लॉर्ड कॉर्नवालिस

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

लॉर्ड कॉर्नवालिस फोर्ट विलियम प्रेसिडेंसी के गवर्नर जनरल रहे थे। वह बंगाल का गवर्नर जनरल थे । इन्होंने 1793 ईस्वी में बंगाल में स्थायी बन्दोबस्त के रूप में एक नई राजस्व पद्धति की शुरूआत की। इनके समय में जिले के सभी अधिकार कलेक्टर को दिया गया और इसे ही भारतीय सिविल सेवा का जनक माना जाता है। इन्होंने कंपनी के कर्मचारियों के व्यक्तिगत व्यापार पर प्रतिबन्ध लगा दिया। इन्होंने भारतीय न्यायाधीश युक्त जिला अदालतों को समाप्त कर उसके स्थान पर चार भर्मण करने वाली अदालतें ,जिनमे तीन बंगाल के लिये ओर एक बिहार के लिए नियुक्त की गई। 1793 में प्रसिद्ध कॉर्नवालिस कोड का निर्माण करवाया,जो शक्तियो के पृथकीकरण सिद्धान्तों पर आधरित थी। जिले में पुलिस थाना की स्थापना कर एक दरोगा को इसका इंचार्ज बनाया।

सन्दर्भ[संपादित करें]


लार्ड कार्नवलिस एकमात्र गवर्नर थे जिनकी समाधि भारत में *गाजीपुर* (उत्तर प्रदेश) में स्थित है कानवलिस ने श्रीरंगपटनम की संधि की टिपु सुल्तान के साथ