विकिपीडिया:प्रबन्धक सूचनापट

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Archive
पुरालेख

यह परियोजना पृष्ठ प्रबंधकों को सूचना देने के लिये है।

इस पृष्ठ का उपयोग[संपादित करें]

  • यह पृष्ठ प्रबंधकों के लिये है।
  • इससे प्रबंधक प्रबंधकाधीन कार्यों कि चर्चा के लिये प्रयोग करते हैं।
== सूचना शीर्षक (दिनांक माह वर्ष) ==


पुनरीक्षण का अधिकार हटाने के लिये[संपादित करें]

नमस्ते प्रबन्धक गण! व्यक्तिगत कारणों से मैं अब हि.वि पर पुनरीक्षण का दायित्व वहन करने में असमर्थ हूँ। अतः बिना किसी कारण इस अधिकार को रखना उचित न समझते हुए, ये निवेदन कर रहा हूँ। कृपया मेरी लेखा से पुनरीक्षण का अधिकार समाप्त करें। अस्तु। ॐNehalDaveND 13:56, 18 अगस्त 2017 (UTC)

@NehalDaveND: कृपया पुनर्विचार करें और तदनुसार सूचित करें। --SM7--बातचीत-- 14:41, 17 सितंबर 2017 (UTC)
पुनर्विचार अर्थात् मैंने जो विचार किया है, वो आपके सम्मुख प्रस्थापित करता हूँ इस में यदि आपको लगे कि मुझे अभी भी पुनर्विचार की आवश्यकता है, तो स्वदोष का उन्मूलन करने के लिये सज्ज हूँ। सर्वप्रथम तो आप वार्ता:2017 अमरनाथ यात्रा हमला इस वार्ता पृष्ठ की चर्चा देखें, जिसमें पीयूषजी ने बिना तर्क दिये तार्किक रूप से सही लिख कर विवाद को जन्म दिया है। यदि हिन्दी विकिपीडिया में मैं हिन्दी शब्दों का प्रयोग नहीं कर सकता, तो हिन्दी विकिपीडिया में सम्पादन का क्या लाभ? मैं ये नहीं कह रहा हूँ कि हमला शब्द अनुचित है, परन्तु इससे आक्रमण शब्द अनुचित नहीं हो जाता। यदि मेरे लिये हमला शब्द अनुचित होता, तो मैं अन्य पृष्ठो के शीर्षक में प्रयुक्त उस शब्द के परिवर्तन का प्रयास करता। अतः मेरे व्यवहार से ही ये स्पष्ट है कि मैं उस शब्द का विरोधी नहीं हूँ।
90 प्रतिशत जनसमुदाय अमुक शब्द का उपयोग करते हैं, तो उनको जैसे अमुक शब्द प्रयोग करने का अधिकार है, वैसे ही 10 प्रतिशत लोग जो समानार्थी अन्य शब्द उपयोग करते हैं उनको भी होना चाहिए। उसमें अधिकतर लोग आज कल इस शब्द का प्रयोग कर रहे हैं, तो वो 10 प्रतिशत लोग भी वही शब्द उपयोग करें ये आदेश नहीं दिया जा सकता। यहाँ वही हुआ है। जैसे कोई भी समाचारवाहिनी, कार्यक्रम या साक्षात्कार आप देखें। वहाँ मेरे को, हमारे को मैंने ये करा जैसे शब्दों का 80 प्रतिशत उपयोग होता है। यदि भविष्य में इन शब्दों का उचित रूप में स्वीकार कर लिया जाए, तो मुझे, हमें, मैंने किया इत्यादि शब्द अनुचित नहीं हो जाते। यद्यपि अधिकतर लोग 'मेरे को' बोल रहे हों, परन्तु जो 'मुझे' बोल रहे हैं उन्हें ये नहीं कहा जा सकता कि सब लोग 'मेरे को' बोलतें है, तो तुम वहीं करो।
जब तर्क नहीं होते, तो स्वतन्त्र और मुक्त नीति की बात होती है। तर्क ये दिया जाता है कि, वो लेख तुमने बनाया, तो तुम्हारा नहीं हो जाता। उसे यहाँ कोई भी परिवर्तित कर सकता है। उसी तर्क के आधार पर जब मैं कहता हूँ कि 2013 सांबा-हीरानगर आतंकी हमला इस शीर्षक में परिवर्तन कर मैं आक्रमण शब्द जोड़ देना चाहता हूँ, तो वो विकि कार्यों में विघ्न उत्पन्न होने का कार्य हो जाता है।
वार्ता:2017 अमरनाथ यात्रा हमला इस चर्चा के समय मेरे सम्मुख कुछ तथ्य आये। तो जैसे कहा गया कि ये तथ्य नहीं है, या ये होना चाहिये, वो सब मैंने अन्तर्भूत किया(जो उचित था, वो परिवर्तन किया)। जहाँ ये मार्गदर्शन मिला कि केवल भारतीय समाचार वाहिनीयों को आधार बनाकर नहीं लिखना चाहिये, तो मैंने अन्य देश के भी समाचारपत्रों का सन्दर्भ, जो उनके द्वारा संकेत दिया गया, उसके आधार पर ही निष्पक्ष लिखा। सब सन्दर्भ सहित लिखा था। फिर भी दुर्व्यवहार जो मेरे साथ हुआ, वो आपके सम्मुख है। मैंने वो सब अन्तर्भूत किया, जो मुझे कहा गया। फिर भी पक्षपात् हुआ तो मेरे साथ ही।
एक पक्ष में कहा जाता है कि, चर्चा करो। चर्चा करने से समाधान अवश्य मिलेगा। वहीँ पक्षान्तर में बिना चर्चा के ही निर्णय कर देना या परिवर्तन कर देना, ये कितना उचित है? जो घटनाक्रम चला उससे ये स्पष्ट हो गया कि, हिन्दी विकिपीडिया पर हिन्दी शब्दों का उपयोग ही निषद्ध है। आप उन्हीं शब्दों का प्रयोग कर सकते हैं, जो प्रबन्धक/कों ने पढ़ें है, या उनके द्वारा प्रयोग के योग्य हैं। न्यूनतया जिन शब्दों का प्रयोग होता है, वो वर्जित ही है। (केवल उसको घोषित नहीं किया गया है।) इस सार को प्राप्त कर मैंने हि.वि में अपना स्थान कहीं अनुभव नहीं किया। मैं हिन्दी लिखना चाहता हूँ। परन्तु हिन्दी शब्द यदि हि.वि पर "हिन्दी नहीं है", तो मेरा किया सम्पादन व्यर्थ ही होता है। प्रयोजनमनुद्दिश्य न मन्दोऽपि प्रवर्तते ॥ अर्थात् व्यर्थ कार्य तो मूर्ख भी नहीं करते हैं ऐसा मैंने सुना है। सन्दर्भ
मैंने हो सका उतनी सहायता ही की है। कुछ दोष हुआ तो उसे स्वीकार और पुनः न करने के लिये संकल्प भी लिया। जो विकि की नीति को नहीं समझते और विवाद के भोग बन जाते हैं, उनकी सहायता करने के लिये सर्वदा तत्पर रहा। क्योंकि मुझे भी किसी अन्य ने यदि सिखाया न होता, तो मैं विकिपीडिया पर नीति अनुकूल कार्य नहीं कर पाता। (उन सभी के प्रति मैं कृतज्ञ हूँ।) मुझे विश्वास था कि, चर्चा करने से समाधान सम्भव है, परन्तु जब चर्चा ही न कर साक्षात् निर्णय सुनाया जाये, तो चर्चा में "भाग लो" ये नीति वाला व्यक्ति भी "भाग लो" की नीति अपना लेता है। मैं भी वहीं कर रहा हूँ। मेरे पूर्व भी विकिपीडिया था और मेरे पश्चात् भी रहेगा। ग्लानि यही होगी कि स्वयं कुछ कर न सकें। जिन्होंने सिखाया उनको प्रत्युपहार न दे सके। (मैंने तर्क दिये हैं, अतः इसे भावकुता के रूप में न स्वीकारा जाये, ये आशा) अस्तु। ॐNehalDaveND 07:21, 18 सितंबर 2017 (UTC)
मैं इस विषय में आपकी बात से पूर्णतः सहमत हूँ और नैतिक समर्थन करता हूँ। इसका हल पुनरीक्षण अधिकार छोडकर हिन्दी विकि का त्याग करना नहीं हो सकता। जहाँ तक मैं आपको जानता हूँ, आप दिला के अच्छे और सच्चे हैं। छोटी छोटी बातों में भी बुरा मान लेते हैं और त्याग कर देते हैं। हमारा निर्णय ही तय करता है कि हम लंबी रेस के खिलाड़ी है या नहीं। गीता भी हमें प्राप्त कर्म का त्याग करना नहीं सिखाती। समस्या है तो रणभूमि छोडकर भाग जाने का आपका निर्णय अर्जुन की भांति ही लग रहा है। इस तरह आप ध्येय तक नहीं पहुँच पाएंगे।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 10:45, 18 सितंबर 2017 (UTC)
@NehalDaveND: जी, यह सूचनापट मात्र है। आपने दायित्व हटाने हेतु लिखा था, उसे अभी भी वैसे ही मानें या नहीं क्योंकि यह लगभग 20 दिन पुराना है? आपने अपने पुनर्विचार में जो बिंदु गिनाये उनपर आप सभी की राय चाहते हैं तो पहले यह कार्य किसी आम चर्चा में संपन्न करें (इस पृष्ठ पर नहीं) और उसके बाद अपना निर्णय सूचित करें। --SM7--बातचीत-- 10:59, 18 सितंबर 2017 (UTC)
@SM7: आप से इसी प्रकार के मार्गदर्शन की अपेक्षा थी। इस चर्चा को मैं चौपाल पर स्थापित करने जा रहा हूँ। परन्तु अनुभव ये कहता है कि कोई चर्चा में आगे नहीं आयेगा, जैसे क्राइस्त की समस्या के लिये कोई नहीं आगे आया था। उदाहरण के लिये निर्वाचित लेख की समीक्षा करने का विषय है। एक प्रबन्धक निर्वाचित लेख की समीक्षा के लिये अन्यों का आह्वाहन करता है, परन्तु महिनों तक कोई उपस्थित नहीं होता। परन्तु जैसे ही मेरे जैसा व्यक्ति निद्राधीन तन्त्र को जागृत करने के लिये कुछ कहता है, तो जागृत करने की पद्धति पर चर्चा होती है, निर्वाचित लेख की समीक्षा के लिये नहीं। ॐNehalDaveND 03:25, 19 सितंबर 2017 (UTC)

Sockpuppet[संपादित करें]

कृपया सदस्य:Harrywood vicky kadian को block करे और उनके सभी योगदान हटा दे; जैसे कि विक्की कादियान (अभिनेता) और विक्की कादियान। ये रिपोर्ट देखे en:Wikipedia:Sockpuppet investigations/Vhacker Vicky kadian/ArchiveDharmadhyaksha (वार्ता) 05:04, 7 सितंबर 2017 (UTC)

किया गया। साथ ही उनकी हिन्दी विकि पर सक्रिय कठपुतली Biokl Klyana (वार्ता योगदान) को भी ब्लॉक किया गया।--हिंदुस्थान वासी वार्ता 16:08, 7 सितंबर 2017 (UTC)

साइटनोटिस प्रसिद्ध करने हेतु अनुरोध[संपादित करें]

@आशीष भटनागर, संजीव कुमार, Mala chaubey, चक्रपाणी, Anamdas, SM7, और हिंदुस्थान वासी: 14 सितंबर को हिन्दी दिवस के उपलक्ष्य में हिन्दी विकिपीडिया पर प्रथमबार लेख प्रतियोगिता का आयोजन किया गया है। इस प्रतियोगिता का उद्देश्य हिन्दी विकिपीडिया पर ज्यादा से ज्यादा नए लेख बनाने का है। प्रतियोगिता की जानकारी वि:हिन्दी दिवस पर उपलब्ध है। प्रतियोगिता में ज्यादा सदस्य जुड़े इस हेतु प्रतियोगिता पृष्ठ की कड़ी के साथ साइटनोटिस प्रसिद्ध करने के लिए आयोजक मंडल की और से प्रबंधको से सादर अनुरोध है। ये प्रतियोगिता शरू होने से पूर्व जल्द या आज से ही दिखायी जाए।--☆★आर्यावर्त (✉✉) 04:35, 10 सितंबर 2017 (UTC)

कई उल्लंघन[संपादित करें]

@आशीष भटनागर, संजीव कुमार, Mala chaubey, चक्रपाणी, Anamdas, SM7, और हिंदुस्थान वासी:

  • Prateektomar (वार्ता योगदान) द्वारा सिर्फ एक ही कड़ी डालने का कार्य किया जा रहा था। उन्हें समझाया जा रहा था तो वो बहुत आक्रामक हो गए। उसके हफ्ते भर बाद वो फिर कड़ी जोड़ने लगे। उन्हें ब्लॉक किया गया तो वो ऐसी चीजे लिख रहे। इनके वार्ता पर पन्ने सम्पादित करने का अधिकार ले लिया जाए।
  • RNews1 (वार्ता योगदान) इसी नाम की वेबसाइट का प्रचार कर रहे हैं। नाम नियमावली के अनुरूप नहीं। अपनी वेबसाइट से सामग्री पेस्ट करके, अपने लिंक भी डाल रहे हैं।
  • जाट (वार्ता योगदान) मनोज की कठपुतली है। देखें। कुछ सार्थक योगदान करके फिर अपने प्रचार में लग गए हैं।

साथ ही कोई वशीकरण के नाम से फोन नम्बर सहित कई खातें बना रहा हैं। इसपर भी ध्यान दिये जाने की जरूरत है।--हिंदुस्थान वासी वार्ता 09:12, 17 सितंबर 2017 (UTC)

इन्हें सीधे -सीधे ३ माह के लिये प्रतिबन्धित किया जाये, उससे कम तो कुछ नहीं। ये कार्य स्वयं हिन्दुस्थानवासी जी भी सम्पन्न कर सकते हैं। हाम मेरी पूर्ण सहमति है। किन्तु एक बार फिर से इन्हें ये चेतावनी दी जा सकती है कि यदि आप निम्न कार्य इसी समय से रोक दें तो प्रतिबन्ध से बच सकते हैं। यहाम रहना है तो अनुशासन व नियमों के अन्दर रहकर कार्य करना होगा।आशीष भटनागरवार्ता 12:15, 17 सितंबर 2017 (UTC)
  • Prateektomar (वार्ता योगदान) का अपने वार्ता पन्ने पे संपादन का अधिकार समाप्त किया गया और अवरोध की अवधि बढ़ाई गयी। जाट (वार्ता योगदान) को अवरोधित किया गया। RNews1 (वार्ता योगदान) को उनके वार्ता पन्ने पर स्पष्ट रूप से लिखें कि स्पैम न रुकने की दशा में उन्हें अवरोधित कर दिया जाएगा।
  • वशीकरण वाले बाबा को, यदि पुनः कोई खाता/पन्ना बनाते हैं, तुरंत अवरोधित करें और पृष्ठ हटा दें (नामांकन की मेरे विचार से आवश्यकता नहीं होनी चाहिए)। --SM7--बातचीत-- 14:34, 17 सितंबर 2017 (UTC)