सौम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
मस्जिद मे इफ़्तारी करते हुये।

सौम (صوم) और बहुवचन सियाम (صيام) अरबी भाषा के शब्द हैं। उपवास को अरबी में "सौम" कहते हैं। रमज़ान के पवित्र माह में रखे जाने वाले उपवास ही "सौम" हैं। उर्दू और फ़ारसी भाषा में सौम को "रोज़ा" कहते हैं।

इस्लाम के पाँच मूलस्थंबों में से एक सौम है।

नाम[संपादित करें]

जैसे के सौम अरबी भाशा का शब्द है। अरबी देशों में इसको सौम के नाम से ही जाना जाता है। लैकिन फ़ारसी भाशा के असर रुसूख रखने वाले देश जैसे, तुर्की, ईरान, पाकिस्तान, भारत, बंग्लादेश, में इसे 'रोज़ा ' के नाम से जाना जाता है। मलेशिया, सिंगपूर, ब्रूनै जैसे देशों में इसे पुआसा कहते हैं, इस शब्द का मूल संस्कृत शब्द 'उपवास' है।


सौम (रोज़ा) और रमज़ान[संपादित करें]

रमजान मास को अरबी में माह-ए-सियाम भी कहते हैं रमजान का महीना कभी २९ दिन का तो कभी ३० दिन का होता है। इस महीने में उपवास रखते हैं।

रोज़े का तरीक़ा[संपादित करें]

  • सहरी : उपवास के दिन सूर्योदय से पहले कुछ खालेते हैं जिसे सहरी कहते हैं।
  • इफ़्तारी : दिन भर न कुछ खाते हैं न पीते हैं। शाम को सूर्यास्तमय के बाद रोज़ा खोल कर खाते हैं जिसे इफ़्तारी कहते हैं।


क़ुर'आन में सौम[संपादित करें]

क़ुरान में सौम के बारे में यूं प्रकटित होत है:

 يَا أَيُّهَا ٱلَّذِينَ آمَنُواْ كُتِبَ عَلَيْكُمُ ٱلصِّيَامُ كَمَا كُتِبَ عَلَى ٱلَّذِينَ مِن قَبْلِكُمْ لَعَلَّكُمْ تَتَّقُونَ
  • "अय विश्वासियो! तुम को उपवास प्रकटित किया जाता है जैसे तुम से पहले वालों पर प्रकटित हुवा था, इस लिये तुम निग्रह रहो।"
—क़ुरान, सूरह २, (अल-बक़रा) आयत 183[1]

क़ुर'आन में सौम के प्रकार[संपादित करें]

  1. आहार का सौम (सौम उत त'आम).[2]
  2. धन का सौम (सौम उल माल).[3]
  3. शब्द का सौम (सौम उल कलाम).[4]

साधारण रूप में "सौम" का अर्थ "उपवास" (आहार का सौम) है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]