गैर-इस्लामी पूजा-स्थलों का मस्जिद में परिवर्तन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
काशी विश्वनाथ मन्दिर और उसके ऊपर बनी 'ज्ञानवापी' मसजिद

इस्लाम के पैगम्बर मुहम्मद के समय से ही गैर-इस्लामी पूजा-स्थलों का मस्जिद में परिवर्तन आरम्भ हो गया था जो उसके बाद के इस्लामी विजयों में और ऐतिहासिक मुस्लिम शासनों में भी जारी रहा। कई महाद्वीपों या क्षेत्रों की मूल आबादी इस्लाम में बदल दी गयी। परिणामस्वरूप हिन्दू मन्दिर, चर्च, सिनेगॉग, पार्थिऑन, तथा पारसियों के मन्दिरों को मसजिद में बदल दिया गया।

हागिया सोफिया, जो मूलतः 'पूर्वी आर्थोडॉक्स' नामक ईसाई सम्प्रदाय का एक कैथेड्रल था, 1453 में एक मस्जिद में बदल दिया गया।

हिन्दू मन्दिर[संपादित करें]

काशी विश्वनाथ मन्दिर[संपादित करें]

काशी विश्वनाथ मन्दिर को छठे मुगल बादशाह औरंगज़ेब ने ध्वस्त कर दिया था, जिन्होंने मूल हिन्दू मन्दिर के ऊपर ज्ञानवापी मस्जिद का निर्माण किया था। औरंगज़ेब द्वारा मन्दिर का विध्वंस मन्दिर से जुड़े स्थानीय जमींदारों के विद्रोह से प्रेरित था, जिनमें से कुछ ने मराठा राजा शिवाजी के भागने में मदद की हो सकती है। माना जाता है कि मन्दिर के निर्माता राजा मान सिंह के पोते जय सिंह प्रथम ने शिवाजी के आगरा से भागने में मदद की थी। मन्दिर के विध्वंस का उद्देश्य शहर में मुगल विरोधी गुटों और हिन्दू धार्मिक नेताओं को चेतावनी देना था।[1]

जैसा कि जदुनाथ सरकार द्वारा वर्णित है, 9 अप्रैल 1669 को, औरंगज़ेब ने एक सामान्य आदेश जारी किया "काफिरों के सभी स्कूलों और मन्दिरों को ध्वस्त करने और उनके धार्मिक शिक्षण और प्रथाओं को खत्म करने के लिए।" उसका विनाश करने वाला हाथ अब उन महान मन्दिरों पर गिर गया, जो पूरे भारत में हिन्दुओं की पूजा का आदेश देते थे- जैसे सोमनाथ का दूसरा मन्दिर, बनारस का विश्वनाथ मन्दिर और मथुरा का केशव राय मन्दिर।[2]

सिख गुरुद्वारा[संपादित करें]

गुरुद्वारा लाल खूही[संपादित करें]

लाहौर, पाकिस्तान में गुरुद्वारा लाल खूही एक सिख गुरुद्वारा था जिसे मुस्लिम उपासना स्थल में बदल दिया गया था।[3][4]

गुरुद्वारा पहली पातशाही[संपादित करें]

भाई बाला को समर्पित गुरुद्वारा पहली पातशाही (भाई बाला दी बैठक) पाकिस्तान के मनसेहरा जिले के बालाकोट में एक सिख गुरुद्वारा था, जिसे 1831 की लड़ाई में सिख साम्राज्य बलों द्वारा सैयद अहमद बरेलवी का सिर कलम करने के बाद बाला पीर मुस्लिम मस्जिद (बाला पीर ज़ियारत) में परिवर्तित कर दिया गया था।[5][6][7]

  1. Catherine B. Asher (24 September 1992). Architecture of Mughal India. Cambridge University Press. पपृ॰ 278–279. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-521-26728-1.
  2. Sarkar, Jadunath (1930). A Short history of Aurangzib. Calcutta: M.C Sarkar & Sons. पपृ॰ 155–156.
  3. "Lahore's historical gurdwara now a Muslim shrine". The Tribune. 2016-06-14. अभिगमन तिथि 2020-08-07.
  4. Sheikh, Majid (2019-02-17). "HARKING BACK: Fateful route of a great Guru as he walked to his deatवh". DAWN.COM. अभिगमन तिथि 2020-08-07.
  5. Khalid, Haroon (2019-03-04). "Pakistan's Balakot is linked to puritanical Islam – but it also has a syncretic religious tradition". Scroll.in. अभिगमन तिथि 2020-10-12.
  6. Khalid, Haroon (2019-03-06). "The little-known religious history of Balakot". DAWN.COM. अभिगमन तिथि 2020-10-12.
  7. "Gurudwara Pehli Patshahi at BalaKot". Gateway To Sikhism. 2014-01-27. अभिगमन तिथि 2020-10-12.