बतुकम्मा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
बतुकम्म
Batukamma2-1.JPG
बतुकम्म मनाती औरतों का एक समूह
अन्य नाम फूलों का पर्व
अनुयायी तेलंगाना की महिलाओं द्वारा
प्रकार गौरी पूजा का त्यौहार
उत्सव फूलों का गोपुरम निर्मित करके पूजा और नृत्य
आरम्भ महालय अमावस्या
समापन दुर्गाष्टमी
तिथि सितंबर/अक्टूबर
आवृत्ति वार्षिक
समान पर्व दशहरा

बतुकम्म पर्व भारत के तेलंगाना राज्य में महिलाओं द्वारा मनाया जाने वाला एक क्षेत्रीय पर्व है।[1] पूरे तेलंगाना क्षेत्र में यह बतुकम्म पर्व शालिवाहन संवत के अमावस्या तिथि से शुरू हो कर नौ दिनों तक मनाया जाता हैं।

फूलों से सात लेयर से गोपुरम मंदिर की आकृति बनाई जाती है। तेलगु में बठुकम्मा का मतलब होता है, देवी माँ जिन्दा है। इस दिन बठुकुम्मा को महागौरी के रूप में पूजा जाता है. यह त्यौहार स्त्री के सम्मान के रूप में मनाया जाता है।

बतुकम्म से मिलता जुलता ही, तेलंगाना में बोडेम्मा पर्व मनाया जाता है जो सात दिनों तक चलने वाला गौरी पूजा का ही पर्व है, जिसे कुँवारी लड़कियों द्वारा मनाया जाता है।[2][3]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Bathukamma – Telangana's Flower Festival | Cultural Festival | Bathukamma Songs". Telanganatourism.gov.in. अभिगमन तिथि 2017-12-23.
  2. S. Gajrani (2004). History, Religion and Culture of India. Gyan Publishing House. पपृ॰ 44–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-8205-061-7.
  3. "Boddemma fest undergoes changes". The Hindu. अभिगमन तिथि 2017-12-23.