2013 मुज़फ़्फ़र नगर दंगे

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
2013 मुज़फ़्फ़र नगर दंगे
India Uttar Pradesh districts Muzaffarnagar.svg
दंगो का स्थान।
तिथी 27 अगस्त 2013 (2013-08-27) – 17 सितम्बर 2013 (2013-09-17)
(21 दिन)
जगह मुज़फ़्फ़र नगर जिला, उत्तर प्रदेश, भारत
29°28′20″N 77°42′32″E / 29.472332°N 77.708874°E / 29.472332; 77.708874निर्देशांक: 29°28′20″N 77°42′32″E / 29.472332°N 77.708874°E / 29.472332; 77.708874
कारण कवाल गाँव में जाट - मुस्लिम संघर्ष[1]
विधि खत्म[2]
हिंसा और कार्यवाही
मौत43[4]
हताहत93[3]
गिरफ्तारी1,000
नजरबंद10,000[3]

२७ अगस्त २०१३ मुज़फ़्फ़र नगर जिले के कवाल गाँव में जाट -मुस्लिम हिंसा के साथ यह दंगा शुरू हुआ जिसके कारण अब तक ४३ जाने जा चुकी है और ९३ हताहत हुए हैं। १७ सितम्बर को दंगा प्रभावित हर स्थानों से कर्फ्यु हटा लिया गया और सेना वापस बुला ली गयी।[5]

शुरुआती झड़पें[संपादित करें]

जाट और मुस्लिम समुदाय के बीच २७ अगस्त २०१३ से प्रारंभ हुई। कवाल गाँव में कथित तौर पर एक जाट समुदाय लड़की के साथ एक मुस्लिम युवक की छेड़खानी के साथ यह मामला शुरू हुआ।[6] उसके बाद लड़की के परिवार के दो ममेरे भाइयों गौरव और सचिन ने शाहनवाज नाम के युवक को पीट-पीट कर मार डाला को मार डाला। उसके बाद मुस्लिमों ने दोनों युवकों को जान से मार डाला। इसके बाद पुलिस ने दोनों तरफ के लोगों को गिरफ्तार कर लिया। [7]

इस खबर के फैलते ही मुज़फ़्फ़र नगर, शामली, बागपत, सहारनपुर में दंगा फ़ैल गया।[8]

जनसभा[संपादित करें]

इसके दोनों तरफ से राजनीति शुरु हो गई। मारे गए दोनों जाटो युवकों के इंसाफ के लिए एक महापंचायत बुलाई गई। इसके बाद मुस्लिमों की तरफ से ३० अगस्त को हुई मुस्लिम महापंचायत हुई। उसके जवाब में हुई नंगला मंदौड़ में हुई महापंचायत में भारतीय जनता पार्टी के स्थानीय नेताओं पर यह आरोप लगा की उन्होंने जाट समुदाय को बदला लेने को उकसाया।इस महापंचायत में शान्तिपूर्ण प्रदर्शन किया गया। मुस्लिम बस्तियों से गुजरते हुए गोलियां चल रही थी। [9]

जौली नहर कांड[संपादित करें]

७ सितम्बर को दो समुदाय की हुई झड़प में महापंचायत से लौट रहे किसानों पर जौली नहर के पास दंगाइयों घात लगाकर हमला किया। दंगाइयों ने किसानों के १८ ट्रैक्टर और ३ मोटरसाइकिलें फूक दी। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक उन लोगो ने शवों को नहर में फेक दिया। अब तक ६ शवों को ढूँढ लिया गया है इस दंगे में एक फोटोग्राफर और पत्रकार समेत ४३ लोगों की मौत हो चुकी है।[10]

कार्यवाही[संपादित करें]

दंगा फैलते ही शहर में कर्फ्यु लगा दिया गया और सेना के हवाले शहर कर दिया गया। १००० सेना के जवान, १०००० पी.ए.सी. के जवान, १३०० सी.आर.पी.एफ. के जवान और १२०० रैपिड एक्शन फोर्स के जवानों को शहर की स्थितियों पर नियंत्रण करने के लिए तैनात कर दिया गया।[11]

११ सितम्बर २०१३ तक लगभग १० से १२ लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया। २३०० शस्त्र लाइसेंस रद्द किये और ७ लोगों पर रा.सु.का के अन्तर्गत मुकदमा दर्ज हुआ।[4]

जाँच[संपादित करें]

सत्रह लोगों पर प्राथमिकी दर्ज हुई जिसमे भाजपा और भारतीय किसान यूनियन के नेता शामिल है।[12] उत्तर प्रदेश सरकार ने सेवानिवृत्त जज विष्णु सहाय के नेतृत्व में एक समितीय न्यायिक कमिटी गठन की घोषणा की।[13] उत्तर प्रदेश सरकार ने ५ वरिष्ठ पुलिस अफसरों का मुज़फ्फरनगर से तबादला कर दिया।[14]

स्टिंग ऑपरेशन[संपादित करें]

चैनल आज तक के द्वारा कराये गए स्टिंग ऑपरेशन में दिखाया गया कि उत्तर प्रदेश के मंत्री आज़म खान के आदेश पर पुलिस अफसरों ने कई मुस्लिम समुदाय के दोषी लोगो को छोड़ दिया गया।[15] लेकिन आज़म खान ने इन आरोपों को ख़ारिज कर दिया।[16]

प्रतिक्रिया[संपादित करें]

विपक्षी दलों जैसे बहुजन समाज पार्टी,[17] भारतीय जनता पार्टी,[18] राष्ट्रीय लोकदल[19] और मुस्लिम संगठन जैसे जमात उलेमा-ए-हिंद[20] ने समाजवादी पार्टी की सरकार को बर्खास्त करके राष्ट्रपति शासन की माँग की।

गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने कहा कि गृह मंत्रालय ने उत्तर प्रदेश सरकार को पहले ही इस तरह की घटनाओं की चेतावनी दी थी।[21]

राजनितिक असर[संपादित करें]

आज़म खान की नाराजगी

वरिष्ठ समाजवादी पार्टी नेता और कबिना मंत्री आज़म खान पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक से गैर मौजूद रहे, जो कि आगरा में हो रही थी। सूत्रों के अनुसार वह मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से दंगों से निपटने में लाचारगी से नाराज थे।[22]

सोमपाल शास्त्री का मना करना

सोमपाल शास्त्री, जो कि बागपत लोक सभा क्षेत्र से सपा के उम्मीदवार थे, ने पार्टी के चिह्न पर लोकसभा लड़ने से इंकार कर दिया। उन्होंने कहा कि शामली, बागपत और मुज़फ़्फ़र नगर में फैली हिंसा दुर्भाग्यपूर्ण है।[23]

सरधना महापंचायत[संपादित करें]

यहाँ पर हुए दंगों में आरोपी विधायक संगीत सोम की गिरफ्तारी के विरोध में २९ सितम्बर २०१३ को मेरठ जिले की सरधना तहसील में महापंचायत का आयोजन किया गया। शासन द्वारा इस पर पहले से ही रोक लगा दी गई थी। इसमें शामिल होने आये लोगो पुलिस ने जबरन लाठियाँ बरसाई। इससे उत्तेजित भीड़ ने कमिश्नर, डीआईजी, डीएम और एसएसपी के वाहन फूँक डाले।[24]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Journalist and a photographer killed in fresh communal violence in Muzaffarnagar, army deployed as curfew imposed". इंडिया टुडे. अभिगमन तिथि 7 सितंबर 2013.
  2. "Muzaffarnagar riots: normalcy returns, army leaves". हिन्दुस्तान टाइम्स. अभिगमन तिथि 18 सितंबर 2013.
  3. "Muzaffarnagar violence: Over 10,000 displaced; 10,000 arrested". Times of India. 12 सितंबर 2013. अभिगमन तिथि 12 सितंबर 2013.
  4. "Muzaffarnagar curfew relaxed, death toll rises to 43". Firstpost. 12 सितंबर 2013. अभिगमन तिथि 12 सितंबर 2013.
  5. "Bloody communal Riots in Muzaffarnagar come to Halt". अभिगमन तिथि 17 सितंबर 2013.
  6. Varma, Gyan (12 सितंबर 2013). "Communalism gains new ground in rural India". लाइव मिंट. अभिगमन तिथि 12 सितंबर 2013.
  7. "Timeline of Muzaffarnagar riots: eve-teasing incident led to murders, then riots". India TV News. 2013-09-08. अभिगमन तिथि 2013-09-08.
  8. "Three killed in UP after girl's harassment". Mid-Day. 2013-08-28.
  9. Sreenivasan Jain (2013-09-11). "Muzaffarnagar riots: a meeting after Friday prayers exploited by politicians". NDTV. अभिगमन तिथि 2013-09-11.
  10. "dna special: Jolly canal killings triggered the Muzaffarnagar riots". DNA. अभिगमन तिथि 14 सितंबर 2013.
  11. "Curfew in force, toll in Muzaffarnagar climbs to 28". Tehelka. 9 सितंबर 2013. अभिगमन तिथि 12 सितंबर 2013.
  12. "Muzaffarnagar toll mounts to 21". द हिन्दू. 8 सितंबर 2013. अभिगमन तिथि 12 सितंबर 2013.
  13. Bose, Adrija (9 सितंबर 2013). "Muzaffarnagar live: UP govt appoints judicial panel to probe violence". Firstpost. अभिगमन तिथि 9 सितंबर 2013.
  14. "Poor riot management: Uttar Pradesh government removes five senior officials". अभिगमन तिथि 11 सितंबर 2013.
  15. "Cops expose Azam Khan's role in Muzaffarnagar violence". Headlines Today. September 18, 2013. अभिगमन तिथि 18 सितंबर 2013.
  16. "Muzaffarnagar: Azam Khan says punish me if guilty". हिन्दुस्तान टाइम्स. September 18, 2013. अभिगमन तिथि 18 सितंबर 2013.
  17. "Muzaffarnagar clash: Bahujan Samaj Party demands dismissal of UP government". DNA India. 8 सितंबर 2013. अभिगमन तिथि 12 सितंबर 2013.
  18. "BJP demands dismissal of UP government". द हिन्दू. 11 सितंबर 2013. अभिगमन तिथि 12 सितंबर 2013.
  19. "Muzaffarnagar clashes: RLD chief Ajit Singh demands President's Rule in UP". Business Standard. 8 सितंबर 2013. अभिगमन तिथि 12 सितंबर 2013.
  20. "Muzaffarnagar riots: Jamiat demands dismissal of Akhilesh govt". द हिन्दू. 12 सितंबर 2013. अभिगमन तिथि 12 सितंबर 2013.
  21. "Muzaffarnagar riots: Blame game continues as death toll rises to 31". 9 सितंबर 2013. अभिगमन तिथि 9 सितंबर 2013.
  22. "Azam Khan's absence sets rumour mills churning". द हिन्दू. 11 सितंबर 2013. अभिगमन तिथि 12 सितंबर 2013.
  23. "In wake of Muzaffarnagar riots, Sompal Shastri refuses to be SP candidateg". द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया. 15 सितंबर 2013.
  24. "मेरठः महापंचायत में जुटी भीड़ भड़की, फायरिंग". आईबीएन खबर. 29 सितम्बर 2013.