सत्तू

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

सत्तू एक प्रकार का देशज व्यंजन है, जो भूने हुए जौ, मक्का और चने को पीस कर बनाया जाता है। बिहार में यह काफी लोकप्रिय है और कई रूपों में प्रयुक्त होता है। सामान्यतः यह चूर्ण के रूप में रहता है जिसे पानी में घोल कर या अन्य रूपों में खाया अथवा पिया जाता है। सत्तू के सूखे (चूर्ण) तथा घोल दोनों ही रूपों को 'सत्तू' कहते हैं।

तैयारी[संपादित करें]

  • सर्वप्रथम चने को पानी में भीगने के लिये रख दिया जाता है।
  • उसके पश्चात इन्हें सुखाने के बाद भूना जाता है।
  • इसके बाद इसे भूने हुए मसालों, यथा जीरा, काली मिर्च इत्यादि के साथ पीसा जाता है।

सत्तू सिर्फ चने का ही नहीं बल्कि मक्का (भूट्टा) और जौ का भी बनाया जाता है। जौ के सत्तू के लिये भी उपर्युक्त प्रक्रिया ही जौ के साथ की जाती है और मक्का के सत्तू को बनाने के लिए उपर्युक़्त प्रक्रिया मक्का को बिना भिगोए की जाती है।

प्रयोग[संपादित करें]

  • सत्तू का घोल बना कर या आटा की तरह भूरभूरा सान कर पीया या खाया जाता है, आप इसका स्वाद बढ़ाने के लिए इसमें स्वादानुसार काला नमक या साधारण नमक मिलाए, आप आवश्यकता अनुसार बारीक कटी हुई प्याज और हरी मिर्च भी मिला सकते हैं।
  • चने के सत्तू का प्रयोग बिहार का प्रसिद्ध व्यंजन लिट्टी बनाने के लिए भी किया जाता है, वैसे तो मुख्यत: लिट्टी चना के सत्तू से बनता है लेकिन यह जौ या मक्का के सत्तू से भी बनाया जा सकता है।

अन्य रूप[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]


बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]