बारडोली सत्याग्रह

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
बारडोली सत्याग्रह में सरदार पटेल और महात्मा गांधी
चित्र:SardarPatel-BardoliPeasents.jpg
बारडोली के किसानों के साथ सरदार पटेल

बारडोली सत्याग्रह, भारतीय स्वाधीनता संग्राम के दौरान वर्ष 1928 में गुजरात में हुआ यह एक प्रमुख किसान आंदोलन था जिसका नेतृत्व वल्लभ भाई पटेल ने किया था। उस समय प्रांतीय सरकार ने किसानों के लगान में 22 प्रतिशत तक की वृद्धि कर दी थी। पटेल ने इस लगान वृद्धि का जमकर विरोध किया। सरकार ने इस सत्याग्रह आंदोलन को कुचलने के लिए कठोर कदम उठाए, पर अंतत: विवश होकर उसे किसानों की मांगों को मानना पड़ा। एक न्यायिक अधिकारी बूमफील्ड और एक राजस्व अधिकारी मैक्सवेल ने संपूर्ण मामलों की जांच कर 22 प्रतिशत लगान वृद्धि को गलत ठहराते हुए इसे घटाकर 6.03 प्रतिशत कर दिया।

इस सत्याग्रह आंदोलन के सफल होने के बाद वहां की महिलाओं ने वल्लभभाई पटेल को ‘सरदार’ की उपाधि प्रदान की। किसान संघर्ष एवं राष्ट्रीय स्वाधीनता संग्राम के अंर्तसबंधों की व्याख्या बारदोली किसान संघर्ष के संदर्भ में करते हुए गांधीजी ने कहा कि इस तरह का हर संघर्ष, हर कोशिश हमें स्वराज के करीब पहुंचा रही है और हम सबको स्वराज की मंजिल तक पहुंचाने में ये संघर्ष सीधे स्वराज के लिए संघर्ष से कहीं ज्यादा सहायक सिद्ध हो सकते हैं। मार्च 1920 ला गांधीजींनाअटक होऊन 6 वर्षाची शिक्षा असहकार ठराव मागे घेण्याचा निर्णय बराच वादग्रस्त ठरला कारणे:- चौरचोरी प्रकरन आंदोलकान हिंसक वळण चळवळीत थकव्याची लक्षणे सरकांर बोलणी करायला तयार नव्हते खिलफतिचा प्रश्न संपला होता

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]