राजनाथ सिंह

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
राजनाथ सिंह
Rajnath.jpg

पदस्थ
कार्यालय ग्रहण 
३१ मई २०१९
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी
पूर्वा धिकारी निर्मला सीतारमण

पद बहाल
२६ मई २०१४ – ३१ मई २०१९
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी
पूर्वा धिकारी सुशील कुमार शिंदे
उत्तरा धिकारी अमित शाह

पद बहाल
23 जनवरी 2013 – 09 जुलाई 2014
पूर्वा धिकारी नितिन गडकरी
उत्तरा धिकारी अमित शाह
पद बहाल
24 दिसम्बर 2005 – 24 दिसम्बर 2009
पूर्वा धिकारी लाल कृष्ण आडवाणी
उत्तरा धिकारी नितिन गडकरी

पद बहाल
2000–2002
पूर्वा धिकारी राम प्रकाश गुप्ता
उत्तरा धिकारी मायावती
चुनाव-क्षेत्र हैदरगढ़

पदस्थ
कार्यालय ग्रहण 
१६ मई २०१४ से
चुनाव-क्षेत्र लखनऊ

जन्म 10 जुलाई 1951 (1951-07-10) (आयु 69)
भभौरा, चंदौली जिला, उत्तर प्रदेश, भारत
राजनीतिक दल भारतीय जनता पार्टी
जीवन संगी सावित्री सिंह
बच्चे 2 पुत्र
1 पुत्री
शैक्षिक सम्बद्धता गोरखपुर विश्वविद्यालय
पेशा भौतिक विज्ञान के प्रवक्ता के.बी कॉलेज मीरजापुर उत्तर प्रदेश
जालस्थल राजनाथ सिंह का आधिकारिक जालस्थल
As of 23 जनवरी, 2013

राजनाथ सिंह (जन्म १० जुलाई, १९५१ वाराणसी, उत्तर प्रदेश, भारत) भारत के एक प्रमुख राजनीतिज्ञ और वर्तमान में भारत के रक्षा मंत्री हैं। वर्तमान में राजनाथ सिंह लखनऊ से सांसद हैं। वे पूर्व भारत के गृह मंत्री रह चुके है तथा वर्तमान सत्ता दल भारतीय जनता पार्टी के पूर्व अध्यक्ष हैं। वह पहले भाजपा के युवा स्कंध के और भाजपा की उत्तर प्रदेश (जो उनका गृह राज्य भी है), ईकाई के अध्यक्ष थे। प्रारंभ में वे भौतिकी के व्याख्याता थे, कर्म भूमि मीरजापुर रही पर, शीघ्र जनता पार्टी से जुड़ने के लिए उन्होंने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से अपने दीर्घ संबंधों का उपयोग किया, जिसके कारण वे उत्तर प्रदेश में कई पदों पर विराजमान हुए। राजनाथ सिंह 17 वीं लोकसभा में भाजपा के उपनेता हैं | राजनाथ सिंह भारत के वर्रतमान रक्षा मंत्री हैं।

आरंभिक जीवन[संपादित करें]

राजनाथ सिंह का जन्म भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के वाराणसी जिले के एक छोटे से ग्राम भाभोरा में हुआ था। उनका जन्म एक राजपूत परिवार में हुआ था |[1] उनके पिता का नाम राम बदन सिंह और माता का नाम गुजराती देवी था।[2] वे क्षेत्र के एक साधारण कृषक परिवार में जन्में थे और आगे चलकर उन्होंने गोरखपुर विश्वविद्यालय से प्रथम क्ष्रेणी में भौतिक शास्त्र में आचार्य की उपाधी प्राप्त की।[3] वे १३ वर्ष की आयु से (सन् १९६४ से) संघ परिवार से जुड़े हुए हैं और मिर्ज़ापुर में भौतिकी व्याख्यता की नौकरी लगने के बाद भी संघ से जुड़े रहे। १९७४ में, माथे पर एक चमकदार लाल तिलक के साथ, उन्हें भारतीय जनसंघ का सचिव नियुक्त किया गया।[4]

आरम्भिक राजनीतिक जीवन[संपादित करें]

वे 13 वर्ष की आयु में 1964 से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े थे, और संगठन से जुड़े रहे। वह वर्ष 1972 में मिर्जापुर के शाखा कार्यवाह (महासचिव) भी बने। वर्ष 1974 में 2 साल बाद, वे राजनीति में शामिल हो गए। 1969 और 1971 के बीच वह गोरखपुर में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (आरएसएस के छात्र संगठन) के संगठनात्मक सचिव थे। वह 1972 में आरएसएस की मिर्जापुर शाखा के महासचिव बने।[5]

1974 में, उन्हें भारतीय जनता पार्टी के पूर्ववर्ती भारतीय जनसंघ की मिर्जापुर इकाई के लिए सचिव नियुक्त किया गया।[6]

1975 में, 24 वर्ष की आयु में, सिंह को जनसंघ का जिला अध्यक्ष नियुक्त किया गया था। 1977 में, वह मिर्जापुर से विधान सभा के सदस्य चुने गए। उस समय वह जयप्रकाश नारायण के जेपी आंदोलन से प्रभावित थे और जनता पार्टी में शामिल हो गए थे और मिर्जापुर से विधान सभा के सदस्य के रूप में चुने गए थे। उन्हें वर्ष 1975 में जेपी मूवमेंट के साथ जुड़ने के लिए राष्ट्रीय आपातकाल की स्थिति में भी गिरफ्तार किया गया था और उन्हें 2 साल की अवधि के लिए हिरासत में लिया गया था और जब उन्हें रिहा किया गया था, तब उन्हें विधान सभा के सदस्य के रूप में फिर से चुना गया था।[7] उस समय उन्होंने राज्य (राजनीति) में लोकप्रियता हासिल की और 1980 में भाजपा में शामिल हो गए और पार्टी के शुरुआती सदस्यों में से एक थे। वह 1984 में भाजपा युवा विंग के राज्य अध्यक्ष, 1986 में राष्ट्रीय महासचिव और 1988 में राष्ट्रीय अध्यक्ष बने। उन्हें उत्तर प्रदेश विधान परिषद में भी चुना गया था।[note 1]

मध्यकालीन राजनीति[संपादित करें]

शिक्षा मंत्री (१९९१-१९९२)[संपादित करें]

1991 में, जब भारतीय जनता पार्टी ने उत्तर प्रदेश में पहली बार अपनी सरकार बनाई, तो उन्हें शिक्षा मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया। वह दो साल के कार्यकाल के लिए मंत्री बने रहे। शिक्षा मंत्री के रूप में उनके कार्यकाल के प्रमुख आकर्षण में एंटी-कॉपिंग एक्ट, 1992 शामिल था, जिसने एक गैर-जमानती अपराध की नकल की, विज्ञान ग्रंथों का आधुनिकीकरण किया और वैदिक गणित को पाठ्यक्रम में शामिल किया।[8]

केंद्रीय भूतल परिवहन मंत्री (१९९९-२०००)[संपादित करें]

अप्रैल 1994 में, उन्हें राज्य सभा (संसद के ऊपरी सदन) में चुना गया और वे उद्योग पर सलाहकार समिति (1994-96), कृषि मंत्रालय के लिए सलाहकार समिति, व्यवसाय सलाहकार समिति, के साथ शामिल हुए। हाउस कमेटी, और मानव संसाधन विकास समिति। 25 मार्च 1997 को, वह उत्तर प्रदेश में भाजपा की इकाई के अध्यक्ष बने और 1999 में वे भूतल परिवहन के लिए केंद्रीय कैबिनेट मंत्री बने।[9]

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री (२०००-२००२)[संपादित करें]

2000 में, वे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने और 2001 और 2002 में हैदरगढ़ से दो बार विधायक चुने गए। उन्हें राम प्रकाश गुप्ता ने मुख्यमंत्री के रूप में चुना था और राष्ट्रपति शासन में सफल रहे, बाद में मायावती उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने।[note 2] उस समय उन्हें मुख्यमंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था क्योंकि बहुत पहले से ही उन्होंने जेपी आंदोलन में 1970 के समय के लंबे समय से अपने जमीनी स्तर के प्रभाव के कारण लोगों के बीच एक छवि बनाई थी और कल्याण सिंह मंत्रालय में शिक्षा मंत्री भी थे और राज्य की राजनीति में भी सक्रिय था। उस समय उत्तर प्रदेश में भाजपा के कई नेता भी थे, लेकिन जमीनी स्तर पर बहुत कम लोगों का समर्थन था।[10] वह उस समय अटल बिहारी वाजपेयी के बहुत करीब थे और राज्य के लोगों के बीच उनकी बहुत साफ छवि थी। उन्होंने राजपूतों (ठाकुर) के एक नेता के रूप में भी चित्रित किया, जो राज्य में एक शक्तिशाली समुदाय हैं और भैरों सिंह शेखावत जैसे पार्टी के एक उत्साही वोटबैंक भी थे। इसके विपरीत, लालकृष्ण आडवाणी और कल्याण सिंह, वे फायरब्रांड हिंदुत्व विचारधारा के नेता नहीं थे और बहुत ही मृदुभाषी व्यक्ति थे।[11]

भाजपा अध्यक्ष[संपादित करें]

राजनाथ सिंह दो बार पार्टी के अध्यक्ष भी रह चुके हैं। इससे पहले यह उप‍लब्धि केवल अटल बिहारी वाजपेयी और लाल कृष्‍ण आडवाणी के पास ही थी।[12] वह 31 दिसंबर 2005 को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने, 19 दिसंबर 2009 तक वह एक पद पर रहे। मई 2009 में, वह उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद से सांसद चुने गए।[13] राजनाथ सिंह पहली बार 31 दिसंबर, 2005 को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने। दूसरी बार जनवरी 23, 2013 से जुलाई 09, 2014 तक पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रहे।[14] पार्टी की शानदार जीत के बाद, सिंह ने गृह मंत्री का पद संभालने के लिए पार्टी अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने 2014 का लोकसभा चुनाव लखनऊ सीट से लड़ा था और बाद में उन्हें संसद सदस्य के रूप में चुना गया था।[15]

केन्द्रीय गृहमंत्री[संपादित करें]

राजनाथ सिंह 2015 में नयागांव, सोनपुर में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए

नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में नवगठित सरकार में 26 मई, 2014 को  श्री राजनाथ सिंह ने भारत के केंद्रीय मंत्री के रूप में शपथ ली। दूसरी बार मोदी सरकार में रक्षा मंत्री बने । वे 2019 तक केंद्रीय गृहमंत्री रहे ।[14][16]

उन्होंने 14 फरवरी 2016 को जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में पुलिस की कार्रवाई के विरोध के बीच विवाद पैदा कर दिया, जिसमें दावा किया गया कि "JNU की घटना" लश्कर-ए-तैयबा के प्रमुख हाफिज सईद द्वारा समर्थित थी।[17]

मई 2016 में, उन्होंने दावा किया कि दो साल की अवधि में पाकिस्तान से घुसपैठ में 52% की गिरावट आई है।[18] 9 अप्रैल 2017 को, उन्होंने बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार के साथ भारत के वीर लॉन्च किया। यह उनके द्वारा शहीदों के परिवार के कल्याण के लिए की गई एक पहल थी।[19]

फिल्म स्टार अक्षय कुमार और अन्य मंत्रियों किरेन रिजिजू, हंसराज अहीर के साथ उनके द्वारा 'भारत के वीर' के लिए 20 जनवरी 2018 को एक आधिकारिक गान शुरू किया गया था। 21 मई 2018 को, उन्होंने बस्तरिया बटालियन का गठन किया। केंद्रीय गृह मंत्री के रूप में, राजनाथ सिंह 21 मई 2018 को छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर में सीआरपीएफ की 241 बस्तरिया बटालियन की पासिंग आउट परेड में शामिल हुए।[20]

केन्द्रीय रक्षा मंत्री[संपादित करें]

30 मई, 2019 को  श्री राजनाथ सिंह ने भारत के केंद्रीय मंत्री के रूप में शपथ ली। 1 जून 2019 को श्री सिंह ने केन्द्रीय रक्षा मंत्री का कार्यभार संभाला। [21]

सन्दर्भ[संपादित करें]

प्रशंसा पत्र[संपादित करें]

  1. Singh, Ujjwal Kumar (2007-01-11). The State, Democracy and Anti-Terror Laws in India (अंग्रेज़ी में). SAGE Publications India. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-7829-955-6.
  2. "राजनाथ सिंह: सारांश". ज़ी न्यूज़. मूल से 30 सितंबर 2007 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 10 मई 2009.
  3. "Rajnath Singh | Biography & Facts". Encyclopedia Britannica (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2020-11-09.
  4. "Rajnath Singh: Rajnath Singh BJP from LUCKNOW in Lok Sabha Elections | Rajnath Singh News, images and videos". The Economic Times. अभिगमन तिथि 2020-11-09.
  5. "Zee News - Profile: Rajnath Singh". web.archive.org. 2007-09-30. अभिगमन तिथि 2020-11-09.
  6. Webdunia. "राजनाथसिंह : प्रोफाइल". hindi.webdunia.com. अभिगमन तिथि 2020-10-19.
  7. ""A Man With No Enemies": Rajnath Singh Appointed Cabinet Minister Again". NDTV.com. अभिगमन तिथि 2020-11-09.
  8. गौतम, चिंतामणि (२०१४-०५-१६). "Rajneeti: A Biography of Rajnath Singh - Indian books and Periodicals" (PDF). www.ibpbooks.com. मूल से २०२०-०८-३१ को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2020-11-09.
  9. "Courage, Mr Rajnath Singh!". @businessline (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2020-11-09.
  10. Gupta, Moushumi Das (2019-06-08). "Modi's one move showed Rajnath Singh's 44 years of politics can become ineffective in a day". ThePrint (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2020-11-09.
  11. "The Deep Caste Symbolism In Yogi Adityanath's Appointment As Uttar Pradesh CM". outlookindia. अभिगमन तिथि 2020-11-09.
  12. "राजनाथ सिंह: प्रोफेसर से 'सियासी गुरु' बनने तक का सफर..." आज तक. अभिगमन तिथि 2020-09-08.
  13. Dec 23, LOPAMUDRA GHATAK / INDIATIMES NEWS NETWORK /; 2006; Ist, 20:30. "It's basic instinct for Rajnath Singh | India News - Times of India". The Times of India (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2020-11-25.
  14. "बीजेपी आधिकारिक वैबसाइट". मूल से 24 अगस्त 2018 को पुरालेखित.
  15. "Rajnath Singh surpasses Vajpayee's victory margin in Lucknow". The Hindu (अंग्रेज़ी में). 2014-05-18. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0971-751X. अभिगमन तिथि 2020-11-25.
  16. "एनडीटीवी इंडिया". मूल से 24 अगस्त 2018 को पुरालेखित.
  17. "Understand the reality… Lashkar chief Hafiz Saeed backed JNU incident: Home Minister Rajnath Singh". The Indian Express (अंग्रेज़ी में). 2016-02-15. अभिगमन तिथि 2020-11-25.
  18. "Narendra Modi's 56-inch chest not reduced an inch: Rajnath Singh". Deccan Chronicle (अंग्रेज़ी में). 2016-05-28. अभिगमन तिथि 2020-11-25.
  19. "Untitled Page". pib.gov.in. अभिगमन तिथि 2020-11-25.
  20. DelhiMay 21, Jitendra Singh New; May 21, 2018UPDATED:; Ist, 2018 18:17. "First ever passing out parade of 'Bastariya Battalion' held in Chhattisgarh". India Today (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2020-11-25.सीएस1 रखरखाव: फालतू चिह्न (link)
  21. "रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने की उच्चस्तरीय बैठक,". मूल से 4 जून 2019 को पुरालेखित.

टिप्पणियाँ[संपादित करें]

  1. राजनाथ सिंह अपनी पार्टी की शुरुआत से ही राज्य की राजनीति और केंद्रीय राजनीति दोनों में सक्रिय थे।
  2. "उत्तर प्रदेश की राजनीति जंगल के जाल की तरह थी" -भारतीय लोकतंत्र का विश्वासघात।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

राजनाथ सिंह का आधिकारिक जालस्थल

राजनीतिक कार्यालय
पूर्वाधिकारी
निर्मला सीतारमण
भारत के रक्षा मंत्री
३१ मई २०१९ – वर्तमान
उत्तराधिकारी
पदस्थ
पूर्वाधिकारी
सुशील कुमार शिंदे
भारत के गृह मंत्री
२६ मई २०१४ – ३१ मई २०१९
उत्तराधिकारी
अमित शाह
पूर्वाधिकारी
राम प्रकाश गुप्ता
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री
28 अक्टूबर 2000 – 8 मार्च 2002
उत्तराधिकारी
राष्ट्रपति शासन