नेशनल पीपल्स पार्टी (भारत)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
नेशनल पीपल्स पार्टी
नेता कॉनराड संगमा
स्थापक स्व.श्री पी.ए.संगमा
स्थापित 6 जनवरी 2013
विचारधारा क्षेत्रवाद
राजनीतिक स्थिति मध्य
गठबंधन राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन
लोक सभा में सीटों की संख्या
0 / 545
राज्य सभा में सीटों की संख्या
0 / 245
राज्य विधानसभा में सीटों की संख्या
19 / 60
मेघालय विधानसभा
4 / 60
मणिपुर विधानसभा
2 / 60
नागालैण्ड विधानसभा
चुनाव चिन्ह

Indian Election Symbol Book.svg

पुस्तक
भारत की राजनीति
चुनाव

नेशनल पीपल्स पार्टी भारत का एक राज्य स्तरीय राजनैतिक दल है जिसका प्रभाव मुख्य रूप से मेघालय राज्य में है। पार्टी का गठन पी॰ ए॰ संगमा ने किया था, जब जुलाई 2012 में उन्हें राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी से निकाल दिया गया था।

इतिहास[संपादित करें]

जनवरी 2013 में पी॰ ए॰ संगमा ने पार्टी का राष्ट्रीय स्तर पर एलान किया। उन्होंने भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के साथ गठजोड़ का एलान किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी आदिवासियों से जुड़े मुद्दे उठायेगी।[1]

भारतीय राष्ट्रपति चुनाव, 2012 में संगमा की दावेदारी से नाराज होकर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया था। उसके बाद जल्द ही उन्होंने अपनी नयी पार्टी का एलान किया। पार्टी ने राजस्थान विधानसभा चुनाव, 2013 में दौसा लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र के सांसद किरोड़ी लाल मीणा के नेतृत्व में चुनाव लड़ा और चार सीटों पर विजय हाँसिल की।[2]

2015 में भारतीय निर्वाचन आयोग ने 2014 लोक सभा चुनावों में खर्च का हिसाब न दे पाने की वजह से दल की मान्यता निलम्बित कर दी। इस प्रकार से एनपीपी इस मामले में निलम्बित होने वाली पहली पार्टी बनी।[3]

मणिपुर विधानसभा चुनाव, 2017 में एनपीपी ने 9 सीटों पर चुनाव लड़ा और 4 सीटों पर जीत दर्ज की।[4]

चुनाव चिह्न[संपादित करें]

दल का चुनाव चिह्न पुस्तक है।[5]

सन्दर्भ[संपादित करें]