चन्द्र भानु गुप्ता

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चन्द्र भानु गुप्त (14 जुलाई 1902 – 11 March 1980[2]) ) भारत के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी तथा राजनेता थे। वे 7 दिसम्बर 1960 को पहली बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। इसके बाद दो बार और मुख्यमंत्री रहे।

व्यक्तिगत जीवन[संपादित करें]

वह अलीगढ़ जिले के एक छोटे गाँव से थे। १७ वर्ष की उम्र में ही स्वतन्त्रता संग्राम में उतर पड़े।

श्री चन्द्र भानु गुप्त 

पूर्व मुख्यमंत्री , उत्तर प्रदेश

जन्म अलीगढ़, 14 जुलाई, 1902।
शिक्षा एम0ए0, एलएल0बी0, लखनऊ विश्वविद्यालय।
कार्यक्षेत्र राजनीति, न्याय एवं समाज सेवा।
न्याय एक सफल एवं योग्य वकील रहे।
राजनीति ·         वर्ष 1937 में विधान सभा की स्थापनाकाल से विधान सभा सदस्य निर्वाचित हुए।

·         पुनः वर्ष 1946, 1952, 1961, 1962, 1967 एवं 1969 में उत्तर प्रदेश विधान सभा सदस्य निर्वाचित।

·         वर्ष 1946 में मुख्य मंत्री के सभा सचिव।

·         वर्ष 1947-54 तक खाद्य एवं रसद मंत्री।

·         वर्ष 1954-57 तक नियोजन, जनस्वास्थ्य, चिकित्सा, उद्योग, खाद्य एवं रसद मंत्री।

·         वर्ष 1957 में मोतीलाल मेमोरियल सोसाइटी अध्यक्ष।

·         वर्ष 1960 में प्रान्तीय कांग्रेस समिति के अध्यक्ष।

·         पहली बार 7 दिसम्बर, 1960 से 14 मार्च, 1962, दूसरी बार 14 मार्च, 1962 से 1 अक्टूबर, 1963, तीसरी बार 14 मार्च,1967 से 04 अप्रैल, 1967 तथा चौथी बार 25 फरवरी, 1969 से 17 फरवरी, 1970 तक उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे।

·         दिसम्बर, 1960 से मार्च, 1961 तक उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सदस्य।

·         वर्ष 1967 में नेता विरोधी दल।

·         वर्ष 1926 से प्रान्तीय कांग्रेस समिति और अखिल भारतीय कांग्रेस समिति के सदस्य।

·         राष्ट्रीय आन्दोलन में अनेक बार जेल-यात्रायें की।

·         वर्ष 1946-58 तक प्रान्तीय कांग्रेस समिति के कोषाध्यक्ष।

·         वर्ष 1947-59 तक लखनऊ विश्वविद्यालय कोषाध्यक्ष।

निधन दिनांक 11 मार्च, 1980 को लखनऊ में देहावसान हो गया।

राजनीतिक जीवन[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]