बेगम हज़रत महल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
बेगम हज़रत महल
अवध की बेगम

बेगम हज़रत महल
पती वाजिद अली शाह
जन्म c. 1820
फैज़ाबाद, अवध, भारत
मृत्यु 7 अप्रैल 1879 (आयु 59)
काठमांडू, नेपाल
धर्म शिया इस्लाम

बेगम हज़रत महल (नस्तालीक़: بیگم حضرت محل‎, 1820 - 7 अप्रैल 1879), जो अवध (अउध) की बेगम के नाम से भी प्रसिद्ध थीं, अवध के नवाब वाजिद अली शाह की दूसरी पत्नी थीं। अंग्रेज़ों द्वारा कलकत्ते में अपने शौहर के निर्वासन के बाद उन्होंने लखनऊ पर क़ब्ज़ा कर लिया और अपनी अवध रियासत की हकूमत को बरक़रार रखा। अंग्रेज़ों के क़ब्ज़े से अपनी रियासत बचाने के लिए उन्होंने अपने बेटे नवाबज़ादे बिरजिस क़द्र को अवध के वली (शासक) नियुक्त करने की कोशिश की थी; मगर उनके शासन जल्द ही ख़त्म होने की वजह से उनकी ये कोशिश असफल रह गई। उन्होंने 1857 के भारतीय विद्रोह के दौरान ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के ख़िलाफ़ विद्रोह किया। अंततः उन्होंने नेपाल में शरण मिली जहाँ उनकी मृत्यु 1879 में हुई थी।[1]

जीवनी[संपादित करें]

हज़रत महल का नाम मुहम्मदी ख़ानुम था, और उनका जन्म फ़ैज़ाबाद, अवध में हुआ था। वह पेशे से एक तवायफ़ थी और अपने माता-पिता द्वारा बेचे जाने के बाद ख़्वासीन के रूप में शाही हरम में ले लिया गया था। तब उन्हें शाही आधिकारियों के पास बेचा गया था, और बाद में वे 'परि' के तौर पर पदोन्नत हुईं,[2] और उन्हें 'महक परि' के नाम से जाना जाता था।[3] अवध के नवाब की शाही रखैल के तौर पर स्वीकार की जाने पर उन्हें "बेगम" का ख़िताब हासिल हुआ,[4] और उनके बेटे बिरजिस क़द्र के जन्म के बाद उन्हें 'हज़रत महल' का ख़िताब दिया गया था।

वे आख़िरी ताजदर-ए-अवध, वाजिद अली शाह की छोटी[5] पत्नी थीं। 1856 में अंग्रेज़ों ने अवध पर क़ब्ज़ा कर लिया था और वाजिद अली शाह को कलकत्ते में निर्वासित कर दिया गया था। कलकत्ते में उनके पति निर्वासित होने के बाद, और उनसे तलाक़ होने के बावजूद, बेगम हज़रत महल ने अवध रियासत के राजकीय मामलों को संभाला।[6]

1857 की भारतीय क्रांति[संपादित करें]

1857 के भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के शहीदों को समर्पित भारत का डाकटिकट जिसमें बेगम हज़रत महल का चित्र एवं उल्लेख है।

आज़ादी के पहले युद्ध के दौरान, 1857 से 1858 तक, राजा जयलाल सिंह की अगुवाई में बेगम हज़रत महल के हामियों ने ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के ख़िलाफ़ बग़ावत की; बाद में, उन्होंने लखनऊ पर फिर से क़ब्ज़ा कर लिया और उन्होंने अपने बेटे बिरजिस क़द्र को अवध के वली (शासक) घोषित कर दिया।[7]

बेगम हज़रत महल की प्रमुख शिकायतों में से एक यह थी कि ईस्ट इंडिया कंपनी ने सड़कें बनाने के लिए मंदिरों और मस्जिदों को आकस्मिक रूप से ध्वस्त किया था। [8] विद्रोह के अंतिम दिनों में जारी की गई एक घोषणा में, उन्होंने अंग्रेज़ सरकार द्वारा धार्मिक आज़ादी की अनुमति देने के दावे का मज़ाक उड़ाया: [8]

सूअरों को खाने और शराब पीने, सूअरों की चर्बी से बने सुगंधित कारतूस काटने और मिठाई के साथ, सड़कों को बनाने के बहाने मंदिरों और मस्जिदों को ध्वंसित करना, चर्च बनाने के लिए, ईसाई धर्म का प्रचार करने के लिए सड़कों में पादरी भेजने के लिए, अंग्रेज़ी संस्थान स्थापित करने के लिए हिंदू और मुसलमान पूजास्थलों को नष्ट करने के लिए, और अंग्रेज़ी विज्ञान सीखने के लिए लोगों को मासिक अनुदान का भुगतान करने के काम, हिंदुओं और मुसलमानों की पूजा के स्थान नष्ट करना कहाँ की धार्मिक स्वतंत्रता है। इन सबके साथ, लोग कैसे मान सकते हैं कि धर्म में हस्तक्षेप नहीं किया जाएगा? [8]

जब अंग्रेज़ों के आदेश के तहत सेना ने लखनऊ और ओध के अधिकांश इलाक़े को क़ब्ज़ा कर लिया, तो हज़रत महल को पीछे हटने के लिए मजबूर होना पड़ा। हज़रत महल नाना साहेब के साथ मिलकर काम करते थे, लेकिन बाद में शाहजहांपुर पर हमले के बाद, वह फ़ैज़ाबाद के मौलवी से मिले। लखनऊ में 1857 की क्रांति का नेतृत्व बेगम हज़रत महल ने किया था। अपने नाबालिग पुत्र बिरजिस क़द्र को गद्दी पर बिठाकर उन्होंने अंग्रेज़ी सेना का स्वयं मुक़ाबला किया। उनमें संगठन की अभूतपूर्व क्षमता थी और इसी कारण अवध के ज़मींदार, किसान और सैनिक उनके नेतृत्व में आगे बढ़ते रहे।

आलमबाग़ की लड़ाई के दौरान अपने जांबाज़ सिपाहियों की उन्होंने भरपूर हौसला आफ़ज़ाई की और हाथी पर सवार होकर अपने सैनिकों के साथ दिन-रात युद्ध करती रहीं। लखनऊ में पराजय के बाद वह अवध के देहातों में चली गईं और वहाँ भी क्रांति की चिंगारी सुलगाई। बेगम हज़रत महल और रानी लक्ष्मीबाई के सैनिक दल में तमाम महिलायें शामिल थीं।

लखनऊ में बेगम हज़रत महल की महिला सैनिक दल का नेतृत्व रहीमी के हाथों में था, जिसने फ़ौजी भेष अपनाकर तमाम महिलाओं को तोप और बन्दूक चलाना सिखाया। रहीमी की अगुवाई में इन महिलाओं ने अंग्रेज़ों से जमकर लोहा लिया।

लखनऊ की तवायफ़ हैदरीबाई के यहाँ तमाम अंग्रेज़ अफ़सर आते थे और कई बार क्रांतिकारियों के ख़िलाफ़ योजनाओं पर बात किया करते थे। हैदरीबाई ने पेशे से परे अपनी देशभक्ति का परिचय देते हुये इन महत्त्वपूर्ण सूचनाओं को क्रांतिकारियों तक पहुँचाया और बाद में वह भी रहीमी के सैनिक दल में शामिल हो गयी।

बाद की जीवनी[संपादित करें]

आख़िरकार, उन्हें नेपाल जाना पड़ा, जहाँ उन्हें पहले राणा के प्रधान मंत्री जंग बहादुर ने शरण से इंकार कर दिया था,[9] लेकिन बाद में उन्हें रहने की इजाज़त दी गयी थी। [10] 1879 में उनकी मृत्यु हो गई और उन्हें काठमांडू के जामा मस्जिद के मैदानों में एक अज्ञात क़ब्र में दफ़नाया गया। [11] उनकी मृत्यु के बाद, रानी विक्टोरिया (1887) की जयंती के अवसर पर, ब्रिटिश सरकार ने बिरजिस क़द्र को माफ़ कर दिया और उन्हें घर लौटने की इजाज़त दे दी। [12]

स्मारक[संपादित करें]

काठमाण्डू में बेगम हज़रत महल की समाधि

बेगम हज़रत महल का मक़बरा जामा मस्जिद, घंटाघर के पास काठमांडू के मध्य भाग में स्थित है, प्रसिद्ध दरबार मार्ग से ज़्यादा दूर नहीं है। इसकी देखभाल जामा मस्जिद केंद्रीय समिति ने की है। [1]

बेगम हज़रत महल पार्क, लखनऊ में बेगम हज़रत महल का स्मारक

15 अगस्त 1962 को महल को महान विद्रोह में उनकी भूमिका के लिए लखनऊ के हज़रतगंज के पुराने विक्टोरिया पार्क में सम्मानित किया गया था।[13][14][15] पार्क के नामकरण के साथ, एक संगमरमर स्मारक का निर्माण किया गया था, जिसमें अवध शाही परिवार के शस्त्रों के कोट को लेकर चार गोल पीतल के टुकड़े वाले संगमरमर के टैबलेट शामिल थे। पार्क का उपयोग रामशिला, दसहरा के दौरान, साथ ही लखनऊ महोत्सव (लखनऊ प्रदर्शनी) के दौरान किया जाता है। [16]

10 मई 1984 को, भारत सरकार ने महल के सम्मान में एक स्मारक डाक टिकट जारी किया। पहला दिन कवर सीआर पकराशी द्वारा डिजाइन किया गया था, और रद्दीकरण अल्का शर्मा द्वारा किया गया था। 15,00,000 टिकट जारी किए गए थे। [17][13]

यह भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "A link to Indian freedom movement in Nepal". The Hindu. 8 April 2014. http://www.thehindu.com/news/international/south-asia/a-link-to-indian-freedom-movement-in-nepal/article5884467.ece. 
  2. Michael Edwardes (1975) Red Year. London: Sphere Books; p. 104
  3. Buyers, Christopher. "Oudh (Awadh) Genealogy". http://www.royalark.net/India4/oudh15.htm. 
  4. Christopher Hibbert (1980) The Great Mutiny, Harmondsworth: Penguin; p. 371
  5. Saul David (2002) The Indian Mutiny, Viking; p. 185
  6. "Begum Hazrat Mahal". Mapsofindia.com. http://www.mapsofindia.com/who-is-who/history/begum-hazrat-mahal.html. अभिगमन तिथि: 18 October 2012. 
  7. Michael Edwardes (1975) Red Year. London: Sphere Books; p. 104
  8. William Dalrymple The Last Mughal; the fall of a dynasty: Delhi, 1857, Viking Penguin, 2006, p. 69
  9. Hibbert (1980); pp. 374–375
  10. Hibbert (1980); pp. 386–387
  11. Krishna, Sharmila (11 June 2002). "Far from the madding crowd she lies, forlorn & forgotten". The Indian Express - LUCKNOW. http://oudh.tripod.com/bhm/bhmfar.htm. अभिगमन तिथि: 3 September 2013. 
  12. Harcourt, E.S (2012). Lucknow the Last Phase of an Oriental Culture (seventh सं॰). Delhi: Oxford University Press. प॰ 76. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-19-563375-X. 
  13. "Little known, little remembered: Begum Hazrat Mahal". www.milligazette.com. http://www.milligazette.com/news/14143-little-known-little-remembered-begum-hazrat-mahal. अभिगमन तिथि: 14 September 2016. 
  14. Ruggles, D. Fairchild (en में). "Begum+Hazrat+Mahal+Park"&hl=en&sa=X&ved=0ahUKEwjUy762zI7PAhUW5GMKHRXMCOoQ6AEIHTAA#v=onepage&q=%22Begum%20Hazrat%20Mahal%20Park%22&f=false Woman's Eye, Woman's Hand: Making Art and Architecture in Modern India. Zubaan. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9789383074785. https://books.google.co.in/books?id=kUqoDAAAQBAJ&pg=PT94&dq="Begum+Hazrat+Mahal+Park"&hl=en&sa=X&ved=0ahUKEwjUy762zI7PAhUW5GMKHRXMCOoQ6AEIHTAA#v=onepage&q=%22Begum%20Hazrat%20Mahal%20Park%22&f=false. अभिगमन तिथि: 14 September 2016. 
  15. Yecurī, Sītārāma (en में). The great revolt, a left appraisal. People's Democracy. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788190621809. https://books.google.co.in/books?id=k30MAQAAMAAJ&dq=Begum+Hazrat+Mahal+Park&focus=searchwithinvolume&q=%22Begum+Hazrat+Mahal+Park%22. अभिगमन तिथि: 14 September 2016. 
  16. "Begum Hazrat Mahal in Lucknow | My India". Mapsofindia.com. http://www.mapsofindia.com/my-india/travel/the-famous-memorial-of-begum-hazrat-mahal-in-lucknow. अभिगमन तिथि: 2016-09-14. 
  17. "Begum Hazrat Mahal". Indianpost.com. http://www.indianpost.com/viewstamp.php/Currency/Paisa/Alpha/B/BEGUM%20HAZRAT%20MAHAL. अभिगमन तिथि: 18 October 2012. 

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]