सदस्य वार्ता:Jayprakash12345

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सहायता[संपादित करें]

{{Infobox election}} काफी पुराण हो चूका है और अंग्रेजी विकिपीडिया से लाये गए बहुत से मान नहीं दीखते | मेरे विचार से इसे अंग्रेजी विकिपीडिया से अपडेट कर देना चाहिए | मई स्वयं कर देता पर फिर कुछ सदस्यों को मेरा सांचो पर कार्य करना पसंद नहीं है | क्या आप मेरी इसमें सहायता कर सकते है ? Capankajsmilyo (वार्ता) 19:21, 3 मार्च 2018 (UTC)

{{Infobox election/row}} में थोड़ा अनुवाद रह गया हैं इसके पूरा होते ही अद्दतन कर दिया जाएगा।--जयप्रकाश >>> वार्ता 04:48, 5 मार्च 2018 (UTC)
धन्यवाद जयप्रकाश जी Capankajsmilyo (वार्ता) 18:12, 5 मार्च 2018 (UTC)

लेख बढ़ाने में मार्गदर्शन करें[संपादित करें]

सागर पब्लिक स्कूल भोपाल ,लेख को ठीक करने हेतु मार्गदर्शन करें,धन्यवाद। :सानवी करंबेलकर (वार्ता) 04:42, 5 मार्च 2018 (UTC)

सानवी करंबेलकर जी, अभी के लिए मैंने कुछ सुधार किए हैं। आप इतिहास में जाकर देखे। कड़ी जुडने के बाद लेख अब रखने लायक लग रहा हैं।--जयप्रकाश >>> वार्ता 04:59, 5 मार्च 2018 (UTC)

अवरोधित[संपादित करें]

आपको उत्पात मचाने के कारण दो घंटे के लिये सम्पादन करने से अवरोधित किया। दिमाग ठंडा कर ले फिर बात करते हैं।--हिंदुस्थान वासी वार्ता 13:53, 25 मार्च 2018 (UTC)

अब देखते हैं नीति के ठेकेदार क्या क्या बोलेंगे। क्यूकी मुझे तो दो मिनट में नीति बताने आ गए थे। [1]--जयप्रकाश >>> वार्ता 14:01, 25 मार्च 2018 (UTC)
@हिंदुस्थान वासी: आपने यह सही नहीं किया। आपको इतनी जल्दबाजी नहीं दिखानी चाहिये थी। @Jayprakash12345: आपको दूसरे प्रबन्धक पर ऐसे आरोप नहीं लगाना चाहिये। सामान्यतः प्रबन्धकों के कार्य स्वतंत्र होते हैं और कहीं उलझन होने पर आपसी चर्चा करके निर्णय लिया जाता है। लेकिन यदि प्रबन्धक चर्चा करते हैं तो ऐसा जल्दबाज़ी का फैसला सामने नहीं आयेगा। क्या आपको लगता है कि ये कार्य सभी प्रबन्धकों ने मिलकर किया है?☆★संजीव कुमार (✉✉) 03:15, 26 मार्च 2018 (UTC)
संजीव कुमार जी, जिस प्रबन्धक ने यह कार्य किया था उसके कार्यो पर तो पर्दा डालने आ गए थे। कार्य को इतनी सफाई किया गया हैं कि मुझे पूरा विश्वास हैं कि मूल विवाद के बारे में अभी आपको कुछ दिखा भी नहीं होगा।--जयप्रकाश >>> वार्ता 04:10, 26 मार्च 2018 (UTC)

आपके आरोप[संपादित करें]

जयप्रकाश जी, आपने हिन्दुस्थान वासी जी के वार्ता पन्ने और चौपाल दोनों पर मुझ पर आरोप लगाए हैं। क्या लगता है आपको कि आपलोगों की सरपट प्रत्यावर्तन दौड़ देखने के बाद क्या करना चाहिए था मुझे? तीन विकल्प समझ में आये थे - 1) हिन्दुस्थान वासी जी को रुकने के लिए कहूँ, 2) आपको रुकने के लिए कहूँ, या 3) देख के छवि प्रबंधकों की तरह आँख मूँद लूँ। आपको क्या लगता है दूसरा या तीसरा विकल्प चुनना ज़्यादा बेहतर होता? --SM7--बातचीत-- 11:53, 26 मार्च 2018 (UTC)

दूसरे विकल्प की जरूरत ही क्या थी मेरा मुह तो अवरोधित करके पहले ही बंद कर दिया गया था। क्यूकी लोग अब बागी हो चले हैं। और इस कार्य को बढ़वा दें हो सके तो स्थायी प्रतिबंधित करा दें। क्यूकी मैं गलत था जो सारांश में आप लोगो के आने तक रुकने के लिए बोल रहा था।--जयप्रकाश >>> वार्ता 12:02, 26 मार्च 2018 (UTC)
तो तीसरा बेहतर था? --SM7--बातचीत-- 12:14, 26 मार्च 2018 (UTC)

अपने हङ्गौट्स पुनरीक्षक ग्रुप में आराम से चर्चा करें। वहाँ पीयूष और स जी आपको समझा देंगे। मैं तो गलत हूँ ना। मैंने अपने अधिकारो का दुरुपयाग किया हैं। और मिलकर बागी 3 फिल्म का प्रचार करें। क्यूकी कल ही रिलीस हुई हैं।--जयप्रकाश >>> वार्ता 12:19, 26 मार्च 2018 (UTC)

पहले आप मुझ पे तो अपने आरोप तो तय कर लें। और कौन सी बात दबा दी गयी है? आपको पकड़ रखा है मैंने या आपलोगों की रंगा-रंग वाॅलीबाल का कोई नमूना पन्ने के इतिहास में नहीं दिख रहा है आपको ? कोई चमत्कारी कार्य छिप गया हो आपका या हिन्दुस्थान वासी जी का तो प्रबंधकों से कहें, उसे भी स्थापित कर दिया जाए। इतिहास विलय के सुझाव पर आपत्ति है आपको? पहले लेख स्टेबल कंडीशन में लाना ज़्यादा जरूरी था कि आपलोगों की अहंकार की तुष्टि करना कि कौन सही है और कौन गलत? आपको क्या अपेक्षा थी मुझसे कि रुकने के लिए कहने के बाद पहले आपलोगों का मुकदमा सुनूँ, सही-गलत का फैसला करूँ? --SM7--बातचीत-- 12:34, 26 मार्च 2018 (UTC)

निवेदन[संपादित करें]

@Jayprakash12345: आप गलत नहीं हैं बस आपकी सोच अलग है। आपको यह नहीं लगना चाहिए कि आपको गलत सिद्ध करने की कोशिश की जा रही है। गलती अगर हुई है तो आप दोनों से हुई है। हिंदुस्थान वासी जी की गलती अधिक गंभीर है। आप दोनों लोग अभी भी आरोप-प्रत्यारोप पर विराम लगा दें तो स्थिति संभल सकती है। आपका हम सभी बहुत सम्मान करते हैं अब इसके लिए प्रमाण देना ठीक नहीं। कृपया अब शांति धारण करें। इसे चेतावनी नहीं बल्कि सविनय निवेदन ही समझें। प्लीज मान जाइए अब। -- अजीत कुमार तिवारी वार्ता 12:42, 26 मार्च 2018 (UTC)

सर मैंने तो केवल तीन सम्पादन किए थे। (क्यूकी पेज दो थे तो एक का करते हैं तो दूसरे का भी करके पड़ेगा ही अर्थात सम्पादन 6) जबकि पीयूष जी ने सम्पादन 4 किए थे। उन्होने अनामदास जी के संपदान भी रोलबैक किए थे। 3 वाले को अवरोधित कर दिया गया वो भी बिना चेतवानी के जबकि मैं हर टिप्पणी में विवाद को खत्म करने के लिए संजीव जी या एसएम7 जी के आने का इंजार करने को कहता रह गया। आपके कहने पर मैं शांति धारण करता हूँ और देखता हूँ आप में सही को सही कहकर मेटा तक चलने का साहस हैं या नहीं।--जयप्रकाश >>> वार्ता 12:54, 26 मार्च 2018 (UTC)

@Jayprakash12345: जी, आप भरोसा रखें कि 'साहस' का परिचय मैं यथासमय दे ही दूंगा। साहस दिखाने के लिए मुझे अमर्यादित होने की आवश्यकता नहीं पड़ती। यहाँ संपादन भी मैं खुद को श्रेष्ठ सिद्ध करने के भाव से नहीं करता। स्नेह और शुभकामनाएं। -- अजीत कुमार तिवारी वार्ता 13:05, 26 मार्च 2018 (UTC)
जब प्रबंधक और किसी सदस्य के बीच विवाद हो तो विवाद में शामिल प्रबंधक को स्वयं अपने विचारों के पक्ष में निर्णय लेने से बचना चाहिए। इसके लिए किसी तीसरे प्रबंधक से आग्रह किया जाना चाहिए। प्रतिबंध २ घंटे का भी लगाया जाना एक गलत निर्णय है। इससे अधिक का होता तो किसी दूसरे प्रबंधक द्वारा वह जरूर परिवर्तित कर दिया जाता। इसलिए सदस्य को इसे अपना अपमान मानने के बजाय उक्त प्रबंधक की नासमझी मानकर आगे बढ़ जाना चाहिए। निश्चिंत रहें विकि पर अकारण और बिना आम सहमति के किसी सदस्य का प्रतिबंधित होना असंभव है। ऐसा दुबारा हो तो मुझे मेल जरूर करें। मेटा पर जाने का रास्ता खुला है मगर अभी उचित समय नहीं है। आगे ऐसी गलती दुहरायी नहीं जाएगी मुझे इसकी पूरी उम्मीद है। अनिरुद्ध! (वार्ता) 18:28, 26 मार्च 2018 (UTC)
अनिरुद्ध! जी, बात केवल स्थानीय विकि तक नहीं हैं। मेरे अकाउंट को बर्बरता रोधी टीम की ब्लाकलिस्ट में शामिल किया गया हैं। अब यह स्थिति हैं कि अगर मैं अग्रेजी विकि जैसे किसी बड़ी विकि पर बिना संदर्भ के कोई एडिट करता हूँ तो वहाँ के बॉट मेरे सम्पादन को बर्बरता कहकर पूर्ववर्त कर देंगे। ये कहाँ का न्याय हैं कि 3 सम्पादन करने वाले को अवरोधित और 4 सम्पादन और मुझे नियमो के विरुद्ध जाकर सम्पादन करने वाले को कुछ नहीं। अवरोध नीति में साफ लिखा हैं कि कोई भी अधिकार रखने वाले को अवरोधित करने से पूर्व तीन बार चेतवानी देनी होती हैं। मैं तो संजीव जी या एसएम7 जी के आने तक रुकने के लिए ही बोल रहा था। क्या हर स्तर पर मैं ही समझौता करू। सदस्य ने अभी तक अपनी गलती नहीं मनी हैं तो उनके वार्ता पेज पर जाकर देखें। ऐसा लगता हैं मैंने उन्हें अवरोधित किया था। हिन्दी विकि यही समस्या हैं एक तो नीति का वैसे ही अकाल हैं और ऊपर से जो थोड़ी बहुत नीति हैं उन के विरुद्ध जाकर अपने हितो में फैसले लिए जा रहे हैं। हमे अवरोधित करने में एक मिनट का फैसला नहीं लिया गया। और जब खुद पर कार्यवाही की बात आई तो अहंकार में कह रहे हैं कि अवरोधन कतई मंजूर नहीं। साफ सी बात हैं अगर नियमो के विरुद्ध जाकर किसी ने अधिकारो का उल्लाघन किया है तो उसे भी सजा मिले। विकि का नियम हैं सभी एक बराबर हैं। और मैं केवल आप जैसे वरिष्ठ सदस्य के भरोसे पर ही ताकि स्थानीय विकि पर ही उचित करवाही हो सकें। यहाँ सब विफल होने पर मेरे पास मेटा पर जाने के सिवा और कोई विकल्प नहीं होगा।-जयप्रकाश >>> वार्ता 01:53, 27 मार्च 2018 (UTC)
मुझे लगा था कि पियुष जी अपनी गलती की गंभीरता को समझकर दो घंटे या दो दिन के लिए खुद को भी प्रतिबंधित करेंगें या अन्यों से करने का आग्रह करेंगें और यह विवाद सुलझाएंगें। अन्यथा दूसरा मार्ग शेष है जिसकी ओर आप संकेत कर रहे हैं। आप मेटा पर जाएं और चौपाल पर उसकी कड़ी दे दें। मैं अनुचित रूप से प्रतिबंध लगाए जाने कि शिकायत का समर्थन करूँगा। शेष प्रबंधकों के पास भी दूसरे प्रबंधक पर कार्यवाई करने का यही उचित मार्ग है। खासकर तब जबकि पियुष जि के विरुद्ध कोई कार्यवाई के लिए शेष सभी प्रबंधक सौ प्रतिशत सहमत नहीं हो जाते हैं। अनिरुद्ध! (वार्ता) 18:13, 27 मार्च 2018 (UTC)

Share your experience and feedback as a Wikimedian in this global survey[संपादित करें]

WMF Surveys, 18:19, 29 मार्च 2018 (UTC)

Reminder: Share your feedback in this Wikimedia survey[संपादित करें]

WMF Surveys, 01:17, 13 अप्रैल 2018 (UTC)

Your feedback matters: Final reminder to take the global Wikimedia survey[संपादित करें]

WMF Surveys, 00:27, 20 अप्रैल 2018 (UTC)