क्रिसमस दिवस षडयंत्र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

पहला क्रिसमस दिवस षडयंत्र 1909 में भारतीय क्रांतिकारी आंदोलन द्वारा रची गई थी: साल की छुट्टियों के दौरान, बंगाल के राज्यपाल ने अपने निवास पर वाइसराय, कमांडर-इन-चीफ और उच्च रैंकिंग अधिकारी और राजधानी के अधिकारियों (कलकत्ता) कि उपस्थिति में एक नृत्यसभा का आयोजन किया। इसकी सुरक्षा का प्रभार 10वीं जाट रेजिमेंट को दिया गया था। यतीन्द्रनाथ मुखर्जी द्वारा समझाने के बाद, इसके सैनिकों ने नृत्यसभा गृह को बम से उड़ा कर और औपनिवेशिक सरकार को नष्ट करने का फैसला किया। अपने पूर्ववर्ती ओटो (विलियम ओस्करोविच) वॉन क्लेम को ध्यान में रखते हुए, 6 फरवरी 1910 को लोकमान्य तिलक के मित्र, रूसी कंसुल जनरल केएम आर्सेनियेव ने सेंट पीटर्सबर्ग को लिखा कि इसका उद्देश्य "देश को जागृत कर उनके दिमाग में सामान्य बेकरारी लाना था और इस प्रकार, क्रांतिकारियों को अपने हाथों में सत्ता लेने का मौका मिल जाता है।"[1] आर॰सी॰ मजूमदार के अनुसार,"पुलिस को इस षडयंत्र का कुछ भी संदेह नहीं था, और यह कहना मुश्किल है कि इसका परिणाम क्या होता, अगर सैनिकों में से एक ने अपने साथियों धोखा देकर, होने वाले विद्रोह के बारे में अधिकारियों को सूचित नहीं किया होता।"[2]

दूसरा क्रिसमस दिवस षडयंत्र प्रथम विश्व युद्ध के दौरान जर्मन हथियारों और समर्थन के साथ ब्रिटिश भारत में बंगाल में विद्रोह शुरू करना था। 1915 के क्रिसमस दिवस के लिए निश्चित इस योजना की कल्पना बंगाली भारतीय क्रांतिकारी यतीन्द्रनाथ मुखर्जी अगुआई में युगान्तर समूह के तहत की गई थी, और इसमें गदर पार्टी की तहत बर्मा और सियाम के ब्रिटिश उपनिवेश में भी विद्रोह को एक साथ समन्वय किया जाना था। इसके साथ ही दक्षिण भारतीय शहर मद्रास और अंडमान द्वीप समूह के ब्रिटिश सेल्यूलर जेलों पर जर्मन हमला शामिल था। षडयंत्र का उद्देश्य फोर्ट विलियम पर कब़्जा कर, बंगाल को अलग करना और इसकी राजधानी शहर कलकत्ता पर कब्जा करना था, जिसका बाद में सम्पूर्ण भारतीय क्रांति के लिए एक मंच के रूप में इस्तेमाल किया जाना था। क्रिसमस दिवस षडयंत्र, युद्ध के दौरान पूरे भारत में विद्रोह की कई योजनाओं में से एक था, जिसमें भूमिगत भारतीय राष्ट्रवादी द्वारा समन्वित किया गया था, इन षडयंत्रों में बर्लिन में जर्मनों द्वारा स्थापित "भारतीय स्वतंत्रता समिति", उत्तरी अमेरिका में गदर पार्टी और जर्मन विदेश कार्यालय आदि को समेकित किया गया था।[3] ब्रिटिश खुफिया विभाग ने यूरोप और दक्षिण-पूर्व एशिया में जर्मन और भारतीय दोहरे गुप्तचरों के माध्यम से साजिश उजागर हो गया और अंततः षडयंत्र विफल हो गया।


सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Mukherjee 2010, पृष्ठ 160
  2. Majumdar 1975, पृष्ठ 281
  3. Hopkirk 2001, पृष्ठ 179