इस्लाम के सम्प्रदाय एवं शाखाएँ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

मोहम्मद साहब की मृत्यु के बाद इस्लाम में परम्परा, विधिशास्त्र तथा विचारों के आधार पर मतभेद होते रहे और अलग-अलग सम्प्रदाय बनते गये। वर्तमान समय में इस्लाम में बहुत से सम्प्रदाय और शाखाएँ हैं।

इस्लामी न्यायशास्त्र फ़िक़ह के आधार पर मुस्लिम समुदाय प्राथमिक रूप से तीन समूहों में बंटा हुआ है। वह हैं-

इस्लाम के विविध सम्प्रदाय एवं शाखाएँ

लेकिन जितनेे भी फिरके हुए हैं इस्लाम के वह सब अरबीी जानने वाले पंडित मतलब मूर्ख और मुनाफिक लोगो के वजह से हुआ! सूफी संत अवलिया ने इस्लाम को बढ़ाया और मौलवीयो ने सिर्फ् टोपी दाढ़ी़ जिंदा रखा ।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]