अहमदाबाद

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
અમદાવાદ
अहमदाबाद/Ahmedabad
कर्णावती
—  मेट्रोपोलिटन शहर  —
अहमदाबाद की पहचान
अहमदाबाद की पहचान
Map of गुजरात with અમદાવાદ marked
Location of અમદાવાદ
  
गुजरात में अहमदाबाद का स्थान
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य गुजरात
ज़िला अहमेदाबाद
स्थापना ई.स.१४११
मेयर मिनाक्षी बेन पटेल
डे. मेयर बिपीन सिकका
म्युनिसिपल कमिशनर डि.थारा
योजना एजेंसी अहमदाबाद शहरी विकास सत्ता मंडल
नागरिक पालिका अहमदाबाद म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन
वार्ड ६४
जनसंख्या
घनत्व
महानगर
५५,७०,५८५ (२०११ तक )
• २२,४७३
 () (२०११ तक )
लिंगानुपात १.११ /
साक्षरता
• पुरुष
• महिला
८६.७५%
• ९२.४४%
• ८०.२९%
क्षेत्रफल
महानगर
ऊँचाई (AMSL)
२०५ कि.मी²
•  km² ( sq mi)
• ५३ मीटर
मौसम
वर्षा
तापमान
• ग्रीष्म
• शीत
उष्न कटिबंध (कॉपेन)
      mm ( in)
     ३४.२६ °C (एक्स्प्रेशन त्रुटि: अनपेक्षित उद्गार चिन्ह "�"। °F)
     ३८.८२ °C (एक्स्प्रेशन त्रुटि: अनपेक्षित उद्गार चिन्ह "�"। °F)
     १४.४५ °C (एक्स्प्रेशन त्रुटि: अनपेक्षित उद्गार चिन्ह "�"। °F)
ISO 3166-2 IN-GJ-AH
आधिकारिक जालस्थल: अहमदाबाद म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन

Erioll world.svgनिर्देशांक: 23°02′02″N 72°35′06″E / 23.033863°N 72.585022°E / 23.033863; 72.585022

अहमदाबाद (गुजराती: અમદાવાદ अमदावाद) गुजरात प्रदेश का सबसे बड़ा शहर है। भारतवर्ष में यह नगर का सातवें स्थान पर है। इक्क्यावन लाख की जनसंख्या वाला ये शहर, साबरमती नदी के किनारे बसा हुआ है। पहले गुजरात की राजधानी यही शहर ही था, उसके बाद ये स्थान गान्धीनगर को दे दिया गया। अहमदाबाद को कर्णावती के नाम से भी जाना जाता है। इस शहार की बुनियाद सन १४११ में डाली गयी थी। शहर का नाम सुलतान अहमद शाह पर पडा था।

इतिहास[संपादित करें]

अहमदाबाद का नाम सुल्तान अहमद शाह के नाम पर रखा गया है। सुल्तान अहमद शाह ने इस शहर की स्थापना 1411 ईसवी में की थी। इस शहर को भारत का मेनचेस्टर भी कहा जाता है। वर्तमान समय में, अहमदाबाद को भारत के गुजरात प्रांत के एक प्रमुख औद्योगिक शहर के रूप में जाना जाता है।

ऐतिहासिक तौर पर, भारतीय स्वतंत्रता संघर्ष के दौरान अहमदाबाद प्रमुख शिविर आधार रहा है। इसी शहर में महात्मा गांधी ने साबरमती आश्रम की स्थापना की और स्‍वतंत्रता संघर्ष से जुड़ें अनेक आन्‍दोलन की शुरुआत भी यही से हुई थी। अहमदाबाद बुनाई के लिए भी काफी प्रसिद्ध है। इसके साथ ही यह शहर व्यापार और वाणिज्य केन्द्र के रूप में बहुत अधिक विकसित हो रहा है। अंग्रेज़ी हुकूमत के दौरान, इस जगह को फ़ौज़ी तौर पर इस्तमाल किया जाता था। अहमदाबाद इस प्रदेश का सबसे प्रमुख शहर है।

स्थापना[संपादित करें]

अहमदाबाद शहर का नाम सुल्तान अहमद शाह के नाम पर रखा गया है। सन् 1411 ई. में गुजरात के तत्कालीन शासक सुल्तान अहमद शाह ने प्राचीन हिन्दू शहर असावल के निकट अहमदाबाद की स्थापना की थी। अहमदाबाद को भारत का मेनचेस्टर भी कहा जाता है। वर्तमान समय में अहमदाबाद को भारत के गुजरात प्रांत की राजधानी होने के साथ साथ अहमदाबाद को एक प्रमुख औद्योगिक शहर के रूप में जाना जाता है। ऐतिहासिक तौर पर, अहमदाबाद भारतीय स्वतंत्रता संघर्ष के दौरान प्रमुख शिविर आधार रहा है। महात्मा गांधी ने साबरमती आश्रम की स्थापना अहमदाबाद में की और स्‍वतंत्रता संघर्ष से जुड़ें अनेक आन्‍दोलन की शुरुआत भी यहीं से हुई थी। ऊन की बुनाई के लिए भी अहमदाबाद काफ़ी प्रसिद्ध है। इसके साथ ही अहमदाबाद शहर व्यापार और वाणिज्य केन्द्र के रूप में बहुत अधिक विकसित हो रहा है।

भूगोल[संपादित करें]

पश्चिम भारत में बसा ये शहर, समुद्र से १७४ फ़ुट की ऊंचाई पर स्थित है। शहर मे दो झीलें हैं - कंकरिया और वस्त्रापुर तालाब. साबरमती नदी के गर्मी के मौसम में सूख जाने के कारण, नदी की जगह सफ़ेद मिट्टी रह जाती है। बारिश के महिनों के अलावा पूरे साल गर्मी का माहौल रहता है। सबसे उच्च तापमान ४७ डिग्री तक पहंचता है और कम से कम ५ डिग्री ठंड के समय.

प्रशासन[संपादित करें]

अहमदाबाद "नगरपालिका निगम" इस शहर के देख रेख का काम सम्भालता है और कुछ भाग औडा सम्भालता है।

पर्यटन[संपादित करें]

काँकरिया झील[संपादित करें]

इस झील का निर्माण कुतुब-उद्-दीन ने 1451 ईसवी में करवाया था। आज के समय में अहमदाबाद के निवासियों के बीच यह जगह सबसे अधिक प्रसिद्ध है। इस झील के चारों ओर बहुत ही खूबसूरत बगीचा है। झील के मघ्य में बहुत ही सुंदर द्वीप महल है। जहां मुगल काल के दौरान नूरजहां और जहांगीर अक्सर घूमने जाया करते थे।

हाथीसिंह जैन मंदिर[संपादित करें]

सजावट के साथ जटिल नक्काशी इस मंदिर की प्रमुख विशेषता है। इस मंदिर का निर्माण सफेद संगमरमर पर किया गया है। हाथीसिंह जैन मंदिर अहमदाबाद के प्रमुख जैन मंदिरों में से एक है। इस मंदिर का निर्माण 19 वीं शताब्दी में रिचजन मर्चेंट ने किया था। इस मंदिर को उन्होंने जैनों के 15 वें गुरु धर्मनाथ को समर्पित किया था।

जामा मस्जिद[संपादित करें]

जामा मस्जिद का निर्माण 1423 ईसवी में किया गया। पश्चिम भारत में स्थित यह बेहद ही खूबसूरत मस्जिद है। यह मस्जिद बेहतरीन कारीगरी का अच्छा उदाहरण प्रस्तुत करता है।

रानी सिपरी मस्जिद[संपादित करें]

एक अन्य खूबसूरत मस्जिद जो रानी सिपरी के नाम से जानी जाती है। इसका निर्माण महमूद शाह बेगड़ा की रानी ने 1514 ईसवी में करवाया था। रानी की मृत्यु होने के बाद उनके शव को यहीं पर दफनाया गया था।

गांधी आश्रम[संपादित करें]

इस आश्रम की स्थापना महात्मा गांधी ने 1915 ईसवी में की थी। यहीं से गांधी जी ने दांडी यात्रा की शुरूआत की थी। इसके अलावा यहां प्रमुख भारतीय स्वतंत्रता आंदोलनों की नींव भी रखी गई।

केलिको संग्रहालय[संपादित करें]

इस संग्रहालय में पुराने और आधुनिक ढंग की बुनाई की कारीगरी प्रदर्शित की गई है। इसके अलावा यहां कुछ पुरानी बुनाई मशीन भी रखी गई है। इस संग्रहालय में संग्रहित सामान 17वीं शताब्दी से भी पहले के हैं। इसके अतिरिक्त यहां बुनाई से सम्बन्धित एक पुस्तकालय भी मौजूद है।

आवागमन[संपादित करें]

यहां जाने के लिए सबसे उत्तम समय अक्टूबर से फरबरी तक का है। इसके अलावा नौ दिनों तक चलने वाले नवरात्रि उत्सव (अक्टूबर-नवम्बर) में भी जाया जा सकता है।

हवाई मार्ग-

यहां सरदार वल्लभभाई पटेल एयरपोर्ट है। यह प्रमुख भारतीय शहरों के साथ साथ विदेशों जैसे, कोलंबो, मशकट, लंदन और न्यूयार्क को भी जोड़ता है।

रेल मार्ग-

अहमदाबाद स्टेशन देश के लगभग सभी प्रमुख स्‍टेशनों से सीधे तौर पर जुडा हुआ है।

सड़क मार्ग-

अहमदाबाद की दूरी मुम्‍बई से लगभग 545 किलोमीटर तथा दिल्‍ली से 873 किलोमीटर है। यहां मुम्‍बई से बस द्वारा भी जाया जा सकता है।

व्यापार और उद्योग[संपादित करें]

अहमदाबाद की लगभग आधी आबादी सूती वस्त्र उद्योग तथा अन्य लघु उद्यमों पर आश्रित है।

शिक्षण संस्थान[संपादित करें]

अहमदाबाद में गुजरात विश्वविद्यालय (1949) और लालभाई दलपतभाई भारत विद्या शोध संस्थान हैं।

पर्यटन स्थल[संपादित करें]

अहमदाबाद में घूमने लायक कई स्थल हैं। इनमें से कुछ आधुनिक हैं तथा कुछ पौराणिक भी हैं।