द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस अनुच्छेद को विकिपीडिया लेख द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया के इस संस्करण से अनुवादित किया गया है।

द टाइम्स ऑफ़ इंडिया
द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया
टाईम्स.jpg
११ जुलाई २००६ मुम्बई उपनगरीय रेल बम धमाकों के अगले दिन का मुखपृष्ठ
प्रकार दैनिक समाचार पत्र
प्रारूप व्यापकपर्ण
स्वामित्व बैनेट्ट, कोलमैन एवं कं. लि.
प्रधानसंपादक जयदीप बोस
संस्थापना १८३८
भाषा अंग्रेज़ी
मुख्यालय दिल्ली
ओसीएलसी २३३७९३६९
जालपृष्ठ टाईम्सऑफ़इंडिया.कॉम

द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया (अंग्रेज़ी: द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया ; टी ओ आई) भारत में प्रकाशित एक अंग्रेजी भाषा का दैनिक समाचार पत्र है। इसका प्रबंधन और स्वामित्व बेनेट कोलेमन एंड कम्पनी लिमिटेड के द्वारा किया जाता है। दुनिया में सभी अंग्रेजी भाषा के व्यापक पत्रों में इस अखबार की प्रसार संख्या सर्वाधिक है।[1] 2005 में, अखबार ने रिपोर्ट दी कि (24 लाख से अधिक प्रसार के साथ) इसे ऑडिट बुरो ऑफ़ सर्क्युलेशन के द्वारा दुनिया के सबसे ज्यादा बिकने वाले अंग्रेजी भाषा के सामान्य समाचार पत्र के रूप में प्रमाणित किया गया है।[2] इसके वावजूद भारत के भाषायी समाचार पत्रों (विशेषत: हिन्दी के अखबारों) की तुलना में इसका प्रसार बहुत कम है।

टाइम्स ऑफ इंडिया को मीडिया समूह बेनेट, कोलेमन एंड कम्पनी लिमिटेड के द्वारा प्रकाशित किया जाता है, इसे टाइम्स समूह के रूप में जाना जाता है, यह समूह इकॉनॉमिक टाइम्स, मुंबई मिरर, नवभारत टाइम्स (एक हिंदी भाषा का दैनिक), दी महाराष्ट्र टाइम्स (एक मराठी भाषा का दैनिक) का भी प्रकाशन करता है।

इतिहास[संपादित करें]

टाइम्स ऑफ इंडिया

टाइम्स ऑफ इंडिया को ब्रिटिश राज के दौरान 3 नवम्बर 1838 को बम्बई टाइम्स और जर्नल ऑफ़ कामर्स [3] के रूप में स्थापित किया गया। इसे 1861 में इसका वर्तमान नाम दिया गया। इसे हर शनिवार और बुधवार को प्रकाशित किया जाता है। बम्बई टाइम्स और जर्नल ऑफ़ कामर्स को द्वि-साप्ताहिक संस्करण के रूप में शुरू किया गया। इसमें यूरोप, अमेरिका और उप महाद्वीपों के समाचार निहित होते थे और इसे नियमित भाप के जहाजों के द्वारा भारत और यूरोप के बीच भेजा जाता था। अखबार का दैनिक संस्करण 1850 से शुरू हुआ और 1861 तक बॉम्बे टाइम्स को नया नाम दे दिया गया दी टाइम्स ऑफ़ इंडिया . 19 वीं सदी में इस अखबार ने 800 से अधिक लोगों को रोजगार दिया और भारत व यूरोप में इसका प्रसार बहुत अधिक था।

मूलतः ब्रिटिश लोगों ने इसका स्वामित्व और नियंत्रण किया। इसके अंतिम ब्रिटिश संपादक आइवर एस जेहू थे, जिन्होंने 1950 में अपने संपादक के पद से इस्तीफा दे दिया। भारत की स्वतंत्रता के बाद इस समाचार पत्र के स्वामित्व को डालमिया के प्रसिद्द औद्योगिक परिवार को दे दिया गया। बाद में उत्तर प्रदेश के बिजनौर के साहू जैन समूह के साहू शांति प्रसाद जैन के द्वारा इसे नियंत्रण में ले लिया गया।

टाइम्स को एक उदारवादी समाचार पत्र के रूप में घोषित किया गया है और कभी कभी इसे अप्रासंगिक के रूप में वर्णित किया जाता है।[4][5]

टाइम्स समूह का वर्तमान प्रबंधन भारतीय पत्रकारिता के दृष्टिकोण को बदलने में सहायक रहा है। जैसा कि दुनिया में सब जगह होता है भारत में, एक समाचार पत्र के संपादक को पारंपरिक रूप से सबसे उल्लेखनीय पद माना जाता है। बाजार में किसी भी अन्य ब्रांड की तरह अखबार की प्रबंधन निति को ध्यान में रखते हुए, टाइम्स ऑफ इंडिया ने हालांकि, 1990 के दशक के शुरू में इसे बदल डाला.

मुख्य समाचार पत्र और उसके कई उप संस्करण अब व्यक्तिगत रूप से चलाये जाते हैं जिन्हें 'फेसलेस संपादक' कहा जाता है।

अखबार ने एक बड़ी सीमा तक, प्रबंधक के अधिकारों को हल्का कर दिया है, इस अधिकारों को पदानुक्रम के व्यावहारिक क्रम में सबसे ऊपर के स्लॉट पर बिक्री विज्ञापन में काम करने वाले, विपणन स्टाफ और प्रबंधकों के साथ बाँट दिया गया है।

मुख्य कम्पनी ने हाल ही में एक विवादस्पद नएm व्यापार की पहल की है, जिसे "निजी संधियाँ" कहा जाता है। जो विज्ञापन के बदले में एक कम्पनी में "इक्विटी हिस्सेदारी" की पेशकश करती है। हालांकि प्रबंधन ने सम्पादकीय पक्ष को कमजोर बना दिया है, सिने अखबार के व्यापार पक्ष, संचरण और तकनीक को अधिक प्रबल बनाया है। जिससे यह देश में सबसे अधिक लाभ कमाने वाला अखबार बन गया है।

जनवरी 2007 में, कन्नड़ संस्करण को बंगलौर में शुरू किया गया और अप्रैल 2008 में चेन्नई संस्करण की शुरुआत की गयी। चेन्नई संस्करण के प्रक्षेपण को, भारत में होने वाला अंतिम प्रमुख अंग्रेजी समाचार पत्र का संघर्ष माना जाता है।[6]

संस्करण[संपादित करें]

टाइम्स ऑफ इंडिया को निम्न लिखित स्थानों से प्रकाशित किया जाता है (वर्ण क्रम में)

वर्तमान में टाइम्स ऑफ इंडिया के साथ जुड़े उल्लेखनीय लोग[संपादित करें]

पूरक[संपादित करें]

टाइम्स ऑफ इंडिया कई शहर विशिष्ट पूरकों के साथ आता है, जैसे दिल्ली टाइम्स, बॉम्बे टाइम्स, हैदराबाद टाइम्स, लखनऊ टाइम्स, नागपुर टाइम्स, बंगलूरू टाइम्स, पुणे टाइम्स, अहमदाबाद टाइम्स और चेन्नई टाइम्स, कोलकाता टाइम्स

अन्य नियमित पूरकों में शामिल हैं:

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "Dailies add 12.6 million readers: NRS". द हिन्दू. August 29, 2006. http://www.hinduonnet.com/thehindu/holnus/001200608291820.htm. अभिगमन तिथि: 2007-10-16. 
  2. "Times now Masthead of the World". द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया. June 26, 2005. http://timesofindia.indiatimes.com/articleshow/1152489.cms. अभिगमन तिथि: 2007-10-16. 
  3. "द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया turns the Times of Colour". Televisionpoint.com. April 26, 2006. http://www.televisionpoint.com/news2006/newsfullstory.php?id=1146042260. अभिगमन तिथि: 2007-10-16. [3]
  4. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; timesofindia.indiatimes.com नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  5. भारतीय प्रेस में इसके नतीजे आश्चर्यजनक हैं।
  6. टाइम्स ऑफ इंडिया चेन्नई में मजबूत बनती हुई

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]