ईद उल-फ़ित्र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
TajMahalbyAmalMongia.jpg
पर एक शृंखला का भाग

इसलामी संस्कृति

वास्तुकला

अरबी · अज़ेरी
हिन्दुस्तानी · Iwan · मलय
दलदल · मोरक्कन · मुग़ल
तुर्क · फ़ारसी · सोमाली

कला

सुलेख · लघु · आसन

वस्त्र

अबाया · अगल · बौबौ
बुर्का · चदोर · जेल्लाबिया
निक़ाब · सलवार कमीज़
ताकियः · कुफ़्फ़ियाह · थावाब
जिल्बाब · हिजाब

त्योहार

अशुरा · अरबाईन · अल्-गादीर
चाँद रात · अल्-फ़ित्र · अल्-अधा
इमामत दिवस · अल्-काधिम
नया साल · इस्रा और मिरआज
अल्-क़द्र · मौलीद · रमज़ान
मुग्हम · मिड-शआबान
अल्-तय्यब

साहित्य

अरबी · अज़ेरी · बंगाली
इन्डोनेशियाई · जावानीस · कश्मीरी
कुर्द · मलय · फ़ारसी · पंजाबी · सिंधी
सोमाली · हिन्दी · तुर्की · उर्दू

मार्शल कला

सिलाठ · सिलठ मेलेयु · कुरश

संगीत
दस्त्गाह · ग़ज़ल · मदीह नबवी

मक़ाम · मुगाम · नशीद
कव्वाली

थिएटर

कारागऑज़ और हसिवत
ताज़िह् · व्यंग
IslamSymbolAllahCompWhite.PNG

इस्लाम प्रवेशद्वार

ईद उल-फ़ित्र या ईद उल-फितर (अरबी: عيد الفطر) मुस्लमान रमज़ान उल-मुबारक के महीने के बाद एक मज़हबी ख़ुशी का तहवार मनाते हैं जिसे ईद उल-फ़ित्र कहा जाता है। ये यक्म शवाल अल-मुकर्रम्म को मनाया जाता है। ईद उल-फ़ित्र इस्लामी कैलेण्डर के दसवें महीने शव्वाल के पहले दिन मनाया जाता है। इसलामी कैलंडर के सभी महीनों की तरह यह भी नए चाँद के दिखने पर शुरू होता है। मुसलमानों का त्योहार ईद मूल रूप से भाईचारे को बढ़ावा देने वाला त्योहार है। इस त्योहार को सभी आपस में मिल के मनाते है और खुदा से सुख-शांति और बरक्कत के लिए दुआएं मांगते हैं। पूरे विश्व में ईद की खुशी पूरे हर्षोल्लास से मनाई जाती है।[1]

तारीख़[संपादित करें]

मुसलमानों का त्योहार ईद रमज़ान का चांद डूबने और ईद का चांद नज़र आने पर उसके अगले दिन चांद की पहली तारीख़ को मनाई जाती है। इसलामी साल में दो ईदों में से यह एक है (दूसरा ईद उल जुहा या बकरीद कहलाता है)। पहला ईद उल-फ़ितर पैगम्बर मुहम्मद ने सन 624 ईसवी में जंग-ए-बदर के बाद मनाया था।

ईद के दौरान चारमीनार

उपवास की समाप्ति की खुशी के अलावा इस ईद में मुसलमान अल्लाह का शुक्रिया अदा इसलिए भी करते हैं कि उन्होंने महीने भर के उपवास रखने की शक्ति दी। ईद के दौरान बढ़िया खाने के अतिरिक्त नए कपड़े भी पहने जाते हैं और परिवार और दोस्तों के बीच तोहफ़ों का आदान-प्रदान होता है। सिवैया इस त्योहार की सबसे जरूरी खाद्य पदार्थ है जिसे सभी बड़े चाव से खाते हैं।

ईद के दिन मस्जिदों में सुबह की प्रार्थना से पहले हर मुसलमान का फ़र्ज़ है कि वो दान या भिक्षा दे. इस दान को ज़कात उल-फ़ितर कहते हैं। उपवास की समाप्ति की खुशी के अलावा इस ईद में मुसलमान अल्लाह का शुक्रिया अदा इसलिए भी करते हैं कि उन्होंने महीने भर के उपवास रखने की शक्ति दी। ईद के दौरान बढ़िया खाने के अतिरिक्त नए कपड़े भी पहने जाते हैं और परिवार और दोस्तों के बीच तोहफ़ों का आदान-प्रदान होता है। सिवैया इस त्योहार की सबसे जरूरी खाद्य पदार्थ है जिसे सभी बड़े चाव से खाते हैं।

ईद के दिन मस्जिदों में सुबह की प्रार्थना से पहले हर मुसलमान का फ़र्ज़ है कि वो दान या भिक्षा दे. इस दान को ज़कात उल-फ़ितर कहते हैं।

इस ईद में मुसलमान ३० दिनों के बाद पहली बार दिन में खाना खाते हैं। उपवास की समाप्ती की खुशी के अलावा, इस ईद में मुसलमान अल्लाह का शुक्रियादा इसलिए भी करते हैं कि उन्होंने महीने भर के उपवास रखने की शक्ति दी। ईद के दौरान बढ़िया खाने के अतिरिक्त, नए कपड़े भी पहने जाते हैं और परिवार और दोस्तों के बीच तोहफ़ों का आदान-प्रदान होता है। और सांप्रदाय यह है कि ईद उल-फ़ित्र के दौरान ही झगड़ों -- ख़ासकर घरेलू झगड़ों -- को निबटाया जाता है।

ईद के दिन मस्जिद में सुबह की प्रार्थना से पहले, हर मुसलमान का फ़र्ज़ है कि वो दान या भिक्षा दे। इस दान को ज़कात उल-फ़ित्र कहते हैं। यह दान दो किलोग्राम कोई भी प्रतिदिन खाने की चीज़ का हो सकता है, मिसाल के तौर पे, आटा, या फिर उन दो किलोग्रामों का मूल्य भी। प्रार्थना से पहले यह ज़कात ग़रीबों में बाँटा जाता है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]


इस्लाम धर्म के त्यौहार Kabaa.jpg
ईद-उल-जुहा | ईद उल-फ़ित्र | मीलाद उन-नबी | बारा वफात | मुहर्रम | शबे बरात