अखिल भारतीय किसान सभा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

अखिल भारतीय किसान सभा भारत के किसानों का एक संगठन है जिसकी स्थापना ११ अप्रैल १९३६ में सहजानन्द सरस्वती ने की थी। यह अविभाजित भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी का एक अनुषांगिक संगठन था। बाद में इसका विभाजन हो गया। सम्प्रति एक ही नाम से दो संगठन हैं: अखिल भारतीय किसान सभा (अजय भवन) और अखिल भारतीय किसान सभा (अशोक रोड)।

इतिहास[संपादित करें]

किसान सभा आंदोलन, बिहार में स्वामी सहजानंद सरस्वती के नेतृत्व में शुरू हुआ। इससे पहले सन् 1929 ई. में स्वामी सहजानन्द ने बिहार प्रांतीय किसान सभा (बीपीकेएस) की स्थापना की थी जो किसानों पर ज़मीनदारों द्वारा होने वाले हमलों के खिलाफ किसानों की शिकायतों को इकट्ठा करने के लिए गठित किया था। इसके गठन के फलस्वरूप भारत में किसानों की गतिविधियाँ आरम्भ हुईं। [1][2]

धीरे-धीरे किसान आन्दोलन भारत के बाकी हिस्सों में तेजी से फैल गया। 1934 में कांग्रेस सोशलिस्ट पार्टी (सीएसपी) के गठन ने कम्युनिस्टों को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के साथ मिलकर काम करने में मदद की, हालांकि अस्थायी रूप से, [3] फिर अप्रैल 1935 में, किसान नेताओं एनजी रंगा और तत्कालीन सचिव और संयुक्त सचिव के क्रमशः ईएमएस नंबूदिरिपद दक्षिण भारतीय फेडरेशन ऑफ किसानों और कृषि श्रम ने अखिल भारतीय किसान निकाय के गठन का सुझाव दिया। [4] ११ अप्रैल १९३६ में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के लखनऊ सत्र में अखिल भारतीय किसान सभा के गठन के साथ ये सभी किसान संगठन इसमें समाहित हो गये। सहजानन्द सरस्वती इसके प्रथम अध्यक्ष निर्वाचित हुए।[5] इसमें रंगा, नंबूदिरीपद, करीनंद शर्मा, यमुना करजी, यदुन्दन (जदुनंदन) शर्मा, राहुल सांकृत्यायन, पी। सुंदरय्या, राम मनोहर लोहिया, जयप्रकाश नारायण, आचार्य नरेंद्र देव और बंकिम मुखर्जी जैसे लोग शामिल थे। अगस्त 1936 में जारी किसान मैनिफेस्टो ने ज़मीनदार प्रणाली को खत्म करने और ग्रामीण ऋणों को रद्द करने की मांग की। अक्टूबर 1937 में किसान सभा ने लाल झंडा को अपने ध्वज के रूप में अपनाया। जल्द ही, इसके नेता कांग्रेस के साथ तेजी से दूर होते गए, और बार-बार बिहार और संयुक्त प्रांत में कांग्रेस सरकारों के साथ टकराव में आए। [4][6]

बाद के वर्षों में, कांग्रेस से दूर चले जाने के कारण, इस आंदोलन में समाजवादियों और कम्युनिस्टों का तेजी से प्रभुत्व बढ़ा। [2] 1938 तक कांग्रेस के हरिपुरा सत्र में, जिसकी अध्यक्षता नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने की थी, कांग्रेस से इसकी दूरी और बढ़ गयी। [4] मई 1942 तक यह भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के हाथ में आ गया जिसे अंततः जुलाई 1942 में सरकार ने वैध घोषित कर दिया था। [7] इसके बाद बंगाल समेत सम्पूर्ण भारत में इसकी सदस्यता काफी बढ़ी।

किसान सभा, कम्युनिस्ट पार्टी की 'जन युद्ध' (पीपुल्स वॉर) के विचार पर चला और अगस्त १९४२ के भारत छोड़ो आंदोलन से दूर रहा। हालांकि इसके कारण इसकी लोकप्रियता में कमी आयी। इसके कई सदस्यों ने पार्टी के आदेशों का उल्लंघन किया और आंदोलन में शामिल हो गए, और रंगा, इन्दूलाला याज्ञिक और सहजानन्द सरस्वती जैसे प्रमुख सदस्यों ने जल्द ही संगठन छोड़ दिया। [8]

सन्1964 भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी दो भागों में विभाजित हो गयी। इसके बाद, अखिल भारतीय किसान सभा भी दो भागों में विभाजित हो गया।

वर्तमान संगठन[संपादित करें]

वर्तमान में दो किसान संगठन एआईकेएस के नाम पर काम करते हैं:

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Bandyopādhyāya, Śekhara (2004). From Plassey to Partition: A History of Modern India. Orient Longman. पपृ॰ 523 (at p 406). आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-250-2596-2.
  2. Peasant Struggles in India, by Akshayakumar Ramanlal Desai. Published by Oxford University Press, 1979. Page 349.
  3. Peasants in India's Non-violent Revolution: Practice and Theory, by Mridula Mukherjee. Published by SAGE, 2004. ISBN 0-7619-9686-9. Page 136.
  4. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; ma नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  5. Bandyopādhyāya, Śekhara (2004). From Plassey to Partition: A History of Modern India. Orient Longman. पपृ॰ 523 (at p 407). आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-250-2596-2.
  6. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; sta नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  7. Caste, Protest and Identity in Colonial India: The Namasudras of Bengal, 1872-1947, by Shekhar Bandyopadhyaya. Routledge, 1997. ISBN 0-7007-0626-7. Page 233.
  8. Peasants in India's Non-violent Revolution: Practice and Theory, by Mridula Mukherjee. Published by SAGE, 2004. ISBN 0-7619-9686-9. Page 347.

उचित पठन[संपादित करें]

  • स्वामी सहजानंद और झारखंड के किसान - Swami Sahajanand and the Peasants of Jharkhand: A View from 1941 translated and edited by Walter Hauser along with the unedited Hindi original (Manohar Publishers, paperback, 2005).
  • Sahajanand on Agricultural Labour and the Rural Poor translated and edited by Walter Hauser Manohar Publishers, paperback, 2005).
  • Religion, Politics, and the Peasants: A Memoir of India's Freedom Movement translated and edited by Walter Hauser Manohar Publishers, hardbound, 2003).
  • Swami And Friends: Sahajanand Saraswati And Those Who Refuse To Let The Past of Bihar's Peasant Movements Become History By Arvind Narayan Das, Paper for the Peasant Symposium, May 1997 University Of Virginia, Charlottesville, Virginia