सदस्य वार्ता:आर्यावर्त

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
स्वागत! Crystal Clear app ksmiletris.png नमस्कार आर्यावर्त जी! आपका हिन्दी विकिपीडिया में स्वागत है।

-- नया सदस्य सन्देश (वार्ता) 01:38, 16 सितंबर 2015 (UTC)

अनुक्रम

सहायता हेतु[संपादित करें]

आर्यावर्त जी प्रणाम, मैं अपने अकाउंट से किसी भी लेख में सन्दर्भ नहीं लगा पा रहा हूँ और इस वजह से मेरे लिखे लेख हटा दिए जाते हैं। मेरे पास कई लेख हैं जिन्हें मैं बनाना चाहता हूँ क्या आप मेरी मदद करेंगे ?

आपका हस्ताक्षर[संपादित करें]

कृपया अपना हस्ताक्षर नये सदस्य नाम के साथ अद्यतन करें।☆★संजीव कुमार (✉✉) 15:16, 22 दिसम्बर 2016 (UTC)

धन्यवाद संजीव जी। मैने कल ही मेरे हस्ताक्षर मेरे नये सदस्यनाम अनुसार अद्यतन कर लिये है। आपके हस्ताक्षर जैसे कलर के साथ :)-☆★आर्यावर्त (✉✉) 15:49, 22 दिसम्बर 2016 (UTC)

AWB का उपयोग[संपादित करें]

नमस्ते, आपके द्वारा किये जा रहे संपादन बॉट खाते से किये जाएँ तो बेहतर है। AWB का इस तरह से प्रयोग उचित नहीं है। कृपया एक बॉट खाता बना कर पहले बॉट फ्लैग ले लें। --SM7--बातचीत-- 08:33, 25 दिसम्बर 2016 (UTC)

जी, @SM7: मैं भी यही सोच रहा हूँ।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 08:51, 25 दिसम्बर 2016 (UTC)

YesY पूर्ण हुआ @SM7: जी, अब बॉट फ्लॅग की ही आवश्यक्ता पूरी करनी बाकी है। :)--☆★आर्यावर्त (✉✉) 11:58, 25 दिसम्बर 2016 (UTC)

You have run AWB in Gujarati Wiki too without any discussion. Please don't do that. I've notified admins about it. --KartikMistry (वार्ता) 06:30, 27 दिसम्बर 2016 (UTC)
@SM7:, This user is still not stopping automated edits using AWB in guwiki। Can we stop him completely? --KartikMistry (वार्ता) 08:35, 27 दिसम्बर 2016 (UTC)
आर्यावर्त जी, यदि आप यह सन्देश देख सकते हों तो, तत्काल अपने ऑटोमेटिक संपादन रोक कर पहले गुजराती विकि पर समुदाय के साथ चर्चा करें। आपका वार्ता पन्ना अंतर-विकि अनुप्रेषित है इसलिए मैंने वहां भी एक सन्देश छोड़ा है। ताकि, अगर आप AWB को ऑटो पे लगा के भूल गये हों तो शायद उससे रुक जाए। --SM7--बातचीत-- 09:14, 27 दिसम्बर 2016 (UTC)
मैं ओटॉ विकि ब्राउजर को ऑटो पे लगाकर कॉन्फ़रन्स में चला गया था। कार्तिक जी का सन्देश मुझे वोट्सऍप पे मीला था। मैने वहा भी प्रत्युत्तर दिया है।-☆★आर्यावर्त (✉✉) 09:21, 27 दिसम्बर 2016 (UTC)
User has been blocked in guwiki for automated edits without discussion for 6 months। --KartikMistry (वार्ता) 10:49, 27 दिसम्बर 2016 (UTC)
Thanks for blocking me। i'm one of old user of gujarati wikipedia। there is no any local policy related about AWB। there is only one policy, who want admin! Gujarati wikipedia loss one of active user.-☆★आर्यावर्त (✉✉) 11:00, 27 दिसम्बर 2016 (UTC)
@आर्यावर्त और KartikMistry: कार्तिक जी पता नहीं आपको हिंदी आती है या नहीं पर आपसे और आर्यावर्त जी से निवेदन है कि गुजराती विकि से संबंधित विवाद की चर्चा यहाँ करना कुछ अधिक उचित नहीं प्रतीत होता।
और आर्यावर्त जी, आपने बड़ी जिम्मेवारी का काम किया जो AWB ऑटो पे लगा कर कहीं और चले गए। ऊपर यह चर्चा मैंने शुरू ही इसीलिए की थी कि AWB का इस तरह प्रयोग उचित नहीं है। फिर भी आपने बिना समुदाय की सहमति लिए अपने मुख्य खाते से ऑटो पे लगा कर सम्पादन किया, यही नहीं छोड़ के चले भी गये। वाकई !
अपने को पुराने सदस्य और वरिष्ठ सदस्य के रूप में दिखाने का ही नहीं थोड़ा जिम्मेदारी समझने का भी प्रयास करिए। AWB दिखावे और अपने को काबिल साबित करने हेतु संपादन संख्या बढ़ाने के लिए नहीं है। और जैसा कि आप ऊपर कह रहे हैं कि आप गुजराती विकि के पुराने सदस्य हैं - वहां का चर्चा पन्ना यहाँ अनुप्रेषित करने की क्या जरूरत पड़ गयी? और आपने यहाँ अपनी सारी पुरानी वार्तायें कहाँ रखी हुई हैं? कृपया यथाशीघ्र अपने वार्ता पन्ने की यह चीजें सुलझाइए। सादर धन्यवाद !--SM7--बातचीत-- 11:48, 27 दिसम्बर 2016 (UTC)
@SM7: जी, सादर नमस्ते। ये एक लम्बी कहानी है। दरसल मैं गधा हूँ। आपको मेरे बारेमें एसा लगा और आपने मेरी ग़लतियाँ बताई इसके लिए धन्यवाद। मैं प्रतिदिन इसे पढ़कर याद रखूँगा।-☆★आर्यावर्त (✉✉) 15:20, 27 दिसम्बर 2016 (UTC)

कुछ शीह नामांकन[संपादित करें]

नमस्ते आर्यावर्त जी,

जैसे लेख कहीं से कॉपी पेस्ट प्रतीत हो रहे हैं। इन्हें मूलस्थान की कड़ी के साथ शीह-व6 के तहत नामांकित करें। --SM7--बातचीत-- 07:05, 2 जनवरी 2017 (UTC)

नमस्ते @SM7: जी ठीक है। दरसल मैंने मोबाइल से नामांकन किये थे और सम्पादन में परेशानी के कारण परिक्षण पृष्ठ के तहत नामांकित कर दिये थे। अब से व६ के तहत ही करूँगा।-☆★आर्यावर्त (✉✉) 07:26, 2 जनवरी 2017 (UTC)

कामदेव पृष्ठ पर गलत जानकारी है उस पृष्ठ को हटाया जाना चाहिए। मैंने उसपर कार्यवाही की तो पता चलता है विकिपीडिया पर सिर्फ प्रबंधकों का हुक्म चलता है। मैं सिर्फ ये जानना चाहता हूँ क्या कामदेव पृष्ठ को हटाया जाएगा या नहीं क्योंकि वहाँ गलत जानकारी है तथा मनोज से उस पृष्ठ को जबरन रिडायेक्ट किया गया है। अगर काम देव पृष्ठ को नहीं हटाया गया तो मैं हमेशा के लिए विकिपीडिया छोड दुंगा क्योंकि यहाँ सिर्फ कुछ लोगों की तानाशाही चलती है जैसा वो चहाते हैं वैसा होता है पहले आपने कहा था कि मेरा बनाया पृष्ठ मनोज (ब्रज फिल्म कलाकार) नहीं हटेगा परन्तु किसी ने उसे हटा दिया। आप बस ये बताएं कि कामदेव पृष्ठ हटेगा या नहीं। MANOJ JAAT (वार्ता) 11:01, 20 मार्च 2017 (UTC)

विकिपीडिया:स्वतः_परीक्षित_अधिकार_हेतु_निवेदन#j ansari[संपादित करें]

@आर्यावर्त: जी कृपया यह अपनी राय देँ विकिपीडिया:स्वतः_परीक्षित_अधिकार_हेतु_निवेदन#j ansari (जसीम अली अंसारी (वार्ता) 13:35, 9 जनवरी 2017 (UTC))

वार्ता[संपादित करें]

@आर्यावर्त: जी मुझे वतायेँ की लेख चेरामन जुमा मस्जिद पर किया कमी है विस्तार से वतायेँ।(जसीम अली अंसारी (वार्ता) 11:58, 12 जनवरी 2017 (UTC))

@J ansari: जी,
  1. लेख में एक भी सन्दर्भ नहीं है। जोड़ें। सन्दर्भ कैसे जोड़ना है ये जानने के लिए विकिपीडिया:स्वशिक्षा/सन्दर्भ देखें।
  2. लेख में एक भी श्रेणी नहीं हैं। लेख को उचित श्रेणीयों में डालें। सभी मस्जिदो के लेखो के लिए समान श्रेणी बना सकते है।
  3. अरबी पाठ को () में लिखें।
  4. अंग्रेज़ी विकि के लेख में से आप इस लेख में और जानकारी डालकर विस्तार कर सकते है।
  5. आप इन्हे भी देखें, बाबरी कडियाँ जैसे अनुभाग भी जोड़ सकते हैं।

ये जानकारी टू ध पॉइन्ट है, बाद में विस्तार से लिखूँगा।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 12:21, 12 जनवरी 2017 (UTC)

Share your experience and feedback as a Wikimedian in this global survey[संपादित करें]

  1. This survey is primarily meant to get feedback on the Wikimedia Foundation's current work, not long-term strategy.
  2. Legal stuff: No purchase necessary. Must be the age of majority to participate. Sponsored by the Wikimedia Foundation located at 149 New Montgomery, San Francisco, CA, USA, 94105. Ends January 31, 2017. Void where prohibited. Click here for contest rules.

AWB[संपादित करें]

नमस्कार आर्यावर्त जी! AWB कैसे प्रयोग करते हैं। क्या आप मुझे बता सकते हैं। --जूनियर एनटिआर (वार्ता) 12:47, 15 जनवरी 2017 (UTC)

नमस्ते @जूनियर एनटिआर: जी, आप को इस विषय की प्राथमिक जानकारी यहाँ मिल जाएगी।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 14:37, 15 जनवरी 2017 (UTC)
जानकारी के लिए धन्यवाद आर्यावर्त जी! --जूनियर एनटिआर (वार्ता) 15:31, 16 जनवरी 2017 (UTC)

आपका हस्ताक्षर[संपादित करें]

नमस्ते आर्यावर्त जी, आपने अपने हस्ताक्षर को संजीव जी के हस्ताक्षर जैसा बनाया है जिसके कारण जब आप दोनों क्रम से टिप्पणियाँ लिखते हैं तो समझ में नहीं आता कि कौन सी टिप्पणी किसकी है। हो सके तो कम से कम इसका रंग इत्यादि कुछ बदल लें जिससे भ्रम से बचा जा सके। --SM7--बातचीत-- 05:44, 16 जनवरी 2017 (UTC)

जी। ठीक है।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 09:49, 16 जनवरी 2017 (UTC)

भारत तथा सामूहिक विनाश के हथियार[संपादित करें]

आज मे आपसे बहुत नाराज हु आपने भारत तथा सामूहिक विनाश के हथियार के redirect कर दिया जिससे मेरी सारी मेहनात पर पानी फिर गया। मे १ घन्टे से अनुबाद कर रहा था।--जयप्रकाश >>> वार्ता 15:29, 31 जनवरी 2017 (UTC)
ओह। आपके सम्पादन सहेजे नहीं गये औरवपरेशानी हुई तो इसके लिए क्षमाप्रार्थी हूँ। मुझें ये पता नहीं था कि आप ड्राफ्ट लिख रहे होंगे। शीर्षक में तथा शब्द देखकर ही मैं लेख पर गया और लेख के विषय की जाँच की और विषय बदला। एसे अनुवाद करने के लिए अनुवाद साधन का उपयोग करीये। इसमें सभी सम्पादन स्वत: सहेजे जाते है। सन्दर्भ भी स्वत: लग जाते है।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 15:44, 31 जनवरी 2017 (UTC)

मनोज[संपादित करें]

भईया आर्यावर्त प्रणाम। हम एक लेख बना रहे हैं जिसका शीर्षक है मनोज। कृपया आप हस्तक्षेप न करें। धन्यवाद। Josi Hasi (वार्ता) 10:48, 3 फरवरी 2017 (UTC)

मनोज उर्फ @Josi Hasi: जी, सदस्य:मनोज जाट से आप ये लेख बनाने का प्रयत्न कर चूके है और ये खाते से भी वही प्रयत्न हो रहे है। ये लेख जो आप बनाना चाहते है साफ प्रचार की श्रेणी में आता है और विकिपीडिया पे इस तरह के लेख नहीं बनाए जा सकते एसी नीति है। अत: आपसे विनती है कि इस तरह के सम्पादन अलग अलग खातों या आईपी से करना रोक दें अन्यथा आपके सभी खाते और आईपी पतों को अवरोधित किया जा सकता है। सादर।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 11:22, 3 फरवरी 2017 (UTC)

मैं अपने ऊपर लेख नहीं बना रहा आर्यावर्त जी, मैं ब्रजभाषा के कलाकार मनोज (जो मैं नहीं हूं) के ऊपर एक हिन्दी लेख बना रहा था। मेरा नाम मनोज जाट है परन्तु मनोज (कलाकार) अलग हैं मैं वो नहीं हूं। बार बार मेरे उस लेख को मेरा निजी लेख समझ कर हटा दिया जाता है। मैं दुखी होकर ऐसा विरोध करने लगा। कृपया उचित मार्गदर्शन करें। MANOJ JAAT (वार्ता) 06:38, 9 मार्च 2017 (UTC)

@MANOJ JAAT: जी, आप ये कलाकार नहीं है तो अवश्य बना सकते है। कलाकार का नाम मनोज आचार्य है?--☆★आर्यावर्त (✉✉) 06:54, 9 मार्च 2017 (UTC)

धन्यवाद। आर्यावर्त जी, मैं आभारी हू आपका और उम्मीद करता हूँ आप आगे भी मार्गदर्शन करते रहेंगे। आपके मुखपृष्ठ पर हुई गलती के लिए क्षमा प्रार्थी हूं, कृपया क्षमा करें। मैं हिन्दी विकिपीडिया पर इसलिए जुड़ा ताकि हिन्दी भाषा में भी विकीपीडिया सरल और आनन्दमय हो क्योंकि हर भारतीय अंग्रेजी नहीं समझ पाता। मैं प्रत्येक हिन्दी भाषी का सम्मान करते हुए हिन्दी विकिपीडिया पर कार्य करुंगा तथा एक ही अकाउंट इस्तेमाल करुंगा। धन्यवाद।। MANOJ JAAT (वार्ता) 07:38, 9 मार्च 2017 (UTC)

अर्थशास्त्र[संपादित करें]

संदेश हिवाळे जी का हाल ही मे किया गया अवतरण देखे। महात्मा गांधी जी का नाम गायब। --जयप्रकाश >>> वार्ता 20:56, 4 फरवरी 2017 (UTC)

इस सप्ताह का सुधार हेतु लेख (सप्ताह 6, 2017)[संपादित करें]

16-008-NASA-2015RecordWarmGlobalYearSince1880-20160120.png

वर्ष 2015 सबसे गर्म वर्ष रहा। नासा द्वारा प्रदत चित्र।

नमस्ते, आर्यावर्त जी।

इस सप्ताह हमने सुधार हेतु निम्नलिखित लेख को चुना है:

जलवायु परिवर्तन


आएँ, सुधालेख परियोजना में शामिल हों -
MediaWiki message delivery (वार्ता) द्वारा संजीव कुमार (वार्ता) 07:53, 6 फ़रवरी 2017 (UTC) की ओर से पोस्ट किया गया • सूचनाएँ बंद करें

भीमराव अम्बेडकर[संपादित करें]

इस लेख में डॉ॰ आंबेडकर के अन्य नाम के आगे और डॉ॰ भीमराव आंबेडकर ‘.....’ नाम से प्रसिद्ध है, इसमें बाबासाहेब शब्द इस्तेमाल करना चाहिए। जिसे आप बार बार बदलकर भीमराव ही कर रहे है। वास्तविकता से काम करें और गलतियां सूधारें! संदेश हिवाळे (वार्ता) 12:17, 9 फ़रवरी 2017 (UTC)

@संदेश हिवाळे: जी, आप जिस प्रकार के बदलाव करना चाहते है उसके लिए कृपया ब्लॉग का उपयोग करें। विकिपीडिया इसके लिए योग्य क्षेत्र नहीं है। बार बार एसा करने पर अंग्रेजी विकि की तरह हिंदी विकि पर भी आपको अवरोधित किया जा सकता है।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 12:26, 9 फ़रवरी 2017 (UTC)

बेशख मुझे अवरोधित किजिए...। आप सही जा रहे हो...। काश, मैंने जो लिखा है उसपर एक बार आप गौर करते, तब आपको आपकी गलति का अंजाता तो होता। संदेश हिवाळे (वार्ता) 12:41, 9 फ़रवरी 2017 (UTC)

विश्व हिन्दी सम्मलेन वर्तनी सुधार[संपादित करें]

'हिंदी' शब्द की बजाय 'हिन्दी' शब्द का उपयोग करें। कृपया विषय को अन्यथा न लें। सम्पादन युद्ध में न उलझें, इसी कारण कई सम्भावित हिन्दी विकिपीडिया उपयोगकर्ता अपना योगदान देने से हतोत्साहित होते हैं। धन्यवाद! Hemant Dabral (वार्ता) 20:39, 11 फ़रवरी 2017 (UTC)

@Hemant Dabral: जी, यही बात मैं आपको बताना चाहता हूँ। रोलबैकर का तो काम ही अयोग्य सम्पादनों को रोलबैक करके विकिपीडिया में लेखो की गुणवत्ता को बनाये रखना होता हैं। हिन्दी शब्दरचना प्रचलित हैं किन्तु मानक हिंदी वर्तनी के अनुसार हिंदी मानक वर्तनी है, शुद्ध है और मान्य है। आप उसे हिन्दी में परिवर्तित कर रहे है। हालांकि हिन्दी वर्तनी प्रचलित होने के कारण उसका भी उपयोग हो सकता है किन्तु पुराने लेखो में जहाँ पूर्ण शुद्ध वर्तनी हिंदी का प्रयोग हुआ है उसे बदलकर हिन्दी करने के लिए सम्पादन करना ज्ञानकोशीय नहीं प्रतीत हो रहा है, इसलिए आपके सम्पादनो को पूर्ववत कर दिया गया हैं। विकिपीडिया पर कोई भी योगदान कर सकता है और आपके योगदानो का भी स्वागत है किन्तु गुणवत्ता बनाये रखना भी इतना ही आवश्यक होता है। यहाँ हमारा प्रयास नये योगदानकर्ताओ को प्रोत्साहित करना ही होता है और केवल अमान्य सम्पादनो को ही रोलबैक किया जाता हैं। कृपया गुणवत्ता को बनाये रखने और रखरखाव के कार्य में सहयोग कीजिये।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 03:49, 12 फ़रवरी 2017 (UTC)
मैं यहाँ यह स्पष्ट कर दूँ कि संस्कृतनिष्ठ मानक हिन्दी में इसे हिन्दी लिखा जाता है, हिंदी नहीं। पता नहीं आप मैक्स म्युलर के नासिकीकरण लिप्यान्तरण को ही भ्रमवश मानक हिन्दी मान बैठे हो या नहीं परन्तु मैं आपको यह सलाह दूँगा कि आप हिन्दी विकिपीडिया के मुखपृष्ठ पर जाएँ और फिर मुझे बतायें कि विकिपीडिया का लोगो हिंदी विकिपीडिया दर्शा रहा है या हिन्दी विकिपीडिया

Hemant Dabral (वार्ता) 04:25, 12 फ़रवरी 2017 (UTC)

जानकारी देने हेतु धन्यवाद हेमन्त जी। हम @आशीष भटनागर: जी की भी राय लेते है। चर्चा के बाद वर्तनी एकरुपता हेतु न केवल इस लेख किन्तु सभी जगह बॉट से सही वर्तनी को प्रस्थापित कर दिया जायेगा। अत: आप निश्विंत रहीये कि आपका सम्पादन सही है तो उन्हें पुन: स्थापित कर दिया जाएगा। चर्चा करने के लिए धन्यवाद। :) --☆★आर्यावर्त

(✉✉) 04:55, 12 फ़रवरी 2017 (UTC)

अनुस्वार प्रयोग नियमावली[संपादित करें]

नमस्कार सदस्यगण,

आपके द्वारा उठाया गया मुद्दा हिन्दी में मेरे चहेते विषयों में से एक है। इसका कारण वैज्ञानिक विश्लेषण भी हो सकता है, जो मैं बताता हूं:
हिन्दी में अनुस्वार (अर्थात अं की मात्रा ं) का प्रयोग करते समय देखा जाता है कि उसके प्रयोग के बाद कौन सा अक्षर आता है, उदाहरणार्थ मंदिर = म + ं +दिर, यहां अनुस्वार के बाद आने वाला अक्षर है द, जो कि द-वर्ग (दवर्ग) का है।
अब यहां से आगे बढ़ने से पूर्व इसके नियम भी जान लें:
  1. यदि बाद में आने वाला अक्षर क, ख, ग,... (कवर्ग) में से है, जैसे कंघा, तब क के बाद हम कवर्ग का अंतिम अक्षर ङ आधा या हलन्त के साथ लिखेंगे तथा उसके बाद घ लगायेंगे, जैसे कङ्घा, या कङ(हलन्त)घा। इसी प्रकार से गंगा=गङ्गा, लङ्का, आदि।
  2. यदि बाद में आने वाला अक्षर च,छ,ज,... (चवर्ग) में से है, जैसे मंच, तब म के बाद हम ववर्ग का अंतिम अक्षर ञ आधा या हलन्त के साथ लिखेंगे तथा उसके बाद च लगायेंगे, जैसे मञ्च, या मञ(हलन्त)च। इसी प्रकार से चंचल=चञ्चल, पञ्छी, आदि।
  3. टवर्ग के लिये देखें: ठंडा=ठ+ण(हलन्त)+डा= ठण्डा। उदा० बण्टी, मण्डप, अण्डा, आदि।
  4. तवर्क के लिये देखें: मंतर = म+न(हलन्त)+तर = मन्तर। उदा० मंत्र, तंत्र, बंता, मन्दिर, चन्द्रमा, आदि।
  5. पवर्ग के लिये देखें: संपादक = स+म(हलन्त)+पादक= सम्पादक। उदा० पम्प, जम्प, कम्पन, जम्बो, आदि।
  6. अब कवर्ग से पवर्ग तक तो देख लिया। इसका बाद के अक्षरों का प्रयोग यदि अनुस्वार उपरान्त आता है तो हम अं वाली बिन्दी की मात्रा का प्रयोग करते हैं। उदा० तंवर, संवारना, अंश, आदि।
  7. जब अंतिम अक्षर में अनुस्वार का प्रयोग हो, तब अं वाली बिन्दी ही लगायी जाती है, जैसे तथ्यों, आदि। इस अको वैज्ञानिक तरीक एसे देखें तो भी आप यदि बोलेंगे तो मुख से स्वतः ही वही अक्षर निकलेगा जिसको ऊपर वर्ग के अंत से लगाया गया है। अतः आप पन्प, बम्दर, मण्दिर, डन्डा को सरलतापूर्वक बोल भी नहीं सकते हैं।

इस प्रकार देखें तो हेमन्त (न कि हेमंत) जी द्वारा प्रयुक्त वर्तनी शुद्धतम है व मानक हिन्दी भी। अब हिंदी का क्या, क्या ये गलत है, इसका उत्तर भी देखिये। अभी तक हम हिन्दी (अर्थात शुद्ध हिन्दी) की बात कर रहे थे, जो कि राष्ट्रभाषा है। इसके अलावा एक अन्य हिन्दी भी है, जो राजभाषा कहलाती है, जिसमें अधिकतम लोगों को हिन्दी लिखने हेतु बढ़ावा देना भी उद्देश्य है। इसके लिये वे हिन्दी को सरलतम स्तर तक ले जाते हैं। तब ऊपर समझाये गए वैज्ञानिक तथ्यों को छोड़कर मात्र अनुस्वार की बिन्दी लगाकर आगे बढ़ जाने की बात कही गयी है। अतः मानक राजभाषा में हिंदी भी सही है, क्योंकि इसमें तो यदि अनुवाद करते हुए सही शब्द भी न मिले तो केवल लिप्यान्तरण से काम चलाइये, मगर लिखिये हिन्दी में ही:- वाला नियम लागू होता है। इसका बढ़ावा सरकारी कार्यालयों में प्रयोगार्थ किया जाता है, अतः इसमें तो यदि प्रस्ताव शब्द न ध्यान आता हो तो प्रपोज़ भी चलेगा। अतः मेरे विचार से हम हिंदी को गलत तो नहीं कहेंगे, व इसके प्रयोग को भी मना नहीं कर सकते, किन्तु यथासंभव हिन्दी के प्रयोग को बढ़ावा अवश्य देना चाहिये। अब यदि कोई बॉट या AWB की सहायता से बदलना चाहे तो न कोई रोक न कोई प्रशंसा वाली स्थिति बनती है। हां मेरी निजी राय में प्रशंसा का पात्र होगा (कारण मैंने ऊपर दिया ही है न, कि मेरा चहेता विषय है।) शेष जैसा बहुमत एवं सर्वसम्मति बने।

इन्हें भी देखें: हिन्दी वर्तनी मानकीकरण, विकिपीडिया:हिन्दी में सामान्य गलतियाँ, विकिपीडिया:विवादास्पद वर्तनियाँ, मानक हिंदी वर्तनी (केंद्रीय हिंदी निदेशालय द्वारा जारी), एवं वर्तनी जाँचक
आशा है मैंने अच्छे से समझा दिया है। आशीष भटनागरवार्ता 11:41, 12 फ़रवरी 2017 (UTC)
सूचनार्थ: एक अन्य हिन्दी भी है, जो सामान्य बोलचाल में बोली जाती रही है, व जिसमें उर्दु, फारसी, अंग्रेज़ी तथा अन्य निकटवर्ती स्थानीय भाषाओं का समावेश/ मिश्रण होता है; इसको हिन्दुस्तानी कहा जाता है। इसका ब्यौरा फिर कभी आशीष भटनागरवार्ता 11:44, 12 फ़रवरी 2017 (UTC)
@आशीष भटनागर: जी, आपने बहुत ही अच्छी तरह से समझाया और सब संशय दूर हो गये। आपकी छत्रछाया में अब हमारी हिन्दी में निखा़र आयेगा। उक्त लेख में हेमन्त जी के बदलावो को स्थापित कर दिया है और कल बॉट चलाकर सभी लेखो में वर्तनी एकरुपता हेतु हिन्दी कर दूँगा।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 14:55, 12 फ़रवरी 2017 (UTC)
आर्यावर्त जी, बॉट चलाकर इतना बड़ा बदलाव बिना चौपाल पर चर्चा किये बिना नहीं करियेगा।--पीयूष सदस्य:हिंदुस्थान वासी (वार्ता) 15:40, 12 फ़रवरी 2017 (UTC)
जी, पीयूष जी।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 16:03, 12 फ़रवरी 2017 (UTC)
हां, ये अवश्य ध्यान रखें, कि जो बदलाव पूरे हिन्दी विकि को प्रभावित करने वाला हो, उसके लिये सदा ही सम्मति ले लीजिये चौपाल पर, तब जैसा निर्णय हो वैसा कीजिये। ये आपको भविष्य के किसी भी विवाद से बचा लेगा। वैसे मेरी राय में पूर्व के हिंदी को हिन्दी ही रहने दें तो भी चलेगा, भविष्य के लिये नीति अवश्य तय कर ली जानी चाहिये।आशीष भटनागरवार्ता 04:08, 13 फ़रवरी 2017 (UTC)

देखें: वर्तनी मानक शीर्षक[संपादित करें]

बिरजू महाराज[संपादित करें]

उपरोक्त लेख सुधार कार्य प्रगति पर है। कुछ समय दीजियेगा। --आशीष भटनागरवार्ता 06:53, 13 फ़रवरी 2017 (UTC)

शब्दकोश[संपादित करें]

कृपया आवकार्य का अंग्रेजी अनुवाद करें और हमें अवगत कराएं। इससे हमारा शब्दकोश बढ़ेगा। धन्यवाद।-- ए० एल० मिश्र (वार्ता) 14:09, 16 फ़रवरी 2017 (UTC)

नमस्ते मिश्र जी, अंग्रेज़ी शब्दकोश के लिए नये शब्द का आविष्कार करना तो मेरे वश की बात नहीं है किन्तुं अंग्रेज़ी में इस शब्द के लिए acceptable, allowable और इनके समानार्थी शब्दों का प्रयोग होता हैं।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 02:48, 17 फ़रवरी 2017 (UTC)
  • "आपका सुझाव आवकार्य है"यह वाक्य आपने चौपाल में स्तेमाल किया और शायद यह ऐसा इसलिए हुआ कि आप की मातृ भाषा गुजराती है या फिर गुजराती भाषा का प्रभाव है । वास्तव में आवकार्य हिंदी का कोई शब्द ही नहीं है। हिंदी के शब्दों को वाक्य में सम्मिलित करने के पहले उस शब्द का अर्थ समझना भी आवश्यक है चाहें तो गूगल ट्रांसलेट की सहायता ले सकते हैं। गूगल ट्रांसलेशन में शब्दों के कई अर्थ हो सकते हैं लेकिन यह आप पर निर्भर करता है कि उस वाक्य के लिये उपयुक्त शब्द का चयन कैसे करते हैं। acceptable का हिंदी अनुवाद स्वीकार्य है और शायद आप का आशय भी यही है। हम आप के स्नेही हैं। धन्यवाद।-- ए० एल० मिश्र (वार्ता) 03:56, 17 फ़रवरी 2017 (UTC)
जी सर, ये शब्द का प्रयोग गुजराती में सर्वाधिक होता है। मूल संस्कृत शब्द आय:, आना (जाने का विरोधी शब्द); इनसे आवक शब्द बना और आवक से आवकार्य शब्द का प्रादुर्भाव हुआ। आयात इत्यादि शब्द भी इसी मूल संस्कृत शब्द से बने है। संस्कृत एसी भाषा है जिसमें करोड़ो शब्द हैं और और नये बन सकते हैं। मैं एसा प्रथम व्यक्ति नहीं हूँ जिसने हिन्दी में आवकार्य शब्द का प्रथम बार प्रयोग किया हो। कृपया यहाँ देखें। दूसरी पंक्ति में हमें शेरनी भी आवकार्य है पर हिरनी नहीं। एसा वाक्य प्रयोग है। यहाँ लेख की अंतिम पंक्ति में आपको आवकार्य शब्द मिलेगा। उम्मीद है कि आपके व्यक्तिगत शब्दकोश में ये नया शब्द जूड़ गया होगा।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 06:01, 17 फ़रवरी 2017 (UTC)
  • हम आप के तर्क से सहमत है कि अन्य स्थानों में भी आवकार्य शब्द प्रयुक्त हुआ है। हम इस तथ्य से अवगत हो गए कि यह शब्द गुजराती भाषा का मूल शब्द है और शायद इसीलिए आवकार्य शब्द का अंग्रेजी भाषा में अनुबाद नहीं होता है।अभी तक हिंदी खड़ी बोली में आवकार्य शब्द प्रयुक्त नहीं हो रहा है । धन्यवाद।-- ए० एल० मिश्र (वार्ता) 11:34, 17 फ़रवरी 2017 (UTC)

पीटर मैन्सफील्ड[संपादित करें]

आपके बॉट खाते ने पीटर मैन्सफील्ड लेख में अन्य लेखों की कम कड़ियाँ होने का टैग चिपका दिया। १० से अधिक लेखों में इस लेख की कड़ी जुड़ी है जबकि लेख में भी १० से अधिक लेखों की कड़ियाँ जुड़ी हुई हैं। मैं आपके ऐसा टैग लगाने का मानदण्ड जानना चाहता हूँ।☆★संजीव कुमार (✉✉) 14:52, 19 फ़रवरी 2017 (UTC)

नमस्ते संजीव जी, ध्यानाकर्षण हेतु धन्यवाद। लेख से टैग हटा दी है। AWB में स्वत: टैल लगाने वाली प्रणाली को सक्रिय करने के बाद इस लेख में ये टैग AWB ने स्वत: ही लगा दी थी।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 04:22, 20 फ़रवरी 2017 (UTC)

Your feedback matters: Final reminder to take the global Wikimedia survey[संपादित करें]

(Sorry for writing in English)

डॉ.बाबासाहेब अम्बेडकर मराठवाडा विश्वविद्यालय[संपादित करें]

सदस्य आर्याजी आपसे विनंती है कि आप http://bamua.digitaluniversity.ac/ इस वेबसाईट को जरूर देखे। मै औरंगाबाद स्थित हुं और इस विश्वविद्यालय के नाम से परिचित हुं। कृपया आप से अनुरोध है कि मेरा संपादन वेबसाईट देखकर बदले. http://bamua.digitaluniversity.ac/ Salveramprasad (वार्ता) 13:50, 23 फ़रवरी 2017 (UTC)

@Salveramprasad: जी, आप जहाँ इस जालस्थल की कड़ी ड़ाल रहे है इस तरह से लेख के बिच में केवल और केवल विक्पीडिया के लेखों को ही कडी़बद्ध किया जाता है। पृष्ठ के अंत में बाहरी कड़ियाँ नाम के विभाग में कुछ मर्यादा में बाहरी कड़िया होती है लेकिन वोह लेख में पूरक होनी चाहिये। इस विश्वविद्यालय आंबेडकर जी के नाम से है इसका मतलब ये नहीं कि इसकी कड़ी लेख में होनी चाहिए। आंबेडकर जी के नाम से बहोत से संस्थान हैं जिनमें से एक ये है।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 15:08, 23 फ़रवरी 2017 (UTC)
  • मूल विषयसे न हटे। उपरोक्त विश्वविद्यालय का नाम क्या है। यह अधिकृत विश्वविद्यालय कि दी हुई कडी देखकर सुनिश्चित करे। Salveramprasad (वार्ता) 15:19, 23 फ़रवरी 2017 (UTC)
जी मैं आपको यहीं बता रहा हूँ कि आंबेडकर जी के नाम से है इसका मतलब ये नहीं कि इसकी कड़ी लेख में होनी चाहिए। ये विश्वविद्यालय का जालस्थान है ना कि आंबेडकर जी का।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 15:26, 23 फ़रवरी 2017 (UTC)
@आर्यावर्त: जी, बाबासाहब आंबेडकर जी के नाम से अनेक विश्वविद्यालय तथा संस्था है, और उपरोक्त विश्वविद्यालय का नाम बाबासाहाब के नाम से है इस आपके अज्ञान को दूर करणे हेतू मैने बहारी कडी संदर्भ मे जोडी गई है. मै उसी विश्वविद्यालय मै पढा हुं. और विश्व विद्यालय का जालस्थाल बाबासाहाब आंबेडकर का नाम विश्वविद्यालय को होने कि वजहसे तयार हुवा है.

मूल प्रश्न यह है कि आप जालस्थाल देखकर सुनिश्चित करे. Salveramprasad (वार्ता) 15:40, 23 फ़रवरी 2017 (UTC)

मेरी तरफ से सलाह[संपादित करें]

आर्यावर्त जी नमस्ते, आप अच्छा कर रहे है। बस मैं आपको अपने अनुभव से सलाह देना चाहुँगा कि आप थोड़ा धीरे चले। अच्छी नीयत में बनाये गए किसी लेख को तुरंत नामांकित न करें जैसा आपने हिन्दू सन्त व कानून पर किया। थोड़ा समय (1-2 दिन) लेख को सुधारने के लिये दिया करें। साथ ही आप किसी नियम न मानने वाले के पीछे भी न पड़ा करे। किसी मामले को प्रबंधक सूचनापट पर रखा करे।--पीयूष सदस्य:हिंदुस्थान वासी (वार्ता) 16:36, 23 फ़रवरी 2017 (UTC)

नमस्ते पीयूष जी, धन्यवाद। आप तो बर्बरता से लड़ने वाले सब से पुराने योद्धा है या तो सेनापति है। दर असल जिस लेख का जिक्र आपने यहाँ किया है उसके बारे में विकिपीडिया के व्हाट्सएप दल पर चर्चा हुई थी और हहेच नामांकित करने का निर्णय लिया गया था। प्रबंधक सुचनापट में ड़ालने से पूर्व इस दल में चर्चा हो जाती है जिसमें शायद आप सम्मिलित नहीं है क्योंकि जब ये व्हाट्सएप दल बना तब कुछ लम्बे काल तक आप सक्रिय नहीं थे। सभी प्रबंधक और सक्रिय पुनरीक्षक भी वहाँ मौज़ूद है और इस प्रकार की चर्चाएँ प्रसूपट की तुलना में यहाँ शीघ्र ही हो जाती हैं।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 17:10, 23 फ़रवरी 2017 (UTC)

सुधालेख सूचना[संपादित करें]

इस सप्ताह का सुधार हेतु लेख (सप्ताह 9, 2017)[संपादित करें]

Einstein 1921 portrait2.jpg

अल्बर्ट आइंस्टीन

नमस्ते, आर्यावर्त जी।

इस सप्ताह हमने सुधार हेतु निम्नलिखित लेख को चुना है:

अल्बर्ट आइंस्टीन


आएँ, सुधालेख परियोजना में शामिल हों -
MediaWiki message delivery (वार्ता) 08:38, 27 फ़रवरी 2017 (UTC) द्वारा पोस्ट किया गया • सूचनाएँ बंद करें

शीह नामांकन[संपादित करें]

नमस्ते @SM7: जी, सुप्रभात।
  • आपकी बात सही है, सदस्य अनुरोध के तहत इसका नामांकन हो सकता था।
  • ये दूसरे बहुवि पृष्ठ के लिए मुझे शीह में कोई उचित मापदंड नहीं मिला। पृष्ठ बहुवि के नाम से हा किन्तु उसमें किसी भी लेख की कड़ी नहीं हैं। आप परीक्षण पृष्ठ मानकर भी हटा सकते हैं।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 03:00, 28 फ़रवरी 2017 (UTC)
ट्विंकल में सदस्य अनुरोध का विकल्प दीखा ही नहीं। शायद ये केवल सदस्य पृष्ठ से जुड़े पन्नों पर ही दिखता होगा।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 03:11, 28 फ़रवरी 2017 (UTC)

en:51826 Kalpanachawla- के अनुसार इस 51826 कल्पनाचावला चार लाइन लिखे दें तो यह हटाने लायक नहीं रह जाएगा। --SM7--बातचीत-- 19:15, 1 मार्च 2017 (UTC)

क्षमा करें किन्तु लेख में एसा एक वाक्य भी लिखा होता कि जिससे पता चलता कि ये कल्पना चावला का कॉड नंबर है तो शायद एसा नहीं होता। देर आये दुरस्त आये, अभी भी लिख सकते है। तीन बजे के बाद अवकाश मिलेगा।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 06:33, 2 मार्च 2017 (UTC)

आपकी टिप्पणी[संपादित करें]

नमस्ते आर्यावर्त जी, आपने विकिपीडिया:पृष्ठ हटाने हेतु चर्चा/लेख/अर्थशास्त्र में नोबेल पुरस्कार पर एक उत्तेजित करने वाली टिप्पणी की है। कृपया उसका कारण दें। आप उस टिप्पणी में किस महानता की बात कर रहे हैं और आप एक व्यक्तिगत टिप्पणी से क्या सन्देश देना चाहते हैं? आपने मेरे उपर ऐसी व्यक्तिगत टिप्पणी क्यों की? यदि कारण नहीं बताया तो मैं इस मुद्दे को चौपाल पर लेकर जाऊँगा।☆★संजीव कुमार (✉✉) 18:19, 3 मार्च 2017 (UTC)

हहेच समापन[संपादित करें]

नमस्ते आर्यावर्त जी, विकिपीडिया:पृष्ठ हटाने हेतु चर्चा/लेख/शनि की साढ़े साती पर आपने निर्णय लिया है जबकि यह नामांकन हुए दो दिन भी नहीं हुए और नामांकनकर्ता और पृष्ठ निर्माता के अलावा किसी अन्य ने अपनी राय भी नहीं दी है। हालाँकि, मैंने अभी इस लेख को विकिडेटा से जोड़ा ही था और एक संदर्भ में कुछ सुधार भी किया तथा अन्य सन्दर्भ खोज रहा था और इसे हटाने के पक्ष में नहीं हूँ, पर आपकी जल्दबाजी का कारण नहीं समझ में आया। --SM7--बातचीत-- 07:31, 8 मार्च 2017 (UTC)

नमस्ते @SM7: जी, आप लेख देखेंगे तो पता चल जायेगा कि इसे हटाने का अब कोई कारण नही बचा। हहेच कारण ज्ञानकोशिय है या नहीं ये था जो अब साबित हो गया है। ज्ञानकोशिय लेख बन गया है। ज्यादातर लेखों में चर्चा हेतु समयावधि देनी चाहिये किन्तु यहाँ स्थिति भिन्न है। आशीष जी ने शीघ्रता से बहूत अच्छा लेख बना दिया है। इसी प्रकार कोई पृष्ठ एसा होता है कि शीघ्र हटाने की श्रेणी में आता है किन्तु सदस्य ने हहेच नमांकन किया है तो भी विना विलंब पृष्ठ को हटाया भी जा सकता है। समयावधि का मकसद भी तो यही होता है। मैं एसा मानता हूँ।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 09:24, 8 मार्च 2017 (UTC)

इस सप्ताह का सुधार हेतु लेख (सप्ताह 11, 2017)[संपादित करें]

England vs South Africa.jpg

टेस्ट क्रिकेट

नमस्ते, आर्यावर्त जी।

इस सप्ताह हमने सुधार हेतु निम्नलिखित लेख को चुना है:

टेस्ट क्रिकेट


आएँ, सुधालेख परियोजना में शामिल हों -
MediaWiki message delivery (वार्ता) द्वारा SM7 (वार्ता) 12:35, 13 मार्च 2017 (UTC) की ओर से पोस्ट किया गया • सूचनाएँ बंद करें

विकिपीडिया:सदस्य नाम नीति पर आपके संपादन को वापस करना[संपादित करें]

नमस्ते आर्यावर्त जी, उक्त संपादन को इसलिए वापस किया है क्योंकि, जब किसी प्रस्तावित नीतिगत (या अन्य) मसविदे पर चर्चा चल रही हो तो उसके दौरान अपनी पसंद के बदलाव सीधे मसविदे में ही शामिल करने की बजाय चर्चा में सुझाया जाता है। आशा है आगे से भी यह ध्यान में रखेंगे। धन्यवाद।--SM7--बातचीत-- 11:31, 14 मार्च 2017 (UTC)

मेरी महेनत विफल गई। फिलहाल समय का अभाव है, प्रास्ताविक मुद्दों को आप ही देखलें।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 12:54, 14 मार्च 2017 (UTC)

आंबेडकर जी के योगदान[संपादित करें]

डॉ॰ भीमराव अंबेडकर का भारत के विकास में बडा योगदान रहा है। एक अर्थशास्त्री, समाजशास्त्री, शिक्षाविद् और कानून के जानकार के तौर पर अंबेडकर ने आधुनिक भारत की नींव रखी थी।

ऐसा आंबेडकर जयंती लेख में लिखा है, अब इससे तो आपत्ती नहीं है? और आपने हटाये हुए योगदानोॅ का संदर्भ ग्रूप पर भेजता हूँ। मैंने वहां केवल एक ब्लॉक के अलावा भी अन्य तीन श्रेणीयाँ लगाई है, उसे भी तो पढीए। धन्यवाद। आशा अब आप संपादन पूर्ववत नहीं करेंगें। धन्यवाद। संदेश हिवाळे (वार्ता) 05:59, 15 मार्च 2017 (UTC)

इस सप्ताह का सुधार हेतु लेख (सप्ताह 12, 2017)[संपादित करें]

Nathu La-Stairs.JPG

नाथूला दर्रा

नमस्ते, आर्यावर्त जी।

इस सप्ताह हमने सुधार हेतु निम्नलिखित लेख को चुना है:

नाथूला दर्रा


आएँ, सुधालेख परियोजना में शामिल हों -
MediaWiki message delivery (वार्ता) द्वारा SM7 (वार्ता) 18:00, 20 मार्च 2017 (UTC) की ओर से पोस्ट किया गया • सूचनाएँ बंद करें

ऑटोविकिब्राउज़र जाँच पन्ने पर आपकी समीक्षा[संपादित करें]

नमस्ते आर्यावर्त जी, उपरोक्त जाँच पृष्ठ पर आपने स्वप्निल जी के अनुरोध की समीक्षा किया था और प्रश्न पूछे थे, कृपया उसे पूर्ण करके सूचित करें। आपके द्वारा उठाये गए दोनों बिंदु मुझे समझ में नहीं आये, परन्तु वहाँ कोई टिप्पणी उचित नहीं लगी इसलिए आपके वार्ता पन्ने पर लिख रहा। ऑटोविकिब्राउज़र के प्रयोग में स्वतः परीक्षित अधिकार होने/न होने से क्या आशय है, और इसकी अनुमति के पूर्व कोई इसका प्रयोग कैसे करेगा, ये दोनों बातें स्पष्ट करें। सादर धन्यवाद। --SM7--बातचीत-- 09:42, 24 मार्च 2017 (UTC)

भीमराव आंबेडकर[संपादित करें]

मैं कुछ भी संपादन करू तो आप क्यों बार बार पूर्ववत करते है, मैंने जो संपादन किया उसमें गलत जानकारी क्या है?? आप आंबेडकर के बारे में नहीं जानते यही बडी समस्या है!! संदेश हिवाळे (वार्ता) 09:11, 31 मार्च 2017 (UTC) संदेश हिवाळे (वार्ता) 09:11, 31 मार्च 2017 (UTC)

नमस्ते संदेश जी, जैसे आपको पहले भी सूचित किया गया है की इस विषय पर आप सम्पादन करना छोड़ दीजिये। वहाँ हम सुधार कर देंगे और सुधार चल भी रहा है। आपके बहुत से संपदानों का अभी पुनरीक्षण बाकी है। प्रबन्धक द्वारा आपको अंतिम चेतावनी भी दी गई है।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 09:24, 31 मार्च 2017 (UTC)


क्यू बार बार आप अपनी गलतियों को नकार देते है? मेरे संपादन झूटे है ये पहले सिद्ध करे फिर उन्हे हटाए। और आंबेडकर विषय आपके बस की बात नहीं है, क्योक्योंकि आप आंबेडकर जी प्राथमिक जानकारी से भी दूर है। आंबेडकर का अपमान करना छोड दिजिए। आपने कहाँ था की, आंबेडकर प्रचारक जानकारी नहीं होना चाहिए तो मैंने वैसा किया किंतु मेरा कुछ भी लिखना प्रचार के में आप क्यू लाते है। जानता हूँ आपको विकि सदस्यों पूरा समर्थन प्राप्त है किंतु आप गलत कर रहे है, जिसे आप समझ नहीं रहे या जानबुझ कर कर रहे है, अगर कोई सत्य जानकारी लिखें तो आपको ऐतराज नहीं होना चाहिए किंतु आपको है। उस लेख में बहुुत सी बातें आपने और आपके साथिओं गलत ढंग से लिखी है। आप भीमराव आंबेडकर लेख में केवल आंबेडकर जी अपमान ही कर सकते है अन्य कुछ भी नहीं..!!! अज्ञानता छोडे और सच्चाई खोंजे, मेरे संपादन के हर शब्द में सच्चाई है, और आपने उसे हटाने में केवल अज्ञानता या आंबेडकरविरोध ही है। आप जैसे लोग हिन्दी विकि को खोकला कर रहे है।

संदेश हिवाळे (वार्ता) 09:43, 31 मार्च 2017 (UTC)

कृपया दूसरे विषय पर योगदान दें।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 10:14, 31 मार्च 2017 (UTC)
कृपया सत्य को न हटाये !! पहले जाँच करे, मेरे संपादन हटाकर, मुझे गलद और खुद  सही समझना केवल मुर्खता है।

संदेश हिवाळे (वार्ता) संदेश हिवाळे (वार्ता) 10:20, 31 मार्च 2017 (UTC)

इस सप्ताह का सुधार हेतु लेख (सप्ताह 14, 2017)[संपादित करें]

{{subst:सुधालेख साप्ताहिक सूचना|1=MediaWiki message delivery (वार्ता) द्वारा SM7 (वार्ता) 02:26, 3 अप्रैल 2017 (UTC)

इस सप्ताह का सुधार हेतु लेख (सप्ताह 14, 2017)[संपादित करें]

Tajik girls on holiday Navruz.jpg

नौरोज़ मनाती ताजिकिस्तानी लड़कियाँ

नमस्ते, आर्यावर्त जी।

इस सप्ताह हमने सुधार हेतु निम्नलिखित लेख को चुना है:

नौरोज़


आएँ, सुधालेख परियोजना में शामिल हों -
MediaWiki message delivery (वार्ता) द्वारा SM7 (वार्ता) 02:31, 3 अप्रैल 2017 (UTC) की ओर से पोस्ट किया गया • सूचनाएँ बंद करें

इस सप्ताह का सुधार हेतु लेख (सप्ताह 15, 2017)[संपादित करें]

Ahalya.jpg

राजा रवि वर्मा द्वारा निर्मित अहिल्या का चित्र।

नमस्ते, आर्यावर्त जी।

इस सप्ताह हमने सुधार हेतु निम्नलिखित लेख को चुना है:

अहिल्या


आएँ, सुधालेख परियोजना में शामिल हों -
MediaWiki message delivery (वार्ता) द्वारा संजीव कुमार (वार्ता) 03:26, 10 अप्रैल 2017 (UTC) की ओर से पोस्ट किया गया • सूचनाएँ बंद करें

आपके हहेच नामांकन[संपादित करें]

नमस्ते आर्यावर्त जी, मुझे लगता है आप लगातर हहेच नामांकन करने के बजाय Dr. Manavpreet Kaur जी से एक बार उनके वार्ता पन्ने पे बात कर के देख लें। वे शायद किसी परियोजना के रूप में ये लेख बना रही हैं। आप उन्हें सुझाव दे दें कि पर्याप्त उल्लेखनीय लोगों पर ही लेख बनायें। तब तक आप भी उनके बनाये लेखों को हटाने की चर्चा के लिए नामांकित न करें तो अच्छा होगा। इस तरह सीधे बिना बात किये हहेच करने से नए सदस्य हतोत्साहित होते हैं। कृपया अपने कार्य पे विचार करें। धन्यवाद। --SM7--बातचीत-- 17:25, 18 अप्रैल 2017 (UTC)

नमस्ते, @SM7: जी, मैं आपकी बात से सहमत हूँ। सदस्य १०० दिन में महिलाओं के १०० लेख बनाने की परियोजना के साथ लेख बना रहे है। जहाँ तक नये लेख बनाने की बात है तब तक तो ये बहुत ही अच्छा कार्य हो रहा है किन्तु इसके साथ दूसरे सदस्यों के द्वारा भी सैंकड़ो ऐसे लेख बने है जो उल्लेखनीय नहीं है। मैने सदस्य को व्हाट्सएप पर विकि के दल में व्यक्तिगत तौर पर ये सब बातें समझायी ही है। श्रेणीकरण और भाषा के विषय में भी विस्तार से बताया है। मैं अभी उनके वार्तापृष्ठ पर भी सन्देश छोड़ता हूँ। जहाँ तक उल्लेखनीयता और गुणवत्ता कि बात है हमें आज नहीं तो कल कठोर निर्णय लेना ही पड़ेगा। अभी लेख में हहेच के बदले उल्लेखनीयता की टाग लगा देता हूँ। सदस्यों को उल्लेखनीयता न होने पर लेख हटाया जाता है इसका अहेसास दिलाना भी आवश्यक है।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 06:52, 19 अप्रैल 2017 (UTC)
आजकल मैं आपने गृहनगर में नहीं बल्कि एक लम्बे प्रवास पर हूँ। अतः वाट्स एप समूह की चर्चाएँ नहीं देख सकता और वो वाट्स एप नम्बर आजकल मेरे पास नहीं है। पर जैसा आप कह रहे हैं कि ऐसी चर्चा हुई और Dr. Manavpreet Kaur जी जैसा आपने वार्ता पन्ने पन्ने पे कह रही हैं, आगर आपने उन्हें केवल इसलिए लेख बनाने से मना किया कि उनमें कुछ गलतियाँ हैं या विषय आपको उल्लेखनीय नहीं प्रतीत हुए, तो यह शायद उचित नहीं। और किसी को अनौपचारिक समूह में ऐसी कोई बात न कहें। हर सदस्य का वार्ता पन्ना है, जहाँ आप अपनी बात औपचारिक रूप से लिख सकते हैं। यह "ऑन रेकार्ड" रहता है और सबके सामने भी।
आप ने जो हहेच नामांकन किये उन्हें उल्लेखनीयता के टैग से बदल रहे हैं यह अच्छी बात है। उल्लेखनीयता को मुद्दा मानकर हहेच करने और उल्लेखनीयता के टैग में अंतर भी आपको समझना चाहिए।
कठोर निर्णय बहुत अच्छी बात है, पर नए सदस्यों के प्रति आँख मूँदकर नहीं। इससे सदस्य विकिपीडिया ही छोड़ दे, यह कहीं से उचित नहीं। हाँ, जो साफ़ प्रचार कर रहे, कोई काम लगातार बदनीयती से कर रहे, या लगातार उत्पात ही कर रहे उनसे कठोर तरीके से निपटिये।
आपको याद होगा नेपाली सदस्यों को भागने के बजाय नेपाल में हिंदी विकिपीडिया की पकड़ मजबूत करने जैसे कुछ अजेंडा लिख था आपने भावी सम्मेलन हेतु। सोचिये।
दूसरी बात, ग़लती समझाने के अन्य तरीके भी हैं। मानवप्रीत जी को गलती मैंने भी दिखाई कि श्रेणी सही से जोड़ें, और मैंने देखा उसके बाद उन्होंने यह सुधार किया भी। मैंने इन लोगों के बनाये लेख देखे हैं, कई ऐसे भी जो हमारे पुनरीक्षकों द्वारा बिना जाँचे छोड़ दिए गए थे और उनमें सुधार भी करने का प्रयास किया है। सुधार करने के बाद उसे उदाहरण के रूप में सदस्य को भी बताया कि इसे देखें और इसके अनुसार आगे ग़लतियाँ न करें। मेरे ख़याल से यह सुझाव देने का सबसे उचित तरीका है। हाँ, आप जानते हैं, मैं महीना पूरा होने पर जो सम्पादन जाँचे बिना छूट रहे होते केवल उनका पुनरीक्षण करता हूँ इसलिए लगभग एक महीना पीछे रहता हूँ।
कृपया आप भी अपनी कार्यशैली पर पुनर्विचार करें और किसी को वाट्स एप पर कोई चेतावनी जैसा कुछ न कहें। धन्यवाद। --SM7--बातचीत-- 10:47, 19 अप्रैल 2017 (UTC)
मार्च से सम्पादन और लेख में जाँच रहा हूँ। मैंने भी मानवप्रीत जी के कई लेख जाँचें हैं। उनमें कमियाँ है पर ऐसा थोड़े ही है कि सारे नए लेख 100 प्रतिशत सही होने चाहिये। उसके लिये निर्वाचित लेख की श्रेणी मौजूद है। कृपया आर्यावर्त जी किसी को भी विकिपीडिया से बाहर पुनरीक्षक होने के नाते धमकायें नहीं। ऐसा प्रदर्शित न करे कि आप की राय हम सब की राय है।--हिंदुस्थान वासी वार्ता 12:11, 19 अप्रैल 2017 (UTC)
बीच में घुसने के लिये क्षमा। परन्तु धमकायें नहीं इसका क्या अर्थ निकाला जाए सदस्य:हिंदुस्थान वासी महोदय। किसी को कुछ कहना अर्थात् धमकाना हुआ, तो आपको स्मरण होगा कि आपके पूर्व प्रबन्धक नामांकन में क्या हुआ था। सब ने आपके ऊपर भी कठोर शब्द प्रयोग करना और नये सदस्यों को भगा देने का आरोप लगा गया था। फिर आपको बुरा भी लगा था। आपके साथ जो हुआ, वो आप आगे किसी और के साथ करने जा रहे हैं। तब आप पुनरीक्षक थे और आज आर्यावर्तजी हैं। सभी के साथ यही होता है। सब में सद्भावना नहीं होती। आपने मेरा विरोध किया, तो आप मेरे शत्रु हो गये ऐसी धारणा सामान्य होती है। आर्यावर्तजी किसी को धमका नहीं रहे और न सम्पादन करने से रोक रहे हैं। वे केवल उल्लेखनीयता के मुद्दे पर चर्चा कर रहे थे। हेहेच न लगाएँ, शीह न लागायें और सदस्यों से बात न करें, तो पुनरीक्षक अधिकार क्यों दिया जाता है? यहाँ आगे बढने के बाद ये न भूले कि, किसी न किसी ने किसी न किसी को आगे बढाया है। आपके प्रबन्धक के नामांकन के समय आर्यावर्तजी से मेरी बात हुई थी, उन्होंने सद्भावना के साथ समर्थन दिया था। वे भी जानते थे कि आपके साथ जो हुआ था वो अनुचित हुआ था। मैं कुछ दिनों से देख रहा हूँ कि, बात बात पर आर्यावर्तजी से उलझा जाता है। स्वयं को भी समझना चाहिये कि पुनरीक्षण का कार्य कठिन है और यदि इस में कठोरता न की जाये तो विकि-अवकरपात्र बना जायेगा। सब ने टोक टोक कर आर्यावर्तजी का उत्साह ही नष्ट कर दिया है। अब वें निरुत्साहित प्रतीत हो रहे हैं। जब एक सक्रिय पुनरीक्षक निरुत्साहित होता है, तो दूसरे पुनरीक्षक को पहले पता चलता है। क्योंकि उसे दिखता है कि, अब उसे पहले से अधिक कार्य करना पड़ता है। जाकर देखें पिछले एक माह के नये बने लेखों में कितने ही लेख पुनरीक्षित ही नहीं हुए हैँ। क्यों ? क्योंकि उनको बार बार टोका गया। क्षति सब से होती है परन्तु बताने की एक पद्धति होती है, ये नहीं भूलना चाहिये। आज प्रबन्धकगण या उनमें से कुछ ये भूल चुके हैं कि, प्रशंसा सब के सम्मुख करें और परामर्श एकान्त में। क्षमा करें यदि अधिक कह दिया। परन्तु आप सभी से निवेदन है कि, कृपया धैर्य से कार्य करें। सब से अधिक कठिन पुनरीक्षण कार्य है। उसको करने वाले की वैसे ही सहायता करें, जैसे आरक्षक की करते हैं। अस्तु। ॐNehalDaveND 15:33, 19 अप्रैल 2017 (UTC)

सहनशीलता विकिप्रेम[संपादित करें]

Antiflame-barnstar.png सहनशीलता विकिप्रेम
आश्चर्य है कि, नवागन्तुकों को भी विकिप्रेम बाँटे जाते देखा है मैंने, परन्तु आपको अभी तक एक ही विकिप्रेम दिया गया। आपकी पुनरीक्षण क्षमता के साथ साथ आपकी सहनशीलता भी अद्भुत है। कोई प्रोत्साहन नहीं और सभी ओर से विरोध फिर भी आप विकिपीडिया के लिये अविरत कार्य कर रहे हैं। अतः आपके लिये ये सहनशीलता विकिप्रेम। ॐNehalDaveND 16:29, 19 अप्रैल 2017 (UTC)

हहेच परियोजना[संपादित करें]

नमस्ते आर्यावर्त जी, कृपया हहेच परियोजना को बन्द करें। आपने बेवजह लोगों के द्वारा निर्मित लेखों को हहेच में डालना आरम्भ कर दिया है। समीक्षा के अन्तर्गत मैंने पाया है कि आपके द्वारा हहेच-नामांकित अधिकतर लेख उन नीतियों के अनुसार अधूरे नहीं हैं जिनके अनुसार आपने उन्हें नामांकित किया है।☆★संजीव कुमार (✉✉) 12:05, 20 अप्रैल 2017 (UTC)

@संजीव कुमार: जी, क्या आपके द्वारा की गई समीक्ष को अंतिम मना जाएगा। क्या आप विकी के मालिक है। यदि हा तो गुरमेहर कौर की चर्चा को बंद करे। क्यु अभी तक चर्चा चल रही है। वो भी तो आर्यावर्त ने की थी। आज हमे पता चला कि हहेच का अर्थ होता है शीह --जयप्रकाश >>> वार्ता 13:01, 20 अप्रैल 2017 (UTC)
@संजीव कुमार: जी, बंध कर दिया । धन्यवाद।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 13:25, 20 अप्रैल 2017 (UTC)
@Jayprakash12345: कृपया अपने प्रश्न मेरे/अपने वार्ता पृष्ठ पर लिखें।☆★संजीव कुमार (✉✉) 08:53, 21 अप्रैल 2017 (UTC)

ख़ालिस्तान‎ कारण दो[संपादित करें]

आपने मेरा संपादन क्या सोचकर किया था। मुझे कारण दो। वह आतंकवादी सगठन नहीं पर वो मुदा आतंकवाद से जुडा है। संपादन हटाने से पूर्व सोच ले करे। इतना कश्मीर अलगव प्रेम ठीक नहीं।--जयप्रकाश >>> वार्ता 13:47, 21 अप्रैल 2017 (UTC)

@Jayprakash12345: जी, मैं आपसे क्षमाप्रार्थी हूँ। मॉबाईल ब्राउजर में दूसरी जगह क्लिक करने पर किसी तकनिकि कारणों से आपके सम्पादन में वापिस लें वाला बटन दब गया था और इस कारण आपका सम्पादन पूर्ववत हो गया। जिसे तुरंत ही पुन:स्थापित कर दिया गया था।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 17:23, 21 अप्रैल 2017 (UTC)