कलकत्ता दंगा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
सीधी कार्यवाही
Direct Action Day
Great Calcutta Killings
बंगाल का विभाजन (1947) का एक भाग
Calcutta 1946 riot.jpg
डायरेक्ट एक्शन डे' के बाद मृत और घायल
तिथी अगस्त 1946
जगह कलकत्ता, बंगाल, ब्रिटिश भारत
22°35′N 88°22′E / 22.58°N 88.36°E / 22.58; 88.36निर्देशांक: 22°35′N 88°22′E / 22.58°N 88.36°E / 22.58; 88.36
कारण धार्मिक भूमि पर बंगाल का विभाजन
लक्ष्य मजहबी उत्पीड़न
विधि नरसंहार, मजबूर रूपांतरण, अपहरण और बलात्कार
परिणाम बंगाल का विभाजन (1947)
नागरिक संघर्ष के पक्षकार
हिंदु और सिख[1][2] मुसलमान
Lead figures
गैर केंद्रीकृत नेतृत्व मुस्लिम लीग
आहत
मौत4,000 लोगों की मृत्यु[3][4]
100,000 बेघर[3][4]

भारत की स्वतंत्रता के पूर्व मुस्लिम लीग द्वारा 'सीधी कार्यवाही' की घोषणा से १६ अगस्त सन् १९४६ को कोलकाता में भीषण दंगे शुरु हो गये। इसे कलकत्ता दंगा या कलकत्ता का भीषण हत्याकांड (Great Calcutta Killing) कहते हैं।

'सीधी कार्रवाई' मुस्लिम लीग द्वारा पाकिस्तान की माँग को तत्काल स्वीकार करने के लिए चलाया गया अभियान था। यह 16 अगस्त 1946 को प्रारंभ हुआ, जब मुस्लिम लीग तथा बंगाल के तत्कालीन मुख्यमंत्री सोहराबर्दी के उकसाने पर कलकत्ता तथा बंगाल और बिहार के सीमावर्ती क्षेत्रों में मुसलमानों ने भीषण दंगे छेड़ दिए। 72 घंटों के भीतर बीस हजार से अधिक लोग मारे गए, तीस हजार से अधिक गंभीर रूप से घायल हुए और कई लाख हिन्दू बेघर हो गए। कई मासूम लड़कियों तथा महिलाओं का सामूहिक बलात्कार उनके परिजनों के सामने किया गया तथा उन्हें और उनके परिवार को काट कर मुस्लिम लीग ने अपनी मजहबी ताकत का प्रदर्शन किया। ब्रिटिश और कांग्रेस दोनों को मुस्लिमों की ताकत दिखाने के लिए मुस्लिम लीग काउंसिल द्वारा 'डायरेक्ट एक्शन' की घोषणा की गई थी, जिसमे हिन्दुओं तथा सिक्खों का नरसंहार किया गया था।

1940 के दशक में भारत की संविधान सभा में मुस्लिम लीग और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस दो सबसे बड़ी राजनीतिक दल थे। ब्रिटिश राज से भारतीय नेतृत्व में सत्ता के हस्तांतरण की योजना बनाने के लिए 1946 के कैबिनेट मिशन ने भारत के नए डोमिनियन और इसकी सरकार की रचना की प्रारंभिक योजना का प्रस्ताव दिया। हालांकि, जल्द ही ब्रिटिश राज को हिंदू बहुमत वाले भारत में विभाजित करने और मुस्लिम बहुमत वाले पाकिस्तान मुस्लिम लीग द्वारा प्रस्तावित एक वैकल्पिक योजना थी। कांग्रेस ने वैकल्पिक प्रस्ताव को खारिज कर दिया। मुस्लिम लीग ने 16 अगस्त को एक सामान्य हड़ताल (हार्टल) की योजना बनाई,[5] .[6] इसे अस्वीकार करने के लिए इसे प्रत्यक्ष कार्य दिवस कहा, और एक अलग मुस्लिम मातृभूमि की मांग पर जोर दिया।

उन दिनों में बंगाल की स्थिति विशेष रूप से जटिल थी। प्रांत में, मुसलमानों ने अधिकांश आबादी का प्रतिनिधित्व किया (56%, मुसलमान और 42% हिन्दू) मुसलमान ज्यादातर पूर्वी हिस्से में केंद्रित थे। [10] इस जनसांख्यिकीय संरचना और विशिष्ट घटनाओं के परिणामस्वरूप, यह प्रांत एकमात्र ऐसा था जिसमें एक मुस्लिम लीग सरकार 1935 में यूरोपियों के साथ गठबंधन में शुरू हुई प्रांतीय स्वायत्तता योजना के तहत सत्ता में थी, और कांग्रेस से मजबूत विरोध के बाधा के खिलाफ , भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी और एक हिंदू राष्ट्रवादी पार्टी, हिंदू महासभा से भी। नतीजतन, कलकत्ता के निवासियों, 64% हिंदुओं और 33% मुसलमानों को तब दो अत्यधिक विरोधी संस्थाओं में बांटा गया था।.[7] [4] इस पृष्ठभूमि के खिलाफ, विरोध ने कलकत्ता में भारी दंगों की शुरुआत की। 72 घंटे के भीतर कलकत्ता में 20,000 से अधिक लोगों ने अपनी जान गंवा दी और 100,000 से अधिक निवासियों को बेघर छोड़ दिया गया। इस हिंसा ने नोआखली, बिहार, संयुक्त प्रांतों (आधुनिक उत्तर प्रदेश), पंजाब और उत्तरी पश्चिमी फ्रंटियर प्रांत के आसपास के क्षेत्रों में और धार्मिक दंगों को जन्म दिया। इन घटनाओं ने भारत के अंतिम विभाजन के लिए बीज बोए।

कलकत्ता की सड़क में गिद्ध और लाश, अगस्त 1946

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

  • Tanika Sarkar, Sekhar Bandyopadhyay. Calcutta: The Stormy Decades. Taylor & Francis. पृ॰ 441. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-351-58172-4.
  • सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; Wavell नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  • सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; Burrows नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  • Das, Suranjan (May 2000). Modern Asian Studies. Cambridge University Press. 34 (2): 281–306. JSTOR 313064. डीओआइ:10.1017/S0026749X0000336X. गायब अथवा खाली |title= (मदद)
  • Tsugitaka, Sato (2000). Muslim Societies: Historical and Comparative Aspects. Routledge. पृ॰ 112. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-415-33254-0.
  • Bourke-White, Margaret (1949). Halfway to Freedom: A Report on the New India. Simon and Schuster, New York.
  • Das, Suranjan (2012). "Calcutta Riot, 1946". प्रकाशित Islam, Sirajul; Jamal, Ahmed A. Banglapedia: National Encyclopedia of Bangladesh (Second संस्करण). Asiatic Society of Bangladesh.