उमय्यद ख़िलाफ़त

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Umayyad Caliphate
उमय्यद खिलाफत
بني أمية
(अरबी) बनी उमय्याह
साम्राज्य

 

 

661–750
 

ध्वज

उमय्यद खिलाफत अपने सबसे बड़े चरम पर.
राजधानी दमिश्क
निर्वासित राजधानी कोर्डोबा
भाषाएँ अरबी(आधिकारिक), अरमेइक, अर्मोनियाई, बर्बर, कॉप्टिक, जार्जियाई, ग्रीक, हिब्रू, तुर्की, कुर्दी,[1] मध्य फारसी, मोजारैबिक
धर्म इस्लाम
शासन खिलाफत
खलीफा
 -  661–680 मुआविया प्रथम
 -  744–750 मरवान द्वितीय
इतिहास
 -  मुआविया, खलीफा 661
 -  मरवान द्वितीय 750
क्षेत्रफल
 -  750 1,50,00,000 किमी ² (57,91,532 वर्ग मील)
जनसंख्या
 -  7 वीं शताब्दी est. 6,20,00,000 
मुद्रा उमय्यद दिनार
आज इन देशों का हिस्सा है:
Warning: Value specified for "continent" does not comply

उमय्यद खिलाफत; (Umayyad Caliphate) हजरत मुहम्मद सहाब की मृत्यु के बाद स्थापित प्रथम रशीदुन चार खलीफाओं के बाद उमय्यद इस्लामी खिलाफत का हिस्सा बने, उमय्यद खलीफा बनू उमय्या बंश से या उमय्या के पृत्र जो मक्का शहर से जूड़े हुए थे। उमय्यद परिवार पहले रशीदुन खिलाफत के तीसरे खलीफा उस्मान इब्न अफ्फान (644-656) के अधीन सत्ता में रहे थे लेकीन उमय्यद शासन की स्थापना मुआविया इब्न अबी सुफीयान जो लम्बे समय तक रशीदुन शासन काल में सीरिया के गवर्नर रहे जिस कारण उन्होंने उमय्यद खिलाफत अथवा शासन स्थापना की थी, प्रथम मुस्लिम फितना (गृहयुद्ध) के समय में भी सीरिया उमय्यदो का प्रमुख शाक्ति केन्द्र बना रहा और राजधानी दमिश्क में स्थापित की जिसके साथ उमय्यदो ने मुस्लिम विजय अभियान जारी रखे जिसमें काकेशस, ट्रोक्सियाकिसयाना, सिन्ध, मगरीब (माघरेब) और इबेरिया प्रायद्वीप (अल अन्डालस) की विजय के साथ मुस्लिम दूनिया में शामिल किया गया। उमय्यदो की शक्ति; उमय्यद खलीफाओं ने 11.100.000 वर्ग किलो मीटर (4.300.000 वर्ग मील) क्षेत्र और 62 मिलियन लोग थे जिससे उमय्यद दूनिया की 29 प्रतिशत आबादी पर शासन किया करते जिसके साथ क्षेत्रफल के अनुपात में विश्व के बड़े और महान साम्राज्यो में से एक था।

शासन[संपादित करें]

उमय्याद खलीफा धर्मनिरपेक्ष थे। उस समय, उमय्यद के प्रशासनिक कुछ मुसलमानों द्वारा अन्यायपूर्ण माने जाते थे। ईसाई और यहूदी जनसंख्या भी स्वायत्तता थी; उनके न्यायिक मामलों को अपने स्वयं के कानूनों के अनुसार और अपने स्वयं के धार्मिक प्रमुखों या उनके नियुक्त व्यक्तियों के साथ पेश किया गया, हालांकि उन्होंने केंद्रीय राज्य के लिए पुलिस के लिए एक कर का भुगतान किया। हजरत मुहम्मद सहाब ने अपने जीवनकाल के दौरान स्पष्ट रूप से कहा था कि इब्राहीम धार्मिक समूह को अपने धर्म का अभ्यास करने की अनुमति दी जानी चाहिए, बशर्ते वे जियाजा कर का भुगतान करें। रशीदुन खलीफा उमर इब्न अल खत्ताब ने भी मुसलमानों और गैर-मुस्लिम गरीबों की कल्याणकारी स्थिति को जारी रखा था, केवल मुस्लिमों के लिए जकात (धार्मिक कर्तव्य) कर लगाया गया था। मुआविया की पत्नी मयसुम (याजीद की मां) भी एक ईसाई थी। जिस कारण राज्य में मुसलमानों और ईसाइयों के बीच संबंध स्थिर थे। उमय्यद सीरिया में खुद को बचाने के लिए चिंतित किए थे कियोँकी ईसाई बाइजान्टिन के साथ लगातार लड़ाई में शामिल थे, और प्रमुख पदो पर ईसाइयों द्वारा आयोजित किया गया था, जिनमें से कुछ उन परिवारों से सम्बन्ध रखते थे जिन्होंने बाइजांटाइन सरकारों में सेवा की थी ईसाइयों का रोजगार धार्मिक एकीकरण की व्यापक नीति का हिस्सा था जो सीरिया में, विजय प्राप्त प्रांतों में बड़ी ईसाई आबादी की उपस्थिति से जरूरी था। इस नीति ने मुआविया की लोकप्रियता को भी बढ़ाया और सीरिया को अपनी शक्ति आधार के रूप में मजबूत किया। जिससे अरब जनजातियों के बीच प्रतिद्वंद्वियों ने सीरिया के बाहर प्रांतों में अशांति पैदा की थी, अनेक मुस्लिम फितने (गृहयुद्ध) उत्पन्न हुए जिससे उमय्यदो की शक्ति क्षीण होती गई और अरब क्षेत्र से उमय्यदो के पतन का मुख्य कारण बना। 744-747 में तीसरे मुस्लिम गृहयुद्ध द्वारा कमजोर उमायदाओं को अंततः 750 ईस्वी या 132 हिजरी में अब्बासी क्रांति द्वारा गिरा दिया गया। जिसके बाद उमय्यद परिवार की एक शाखा उत्तरी अफ्रीका और अल- अन्डलस चली गई, जहां उन्होंने कर्दोबा के खलीफा की स्थापना की, जो कि 1031 तक जारी रही।

उमय्यद खलीफाओं की सूची[संपादित करें]

खिलाफत परिवार की वंशावली.
कार्डोबा मस्जिद स्पेन.
खलीफा कार्यकाल
दमिश्क के खलीफा
मुआविया प्रथम इब्न अबू सुफीयान 28 जूलाई 661 – 27 अप्रैल 680
याजिद प्रथम इब्न मुआविया 27 अप्रैल 680 – 11 नंबवर 683
मुआविया द्वितीय इब्न याजिद 11 नंवबर 683– जून 684
मरवान प्रथम इब्न अल-हाकम जून 684– 12 अप्रैल 685
अब्द अल-मलिक इब्न मरवान 12 अप्रैल 685 – 8 अक्टूबर 705
अल वालिद इब्न अब्द अल-मलिक 8 अक्टूबर 705 – 23 फरवरी 715
सुलेमान इब्न अब्द अल-मालिक 23 फरवरी 715 – 22 सित्मबर 717
उमर इब्न अब्द अल-अजीज 22 सित्मबर 717 – 4 फरवरी 720
याजिद द्वितीय इब्न अब्द अल-मालिक 4 फरवरी 720 – 26 जनवरी 724
हिशाम इब्न अब्द अल-मालिक 26 जनवरी 724 – 6 फरवरी 743
अल-वालिद द्वितीय इब्न यज़ीद 6 फरवरी 743 – 17 अप्रैल 744
यज़ीद तृतीय इब्न अल-वालिद 17 अप्रैल 744 – 4 अक्टूबर 744
इब्राहिम इब्न अल-वालिद 4 अक्टूबर 744 – 4 दिसम्बर 744
मरवान द्वितीय इब्न मुहम्मद 4 दिसम्बर 744 – 25 जनवरी 750
कोर्डोबा के अमीर
अब्द अल-रहमान 756–788
हिशाम प्रथम 788–796
अल-हाकम प्रथम 796–822
अब्द अर-रहमान द्वितीय 822–852
मुहम्मद प्रथम कोर्डोबा 852–886
अल-मुंदिर कोर्डोबा 886–888
अब्दुल्लाह इब्न मुहम्मद 888–912
अब्द अल-रहमान तृतीय 912–929
कार्डोबा के खलीफा
अब्द अर-रहमान तृतीय, as caliph 929–961
अल-हाकम द्वितीय 961–976
हिशाम द्वितीय 976–1008
मुहम्मद द्वितीय कोर्डोबा 1008–1009
सुलेमान इब्न अल-हाकम 1009–1010
हिशाम द्वितीय, पुन: 1010–1012
सुलेमान इब्न अल-हाकम, पुन: 1012–1017
अब्द अर-रहमान चतुर्थ 1021–1022
अब्द अर-रहमान पंचम 1022–1023
मुहम्मद तृतीय कार्डोबा 1023–1024
हिशाम तृतीय 1027–1031

सन्दर्भ[संपादित करें]