सुन्नी इस्लाम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
सुन्नी और शिया आबादियों का वितरण

सुन्नी मुस्लिम इस्लाम के सबसे बड़े सम्प्रदाय सुन्नी इस्लाम को मानने वाले मुस्लिम हैं। सुन्नी इस्लाम को अहले सुन्नत व'ल जमाअत (अरबी: أهل السنة والجماعة‎ "(मुहम्म्द के) आदर्श लोग और समुदाय") या संक्षिप्त में अहल अस- सुन्नाह (अरबी: أهل السنة‎) भी कहते हैं। सुन्नी शब्द अरबी के सुन्नाह (अरबी: سنة) से आया है, जिसका अर्थ (पैगम्बर मोहम्मद) की बातें और कर्म या उनके आदर्श है। सामान्य अर्थों मे सुन्नी -पवित्र ईशसन्देश्टा मुहम्म्द स० के निधन के पश्चात जिन लोगो ने मुहम्मद स० द्वारा बताये गये नियमो का पालन किया सुन्नी कहलाऐ।

सुन्नी दुनिया में 80% हैं ये आंकड़ा तीन गिरोह को मिलाकर बनता हैं 1) सूफी या बरेलवी, 2) देवबंदी, 3) सलफ़ी या अहले हदीस.

ये तीन गिरोह को सुन्नी या विस्तार में अहले सुन्नत बोला जाता हैं , इसमें से दो गिरोह सूफी और देवबंदी के मानने वाले चार में से किसी एक इमाम के पंथ को मानने वाले होते हैं !

जब की सलफ़ी अहले हदीस इमामो को मानते हैं लेकिन उनके पंथ को नहीं उनका मानना ये हैं कि इस्लाम को सिर्फ क़ुरान और हदीस से सीधा समझना चाहिए !

इन्हें भी देखें[संपादित करें]