नितीश कुमार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
नितीश कुमार
नितीश कुमार

पदस्थ
कार्यभार ग्रहण 
24 नवम्बर 2005 से अब तक
पूर्व अधिकारी राष्ट्रपति शासन
उत्तराधिकारी जीतन राम मांझी

कार्यकाल
20 मार्च 2001 – 21 मई 2004
पूर्व अधिकारी रामविलास पासवान
उत्तराधिकारी लालू प्रसाद यादव
कार्यकाल
19 मार्च 1998 – 5 अगस्त 1999

कार्यकाल
27 मई 2000 – 21 जुलाई 2001
कार्यकाल
22 नवम्बर 1999 – 3 मार्च 2000

कार्यकाल
13 अक्टूबर 1999 – 22 नवम्बर 1999
कार्यकाल
14 अप्रैल 1998 – 5 अगस्त 1999

जन्म 1 मई 1951 (1951-05-01) (आयु 66)
हरनौत पटना, बिहार
राष्ट्रीयता भारतीय
राजनैतिक पार्टी जनता दल (यूनाइटेड)
जीवन संगी स्वर्गीय श्रीमती मंजू कुमारी सिन्हा
संतान निशांत कुमार (पुत्र)
आवास 1 अणे मार्ग[1], पटना
विद्या अर्जन राष्ट्रीय प्रोद्यौगिकी संस्थान, पटना
पेशा राजनीतिज्ञ
समाज सेवा
कृषि
अभियंता
धर्म हिन्दू धर्म
वेबसाइट cm.bih.nic.in
nitish-kumar.com
As of 18 जून, 2006
Source: भारत सरकार

नीतीश कुमार (जन्म १ मार्च १९५१, बख्तियारपुर, बिहार, भारत) २००५ से २०१४ तक बिहार के मुख्यमंत्री रहें हैं। वे जनता दल यू के प्रमुख नेताओं में से एक हैं।

राजनैतिक जीवन[संपादित करें]

श्री कुमार बिहार अभियांत्रिकी महाविद्यालय, के छात्र रहे हैं जो अब राष्ट्रीय तकनीकी संस्थान, पटना के नाम से जाना जाता हैं। वहाँ से उन्होंने विद्युत अभियांत्रिकी में उपाधि हासिल की थी। वे १९७४ एवं १९७७ में जयप्रकाश बाबू के सम्पूर्ण क्रांति आंदोलन में शामिल रहे थे एवं उस समय [2] के महान समाजसेवी एवं राजनेता सत्येन्द्र नारायण सिन्हा के काफी करीबी रहे थे।

वे पहली बार बिहार विधानसभा के लिए १९८५ में चुने गये थे। १९८७ में वे युवा लोकदल के अध्यक्ष बने। १९८९ में उन्हें बिहार में जनता दल का सचिव चुना गया और उसी वर्ष वे नौंवी लोकसभा के सदस्य भी चुने गये थे।

१९९० में वे पहली बार केन्द्रीय मंत्रीमंडल में बतौर कृषि राज्यमंत्री शामिल हुए। १९९१ में वे एक बार फिर लोकसभा के लिए चुने गये और उन्हें इस बार जनता दल का राष्ट्रीय सचिव चुना गया तथा संसद में वे जनता दल के उपनेता भी बने। १९८९ और 2000 में उन्होंने बाढ़ लोकसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया। १९९८-१९९९ में कुछ समय के लिए वे केन्द्रीय रेल एवं भूतल परिवहन मंत्री भी रहे और अगस्त १९९९ में गैसाल में हुई रेल दुर्घटना के बाद उन्होंने मंत्रीपद से अपना इस्तीफा दे दिया।

"‘मुझे लोकनायक जयप्रकाश नारायण, छोटे साहब सत्येंद्र नारायण सिन्हा और जननायक कर्पूरी ठाकुर के चरणों में जानने और सीखने का मौका मिला है-" मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

सन २००० में वे बिहार के मुख्यमंत्री बने लेकिन उन्हें सिर्फ सात दिनों में त्यागपत्र देना पड़ा। उसी साल वे फिर से केन्द्रीय मंत्रीमंडल में कृषि मंत्री बने। मई २००१ से २००४ तक वे बाजपेयी सरकार में केन्द्रीय रेलमंत्री रहे। २००४ के लोकसभा चुनावों में उन्होंने बाढ़ एवं नालंदा से अपना पर्चा दाखिल किया लेकिन वे बाढ़ की सीट हार गये।

नवंबर २००५, में राष्ट्रीय जनता दल की बिहार में पंद्रह साल पुरानी सत्ता को उखाड़ फेंकने में सफल हुए और मुख्यमंत्री के रूप में उनकी ताजपोशी हुई। सन् २०१० के बिहार विधानसभा चुनावों में अपनी सरकार द्वारा किये गये विकास कार्यों के आधार पर वे भारी बहुमत से अपने गठबंधन को जीत दिलाने में सफल रहे और पुन: मुख्यमंत्री बने। २०१४ में उन्होनें अपनी पार्टी की संसदीय चुनाव में खराब प्रदर्शन के कारण मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया।[3]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार 1 अणे मार्ग में झंण्डोत्तोलन
  2. http://www.jagran.com/bihar/patna-city-niteshe-kumars-profile-13186568.html
  3. "नीतीश कुमार ने 'जय बिहार, जय भारत' का दिया नारा और दे दिया मुख्‍यमंत्री पद से इस्‍तीफा". वन इंडिया. 17 मई 2014. http://hindi.oneindia.in/news/india/nitish-kumar-resigns-from-his-bihar-chief-minister-post-lse-299898.html. 

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]