संपूर्णानन्द

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
डॉ॰ संपूर्णानंद

संपूर्णानन्द एक भारतीय राजनेता है और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके है। डॉ॰ संपूर्णानंद (1 जनवरी 1890 - 10 जनवरी 1969) कुशल तथा निर्भीक राजनेता एवं सर्वतोमुखी प्रतिभावाले साहित्यकार एवं अध्यापक थे।

डा0 सम्पूर्णानन्द 

पूर्व मुख्यमंत्री , उत्तर प्रदेश

जन्म बनारस, 1 जनवरी, 1890।
शिक्षा बी0एससी0, एल0टी0, इलाहाबाद विश्वविद्यालय।
कार्यक्षेत्र राजनीति, साहित्य, समाज सेवा एवं शिक्षा।
शिक्षक एक सफल एवं योग्य प्राध्यापक रहे। लंदन मिशन हाईस्कूल, वाराणसी, प्रेम महाविद्यालय, वृन्दावन, प्रिंसेज कालेज, इंदौर, डूंगर कालेज, बीकानेर तथा काशी विद्यापीठ वाराणसी में अध्यापन कार्य किया।
राजनीति
  • 1936 में उ0 प्र0 विधान सभा के सदस्य रहे। सर्वप्रथम विधान सभा की स्थापना के समय वर्ष 1937 में उत्तर प्रदेश विधान सभा सदस्य निर्वाचित हुए।
  • पुनः वर्ष 1946, 1952, 1957 में उत्तर प्रदेश विधान सभा के सदस्य निर्वाचित।
  • 1937-39 एवं वर्ष 1946 में पं0 गोविन्द बल्लभ पंत के मंत्रिमण्डल में मंत्री।
  • पहली बार 28 दिसम्बर, 1954 से 9 अप्रैल, 1957 तथा दूसरी बार 10 अप्रैल, 1957 से 6 दिसम्बर, 1960 तक उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री रहे।
  • राजस्थान के राज्यपाल।
  • वर्ष 1921 के असहयोग आन्दोलन में भाग लिया।
  • राष्ट्रीय आन्दोलन में कई बार जेल गये।
  • सभापति हिन्दी साहित्य सम्मेलन पूना, 1945।
  • प्रदेशीय कांग्रेस कमेटी के जनरल सेक्र्रेटरी।
  • पं0 मोतीलाल नेहरू के सेक्रेटरी।
  • उत्तर प्रदेश के प्रशासन में शिक्षा, श्रम, वित्त तथा गृह विभागों में अग्रणीय कार्य किया।
  • जेलों का सुधार किया।
साहित्यिक
  • इतिहास, दर्शन, समाज शास्त्र, ज्योतिष, गणित तथा साहित्य और विभिन्न भाषाओं के सम्मानित विद्वान।
  • चिद्विलास'' ''आयों का आदि देश''''समाजवाद, अन्तर्राष्ट्रीय विधान'',''पृथ्वी से सप्तर्षी मण्डल'',''गणेश'' आदि 28 ग्रन्थों की रचना।
  • समाजवाद तथा चिद्विलास पर दो बार मंगला प्रसाद पारितोषिक।
  • अन्य ग्रन्थों पर उत्तर प्रदेश सरकार से दो बार पारितोषिक।
  • बनारस के दो समाचार पत्रों ''आज'' तथा''टूडे'' का सम्पादन।
निधन 1969 को देहावसान।

जीवनी[संपादित करें]

संपूर्णानंद का जन्म वाराणासी में 1 जनवरी सन् 1890 को एक कायस्थ परिवार में हुआ। वहीं के क्वींस कालेज से बी.एस.सी. की परीक्षा उत्तीर्ण कर प्रयाग चले गए और वहाँ से एल.टी. की उपाधि प्राप्त की। इसके बाद आप प्रेम महाविद्यालय (वृंदावन) तथा बाद में डूंगर कालेज (बीकानेर) में प्रधानाध्यापक के पद पर नियुक्त हुए। देश की पुकार पर आपने यह नौकरी छोड़ दी और फिर काशी के सुख्यात देशभक्त (स्वर्गीय) बाबू शिवप्रसाद गुप्त के आमंत्रण पर ज्ञानमंडल संस्था में काम करने लगे। यहीं रहकर आपने "अंतर्राष्ट्रीय विधान" लिखी और "मर्यादा" का संपादनभार भी संभाल लिया। इसके बाद जब इस संस्था से "टुडे" नामक अंग्रेजी दैनिक भी निकालने का निश्चय किया गया तो इसका संपादन भी आपको ही सौंपा गया जिसे आपने बड़ी योग्यता के साथ संपन्न किया।

श्री संपूर्णानंद में शुरू से ही राष्ट्रसेवा की लगन थी और आप महात्मा गांधी द्वारा संचालित स्वाधीनता संग्राम में हिस्सा लेने को आतुर रहते थे। इसी से सरकारी विद्यालयों का बहिष्कार कर आए हुए विद्यार्थियों को राष्ट्रीय शिक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से स्थापित काशी विद्यापीठ में सेवाकार्य के लिए जब आपको आमंत्रित किया गया तो आपने सहर्ष उसे स्वीकार कर लिया। वहाँ अध्यापन कार्य करते हुए आपने कई बार सत्याग्रह आंदोलन में हिस्सा लिया और जेल गए। सन् 1926 में आप प्रथम बार कांग्रेस की ओर से खड़े होकर विधानसभा के सदस्य निर्वाचित हुए। सन् 1937 में कांग्रेस मंत्रिमंडल की स्थापना होने पर शिक्षामंत्री प्यारेलाल शर्मा के त्यागपत्र दे देने पर आप उत्तर प्रदेश के शिक्षामंत्री बने और अपनी अद्भुत कार्यक्षमता एवं कुशलता का परिचय दिया। आपने गृह, अर्थ तथा सूचना विभाग के मंत्री के रूप में भी कार्य किया। सन् 1955 में श्री गोविंदवल्लभ पंत के केंद्रीय मंत्रिमंडल में सम्मिलित हो जाने के बाद दो बार आप उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री नियुक्त हुए। सन् 1962 में आप राजस्थान के राज्यपाल बनाए गए जहाँ से सन् 1967 में आपने अवकाश ग्रहण किया।

श्री सम्पूर्णानंद भारतीय संस्कृति एवं भारतीयता के अनन्य समर्थक थे। योग और दर्शन उनके प्रिय विषय थे। वे नियमित रूप से पूजापाठ और संध्या करते थे तथा माथे पर तिलक लगाते थे। राजनीति में वे समाजवाद के अनुयायी थे किंतु उनका समाजवाद उसके विदेशी प्रतिरूप से भिन्न भारत की परिस्थितियों एवं भारतीय विचारपरंपरा के अनुरूप था। हिंदी तथा संस्कृत से उन्हें विशेष प्रेम था पर वे अंग्रेजी के अतिरिक्त उर्दू, फारसी के भी अच्छे ज्ञाता तथा भौतिकी, ज्योतिष और दर्शन शास्त्र के भी पंडित थे। विभिन्न विषयों की प्रभूत पुस्तकें वे निरंतर पढ़ते रहते थे और अपनी मानस मंजूषा में जिन अमूल्य ज्ञानरत्नों का संग्रह किया करते थे, लोकहित के लिए उनके द्वारा उनका दान और उत्सर्ग भी होता रहता था। हिंदी में वैज्ञानिक उपन्यास उन्होंने ही सर्वप्रथम लिखा। इस प्रकार उन्होंने अध्ययन, मनन से जो कुछ भी इकट्ठा किया उसका बहुलांश "आदानं हि विसगार्थ सतां वारिमुचामिव" इस उक्ति के अनुसार अपनी प्रौढ़ लेखनी द्वारा जनता में पुन: वितरित कर दिया। आपकी कुछ प्रमुख हिंदी रचनाएँ ये हैं : अंताराष्ट्रिय विधान, समाजवाद, चिद्विलास, गणेश, ज्योतिर्विनोद, कुछ स्मृतियाँ, कुछ स्फुट विचार, हिंदू देव परिवार का विकास, ग्रहनक्षत्र। इनके अतिरिक्त सामयिक पत्रों में आपने जो बहुसंख्यक लेख लिखे वे भी हिंदी साहित्य की अमूल्य निधि हैं। इनके कुछ संग्रह प्रकाशित भी हो चुके हैं।

उत्तर प्रदेश में उन्मुक्त कारागार का अद्भुत प्रयोग आपने प्रारंभ किया जो यथेष्ट रूप से सफल हुआ। नैनीताल में वेधशाला स्थापित कराने का श्रेय भी आपको ही है। वाराणसेय संस्कृत विश्वविद्यालय और उत्तर प्रदेश सरकर द्वारा संचालित हिंद समिति की स्थापना में आपका महत्वपूर्ण योगदान रहा है। ये दोनों संस्थाएँ आपकी उत्कृष्ट संस्कृतनिष्ठा एवं हिंद प्रेम के अद्वितीय स्मारक हैं। कला के क्षेत्र में लखनऊ के मैरिस म्यूजिक कॉलेज को आपने विश्वविद्यालय स्तर का बना दिया। कलाकारों और साहित्यकारों को शासकीय अनुदान देने का आरंभ देश में प्रथम बार आपने ही किया। वृद्धावस्था की पेंशन भी आपने आरंभ की। आपको देश के अनेक विश्वविद्यालयों ने "डॉक्टर" की सम्मानित उपाधि से विभूषित किया था। हिंदी साहित्य सम्मेलन की सर्वोच्च उपाधि "साहित्यवाचस्पति" भी आपको मिली थी तथा हिंदी साहित्य का सर्वोच्च पुरस्कार "मंगलाप्रसाद पुरस्कार" भी आप प्राप्त कर चुके थे।

आपका निधन 10 जनवरी 1969 को वाराणसी में हुआ।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]