लॉर्ड विलियम बैन्टिक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
लॉर्ड विलियम बैन्टिक
Lord-william-bentinck-2.jpg
जन्म 14 सितंबर 1774
बकिंघमशायर[1]
मृत्यु 17 जून 1839 Edit this on Wikidata
पैरिस Edit this on Wikidata
नागरिकता ग्रेट ब्रिटेन और आयरलैंड का यूनाइटेड किंगडम, ग्रेट ब्रिटेन राजशाही Edit this on Wikidata
व्यवसाय राजनीतिज्ञ, राजनियक दूत, सेना कर्मचारी, क्रिकेटर, सैन्य अफसर Edit this on Wikidata
पदवी भारत के गवर्नर जनरल Edit this on Wikidata

लॉर्ड विलियम बैन्टिक भारत के गवर्नर जनरल रहे थे। ये भारत के प्रथम गवर्नर जनरल थे लॉर्ड विलियम बेंटिक 1828-1835 तक भारत में शासन किया । इनकेे द्वारा सामाजिक सुधार ,शैक्षणिक सुधार ,वित्तीय सुधार ,सरकारी सेवा मैंंं सुधार , के अनेक प्रयास किए गए ।

सामाजिक सुधार- 1829 मे सती प्रथा पर राजा राममोहन राय की सहायता से पूर्णता प्रतिबंध कर दिया।

1830 में ठगी प्रथा पर प्रतिबंध लगाया गया

शैक्षणिक सुधार -लार्ड मैकाले की अध्यक्षता में एक मैकाले आयोग 1835 बनाया गया इस आयोग ने अपनी शिक्षा की सिफारिश में अंग्रेजी को बताया।

1835 में कोलकाता मेडिकल कॉलेज की स्थापना किया गया।

सरकारी सुधार- 1833 में चार्टर एक्ट पारित किया गया इस एक्ट के द्वारा बंगाल के गवर्नर जनरल को भारत का गवर्नर जनरल बनाया गया।

इस एक्ट के द्वारा कंपनी में कर्मचारी की नियुक्ति करने के लिए सिविल सेवक के लिए योग्यता को आधार बनाया गया।

सन्दर्भ[संपादित करें]