"धृतराष्ट्र" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
508 बैट्स् जोड़े गए ,  6 वर्ष पहले
छो
सन्दर्भ जोड़ा
छो (Bot: Migrating 20 interwiki links, now provided by Wikidata on d:q926150 (translate me))
छो (सन्दर्भ जोड़ा)
[[महाभारत]] में '''धृतराष्ट्र''' [[हस्तिनापुर]] के महाराज [[विचित्रवीर्य]] की पहली पत्नी [[अंबिका]] के पुत्र थे। उनका जन्म महर्षि [[वेद व्यास]] के वरदान स्वरूप हुआ था। हस्तिनापुर के ये नेत्रहीन महाराज सौ पुत्रों और एक पुत्री के पिता थे। उनकी पत्नी का नाम गांधारी था। बाद में ये सौ पुत्र [[कौरव]] कहलाए। [[दुर्योधन]] और [[दु:शासन]] क्रमशः पहले दो पुत्र थे।<ref>{{cite web|title=महाभारत के वो 10 पात्र जिन्हें जानते हैं बहुत कम लोग!|url=http://www.bhaskar.com/article-hf/HAR-AMB-mahabharat-characters-known-less-to-people-haryana-4476348-PHO.html?seq=19 |publisher=दैनिक भास्कर|date=२७ दिसम्बर २०१३|archiveurl=http://archive.is/Gz0tp |archivedate=२८ दिसम्बर २०१३}}</ref>
 
== जन्म ==
अपने पुत्र विचित्रवीर्य की मृत्यु के बाद माता सत्यवती अपने सबसे पहले जन्में पुत्र, व्यास के पास गईं। अपनी माता की आज्ञा का पालन करते हुए, व्यास मुनि विचित्रवीर्य की दोनों पत्नियों के पास गए और अपनी यौगिक शक्तियों से उन्हें पुत्र उत्पन्न करनें का वरदान दिया। उन्होंने अपनी माता से कहा कि वे दोनों रानीयों को एक-एक कर उनके पास भेजें, और उन्हे देखकर जो जिस भाव में रहेगा उसका पुत्र वैसा ही होगा। तब पहले बड़ी रानी अंबिका कक्ष में गईं लेकिन व्यासजी के भयानक रूप को देखकर डर गई और भय के मारे अपनी आँखें बंद कर लीं। इसलिए उन्हें जो पुत्र उतपन्न हुआ वह जन्मान्ध था। वह जन्मान्ध पुत्र था धृतराष्ट्र। उनकी नेत्रहीनता के कारण हर्तिनापुर का महाराज उनके अनुज पांडु को नियुक्त किया गया। पांडु की मृत्यु के बाद वे हस्तिनापुर के महाराज बनें।
==सन्दर्भ==
 
{{टिप्पणीसूची}}
{{महाभारत}}
{{भारतीय पौराणिक वंशावली}}
[[श्रेणी:पौराणिक कथाएँ]]
[[श्रेणी:प्राचीन पौराणिक राजवंश]]
 
[[lt:Dhritaraštra]]

दिक्चालन सूची