इस्लामी आतंकवाद

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

इस्लामी आतंकवाद, इस्लामिक आतंकवाद या कट्टरपन्थी इस्लामी आतंकवाद हिंसक इस्लामवादियों द्वारा किये गये निर्दोष नागरिकों के विरुद्ध आतंकवादी कार्य हैं जिनकी एक पान्थिक प्रेरणा होती है।[1][2]

इस्लामी आतंकवाद अपने को मुसलमान कहने वाले चरमपन्थियों द्वारा किये गये आतंक को 'इस्लामी आतंकवाद' कहते हैं। ये तथाकथित अपने भाँति-भाँति के राजनीतिक उद्देश्यों की पूर्ति के लिये आतंक फैलाते हैं।

इस्लामी आतंकवाद के कारण से सबसे अधिक घटनाएँ और मौतें भारत, इराक, अफ़गानिस्तान, नाइजीरिया, यमन, सोमालिया, सीरिया और माली में हुईं हैं।[3] ग्लोबल टेररिज़्म इण्डेक्स 2016[4] के अनुसार, 2015 में इस्लामिक आतंकवाद से सभी मौतों के 74% के लिए इस्लामिक चरमपन्थी समूह उत्तरदायी थे: आई॰एस॰आई॰एस॰, बोको हराम, तालिबान और अल-कायदा। सन् 2000 के बाद से, ये घटनाएँ वैश्विक स्तर पर हुई हैं, जो न केवल अफ़्रीका और एशिया में मुस्लिम-बहुल राज्यों को प्रभावित करती हैं, बल्कि गैर-मुस्लिम बहुमत वाले राज्यों को जैसे संयुक्त राज्य अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम, फ़्रांस, जर्मनी, स्पेन, बेल्जियम, स्वीडन, रूस, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, श्रीलंका, इजरायल, चीन, भारत और फिलीपींसको भी प्रभावित करती हैं। इस प्रकार के हमलों ने गैर-मुस्लिमों को निशाना बनाया है।[5] एक फ़्रांसीसी गैर-सरकारी संगठन द्वारा किये गये एक अध्ययन में पाया गया कि 80% आतंकवादी पीड़ित मुस्लिम हैं।[6][7] सबसे अधिक प्रभावित मुस्लिम-बहुल क्षेत्रों में, इन आतंकवादियों को सशस्त्र, स्वतन्त्र प्रतिरोध समूहों[8], राज्य प्रायोजित आतंकवादी संगठन और उनके समर्थकों, और अन्य जगहों पर प्रमुख इस्लामी आँकड़ों से आने वाली निन्दा द्वारा मिले हैं।[9][10][11]

इस्लामी चरमपन्थी समूहों द्वारा नागरिकों पर हमलों के लिए दिए गए औचित्य इस्लामी पवित्र पुस्तकों (कुरान और हदीस साहित्य)[12][13] की चरम व्याख्याओं से आते हैं। इनमें मुसलमानों के खिलाफ अविश्वासियों के कथित अन्याय के लिए सशस्त्र जिहाद द्वारा प्रतिशोध (विशेष रूप से अल-कायदा द्वारा) शामिल हैं[14]; यह विश्वास कि कई स्व-घोषित मुसलमानों की हत्या की आवश्यकता है क्योंकि उन्होंने इस्लामी कानून का उल्लंघन किया है और वास्तव में अविश्वासवादी हैं (कफ़र); विशेष रूप से इस्लामिक राज्य (विशेष रूप से आईएसआईएस) के रूप में खलीफ़ा को बहाल करके इस्लाम को बहाल करने और शुद्ध करने की आवश्यकता; शहादत की महिमा और स्वर्गीय पुरस्कार; अन्य सभी पन्थों पर इस्लाम की सर्वोच्चता।

इतिहास[संपादित करें]

कुछ मुस्लिम विद्वान इस बात पर जोर देते हैं कि इस्लाम में चरमपन्थ 7वीं शताब्दी में अस्तित्व में आए खैरों के दौरान से है, अपनी अनिवार्य राजनीतिक स्थिति से, उन्होंने चरम सिद्धान्त विकसित किए जो उन्हें मुख्यधारा के सुन्नी और शिया मुसलमानों दोनों से अलग करते हैं। खाक्रिजियों को विशेष रूप से तकफ़ीर के लिए एक कट्टरपन्थी दृष्टिकोण अपनाने के लिए जाना जाता था, जिससे उन्होंने घोषणा की कि अन्य मुस्लिम अविश्वासी थे और इसलिए मृत्यु के योग्य थे।[15][16]

1960-1970[संपादित करें]

1960 और 1970 के दशक के दौरान अरब और इस्लामी दुनिया ने मार्क्सवादी और पश्चिमी परिवर्तन और आन्दोलनों की एक शृंखला देखी। ये आन्दोलन क्रान्तिकारी-राष्ट्रवादी थे, न कि इस्लामी, लेकिन उन्हें लगा कि आतंकवाद एक प्रभावी रणनीति है, जिसने आधुनिक युग में अन्तरराष्ट्रीय आतंकवाद के पहले चरण को जन्म दिया। छह-दिवसीय युद्ध के बाद, फिलिस्तीनी नेताओं ने महसूस किया कि अरब दुनिया इजरायल को नियमित युद्ध में नहीं हरा सकती है। फिलिस्तीनी समूहों ने तब क्रान्तिकारी आन्दोलनों का अध्ययन किया, जिससे उन्हें शहरी क्षेत्रों में गुरिल्ला युद्ध से आतंकवाद पर ध्यान केन्द्रित करने में सहायता मिली। इन आन्दोलनों ने पूरी दुनिया में आतंकवादी रणनीति फैलाई।

छह-दिवसीय युद्ध बनाम इजरायल में अरब राष्ट्रवादियों की विफलता के बाद, पान्थिक रूप से प्रेरित समूह, मुस्लिम-भाईचारे के प्रसिद्ध होने के साथ, सऊदी अरब के समर्थन से प्रभाव में वृद्धि हुई और मध्य पूर्व में पन्थनिरपेक्ष राष्ट्रवादियों के साथ टकराव में आ गया।

1980-1990[संपादित करें]

1979 की ईरानी क्रांति, अन्तरराष्ट्रीय इस्लामी आतंकवाद की एक प्रमुख घटना थी। सोवियत-अफ़गान युद्ध और 1979 से 1989 तक चलने वाले निम्नलिखित मुजाहिदीन टकराव ने इस्लामी आतंकवादी समूहों को अनुभवी जिहादियों में परिवर्तित किया। 1996 में गठन के बाद से, अफ़गानिस्तान में पाकिस्तान समर्थित तालिबान सैन्य समूह ने आतंकवाद के राज्य प्रायोजकों से जुड़ी कई विशेषताओं का अधिग्रहण किया है।

RAND के ब्रूस हॉफ़मैन ने कहा कि 1980 में 64 में से केवल 2 आतंकवादी संगठनों को पान्थिक के रूप में वर्गीकृत किया गया था, 1995 तक 56 (लगभग आधे) आतंकवादी संगठन पान्थिक रूप से प्रेरित थे, इन समूहों में इस्लाम पन्थ की कट्टरता थी।

1989 से, पान्थिक चरमपन्थी अपने तत्काल क्षेत्र के बाहर लक्ष्य पर हमला करने के लिए अधिक सचेत थे, वर्ल्ड ट्रेड सेण्टर की 1993 की बमबारी और 2001 के 11 सितम्बर के हमले इस प्रवृत्ति को दर्शाते हैं।

2000-2010[संपादित करें]

जर्मन अखबार वेल्ट एम सोनटैग के शोध के अनुसार, 11 सितम्बर 2001 और 21 अप्रैल 2019 के बीच 31,221 इस्लामवादी आतंकवादी हमले हुए, जिसमें कम से कम 1,46,811 लोग मारे गए, जिनमें से कई पीड़ित मुस्लिम थे।

उद्देश्य / अभिप्रेरण[संपादित करें]

इस्लामी आतंकवादियों की प्रेरणा सदैव विवादित रही है। कुछ (जैसे जेम्स एल॰ पायने) ने इसे "यू॰एस॰ / पश्चिम / यहूदी आक्रामकता, उत्पीड़न, और मुस्लिम भूमि और लोगों के शोषण के विरुद्ध संघर्ष के लिये उत्तरदायी ठहराया"।

पान्थिक प्रेरणा[संपादित करें]

डैनियल बेंजामिन और स्टीवन साइमन ने अपनी पुस्तक द एज ऑफ़ सेक्रेड टेरर में लिखा है कि इस्लामी आतंकवादी हमले विशुद्ध रूप से पान्थिक हैं। उन्हें "एक संस्कार के रूप में देखा जाता है ... ब्रह्माण्ड को बहाल करने का इरादा एक नैतिक आदेश है जो इस्लाम के दुश्मनों द्वारा दूषित किया गया था।" यह न तो राजनीतिक या रणनीतिक है बल्कि "मोचन का कार्य" का अर्थ "ईश्वर के आधिपत्य को नकारने वाले को अपमानित करना और उनका वध करना है"।[17]

चार्ली हेब्डो के ऊपर गोलीबारी के लिए उत्तरदायी कोउची भाइयों में से एक ने फ़्रांसीसी पत्रकार को यह कहते हुए बुलाया, "हम पैगंबर मोहम्मद के रक्षक हैं।"[18]

इण्डोनेशियाई इस्लामी नेता याह्या चोलिल स्टाक्फ के 2017 के टाइम मैगजीन के साक्षात्कार में, शास्त्रीय इस्लामी परम्परा के भीतर मुसलमानों और गैर-मुस्लिमों के बीच सम्बन्ध अलगाव और दुश्मनी में से एक माना जाता है। उनके विचार में चरमपन्थ और आतंकवाद रूढ़िवादी इस्लाम से जुड़े हैं और कट्टरपन्थी इस्लामी आन्दोलन कोई नयी बात नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि पश्चिमी राजनेताओं को यह दिखावा करना बन्द कर देना चाहिए कि चरमपन्थ इस्लाम से नहीं जुड़ा है।[19][20]

हालाँकि, यूरोप में मुस्लिम आतंकवादियों की पृष्ठभूमि के दो अध्ययन - ब्रिटेन में और एक और फ़्रांस में से एक में पान्थिक पन्थपरायणता और आतंकवाद के मध्य बहुत कम सम्बन्ध पाया गया। यूके की घरेलू काउण्टर-इण्टेलीजेंस एजेंसी MI5 द्वारा सैकड़ों केस स्टडी की और रिपोर्ट में पाया गया है

[f]ar from being religious zealots, a large number of those involved in terrorism do not practise their faith regularly. Many lack religious literacy and could actually be regarded as religious novices. Very few have been brought up in strongly religious households, and there is a higher than average proportion of converts. Some are involved in drug-taking, drinking alcohol and visiting prostitutes. MI5 says there is evidence that a well-established religious identity actually protects against violent radicalisation.[21]

ओलिवियर रॉय द्वारा 2015 के "स्थितियों और परिस्थितियों" का "सामान्य चित्र" जिसके तहत फ्रांस में रहने वाले लोग "इस्लामी कट्टरपंथी" (आतंकवादी या आतंकवादी होंगे) (ऊपर देखें) पाया गया कि उग्रवाद मुस्लिम समुदाय का "विद्रोह" नहीं था वह गरीबी और नस्लवाद का शिकार है: केवल युवा लोग सम्मिलित होते हैं, जिसमें धर्मान्तरित भी शामिल हैं।

प्रमुख आतंकी संगठन[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

२००१ से २०१४ के बीच इस्लामी आतंकवाद से प्रभावित क्षेत्र

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Terrorism". The Oxford Encyclopedia of the Islamic World। (2009)। संपादक: John L. Esposito। Oxford: Oxford University Press।(सब्सक्रिप्शन आवश्यक)
  2. Thomas Hegghammer. (2013)। “Terrorism”। The Princeton Encyclopedia of Islamic Political Thought: 545–547। संपादक: Gerhard Böwering, Patricia Crone। Princeton University Press।
  3. "Global Terrorism Index Report 2015" (PDF). Institute for Economics & Peace. November 2015. पृ॰ 10. अभिगमन तिथि 5 October 2016.
  4. Global Terrorism Index 2016 (PDF). Institute for Economics and Peace. 2016. पृ॰ 4. अभिगमन तिथि 14 December 2016.
  5. Siddiqui, Mona (23 August 2014). "Isis: a contrived ideology justifying barbarism and sexual control". The Guardian. मूल से पुरालेखित 24 August 2014. अभिगमन तिथि 7 January 2015.सीएस1 रखरखाव: अयोग्य यूआरएल (link)
  6. Ritchie, Hannah; Hasell, Joe; Appel, Cameron; Roser, Max (2013-07-28). "Terrorism". Our World in Data.
  7. "Overwhelming majority of terror victims are Muslims". Overwhelming majority of terror victims are Muslims (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2020-10-31.
  8. Constanze Letsch. "Kurdish peshmerga forces arrive in Kobani to bolster fight against Isis". The Guardian. अभिगमन तिथि 7 January 2015.
  9. Charles Kurzman. "Islamic Statements Against Terrorism". UNC.edu. अभिगमन तिथि 31 January 2017.
  10. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; australia.to नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  11. Christine Sisto (2014-09-23). "Moderate Muslims Stand against ISIS". National Review Online. अभिगमन तिथि 7 January 2015.
  12. Holbrook, Donald (2010). "Using the Qur'an to Justify Terrorist Violence". Perspectives on Terrorism. Terrorism Research Initiative and Centre for the Study of Terrorism and Political Violence. 4 (3).
  13. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; holbrook2 नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  14. Wiktorowicz, Quintan; Kaltner, John (Summer 2003). "KILLING IN THE NAME OF ISLAM: AL-QAEDA'S JUSTIFICATION FOR SEPTEMBER 11" (PDF). Middle East Policy. X (2): 85–90. अभिगमन तिथि 12 August 2019.
  15. "Another battle with Islam's 'true believers'". The Globe and Mail.
  16. Mohamad Jebara More Mohamad Jebara. "Imam Mohamad Jebara: Fruits of the tree of extremism". Ottawa Citizen.
  17. Daniel Benjamin; Steven Simon (2002). The Age of Sacred Terror. Random House. पृ॰ 40. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0756767518.
  18. "Does Islam fuel terrorism?". CNN. 13 January 2015. अभिगमन तिथि 29 September 2017.
  19. "Orthodox Islam and Violence 'Linked' Says Top Muslim Scholar". Time. अभिगमन तिथि 2017-12-27. Western politicians should stop pretending that extremism and terrorism have nothing to do with Islam. There is a clear relationship between fundamentalism, terrorism, and the basic assumptions of Islamic orthodoxy. So long as we lack consensus regarding this matter, we cannot gain victory over fundamentalist violence within Islam. Radical Islamic movements are nothing new. They've appeared again and again throughout our own history in Indonesia. The West must stop ascribing any and all discussion of these issues to "Islamophobia." Or do people want to accuse me—an Islamic scholar—of being an Islamophobe too?
  20. "F.A.Z. exklusiv: Terrorismus und Islam hängen zusammen". FAZ.NET (जर्मन में). 2017-08-18. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0174-4909. अभिगमन तिथि 2017-12-27.
  21. Travis, Alan (20 August 2008). "MI5 report challenges views on terrorism in Britain". The Guardian. London. अभिगमन तिथि 6 November 2015.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]