कुल्चा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
कुल्चा Veg symbol.svg 
Kulchachole.jpg

कुल्चे के संग छोले
उद्भव
संबंधित देश भारत
देश का क्षेत्र पंजाब
व्यंजन का ब्यौरा
परोसने का तापमान गर्मागर्म सिके हुए
मुख्य सामग्री मैदा
अन्य प्रकार अमृतसरी कुल्चा
नाहरी कुल्चा
गिलामी कुलचे

कुल्चा (उर्दू: کلچه; पंजाबी ਕੁਲਚਾ) एक उत्तर भारतीय रोटी की किस्म है। भारत के साथ-साथ ये पाकिस्तान में भी लोकप्रिय हैं। प्रायः इसे छोले के संग खाया जाता है। यह मैदा को खमीर उठा कर आवे में बनाया जाता है।

कुल्चा मुख्यतः एक पंजाबी व्यंजन है, जो पंजाब से उद्गम हुआ है। अमृतसर का खास कुल्चा अमृतसरी कुल्चा कहलाता हैं। मैदा को दही के साथ मल कर खमीर उठाया जाता है। उसके बाद उसमें उबले मसालेदार आलू और कटी प्याज आदि भर कर भरवां कुल्चे बनाये जाते हैं। इन्हें सुनहरे रंग का होने तक आवे या तंदूर में पकाया जाता है। उसके बाद इसके ऊपर मक्खन लगा कर छोले के साथ परोसते हैं। ये अमृतसरी कुल्चे होते हैं। बिना भरे हुए सादे कुल्चे बनते हैं।

कुल्चे का उद्गम ईरान में माना जाता है। इसके लखनऊ के व्यंजन विशेषज्ञों ने प्रयोग कर अंतरण बनाये हैं। इनमें कुल्चा नाहरी भी एक है। इसके विशेषज्ञ कारीगर हाजी जुबैर अहमद के अनुसार कुलचा अवधी व्यंजनों में शामिल खास रोटी है, जिसका साथ नाहरी बिना अधूरा है। लखनऊ के गिलामी कुलचे यानी दो भाग वाले कुलचे उनके परदादा ने तैयार किये। कुलचे रिच डाइट में आते हैं और ऐसा माना जाता है, कि कि अच्छी खुराक वाला इंसान भी तीन से अधिक नहीं खा सकता है। कुलचे गर्म खाने में ही मजा है यानी तंदूर से निकले और परोसे जायें।[1]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. रोटियों का बाज़ार, राष्ट्रीय सहारा| हिंदी दैनिक| अविनाश वाचस्पति| अभिगमन तिथि: २४ अगस्त, २००९