ज़कात अल-फ़ित्र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

ज़कात अल-फ़ित्र ज़कात अल-फ़ित्र एक दान है, जो इस्लामी पवित्र महीने रमज़ान के अंतिम दिनों में या ईदुल फ़ित्र के पहले गरीबों और ज़रुरतमंदों को दिया जाता है। इसका मूल शब्द फ़ितर (अरबी) है, जिसका अर्थ है इफ़्तार, सौम या रोज़े को खोलना या उपवास को समाप्त करना। एक और रूप फुतूर भी है जिसका अर्थ है नाश्ता। ज़कात अल-फ़ित्र ज़कात अल-माल की तुलना में एक छोटी राशि है। भारत उपखंड में इसको फ़ित्रा भी कहा जाता है.

वर्गीकरण[संपादित करें]

सदक़ा अल-फ़ित्र एक कर्तव्य है जो हर मुसलमान के लिए वाजिब (आवश्यक) है, चाहे वह पुरुष हो या महिला, नाबालिग या वयस्क जब तक उनके पास यह दान देने का साधन है।

इस्लामिक परंपरा (सुन्नत) के अनुसार, इब्न उमर ने कहा कि इस्लामी पैगंबर मुहम्मद ने मुसलमानों के बीच हर गुलाम, आज़ाद, पुरुष, महिला, युवा और बूढ़े पर ज़कात अल-फ़ित्र अनिवार्य कर दिया; एक 'साअ' सूखे खजूर या जौ (बार्ली या गेहूं) में से एक 'साअ' या क़रीब तीन किलो दे सकते हैं। [1]

घर के मुखिया अन्य सदस्यों के लिए आवश्यक राशि का दान कर सकते हैं। अबू सईद अल-खुदरी ने कहा:

हमारे युवा और बूढ़े, आज़ाद पुरुषों और गुलामों की ओर से, हम अल्लाह के रसूल (मुहम्मद) के जीवनकाल में अनाज, पनीर या किशमिश का एक साअ प्राप्त करते थे।

महत्व[संपादित करें]

ज़कात में इस्लामी समाज के भीतर धन के प्रसार में महत्वपूर्ण भूमिका भी सदका अल-फ़ित्र द्वारा निभाई जाती है। हालांकि, सदक़ा अल-फ़ित्र के मामले में, प्रत्येक व्यक्ति को यह गणना करने की आवश्यकता होती है कि स्वयं और उनके आश्रितों से कितना दान है और समुदाय में जाकर उन लोगों को ढूंढना चाहिए जो इस तरह के दान के योग्य हैं। इस प्रकार, सदक़ा अल-फ़ित्र समुदाय के रिश्तेदारों के विकास में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। अमीरों को गरीबों के सीधे संपर्क में आने के लिए बाध्य किया जाता है, और गरीबों को बेहद गरीबों के संपर्क में रखा जाता है। यह समाज के विभिन्न स्तरों के बीच संपर्क करता है इस्लामी समुदाय के भीतर रिश्तेदारी और प्रेम के वास्तविक बंधन बनाने में मदद करता है और जिनके पास नहीं है उनके लिए उदार होने के लिए प्रशिक्षित करता है।

उद्देश्य[संपादित करें]

ज़कात अल-फ़ितर का मुख्य उद्देश्य गरीबों की मदद करना है जो बाकी मुसलमानों के साथ ईद उल-फ़ित्र (त्योहार) मना सकें।

रमज़ान के महीने के समापन पर हर मुसलमान को जकात अल-फितर को अदा करने की आवश्यकता होती है, क्योंकि उसे इस्लामी पांच मूल फ़र्ज़ों में से एक फ़र्ज़ "रोज़ा" रख कर अल्लाह का शुक्रिया अदा करने का मौक़ा मिलता है। इसका उद्देश्य है:

  1. उपवास करने वाले पर लगान के रूप में। यह हदीस पर आधारित है : अल्लाह के पैगंबर ने कहा, "उपवास के महीने का उपवास पृथ्वी और आकाश के बीच लटका रहेगा और इसे ज़कात अल-फ़ित्र का भुगतान किए बिना ईश्वरीय उपस्थिति तक नहीं उठाया जाएगा ।"
  2. किसी भी रोज़ा रखने वाले से अशोभनीय कार्य या भाषण होजाये और उसे पाक करने के लिए और गरीबों और जरूरतमंदों की मदद करने के लिए।

एक और नजरिया है जो इब्न `अब्बास से उल्लेख की गयी हदीस पर आधारित है, " अल्लाह के पैगंबर ने जकात अल-फितर पर चर्चा की, रोज़ा रखने वाले से कोई अभद्र कार्य या भाषण होजाये, उसको पाक करने और जरूरतमंदों को भोजन प्रदान करना इसका अहम् मक़सद है। इसे 'ईद की नमाज़ से पहले अदा करना चाहिए, अगर नमाज़ के बाद अदा करे तो वह सदक़ा है। " [2]

शर्तेँ[संपादित करें]

ज़कात अल-फ़ितर केवल एक विशेष अवधि के लिए वाजीब है। यदि किसी को अर्थहीनता से या बगैर किसी तर्क के इस को भूल जाता है तो समझे के वह गुनाह कर रहा है। दान का यह रूप व्रत के अंतिम दिन सूर्यास्त से अनिवार्य हो जाता है और `ईद की नमाज़ (यानी अगले दिन सूर्योदय के तुरंत बाद) की शुरुआत तक अनिवार्य रहता है। हालांकि, यह उपर्युक्त अवधि से पहले भुगतान किया जा सकता है, क्योंकि सहाबा (पैगंबर के अनुयायी या साथी) ईद से कुछ दिन पहले सदक़ाह अल-फित्र को अदा करते थे। [3]

इस्लाम के प्रसार के बाद न्यायविदों ने रमजान की शुरुआत और मध्य से इसके भुगतान की अनुमति दी ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि ज़कात अल-फ़ितर `ईद के दिन अपने लाभार्थियों तक पहुंचे। यह विशेष रूप से जोर दिया जाता है कि वितरण `ईद की नमाज़ से पहले हो ताकि जो ज़रूरतमंद प्राप्त करें वह` ईद के दिन अपने आश्रितों के लिए ईदुल फ़ित्र मनाने में उपयोग कर सकें।

नफी` ने बताया कि पैगंबर के साथी इब्न उमर इसे उन लोगों को देते थे जो इसे स्वीकार करते थे और लोग इसे `ईद से एक या दो दिन पहले देते थे। [4]

इब्न उमर ने बताया कि पैगंबर ने आदेश दिया कि लोगों (ईद) की नमाज अदा करने जाने से पहले यह (ज़कात अल-फ़ित्र) दिया जाना चाहिए।

जो समय पर इस ज़कात अल-फ़ित्र का भुगतान करना भूल जाता है, उसे जल्द से जल्द अदा करना चाहिए, हालांकि इसे ज़कात अल-फ़ितर के रूप में नहीं गिना जाएगा ।

मूल्यांकन करें[संपादित करें]

ज़कात की राशि सभी के लिए समान है, भले ही उनके अलग-अलग आय वर्ग हों। न्यूनतम राशि परिवार के प्रत्येक सदस्य के लिए भोजन, अनाज या सूखे फल में से एक साअ` (चार दोगुना मुठ्ठी या फिर क़रीब ३ किलो) है। इस गणना इब्न 'उमर का उल्लेख है कि पैगंबर जे जकात अल-फितर को अनिवार्य किया है, वह एक साअ सूखे खजूर या एक साअ` जौ (बार्ली) की। यदि खाद्य संग्रह और वितरण उस विशेष देश में अनुपलब्ध हो तो नकद समतुल्य (खाद्य भार का) भी दिया जा सकता है।

मुहम्मद के एक साथी, अबू सा'द अल-ख़ुदरी ने कहा, "पैगंबर के समय में, हम इसे (ज़कात अल-फितर) भोजन, सूखे खजूर, जौ, किशमिश या सूखे पनीर एक "साअ" के प्रमाण में देते थे।" [5] (सुन्नी विद्वानों के बहुमत के अनुसार एक "साअ" लगभग 2.6 किलो और 3 किलो के बीच है।

यह वितरण ज़कात की तरह ही है, और इसके व्यापक अर्थ में शामिल है। जिन्हें ज़कात अल-फ़ित्र प्राप्त हो सकती है, वे सूरत अल-तौबा [9: 60] में उल्लिखित प्राप्तकर्ताओं की आठ श्रेणियां हैं। उनमे शामिल है:

  • गरीब
  • जरूरतमंद
  • ज़काह के कलेक्टर
  • दिलों की सुलह
  • मुक्त बंदी / दास (शुल्क अल-रिकाब),
  • दीनदार
  • एक धार्मिक कारण या अल्लाह के मार्ग में संघर्ष करने वाले (फ़ी-सबीलिल्लाह) [6] या अल्लाह के रास्ते में जिहाद के लिए, [7][8][9]
  • यात्री।

ज़कात अल-फ़ित्र को उपर्युक्त श्रेणियों में जाना या पहुंचना चाहिए। ज़कात अल-माल किसी अन्य बातों के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सकता।

संदर्भ[संपादित करें]

  1. साँचा:Hadith-usc
  2. [Abu Dawood - Eng. transl. vol. 2, p. 421, no. 1605 - rated Sahih]
  3. Muhammed Salih Al-Munajjid (2009). "Paying the Fitr". islamhouse.com. मूल से 5 मार्च 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 मई 2020.
  4. [Bukhari - Arabic/English, Vol. 2, p.339, no. 579]
  5. [Bukhari - Arabic/English vol. 2, p. 340, no. 582]
  6. M.A. Mohamed Salih (2004). Alexander De Waal (संपा॰). Islamism and its enemies in the Horn of Africa. Indiana University Press. पपृ॰ 148–149. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-253-34403-8. मूल से 26 फ़रवरी 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 मई 2020.
  7. David J. Jonsson (May 2006). Islamic Economics and the Final Jihad. Xulon Press. पृ॰ 245. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-59781-980-0.
  8. Benda-Beckmann, Franz von (2007). Social security between past and future: Ambonese networks of care and support. LIT Verlag, Münster. पृ॰ 167. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-3-8258-0718-4. मूल से 6 फ़रवरी 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 मई 2020. Quote: Zakat literally means that which purifies. It is a form of sacrifice which purifies worldly goods from their worldly and sometimes impure means of acquisition, and which, according to God's wish, must be channelled towards the community.
  9. T.W. Juynboll, Handleiding tot de Kennis van de Mohaamedaansche Wet volgens de Leer der Sjafiitische School, 3rd Edition, Brill Academic, pp. 85–88

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]