लेख और संपादन करता था तो अपने आप लॉग आउट हो जाता था और बताता था कि आप अंदर से लॉगिन कृपया फिर से रिलोड करिए और मेरे साथ कल से ये हो रहा था फिर जब मैंने रिलोड किया तो लॉगिन करने को बोला और मैंने जैसे ही लॉगिन किया फिर वो गलत पासवर्ड बताने लगा फिर पासवर्ड मैंने फॉरगेट किया और जैसे ही नया पासवर्ड डाला तो वाश्विक रूप से अवरुद्ध बताने लगा जबकि किसी ने मेरा खाता अवरुद्ध नहीं किया तो भी इसलिए मैंने फिर ये खाता बनाया है मुझे माफ़ करिए आखिरी बार "प्रबन्धक" महोदय मेरा खाता नहीं खुल रहा था इसलिए मैंने ये खाता बनाया इतना मुसीबत आप भी समझ सकते है मुझे माफ़ करिए अब मै कोई खाता नहीं बनाऊंगा। मैंने इतने सारे लेख लिखे है जो खाते नहीं खुल रहे है उनसे मुझे इसकी जानकारी दीजिए "माननीय प्रबन्धक महोदय जी"। धन्यवाद मध्य प्रदेशसंदेश छोड़े! 04:32, 12 अक्टूबर 2017 (UTC)

बॉट की आवश्यकता

हिंदी विकिपीडिया पर अनेक पृष्ठ है जहां उन चित्रो को अंकित किया गया है जो है ही नही। उदहारण के लिये अहोई अष्टमी को देखें। क्या इसके लिए एक बॉट का प्रबंध करना चाहिए? Capankajsmilyo (वार्ता) 05:17, 12 अक्टूबर 2017 (UTC)

जी मै आपकी बातों से सहमत हूं मैंने भी पहले यही कहा था कि हिंदी विकिपीडिया में बहुत से पृष्ठ ऐसे भी है जो है ही नहीं , इसमें कोई भी कितने समय ऐसा पृष्ठ बना देता है जिसको देखने वाला कोई नहीं है कि क्या ये सत्य है भी या नहीं, और मैंने ये भी देखा की हिंदी विकिपीडिया में जितने लेख है एक दम थोड़े थोड़े है और कोई बनाया भी है लेख पृष्ठ वो देखने से भी अच्छा नहीं दिखता , देखने भी से लगना चाहिए कि जितनी सुन्दर अपनी हिंदी मातृभाषा है उतने ही सुन्दर हिंदी विकिपीडिया के पृष्ठ हो मै ये चाहता हूं और अगर मुझे ये कार्यभार मिल जाता है तो मै 1महीने के अंदर हिंदी विकिपीडिया के जितने लेख है सबको सुधार कर डालूंगा, आप मुझे सिर्फ एक महीने के लिए बॉट और पुनरिक्षित का पद दे के देखिए मै कैसे हिंदी विकिपीडिया को सुन्दर और सहज बना देता हूं मुझ पर एक बार भरोसा कीजिए, और मैंने इस बात के लिए अपने आप को चुना है कि मै ये बाट का कार्यभार संभाल सकता हूं मै हिंदी विकिपीडिया में दिन भर देख रेख करते रहता हूं क्या मेरी बात से आप सहमत है। अगर सहमत है तो मुझे बाट का कार्य सौंपने का सहमत दे। धन्यवाद मध्य प्रदेशसंदेश छोड़े! 05:57, 12 अक्टूबर 2017 (UTC)

आंतरविकि उत्पात ?

Mahitgar (वार्ता) 13:52, 12 अक्टूबर 2017 (UTC)
इन्होंने जितने संपादन किए है उसे कृपया आप हटा दीजिए। मध्य प्रदेशसंदेश छोड़े!

मुझे आपकी मदद चाहिए

हिंदुस्थान वासी वार्ता माननीय प्रबन्धक महोदय जी मैंने कुछ आवेदन किया है कृपया आप आवेदन पृष्ठ को देखे मैंने बाट और कुछ अधिकार के लिए आवेदन किया है कृपया आप उसे देखिए और अपना विचार बताइए। मै देखता हूं कि हिंदी विकिपीडिया में ऐसे बहुत से सदस्य है जो फाल्तू लेख लिखे है और इधर उधर का संपादन करते रहते है और उनके संपादन को देखने वाले बहुत कम लोग है।क्योंकि सब अपने काम में लगे रहते है मै देखता हूं जितने यह अधिकार वाले सदस्य है अपना काम अच्छे से नहीं कर रहे है कृपया आवेदन पृष्ठ देखिए और मेरा आवेदन स्वीकार कीजिए मै दिन भर विकिपीडिया में देख रख करूंगा कृपया आप मुझे सिर्फ एक महीने के लिए ये अधिकार दे के देखिए मै प्रशंसनीय कार्य ही करूंगा। मध्य प्रदेशसंदेश छोड़े! 17:07, 12 अक्टूबर 2017 (UTC)

मुझे क्यों अवरुद्ध किया जा रहा है

मुझे क्यों अवरुद्ध किया जा रहा है मैंने इतने सारे लेख लिखे है जो के एकदम सही है मैंने विकिपीडिया के नियम के खिलाफ कोई भी काम नहीं किया है आप मुझे बताएं मेरा योगदान देख लीजिए मैंने कोई गलत कुछ किया हो तो फिर मुझे अवरुद्ध कीजिए। मध्य प्रदेशसंदेश छोड़े! 16:38, 13 अक्टूबर 2017 (UTC)

प्रबन्धक सूचनापट

ध्यान दें, विकिपीडिया:प्रबन्धक सूचनापट में एक नई चर्चा शुरू हुई है। कृपया अपनी राय दें।--हिंदुस्थान वासी वार्ता 16:50, 13 अक्टूबर 2017 (UTC)

नाम परिवर्तन

नमस्कार, मैं पिथौरागढ़ तहसील पर लेख बना रहा था, परन्तु भूलवश मुझसे उसका नाम पिथौरगढ़ तहसील हो गया। यह नाम अब ठीक कैसे हो सकता है? - वरुण (वार्ता) 09:46, 14 अक्टूबर 2017 (UTC)

YesY पूर्ण हुआ -- आपका प्रयास सराहनीय है, लेख बनाते रहें, हिन्दीविकि पर आपका स्वागत है। नाम ठीक कर दिया गया है -- सुयश द्विवेदी (वार्ता) 10:41, 14 अक्टूबर 2017 (UTC)
धन्यवाद सुयश जी। - वरुण (वार्ता) 10:44, 14 अक्टूबर 2017 (UTC)

खोज संयन्त्र

--मुज़म्मिलुद्दीन (वार्ता) 17:12, 15 अक्टूबर 2017 (UTC)

प्रोजेक्ट ग्रांट के जवाब

अनजाने में कुछ लोग समुदाय को गुमराह कर रहे हैं। अगर समीक्षा का समय अक्टूबर में शुरू होता हैं, और हमने चर्चा उसके एक महीने पहले ही शुरू कर दी - तो यह बात अच्छी है, आलोचना / समीक्षा के लिए ज्यादा समय मिलता है।

https://meta.wikimedia.org/wiki/Grants:IdeaLab/Hindi_Wikipedia_Outreach

अमेरिका में World Hindi Secreteriat , Hindi Raajbhaasha Department जैसी संस्थाओ के साथ साझेदारी - इसके ऊपर प्रतिक्रिया, आलोचना, सुझावों का स्वागत है

बिना बताये कुछ हुआ - यह आरोप बेबुनियाद है, बताने के लिए जो तिथि तय की गयी थी - उसके एक माह पहले ही चर्चा चौपाल पे शुरू हो गयी थी।

समीक्षा में दुनियाभर से लोग शामिल होते है, आप भी इसमें शामिल हो सकते है।


प्रस्ताव में बजट को आखरी समय मे जोड़ा गया, उस पर सही ढंग से चर्चा नहीं कि गयी, इसी लिए यह स्थिति उत्पन्न हुई है।

१) प्रस्ताव फाउंडेशन के पास भेजा जाता है 

२) फाउंडेशन उसकी पात्रता निकषों के आधार पर तय करती है

३) पात्र प्रकल्प समुदाय के सामने रखे जाते है

पात्रता के पहले चर्चा की जाए, और प्रकल्प पात्र ही ना हो - तो समुदाय का समय बरबाद होता है, इसी लिए समीक्षा पात्रता के बाद होती है। कुछ सदस्यों ने पात्रता के पहले ही चर्चा शुरू कर दी थी।

यह अनुदान बजट 10 रैपिड अनुदान के समतुल्य है, यदि मंजूरी दी गई है तो क्या इसका मतलब यह है कि अगले 10 या अधिक हिंदी समुदाय अनुदान रद्द कर दिया जाएगा?

(बहोत सारे लोगों को डर था की प्रोजेक्ट ग्रांट की बजह से बाकीके कार्यक्रम रद्द ना हो जाए)

प्रोजेक्ट ग्रांट प्राप्त करना रैपिड ग्रांट्स की संख्या को प्रभावित नहीं करती है, जिसके लिए एक समुदाय कभी भी आवेदन कर सकता है।कृपया ध्यान दें कि कोई भी व्यक्ति या समूह प्रोजेक्ट या रैपिड अनुदान के लिए आवेदन कर सकता है - उन्हें यूजर ग्रुप समूह के सदस्य होने की आवश्यकता नहीं है।

अनुदान देने के लिए मापदंड क्या हैं? अगर किसी व्यक्ति को कम गुणवत्ता वाले प्रोजेक्ट के लिए 100 ऐंडोर्समेंट/समर्थन मिलते हैं और अन्य कम गुणवत्ता वाले परियोजना के लिए केवल नगण्य समर्थन मिलता है, तो किस परियोजना का चयन किया जाएगा? यह वोटों पर आधारित है?

(बहोत सारे लोग इसे लोकतंत्र की तरह मानते मानते हैं।)

ग्रांट कैसे दी जाए ये वोटिंग तंत्र नहीं है और अनुदान के मूल्यांकन में छोटी भूमिका निभाता है।

अनुदान की समीक्षा करने के लिए कई चीज़ो पर विचार किया जाता हैं। ग्रांट किसे दी जाए यह एक एक गहन समीक्षा प्रक्रिया है, जिसमें कार्यक्रम अधिकारी, विकीमीडिया स्वयंसेवकों का दल 'अनुदान समीक्षा समिति' में शामिल होता है

अनुदान प्राप्त करने के लिए हिंदी समुदाय की अधिकतम सीमा क्या है?

(सामुदायिक सदस्य तदनुसार कार्यक्रमों का चयन करना चाहते हैं)

वर्तमान में एक समुदाय को प्राप्त अनुदान की संख्या पर कोई सीमा नहीं है।

विस्तार से जवाब : https://meta.wikimedia.org/wiki/Grants_talk:IdeaLab/Hindi_Wikipedia_Outreach#Community_questions_to_WMF

यह कार्यक्रम भारत में सस्ते में हो सकता है

यह कार्यक्रम भारत में नहीं किया जा सकता। विदेश से भारत में पैसे लाने के लिए भारत सरकार की अनुमति की ज़रुरत है और कोई भी भारतीय संस्था भारत के बाहर खर्चा नहीं कर सकती। CIS एवं विकिमीडिआ इंडिया चैप्टर कर्नाटका सोसाइटी एक्ट के अंतर्गत पंजीकृत है और नियमो के अनुसार वो संस्थाए भारत के बहार खर्चा नहीं कर सकती। न्यू यॉर्क में खर्चा करना है तो उधर के कानूनी मापदंडोके हिसाब से खर्चा किया जाता है।


१) समीक्षा / कम्युनिटी रिव्यु : यह प्रक्रिया जारी हैं और कोई भी इसमें टिपण्णी दे सकता है। नियमो के अनुसार समीक्षा समय के पहले ही इस विषय पर चर्चा शुरू की गयी थी।

२) आर्थिक / बजट : विकिमीडिआ फाउंडेशन की तरफ से आर्थिक विशेषज्ञ समिति इसकी जांच करती है, और उसी के ऊपर निर्णय लिए जाते हैं। ऐसेही मिठाई बाट रहे होते तो कोई भी हवाई जहाज भी मांग लेता। हमारे प्रोजेक्ट ग्रांट के लिए विशेषज्ञों से बातचीत हुयी थी, और १००% स्पॉन्सरशिप लेनेकी कोशिश अभी भी चल रही है। इसमें कोई हिंदी से कोई सुझाव दे सकता है तो बेहतर ही है। भारत में और अमेरिका के मानवाधिकार में बहोत अंतर है, न्यू यॉर्क में आपको उस राज्य के नियमो के हिसाब से ही खर्चा करना पड़ता है।

आप मुंबई के CST पे गाँव के हिसाब से चाय भी नहीं खरीद सकते, मुंबई सरकार ने जो कीमत तय की है - वही आपको भरनी पड़ती है।

३) हटा दो / निकाल दो / पीछे लो : इसके पीछे अगर कोई एक भी कारण देता है या उसपे तथ्यों के साथ टिपण्णी देता है - तो यह परियोजना अपने आप ही की प्रक्रिया से बाद होगी।

४) चर्चा : आप सिर्फ "हमें नहीं पूंछा" - इसी मुद्दे पे अड़े हैं, इसके आगे बढ़कर परियोजना पर भी टिपण्णी दे।

हिंदी विकिपीडिया सशक्त है, और समीक्षा / आलोचना हर साइड से होनी चाहिए।

मुझे बहोत ख़ुशी है की आप इसपर टिपण्णी दे रहे हैं, पर आप पिछले १५ दिन से एक ही मुद्दा बार बार लिख रहे है, आपको बुरा लगा / आपके साथ धोका हुआ ऐसे आपको लगा - यह चीज़ १० से ज्यादा बार लिखी गयी है (इसमें थोड़ा भी तथ्य रहेगा तो परियोजना अपने आप बाद की जायेगी।)

परियोजना में क्या कमी है, यही काम कानूनी तरीकेसे कम पैसो में कैसे किया जाए इसपर भी चर्चा करे।

क्या आपको लगता है की दुनिया भर के हिंदीवासियो तक हमारा हिंदी विकिपीडिया पोहोंचना चाहिए? इसके लिए सरकार ने हात बढ़ाया है, इसका हम समुदाय समृद्धि के लिए फायदा होगा ? -- AbhiSuryawanshi (वार्ता) 08:47, 17 अक्टूबर 2017 (UTC)

@AbhiSuryawanshi: आपने ऊपर जो भी लिखा है और हिन्दी विकिपीडिया के नाम पे या हिन्दी विकिपीडिया के लिए भारतीय मूल्य में 28 लाख की ग्रांट का प्रस्ताव ड़ाल दिया है और अब केवल समुदाय को समीक्षा करने के लिए कर रहे हैं ये स्थिति में केवल यहीं प्रतीत होता है कि ये प्रस्ताव हिन्दी विकिपीडिया समुदाय का नहीं किन्तु आपका व्यक्तिगत है। व्यक्तिगत है और आप अपने हिसाब से ही करना चाहते हैं तो आप जानिए और फाउंडेशन जाने। हमने हमारा काम कर दिया है। आपको समझ में न आया हो तो अभी भी मैं स्पष्ट रूप से बताना चाहूँगा कि ये कार्य करना है या नहीं करना है ये समुदाय को तय करने का अधिकार है, क्योंकि जो भी है समुदाय के लिए है। इसलिए समुदाय तय करे उसके बाद ही हम किसी ग्रांट के लिए प्रस्ताव डालते हैं और इसी संदर्भ में इस प्रस्ताव के विषय में समुदाय अनभिज्ञ था। समुदाय ने ये कार्यक्रम करने का आयोजन नहीं किया है और करने के लिए हम तैयार भी नहीं है। अब ये पहले प्रस्ताव डालकर समुदाय की समीक्षा के नाम से ग्रांट किसी भी हाल में लेनी ही है तो हम तैयार नहीं है। आपकी शरतों पे समुदाय नहीं चलेगा। समुदाय ने ऐसा कोई कार्यक्रम न्यू यॉर्क में करना नहीं चाहा और ये स्थिति में ग्रांट का प्रस्ताव भी सबमिट हो गया! समुदाय का मौन और कुछ सदस्यो के द्वारा स्पष्ट विरोध के बाद भी प्रस्ताव वापस नहीं लिया गया। इन सब से यहीं प्रतीत होता है कि समुदाय के नाम से ग्रांट ली जा रही है और समुदाय को साथ नहीं रखा या तो समुदाय के सहमति हो न हो ये ग्रांट आपको लेनी ही है।

सब से पहला तो सवाल ही यहीं है कि जब हमने (समुदाय ने) ऐसा कोई कार्यक्रम न्यू यॉर्क में करना है और इसके लिए 28 लाख तक का खर्च करना है ऐसा निर्धारित ही नहीं किया तो आगे की समीक्षा क्यों करें? ऐसा कार्यक्रम करने की आम सहमति ही नहीं बनी थी फिर भी ये आ गया और समुदाय का उपयोग किया जा रहा है। स्पष्ट ही है कि ये कार्यक्रम करना आप चाहते है किन्तु क्या समुदाय चाहता था?--आर्यावर्त (वार्ता) 06:49, 18 अक्टूबर 2017 (UTC)

अभी भी स्पष्ट कर दूँ कि ऐसा कोई कार्यक्रम करने का हमने कोई आयोजन ही नहीं किया था फिर भी ग्रांट प्रस्ताव सबमिट हो गया तब तक हमें या तो समुदाय को पता नहीं था, न तो हम अभी ऐसा कोई कार्यक्रम करना चाहते हैं फिर भी ग्रांट प्रस्ताव वापस नहीं लिया जा रहा। जहाँ तक समीक्षा के नियमो की बात है जब हम ऐसे कोई कार्यक्रम का आयोजन करेंगे तो समीक्षा करेंगे ना। जैसे ग्रांट प्रस्ताव सबमिट हो गया वैसे भी ग्रांट भी पास हो जाये ये सब कुछ समझ से परे है। समस्या ये है कि ये सब समुदाय के नाम पे हो रहा है! समुदाय का कोई मूल्य होता तो समुदाय के द्वारा तय किए बिना ग्रांट प्रस्ताव आता ही नहीं।आर्यावर्त (वार्ता) 07:10, 18 अक्टूबर 2017 (UTC)
आपको समझ में न आया हो तो अभी भी मैं स्पष्ट रूप से बताना चाहूँगा कि ये कार्य करना है या नहीं करना है ये समुदाय को तय करने का अधिकार है इसलिए समुदाय तय करे उसके बाद ही हम किसी ग्रांट के लिए प्रस्ताव डालते हैं और इसी संदर्भ में इस प्रस्ताव के विषय में समुदाय अनभिज्ञ था।
प्रस्ताव डालने के समुदाय के अधिकार -मैं इसके बारे में पढ़ना चाहता हूँ। ऐसे कहा पे लिखा है? निति की लिंक / कड़ी मिलेगी?
समुदाय का मौन और कुछ सदस्यो के द्वारा स्पष्ट विरोध के बाद भी प्रस्ताव वापस नहीं लिया गया।
आपका वैयक्तिक विरोध मैं समझ सकता हु, कृपया अपने आप को समुदाय की आवाज के रूप में प्रस्तुत करने से रोकें।
प्रस्ताव वापस लेने के मापदंड - इसकी कड़ी मिलेगी?
-- AbhiSuryawanshi (वार्ता) 09:00, 18 अक्टूबर 2017 (UTC)
@आर्यावर्त: जी नमस्कार, जैसा कि अभी तक इस सम्मेलन के बारे में यहाँ चर्चा में पाया जा रहा है कि आप और जयप्रकाश जी के अलावा कोई अन्य सदस्य विरोध नहीं कर रहा है और जो भी बाकी कोई सदस्य टिप्पणी कर रहे है वो यही समझाने की कोशिश कर रहे है कि इस मशले को सही किया जाए लेकिन आप तो बिलकुल समझने की कोशिश तक नहीं कर रहे है। हिन्दी विकिपीडिया पर जिस प्रकार आपको प्यार है वह @AbhiSuryawanshi: जी को नहीं हो सकता है क्या ? यह कहाँ पर लिखा गया है कि जो विकिपीडियन सम्पादन करेगा वह ही सम्मेलन इत्यादि करवाएगा ? साथ ही आपको क्या पता की समुदाय यह सम्मेलन नहीं चाहता , आप खुद को यानी (अकेले) को समुदाय बनने से रोकें क्योंकि यहाँ बाकी सदस्य भी है तो उनको भी अपने विचार खुद को रखने दें ,केवल आप ही नहीं जो यह कह दें कि हमें यह सम्मेलन नहीं करवाना है। या फिर आपको हिन्दी विकिपीडिया पर कोई विशेष अधिकार दिए गए है, अगर हाँ तो कृपया बताएं।
@आर्यावर्त: जी रही बात पैसों की तो कुछ दिन पहले दिल्ली वाले सम्मेलन के सिलसिले में यह भी पूछा गया था कि इस न्यूयॉर्क वाले सम्मेलन से आगे हिन्दी विकिपीडिया पर कोई प्रभाव पड़ेगा, तो फाउंडेशन ने यही बोला है कि इससे कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। अब रही बात दान कर्ताओं के धन की तो बार - बार यही सोचने से तो अच्छा यह है कि हम कोई सम्मेलन इत्यादि करवाना ही छोड़ दें। लेकिन एक बार सोचिये अगर हम लोग ये पैसे फ़ालतू में ही बहाते तो क्या फाउंडेशन की आँखे नहीं है क्या क्योंकि देने वाले तो वो ही है ना। फॉउंडेशन तैयार है कि आप कुछ सम्मेलन, कार्यशाला एवं शिक्षा कार्यक्रम करो तो हमें क्या दिक्कत। अगर यही पैसे हम हिन्दी पर खर्च नहीं करेंगे तो कोई अन्य समुदाय करेगा। धन्यवाद --राजू जांगिड़ (वार्ता) 17:33, 18 अक्टूबर 2017 (UTC)
@राजू जांगिड़ और AbhiSuryawanshi: जी, आप दो लोग समर्थन कर रहे हैं इसका मतलब ये नहीं कि पूरा हिन्दी विकि समुदाय इसका समर्थन कर रहा हैं। आपका तो अभि जी के साथ ग्रान्ट प्रस्ताव का व्यवहार है, देखा जाता है कि आप अभी 19 साल के ही है और आपने 2018 के विकि सम्मेलन की ग्रान्ट का प्रस्ताव रखा है जिसका संचालन अभि जी कर रहे हैं। मैं समुदाय नहीं हूँ किन्तु मुझे भी भगवान ने आंखे, नाक, कान, बुद्धि दी है। ग्रान्ट के रिव्यू का समय 18 अक्टूबर तक था और इस दौरान अभि जी के इस ग्रान्ट प्रस्ताव में इंडोर्समेंट विभाग में समर्थन करने वाले आप (राजू जी) ही अकेले सक्रिय हिन्दी विकिपीडियन हैं। दूसरे सब हिन्दी विकि समुदाय से नहीं है। विरोध में मैं, जय जय, स जी हैं जो पुनरीक्षक हैं। सुयश जी ने अपना समर्थन वापस ले लिया है। अतः ये स्पष्ट ही है कि हिन्दी विकि समुदाय का विरोध हैं और कोई तटस्थ व्यक्ति समर्थन नहीं कर रहा हैं। अतः आप से अनुरोध है कि इसे मेरी व्यक्तिगत राय बताकर समुदाय को गुमराह करने का प्रयत्न न करें।--आर्यावर्त (वार्ता) 06:14, 24 अक्टूबर 2017 (UTC)
@राजू जांगिड़, AbhiSuryawanshi, और आर्यावर्त:: आर्यावर्त जी, १९ साल की उम्र में राजू जी पर बिज़नेस स्टैंडर्ड जैसे राष्ट्रीय अखबार में पूरा लेख छप चुका है, अतः ऐसे अनाप शनाप तर्क न दें तो बेहतर होगा। वार्ता को तर्कों तक सीमित रखें, भावनाओं को बीच में न लाएँ। जब भोपाल टीम ने ग्रांट का आवेदन किया था तो उन्हें भी कोई अनुभव नहीं था। यहाँ सभी इस मामले में नौसिखिये हैं, अतः राजू जी के अतिरिक्त कोई और भी आगे आएगा तो आप आरोप लगाएँगे ही। अभिषेक जी ने जब ग्राण्ट का आवेदन किया था तो कई सवाल उठे थे, उन्होंने माफी भी मांगी और स्पष्टीकरण भी दिए। जैसा कहा गया वैसे सुधार भी किए, लेकिन आप अभी तक प्रारंभ की बातों पर ही अड़े हुए हैं। शायद आपने जो शब्दों का प्रयोग किया उन्हें वापिस लेना आपको भारी पड़ रहा है। यही होता है जब तर्कों के स्थान पर भावनाओं को मौका दिया जाता है तो। कृपया शांति से काम लें। अगर आपका विरोध है तो भी इसे अपने तक ही सीमित रखें, समुदाय का नाम न दें। आपके आँख कान हैं तो बाकी सब के भी हैं। जिसे बोलना हो स्वयं आगे आए और लिखे। सामान्यतः विधि में चुप्पी को स्वीकृति ही माना जाता है। जिन जिन बातों पर मेरा विरोध या शंका थी, उसे मैंने व्यक्त कर दिया है। आप लोगों के विचार के अनुसार यूज़रग्रुप का नाम ग्रांट में से हटाने को कह दिया गया है। अब यह ग्रांट अभिषेक जी की व्यक्तिगत ग्रांट है। इसके व अन्य शंकाओं के समाधान के बाद मैंने अपना समर्थन व्यक्त कर दिया है। आप अपने विवेक के अनुसार जो उचित समझें वह करें किंतु ध्यान रखें कि शब्द व भाषा का चयन इस प्रकार करें कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के सामने हिंदी समुदाय की मिट्टी पलीत न हो। --अनामदास 08:32, 24 अक्टूबर 2017 (UTC)
@आर्यावर्त: जी समुदाय की आवाज तो आप बन रहे है, मैंने तो यही कहा है कि आपको अगर इस सम्मेलन से कोई परेशानी है तो यह आपका विचार है न कि पूरे समुदाय का ,लेकिन आप तो अभी भी अपनी बातों में अड़े हुए है। मैं यह नहीं कह रहा हूँ कि पूरे समुदाय को इस सम्मेलन के लिए समर्थन है बल्कि मेरा इसमें पूरा समर्थन है। जिन लोगों को सही लगेगा वो समर्थन कर देंगे जिनको गलत लगेगा वो विरोध। कृपया सभी को अपने विचार खुद रखने दें, इसका मतलब यह नहीं है कि हम लोगों के अलावा कोई नहीं लिखे तो आप सभी के विचार रख दें।--राजू जांगिड़ (वार्ता) 18:54, 24 अक्टूबर 2017 (UTC)

नन्दा देवी मेला, अलमोड़ा

कुमाऊनी भाषा

शुभ दीपावली

शुभ दीपावली। समस्त विकिपीडिया परिवार को दीपावली की ढेरों शुभकामनाएँ। दीपावली के इस पावन अवसर पर ईश्वर आपकी सभी मनोकामनाएँ पूरी करें, आपका जीवन दीपावली के दीपों के समान जगमग रहे। धन्यवाद।

शिव कुमार बटालवी

--मुज़म्मिलुद्दीन (वार्ता) 13:45, 19 अक्टूबर 2017 (UTC)

हिन्दी विकिस्रोत की आवश्यकता

बहुत विचित्र है कि अभी तक हिन्दी विकिस्रोत का अस्तित्व नहीं है जबकि बंगला, संस्कृत, तमिल, मराठी आदि के विकिस्रोत बन चुके हैं। हिन्दी विकिस्रोत पहले की अपेक्षा अब अधिक आवश्यक हो गया है। इसका प्रमुख कारण विकिस्रोत की सेवा में अब गूगल ओ सी आर का आ गया है। हिन्दी में हजारों/लाखों पुस्तकें गूगल बुक्स और अन्यत्र उपलब्ध हैं। उनमें से बहुत सारी पुस्तकें कॉपीराइट मुक्त भी हो गयीं हैं। अतः इस ओ सी आर उपकरण के द्वारा इन्हें सरलता से यूनिकोड में बदला जा सकता है। साधारण से साधारण व्यक्ति भी इस काम को कर लेगा। अतः इस प्रौद्योगिकी विकास को ध्यान में रखते हुए हमें हिन्दी विकिस्रोत बनाने का प्रयास करना चाहिये। -- अनुनाद सिंह (वार्ता) 05:58, 20 अक्टूबर 2017 (UTC)

आप बिलकुल ठीक कहते हैं। इस बारे में चर्चा २०१३ से चल रही है जो आप और अन्य सदस्य यहाँ देख सकते हैं। आशा है कि एक दिन हम हिन्दी विकिस्रोत अवश्य प्राप्त कर पाएँगे। --मुज़म्मिलुद्दीन (वार्ता) 14:36, 20 अक्टूबर 2017 (UTC)
मुज़म्मिलुद्दीन जी, इस बारे में चर्चा 2008 से चल रही है। -- (वार्ता) 12:26, 21 अक्टूबर 2017 (UTC)

अनुनाद सिंह जी, जो पुस्तक पहले ही पीडीएफ़ आदि में उपलब्ध है, उसे रोबोट की तरह विकि में लिखने का क्या लाभ होगा? जिसे जरूरत होगी, वो तो पीडीएफ़ से ही पढ़ लेगा। वैसे ये कार्य बोट द्वारा भी आसानी से हो सकता है, लेकिन पुस्तकों की हमेशा से कमी ही रही है। आधे से अधिक पुस्तक कॉपीराइट वाले हैं। और जो कॉपीराइट मुक्त हैं भी तो उसे देखने से इतनी गलती और ढेर सारे अंग्रेजी शब्द ही मिलते हैं। इस कारण हिन्दी के लिए विकिस्रोत का कोई खास लाभ नहीं होगा, बल्कि हमें विकिपीडिया पर ही अधिक ध्यान देना चाहिए। -- (वार्ता) 12:26, 21 अक्टूबर 2017 (UTC)

स महोदय, हिन्दी विकिस्रोत से कितना लाभ होगा, आप की कल्पना शक्ति के बाहर है। आजकल कुछ ढूढ़ना होता है तो कोई पुस्तकालय नहीं जाता, अन्तरजाल पर कुछ मिनटों/सेकेण्डों में पा जाता है। इसके लिये सामग्री 'मशीन-पठनीय' रूप में होनी चाहिये। यूनिकोड के पदार्पण से मशीन पठनीयता में क्रान्ति आ गयी है। वैसे तो पीडीएफ और इमेज आदि भी कुछ सीमा तक मशीन-पठनीय हो चुके हैं, किन्तु यूनिकोड से इनकी कोई तुलना नहीं है। आप सही कह रहे हैं- बाट द्वारा 'ओसीआर' सबसे दक्षतापूर्वक हो सकेगा। किन्तु ओसीआर में हुई त्रुटियाँ एक व्यक्ति ही ठीक कर पायेगा। हाँ इसके लिये बहुत पढ़ा लिखा विद्वान नहीं चाहिए। यदि 'आधी' पुस्तकें कॉपीराइट-मुक्त हैं तो इनकी संख्या का अनुमान लगाने का प्रयत्न कीजिए। लाखों में नहीं तो हजारों में होंगी। मैं तो सोचता हूँ कि हिन्दी की १०० पुस्तकें भी यूनिकोडित होकर अन्तरजाल पर आ जाँय तो एक 'महान' कार्य हो जायेगा। जहाँ तक हिन्दी में अंग्रेजी के शब्दों के मिश्रित होने की 'समस्या' है, यह कोई समस्या नहीं रह गयी है। गूगल ओसीआर इतना उन्नत हो चुका है कि बीच-बीच में अंग्रेजी के शब्द आयें तो उसे पहचानने में कोई समस्या नहीं होती। अन्त में, हिन्दी विकिपीडिया महत्वपूर्ण है, किन्तु उसके द्वारा हिन्दी विकिस्रोत की कमी की पूर्ति नहीं हो पायेगी। इसका अपना महत्व है। बहुत से लोग विकिपीडिया पर कहीं से सामग्री कॉपी-पेस्ट करने का प्रयत्न करते हैं जिसे हम रोकने की कोशिश करते हैं। लेकिन कितनी अच्छी बात है कि विकिस्रोत पर इसी को प्रोत्साहित किया जा रहा है।-- अनुनाद सिंह (वार्ता) 06:22, 22 अक्टूबर 2017 (UTC)
हिन्दी विकिस्रोत हेतु समय-समय पर प्रयास किये जा रहे है --सुयश द्विवेदी (वार्ता) 17:40, 22 अक्टूबर 2017 (UTC)

अनुनाद सिंह जी, विकिस्रोत से कितना लाभ होगा और कितना हानि, इस बारे में मैं अच्छी तरह जानता हूँ। गूगल ओसीआर से लगभग 99% सही पाठ प्राप्त किया जा सकता है। कुछ छोटी छोटी गलती होती है। मैंने विकिस्रोत में हिन्दी पुस्तकों में गूगल ओसीआर कुछ साल पहले उपयोग किया था। लेकिन उसमें एक पन्ने में कुछ छोटे छोटे गलतियों को ठीक करने में इतना समय लग जाता है कि उससे आप विकि में पूरा एक अच्छा लेख बना सकते हो। क्योंकि उसमें प्रारूप भी उसी तरह रखना होता है। इस कारण साँचे भी ढूँढने होते हैं। उसमें देख कर सही साँचा लगाने में और अन्य कार्यों में बहुत समय लग जाता है।

मैं बिना कॉपीराइट वाली अच्छी हिन्दी पुस्तक ढूंढ ढूंढ कर थक चुका हूँ, यदि आपके पास सौ अच्छी हिन्दी पुस्तकों के नाम भी हों तो कृपया बता दें। ढूँढने से कभी कभी कुछ अच्छी हिन्दी पुस्तकें भी मिलती है, लेकिन वो सब कॉपीराइट वाली ही होती हैं। जो कॉपीराइट मुक्त हिन्दी पुस्तक मिलती है, उसे ज़्यादातर किसी अंग्रेज ने लिखा होता है या किसी न किसी कारण अच्छी नहीं होती है। जैसे, अंग्रेजों या उनसे प्रेरित लेखकों के पुस्तकों में कई सारे पन्ने अंग्रेजी में होते हैं। यदि वाक्य में बीच में गलती से एक दो अंग्रेजी में लिखा शब्द आ भी जाये तो कोई समस्या नहीं होती है, पर पूरा दो तीन पन्ना अंग्रेजी में रहे तो अच्छा नहीं लगता है।

शायद आपको पता होगा कि क्राविवि वालों का विकिपीडिया के अलावा विकिस्रोत दूसरा ठिकाना है। उनके योगदानों से तो आप अवश्य ही परिचित होंगे। वे लोग विकिस्रोत में भी कचरा भरने का कार्य कर रहे थे। यदि विकिस्रोत बन गया तो उसके देखरेख हेतु कोई न कोई होना चाहिए। यदि आपके पास सप्ताह में एक दिन भी इसे देखने हेतु समय हो तो इसे जरूर निर्मित करें।

यदि आपको सौ अच्छी हिन्दी पुस्तकें मिल गई तो इस प्रकल्प को बनाना बहुत अच्छा रहेगा, और यदि नहीं मिली तो मान लें कि हिन्दी के लिए विकिस्रोत सही नहीं है।-- (वार्ता) 09:59, 24 अक्टूबर 2017 (UTC)

स महोदय, आपने अपने नए सन्देश में पूरी बात ही बदल दी। पहले कहा था कि 'आधी' पुस्तकें कॉपीराइट मुक्त हैं, अब मुझसे १०० कापीराइटमुक्त पुस्तकों के नाम पूछ रहे हैं। कहाँ-कहाँ देखा? डिजिटल लाइब्रेरी ऑफ़ इण्डिया पर देखा क्या? गूगल बुक्स पर? इन्टरनेट आर्काइव पर? (https://archive.org/search.php?query=Hindi&page=2 देखिये)।
अब आपकी दूसरी बात पर। विकिपीडिया का कोई भी प्रकल्प इस विश्वास पर आधारित है कि 'जनता या भीड़ भी मिलकर ज्ञान का सृजन-प्रबन्धन कर सकती है। मेरे पास यदि वहाँ जाने का समय नहीं मिला तो भी ये चलेगा।
आपकी तीसरी बात पर। हिन्दी की १०० कॉपीराइट-मुक्त पुस्तकें मिलने में कोई समस्या नहीं होनी चाहिये। किन्तु आरम्भ १०० से नहीं होता, आरम्भ तो १ से होता है। क्या आपको १ पुस्तक भी नहीं मिल रही है? वैज्ञानिक एवं तकनीकी शब्दावली आयोग की साइट पर कई उपयोगी पुस्तकें इमेज रूप में पा सकते हैं। उनका ही यूनिकोडीकरण करके हिन्दी विकिस्रोत पर डाल दीजिये। सरस्वती पत्रिका के कुछ संस्करण नेट पर पड़े होंगे, उनका यूनिकोडीकरण करके डाल सकते हैं। --अनुनाद सिंह
अनुनाद सिंह जी, थोड़ा ध्यान से पढ़ें, मैंने वहाँ लिखा था कि "आधे से अधिक पुस्तक कॉपीराइट वाले हैं।"
शुरू में तो कोई नहीं आएगा, सभी नए सदस्य धीरे धीरे आना शुरू करेंगे, पर हर सदस्य अच्छा ही योगदान नहीं करेगा, कुछ लोग परीक्षण करेंगे तो कुछ लोग प्रचार भी करेंगे। जैसा अन्य प्रकल्पों पर हो रहा है।
यदि सौ अच्छी कॉपीराइट मुक्त हिन्दी पुस्तकें ढूंढने में कोई समस्या न हो तो कृपया ढूंढ कर अपलोड कर दें। यदि अपलोड करने में समस्या हो तो बस नाम ही चलेगा, मैं ही उसे अपलोड कर दूंगा। चाहें तो बाद में एक एक कर के ही उसे पूरा कर लेंगे। वैसे कई सारे पुस्तक पहले से विकिस्रोत में हैं। गूगल में काफी समय तक खोजने पर मुझे एक ही ढंग का पुस्तक मिला था, जिसे मैंने अपलोड भी कर दिया था। मैं सोच रहा था कि हिन्दी व्याकरण पर कोई पुस्तक अपलोड कर दूँ, लेकिन वहाँ सारे अंग्रेज लेखकों के ही पुस्तक कॉपीराइट मुक्त थे और जो अच्छे हिन्दी पुस्तक थे, जिसे भारत के लोगों ने लिखा था, वो सभी कॉपीराइट वाले थे। पढ़ाई से जुड़े कॉपीराइट मुक्त पुस्तकें तो मिल ही नहीं रही थी। शायद आपको मिल जाए।-- (वार्ता) 19:32, 27 अक्टूबर 2017 (UTC)
स महोदय, "आधे से अधिक पुस्तक कॉपीराइट वाले हैं।" - यदि मैं इसका अर्थ निकालूँ कि "लगभग आधी पुस्तकें कापीराइट-मुक्त हैं" तो इसमें क्या दोष है? पता नहीं कि आप किस विषय पर चर्चा कर रहे हैं? विकिस्रोत के महत्व और उसकी आवश्यकता से आप सहमत हैं या अभी भी नहीं हैं। मैं १०० पुस्तकों का नाम भी दे दूँ तो फिर आप पूछेंगे कि आप कैसे कहते हैं कि ये अच्छी पुस्तकें हैं? मुझे क्या पता कि आप किसे उपयोगी/अच्छी मानते हैं? उदाहरण के लिये ऊपर आपने विदेशी लेखकों की पुस्तकों का उल्लेख किया है। मैं तो ऐतिहासिक दृष्टि से उन्हें भी महत्वपूर्ण मानता हूँ। इन्टरनेट आर्काइव पर आपको कितनी मुक्त पुस्तकें मिलीं? गूगल पुस्तकें देखीं क्या? नहीं देखी तो यहाँ कुछ पुस्तकें देख लीजिये- ( ,  ; , )
-- अनुनाद सिंह (वार्ता) 11:43, 28 अक्टूबर 2017 (UTC)
अनुनाद सिंह जी, "आधे से अधिक पुस्तक कॉपीराइट वाले हैं।" का अर्थ यही है कि पचास से सौ प्रतिशत के मध्य कोई भी संख्या हो सकती है, जो कॉपीराइट के अंतर्गत आ रही है। मैंने गूगल पुस्तकें, archive.org आदि कुछ जगहों पर ढूंढ चुका हूँ। पर आधे से अधिक पुस्तकें कॉपीराइट के अंतर्गत ही आ रही हैं। अच्छी पुस्तकों में मैं ऐसी पुस्तकों के बारे में बोल रहा हूँ, जिसमें ढेर सारे अंग्रेजी शब्द मौजूद न हों। लेकिन अंग्रेजों द्वारा लिखे गए पुस्तकों में बहुत सारे अंग्रेजी शब्द होते हैं और उतना ही नहीं, कई में तो मुझे एक एक पन्ना भर कर अंग्रेजी लिखा हुआ दिखा। यदि आप पुस्तक देखेंगे तो आपको स्वयं ही पता चल जाएगा कि कौनसा पुस्तक अच्छा है और कौनसा नहीं। -- (वार्ता) 17:49, 28 अक्टूबर 2017 (UTC)
स महोदय, " 'आधे से अधिक पुस्तक कॉपीराइट वाले हैं।'- का अर्थ यही है कि पचास से सौ प्रतिशत के मध्य कोई भी संख्या हो सकती है" -- यह तो विचित्र गणित है। यह ऐसे ही है जैसे कोई कहे कि दिल्ली और कोलकाता के बीच की दूरी १ किमी से अधिक है। तकनीकी तौर पर इसमें कोई गलती नहीं है!!
अब 'अच्छी पुस्तकों' के बारे में। मैं नहीं मानता कि किसी पुस्तक में कुछ पेज पूरे-के-पूरे अंग्रेजी में हों तो वह अच्छी नहीं है। बहुत सी स्थितियों में ऐसा करना जरूरी होता है। उदाहरण के लिये किसी दूसरे के विचार को बिना अनुवाद किये मूल रूप में लिख देना। --अनुनाद सिंह (वार्ता) 05:14, 29 अक्टूबर 2017 (UTC)
अनुनाद सिंह जी, मेरे पास कुल हिन्दी पुस्तकों की संख्या नहीं है, होने से थोड़ा अच्छी तरह से संख्या बता पाता। भारत के कॉपीराइट नीति के कारण हिन्दी में बहुत कम ही पुस्तकें कॉपीराइट मुक्त होंगे।
कुछ जगहों पर तो मूल शब्द या वाक्य को लिखना जरूरी होता है, लेकिन अकारण कई जगह अंग्रेजी में लिखा हो तो अच्छी नहीं लगेंगी। वैसे आप अपने हिसाब से पुस्तकें चुन लें, जो भी आपको ठीक लगे उसे अपलोड कर दें। यदि आप कम अंग्रेजी शब्दों का उपयोग करने वाले पुस्तकों को प्राथमिकता देंगे तो मुझे अच्छा लगेगा। किसी प्रतियोगिता के आयोजन हेतु भी उन सौ पुस्तकों का हम उपयोग कर सकते हैं। -- (वार्ता) 10:19, 30 अक्टूबर 2017 (UTC)
मुझे अभी तक समझ नहीं आया कि एक ही नाव में सवार एक ही गंतव्य को जा रहे लोग आपस में झगड़ कैसे लेते हैं। मुझे विश्वास है कि यह ज्ञानियों की लड़ाई है (ज्ञानी ज्ञानी जब लड़ें करें ज्ञान की बात, मूरख मूरख जब लड़ें, दे मुक्का दे लात), अतः जल्दी समाप्त हो जाएगी। फिलहाल बीच में टाँग अड़ाने की अनुमति चाहता हूँ। भारतीय कॉपीराइट नियमों के अनुसार लेखक की मृत्यु के कुछ निश्चित वर्ष बाद सामग्री कॉपीराइट से मुक्त हो जाती है, लगभग सभी महान लेखकों की रचनाएँ इस श्रेणी के अंतर्गत उपलब्ध होंगीं। कृपया जाँच लें। --अनामदास 04:19, 31 अक्टूबर 2017 (UTC)

मावतिनि के बारे में एक नई चर्चा

--SM7--बातचीत-- 11:29, 21 अक्टूबर 2017 (UTC)

हिंदी समूह समाचार पत्र

मेरी यह निजी राय है कि समूह को अपना एक समाचार पत्र प्रकाशित करना चाहिए| यह हम हर महीने या फिर हर तीसरे महीने प्रकाशित कर सकते है| इस पत्र में हिंदी विकी की सारी जानकारी हो गी प्रतियोगिता से ले कर मिनट्स ऑफ़ मीटिंग| ऐसा कई अंतरराष्ट्रीय समूह करते है और भारत में विकिमीडिया इंडिया और CIS भी| सारी जानकारी लिंक समेत रहती है और सभी सदस्य सारी जानकारी के लिए एक जगह पर जा सकते है| मुझे लगता है बहुत सारी बातें समुदाय से साँझा करना रह जाता है| इसके अतिरिक्त यूजर ग्रुप की रिपोर्टिंग की तरह भी यह पत्रिका काम करती है तो बाद में भार कम भी होता है| उदाहरण में यह देखे| --Abhinav619 (वार्ता) 07:52, 26 अक्टूबर 2017 (UTC)

तरनोपिल स्टेट मेडिकल यूनिवर्सिटी इ.या. होरबा‍‍चेवस्की के नाम पर है।

विकिपीडिया एशियाई माह 2017

विकिपीडिया एशियाई माह 2017 एक ऑनलाइन एडिट-ए-थान कार्यक्रम है जिसका उद्देश्य एशियाई विकिपीडिया समुदायों के बीच बेहतर सामंजस्य बढ़ाना है यह कार्यक्रम पूरे नवंबर माह सन् २०१७ को चलेगा हिंदी विकिपीडिया पर एशियाई माह का यह कार्यक्रम का उद्देश्य अधिक से अधिक संख्या में तथा उच्च गुणवत्ता के लेखों का निर्माण करना है जोकि आपके देश के अलावा अन्य एशियाई देशों पर हो। -सुयश द्विवेदी (वार्ता) 20:25, 31 अक्टूबर 2017 (UTC)

@संजीव जी, अनिरुद्ध जी, माला जी, सिद्धार्थ जी, हिंदुस्तानवासी जी, अजीत जी, और प्रॉन्स जी:कृपया प्रतियोगिता के प्रचार हेतु साईट-नोटिस लगा देवें -- सुयश द्विवेदी (वार्ता) 13:59, 2 नवम्बर 2017 (UTC)

कातालोनिया का नाम कैटलोनिया करने के सम्बन्ध में

--प्रतीक मालवीय 08:52, 3 नवम्बर 2017 (UTC)

निवेदन-प्रशिक्षण कार्यशाला-जयपुर हेतु फॉर्म भरें

सभी सदस्य जिन्होंने विकिपीडिया:प्रशिक्षण कार्यशाला-जयपुर के लिए नामांकन किया है वे दिनांक ५/११/२०१७ तक यहाँ गूगल फॉर्म भरें ताकि निर्णायक मंडल द्वारा प्रतिभागियों की योग्यतानुसार चयन को अंतिम रूप दिया जा सके। :Swapnil.Karambelkar (वार्ता) 12:44, 4 नवम्बर 2017 (UTC)

CIS-A2K Newsletter August September 2017

Hello,
CIS-A2K has published their newsletter for the months of August and September 2017. Please find below details of our August and September newsletters:

August was a busy month with events across our Marathi and Kannada Focus Language Areas.

  1. Workshop on Wikimedia Projects at Ismailsaheb Mulla Law College, Satara
  2. Marathi Wikipedia Edit-a-thon at Dalit Mahila Vikas Mandal
  3. Marathi Wikipedia Workshop at MGM Trust's College of Journalism and Mass Communication, Aurangabad
  4. Orientation Program at Kannada University, Hampi

Please read our Meta newsletter here.

September consisted of Marathi language workshop as well as an online policy discussion on Telugu Wikipedia.

  1. Marathi Wikipedia Workshop at Solapur University
  2. Discussion on Creation of Social Media Guidelines & Strategy for Telugu Wikimedia

Please read our Meta newsletter here: here
If you want to subscribe/unsubscribe this newsletter, click here.

Sent using --MediaWiki message delivery (वार्ता) 04:23, 6 नवम्बर 2017 (UTC)

Infobox character में समस्या

@संजीव जी, अनिरुद्ध जी, माला जी, सिद्धार्थ जी, हिंदुस्तानवासी जी, अजीत जी, और प्रॉन्स जी:मैंने हाल में उपरोक्त ज्ञानसंदूक का प्रयोग वोल्डेमॉर्ट पृष्ठ पर किया परन्तु दो अतिरिक्त प्राचल माता व पिता स्वयं ही जुड़ गये जबकि मैंने कोडिंग में उन्हें नहीं जोड़ा है। जबकि अंग्रेजी विकिपीडिया पर एेसी समस्या नहीं है। कृपया ध्यान दे।--प्रतीक मालवीय 12:44, 6 नवम्बर 2017 (UTC)
प्रतीक मालवीय जी इसका कारण विकिडाटा से डाटा लेना है। साँचे मे माता पिता की वैल्यू विकिडाटा से फेट्च हो रहा है।
{{#invoke:Wikidata|getValue|P25|{{{mother|FETCH_WIKIDATA}}}}}

--जयप्रकाश >>> वार्ता 14:42, 6 नवम्बर 2017 (UTC)


नमस्ते प्रतीक जी, जैसा कि ऊपर जयप्रकाश जी ने लिखा है, इसका कारण साँचे में हाल में किया गया बदलाव है जिसके बाद कुछ प्राचलों के मान सीधे विकिडेटा से लेकर प्रदर्शित किये जा रहे हैं, यदि उन्हें ज्ञानसंदूक में स्थानीय रूप से नहीं उपलब्ध कराया गया। यदि, इन प्रदर्शित हो रहे नामों पर हिंदी विकिपीडिया में लेख होते और विकिडेटा से जुड़े होते तो उनकी कड़ी दिखती न कि वर्तमान की तरह अंगरेजी विकि की कड़ी। या यदि इनका नाम विकिडेटा के साथ हिंदी में भी उपलब्ध हो तो नाम हिंदी में दिखेगा (हालाँकि कड़ी तब भी अंग्रेजी विकिपीडिया की होगी जब तक हिंदी में बना लेख विकिडेटा से नहीं जुड़ता)। इस तरह के बदलाव कई अन्य साँचों में भी हुए हैं और वहाँ भी इस तरह से अंग्रेजी की कड़ियाँ प्रदर्शित हो रही हैं।
यह एक अच्छी सुविधा है कि यदि स्थानीय रूप से कोई प्राचल गायब है तो उसका मान विकिडेटा से लेकर प्रदर्शित किया जाय, लेकिन शायद सभी मानों के लिए नहीं। वास्तव में इस पर समुदाय में चर्चा होनी चाहिए थी कि हम किन मानों को हिंदी विकिपीडिया पर सीधे विकिडेटा से लेकर प्रदर्शित कर सकते हैं, क्योंकि यदि लेख हिंदी विकिपीडिया पर उपलब्ध नहीं होगा तो मान में अंग्रेजी विकिपीडिया की कड़ी दिखेगी या अंग्रेजी में दिखेगा।
अतः आप इस तरह से विकिडेटा से मान (लेख की कड़ी और/अथवा लेबल) लेकर प्रदर्शित किये जाने हेतु किये गए बदलावों पर नीचे एक नए अनुभाग के रूप में चर्चा शुरू कर सकते हैं। इस तरह से सबकी राय जानने के बाद इस समस्या पर आम सहमति से कोई निर्णय लिया जा सकता है। --SM7--बातचीत-- 17:47, 6 नवम्बर 2017 (UTC)
प्रतीक जी यदि आप इन मानो को नहीं चाहते तो आप लेख के साँचे मे | mother = | father = जोड़ दे। क्यूकी जब स्थानीय विकिपीडिया पर कोई मान सेट कर दिया जाता है तो वह विकिडाटा से वैल्यू नहीं लेता है। यह सुविधा तो अच्छी है परंतु हिन्दी विकि के लिए अभी इतनी उपयुक्त नहीं है। हिन्दी विकि पर आंकड़े जैसे डाटा को ही फेट्च करना चाहिए।--जयप्रकाश >>> वार्ता 05:38, 7 नवम्बर 2017 (UTC)
@SM7: जी, क्या यह बदलाव हिन्दी विकी समुदाय ने किये हैं? क्योंकि अंग्रेजी विकी पर ऐसा नहीं है। आप en:Lord Voldemort पृष्ठ देख सकते हैं सांचे की उसी प्रारूप की मैंने यहाँ नकल की थी।
@Prateekmalviya20: जी, चूँकि यह समस्या और भी कुछ साँचों में है, मैंने नीचे अलग चर्चा हेतु अनुभाग बना दिया है, आप वहाँ अपनी राय व्यक्त कर सकते हैं कि विकिडेटा से जानकारी दिखाना उचित है अथवा नहीं। --SM7--बातचीत-- 12:41, 7 नवम्बर 2017 (UTC)
धन्यवाद जयप्रकाश जी, मैं फ़िलहाल इन दो प्राचलों को लेख के साथ जोड़ देता हूँ क्योंकि इस प्रकार से विकीडाटा लिंक प्रदर्शित होना हिन्दी विकिपीडिया की साख पर प्रश्नचिन्ह लगायेगा।प्रतीक मालवीय 08:55, 7 नवम्बर 2017 (UTC)
प्रतीक जी, साँचे के इतिहास oldid=3459467 से पता चलता है की यह पंकज जी ने किया है और साँचे के वार्ता पेज पर भी कोई चर्चा नहीं है। अंग्रेजी विकी पर ऐसा नहीं है क्योंकि en:Template:Infobox character: मे | mother = | father = प्राचल है ही नहीं। शायद वहाँ |family का उपयोग होता है।--जयप्रकाश >>> वार्ता 12:27, 7 नवम्बर 2017 (UTC)

कुछ ज्ञानसन्दूकों में विकिडेटा से लेकर जानकारी दिखाया जाना

नमस्ते,

पिछले दिनों सदस्य:Capankajsmilyo जी द्वारा कई महत्वपूर्ण और बहुत से पन्नों पर उपयोग होने वाले ज्ञानसन्दूक साँचों में बदलाव किये गए थे। इन बदलावों का उद्देश्य ज्ञानसन्दूक में प्राचल मान न मौजूद होने की दशा में उसके लिए लेख से जुड़े हुए विकिडेटा आइटम में मौजूद को प्रदर्शित करने हेतु व्यवस्था की गयी थी। समस्या यह है कि इस कारणवश वे विकिडेटा प्रविष्टियाँ भी हमारे लेखों में प्रदर्शित हो रही हैं जिनके ऊपर हिंदी विकिपीडिया में लेख नहीं हैं, इन सभी की विकिडेटा कड़ी यहाँ लेखों में प्रदर्शित हो रही है (और जिनका लेबल हिंदी में नहीं लिखा गया उनके लिए अंग्रेजी लेबल दीखता है)। प्रतीक जी द्वारा इससे उत्पन्न समस्या का ज़िक्र ऊपर किया गया है जो साँचा:ज्ञानसन्दूक पात्र में इस तरह के बदलाव के कारण हुई।

इसके अलावा और भी कई ज्ञानसंदूक साँचे हैं जिनमें इस तरह का बदलाव हुआ है और वे साँचे काफी सारे पन्नों पर इस्तेमाल किये गए हैं, जैसे: साँचा:ज्ञानसन्दूक व्यक्ति (स्टीव जॉब्स, वास्को द गामा, अरशद वारसी इत्यादि लेखों में आप देख सकते हैं कि कई प्राचल मान अंग्रेजी में लिखे दिख रहे और उन्हें क्लिक करने पर विकिडेटा की कड़ी खुलती है।) और साँचा:राजवंशी ज्ञानसन्दूक (लेख देखें: सिकंदर महान, कुणाल, हिरोहितो) इत्यादि।

उक्त समस्या के समाधान हेतु सदस्यों से अनुरोध है कि विकिडेटा से इस प्रकार जानकारी लेकर यहाँ हिंदी विकिपीडिया पर प्रदर्शित करने के बारे में अपनी राय व्यक्त करें।--SM7--बातचीत-- 12:39, 7 नवम्बर 2017 (UTC)

  • हिन्दी विकि के लिए अभी विकिडाटा से बिना संख्या वाले मान लेना सही नहीं है। क्यूकी अभी हिन्दी विकिपीडिया से कोई ज्यादा सदस्य विकिडाटा पर जुड़े नहीं है। वहाँ अभी लेबल भी हिन्दी मे नहीं हुए है। अंत केवल संख्या वाले मानो को ही फेट्च करना चाहिए।--जयप्रकाश >>> वार्ता 13:11, 7 नवम्बर 2017 (UTC)
  • मेरे मतानुसार विकीडाटा से से मान लेना बिल्कुल भी सही नहीं है। सामान्यतः कोई भी विकी पाठक नीली लिंक देखकर यह समझता है कि इस विषय पर लेख उपलब्ध है। अगर वह लिंक देखकर क्लिक करे और विकीडाटा पृष्ठ खुल जाय तो इससे हिन्दी विकी की साख पर प्रश्नचिन्ह भी लगेगा। इस कारण से मुझे विकीडाटा से मान लेने का मुझे कोई औचित्य नहीं समझ आता।--प्रतीक मालवीय 08:54, 8 नवम्बर 2017 (UTC)
  • अंत में, डेटा को विकिडाटा से ही प्राप्त होना है। विकिडाटा इसी कारण तो बना है कि सभी समान डेटा एक जगह हो और सारे विकिपीडिया ये वही से ले। मुझे नही लगता के सदस्य:Capankajsmilyo के बदलावोंसे ज्यादा हानी पोहची है। अब हिन्दी विकि पे लेख नही है तो नही है। हिन्दी विकी की साख पर प्रश्नचिन्ह ना उठे इस कारण हम लाल लिंक तो नही निकालते; तो इसमें क्या हर्ज है?
    एक बड़ा काम ये जरुरी है कि ५०००+ लेख जो विशेष:अन्तरविकि रहित है उन्हे उनके सही विकिडाटा से जोडने में जुट जाए। इस कार्य में मैने देखा है कि यांत्रीक रुप से बने कई एक-वाक्य वाले लेखोंके दोहरे लेख भी सामने आते है और उनका विलय हो सकता है। Dharmadhyaksha (वार्ता) 10:19, 8 नवम्बर 2017 (UTC)
  • मैं विकिडाटा के समर्थन में हूँ। सत्य को छुपाने से क्या लाभ, यदि हम पीछे हैं तो हैं। अपने पिछड़ेपन को स्वीकार करना आगे बढ़ने की दिशा में सबसे पहला कदम है। इसी को छुपाने में लगे रहे तो आगे बढ़ने की कब सोचेंगे? यहां अभी अधिकांश लोग विकिडाटा के बारे में जानते ही नहीं है, नई प्रणाली से सब लोगों को इस लाभकारी प्रकल्प के बारे में जागरूकता होगी व लोग इसे अपनाएंगे। फिलहाल कई देशों के प्रधानमंत्री राष्ट्रपति तक बदल जाते हैं और हिंदी विकी पर अद्यतन नहीं होता। विकिडाटा से मान स्वतः आयात होंगे तो अद्यतन की बहुत बड़ी समस्या समाप्त हो जाएगी। थोड़ी बहुत जो समस्यायें आएंगी उनपर चर्चा करके समाधान निकाले जा सकते हैं जैसे कि ऊपर की चर्चा में भी हुआ है। लेकिन इन समस्याओं के चलते विकिडाटा से संबंध विच्छेद करने के पक्ष में मैं नहीं हूँ। --अनामदास 00:48, 9 नवम्बर 2017 (UTC)
@Dharmadhyaksha: @Anamdas: मैं विकीडाटा से सम्बन्ध विच्छेद करने की बात नही कह रहा। अगर विकीडाटा से हिन्दी विकी समुदाय का इस प्रकार से लाभ है तो उसका फायदा अवश्य उठाया जाना चाहिये। लेकिन जो कमी है (जिसका मैंने ऊपर उल्लेख किया) उसपर भी ध्यान देना चाहिये। वोल्डेमॉर्ट पृष्ठ पर उसके माँ व पिता का नाम अपने आप वह भी अंग्रेजी में अद्यतन हो गया था। प्रश्न यह है कि जब हिन्दी विकी पर संबंधित लेख ही नहीं है तो विकीडाटा पर हिन्दी लेबल कहाँ से होगा? फिर हमे अंग्रेजी में लिखे मान ही दिखाई पड़ेंगे।--प्रतीक मालवीय 08:23, 9 नवम्बर 2017 (UTC)
मुझे नीचे एक विषय पर आमंत्रण मिला तो यहां भी अपने विचार रख रहा हूँ | अगर किसी प्रबंधक को इसपर आपत्ति हो तो कृपया मुझे ब्लॉक कर दे | प्रतीक जी हिंदी लेबल के लिए हिंदी पृष्ठों की कोई आवश्यकता नहीं है |

Featured Wikimedian [November 2017]

Wikimedia India logo.svg

On behalf of Wikimedia India, I hereby announce the Featured Wikimedian for November 2017.

Balaji Jagadesh is one of the top contributors from the Tamil Wikimedia community. Though he started contributing since 2009, he was quite active after his participation in WikiConference India 2011. Initially he started contributing to Tamil Wikipedia, but was later attracted towards Tamil Wikisource, Tamil Wikitionary, and Wikidata. His global contributions count to whooping 2,50,000 edits. He is an admin on Tamil Wikitionary.

After his interaction with Mr. Loganathan (User:Info-farmer), Balaji was very much motivated to contribute to Wikimedia projects. He says, "When I was editing in Tamil Wikipedia, I used to translate science articles from English to Tamil. But faced problem in finding equivalent Tamil words. The English to Tamil dictionaries were inadequate. Hence I felt the need to work in the Tamil Wikitionary. After a while there was a collaboration with Tamil Wikisource and Tamil Nadu Government through Tamil Virtual University through 2000 CC0 books were uploaded".

As an active contributor to Wikidata, he says that the vision of Wikimedia movement is, "Imagine a world in which every single human being can freely share in the sum of all knowledge", but with Wikidata we can make it, "Imagine a world in which every single human being and every single machine can freely share in the sum of all knowledge". Apart from regular contributions, he also created templates to Tamil Wikimedia projects, and also maintains Tamil Wikisource's official Twitter handle.

Balaji hails from Coimbatore, Tamil Nadu, and is a post-graduate is Physics. He currently works as a Senior Geophysicist in Oil and Natural Gas Corporation Limited (ONGC).

Any editor can propose a fellow to be a Featured Wikimedia at: http://wiki.wikimedia.in/Featured_Wikimedian/Nominations

MediaWiki message delivery (वार्ता) 09:59, 10 नवम्बर 2017 (UTC)

Changes to the global ban policy

Hello. Some changes to the community global ban policy have been proposed. Your comments are welcome at m:Requests for comment/Improvement of global ban policy. Please translate this message to your language, if needed. Cordially. Matiia (Matiia) 00:34, 12 नवम्बर 2017 (UTC)

अंतरराष्ट्रीय विकिमीडिया सम्मेलन (बर्लिन,जर्मनी)

कुछ हफ्ते पहले घोषणा की थी कि अगला विकिमीडिया सम्मेलन अप्रैल 20 से 22, 2018 बर्लिन में होगा। यह सभी विकीमीडिया संगठनों (विकिमीडिया चैप्टर, थीमेटिक ग्रुप्स, यूजरग्रुप और विकिमीडिया फाउंडेशन) की वार्षिक बैठक है
पहली बार हिंदी समुदाय में से किसी को भेजने का अवसर दिया जा रहा हैं

पंजीकरण

पंजीकरण प्रक्रिया 24 नवंबर, 2017 से शुरू होगी।

प्रतिनिधि चयन

विकिमीडिया हिंदी सदस्य समूह (यूजरग्रुप) एक व्यक्ति को इस सम्मेलन के लिए जर्मनी भेज सकता है।

मतदान १५ दिसंबर २०१७ तक चलेगा।

प्रतिनिधि कैसा हो?

विकीमीडिया सम्मेलन भागीदारी/participation के लिए है। सम्मेलन को सफल बनाने के लिए अपने सही प्रतिनिधियों का चयन करना आवश्यक होगा। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर क्या चल रहा हैं, यह जानने के लिए और साझा करने के लिए प्रतिभागियों को बर्लिन आना चाहिए, सम्मेलन में सीखी हुयी चीज़े बाद में समूह के साथ साझा करना आवश्यक है।

आदर्श प्रतिनिधि हैं जो -

  • संगठन की निर्णय लेने की प्रक्रिया में शामिल है,
  • विकिमीडिया आंदोलन के भविष्य को आकार देने में मदद कर सकता है,
  • या भागीदारी विशेषज्ञ,
  • या कार्यक्रम/प्रोजेक्ट करवाने वाला नेता

प्रतिभागी आंदोलन वार्तालापों को आकार देने के लिए उत्सुक होना चाहिए; प्रतिभागी संस्थानों, फंडर्स और समान विचारधारा वाले संगठनों के साथ-साथ अपने सहयोगियों के प्रभाव को सुधारने के लिए प्रयास करने वाला और लोगों के साथ भागीदारी के लिए जुनून रखने वाला हो।

पूरा सम्मेलन अंग्रेजी में होता हैं इसलिए प्रतिभागी के लिए अंग्रेजी ठीक से समझना और बोल पाना ज़रूरी रहेगा।

जर्मनी जाने का खर्चा कौन उठाएगा?

  • समुदाय द्वारा चुने गए प्रतिनिधि का पूरा खर्चा (जाने-आने का टिकट, रहने की व्यवस्था, पंजीकरण और भोजन व्यवस्था) फाउंडेशन करेगी।

प्रतिनिधि चुनने की प्रक्रिया

हर समूह अपनी प्रक्रिया अलग से बना सकता हैं, सामान्य रूप से सदस्य नामांकन करते है, समुदाय का प्रतिनिधित्व कौन अच्छी तरीके से करेगा इस पर चर्चा के बाद एक व्यक्ति चुना जा सकता हैं। अगर ज्यादा नाम आते है तो मतदान के जरिये प्रतिनिधि चुने जा सकते है। सारी प्रक्रिया ऐसी जगह हो पर हो जहां सभी लोग सहभाग ले सकें (मेलिंग लिस्ट, चौपाल, मेटा इत्यादि) AbhiSuryawanshi (वार्ता) 22:18, 13 नवम्बर 2017 (UTC)

नामांकन

अगर आप किसी को नामांकित करना चाहते है या खुद इसमें शामिल होना चाहते हैं तो नीचे नाम दर्ज कीजिये।

नामांकन १

  • व्यक्ति का नाम : @Anamdas:
  • नामांकित व्यक्ति का परिचय : मेरी निजी राय है कि अनामदास जी अगर इस कार्यशाला में सम्मिलित होते है तो यह सबसे अच्छा होगा। वो समुदाय में लोकप्रिय हैं और सब उनका आदर करते है। वो समुदाय का अच्छा नेतृत्व कर रहे है और इस कार्यशाला से जो भी ज्ञान प्राप्त होगा उसका वो सही उपयोग यूजर ग्रुप में करेंगे | -Abhinav619 (वार्ता) 02:34, 14 नवम्बर 2017 (UTC)
  • स्वीकृति : मैं इस नामांकन को स्वीकार करता हूँ। मुझे लगता है कि यदि यह जिम्मेदारी मुझे दी जाती है तो मैं इसे पूरा करने में काफी हद तक समर्थ हूँ। --अनामदास 09:13, 15 नवम्बर 2017 (UTC)
  • समर्थन :
  1. Symbol support vote.svg समर्थन--कलमकार वार्ता 07:10, 14 नवम्बर 2017 (UTC)अनामदास जी इस कार्य के लिए उपयुक्त व्यक्ति हैं।
  2. Symbol support vote.svg समर्थन--जयप्रकाश >>> वार्ता 09:59, 14 नवम्बर 2017 (UTC)
  3. Symbol support vote.svg समर्थन--आशीष भटनागरवार्ता 11:40, 14 नवम्बर 2017 (UTC), इनकी कार्यक्षमता, लोकप्रियता, दक्षता पर कोई सन्देह नहीं। निश्चय ही इन योग्यताओं को बढ़ावा दिया जाना चाहिये जो हिन्दी विकिपीडिया के स्वर्णिम भविष्य का मार्ग प्रशस्त करेंगे। इनका सामना फ़ाउण्डेशन से अभी उतना नहीं हुआ है, अतएव सुयश जी को वरीयता देना चाहूंगा।
  4. Symbol support vote.svg समर्थन--मेरा पहला समर्थन अनामदास जी को है.Swapnil.Karambelkar (वार्ता) 16:40, 14 नवम्बर 2017 (UTC)
  5. Symbol support vote.svg समर्थन--Sushma_Sharma 15 नवम्बर 2017 (UTC)
  6. Symbol support vote.svg समर्थन-- मेरा पूरा समर्थन।--राजू जांगिड़ (वार्ता) 02:04, 16 नवम्बर 2017 (UTC)
  7. Symbol support vote.svg समर्थन-- ठोस समर्थन के साथ, जे. अंसारी वार्ता -- 05:24, 16 नवम्बर 2017 (UTC)
  8. Symbol support vote.svg समर्थन-- अनामदास जी ने विकिपीडिया के पुराने एवं अनुभवी सदस्य हैं। अगर ये अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में जायेंगे तो इससे हिन्दी विकी लाभान्वित होगा।--प्रतीक मालवीय 09:34, 16 नवम्बर 2017 (UTC)
  9. Symbol support vote.svg समर्थन --Abhinav619 (वार्ता) 09:45, 19 नवम्बर 2017 (UTC)
  10. Symbol support vote.svg समर्थन---- ए० एल० मिश्र (वार्ता) 05:27, 30 नवम्बर 2017 (UTC)
  11. Symbol support vote.svg समर्थन--सुयश द्विवेदी (वार्ता)
  12. Symbol support vote.svg समर्थन-- अनुनाद सिंह (वार्ता) 16:45, 14 दिसम्बर 2017 (UTC)

नामांकन २

  • व्यक्ति का नाम : @Suyash.dwivedi:
  • नामांकित व्यक्ति का परिचय : सुयश जी भी इस कार्यशाला हेतु एक अच्छे व्यक्ति है उनका ऐसा कार्यक्रम का अनुभव भी है। वह इस समय शिक्षण मे भी काफी सक्रिय है।
  • स्वीकृति :मै नामांकन स्वीकार हूँ --सुयश द्विवेदी (वार्ता)
  • समर्थन :
  1. Symbol support vote.svg समर्थन मेरी पहली प्राथमिकता अनामदास जी को है वह इसके लिए सबसे अच्छे है। अंत मेरे प्रथम प्राथमिकता अनामदास जी को है परंतु हमे एक वैकल्पिक विकल्प रखना चाहिए। उस वैकल्पिक विकल्प के लिए मै सुयश जी को नामांकित करता हु।--जयप्रकाश >>> वार्ता 09:59, 14 नवम्बर 2017 (UTC)
  2. Symbol support vote.svg समर्थन विकल्प के रूप में सुयश जी के नाम के प्रस्ताव का मैं भी समर्थन करता हूं।--कलमकार वार्ता 10:06, 14 नवम्बर 2017 (UTC)
  3. Symbol support vote.svg समर्थन -- पूर्ण रूप से समर्थन।--राजू जांगिड़ (वार्ता) 02:05, 16 नवम्बर 2017 (UTC)
  4. Symbol support vote.svg समर्थन --आशीष भटनागरवार्ता 11:40, 14 नवम्बर 2017 (UTC), सुयश जी हिन्दी विकिपीडिया को विकिमीडिया फ़ाउण्डेशन से जोड़ने वाले सेतु हैं, जिन्होंने हमें पहली बार फाउण्डेशन से परिचय करवाया (अभिषेक जी को गिनती में नहीं गिन रहा हूं) अतः सामान्य सम्पादन की गणना अधिक न होते हुए भी सुयश जी की कार्यकलापों में अत्यधिकता को देखते हुए प्रथम समर्थन इन्हीं को करता हूं। इन्हीं के प्रयासों (स्वपनिल जी के साथ) के कारण अकेले वर्ष २०१७ में इतने हिन्दी विकिपीडिया कार्यक्रम सम्पन्न हुए। इसका श्रेय इन्हें अवश्य जाता है और जब एक व्यक्ति कोई समर्थन करना है तो अवश्य इन्हें करता हूं। (कृपया अन्य कुछ विशेष लोग अन्यथा न लें, वे भी मेरे लिये विशिष्ट गणना में आते हैं किन्तु वरीयता मात्र एक को ही देनी है।)
  5. Symbol support vote.svg समर्थन --मेरी तीसरी प्राथमिकता सुयश जी है ,वे धरातल पर बहुत अच्छा काम कर रहे है और मेरा ऐसा मानना है कि भोपाल में एक अच्छी समर्पित टीम आकार ले चुकी है.हमें (चूँकि मेरा नाम भी आशीष जी ने लिखा है) अभी बहुत काम करना है एवं हिंदी विकी को सुदृढ़ करना है। : Swapnil.Karambelkar (वार्ता) 16:39, 14 नवम्बर 2017 (UTC)
  6. Symbol support vote.svg समर्थन -- जिस प्रकार का अनुभव इस सम्मेलन के लिए चाहिए वह निश्चित रूप से सुयश जी सर्वाधिक मात्रा में रखते हैं। उनके पदार्पण के बाद ही हिन्दी विकि में इस प्रकार के आयोजन देखने को मिले। मुझे पूरा विश्वास है कि यदि उन्हें इस सम्मेलन में भेजा जाता है तो हिंदी विकि को उसका भरपूर लाभ प्राप्त होगा। हालाँकि नीचे दी गयी अभिषेक जी की टिप्पणी भी विचारणीय है। यदि सुयश जी चैप्टर की तरफ से जा सकते हैं तो उन्हें उसी मार्ग को प्राथमिकता देनी चाहिए ताकि यहाँ से किसी और सदस्य को भेजा जा सके। किंतु यदि यह संभव नहीं हो सके तो इस मार्ग से भी उन्हें भेजने हेतु मेरा पूर्ण समर्थन है। --अनामदास 09:04, 15 नवम्बर 2017 (UTC)
  7. Symbol support vote.svg समर्थन -- पूर्ण समर्थन।--प्रतीक मालवीय 09:30, 16 नवम्बर 2017 (UTC)
  8. Symbol support vote.svg समर्थन---- ए० एल० मिश्र (वार्ता) 05:28, 30 नवम्बर 2017 (UTC)

नामांकन ३

  • व्यक्ति का नाम : @आशीष भटनागर:
  • नामांकित व्यक्ति का परिचय : आशीष भटनागर जी ,हिंदी विकिमीडिएंस सदस्य दल के ध्वजवाहक है तथा हिंदी विकिपीडिया के सबसे वरिष्ठ एवं सबसे पुराने सम्पादको में से एक है