अखिलेश यादव

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
अखिलेश यादव
Akhilesh Yadav.jpg
अखिलेश यादव

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमन्त्री
पद बहाल
15 मार्च 2012 – 19 मार्च 2017
पूर्वा धिकारी मायावती
उत्तरा धिकारी योगी आदित्यनाथ

जन्म 1 जुलाई 1973 (1973-07-01) (आयु 45)
ग्राम सैफई, जनपद इटावा, उत्तर प्रदेश
राष्ट्रीयता भारतीय
राजनीतिक दल समाजवादी पार्टी
जीवन संगी डिम्पल यादव
संबंध मुलायम सिंह यादव (पिता)
राम गोपाल यादव (चाचा)
शिवपाल सिंह यादव (चाचा)
बच्चे अदिति व टीना (पुत्री)
और अर्जुन (पुत्र)
निवास ग्राम सैफई, जनपद इटावा, उत्तर प्रदेश
शैक्षिक सम्बद्धता मैसूर विश्वविद्यालय से इंजीन्यरिंग स्नातक तथा
सिडनी विश्वविद्यालय से पर्यावरणीय अभियांत्रिकी में परास्नातक
पेशा राजनेता
धर्म हिन्दू
जालस्थल www.akhileshyadav.com

अखिलेश यादव (जन्म: 1 जुलाई 1973) एक भारतीय राजनीतिज्ञ हैं जो उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। इससे पूर्व वे लगातार तीन बार सांसद भी रह चुके हैं। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव के पुत्र अखिलेश ने 2012 के उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में अपनी पार्टी का नेतृत्व किया। उनकी पार्टी को राज्य में स्पष्ट बहुमत मिलने के बाद, 15 मार्च 2012 को उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्य मन्त्री पद की शपथ ग्रहण की।

संक्षिप्त जीवनी[संपादित करें]

अखिलेश यादव का जन्म 1 जुलाई 1973 को इटावा जिले के सैफई गाँव में समाजवादी पार्टी के नेता मुलायम सिंह यादव की पहली पत्नी मालती देवी के यहाँ हुआ।अखिलेश शाकाहारी है। इनका विवाह डिम्पल यादव के साथ 24 नवंबर 1999 को हुआ था। अखिलेश तीन बच्चों के पिता हैं। इनकी पत्नी सांसद हैं और वह कन्नौज से निर्विरोध सांसद चुनी गई थीं।

शिक्षा[संपादित करें]

अखिलेश ने राजस्थान मिलिट्री स्कूल धौलपुर से शिक्षा प्राप्त की[1] उन्होंने अभियान्त्रिकी में स्नातक की उपाधि मैसूर के एस॰ जे॰ कालेज ऑफ इंजीनियरिंग से ली, बाद में विदेश चले गये और सिडनी विश्वविद्यालय से पर्यावरण अभियान्त्रिकी में स्नातकोत्तर किया[2][3]

राजनीति में भागीदारी[संपादित करें]

अखिलेश ने मई 2009 के लोकसभा उप-चुनाव में फिरोजाबाद सीट से अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी एस०पी०एस० बघेल को 67,301 मतों से हराकर सफलता प्राप्त की। इसके अतिरिक्त वे कन्नौज से भी जीते। बाद में उन्होंने फिरोजाबाद सीट से त्यागपत्र दे दिया और कन्नौज सीट अपने पास रखी।[4][5][6][7]

मुख्यमन्त्री के रूप में[संपादित करें]

मार्च 2012 के विधान सभा चुनाव में 224 सीटें जीतकर मात्र 38 वर्ष की आयु में ही वे उत्तर प्रदेश के 33वें मुख्यमन्त्री बन गये। जुलाई 2012 में जब समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने उनके कार्य की आलोचना करते हुए व्यापक सुधार का सुझाव दिया तो जनता में यह सन्देश गया कि सरकार तो उनके पिता और दोनों चाचा चला रहे हैं, अखिलेश नहीं।[8]

उनकी सरकार को दूसरा झटका तब लगा जब एक आईएएस अधिकारी दुर्गा शक्ति नागपाल को निलम्बित करने पर चारों ओर से उनकी आलोचना हुई। जिसके परिणाम स्वरूप उन्हें नागपाल को बहाल करना पड़ा।[9][10] 2013 के मुजफ्फरनगर दंगों में 43 व्यक्तियों के मारे जाने व 93 के घायल होने पर कर्फ्यू लगाना पड़ा तथा सेना ने आकर स्थिति पर काबू किया। मुस्लिम व हिन्दू जाटों के बीच हुए इस भयंकर दंगे से उनकी सरकार की बड़ी किरकिरी हुई।[11][12]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Akhilesh Yadav : Man who won UP Elections 2012 for Samajwadi Party.
  2. "Shri Akhilesh Yadav: Profile". Government of India. अभिगमन तिथि 7 मार्च 2010.
  3. [1]
  4. Pradhan, Sharat (12 नवम्बर 2009). "Analysis: Why Dimple came a cropper in UP bypoll". Redith casff. अभिगमन तिथि 7 मार्च 2010.
  5. SARIN, RITU; AMITAV RANJAN (14 दिसम्बर 2008). "Law Minister at the wheel in CBI's U-turn on Mulayam case". Indian Express. अभिगमन तिथि 7 मार्च 2010.
  6. "Probe UP CM's money: SC to CBI". CNN-IBN. 1 मार्च 2007. नामालूम प्राचल |access date= की उपेक्षा की गयी (|access-date= सुझावित है) (मदद)
  7. नयी उम्मीदों का युवराज अखिलेश यादव, लेखक-अविजित सूर्यवंशी, रूपांतरण-अशोककुमार शर्मा (2012) डायमंड बुक्स, नयी दिल्ली
  8. "Mulayam Yadav pulls up son Akhilesh's govt". Indian Express. 1 अगस्त 2012. अभिगमन तिथि 26 सितम्बर 2013.
  9. http://www.hindustantimes.com/India-news/NewDelhi/Is-UP-in-Akhilesh-Yadav-s-grasp-Controversies-hound-young-CM/Article1-1102994.aspx
  10. "IAS body: Revocation of Durga Shakti Nagpal's suspension a delayed decision". Indian Express. 23 सितंबर 2013. अभिगमन तिथि 26 सितम्बर 2013.
  11. http://timesofindia.indiatimes.com/india/Muzaffarnagar-clashes-UP-on-edge-Akhilesh-govt-struggles-to-contain-riots/articleshow/22440056.cms
  12. Ahmed Ali Fayyaz (2013-09-08). "9 killed in communal riots in Muzaffarnagar, curfew clamped, army deployed". द इंडियन एक्सप्रेस. अभिगमन तिथि 2013-09-26.

Mr Akhilesh ji I think if SP,BSP,INC & RLD WILL GO TOGETHER IN PARLIAMENT ELECTION I SURE ALL THE 80 LOKSHBHA SEATS WILL BE IN YOUR HANDS. IF YOU GO IN ELECTION WITHOUT INC THEN YOU COULD NEVER WIN ALL THE SEATS. SO INC MUST BE IN YOUR ALLIANCE. THEN ALL OF YOU WILL GET MORE SEATS WITH INC.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

  1. समाजवादी पार्टी की आधिकारिक वेबसाइट
पूर्वाधिकारी
मायावती
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री
१५ मार्च २०१२ - वर्तमान
उत्तराधिकारी
पदस्थ