विकिपीडिया:चौपाल/पुरालेख 21

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Archive
पुरालेख

यह पृष्ठ विकिपीडिया चौपाल की वार्ताओं का पुरालेख पृष्ठ है। नवीनतम वार्ताओं के लिए देखें विकिपीडिया:चौपाल

अनुक्रम

विकिपीडिया:मुखपृष्ठ १

मित्रों,
मैंने हिन्दी विकि के मुखपृष्ठ हेतु एक नया प्रारूप तैयार किया है। हालांकि ये अभी पूरा नहीं हुआ है, किन्तु फिर भि आप सभी लोगों की राय व सुझाव अपेक्षित हैं। कुछ बीच बीच में रिक्त स्थान आ रहा है, जिसे ठीक किया जायेगा। --ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागर  वार्ता  १४:००, १८ सितंबर २०१० (UTC)

 Yes check.svg  नया प्रारूप देखा। अच्छा लग रहा है। मेरा इस प्रारूप के लिए समर्थन है। पर भटनागजी इसमें कुछ और चीज़े है जो वर्तमान मुखपृष्ठ पर हैं लेकिन इसपर नहीं है जैसे आज की तिथि, हिन्दी विकि पर अभी कितने लेख है इत्यादि। इसके अतिरिक्त जो हिन्दी विकिपीडिया पर आपका स्वागत है लिखा हुआ आ रहा है वह बिल्कुल बीच में आए तो और अच्छा दिखेगा। इसके अतिरिक्त हमें कौन-२ सी भाषाएँ हिन्दी विकि के मुखपृष्ठ पर रखनी चाहिए इसबारे में भी कोई आम राय बन पाए तो सही रहेगा। मेरे विचार से हमें सभी भारतीय भाषाओं को तो स्थान देना चाहिए और साथ ही में कौन-२ सी विदेशी भाषाओं के विकियों की कड़ी देनी चाहिए इसपर विचार करना है। अन्य सदस्य भी अपनी राय लिखें। रोहित रावत १४:२०, १८ सितंबर २०१० (UTC)
 Yes check.svg भटनागर जी द्वारा बनाया गया मुखपृष्ठ प्रारुप अच्छा दिख रहा है, मेरा भी इसे समर्थन--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १५:१२, १८ सितंबर २०१० (UTC)
 Yes check.svg  नया मुखपृष्ठ प्रारुप नयी वैक्टर थीम के अनुकूल जँच रहा है। हाँ कुछ जगहों पर बदलाव की आवश्यकता है। एक तो ऊपर रोहित जी ने बता दिया दूसरा नीचे बंधु प्रकल्प वाला जो धागा है उसके किनारे भी राउण्ड कॉर्नर बनाये जायें और रंग संयोजन ऊपर वाले अन्य फ्रेम की तरह हों।-- श्रीश e-पण्डित  वार्ता  २०:०९, १८ सितंबर २०१० (UTC)
 Yes check.svg  पृष्ठ अछ्छा बना है। कुछ सुझाव
  1. 'आज का अलेख ' और 'क्या आप जानते है' एक ही रो (Row) मे आने चाहिये इस से पृष्ठ symmetric लगेगा।
  2. नव आगुंतको के लिये हमे अलग से एक बोल्ड लिंक प्रदान करना चाहिये। हॉला की वर्तमान मे भी यह लिंक मौजुद है पर वह लुप्त स प्रतित होता है।
  3. पृष्ठ के अंत मे स्थित टैब मुझे अछ्छे नही लगे। अगर टैब पर क्लिक करने पर नये पृष्ट पर न जाना पढे तो अछ्छा लगेगा।

--गुंजन वर्मासंदेश ०३:५१, १९ सितंबर २०१० (UTC)

कुछ बदलाव किये गए हैं।
  • बंधु प्रकल्प का रंग बदला और क्रीम किया।
  • उसके किनारे गोल किये।
  • उसे सिमिट्रिक किया, यानि २*४ से ३*३ में बदला गया।
--ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागर  वार्ता  ११:२१, २२ सितंबर २०१० (UTC)

हाँ अब बंधु प्रकल्प सही है, लेकिन टैब्स में लेबल बायीं तरफ खिसके हुये हैं उन्हें ठीक बीच में करें। इसके अलावा पूरा बैकग्राउंड कलर हल्का पीला ही हो, बीच में चौकोरनुमा सफेद रंग अलग सा लग रहा है।-- श्रीश e-पण्डित  वार्ता  २३:१९, २२ सितंबर २०१० (UTC)


आधार लेखों के निर्माण का महत्व समझिये

  • हिन्दी विकि में लेख संख्या की वृद्धि होगी।
  • अंग्रेजी के संगत लेखों से यह लिंक हो जायेगा। कुछ लोगों को उचित हिन्दी शब्द नहीं मिलते हैं, उन्हें सहायता मिलेगी।
  • बहुत से लोग ऐसे भी हैं जिन्हें हिन्दी के नये लेख के निर्माण की सही प्रक्रिया नहीं मालूम है किन्तु उनके पास अच्छी सामग्री मौजूद है। उन्हें सहायता मिलेगी।

-- अनुनाद सिंहवार्ता १४:०६, २६ सितंबर २०१० (UTC)

आधार लेखों का महत्व तभी है जब उन्हें बहुत समय तक आधार ही न रखा जाए बल्कि उनपर समय-समय पर काम होता रहे। एक-एक पंक्ति के लेख बनाकर उन्हें भूल जाने से कोई लाभ नहीं है। पहले भी इस बारे में विमर्श हो चुका है कि हिन्दी विकि पर लेखों की संख्या बढ़ाना ही हमारा लक्ष्य नहीं है। आखिर आधार लेख बना कर क्या लाभ जब पढ़ने वाले को कोई जानकारी ही न मिले? ऐसी मेरी राय है, बाकी आप लोग जैसा उचित जानें। रोहित रावत १४:३८, २६ सितंबर २०१० (UTC)
मैने आधार लेखों के तीन लाभ दिये हैं; छोटे-मोटे और भी लाभ होंगे। मान लिया कि आधार लेख नहीं बनाते हैं तो कृपया उसका कोई एक लाभ बताइये। मान लिया कि आधार लेख बहुत दिनों तक आधार लेख ही रह जाते हैं तो कृपया इससे होने वाली एक हानि बताइये। -- अनुनाद सिंहवार्ता १५:५०, २६ सितंबर २०१० (UTC)
इस विषय में मैं अनुनाद एवं रोहित जी दोनों से सहमत हूँ! अनुनाद जी का मत इस लिये सही है क्योंकि हिन्दी विकि की गति अत्यंत धीमी हो गयी है यदि यही हाल रहा तो तेलगु, तमिल एवं मलयालम विकि हिन्दी विकि को २ वर्षों के भीतर पीछे छोड़ देंगी क्योंकि ये भाषाएँ मीडियाविकि के सहयोग से कई आफलाइन वर्कशाप आयोजित करवाती है जिसमें ये स्कूल एवं अन्य कार्यक्रमों में लोगों को विकि पर संपादन करना सीखाते है। परन्तु भारतीय हिन्दी भाषियों को यदि यहाँ संपादन करने के लिये कहों तो वे कहते हैं कि विकि पर संपादन करने से उन्हे क्या लाभ मिलेगा......, सच में यदि इस प्रकार की सोच यहाँ काम करने वाले अतिपरिश्रमी सदस्यों की होती तो हिन्दी विकि आज मात्र १००० लेखों पर ही टिका होता।
रोहित जी का कहना भी इसलिये सही है क्योंकि पूर्व में सौरभ भारती द्वारा कई छोटे लेख बनाये गये लगभग ७००० के करीब, परन्तु इतनी भारी संख्या में छोटे लेख बनने से हिन्दी विकि की गुणवत्ता बुरी तरह से प्रभावित हुई। परन्तु अनुनाद जी द्वारा दिये गये नये सुझाव भी विचारणिय है। उन बिन्दुओं के महत्त्व को समझते हुए मैं भी यही कहूँगा कि हम ४ से ५ वाक्यों के आधार लेख बनाने पर जोर दे सकते है।
अभी हाल ही में मैनें ४ से ५ शब्दों के लेखों को नये सदस्यों द्वारा बनने पर रोक लगा दी थी। क्योंकि वे ज्यादातर उत्त्पात कार्यों के लिये ही छोटे लेख बनाते है। मैनें ३०० रोके गये लेखों को देखा तो पाया कि ८०% लेख केवल बर्बरता पर बने थे। मैनें जब हमारे ५६,००० लेखों को देखा तो पाया कि ३००० लेख केवल उत्त्पात पर अधारित थे।--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १५:५३, २६ सितंबर २०१० (UTC)
मैने सौरभ के लेखों का उस समय विरोध किया था। हमे 'उपयोगी लेख' और 'लेख के लिये लेख' में अन्तर समझना होगा। कल कोई सभी व्यक्तियों के नामों पर लेख बनाने लगे - 'मोहन' : मोहन एक व्यक्ति का नाम है। ऐसे लेखों का कोई लाभ नहीं है। इससे बदनामी ही होगी। किन्तु मान लीजिये कि किसी को चकवड़ पता है और उसके बारे में (उसके औषधीय गुणों के बारे में) जानना चाहता है। बहुत सम्भव है कि उसे उसका अंग्रेजी नाम या वैज्ञानिक नाम न पता हो। माना उसने 'चकवड़' खोजा और उसे हिन्दी विकिपिडिया पर कुछ नहीं मिला बल्कि केवल उसके संगत अंग्रेजी लेख मिल गया। ऐसा हो सकता है कि उसे 'सब कुछ' मिल गया। वह कल उस लेख को पड़्हकर हिन्दी लेख में योगदान दे सकता है। आजकल बहुत से सॉफ्टवेयर विकि की सहायता से द्विभाषिक कोश भी बना रहे हैं। गूगल ट्रांसलेट भी इसका उपयोग करता होगा। इस प्रकार बहुत से छिपे हुए लाभ हो सकते हैं। -- अनुनाद सिंहवार्ता १६:५५, २६ सितंबर २०१० (UTC)
हम एक काम यह कर सकते है कि आधार लेखों के आकार की एक न्यूनतम सीमा जैसे २ वाक्य निर्धारित कर देते है मतलब कि हम कोई आधार लेख बनाये तो वह २ वाक्यों से कम का न हो। इसके मैं फिल्टर पर एक निर्धारित सीमा तय कर सकता हूँ। अनुनाद जी बात से सहमति भी होती है कि बाट की बजाय खुद से उपयोगी लेख बनाने में ही गुणवत्ता बढेगी--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १७:०३, २६ सितंबर २०१० (UTC)
इसके लिये हमें एक फिल्टर तैयार करना चाहिये जो आधार लेखों की सीमा तय करे, जैसे न्यूनतम ५ वाक्य। यानि आधार लेख भि मात्र १ वाक्य के न हों। वैसे तो ४-५ वाक्य, १ चित्र, संभवतः टैक्रोबॉक्स या कोई संबंधित इन्फ़ोबॉक्स या अन्य सांचा तथा एक श्रेणी अवश्य हो। तब उसे आधार कहें, अन्यथा बेकार की श्रेणी में जायेगा।--ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागर  वार्ता  ०९:१०, २७ सितंबर २०१० (UTC)

अब जबकि सभी सदस्यों ने यह तय कर ही लिया है कि आधार/लघु लेखों को बनाने की छूठ दी जाए तो इस काम को आगे बढ़ाना चाहिए। यूनानी भाषा विकिपीडिया भी अब छप्पन हज़ारी हो चुकी है और हिन्दी विकि और यूनानी विकि में अन्तर ७०० लेखों के लगभग ही रह गया है। इसलिए हमें शीघ्र अति शीघ्र लेखों के निर्माण की दर बढ़ानी होगी ताकी हम लोग एक और स्थान नीचे न हो जाएँ। लेकिन इन आधार लेखों को कैसे बनाने देने की छूठ होनी चाहिए इसके लिए मैं भटनागरजी से सहमत हूँ। कम से कम ५ वाक्य का लेख हो और १ साँचा या ज्ञानसन्दूक हो तो चलेगा, यदि चित्र ना भी लगा हो तो। रोहित रावत १५:०९, २९ सितंबर २०१० (UTC)


शैलेश मटियानी का प्रोफाइल

मेरा अनुरोध विकीपीडिया टीम से है कि विकीपीडिया पर शैलेश मटियानी का प्रोफाइल मूलतः मेरा लिखा हुआ है...कृपया इसे वहाँ से इस रूप में हटा लें.

आप इसे यहाँ देख सकते हैं... http://www.literatureindia.com/hindi/archives/161

सादर. संगीता

आवश्यक सुधार कर दिया गया है। अनिरुद्ध  वार्ता  २१:१३, ३० सितंबर २०१० (UTC)
संगीता जी अनिरुद्ध जी द्वारा इस लेख पर आवश्यक सुधार कर दिया गया है। कृपया अपना सुझाव देंवे यदि आपको आपत्ति न हो तो हम इसे इस रुप में रखना चाहेंगे--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  ०४:५२, १ अक्तूबर २०१० (UTC)

पुराना टुलबार कैसे प्रयोग करे

कई सदस्यों को वेक्टर थीम पे नया टुल बार प्रयोग करने में काफि असुविधा हुई जिस कारण मैनें एक नया टुलबार बनाया है जिसे आप यहाँ दी गयी विधि के अनुसार वेक्टर अथवा मोनोबुक थीम पर इनेबल कर सकते है।--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  ११:१३, ३ अक्तूबर २०१० (UTC)

ज्ञानकोष या विश्वकोष

ज्ञानकोष और विश्वकोष में से कौन सा शब्द encyclopedia शब्द का सटीक अनुवाद है? या दूसरे शब्दों में मानक हिन्दी में encyclopedia का समानार्थ शब्द कौन सा है? कृपया सहायता करें। साथ ही कोश या कोष में से कौन सा ठीक है यह भी बतायें दिनेश १८:०८, ४ अक्तूबर २०१० (UTC)

'विश्वकोश' अधिक अर्थपूर्ण है। 'विश्व' यहां 'सभी ज्ञान को समाहित किये हुए' के लिये है। ज्ञातव्य है कि हिन्दी की महान संस्था नागरी प्रचारिणी सभा ने भी अपने द्वारा हिन्दी भाषा में बनाए कोश का नाम "हिन्दी विश्वकोश" रखा। -- अनुनाद सिंहवार्ता १३:२५, ४ अक्तूबर २०१० (UTC)
Encylopedia के लिये सटीक हिन्दी शब्द "विश्वकोष" है। "ज्ञानकोष" मेरे विचार से Knowledge Base का अनुवाद है। "कोष" (पारम्परिक वर्तनी) तथा "कोश" (आधुनिक वर्तनी) दोनों ही ठीक हैं। यहाँ सन्दर्भ देखें - विकिपीडिया:वर्तनी परियोजना#विविध वर्तनियाँ।-- श्रीश e-पण्डित  वार्ता  २२:३५, ५ अक्तूबर २०१० (UTC)
यदि ऐसा है तो विकिपीडिया को विश्वकोश कहने के स्थान पर ज्ञानकोष क्यों कहते हैं? क्या इसका नाम विकिपीडिया एक मुक्त विश्वकोष नहीं होना चाहिए? दिनेश 08:30, 6 अक्तूबर 2010 (UTC)
ज्ञानकोष सही हैं, विश्व्कोश गलत --Logic १४:००, १८ अक्तूबर २०१० (UTC)

hotcat tool कैसे प्रयोग करे

इस टुल के लिये यहाँ विधि बतायी गयी है--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  ०३:५८, ५ अक्तूबर २०१० (UTC)

creating the Sanskrit Wikisource

I have submitted the proposal for creating the Sanskrit Wikisource. It is available at: http://meta.wikimedia.org/wiki/Requests_for_new_languages/Wikisource_Sanskrit

For time being, I have added only you two as the users interested in Sanskrit wikisource. If you know any one else interested in Sanskrit wiki source, please send me their details. Also make sure you cast your vote in the Arguments in favour section.

Please let me know in case there are any issues

Shiju Alex

बहुत अच्छा (Well done!) . संस्कृत में इतने अधिक ग्रन्थ हैं उसके बावजूद संस्कृत विकिसोर्स न होना आश्चर्यजनक है। -- अनुनाद सिंहवार्ता ०३:५७, ६ अक्तूबर २०१० (UTC)
हाँ जी, संस्कृत का विकिसोर्स होना ही चाहिये, जिस भाषा में ज्ञान-विज्ञान की इतनी सामग्री है उसके लिये विकिसोर्स न होना आश्चर्यजनक है। संस्कृत विकिसोर्स बनने पर इसके लिये लेखों की तो कोई कमी न होगी।-- श्रीश e-पण्डित  वार्ता  ००:२५, १५ अक्तूबर २०१० (UTC)

ऐसे लेखों का क्या किया जाए?

कृपया इस लेख को देखें वो माँ की लोरियाँ -- रजिया मिर्जा। यह लेख से अधिक एक कविता है। क्या विकिपीडिया मानकों के अनुसार यह लेख मान्य है? मेरे विचार से यह लेख विकिस्रोत जैसे स्थानों पर सही रहेगा। रोहित रावत २०:०२, ६ अक्तूबर २०१० (UTC)

आप सही कह रहे है विकि नीतियों के अनुसार ऐसे लेखों को हटाया जा सकता है। ऐसे लेखों को तभी डालना चाहिये यदि इन कविताओं के साथ इनका पूरा विवरण भी दिया हो, जैसे यह लेख देंखे, केवल कविताएँ लिखनी है तो विकि सोर्स पर ही लिखी जा सकती है।--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  २०:०९, ६ अक्तूबर २०१० (UTC)

विकिपीडिया कवितायें छापने का स्थान नहीं है। कुछ प्रसिद्ध रचनाओं पर लेख हो सकते हैं लेकिन वो भी केवल उस रचना का पाठ (टैक्स्ट) न होकर उस रचना के बारे में जानकारी लिये होते हैं। दूसरी बात यह कि उपर्युक्त कवितायें कॉपीराइट मुक्त नहीं हैं, इनमें से कई हालिया कवियों की हैं। इस कारण इनको यथाशीघ्र विकिपीडिया से हटा देना चाहिये। उपर्युक्त सदस्य को भी सलाह दी जाती है कि वे यदि इन कविताओं को डालना चाहें तो कवि की अनुमति लेकर कविताकोश पर डालें।-- श्रीश e-पण्डित  वार्ता  ०१:४२, ८ अक्तूबर २०१० (UTC)

विकिपरियोजना रूस नियम

मुझे यह बात मालूम नहीं है कि ये नियम किसने बनाए हैं, लेकिन इन नियमों में कई त्रुटिया हैं । मेरे लिए इन नियमों का पालन करना सम्भव नहीं होगा । पहले भी मैं इसी कारण से विकिपीडिया रूस परियोजना छोड़कर चला गया था क्योंकि कृष्णा नाम के कोई सज्जन मेरे लेखों में अपनी मर्ज़ी से परिवर्तन कर रहे थे। अगर अब भी इन नियमों के आधार पर ही वे या कोई और सज्जन बदलाव करेंगे तो शायद मेरे लिए काम करना संभव नहीं होगा। मैं पिछले तीस वर्षों से मास्को में रहता हूँ । मास्को रेडियो में प्रोड्यूसर हूँ और मास्को विश्वविद्यालय में हिन्दी भाषा और साहित्य का अध्यापक । हिन्दी मेरी मातृभाषा है और रूसी वह दूसरी भाषा जिसे मैं पिछले पैंतीस वर्षों से उपयोग में ला रहा हूँ। हमारी हिन्दी में वर्तनी वैसे ही लिखी जाती है, जैसे शब्द बोला जाता है या उच्चारित किया जाता है । इसीलिए एक ही शब्द की कभी-कभी कई वर्तनियाँ भी दिखाई देती हैं । रूसी भाषा में वर्तनी और उच्चारण का फ़र्क वैसा ही होता है, जैसे अंग्रेज़ी में । ch से चोपड़ा भी बनता है और कैमिस्ट्री भी । रूसी में भी इसी तरह से अलग-अलग शब्दों में उच्चारण बदल जाता है। हिन्दी चूँकि उच्चारण के अनुसार ही लिखी जाती है तो हिन्दी में "रूसी से हिन्दी के लिए नियम" भी रूसी भाषा में होने वाले शब्द के उच्चारण के अनुसार ही बनाने चाहिएँ।

इस दिशा में यदि प्रबन्धकों का सहयोग मिलेगा तभी मैं विकिपीडिया में काम कर पाऊँगा, अन्यथा नहीं । अनिल जनविजयAniljanvijay २१:११, ६ अक्तूबर २०१० (UTC)


आप निश्चिंत होकर यहाँ योगदान करे, कोई भी नियम विकि की प्रगति से बढकर नहीं है अपितु नियम तो विकि की प्रगति के लिय्रे ही बनाये जाते है अगर यह विकि की प्रगति के आड़े आये तो इन्हे बदला या छोड़ा
जा सकता है। कृपया अपना योगदान जारी रखें--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  ०३:१८, ७ अक्तूबर २०१० (UTC)

अनिल जी! आपको हिंदी विकिपीडिया पर सक्रिय देखकर हर्ष हो रहा है। हिंदी विकिया के कोइ भी नियम उसकी उन्नति के उद्देश्य से बनाए गए हैं और इसी उद्देश्य के लिए वे सुधारे या बदले भी जा सकते हैं। कविता कोश के संवर्धन में आपके योगदान से मैं प्रभावित हूं। भरोसा रखिए जिस क्षेत्र में आप काम कर रहे हों उसके नियम भी आप ही तय करेंगें। अनिरुद्ध  वार्ता  २१:३७, ९ अक्तूबर २०१० (UTC)

अंग्रेजी लेख एवं शीर्षक

मैनें हिन्दी विकि पर अंग्रेजी शीर्षको वाले लेख न बनने के लिये एक फिल्टर निर्मित किया है। यह किसी अनामक एवं एकदम नये सदस्य को अंग्रेजी शीर्षक वाले लेखों को नहीं बनने देगा। इसके अलावा हमारे कई लेखों में प्रतिदिन कई अनामक सदस्य अंग्रेजी में कचरा भर रहे है इसके लिये पहले मैंने फिल्टर बनाया था परन्तु हमारे कई साँचे अंग्रेजी में होने के कारण इसमें समस्याएँ आयी। परन्तु अब काफि शोध के बाद मैनें पुन एक फिल्टर का निर्माण किया है यह फिल्टर जिन भी लेखों में अंग्रेजी में कचरा भरा जायेगा, उनको हाल ही के परिवर्तनों में सारांश में (english contributions) लगाकर दिखायेगा। अतः प्रबंधक तथा रोलबैकर्स ऐसे संपादनों को कृपया जाँचते करते रहे, पाठ अंग्रेजी में होने पर संपादन को वापिस लौटा देवें--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १५:३२, ७ अक्तूबर २०१० (UTC)

हिन्दी विकिपीडिया सोशल नेटवर्क

मित्रों हिन्दी विकिपीडिया के प्रचार हेतु मैंने सोशल नेटवर्किंग का सहारा लेने की सोची। इसी क्रम में एक ब्लॉग, फेसबुक पन्ना एवं ट्विटर खाता बनाया है जिन पर हिन्दी विकि से सम्बन्धित जानकारी एवं अपडेट आदि देने की योजना है।

  • ब्लॉग - कृपया फीड सबस्क्राइब करें एवं गूगल कनैक्ट (विजेट साइडबार में लगा है) द्वारा फॉलोवर बनें।
  • फेसबुक पन्ना - कृपया प्रशंसक बनें।
  • ट्विटर खाता - कृपया फॉलोवर बनें।

कृपया सब सदस्य अपने फेसबुक एवं ट्विटर प्रोफाइल का लिंक दें ताकि वहाँ पर आपसी सम्पर्क कायम हो। इसके अतिरिक्त ट्विटर खाते पर विकिपीडियन की एक लिस्ट बनायी है, उसमें हिन्दी विकि पर सक्रिय सदस्य जोड़ रहा हूँ।-- श्रीश e-पण्डित  वार्ता  ११:२२, ९ अक्तूबर २०१० (UTC)

नयी देवनागरी स्क्रीप्ट, ट्रासंलिट्रेशन टुल एवं चेक बाक्स व्यवस्था

हिन्दी विक पर देवनागरी लिखने के लिये चेक बाक्स केवल सर्च एवं संपादन बाक्स में ही आता था परन्तु ऐसी कई जगह शेष थी जहाँ यह नहीं आता था, जैसे पेज अपलोड बाक्स में, पेज सुरक्षित करते समय एवं अन्य समस्त जगह केवल सर्च एवं संपादन बाक्स को छोड़कर। इस सुविधा के लिये मैं मलयालम विकि के प्रबंधक जुनैद से साथ काफि दिनो से एक नयी देवनागरी ट्रासंलिट्रेशन स्क्रीप्ट बनवाने में लगा था। इस स्क्रीप्ट को बनाने के लिये मैं मलयालम विकि प्रबंधक जुनैद का धन्यवाद प्रकट करुँगा। इस स्क्रीप्ट को हमारी पुरानी स्क्रीप्ट के अनुसार बनाया गया है। यदि इसमें हिन्दी लिखने में कुछ त्रुटियाँ आ रही हो तो सदस्य मुझे सूचित करे जिससे मैं उन त्रुटियों को हटा सकूँ।--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १२:०९, ९ अक्तूबर २०१० (UTC)

कृपया नये परिवर्तनों को देखने के लिये अपने ब्राउजर की कैशे अवश्य खाली कर दें--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १२:११, ९ अक्तूबर २०१० (UTC)

अगर यह विकल्प दिखायी न दे तो कृपया अपने ब्राउजर की कैशे खाली कर ले, जब आप संपादन विन्डो खोले तो

  • मोज़िला / फ़ायरफ़ॉक्स / सफ़ारी: shift hold करें जब आप reload क्लिक करते है, या Ctrl-Shift-R (अपल मैक में Cmd-Shift-R) दबाएँ;
  • इंटरनेट एक्सप्लोरर: Ctrl hold करें जब आप refresh क्लिक करते हैं, या Ctrl-F5 क्लिक करते हैं;
  • कॉङ्करर: सिर्फ़ Reload बटन पर क्लिक करें, या F5 क्लिक करें;
  • ऑपरा सदस्य को Tools→Preferences में सम्पूर्ण कैश ख़ाली करने की ज़रूरत हो सकती है।--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  ०३:२२, ११ अक्तूबर २०१० (UTC)
स्क्रीप्ट --> स्क्रिप्ट, ट्रासंलिट्रेशन --> ट्राँसलिट्रेशन, टुल --> टूल, चेक --> चैक, बाक्स --> बॉक्स-- श्रीश e-पण्डित  वार्ता  ००:४३, १२ अक्तूबर २०१० (UTC)

नयी सर्च(खोज) व्यवस्था

हिन्दी विकि में इसके साथ एक नयी खोज व्यवस्था लागु की गयी है जिसमे आप सभी हिन्दी विकि से ही कई सर्च ईंजन पर खोज कर सकते है इनमें गुगल, याहु आदि प्रमुख है। इसकी झलक देखने के लिये यहाँ देखें--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १२:०९, ९ अक्तूबर २०१० (UTC)

आज का आलेख

क्या कोई सदस्य मुझे यह बता सकता है कि किस आधार पर आज का आलेख चयनित किए जा रहे है और कहाँ से क्योंकि आज का आलेख प्रत्याशी पृष्ठ पर जो लेख सुझाए गए थे जैसे अगस्त और सितम्बर महीनों के लिए वे तो कभी मुखपृष्ठ पर प्रदर्शित हुए ही नहीं और कई-कई बार प्रदर्शित हो चुके लेख पुनः-पुनः लाए जा रहे हैं और कई दिन तो यह विभाग रिक्त ही छोड़ दिया जाता है। यह किस प्रकार का प्रबन्ध हुआ और क्या यह एक प्रकार का भेदभाव नहीं हैं, और क्या ऐसा करने से इस काम का जो मूल उद्देश्य था "नए सदस्यों और स्थापित सदस्यों को अच्छे लेख बनाने के लिए प्रोत्साहित करना" ही झुठलाया नहीं जा रहा है, जबकि सुझाए हए लेख सभी प्रकार से चयनित होने योग्य बने हुए हैं? मेरे विचार से ऐसा करना हिन्दी विकिपीडिया के लिए शुभ लक्षण नहीं हैं और ऐसा करने से नए लोग आना तो क्या पुराने लोग भी यहाँ से जाते रहेंगे। क्या यह विकिपीडिया आन्दोलन के उस उद्देश्य को भी नहीं झुठलाता जिसका उद्देश्य निष्पक्ष रूप से ज्ञान को प्रस्तुत करना है। जब लोगों को प्रोत्साहित करने के बजाए हतोत्साहित किया जाएगा तो कोई अपना ज्ञान क्यों यहाँ पर लिखेगा। यदि ऐसा किसी भूलवश हो गया है तो उसके लिए क्षमाप्रार्थी हूँ और यदि जानबूझकर ऐसा किया गया है तो इस दोष को अविलम्ब सुधारा जाना चाहिए। रोहित रावत १४:१५, ९ अक्तूबर २०१० (UTC)

रोहित जी आज का आलेख सन्दर्भ में आपकी चिंता सही हैं कुछ दिन तो मुखपृष्ठ पर खाली साँचे आते रहे है। जहाँ तक मेरा अनुमान है आज का आलेख परियोजना पूर्णिमा जी ने शुरु की थी। उन्होने इसे लम्बे समय तक संभाला, फिर मुनिता जी ने इसे संभाला और इन दोनों सदस्यों के निष्क्रिय हो जाने के बाद इसे आशीष जी सम्भाले हुए थे परन्तु उनका स्थान परिवर्तन हो जाने के कारण वे पिछ्ले कुछ समय से इसे समय नहीं दे पाये, वरना वे तो हर सदस्य के वार्ता पृष्ठ पर आज का लेख के लिये कोई लेख सुझाने के लिये कहते है। आशीष जी के पास समयाभाव होने के कारण आज का आलेख साँचे ने स्वत: ही पुराने आलेख उठा लिये ताँकि मुखपृष्ठ खाली दिखायी न दें। आशीष जी जब भी सक्रिय होंगे तब वे फिर से इस परियोजना को नियमित रुप से सम्भाल लेंगे। रोहित जी कृपया इस भूल को अन्यथा न ले क्योंकि हम सब हिन्दी विकिपीडियनस को मिलकर चलने की जरुरत है वैसे भी यहाँ पर २५ प्रबंधको में से केवल ५ सक्रिय है ऐसे में हम सक्रिय प्रबंधको को यहाँ सौहार्द बनाये रखना अत्यंत आवश्यक है किसी भी हालत में हिन्दी की क्षति न हो।
आज का आलेख को मैं भी सम्भाल सकता था परन्तु हिन्दी विकि के साफ्टवेयर इन्टरफेस को बढिया बनाने में ही व्यस्थ रहा, हालाँकि अब यह कार्य लगभग समाप्त हो चूका हैं। अगर मेरी किसी बात का आपको बुरा लगा हो तो मैं क्षमा प्रार्थी हूँ--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १४:४८, ९ अक्तूबर २०१० (UTC)
आलेख स्तंभ के लिये रोहित जी की चिंता सही है, किन्तु इसके लिये आप दोनों ही क्षमाप्रार्थी न बनें, वरन मैं स्वयं इसकेल इये क्षमाप्रार्थी हूं। वैसे कारण तो मयूर जी पहले ही प्रतुत कर चुके हैं। असल में स्थानांतरण और कुछ धीमे कनेक्शन के चलते मेरे योगदान पर विराम लगा। इसके ऊपर कुछ समय मुझे प्रमुख लेख के लिये भि देना पड़ा। एक प्रमुख लेख जितना समये लेता है, उतने समय में कम से कम ५० आलेख तो तैआर कर ही सकता हूं (मैं)। इस कारण अगस्त माह के कुछ दिनों मुख पृष्ठ पर स्तंभ खाली भी रहा। इसका उपाय ये सोचा कि यदि आलेख का सांचा तैयार न भी मिले तो स्तंभ पिछले वर्ष आज के ही दिन का आलेख उठा लेगा। ऐसा स्वतः ही होता रहेगा। --ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागर  वार्ता  १५:४४, ९ अक्तूबर २०१० (UTC)

देवनागरी लेखन में समस्या

मुझे आजकल देवनागरी लिखने में बहुत सी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। क्या देवनागरी टूल में कोई खराबी आ गई है या यह किसी अन्य कारण से है? क्या अन्य सदस्यों को भी यह समस्या हो रही है? दरसल समस्या यह है कि जब डिलीट का बटन दबाओ तो ।।।।। आता है, राइट एरो दबाओ तो ', लेफ्ट एरो दबाओ तो %%%%, अप एरो दबाने पर &&&, और डाउन एरो दबाने पर (((( आ रहा है। इसके अतिरिक्त होम की दबाने पर $$$ और एण्ड की दबाने पर ### आ रहा है। पहले मुझे लगा की मेरे ओपेरा ब्राउजर की कैस्ग मेमोरी भर गई है शायद इसलिए हो रहा हो, इसलिए मैंने कैश मेमोरी खाली की लेकिन फिर भी समस्या बनी रही। फिर जब मैंने देवनागरी लेखन अक्षम किया तो सब ठीक से काम कर रहा है। मुझे लगता है की टूल में तो कोई समस्या नहीं आ गई। कोई सदस्य कृपया इस समस्या का शीघ्र समाधान दे। धन्यवाद। रोहित रावत ०३:३९, १२ अक्तूबर २०१० (UTC)
रोहित जी जैसा मैनें ऊपर सूचित किया है कि मैनें हिन्दी विकि पर एक नयी देवनागरी स्क्रिप्ट डाली है जिसमें हम हर संपादन बाक्स या किसी भी बाक्स पर देवनागरी चैक बाक्स देखेंगे, आपकी बतायी गयी समस्याँ मेरे सिस्टम एवं क्रोम, फायरफाक्स एवं इन्टरनेट एक्सप्लोरर पर नहीं आ रही है। क्या आप कोई अन्य ब्राउजर प्रयोग कर रहे है। अन्यथा आपने मेरी वरीयताएँ में कोई ऐसा गै़जेट इन्सटाल कर लिया है जो देवनागरी स्क्रिप्ट को काट रहा है। आपके द्वारा बतायी गयी समस्या दिनेश जी को नहीं हो रही वह भी मेरी तरह लिखने के लिये विकि की स्क्रिप्ट प्रयोग करते है।--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  ०४:५०, १२ अक्तूबर २०१० (UTC)
रोहित जी यदि हो सके तो आप फायरफाक्स ब्राउजर प्रयोग किया करे, यह हमारे विकि इन्टरफेस को सबसे ज्यादा सपोर्ट करता है। साथ ही इसमें कई गै़जेट एवं उपकरण सही तरीके से काम करते है।--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  ०५:३४, १२ अक्तूबर २०१० (UTC)
चलिए ठीक है, मैं मोजिला बाउजर का उपयोग कर लेता हूँ, लेकिन वहाँ तो यह समस्या नहीं आएगी ना? और आप मुझे बता दीजिए की मेरी वरीयताएँ में जाकर कौन से विकल्प चुनने होंगे जिससे यह समस्या ना आए। जहाँ तक मुझे लगता है, मैंने कोई नया विकल्प नहीं चुना और ना ही पुराने किसी विकल्प को अनचुना किया लेकिन फिर भी हो सकता है की गलती से हो गया हो। सहाअयता के लिए धन्यवाद। रोहित रावत ११:५१, १२ अक्तूबर २०१० (UTC)
फिल्हाल मोजिला, क्रोम एवं इन्टरनेट एक्सप्लोरर पर हमारी नयी स्क्रिप्ट सही काम कर रही हैं बाकि ब्राउजरस पर मैंने नहीं देखा। फायरफाक्स में आपको ऐसी कोई भी समस्या नहीं आयेगी--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १२:३७, १२ अक्तूबर २०१० (UTC)
मयूरजी मोजिला पर सभी टूल सही काम कर रहे हैं बस एक समस्या है और वह ये कि जब किसी अक्षर के नीचे नुक्ता लगाओ तो वह ठीक स्थान पर नहीं लगता। मोजिला में नुक्ता को सही अक्षर के नीचे लगाने का क्या उपाय है? रोहित रावत १३:११, १२ अक्तूबर २०१० (UTC)
क्षमा करे रोहित जी क्या आप मुझे उद्दारण देकर समझा सकते है कि क्या नहीं हो पा रहा एवं क्या होना चाहिये--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १४:१२, १२ अक्तूबर २०१० (UTC)
मैं उदाहरण द्वारा बताता हूँ। जैसे तेज़ में ज के नीचे जो ़ (नुक्ता) लगा है वह अभी तो आ रहा है जब अक्षर अन्तिम वाला है लेकिन यदि मुझे ऐसे अक्षर पर नुक्ता लगाना हो जो बीच में है जैसे अफ्री़का में ़ गलत स्थान पर लग रहा है। और फ्रांसीसी में तो लग ही नहीं रहा। अब आप समझ गए? कृपया मुझे इसका समाधान बताइये। ओपेरा में यह समस्या नहीं आती है। रोहित रावत १४:४०, १२ अक्तूबर २०१० (UTC)
 Yes check.svg Done, आपकी यह समस्या भी सुलझा दी गयी हैं आगे से जिस भी अक्षर या शब्द को लिखने में आपको परेशानी हो तो वह गलत शब्द एवं सही शब्द दोनों दे दिया करे, जैसे मुझे अभी की समस्या दूर करने के लिये पुरालेख में फ़्राँस के नाम के ऊपर की गयी चर्चा में से सही शब्द लेना पड़ा, परन्तु इस चर्चा के लिये आपको धन्यवाद दूँगा।--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १७:४७, १२ अक्तूबर २०१० (UTC)
 Yes check.svg Done, रोहित जी अब आप फिर से आपेरा पर काम कर सकते है इसकी समस्याएँ सुलझा दी गयी है। हाँ हमारी नयी देवनागरी स्क्रिप्ट में कोई और कमी या अन्य सुझाव हो तो अवश्य मार्गदर्शन करे। शुभकामनाएँ--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १३:३८, १३ अक्तूबर २०१० (UTC)

विकिनीतियाँ हेतु समर्थन

कृपया सदस्य एवं प्रबंधक इन विकिनीतियाँ हेतु अपना मत दें, यह सभी नीतियाँ मुख्यतः फ्रा़सींसी एवं अंग्रेजी विकि से देखकर लगभग उसी रुप में देखकर बनायी गयी हैं। फिर भी किसी भी नीति पर आपत्ति होने पर आप उस पर चर्चा करके सुधार कर सकते है।

 Yes check.svg समर्थन--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  ०६:४२, ३ अक्तूबर २०१० (UTC)
 Yes check.svg समर्थन-- श्रीश e-पण्डित  वार्ता  २३:५०, ३ अक्तूबर २०१० (UTC)
 Yes check.svg समर्थन--સતિષચંદ્ર ०५:१३, ४ अक्तूबर २०१० (UTC)
 Yes check.svg  समर्थन और मै चाहूँगा की और बढाया जाय । --World8115 १४:०४, ४ अक्तूबर २०१० (UTC)
 Yes check.svg  मेरा भी समर्थन। हिन्दी विकि पर भी उपयुक्त नीतियाँ होनीं चाहिए। रोहित रावत १६:०९, ४ अक्तूबर २०१० (UTC)
 Yes check.svg --आलोक मिश्र ०६:५५, ६ अक्तूबर २०१० (UTC)
 Yes check.svg  नाति को मेरा समर्थन--दिनेश १२:५४, ६ अक्तूबर २०१० (UTC)
 Yes check.svg  पूर्ण समर्थन। काफी लंबे समय से प्रतीक्षित नीतियाम अन्ततः धरातल पर अवतरित हुईं। --ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागर  वार्ता  १६:१९, ९ अक्तूबर २०१० (UTC)
 Yes check.svg  पूर्ण समर्थन --गुंजन वर्मासंदेश ०९:१८, ११ अक्तूबर २०१० (UTC)
 Yes check.svg  पूर्ण समर्थन, कई बार कार्य व्यस्तता अथवा प्रवास के चलते भी संपादन/ लेखन की सक्रियता कम हो जाती है। इसलिए तय की जा रही नीतियों में इन विंदुओं पर चर्चा होनी चाहिए। विकिहिंदी में लेख संवर्धन हेतु संपादक के कर्तव्य (हलाँकि इसका निर्वहन पूर्णत: आत्मीय और भावनात्मक है), भी निश्चित किए जाएँ तो उचित हो। -प्रभात Prabhat nhpc ०४:३६, १२ अक्तूबर २०१० (UTC)

चार अतिसक्रिय प्रबंधको , २ अतिसक्रिय विशिष्ट सदस्यों एवं ४ सक्रिय सदस्यों के समर्थन के साथ किसी भी प्रबंधक एवं सदस्य द्वारा इसका विरोध न होने के कारण इन सभी नीतियों को लागु घोषित किया जाता है। कृपया सभी सदस्य एवं प्रबंधक इनको बनाये रखने का भरसक प्रयत्न करे। आशा है इन नीतियों से हम हमारे कई कार्य निर्विरोधित एवं निर्विवादित तरीके से कर पायेंगे--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  ०५:१७, १२ अक्तूबर २०१० (UTC)

इसबार की विकिनीति अच्छी बन पड़ी है। मयूरजी ने पिछले अनुभव से प्राप्त बेहतर को शामिल कर लिया है। विवाद की गुंजाइश कम है या होगी भी तो कम-से-कम नीति संवंधी तो नहीं। इस जरूरी और अच्छे प्रयास के लिए मयूर जी सराहनीय हैं। अनिरुद्ध  वार्ता  १०:३६, १२ अक्तूबर २०१० (UTC)
विकि को चलाने हेतु नीतियाँ तो अत्यावश्यक थीं, देर से ही सही किन्तु बन ही गईं। ये काफी महत्त्वपूर्ण काम था, जिसे मयूर ने पूरा किया। अब हम सभी को ये देखना है कि इनका पालन भी हो। हाम जो कुछ इन नीतियों में निहित है, उसके लिये अब किसी समर्थन, मतदान आदि की आवश्यकता नहीं रहेगा। इससे जो समय इन कार्यों में (जनमत संग्रह) में व्यय होता था, उसे कहीं सदुपयोग किया जा सकेगा। --ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागर  वार्ता  ११:१२, १२ अक्तूबर २०१० (UTC)

देवी अहिल्या विश्वविद्यालय

मित्रों अहिल्या की बजाय शुद्ध शब्द अहल्या होता है, रामायण में गौतम ऋषि की पत्नी का यही नाम है। उपर्युक्त लेख में विश्वविद्यालय के नाम में जो अहिल्या शब्द है वो अहिल्या/अहल्या बाई होल्कर के नाम पर है। क्या कोई बता सकता है कि उनका नाम अहिल्या ही था या अहल्या था। क्योंकि ये नाम का मामला है तो सम्भव है अहिल्या भी रहा हो?-- श्रीश e-पण्डित  वार्ता  २३:५१, १२ अक्तूबर २०१० (UTC)

इन महारानी का नाम 'अहिल्या' ही था। इन्दौर में सब जगह उनके नाम की यही वर्तनी मिलती है और प्रयोग की जाती है। देवी अहिल्या विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर यही वर्तनी देखी जा सकती है। -- अनुनाद सिंहवार्ता ०४:०२, १३ अक्तूबर २०१० (UTC)
हम्म, यानि वही बात है, नाम का मामला है, यहाँ पर अहिल्या ही है।-- श्रीश e-पण्डित  वार्ता  २३:५६, १४ अक्तूबर २०१० (UTC)

साँचा:Nts

इस साँचे का उपयोग किसी बडी़ संख्या को इकाइ, दहाई, सैंकडा़ इत्यादि में बाँटने के लिए किया जाता है। लेकिन इसमें जो विभाजन हो रहा है वह विदेशी आधार पर मिलियन, बिलियन इत्यादि के अनुसार हो रहा है जैसे १२३४५६७८९ पर १२३,४५६,७८९ ऐसे जबकि इसे भारतीय गणना प्रणाली के आधार पर १२,३४,५६,७८९ होना चाहिए। इसके लिए कृपया इस साँचे को देखें और उपयुक्तसुधार कर दें। मैने कुछ सुधार करने का प्रयास किया लेकिन कुछ अन्तर नहीं आया इसलिए यदि किसी को यह साँचा समझ आए तो सुधार कर दे। मैंने यह साँचा जनसंख्यानुसार के आधार पर कनाडा के प्रान्त और क्षेत्र में प्रयुक्त किया है। रोहित रावत १७:५४, १३ अक्तूबर २०१० (UTC)

मेरे विचार से इस साँचे के दो संस्करण बनायें जायें, एक तो विदेशी प्रणाली के आधार पर कार्य करे और एक भारतीय आधार पर। भारतीय साँचे का नाम Nts-IN जैसा रखा जा सकता है। यदि वर्तमान साँचा कई पन्नों पर लगा है और भारतीय गणना के सन्दर्भ में लगा है तो इसका नाम बदलकर पुनर्निर्देशन किया जा सकता है और विदेशी वाले साँचे का नाम कुछ और रखा जा सकता है।-- श्रीश e-पण्डित  वार्ता  ००:०४, १५ अक्तूबर २०१० (UTC)

हिन्दी विकि ५७,००० के पार

आज हिन्दी विकि ५७,००० की संख्या को पार कर गयी, इसके लिये वैसे तो हम सभी प्रशंसा एवं साधुवाद के पात्र है। परन्तु मुख्य रुप से पिछले २ माह में सबसे अधिक लेख बनाने के लिये अनुनाद जी, दिनेश, रोहित एवं पिछ्ले एक माह में २०० से अधिक बड़े लेख बनाने वाले गुगल ट्रांसलेट योगदान कर्ता प्रशंसा के पात्र है। इस बार हिन्दी विकि ने एक और हजारी होने में थोड़ा समय तो लिया परन्तु सबसे अच्छी बात यह है कि इस बार के १००० लेखों की गुणवत्ता प्रशसनीय रही, इस बार उत्पातिक एवं बर्बरता पर अधारित लेखों पर अंकुश ही नहीं लगा रहा अपितु आप पिछले १००० लेखों की सूची में देखेंगे तो पायेंगे कि इस बार एक भी उत्पातिक लेख इन १००० लेखों में नहीं जुड़ पाया, जो हिन्दी विकि की गुणवत्ता को लेकर एक अच्छा संकेत है।

बस इसी प्रकार इस वर्ष के अंत तक हम हिन्दी विकि को २ या ३ और हजारी बना दें तो नववर्ष पर हिन्दी विकि को यह एक उत्तम उपहार होगा--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  ०४:५७, १५ अक्तूबर २०१० (UTC)

RfC: Indic Sysop Proposal

Kindly take a moment to read the Indic Sysop proposal in meta and express your opinion. Thanks --Jyothis १९:४३, १५ अक्तूबर २०१० (UTC)

2010 Fundraising Is Almost Here

Wikimedia Foundation RGB logo with text.svg

Hello Wikipedians, I am Theo and I am working for the Wikimedia Foundation during the 2010 Fundraiser. My job is to be the liaison between your community and the Foundation. This year's fundraiser is intended to be a collaborative and global effort; we recognize that banner messages which may perform well in the United States don't necessarily translate well, or appeal to international audiences.

I'm contacting you as I am currently looking for translators who are willing to contribute to this project by helping translate and localize messages into different languages and suggesting messages that would appeal to your readers on the Fundraising Meta Page. We've started the setup on meta for both banner submission, statistical analysis, and grouping volunteers together.
Use the talk pages on meta, talk to your local communities, talk to others, talk to us, and add your feedback to the proposed messages as well! I look forward to working with you during this year's fundraiser. If someone could translate this message I would really appreciate it so that everyone is able to understand our goals and contribute to this year's campaign.
Theo (WMF) २०:२०, २० अक्तूबर २०१० (UTC)

आ गया, विकिभाषा

यहाँ देखिये
-- अनुनाद सिंहवार्ता ०५:०१, २१ अक्तूबर २०१० (UTC)

मैनें हिन्दी विकि पर मेरी वरीयताएँ में उपकरणों में विकिभाषा इन्सटाल कर दिया है, अब सभी इसका प्रयोग कर सकते है अथवा यहाँ बतायी गयी विधि के अनुसार भी इसे इन्सटाल कर सकते है।--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १३:०८, २२ अक्तूबर २०१० (UTC)

१२ नवम्बर के लिए आज का आलेख

इस वर्ष १२ नवम्बर २०१० को एशियाई खेल चीन में होने हैं, इसलिए मेरा सुझाव है की इस दिन के लिए २०१० एशियाई खेल को आज का आलेख बनाना चाहिए। आप लोगों की क्या राय है? रोहित रावत ०९:५०, २१ अक्तूबर २०१० (UTC)

हाँ बिल्कुल यह अच्छा सुझाव है--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १३:०६, २२ अक्तूबर २०१० (UTC)

 Yes check.svg  समर्थन-- श्रीश e-पण्डित  वार्ता  १७:१९, २५ अक्तूबर २०१० (UTC)

लेख को उक्त तिथि के लिये डाला गया है।--ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागर  वार्ता  १४:०५, ३१ अक्तूबर २०१० (UTC)

हिन्दी विकि पर मशीनी अनुवाद वाले लेख

मानव एचोलोकातिओं लेख को देखिये। लेख का शीर्षक तक ठीक नहीं है। लगता है कि हिन्दी न जानने वाले लोग यह काम कर रहे हैं और केवल खानापूर्ति के लिये कर रहे हैं। इससे हिंदी विकि का गौरव बढ़ने के बजाय घट सकता है। इसके लिये क्या किया जाना चाहिये? -- अनुनाद सिंहवार्ता ०९:२७, २२ अक्तूबर २०१० (UTC)

ऐसे लेखों को परखने के बाद हटाया जा सकता है। अथवा इन पर विकिफाई का टैग लगाना बेहतर होगा। --यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १३:०५, २२ अक्तूबर २०१० (UTC)

ऐसे लेखों पर यह साँचा लगायें - {{अनुवादित कचरा}}, इस प्रकार के सभी लेखों को इस श्रेणी के अन्तर्गत देखा जा सकता है - श्रेणी:अनुवादित कचरा-- श्रीश e-पण्डित  वार्ता  ००:४५, २६ अक्तूबर २०१० (UTC)
मेरे विचार से ऐसे लेखों पर कोई ऐसा साँचा लगाया जाना चाहिए जो अपमानजनक न हो। यह हो सकता है कि ऐसे लेख मानक हिन्दी पर खरे नहीं उतरते लेकिन कचरा शब्द बहुत ही अपमानजनक शब्द होगा। इसके स्थान पर हम लोग अनुवाद सुधार की आवश्यकता या त्रुटिपूर्ण अनुवाद इत्यादि जैसे साँचे या श्रेणीयाँ प्रयुक्त कर सकते हैं। कचरा शब्द अपमानजनक होने के साथ-२ योगदानकर्ता के योगदान को भी नकारता है। इसलिए इसने कठोर शब्दों से बचना चाहिए। ऐसी मेरी राय थी। बाकी जैसा सर्वसम्मति हो करें। धन्यवाद। रोहित रावत १७:३५, २७ अक्तूबर २०१० (UTC)

 Yes check.svg  रोहित जी की राय सर्वथा उपयुक्त एवं अनिवार्य रूप से मानने योग्य है। अनिरुद्ध  वार्ता  २०:२५, २७ अक्तूबर २०१० (UTC)

विकिपिदिअ के हिन्दि सान्स्कर्न मे वह जानकारी नही होति है जो अन्ग्रेजी सन्स्करन मे उप्लब्ध होत

      स्रीमान जी ,
     विकिपिदिअ के हिन्दि सान्स्कर्न मे वह जानकारी नही होति है जो अन्ग्रेजी सन्स्करन मे उप्लब्ध होती है। मैने कुछ सामग्री देखी है जो कि अन्ग्रेजी सन्सकरन  मे उप्लब्ध है , परन्तु विकिपेदिआ हिन्दी पर उप्लब्ध नहि है।  ऐसा क्योन है?

आप विकिया आंदोलन से अनजान हैं और हम व्यस्त। आपकी संख्या लाखों में है और हमारी सैकड़ों में। विकिया दान से बनी है। स्पष्ट है कि अंग्रेजी की अपेक्षा हिंदी भाषियों में संसाधन, सामर्थ्य और समझ के कारण दाता की संख्या में बनी हुई न्यूनता आपकी समस्या का कारण है। इस सागर को भरने के लिए आपकी अर्पित कुछ बूंदों का भी हम स्वागत करते हैं। अनिरुद्ध  वार्ता  २०:३३, २७ अक्तूबर २०१० (UTC)

बौद्धिक संपदा एंव कॉपीराइट कानून का दुर्पयोग व उल्लंघन न करें।

बौद्धिक संपदा एंव कॉपीराइट कानून का दुरूपयोग व उल्लंघन न करें।

कृपया निम्नलिखित लिंक्स पर जाकर देखे कि एक सदस्य ने मेरे ब्लॉग से जो तथ्य लिए हैं, उनके लिए न तो इस सदस्य ने मुझसे इजाजत लेने की जरूरत समझी और कुछ में सन्दर्भ देने की जहमत भी नही की। याद रहे कि ज्ञान के स्वंतन्त्र प्रचार प्रसार में विकिपीडिया के इस पवित्र और वृहद कार्यक्रम में इस तरह की गतिविधियां बाधा बन सकती हैं। इस सदस्य ने हुबहू मेरे वाक्यों का इस्तेमाल किया हैं। इस सदस्य से विनम्र अनुरोध है कि ऐसी गतिविधियों में लिप्त न हो, नही तो भारतीय कॉपीराइट कानून एंव अन्तर्राष्ट्रीय/कॉमनवेल्थ कॉपीराइट कानून व साइबर लॉ के तहत आप पर कार्यवाही करने के लिए बाध्य हो जाऊंगा। मेरी सामग्री मेरी वेबसाइट एंव मेरे ब्लॉग्स से लेकर बिना मेरी इजाजत के विकिपीडिया पर न डाले। मैं स्वंय विकिपीडिया को समृद्ध करने के लिए तत्पर हूँ, एंव आप भी मेरे कार्य को विकिपीडिया पर डाल सकते है, मेरी इजाजत लेने के उपरान्त।

यहाँ से यह सामग्री ली गयी. कृपया देखें----

बिली अर्जन सिंह के लेख को भी मेरे ब्लॉग से कॉपी किया गया, एंव इस तस्वीर का विवरण दे कि आप ने इसे कब और कहां खींचा।

यहाँ से यह सामग्री ली गयी. कृपया देखें----

धन्यवाद --कृष्ण कुमार मिश्र १९:१२, ३० अक्तूबर २०१० (UTC)

गुरुजी, मैने आपके वार्तापृष्ठ पर अपनी प्रतिक्रिया पहले ही लिख दी है। मेरा मानना है कि हर ऐरू-गैरू चीज पर 'बौद्धिक संपदा' का हल्ला करना हिन्दी के हित में नहीं है। इंटरनेट पर ऐसे-ऐसे प्रोग्राम, चित्र, विधियाँ, टेक्स्ट मुफ्त में उपलब्ध हैं जिन्हें पढकर दिमाग की नस-नस डोल जाती है। आपने किसी व्यक्ति को नजदीक से देखा है या कहीं से मसाला इकट्ठा करके नेट पर उसकी जीवनी रख दी और उसे बहुत बड़ी 'क्रिएटिविटी' और बौद्धिक संपदा मान बैठे। हम इन महापुरुषों के वंशज हैं जो महान रचनाएं करते थे किन्तु उसमें कहीं अपना नाम, माता-पिता का नाम , पता आदि नहीं डालते थे। बाद में बड़े-बड़े रिसर्चर खोजते रहते हैं कि यह रचना आखिर किसकी है?
आपने अभी तक चार-चार लाइनों वाले दो लेख हिन्दी विकि में लिखे हैं। इनमें से एक लेख लगभग पूर्णतः [1] से कॉपी किया गया है। आपको भी इनसे 'परमिशन' लेना चाहिये था। किन्तु मुझे नहीं लगता कि ऐसी चीजों को कॉपी करना अनैतिक है या अपराध है; विशेषतः तब जब आप विकि जैसी मुक्त चीज के लिये लिख रहे हैं और कहीं दावा नहीं कि यह सब आपकी 'ओरिजिनल क्रिएटिविटी' है। -- अनुनाद सिंहवार्ता ०२:३४, ३१ अक्तूबर २०१० (UTC)
श्री कृष्ण कुमार जी की शिकायत सही है, यदि उनके ब्लॉग पर एकाधिकार सुरक्षित का चिह्न है तो। किन्तु मैंने वंशीधर शुक्ल वाले पृष्ठ पर देखा किन्तु वहां कोई ऐसा चिह्न मिल नहीं पाया। हालांकि उनका कहना सही है, पर अनुनाद जी का कहना भी गलत नहीं है। ये एक सार्वजनिक व्यक्तित्व की जीवनी से संबंधित तथ्य हैं, जिनके बारे में मेरे विचार से किसी को आपत्ति नहीं होनी चाहिये। उनका जो उद्देश्य है, वह और आगे ही बढ़ा है इस तरह।विकिपीडीया की एकाधिकार नीति के अन्तर्गत्त बिना अनुमति नकल करना गलत होगा, किन्तु वहां एकाधिकार सुरक्षा के बारे में सूचना तो मिले। फिर भी अनुनाद जी ने सुंदर रूप से अपनी बात भी मिश्रा जी के वार्ता पृष्ठ पर रख दी है। मिश्रा जी से निवेदन करना चाहूंगा कि इस भूल को अनदेखा कर आगे बढ़ें व बढ़प्पन का परिचय दें। इसका अर्थ ये नहीं है कि किसी के कार्य को कोई भी ऐसे ही उठा ले, किन्तु साथ जुड़े तथ्यों व परिस्थितियों तथा उद्देश्य को भी ध्यान में रखते हुए इस बात को भुला कर हिन्दी विकी परिवार के सम्मानित सदस्य बने।
हिन्दी विकी में अपने बहुमूल्य योगदान देकर विकि, हिन्दी व उपलब्ध ज्ञान का गौरव बढ़ाने में सहयोग दें। साथ ही फिर भी कोई बात यदि मन में रह गई हो तो उसके लिये मैं (हिन्दी विकि प्रशासक) क्षमाप्रार्थी हूं, और आगे ध्यान रखा जायेगा कि ऐसी भूल की पुनरावृत्ति न हो।जो सदस्य इतने वृहत स्तर पर योगदान देते हैं, उनका स्रोत काफी हद तक इंटरनेट ही होता है। इस स्थिति में ऐसा होना बढ़ी बात नहीं। आशा है मिश्रा जी भी सहमत होंगे व हमारे साथ आगे बढ़ेंगे। हमें यहां एक नया साथी, मार्गदर्शक या योगदानकर्त्ता मिलेगा।--ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागर  वार्ता  १३:४६, ३१ अक्तूबर २०१० (UTC)

विकिपीडिया को प्रदूषित न करे

विकिपीडिया को प्रदूषित न करे

श्रीमान अनुनाद सिंह जी से कहना चाहूंगा चोरी करने के बाद ऐसी वार्ता न करे जो असभ्यता की सूचक है, अन्यथा कोर्ट की एक नोटिस/मुकदमें का जवाब देने में पूरा वजूद प्रभावित हो जायेगा, मैं मानता हूँ कि मैने अभी ही विकिपीडिया पर अपना योगदान देना शुरू किया है, किन्तु अनुनाद सिंह अपने पृष्ठों के देखें जहाँ कॉपी-पेस्ट के अतिरिक्त कुछ नही, रही बात कॉपीराइट निशान की तो उससे क्या फ़र्क पड़ता है, जब चोरी ही करनी है किसी को, ये तो व्यक्ति का नैतिक दायित्व होना चाहिए की वह किसी से सामग्री ले तो उसका क्रेडिट दे दे, बिली अर्जन सिंह की उस तस्वीर पर लाखों डॉलर की क्षतिपूर्ति का मुकदमा हो सकता है (कृपया कॉपीराइट कानून पढ़े) दूसरा आप ने लिखा है, कि किसी महान आदमी को नज़दीक से देखा है? तो आप को बता दूं पदम भूषण बिली अर्जन सिंह मेरे गुरू थे, इसके अतिरिक्त अपने पूर्वजों के सन्दर्भ में कभी उचित समय पर बताऊंगा। अनुनाद सिंह जैसे लोग सिर्फ़ चोरी करके इस वर्चुअल वर्ल्ड पर हिन्दी के कथित पुरोधा बनना चाहते हैं! इससे विकिपीडिया को बहुत नुकसान पहुंचेगा, मैं अंग्रेजी विकिपीडिया के नियमों के मुताबिक जिमी को इस सन्दर्भ में शिकायतीप र भेजूंगा। अनुनाद सिंह के सभी पृष्ठ बेतरतीब व चोरी की गयी सामग्री के अतिरिक्त कुछ नही हैं। अवलोकन करे! इस ज्ञानकोष पर मानसिक रूप से बीमार व कलुषित विचारों से युक्त लोग अपनी विचारधारा का दुष्प्रभाव विकिपीडिया पर न डाले। --कृष्ण कुमार मिश्र ११:१७, १ नवंबर २०१० (UTC)

मित्रों, मास्टर साहब से मैं उलझना नहीं चाहता हूं। यदि किसी को कोई आपत्ति नहीं हो तो वंशीधर शुक्ल , बिली अर्जन सिंह और दुधवा राष्ट्रीय उद्यान को आज मैं विकि से रात दस बजे हटा दूंगा। -- अनुनाद सिंहवार्ता ११:३९, १ नवंबर २०१० (UTC)
प्रिय कृष्ण कुमार मिश्र जी आप हिन्दी विकि के नये सदस्य हैं हमें खुशी है कि हिन्दी विकि को आपके जैसा कुशल योगदान कर्ता मिला है। हिन्दी विकि के अन्य विदेशी भाषाओं के विकि प्रोजेक्ट्स से बहुत पीछे होने का कारण सक्रिय योगदान कर्ताओं की कमी है। हम सभी यही चाहते हैं कि हिन्दी विकि के साथ हमारी राष्ट्र भाषा हिन्दी भी आगे बढे़ इसके लिये हम सबको मिल जुल कर आपसी वैमनस्य को भूलाते हुए कार्य करना होगा। अनुनाद सिंह जी ने चाहे भले ही कई लेख कापी पेस्ट किये हो परन्तु उनकी भावना हिन्दी को आगे बढाने की थी। हिन्दी विकि पर आने वाला कोई भी पाठक शायद ही यह जानने की जिज्ञासा रखता हो कि यह लेख किसने लिखा है या कहाँ से लिया गया है। हिन्दी विकि एक ऐसा सागर है जिस पर सभी जिज्ञासुओं की जिज्ञासा शांत करने का दायित्त्व है जिस प्रकार सागर में अनेक नदियों मिलती है उसी प्रकार हिन्दी विकि प्रत्येक योगदान कर्ता के किये गये योगदान से बना है समस्त रचनात्मक योगदान करने वालों का बस एक ही लक्ष्य कि हिन्दी आगे बढे़। हम भारतीय सदियों से आपसी युद्ध में उलझकर अपनी प्रगति को रोके रखे है अत: हमें अब इस कमी को पीछे छोड़कर आगे बढना होगा अन्यथा पाश्चात्य संस्कृति को भारतीय संस्कृति को दबाते ज्यादा समय नहीं लगेगा। हाल के हालात हम देख ही रहे है अत: यदि एकता से मिलजुल कर काम नहीं किया गया तो हम बहुत पिछड़ जायेंगे, आज जिस संस्कृति पर हमें गर्व है वह हमारे आपसी वैमनस्य के अन्धकार में गुम हो जायेगी।
बात रही कापीराइट उल्लंघन की तो यह एक अपराध है। यदि हिन्दी विकि पर कोई ऐसी शिकायत आती है तो हम उस लेख की सामग्री को हटा देते है और लेखक को भविष्य में सावधानी बरतने की सलाह भी देते है। अत: यदि आपको यह समस्या है तो हम वह लेख हटा देंगे जिन पर आपको कापी राइट उल्लंघन संबंधित शिकायत है। कोर्ट या अन्य ऊपर के स्तर में जाने से योगदान कर्ता को कोई हानि नहीं होगी परन्तु हिन्दी विकि का अस्तित्त्व ही खतरे में पड़ सकता है। इसलिये यदि आपकी समस्या का मुल्य हिन्दी विकि प्रोजेक्ट बंद करना है तो इससे अनेकों हिन्दी पाठको की हानि होगी, क्योंकि हिन्दी विकि को रोजना ५० से ८० हजार लोग ऐक्सेस करते है। अत: कृपया साथी सदस्य की भूल क्षमा करते हुए हिन्दी के हित में सकारात्मक कदम बढायें, यह बिल्कुल उसी प्रकार है जिस प्रकार किसी वस्तु को बनानेमें चाहे हजारों साल लग जायें परन्तु उसका विनाश एक क्षण में हो सकता हैं और उसे फिर से बनाने में फिर वर्षों लग सकते है। हिन्दी एवं हिन्दी विकि का हितेषी होने के नाते यह मेरा सुझाव मात्र था कृपया किसी भी बात को अन्यथा न ले, हमें आशा है हम सब मिलकर हिन्दी विकि को एक पूर्ण ज्ञानकोश बना पायेंगे--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १३:३६, १ नवंबर २०१० (UTC)
कृष्ण कुमार जी से मेरा यह अनुरोध है कि हिन्दी विकी पर अपना योगदान बनाए रखें। मास्टर साहब (शिक्षक) होने के नाते आपसे ऐसी जागरूकता की उम्मीद भी की जानी चाहिए। आखिर में समाज के मार्गदर्शक भी तो मास्टर साहब ही होते हैं। समाज, पर्यावरण और नैतिकता के स्तर पर जो कुछ भी अच्छा और आदर्श दिख रहा है वह सब कर्मयोगियों के प्रयासों का फल है। मेरा मानना है कि यहां हिन्दी विकी पर आपके जैसे लोगों की सख्त आवश्यकता है। देश हित में और भाषा हित में अगर आप अपना योगदान जारी रखते हैं तो यह अच्छी बात होगी। --आलोक मिश्र १४:३४, १ नवंबर २०१० (UTC)

मयूर जी व आलोक जी विकिपीडिया के उन्नयन के लिए लिए मैं वचनवद्ध हूँ, विकिपीडिया के प्रति मेरा आकर्षण दुधवा लाइव वेबसाइट के सन्दर्भ में दी गयी विकिपीडिया पर जानकारी से हुआ, आप को बता दूँ कि यह वेबसाइट मैं और मेरे मित्रों द्वारा वन्य जीवन या पर्यावरण पर आधारित विषयों पर चलायी जा रही हैं। मैने उस दिन से यह निश्चय किया कि पर्यावरण व शिक्षा आदि के क्षेत्र में कार्य करने वाली संस्थाओं, महापुरूषों एवं जीवविज्ञान व इतिहास पर आधारित लेख विकिपीडिया पर लिखूंगा, और सतत प्रयासरत हूँ, एक शोध छात्र होने के नाते मुझे पता है कि तस्वीरे व विवरण कितनी कठिनाइयों के बाद प्राप्त होते है, और उन लेखों के सन्दर्भों से पाठक अत्यधिक जानकारी अर्जित कर सकता है। और इसी बावत मैने अनुनाद सिंह जी को सूचित किया, नतीजतन जनाब मेरे पेशे पर कमेन्ट करते हुए दुधवा लाइव के पेज को हटवाने की व्यक्तिगत कोशिश में जुट गये हैं। यदि आप सभी को लगता है, दुधवा लाइव का पेज हटाने योग्य है तो उसे अवश्य हटा दें। परन्तु मैं निरन्तर इस ज्ञानकोष को संमृद्ध करता रहूंगा, ताकि भविष्य में किसी जिज्ञासु भारतीय को विदेशी लाइब्रेरी या भाषायी कठिनाई न हो। आजादी के बाद हमारी भाषाओं में डॉक्युमेन्टेशन के नाम पर सिर्फ़ आकड़े प्रस्तुत किए गये हैं, विवरणात्मक सूचनाओं का अभाव रहा, इस नाते कम से कम हम अपने आस-पास की चीजों की जानकारी को इस वृहद कोष में संकलित कर सकते हैं, विकि से परिचय से पूर्व मैं तमाम दैनिक अखबारों, पत्रिकाओं में अनछुए एतिहासिक विषयों व वन्य जीवन पर लेख लिखता रहा, ताकि वह समाज की मुख्यधारा में प्रसारित हों। साथ ही यह कहना चाहूंगा तकनीक एक न एक दिन समाज के आखिरी छोर तक पहुंचती है, और यह कम्प्युटर व इन्टरनेट उस हाशिए में रहने वाले लोगों तक अवश्य पहुंचेगा और तब किसी गरीब के बच्चे को इस बात का दुख नही होगा कि वह ब्रिटिश लाइब्रेरी, से पुस्तके प्राप्त नही कर सकता, या संबधित विषयों की पुस्तके नही खरीद सकता या स्थानीय स्तर पर अनुपलबधता के चलते उसमें ज्ञान की जिज्ञासा पूरी न हो पाने पर हीन भावना का शिकार नही बनेगा। और इस वृहद ज्ञान कोष की परिपूर्नता पर हमारे समाज की समानता का रास्ता भी खुल जायेगा, जिस पर सिर्फ़ कुछ विशेष वर्गों, या धनाढ्य व्यक्तियों का एकाधिकार था। मंहगी किताबे जो या तो विदेशों में उप्लब्ध थी या फ़िर महंगे व बड़े शहरों में जाहँ हर किसी की पहुंच नही हो सकती। अन्त में आप सभी से अनुरोध हैं कि विकिपीडिया पर ऐसे व्यक्तियों पर खास निगाह रखे जो बेतरतीब व बिना सन्दर्भों वाली जानकारी से अपने खाते को मजबूत करने की साजिश में है, न कि ज्ञान की संमृद्धता में। --कृष्ण कुमार मिश्र १५:०६, १ नवंबर २०१० (UTC)

कृष्ण कुमार मिश्र एवं अनुनाद सिंग की चर्चा के संबंध मे

विकिपीडिया मे अनुनाद जी जो योगदान दे रहे है वह सराहनीय है किंतु उन्हे यह भी ध्यान देना चाहिये कि जहां से सामग्री ली गयी है उसका सन्दर्भ देना ही चाहिये और हम सभी जो भी जानकारी योगदान देते है वह कही न कही से पढकर ही अर्जित होती है लेकिन वह हमारे शब्दो मे होनी चाहिये महज कापी पेस्ट करना अनुचित है ऐसे मे योगदान की संख्या तो अधिक हो जायेगी किंतु विवादो की आशंका बनी रहेगी और लेख हटाने की नौबत आने पर परिश्रम व्यर्थ हो जायेगा |

मिश्र जी को यह ध्यान मे रखते हुए कि अनुनाद जी लोकहित का काम कर रहे हैं उनकी चूक को नजर अंदाज कर देना चाहिये और विवाद खत्म कर देना चाहिये |--अरूणेश दवे १३:११, १ नवंबर २०१० (UTC)

विकिया के प्रबंधकों से निवेदन है कि वे कॉपीराइट विवाद से संबंधित लेख को हटाने की सीघर्ता न करें। उसके लिए चौपाल पर सूचना देकर कम-से-कम 7 दिनों तक इंतजार तो किया ही जा सकता है। ताकी अधिकांश सक्रीय सदस्य उसे देख सकें एवं संवंधी कार्यवाई जो सुधार या हटाने से संबंधित समर्थन की या आपत्ति की हो सकती है, दे सकें। अनिरुद्ध  वार्ता  १८:१२, १ नवंबर २०१० (UTC) मेरी बात को सही परिप्रेक्ष्य में लिया जाय इसलिए आज की दिनचर्या लिख रहा हूँ। दिन में क्लास की तैयारी, शाम को कॉलेज तथा रात को भोजनादि करने के पश्चात जब विकिया का चौपाल पृष्ठ खोला तबतक रात के 11 बज चुके थे। अनुनाद जी ने संक्षिप्त सूचना की अपनी कार्यवाई पूरी कर दी थी। यदि इचित समझें तो वे पृष्ठ वापस लाएँ। मैं अनुनाद जी को हिंदी भाषियों के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण काम करने वालों के रूप में जानता हूँ एवं उनके प्रति अपनी कृतज्ञता ज्ञापित करता हूँ लेकिन उनका यह कदम गलत है। कृष्णकुमार जी की यह बात उचित है कि उनकी सामग्री कॉपी करते समय उऊनकी पूर्व अनुमति ले ली जाय। नहीं तो कम से कम उनके सामग्री का सन्दर्भ तो दिया ही जाना चाहिए। अनिरुद्ध  वार्ता  १८:२४, १ नवंबर २०१० (UTC)

अनिरुद्ध जी, मैं मानता हूँ कि इन लेखों को हटाने मे थोड़ी जल्दी हो गयी। आप संबन्धित संदेश देख नहीं पाये किन्तु मेरे खयाल से अधिकांश मित्रों ने इसे देखा था। खैर चिंता की कोई बात नहीं है क्योंकि गुरुजी इन पृष्टों को पुनः बनाने में जुट गये हैं। मेरा पूरा विश्वास है कि एक-दो सप्ताह में ये तीनों महान विषय हिन्दी विकि की पुनः शोभा बढ़ाएँगे और पहले से भी अधिक उत्कृष्टता के साथ। -- अनुनाद सिंहवार्ता ०४:२६, २ नवंबर २०१० (UTC)

विकिपीडिया पर पद्मभूषण कुँवर अर्जन सिंह का नवीन पृष्ठ

आप सभी के अवलोकन हेतु यह पृष्ठ जो वन्य जीव सरंक्षण के द्रोणाचार्य कुँवर बिली अर्जन सिंह पर आधारित है, अवलोकनार्थ चौपाल पर भेज रहा हूँ। कुँवर बिली अर्जन सिंह

गुरुजी, बहुत उत्तम है। इसी प्रकार 'वंशीधर शुक्ल' और 'दुधवा राष्ट्रीय उद्यान' को भी पुनर्जीवित कर दीजिये। -- अनुनाद सिंहवार्ता ०२:१५, २ नवंबर २०१० (UTC)
आशा है कि अब ये विवाद सुलझ चुका है। मिश्र जी भी वापस उन पृष्ठों के पुनरोद्धार पर लगे हैं, व अनुनाद जी भी वापस अपने योगदान पर लौटे हैं। इस बात की खुशी है कि ये विवाद अधिक नहीं बढ़ा, साथ ही इस बहाने हमें एक अच्छे योगदान कर्त्ता के साथ की आशा भी मिली है। आगे हम सभी को ये विवाद याद नहीं रहेगा किन्तु दुधवा, बिलि अर्जन जी व अन्य लेख ही मिलेंगे। --ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागर  वार्ता  ०५:५३, २ नवंबर २०१० (UTC)

कृष्ण कुमार मिश्र एवं अनुनाद सिंग की चर्चा के संबंध मे

चूंकि अब विवाद समाप्त हो चुका है अतः मैने दुधवा लाइव पृष्ठ पर विलोपित करने वाली टिप्पणी हटा दी है | --अरूणेश दवे ०८:१४, २ नवंबर २०१० (UTC)

नवीन पृष्ठ जोडने के हेतु

मित्रो मै अभी विकिपीडिया पर नया हूं अतः अगर मुझसे भूल हो तो वरिष्ठ जन उसे सुधारे एवं मुझे सलाह दे | प्रथम पृष्ठ मै अबूझमाड का जोडने का प्रयास करूंगा --अरूणेश दवे ०८:२०, २ नवंबर २०१० (UTC)

अरुणेश जी, विकीपीडिया पर आपका स्वागत है। आप निःसंकोच विकीपीडिया के निर्देशों के अनुसार पृष्ठ बनाएं और जहां भी शंका हो वहां पूछें। हम सभी ने अपनी विकी यात्रा का प्रारंभ इसी तरह से किया है। मैने आपके वार्ता पृष्ठ पर संदेश लिखा है। वहां के निर्देशों से भी आपको लेख बनाने में सहायता मिलेगी।--आलोक मिश्र ०९:२६, २ नवंबर २०१० (UTC)

/* वन्य जीव */

विकिपीडिया ज्ञान कोष के सभी मित्रों से विनम्र अनुरोध कि कृपया इन नवीन पृष्ठों का अवलोकन कर इसमें सुधार करे, कुछ तकनीकी त्रुटियां हैं जिन्हें मैं अच्छी तरह दूर नही कर पा रहा हूं। आभार दुधवा राष्ट्रीय उद्यान वंशीधर शुक्ल कुँवर बिली अर्जन सिंह --कृष्ण कुमार मिश्र १३:५३, २ नवंबर २०१० (UTC)

नवीन पृष्ठों का अवलोकन एंव सुधार संबधी सूचना

विकिपीडिया के माननीय प्रबन्धक व सदस्य गणों से विनम्र अनुरोध है, कि मेरे द्वारा बनाये गये पन्नों का अवलोकन कर अपनी राय व्यक्त करे। जहाँ आवश्यकता हों वहाँ संशोधन अवश्य करे। मेरी द्वारा की गयी त्रुटियों को मेरे संज्ञान में भी अवश्य लाये, ताकि भविष्य में मैं विकिपीडिया पर महत्वपूर्ण जानकारियों को और बेहतर तरीके से प्रस्तुत कर पाऊं। धन्यवाद अवलोकनार्थ पन्ने

--कृष्ण कुमार मिश्र १९:४३, २ नवंबर २०१० (UTC)

मिश्र जी विकिपीडिया पर आपका स्वागत है। आज मुझे आपके द्वारा रचित उपरोक्त लेखो को देखने का अवसर मिला। निश्चित रूप से यह लेख ज्ञान वर्धक है। अपितु मुझे इनके प्रारुप के उपर आपत्ति है। यह लेख एक व्यक्तिगत राय या टिप्पणी के समान प्रतीत होते है। इसका प्रारूप ब्लाग के लिये तो उप्युक्त है परन्तु विकि के लिये नही। वंशीधर मिश्र पृष्ठ पर मैने कुछ परिवर्तन किये है, कृपया उन्हे जांच ले। मैने दो प्रकार की सामाग्री को या तो बदला है अथवा छीपा दिया है। प्रथम उर्दू के शब्द जो हमारी आम बोल चाल की भाषा मे निहित ही उपलब्ध है एवं दुसरा आपके व्यक्तिगत टिप्पणी। जैसे कि
इस तरह से लखीमपुर खीरी का संविधान निर्माण में योगदान होने का गौरव हम सभी को होना चाहिये और इस गौरव को देने वाले व्यक्ति का पर इसे विडंबना ही कहेगे कि पं० जी की कोई फ़ोटो या प्रतिमा खीरी के किसी भी यथा उचित स्थान पर नही है और अब न ही लोग उन्हे जानते हैं यह दुखद है कि हम अपने गौरवशाली अतीत को भूलते जा रहे है तो फ़िर भविष्य कैसे बेह्तर होगा!
विनम्र अनुरोध है की आप इसे अन्यथा न ले। किसी को भी दुख होता है जब उसके मौलिक रचना मे लोग पेंच निकाले। मेरा आशय केवल आपको विकि के प्रारुप से परिचित कराना था। क्योकी यह एक ज्ञान कोष है लेखो का प्रारुप ब्लाग से अलग होना चाहिये। आशा करता हू की आप हिंदी विकि के योगदान मे इस ही प्रकार लगे रहेंगे। धन्यवाद --गुंजन वर्मासंदेश ०४:५२, ३ नवंबर २०१० (UTC)

माड़िया जनजाती

मित्रों मैने माड़िया जनजाती का पृष्ठ जोड़ा है उस पर नजर डाले वरिष्ठ जनो से अनुरोध है कि गलतियो को दूर करें |--अरूणेश दवे ०८:१४, ३ नवंबर २०१० (UTC)

साइड पैनल

विकिपीडिया के साइड पैनल मे "साहित्य दर्शन" कि कड़ी अनावश्यक प्रतीत होती हैै ।, मेरे ख्याल से इसे मुखपृष्ठ के "विश्वज्ञानकोष" साँचे मे होना चाहिये (जहाँ वह पहले से उपस्थित है) । --सुमित सिन्हावार्ता १०:३८, ३ नवंबर २०१० (UTC)

आदमखोर बाघ वाले पन्ने के सन्दर्भ में

सुमित जी, आप से अनुरोध है कि आदमखोर बाघ वाले पृष्ठ को हटाने से पहले अभी हमें इन्तज़ार करना चाहिए, ताकि पृष्ठ निर्माण कर्ता यहाँ और जानकारी दे सके, संभवता यह विषय विश्व पटल पर महत्वपूर्ण है, क्योंकि जिम कार्बेट का यही विषय था और इस समस्या पर उनके अनुभव हमें मार्गदर्शित करते हैं, आदमखोर विषय पर उनका लेखन विश्व में सर्वश्रेष्ठ है। चूंकि मनुष्य एंव जानवर के मध्य जो संघर्ष है वह अभी भी जारी है, हो सकता है इस लेख में वह महत्व पूर्ण बाते जोड़ी जा सके जो इस संघर्ष को कम करने में मददगार हो। वन्य जीवों की प्रजातियों की विलुप्ति में यह संघर्ष बहुत बड़ा कारण है। कोई भी जानवर आदमखोर तभी बनता है, जब उसे मानव जाति द्वारा उसके घरों से खदेड़ा जाता है, उनके आवास नष्ट किए जाते है और उनके आहार को भी मनुष्य अपने इस्तेमाल में ले लेता है, सदियों से यह रक्तरंजित और संवेदना से हीन प्रक्रियाये मनुष्य द्वारा की जाती रही है, सिर्फ़ लालच और मनसिक विकृतियां इन घटनाओं के मूल में बसती रही हैं। लेख हाटाये जाने के बिल्ले चिपकाने में हमें थोड़ा ध्यान देना चाहिए, नही तो ये माना जायेगा कि विकि पर स्थापित लोग अपने वजूद को जाहिर करने की बेजा हरकत कर रहे हैं ! --कृष्ण कुमार मिश्र ११:१४, ३ नवंबर २०१० (UTC)


अरूणेश जी बधाई हो आप के लेख अनछुए विषयॊ पर है, और आप से उम्मीद है कि भविष्य में सुन्दर रचनाये करेंगे किन्तु आप लेखों में सन्दर्भ और लेख के ऑबजेक्टिव्स देना न भूलें, लेख सार-गर्भित और सन्दर्भित अवश्य हों। --कृष्ण कुमार मिश्र ११:२८, ३ नवंबर २०१० (UTC)

विकिपीडिया पर पक्षी विज्ञान की संमृद्धता के संबध में

मैने विकि पर अभी हाल में अपना योगदान देना शुरू किया हैं, मेरे प्रिय विषय वन्य जीवन, इतिहास व महापुरूष है, इन सभी पर कुछ पन्ने मैने विकिपीडिया पर बनाये हैं। पक्षी विज्ञान में हिन्दी विकि में काफ़ी रिक्तता है जिसे जल्द ही भरने की आवश्यकता है, आज मैने ओपनबिल्ड स्टॉर्क पर एक लेख का विकि पर अवतरन किया है, कृपया देखे और मेरा मार्गदर्शन करें। --कृष्ण कुमार मिश्र ०९:४१, ४ नवंबर २०१० (UTC)

भारत-पाकिस्तान के बीच प्रथम युद्ध

मित्रों मैने इस पृष्ठ के एक अध्याय का अनुवाद कर दिया है पर मुझ से उसका अंग्रेजी का मूल पाठ नही हटा | अतः एक नजर डाल लें |--अरूणेश दवे १३:२१, ४ नवंबर २०१० (UTC)

क्या स्वचालित लेख निर्माण संभव है?

मान लीजिये कि मेरे पास विकि मार्कअप में तैयार हजारों टेक्स्ट फाइलें हैं जिन्हें मैं स्वचालित रूप से विकि पर डाल कर हजारों आलेख निर्मित करना चाहता हूँ। क्या यह संभव है? यदि हाँ, तो कैसे? -- अनुनाद सिंहवार्ता १७:२६, ५ नवंबर २०१० (UTC)

हिन्दी विकिपडिया की संमृद्धता के सन्दर्भ में

मैं अपने लखीमपुर जनपद में हिन्दी विकिपीडिया में हिन्दी भाषा में अपने आस-पास के ज्ञान का दस्तावेज बनाना चाहता हूँ, जिसमें अधिक से अधिक व्यक्तियों, छात्रो, व विषय विशेषज्ञों को जोड़ना चाह्ता हूँ, इसके लिये, सभायें करना, स्थानीय अखबारों के जरिए हिन्दी विकि और इसके ज्ञानकोष के सन्दर्भ में चर्चा व प्रसार-प्रचार करने का निश्चय किया। ताकि संपर्क में आये व्यक्तियों को विकि पर कार्य करने का प्रशिक्षण दे सकूं, और उन्हे इस ज्ञान कोष को समृद्ध करने के लिए उत्साहित कर सकूं। विभिन्न धारा के लोगों के जुड़ने से विकि में विभिन्न विषयों पर सामग्री की बढ़ोत्तरी होगी, हिन्दी सेवा में ज्ञान का यह वृहद कोष एक उत्तम कार्य होगा। कृपया सलाह दे। --कृष्ण कुमार मिश्र १७:४६, ८ नवंबर २०१० (UTC)

आपका विचार अत्यन्त सराहनीय है। हाँ मुझे लगता है कि हिन्दी विकि के सदस्यों को यहाँ योगदान देने के अतिरिक्त अन्य लोगों को भी हिन्दी विकि पर योगदान देने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए, जिससे इस विकि की और तीव्रता से वृद्धि हो सके। यदि समाचारप्रत्रों , सभाओं इत्यादि के माध्यम से हिन्दी विकि के सक्रिय सदस्यों की संख्या में वृद्धि की जा सके तो बहुत सरहानीय काम होगा। रोहित रावत १९:०६, ८ नवंबर २०१० (UTC)
कृष्ण जी आपका विचार अत्यंत उत्तम है यदि आप यह कार्य पूरा कर सके तो यह हिन्दी विकि के उत्थान में सबसे महत्त्वपूर्ण कदम होगा। मेरी तरफ से इस शुभ कार्य के लिये आपको शुभकामनाएँ--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  ०४:१५, ९ नवंबर २०१० (UTC)

खवासा का नरभक्षी

क्या इस तरह के लेखों के निर्माण पर पुनर्विचार एवं उसके हटाए जाने पर सोचने की जरूरत नहीं है? मुझे लगता है कि इस तरह की सूचनाएँ, यदि जरूरी लगें तो भी अन्य रूप में दी जानी चाहिए। अनिरुद्ध  वार्ता  ०५:५६, ९ नवंबर २०१० (UTC)

मेरा विचार है कि यह विकिपिडिया के लिये उपयुक्त लेख नहीं है। कारण बहुत साफ है। इंदौर के चिड़ियाघर में स्थित अकबर नामक शेर के बारे में कोई लिखे; लखनऊ के चिडियाघर में स्थित जिर्राफ के बारे में लिखना; 'राजेन्द्रनगर तिराहे पर स्थित पान की दुकान' आदि पर लिखना विश्वकोश की दृष्टि से ठीक नहीं है। यही बात मैने 'दुधवा लाइव' नामक जालस्थल के बारे में सोचकर उसे हटाने की अनुशंशा की थी। -- अनुनाद सिंहवार्ता ०८:२८, ९ नवंबर २०१० (UTC)

उपर्युक्त लेख में दी गई महत्वपूर्ण सूचनाएँ हैं।

  • ख्वासा भारत के एक अज्ञात राज्य का एक गाँव है।
  • यहाँ कभी नरभक्षी बाघ का आतंक था।
  • यह आतंक एक अज्ञातनाम महिला के बलिदान से दूर हो गया।

यदि यह लेख ख्वासा के नाम से होता तो भी गनीमत थी मगर लेख का शीर्षक रखा गया ख्वासा का नरभक्षी बाघ और सन्दर्भ सूत्र में जंगल टेल को जोड़ा गया है। अनुनाद जी ठीक कहते हैं। इससे ज्यादा महत्वपूर्ण तो कछुआ और खरगोश जैसी पंचतंत्र और हितोपदेश की विभिन्न शीर्षकों वाली कहानियाँ हैं। लेख के निर्माता से अनुरोध है कि विकिया एवं ज्ञानोत्सुक हिंदी पाठकों के हित में की गई इस टिप्पणी को सही परिप्रेक्ष्य में देखें। आशा है कि आपका योगदान न सिर्र्फ बना रहेगा बल्कि सचमुच उपयोगी होगा। अनिरुद्ध  वार्ता  १६:०२, ९ नवंबर २०१० (UTC)

इस लेख को एक लोक कथा अथवा किवदंति के रूप मे भी प्रस्तुत किया जा सकता है। वर्तमान मे यह लेख किसी उपन्यास का अंश प्रतीत होता है। अधिक जानकारी के लिये विकि की नितीयां देखी जा सकती है। --गुंजन वर्मासंदेश ०३:४७, १० नवंबर २०१० (UTC)

खवासा का नरभक्षी और हिन्दी विकिपीडिया पर मौजूद वरिष्ठ महानुभाओं की टिप्पड़ियां

आगुन्तकों का उत्साहवर्धन करें न कि उन्हें हतोस्ताहित तभी यह ज्ञान कोष और अधिक वृहद व सुन्दर हो पायेगा। खवासा का नरभक्षी पन्ना नष्ट करने की आवश्यकता हो तो इसे अवश्य नष्ट कर दिया जाय, ताकि कुछ लोगों के हल्के व्यक्तित्व व क्षुद्र मानसिकता को राहत मिले, एक अनुनाद सिंह नाम के सदस्य नें खवासा के नरभक्षी के साथ साथ दुधवा लाइव पन्ने के नष्ट करने क बात कही, खवासा के नरभक्षी और दुधवा लाइव के पृष्ठ निर्माता अलग-अलग दो व्यक्ति है, किन्तु खवासा का नरभक्षी पृष्ठ के निर्माता व दुधवा लाइव वेबसाइट के मॉडरेटर एक ही है, चूंकि कभी अनुनाद सिंह ने दुधवा लाइव व जंगल कथा ब्लाग से चोरी करते हुए कुछ तस्वीरें व लेख हुबहू विकिपीडिया पर चिपकाये थे, दुधवा लाइव के माडरेटर की सक्रियता जब विकि पर हुई तो यह पृष्ठ जिनकी सामग्री बिना अनुमति के विकिपीडिया पर दिखाई दी, अनुनाद सिंह को अवगत कराने के उपरान्त कापीराइट मुकदमों व विकिपीडिया के नियमों के उल्लघन से डरने के बाद बड़ी मुश्किलों से उन्होंने यह लेख हटायें (जिसका उल्लेख चौपाल में है) जिन्हे मेरे द्वारा अधिक जानकारी व तस्वीरों के साथ निर्मित किया गया, ये पन्नें दुधवा राष्ट्रीय उद्यान बिली अर्जन सिंह वंशीधर शुक्ल थें, जिनका अवलोकन कर आप मेरे कार्य को देख सकते हैं। चूंकि मैं विकि पर नया हूँ, तो आशा यह है कि वरिष्ठ जन मुझे इंगित करेंगे और सलाह देंगे कि कैसे इस विश्व कोष को संमृद्ध किया जाय, बजाए इसके कि उनकी विकि पर मठाधीशी व एकाधिकार में कोई अन्य व्यक्ति जो बेहतर कार्य कर रहा हों, स्थापित न हो पायें, यदि प्रबन्धक आदि बनने के लिए हजारों पन्ने जिनमें न तो कोई सन्दर्भ है और न ही बाहरी कड़िया है, केवल इस लिए बनाये जा रहे है, ताकि प्रबन्धक पद बरकार रहे, तो खवासा का नरभक्षी लेख में जो सन्दर्भ सहित है, और अपनी प्रारम्भिक अवस्था में है, क्या कमी है, नरभक्षण की घटनायें सीधा मानव व जानवर के मध्य संघर्ष से जुड़ी है जो परिस्थितिकि तन्त्र व खाद्य श्रंखला के अव्यव्स्थिति होने या मानव जनित कारणों के चलते उत्पन्न होती हैं, रही बात नरभक्षण की घटनाओं पर मान्यवरों द्वारा की गयी टिप्पड़ियों की बात करे तो कृपया अंग्रेजी विकिपीडिया देखे जहाँ आदमखोर बाघ व तेन्दुओं की कई घटनाओं पर विभिन्न पन्ने मौजूद है जैसे Leopard of Rudraprayag इसके अतिरिक्त दुधवा लाइवखवासा का नरभक्षी में जिस कड़ी को जोड़ते हुए अनुनाद सिंह नामक व्यक्ति ने जो बात कही है, व दुर्भावना से प्रेरित हैं, क्योंकि वह कड़ी मैं हूँ, जिसके लेखों को कॉपी-पेस्ट करते हुए अनुनाद सिंह नामक व्यक्ति ने विकिपीडिया पर बेतरतीब ढंग से डाली थी, इन पृष्ठों की तस्वीरें मेरे पास मौजूद हैं, जो मेरे द्वारा लिखे गये थे, कहानी के स्वरूप में, हाँ दुधवा लाइव की तरह सैकड़ों वेबसाइट का उदाहरण अंग्रेजी व हिन्दी विकिपीडिया में दे सकता हूँ। विकिपीडिया के नियमों का उल्लघन करते हुए ऐसे सैकड़ों पृष्ठों का उदाहरण दे सकता हूं जो कथित प्रबन्धकों द्वारा बनायें गयें हैं। इस तरह की राजिनीति व व्यक्तिगत दबदबें व ईर्ष्या के चलते विकिपीडिया के ज्ञान कोष के निर्माण में बाधा ही उत्पन्न होगी। मेरे द्वारा निर्मित अन्य लेख ओपनबिल्ड स्टॉर्क वंशीधर मिश्र दूसरा दशक दिगन्तर अज़ीम प्रेमजी फ़ॉउंडेशन इत्यादि, अवलोकित कर मार्गदर्शन करें। यदि वरिष्ठ जनों को लगता है मेरे द्वारा निर्मित पेज निरर्थक हैं तो उन्हे अवश्य हटाया जाय। अनुनाद सिंह नामक व्यक्ति से कि व्यक्तिगत ईर्ष्या व खिसिआहट में कोई कदम न उठायें। (हटाने के मौंजू तथ्य भी दिए जाय, अन्यथा उन तमाम सामग्री के प्रति भी विचार किया जाय बेतरतीब तरीके से मौजूद हैं)

अन्तत: आप सभी स्थापित बन्धुओं से निवेदन हैं कि विकि पर आने वाले आगुन्तकों का मार्गदर्शन करे न कि ईर्ष्या या वर्चस्व के खतरे से डर कर उसे विकि से भगाने की जुगत तलाशे। मैं सबूत के साथ सभी ईर्ष्यालू व डरे हुए लोगों से नैतिक लड़ाई लड़ने को तैयार हूँ, जो विकिपीडिया हिन्दी की संमृद्धता के बजाए उसे गर्त में ले जा रहे हैं।

धन्यवाद साइबर लॉ, कॉपीराइट एक्ट, एंव अन्य विधिक मामलों से जुड़े होने के नाते, मैं विकिपीडिया को और उसके नियमों के इतर न तो जाने का प्रयास करूंगा और न ही किसी के द्वारा इन नियमों के उल्लंघन होते देख चुप रहूंगा। ताकि विकिपीडिया हिन्दी की संमृद्धता में कोई बाधा न आयें। --कृष्ण कुमार मिश्र १७:३६, १० नवंबर २०१० (UTC)

कृष्ण कुमार मिश्र जी हिन्दी विकि पर आने वाले हर नये सदस्य का हमेशा से स्वागत किया जाता रहा है। लेख बनाने के सन्दर्भ में आपको एक विकि नीति "नो आरिजिनल रिसर्च" के बारे में बताना चाहूँगा जिसके अनुसार विकि पर केवल प्राथमिक या द्वितीय सोर्स से ही पाठ लिया जाता है। विकि पर केवल वह पाठ दिखाया जाता है जो कहीं प्रकाशित हो चुका हो, परन्तु लेखक की अनुमति से(बिना कापीराइट उल्लँघन किये), अत: यदि आपको यहाँ कई लेखों में इन्टरनेट से उठाया पाठ दिखायी दे रहा है तो वह गलत नहीं यदि वो कापीराइट उल्लँघन न करे। इस आधार पर यहाँ कई सदस्यों द्वारा इस विधि से कई लेख बनाये गये है

विकिपीडिया पर प्रबंधक बर्बरता एवं उत्त्पात रोकने, तकनीकी कार्यो, अप्रयुक्त लेख हटाने एवं कई अन्य कार्य करने के लिये बनाये जाते है न कि लेख बढाने के लिये क्योंकि यह कार्य एक समान्य सदस्य समूह का सदस्य भी कर सकता है। अनुनाद जी ने एक प्रबंधक होने के नाते आपके लेखों को सीधा हटाने की बजाय उन्हे पर चर्चा के लिये रखा ताँकि सभी कार्यरत अनुभवी सदस्यों के इस विषय पर विचार जानने के बाद कोई कदम उठाया जाये। विकि पर कोई भी महत्त्वपूर्ण कार्य समस्त अतिसक्रिय सदस्यों के सुझाव जानने के बाद किया जाता है।

आपका एक नये एवं योग्य सदस्य होने के नाते विकि प्रबंधको एवं पुराने अनुभवी सदस्यों से उत्साहवर्धन अपेक्षा करना जायज है और यकिन रखिये अनुनाद जी सहित समस्त प्रबंधक एवं वरिष्ठ सदस्य आपको अपेक्षित सहयोग देंगे क्योंकि उन सबका उद्देश्य भी आपकी तरह हिन्दी विकिपीडिया एवं हिन्दी की सम्रद्धि है। इसमें कोई शक नहीं कि आपके लेख ज्ञानगर्भित होते है परन्तु शायद उपरोक्त चर्चा के अनुसार वह ज्ञानकोश की शैली में नही होते। इसके लिये आप यहाँ विकिपीडिया:निर्वाचित लेख या विकिपीडिया:आज का आलेख देख सकते है जो हिन्दी विकि पर उपलब्ध उत्कृष्ट सामग्री में से एक है। परन्तु इसका तात्पर्य यह नहीं की आपकी शैली गलत है यदि आपके अनुसार यहाँ कुछ सदस्य आपसे द्वेष रखते है तो उन्हे अपनी योग्यता से जीतने का प्रयत्न करे। आपका कार्य देखकर वह सब एक दिन आपके प्रशंसक बन जायेंगे, परन्तु शायद ही वह द्वेष रखते हो।

उपरोक्त वरिष्ठ सदस्य आपके उत्त्साह, कुशलता एवं योग्यता को देखते हुए आपको निरंतर सुझाव दे रहे है कृपया इसे अन्यथा न ले हिन्दी विकि को आपसे बहुत उम्मीदे है। अत: निसंकोच अपना अनवरत योगदान देकर इस ज्ञानकोश पाठको को लाभान्वित करे जो प्रतिदिन लाखों की संख्या में अपनी जिज्ञासा रुपी प्यास बुझाते है।

किसी भी प्रकार की चर्चा में आप निर्भय अपने विचार रखें, हिन्दी विकि पर प्रत्येक कार्य लोकतांत्रिक तरीके से होता है, क्योंकि आप अभी नये सदस्य है इसलिये आरम्भ में आपको कुछ समस्याओं से सुझना पड़ सकता है परन्तु विकिप्रबंधको से आपको अपेक्षित सहयोग निरंतर मिलता रहेगा, आप का कार्य स्वर्ण की तरह है परन्तु उसे आभुषण इत्यादि की तरह आकार देने की आवश्यकता है जिससे उसकी सुन्दरता एवं उपयोगिता और बढ जाये, कृपया मेरी किसी बात को अन्यथा न लेते हुए अनवरत रुप से अपना योगदान जारी रखें, शुभकामनाओं सहित--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १८:५१, १० नवंबर २०१० (UTC)

कृष्ण कुमार जी! विश्वास किजिए कि ख्वासा का नरभक्षी लेख पर टिप्पणी करने से पूर्व मैने उसके पिछले अवतरण में जाकर उसके निर्माताओं का नाम नहीं देखा था। मैने इस पृष्ठ को हटाने की बात नहीं बल्कि विकिफी करने की बात कही है। मसलन यदि ख्वासा नामक गाँव का लेख बनाया जाय। उसमें उसकी यथासंभव अधिकतम जानकारी दी जाय एवं उस गांव के इतिहास में इस प्रसंग का उल्लेख किया जाय तो वह विकिया के स्वरूप के अधिक अनुकूल होगा। गलत दिशा में बढ़ने से रोकने के लिए दर्ज की गई आपत्तियाँ हत्तोत्साहित करने वाली राजनीति प्रेरित शाजिशों के रूप में नहीं ली जानी चाहिए। ... जबकि यह संदेश लिख रहा हूँ मेरे घर से दादाजी के निधन की सूचना मिली है। विकिया पर राजनीति करके कोइ आपका या अपना ही क्या बना या बिगाड़ लेगा? अभी तो गाँव जा रहा हूं। शेष आने पर। अनिरुद्ध  वार्ता  २१:३९, १० नवंबर २०१० (UTC)

मास्टर साब, कृपया टिप्पणियों को ध्यान से पढ़िये

लेख हटाना और जोड़ना किसी विकि के लिये दुर्लभ (rare) चीज नहीं है। लेखों पर चर्चा करके उन्हें सुधरवाना/सुधारना या हटाना प्रबन्धन का आवश्यक कार्य है। किसी भी लेख पर कोई भी तर्कपूर्ण टिप्पणी करने के लिये स्वतंत्र है। कृपया आप भी करिये।

'पर्यावरण' का नाम लेकर मैं अपने बाग में लगी चमेली का वर्णन विकि पर नहीं डाल सकता। आपके अच्छे लेखों के के लिये आपको वाहवाही देना हमारा कर्तव्य है। किन्तु मेरे कालोनी में एक कुत्ते ने कई लोगों को काट खाया और मैं उस पर 'पर्यावरण' की दुहाई लेकर कुत्ते की कहानी विकि पर लिखूं, और चाहूँ कि लोग 'वाह-वाह' करें, मेरी दृष्टि में तो ठीक नहीं है। -- अनुनाद सिंहवार्ता ०३:५८, ११ नवंबर २०१० (UTC)

शुक्रिया कि आप ने मुझे अपना मालिक माना, अंग्रेज चले गये नही तो वो मास्टर थे, वैसी मेरी जमींदारी इन्दौर में नही खीरी में रही,(गजेटियर देखे) पर हो सकता हैं, आप के पूर्वज हमारे बुजर्गों के आधीन रहे हो, खैर आप द्वारा वर्णित प्रजाति से आप का स्वभाव मेल खाता हैं। प्रजाति की वृत्तियों के अनुरूप अपना कार्य करते रहें रहिए.... धन्यवाद --कृष्ण कुमार मिश्र ०७:५३, ११ नवंबर २०१० (UTC)

मास्टर जी, ये जमींदार नामक प्रजाति बड़ी विचित्र हुआ करती थी। अंग्रेजों के सामने पूंछ हिलाते थे और गाँववालों के सामने गुर्राते थे। ऐसा दोहरा चरित्र किसी साधारण जानवर में पाना बड़ा मुश्किल काम है। इससे सिद्ध होता है कि गुणसूत्रों के माध्यम से पैत्रिक गुण एक पीढ़ी से दूसरी में ट्रांसफर होते रहते हैं। -- अनुनाद सिंहवार्ता ०८:४१, ११ नवंबर २०१० (UTC)

शुक्रिया कि आप ने मुझे गुर्राने वाली प्रजाति बाघ के चरित्र से जोड़ा, वैसे आप को पता होगा, जब वह अपना शिकार करता है, तो शिकार को पता भी नही चलता कि उसे किसने मारा, खैर मुझे खुशी है कि आप उस वफ़ादार जानवर की प्रजाति के गुणसूत्रों के मुताबिक अपना भौकने का कर्म निभा रहे है (बौद्धिक संपदा की चोरी इत्यादि की खिसियाहट भी है), अब मुझे दोहरा चरित्र निभाना पड़ेगा अब बाघ से हाथी बन जाऊंगा, ताकि उस प्रजाति के शोरगुल का जबाव देने में बेजा उर्जा नष्ट न हो ! --कृष्ण कुमार मिश्र ०८:५०, ११ नवंबर २०१० (UTC)

अनुनाद जी को पढ कर मुझे चोरी और सीनाजोरी की कहावत याद आ रही है --Logic १५:४२, १८ नवंबर २०१० (UTC)

विकिपीडिया की नीतियों आदि का हिन्दी संस्करण होना चाहिए।

आदरणीय मयूर जी, क्या यह पृष्ठ "नो आरिजिनल रिसर्च" या ऐसे अनेकों पृष्ठ जो विकि-नीतियों से संबधित है, हिन्दी में अनुवादित नही किए जा सकते, मुझे लगता है, इसकी नितान्त आवश्यकता है। इस पर सभी को मिलकर कार्य किया जाना चाहिए। --कृष्ण कुमार मिश्र १६:३३, ११ नवंबर २०१० (UTC)

अति शुभ विचारं मास्टर साहबः । शुभस्यशीघ्रम। -- अनुनाद सिंहवार्ता १६:५९, ११ नवंबर २०१० (UTC)
कृष्ण जी इस विषय पर मैनें पहले काफि कार्य किया था जिसके अन्तर्गत हिन्दी विकि पर कुछ महत्त्वपूर्ण नीतिया बनायी गयी जैसे सदस्य अधिकार हटाना व जोडना क्योंकि हर विकि प्रोजेक्ट को यह स्वतंत्रता है कि वह खुद अपनी निजी नीतियाँ समस्त समुदाय के समर्थन से बना सकते है। तो मैनें कुछ महत्त्वपूर्ण नीतियों को हिन्दी विकि के अनुकुल कर समुदाय के समर्थन के आधार पर विकिनीतियाँ घोषित की, मुझ अकेले के लिये समस्त नीतियोँ को बनाना कठिन था क्योंकि हिन्दी विकि के लगभग सभी तकनीकी कार्य सम्भालने का कार्य भी करना था अत: बाकि नीतियों को अंग्रेजी विकि के अनुसार डिफाल्ट रहने दिया गया। क्योंकि मीडीयाविकि फाउंडेशन के अनुसार यदि किसी विषय पर किसी विकि के पास उसकी स्वयं की नीतियाँ नहीं है तो वहाँ अंग्रेजी विकि की नीतियोँ को डिफाल्ट रखा जाता है। जैसे हमारे यहाँ प्रशासक/प्रबंधक हटाने की नीतियाँ अंग्रेजी विकि से अलग है।
अगर शेष नीतियोँ को अंग्रेजी विकि के डिफाल्ट स्वरुप में ही रखना है तो उन्हे हिन्दी में अनुवादित किया जा सकता है कुछ एक को थोड़ा बहुत बदला भी जा सकता है। यदि कोई सदस्य विकिनीतियोँ को अंग्रेजी से हिन्दी में अनुवादित कर सके तो हिन्दी विकि के लिये श्रेयकर रहेगा, क्योंकि नीतियाँ होने से किसी भी विवाद की आशंका नहीं रहती है साथ ही प्रबंधक आदि विशेषवर्ग किसी प्रकार की तानाशाही के आरोप से बचता है क्योंकिकिसी भी विकि पर विकिनीतियाँ समस्त अधिकारों एवं सदस्यताओं से ऊपर होती है। अत: यदि ४-५ सदस्य मिलकर यह कार्य कर सके तो बहुत उत्तम होगा। परन्तु हिन्दी विकि जिसमें केवल ८-१० ही अतिसक्रिय सदस्य हो वहाँ यह कार्य भी मुश्किल जान पड़ता है।--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १७:०६, ११ नवंबर २०१० (UTC)

आदरणीय मयूर जी, मैं मेरे कुछ मित्रों से अनुरोध करूंगा जो यह कार्य पूरा करने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दे सकते हैं, महादेव ने चाहा तो यह कार्य जल्द पूर्ण होगा। सुन्दर आशा के साथ धन्यवाद --कृष्ण कुमार मिश्र १८:३७, ११ नवंबर २०१० (UTC)

पृष्ठ अनुवाद के विषय मे

मित्रो खाली वक्त मे मैं कुछ पृष्ठ अनुवाद करना चाहता हू एक को किया है यदी किसी पृष्ठ के अनुवाद करने की आवश्यकता हो तो मुझे सूचित करे --अरूणेश दवे ०६:५७, १७ नवंबर २०१० (UTC)

इस नेक प्रस्तुति के लिये साधुवाद। हम शीघ्र ही अनुवाद के लिये आपसे सहायता मांगेंगे। -- अनुनाद सिंहवार्ता १२:४०, १६ नवंबर २०१० (UTC)
आप की प्रस्तुति हेतु धन्यवाद, किन्तु आप हैं कौन, कृपय बतायें। यानि अपने संवाद के अंत में अपने हस्ताक्षर करना न भूलें। इसके लिये ऊपर हस्ताक्षर के स्विच को दबायें अथवा मात्र --~~~~ लिख दें। सधन्यवाद: --ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागर  वार्ता  ०५:२१, १७ नवंबर २०१० (UTC)

आशीष जी मै हस्ताक्षर करना भूल गया था --अरूणेश दवे ०६:५७, १७ नवंबर २०१० (UTC)

एक बिनती विकिपीडिया के संस्थापक जिमी वेल्स से

यह लेख या कहें तो अनुरोध तमाम Grammatically और Practical गलतियो से भरा पडा हैं । क्या प्रबन्धक ध्यान देंगे --Logic १६:१८, १७ नवंबर २०१० (UTC)

प्रिय प्रबंधक साहब इसके लिये आप मेटा विकि पर सम्पर्क करे, क्योंकि यह संदेश वहीं से बनकर आ रहा है।--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १७:०८, १७ नवंबर २०१० (UTC)

धन्यवाद । मै वापस । इसी लिए मैने यह सवाल किसी प्रबन्धक से पूछा था किसि लेखक से नही। खैर । आपका कर्तव्य क्या कह्ता हैं ? केवल बाबूगिरी करके आप यह गलती दूसरो पर नही डाल सकते । संदेश कही से भी बन्कर आए उसे ठीक करना आपका काम हैं । जरा उसे पढे और दिमाक लगा कर काम करें --Logic ०७:०३, १८ नवंबर २०१० (UTC)

दूसरो को भाषा ज्ञान देने से पहले स्वयं उसे ग्रहण करे, यदि आपने दूसरों के लेख छोड़ कभी अपने वाक्यों में हिन्दी की अशुद्धियाँ देखी होती तो आज आपकी हिन्दी उत्कर्ष पर होती। बात रही मेरे कर्तव्य की तो वह तो यह भी है कि आप (जो अपने छदम खाते से इस विकि पर संपादन कर इसकी नीतियों को भंग कर रहे है।) पर कार्यवाही करुं परन्तु आपके भूतपूर्व प्रबंधकिय एवं समाज सेवा के कार्यों को देखते हुए मेरा कर्तव्य मुझे ऐसा करने से रोकता है।
खैर यह सब तो समस्त विकियों पर चलता ही रहता है परन्तु हिन्दी विकि पर किसी सदस्य पर कार्यवाही का प्रचलन बहुत कम रहा है जो इसके कम बर्बरता रहित एवं निरपेक्ष होने का प्रमाण है, मैं आपसे यही अनुरोध करुँगा कि आप जैसे वयक्तित्व को इस विकि पर रचनात्मक लेख बनाने में अपनी उर्जा लगानी चाहिये, किसी भी विकि पर किसी भी सदस्य को जबर्दस्ती कार्य नहीं थोपा जा सकता यह उसकी रुची एवं कार्य में व्यस्त होने पर निर्भर है। अत: आप ऐसा कोई भी कार्य देखते है तो उसे पहले स्वयं करने का प्रयास करे यदि उस कार्य को करने में आप असमर्थ है तब जाकर किसी अनुभवी सदस्य अथवा प्रबंधक की सहायता ले, शुभकामनाएँ--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  ०९:२५, १८ नवंबर २०१० (UTC)
अरे वाह एक तो काम नही आता दूसरे धमकी देते है। मैने पहले ही कहा है कि मै यहां विकि के नियम के अनुसार लिखता हुँ । किसी के पिता जी भी मुझे नही रोक सकते यह आप भी ठीक से जानते हैं । मेरे जिस प्रबन्धकिय रूप की आप बात कर रहें है आप उसे ही क्यो नही ब्लोक कर देते (जैसा आपने पहले भी कहा है)। प्रबन्धक होने के नाते आपके जो काम है वो करे वरना दूसरे ज्ञानवान हिन्दी जानने वाले लेखको को लिखने का और अपनी बात कहने का मौका दे और अपनी ठेकेदारी बंद करें -- Logic ११:२७, १८ नवंबर २०१० (UTC)
प्रिय मित्रों व हिन्दी विकि के शुभचिन्तकों आपसे सादr निवेदन है कि चौपाल पर शांति बनाये रखें। जिमि वेल्स के संदेश को एक बार बन्द कर देने पर वह शायद दोबारा नहीं खुलता है। शायद इसी कारण से मयूर जी को संपादन करने का अवसर नहीं मिल पाया होगा। फिर भी यदि लॉजिक जी लॉजिक लगा कर उस का लिंक बता दें तो अवश्य सुधार संभव होगा। --ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागर  वार्ता  १२:१२, १८ नवंबर २०१० (UTC)
कोई भी कार्य करने के लिये कोई भी देखता है कि वह कार्य कितना महत्वपूर्ण है। प्रबंधक यदि उक्त संदेश की गलतियों को ठीक नहीँ कर पाये हैं तो इसका कारण है कि या तो उन्हे वह संदेश महत्वपूर्ण नहीं लगा या उनके पास समय की कमी है। 'लॉजिक' महोदय से निवेदन है कि समय निकालकर गलतियाँ सही कर दें। इससे यह झगड़ा अपने आप खत्म हो जायेगा और एक अच्छा काम भी हो जायेगा। -- अनुनाद सिंहवार्ता १३:०४, १८ नवंबर २०१० (UTC)
लिंक http://meta.wikimedia.org/wiki/Fundraising_2010/Appeal/hi हैं। अगर आप मुझे प्रबन्धकिय अधिकार दें तो मै और अधिक 'लॉजिक' से काम कर सकूंगा--Logic १४:३०, १८ नवंबर २०१० (UTC)
प्रबंधक बनने के लिये आप अपना नाम प्रस्तावित करें या कोई दूसरा आपके काम को देखते हुए आपका नाम प्रस्तावित करे। उस पर बहुमत की प्रतिक्रिया यदि सकारात्मक होगी तो आप प्रबंधक बन जायेंगे। -- अनुनाद सिंहवार्ता ०३:२६, १९ नवंबर २०१० (UTC)

जिमि वेल्स के संदेश का सुधार

जिमी वेल्स के संदेश का भाग यहां लिखा है। सदस्य:लॉजिक या कोई भी अन्य इसे सुधा कर बतायें। इसे सही होने पर वापस वहां सुधार/पेस्ट कर दिया जायेगा।

नमस्कार, दस साल पहले जब मैनें लोगों से विकिपीडिया के बारे में बोलना शुरु किया तो मुझे बहुत ही हास्यप्रद एवं अजीब दृष्टिकोण मिले।

बस यह कहिये कि कुछ व्यापारिक हस्तियों को इस बात का संश्य था कि क्या दुनिया के कोने कोने से स्वयंसेवक सागररुपी ज्ञान का भंडारगृह बना पायेंगे वह भी सबको सरलता से बाँटने के लिये। ना विज्ञापन, ना मुनाफा, ना कोई ऐजंडा।

आज इसकी स्थापना के दस साल बाद, अड़तीस करोड़ से ज्यादा लोग या लगभग एक तिहाई इन्टरनेट से जुड़ी़ दुनिया हर महिने विकिपीडिया का उपयोग करती है।

यह दुनिया की पाँचवी सबसे लोकप्रिय वेबसाइट है अन्य चार अरबो डालर के निवेश, विशाल कॉरपोरेट कर्मचारी और सतत विपणन के परिणाम स्वरुप बनी है। लेकिन, विकिपीडिया एक वाणिज्यिक वेबसाइट की तरह कुछ भी नहीं है, यह एक समुदाय की बनायी एवं कई स्वयंसेवकों द्वारा एक एक करके लिखी गयी है। आप हमारे समुदाय का हिस्सा हैं और आज मैं आपको यह संदेश विकिपीडिया के संरक्षण और इसके अस्तित्त्व को बनाये रखने के लिये लिख रहा हूँ। ताँकि हम सब एक साथ मिलकर इस ज्ञानकोष को निःशुल्क एवं विज्ञापन मुक्त रख सके, इसे मुक्त रख सके ताँकि आप बेझिझक हर तरह से इस ज्ञानकोष का प्रयोग कर सके, इसे निरंतर बढा सके ताँकि हर कोई इसमें अपना योगदान देकर इस ज्ञानकोष के प्रकाश को दूर दूर तक फैला सके।

हमारे इस संयुक्त उद्यम को बनाए रखने के लिये हर वर्ष इस समय हम आप और आप जैसे कई लोगों को विकिपीडिया समुदाय में $ 20, $ 35, $ 50 या अधिक राशि का एक मामूली दान देने के लिये अपना संदेश देते है।

अगर आप विकिपीडिया को ज्ञान और प्रेरणा का स्रोत समझते हैं - तो मैं आशा करता हूँ कि आप अभी इसका समर्थन करेगे।

इसके साथ ही सबको शुभकामनाएँ
जिमी वेल्स
संस्थापक, विकिपीडिया
अनुलेख - विकिपीडिया हम जैसे लोगों की शक्ति के बारे में असधारण कार्य करने के लिये है। हमारे जैसे लोग विकिपीडिया लिखते हैं, एक शब्द एक समय पर। हमारे जैसे लोग इसका समर्थन करते हैं, एक दान एक समय पर। यह दुनिया को बदलने की हमारी सामूहिक क्षमता का सबूत है।

कार्रवाई की प्रतीक्षा में: --ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागर  वार्ता  ०५:५५, १९ नवंबर २०१० (UTC)

logic या कहें राजीव मास

logic जी आप यहाँ के किसी अनुभवी प्रबंधक का छदम रुप है इसकी पुष्टि विकिमीडीया स्टीवर्ड्स पहले ही कर चुके है और मेरे कहने पर वो यहाँ इसकी पुष्टि करने भी आ जायेंगे। आपकी यहाँ के पुराने प्रबंधक राजीव मास के छदम खाते के रुप पुष्टि की गयी थी। आपके ऊपर कार्यवाही करने के लिये केवल हमारे पास विकिनीतियाँ नहीं थी परन्तु अब वो १० सदस्यों के निर्विरोध समर्थन के साथ बन चुकी है अत: मैं आपका एवं आपके छदम खाते दोनो खातों को अवरोधित करने जा रहा हूँ यदि राजीव मास जी को इसकी पुष्टि में कुछ कहना है तो कृपया कहे

हाँ इससे पहले मैं सभी सदस्यों को किसी सदस्य का छदम खाता पकड़ने की विधि बताना चाहूँगा, इसकी तीन विधियाँ है-

  • १) विकिमीडिया स्टीवर्ड्स की मदद से दोनो खातो की चेक युजर जाँच जिसमें यह पुष्टि की जाती है कि क्या दोनो सदस्य के आई पी समान है एवं दोनों सदस्य एक ही संगणक प्रयोग करते है और एक ही ब्राउजर का प्रयोग करते है के नहीं
    • इस जाँच में राजीवमास एवं लाजिक दोनो के खाते समान पाये गये, दोनों एक ही संगणक प्रयोग करते है एवं एक ही ब्राउजर, इसके साथ दोनों के आई पी भी समान पाये गये
  • २) दूसरी जाँच को ड्क टेस्ट कहते है हालाँकि छ्दम खाते वाल सदस्य यह पूरी कोशिश करता है कि वह गलत सलत भाषा लिखे जिससे उस पर किसी को शक न हो परन्तु इस टेस्ट में यह देखा जाता है कि क्या दोनों खातों द्वारा लिखनें में की जाने वाली त्रुटियाँ समान है के नहीं
    • इस जाँच में भी दोनों खाते समान निकले दोनों ही सदस्य एक पंक्ति लिखने के बाद स्पेस देकर पूर्ण विराम लगाते है।
  • ३) तीसरी विधि है यह है कि दोनों सदस्यों के लेखों में रुचि को देखा जाता है इसके लिये यहाँ देखें
    • इस टेस्ट में भी दोनों सदस्य समान पाये गये

अब वैसे तो हमारी विकिनीतियों के अनुसार दोनों सदस्यों को अवरोधित कर देना चाहिये परन्तु फिर भी मैं लाजिक, राजीव मास एवं अन्य प्रबंधको की इस विषय पर विचार जानना चाहूँगा--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  ०५:०२, १९ नवंबर २०१० (UTC)

अरे वाह । अब आप मुझे और राजीव मास को तुरन्त ही प्रतिबन्धित कर दें । और जल्दी से एक बिनती विकिपीडिया के संस्थापक जिमी वेल्स से को भी ठीक कर दें ।--Logic ०५:१५, १९ नवंबर २०१० (UTC)
लाजिक जी थोड़ा धैर्य रखें, हाँ और ऊपर अनुनाद जी पर "चोरी और सीना जोरी" की टिप्पणी कर आप विकि की पर्सनल अटैक की पालिसी को भंग कर रहे है। ऐसा मत करे, कृपया थोड़ा इन्तजार करे अन्य लोगो को इस विषय पर टिप्पणी करने दें, आपके १२२.१२१-१२५.-.- वाले मित्र का भी टिप्पणी करने के लिये स्वागत है।--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  ०६:११, १९ नवंबर २०१० (UTC)
मजे की बात यह है कि यहाँ सारे प्रबन्धक "पर्सनल अटैक" की दुहाई देते फिरते हैं और दूसरो को डराते रहते हैं खुद चाहे जो कहें । मेरे जिस मित्र की जो बात आपने कही है आपको उसके बारे में भी संकेतो से नही साक्ष्यों से प्रमाण देना चाहिए । मै प्रतिक्षा में हूं --Logic ०७:३५, १९ नवंबर २०१० (UTC)
मजे की तो कई बाते हो सकती है परन्तु वो मजे लेने वाले पर निर्भर है। मैं आपकी कहानी कुछ इस प्रकार कहूँगा कि जब जनवरी में मुनिता जी ने कई सदस्यों को बार्न स्टार देने का प्रस्ताव रखा तो एकदम से एक नये सदस्य लाजिक ने प्रवेश किया यह कहकर कि वो अंग्रेजी विकिपीडीया से है(जबकि अंग्रेजी विकि पर उसका कोई खाता नहीं)। उसने मुनिता जी समेत कई महिला सदस्यों पर लैंगिक टिप्पणी भी की। राजीव मास भी उस समय अचानक प्रकट हुए उन्होनें सबको अपना समर्थन भी दिया परन्तु उनको किसी भी बार्न स्टार के लिये नामांकित न करने के कारण मुनिता जी को परेशान करना आरम्भ किया और लाजिक के रुप में अपने नाम की सिफारिश भी की(यहाँ देखें फिर एक और आई पी से अपने कार्य की अनुसंशा की(यहां देखें, पहले लिखा फिर मिटा दिया कि कहीं आई पी पकड़ा न जाये), साथ में यह भी देखा गया कि राजीव मास ने प्रस्ताव को समर्थन देने के १ घंटे बाद लाजिक के रुप में केवल मुनिता जी का विरोध किया।
इन सब बातों ने मुझे राजीव मास एवं लाजिक का ड्क एवं चेक युजर टेस्ट कराने के लिये प्रेरित किया, और इन दोनों में ही दोनों सदस्य एक सिद्ध हुए। उस समय यहाँ कोई ऐसा प्रबंधक नहीं था जो इन टुल्स के बारे में या इनका प्रयोग करना जानता हो, परन्तु मुझे इन सबका ज्ञान था अत्: मैनें इनका प्रयोग भी किया। अब यदि राजीव मास जी अपनी सफाई में कुछ कहना चाहते है तो अवश्य कहें--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  ०९:१०, १९ नवंबर २०१० (UTC)
अंत में, मैं लाजिक एवं राजीवमास के खाते को चेक युजर टेस्ट एवं हमारी विकिनीतियोँ के आधार पर ब्लाक करता हूँ, क्योंकि सारे सबुत एवं चेक युजर टेस्ट इन दोनों सदस्यों के खिलाफ है। अंग्रेजी विकि में तो केवल चेक युजर टेस्ट के बिनाह पर ही सदस्यों को अवरोधित किया जाता रहा है परन्तु हिन्दी विकि में ऐसा पहली बार हो रहा है इसलिये मैनें लगभग ३ माह का समय लिया सोचा कि शायद थोड़ा संकेत देने पर यह साहब समझ जाये परन्तु इन्होने कोई सकारात्मक परिवर्तन नहीं दिखाया। इससे पूर्व भी यह प्रबंधक साहिब वी के वोहरा नामक सदस्य द्वारा छदम खाते के रुप में आरोपित हो चुके है परन्तु उस समय इन टुल्स के बारे में किसी प्रबंधक को कोई ज्ञान नहीं था। मेरे विचार में मैनें लाजिक उर्फ राजीइवमास जी को सुधरने का पूरा मौका दिया परन्तु इन्होनें अपना बर्ताव नहीं बदला। साथ में राजीवमास जी प्रबंधक अधिकार से भी मुक्त किये जाते है। इसका कारण छ्दम खाते से निरंतर एवं लम्बे समय से असक्रियता है। हमारी विकि नीतियों के अनुसार राजीवमास जी के पिछले २ वर्षों में ५०० से कम संपादन रहे है एवं वह कई बार अपने छदम खाते का दुरुपयोग करके विकिनीतियों का उल्लंघन कर चुके है। हिन्दी विकि पर आगे से ऐसा न हो इसलिये इन नीतियों का पालन अत्यावश्यक है।--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  ०५:२७, २० नवंबर २०१० (UTC)

सदस्य लॉजिक का व्यवहार

सदस्य लॉजिक को अनेक चेतावनियाँ देने के उपरांत उनके खाते को कई वैध अनैतिक कारणों के मद्देनजर प्रशासक मयूर ने अवरोधित किया है। इस अवरोध को विकिनीतियों के अंतर्गत्त किया गया है। पर्याप्त नीतियों के अभाव में विकिपीडिया की लोकतांत्रिक प्रक्रिया के अनुसार प्रत्येक कार्य हेतु बहुमत जुटाना पढ़ता था, किन्तु नीतियों के बाद अब उसकी आवश्यकता नहीं रह जाती है, बशर्ते कि कार्य नीतियों के अंतर्गत्त किया गया हो। जैसा की विदित ही है, उन्होंने दोनों सदस्यों पर की गई कार्रवाई की संबंधित नीतियां बतायी ही हैं। काफी समय से समयाभाव के कारण मैं यहां अधिक सक्रिय नहीं हो पाया हूं, किन्तु हां चौपाल आदि से अवगत रहता ही हूं।

सदस्य लॉजिक ने अवरोध उपरांत एक बहुत ही गलत कां आरंभ किया है, जिसे हिन्दी विकिपीडीया में शायद कोई संज्ञा देना कठिन होगा। ये है दलित, दलित का नाम लेकर वे चाह रहे हैं कि शायद कुछ लोग दलित नाम से इनके पक्ष में आ जायेंगे और मयूर आदि का विरोध करने लगेंगे। इनकी सूचना हेतु ये बताय़ा जाता है कि हिन्दी विकिपीडिया में दलित या आरक्षण जैसी कोई नीति नहीं है।
इनको कड़ी व अंतिम चेतावनी दी जाती है कि इस काम से बाज आयें व कभी दोबारा ऐसे शब्दों या अर्थों का प्रयोग न करें, अन्यथा कार्रवाई के लिये स्वयं उत्तरदायी होंगे। इनका योगदान तो खैर क्या बताया जाये, हां गति-अवरोधक के रूप में अतुलनीय है। ऊपर जिस अनुवाद हेतु इन्होंने इतना शोर मचाया है, उसका सुधार अभी तक नहीं कर पाये हैं। अतएव हमें इनसे अन्य कोई अपेक्षा भी नहीं है। यदि अन्य किसी स्थापित सदस्य को इस पर आपत्ति हो तो अवश्य लिखें, या मेरी वार्ता पर बतायें। विकि की नियमावली के अधीन निवारण/समाधान अवश्य होगा।

स्वस्थ विकि वातावरण के हित में ये वार्ता अब यहीं समाप्त हो जानी चाहिये। धन्यवाद। --ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागर  वार्ता  ०९:५७, २० नवंबर २०१० (UTC)

लाजिक जी को अवरोधित करने के बाद मैनें पुन उनको एक प्रस्ताव दिया था कि यदि वह अपना व्यवहार सुधारते है तो उनके एक खाते को(राजीव मास या लाजिक) को अवरोधन से मुक्त कर दिया जायेगा, परन्तु उनके व्यवहार से ऐसे कोई संकेत नहीं मिल पा रहे। दूसरी बात कि यदि वह मेरे ऊपर किसी प्रकार की कोई कार्यवाही चाहते है तो विकिमीडीया स्टीवर्ड्स से सम्पर्क करे और अपना कारण बताये, वैसे मैनें उनसे राय लेने के बाद ही राजीवमास एवं लाजिक को अवरोधित किया है। जिस स्टीवर्ड ने लाजिक एवं राजीव मास का चेक युजर टेस्ट किया था उसका सदस्य पृष्ठ यहाँ है, यदि किसी को किसी प्रमाण की आवश्यकता है तो वह यहाँ से ले सकता है। बाकि यदि राजीव मास जी अपनी सफाई में कुछ कहना चाहते है तो वह अपने वार्ता पृष्ठ पर अपना संदेश रख सकते है। यहाँ सब कुछ विकिनीतियों के अनुरुप किया गया है। --यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १०:३९, २० नवंबर २०१० (UTC)

मैंने चौपाल पर सदस्य लॉजिक द्वारा अन्य सदस्यों पर की जा रही टिप्पणियों को पढा़। इन टिप्पणियों को देखकर लगता है कि लॉजिकजी को केवल नकारात्मक टिप्पणियां ही करना आता है। मयूरजी द्वारा किए गए परीक्षण में यदि ये सदस्य छद्म पाए गए हैं तो इन्हें प्रतिबन्धित कर देना चाहिए। लॉजिक जी आपकी टिप्पणियों को देखकर तो यही लगता है कि आपको कोई सकारात्मक कार्य आता ही नहीं और आपका योगदान भी ना के बराबर है। आप एक ऐसा लेख गिना दें जो आपने अपने बूते पर बनाया हो और उसे विकि मानको पर खरा माना जाए।

और दूसरी बात यह की आपकी टिप्पणियों पर अन्य सदस्यों की भी लम्बी-२ बहस आरम्भ हो जाती है। जितनी ऊर्जा आपको उत्तर देने में लगाई जाती है उससे तो ३-४ छोटे-छोटे लेख बन सकते हैं। और फिर आपकी बहस का कोई मर्म भी नहीं निकलता केवल समय खराब करनेवाली बात है। यदि आपकी बातों में कुछ परामर्श, सकारात्मक टिप्पणियां इत्यादि भी होतीं तो भी कोई बात बनें। अब जैसे मेरी टिप्पणी ही देख लीजिए बिना किसी बात के मैं लिख रहा हूँ, इसलिए मैं भी आप पर प्रतिबन्ध लगाए जाने का समर्थन करता हूँ। कृपया अपना विध्वंसात्मक कार्य बन्द कीजिए और यहाँ सकाराय्मक भूमिका निभाइये। हाँ जैसा मयूरजी ने कहा यदि आप कुछ सकारात्मक काम करना ही चाहते हैं तो अवश्य आपका एक खाता प्रतिबन्ध मुक्त किया जाना चाहिए। रोहित रावत १४:२२, २१ नवंबर २०१० (UTC)

प्रतिबन्ध नहीं यह हैं एक षड्यन्त्र

मुझे मालूम था कि एक दिन ऐसा ही होगा । मैने किसी को परेशान नही किया वरन उन मुद्दो को उठाया जो मुद्दे मेरा एक हिन्दी लेखक होने के नाते अधिकार था । मैने वेल्स के लिखे बयान को ठिक करने के लिए प्रबन्धक आषीश के कहने पर लिंक भी प्रोवाइड किया था लेकिन इन सबके मन में एक ही फांस थी कि मुझे मुद्दे उठाने से रोका जाए ।

मैने कोई बर्बरता नही कि । हाँ, आवाज उठाना आता हैं । मैने दलित साहित्य पर एक पूरी विवेचना तैयार की थी लेकिन कथित उच्च वर्ण लोगो ने मुझे प्रतिबन्धित कर दिया । यहाँ एक ऐसा षड्यन्त्र खेला गया है जो मुझे अब समझ में आ रहा है-
मै लगातार प्रबन्ध्को का ध्यान गलत लेखो पर दिला रहा था। साथ ही राजीव मास, जो पिछले दो-तीन वर्षो से यहां से त्रस्त होकर चले गए थे । उन्होने दलित विषयों को बहुत सुन्दर तरीके से हिन्दी विकि में सजाना प्रारन्भ किया । इन कथित ऊच्च वर्ण के लोगों को लगा कि अब तो दलितो के भी पन्ने बनाने लगे है तो वो राजीव मास को यहां से हटाने का प्रयत्न करने लगें । जब वे यहां नही नही है तो बहाना बना कर उन्हे भी प्रतिबन्धित कर दिया गया । खेर मुझे पता है कि ये मेरा यहां शायद अंतिम संवाद हैं । मैं जाति प्रथा को बहुत ही करीब से जानता हुँ । जाति प्रथा के विरूध जो भी काम करता है उसका यही अंजाम होता हैं, उसे या तो डरा दिया जाता है या मार दिया जाता हैं । लोग संविधान के डर से सामने तो कुछ नही कर पाते लेखिन बहाने से ही अपनी भडास निकालते हैं । जैसा मेरे साथ हुवा । आज भी ये कथित उच्च वर्ण के लोग पर्दे के पीछे से, किसी अन्य तथ्य की आड लेकर अभी भी वही काम कर रहें है जो हजारो साल पहले करते थे । दिखाने के लिए बेचारे प्रबन्ध्क ठाकुर के खाते से भी खिल्वाड करने लहे हैं , ताकि उस सवाल का जवाब दे सहें जो हिन्दी विकि से SC/ST Comission पूछ सकता हैं । मजे कि बात यह है कि अब ऐसे लोग हिन्दी विकि पर अपनी लाम्बन्दी शुरु कर रहे है जैसा इन सद्स्य रोहित रावत की बात से जाहिर हिता हैं । ऐसे में एक नई को भी ये लोग अमली जामा पहनाना शुरू करने का सोच रहें होगें ।
ये सभी जानते है कि मेरे समय समय पर उठाए मुद्दो को मानकर इस प्रबन्धक मयूर कई बार माफी भी मांग चुके हैं । अब मेरे अन्न्य जायज मुद्दो के सामने वो झेंप हए हैं अनुरूप ही उनका कथित वर्ण समर्थक मनस्त जाग उठा । मेरे प्रबन्धक के आवेदन का सुनते ही मयूर फिर झेप गए जिसे अनुनाद सिंग ने सकारत्मक तरिके से लिया था । ऐएसा होने पर तो मयूर बुरी तरह से घबरा गए और सोचने लहे कि अगर लाजिक भी प्रबन्ध बन गया तो वो राजीव मास के साथ मिल्कर हिन्दी विकि पर अनेल दलित विषयों पर लिखेगा और उनका कथित वर्चस्व टूट जाएगा ।
प्रबन्धक आशिष ने आरक्षण की बात कर इस सोच को और बल दिया है । मैने कभी भी यहा आरक्षण की बात की है । आजादी के ६० सालो से अधिक सालो के बाद भी ऐसे लोग दलितो को उनकी दक्षता, मेहनत और शिक्षा से नही बल्की आरक्षण से जोडते हैं । उनकी यह पिप्प्णी विकि के पन्नो में अंकित हो चुकी है और अब ऐसी ही लिखित शिकायत में होने जा रही हैं ।
मयूर के मेरे ऊपर लगए सभी आरोप केवल विभिन्न तरिकों से चतुराई और तकनिकि के मजेदार मेल और कथित सांठ-गाठ और वक्त और समय के अनोखे मशीनी सामंजस्य पर आधारित हैं (यह मै पहले ही अपने लेख में साफ कर चुका हुँ)।
अब एक क्रांति होगी ताकि ऐसे लोगो का पर्दाफाष हो सकें । मै जानता हुं कि यहा के अनेक लेखक सरकारी नौकरियो में है । हिन्दी विकि पर सभी मुफ्त के कार्य्कर्ता हैं हिन्दी विकि का संविधान भारत सरकार के कोस्ट्टियुशन से बडा नही हो सकता । यह सभी समझ लें । यहां ऐसी टिप्प्णियों पर कर्य्वाही संभव है जो जातिगत हो।
मुझे तत्काल ही प्रबन्धन से हटा दिया जाए । ताकि मैं हिन्दी विकिपिडीया पर अपनिति के अनुरुप सर्जन कर सकूं ।

--लाजिक (एक प्रतिबन्धित लेखक, आई पी आद्रेस के द्वारा)

सदस्य लॉजिक को पहली भी चेतावनी दी जा चुकी हैं, और फिर ये प्रतिबंधित बी किये गए हैं। यहां ये आवश्यक नहीं था किन्तु फिर भी इनके पाठ को देखते हुए ध्यानयोग्य होगा कि सदस्य:लॉजिक नाम से किसी को ज्ञात नहीं है कि ये किस जाति, धर्म, वर्ण आदि के हैं। ना हि सदस्य:राजीव के नाम से ज्ञात होता है। इस स्थिति में किसी की निजी आकांक्षा इनको हटाने की हो यह सिदध ही नहीं हो सकता है। वरन ये कहना उचित होगा कि ये संभव ही नहीं है। हां ये अवश्य सिदधह ोता है कि लॉजिक अपनी हीन भावनाओं को यहां दलित संबंधी बिन्दु से जोड़कर अपनी किसी स्वार्थी आकांक्षा की पूर्ति चाह रहे हैं, और संभव न होने पर----- खिसियाई बिल्ली खम्भा नोचे।।।।। --ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागर  वार्ता  ०४:४८, २२ नवंबर २०१० (UTC)

चौपाल पर अनर्गल टिप्पणी बाबत

चौपाल पर लाजिक द्वारा की गयी दलित संबंधित टिप्पणी को हटाया जाना चाहिये ऐसी टिप्पणियो को देखकर वर्ग विशेष के लोगो को विकि हिन्दी के विषय मे गलतफहमी हो सकती है --अरूणेश दवे ०७:५४, २२ नवंबर २०१० (UTC)

इस बात का पूर्ण समर्थन है, किन्तु पर्याप्त समर्थन या कुछ समय किसी भि वार्ता को हटाने से पूर्व मिलना चाहिये। --ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागर  वार्ता  ०८:०३, २२ नवंबर २०१० (UTC)
लाजिक को यह अन्तिम चेतावनी है कि इस प्रकार की अनर्गल टिप्पणियाँ चौपाल पर मत लिखे, अन्यथा इसकी आई पी रेंज को अवरोधित करना पड़ सकता है--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  ०८:०६, २२ नवंबर २०१० (UTC)

चौपाल पर अनर्गल टिप्पणी बाबत

चौपाल पर लाजिक द्वारा की गयी दलित संबंधित टिप्पणी को हटाया जाना चाहिये ऐसी टिप्पणियो को देखकर वर्ग विशेष के लोगो को विकि हिन्दी के विषय मे गलतफहमी हो सकती है --अरूणेश दवे ०७:५४, २२ नवंबर २०१० (UTC)

इस बात का पूर्ण समर्थन है, किन्तु पर्याप्त समर्थन या कुछ समय किसी भि वार्ता को हटाने से पूर्व मिलना चाहिये। --ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागर  वार्ता  ०८:०३, २२ नवंबर २०१० (UTC)
लाजिक को यह अन्तिम चेतावनी है कि इस प्रकार की अनर्गल टिप्पणियाँ चौपाल पर मत लिखे, अन्यथा इसकी आई पी रेंज को अवरोधित करना पड़ सकता है--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  ०८:०६, २२ नवंबर २०१० (UTC)

लाजिक के तथ्य एवं उनका जवाब

  1. मयूर ने मेरे और राजीव मास के दलित योगदानो पर खींज के साथ टिप्प्णि की ।
    1. उत्तर- जिस लिंक ने आपको यह सोचने पर विवश किया वह मुझे विकिमीडीया स्टीवर्ड jyothis ने दिया था। अत आपका आरोप निराधार है।
  2. आशीष ने सर्व्प्रथम "आरक्षण" शब्द का प्रयोग किया, जो दलितो पर सीधी जातिगत टिप्प्णी थी ।
    1. उत्तर-आशीष जी ने केवल आपको विकिनीतियों से अवगत कराया
  3. जानबुझकर मेरे पुराने संवादो को क्षिपा दिया गया, ताकि संवाद का सन्दर्भ ना लिया जा सके ।

इस प्रकार के के तथ्य सिद्ध करते है कि हिन्दि विकि पर किस प्रकार का घिनोना कुचक्र चल रहा हैं । मयूर और आशीष दोनो ही हिन्दी तो जानते नही उल्टा हिन्दी विकि पर अपनी तानाशाही चला रहे हैं ।

    1. उत्तर- सदस्य अरुणदवे के सुझाव एवं आपकी टिप्पणियाँ अनुचित होने के कारण ऐसा किया गया
  • Steward ने मुझे बताया है कि जिस प्रकार के आरोप मयुर ने मुझ पर लगाए हैं ऐसा तो विकि पर आम है ।
    • उत्तर- पहली बात आपने किसी Steward से बात नहीं की, परन्तु आपकी एक बात सही है कि चेक युजर टेस्ट एवं इसके बिनाह पर सदस्यों को ब्लाक करना हर श्रेष्ठ विकि पर आम है
  1. भारत जैसे देश में जहां कम्प्युट इन्टनेट के लिए डिवोटिड लाइन नही है वहां पर नेट का आई पी अडेस बदलता रहता है । शायद तुक्के मे मयूर ने जानबुझ कर कोई आई पी अडेस मैच कर लिया होगा और षडयन्त्र बना कर मुझे लपेट लिया और मुझे प्रतिबन्धित कर दिया ।
    1. उत्तर-इसका जवाब चेक युजर टेस्ट ही है समान ब्राउजर, समान कम्पयूटर एवं समान आई पी और समान लेखन त्रुटियाँ बस इतना काफि है।
  2. Steward ने यह भी बताया कि अंगरेजी विकि में तो कोलेजो के एक ही कम्प्युटर पर ५०-५० प्रबन्धक और प्रशासक और लेखक प्रयोग करते हैं ।
    1. उत्तर- हाँ पर ये तो हिन्दी विकि है जहाँ ऐसा नहीं होता यहा तो कुल १६ प्रबंधक है। वैसे इसका जवाब भी चेक युजर टेस्ट ही है समान ब्राउजर, समान कम्पयूटर एवं समान आई पी और समान लेखन त्रुटियाँ, एक साथ उपस्थिति।
  3. Steward ने यह भी बताय कि अनेक बार प्रशासक अपने को गुट मे बाटकर गुटबन्दी करते है और विपक्षी लेखको प्रबन्धको जो उनकी बाते नही मानते, को आरोपित करते रहते है । इसका उदाहरण है कि अनेक पुराने विकिभाई हिन्दी विकि को छोड गए हैं ।
    1. उत्तर-भाईयों का तो मुझे पता नहीं परन्तु हमारी कई बहनें आपकी लैंगिक टिप्पणियों की वजह से विकि छोड़ कर अवश्य चली गयी है।
  4. Steward ने बताया कि आपके केस में जाति भावना हावी हैं और आपको डा अम्बेडकर से इस प्रकार के कुचक्रो का सामना करना सिखना चाहिए ।
    1. उत्तर- हाँ पर क्या Steward ने यह नहीं बताया कि अम्बेडकर जी से शांति, सद्भावना एवं सत्य की सम्रद्धि सीखनी चाहिये।
  5. Steward ने मुझे बताया कि आप केवल मुफ्त के योगदानकर्ता है और विकि के संविधान में आप किसी भी प्रकार से बाहर्री सरकारी संस्थाओं को शिकायत नही कर सकते। विकि इस बारे में पहले ही डिस्लक्लेमर दे देता हैं । (इसि लैए मैने गैर् सरकारी संगठनो से सहायता मांगी हैं)
    1. उत्तर- बस इतना कहूँगा "सत्यमेव जयते"
  6. मयूर ने राजीव मास को प्रतिबन्धित करने का सही समय चुना जब वे यहां नही हैं ।
    1. उत्तर-- आज सुबह ही उन्होने मेरे ईमेल का जवाब भेजा मैनें उन्हे ईमेल पर चौपाल पर आकर अपनी सफाई देने को कहा है। वैसे राजीव मास ३ माह पूर्व भी नहीं थे आपका चेक युजर टेस्ट काफि पहले कराया जा चुका है परन्तु मैनें सोचा कि शायद आप सुधर जायें।

-लौजिक

लाजिक द्वारा ऊपर बताये गये वाक्य कोरी कल्पना के अलावा कुछ भी नहीं, मैं इन्हे पहले भी बता चुका हूँ कि इनका चेक युजर टेस्ट मैने नहीं अपितु दो विकिमीडीया स्टीवर्ड्स ने मिलकर किया था उस टेस्ट में उन्होने मुझे बताया कि यह सदस्य लाजिक राजीवमास है। किसी भी विकि में केवल चेक युजर टेस्ट की बिनाह पर किसी सदस्य के दोनों खातों को अवरोधित किया जा सकता है। मैनें ३ माह प्रतिक्षा की, देखा की लाजिक की उत्पत्ति कब और कैसे हुई तो पता चला कि जनवरी २०१० के आरम्भ में जब प्रबंधक मुनिता जी ने कई सदस्यों को बार्नस्टार देने के लिये नामांकित किया तब एकदम से एक नये सदस्य लाजिक एवं कई दिनों से सुप्त प्रबंधक राजीवमास प्रकट हुए। सदस्य लाजिक ने यह कहकर कि वो अंग्रेजी विकिपीडीया से है(जबकि अंग्रेजी विकि पर उसका कोई खाता नहीं) मुनिता जी समेत कई महिला सदस्यों पर लैंगिक टिप्पणी भी की(पर क्यों, क्योंकि राजीव मास जी को मुनिता जी ने बार्न स्टार के लिये नामांकित नहीं किया। इसलिये बार बार उन्होने लाजिक के रुप में अपने नाम की सिफारिश भी की (यहाँ देखें फिर एक और आई पी से अपने कार्य की अनुसंशा की(यहां देखें पहले लिखा फिर मिटा दिया कि कहीं आई पी पकड़ा न जाये)। राजीव मास भी उस समय अचानक प्रकट हुए उन्होनें सबको अपना समर्थन भी दिया परन्तु उनको किसी भी बार्न स्टार के लिये नामांकित न करने के कारण मुनिता जी को परेशान करना आरम्भ किया और साथ में यह भी देखा गया कि राजीव मास ने प्रस्ताव को समर्थन देने के १ घंटे बाद लाजिक के रुप में केवल मुनिता जी का विरोध किया।

मेरे विचार से इतने सबुत काफि थे आज सुबह ही राजीव मास जी का ईमेल मुझे प्राप्त हुआ जिसमें उन्होने अपने अकाउन्ट को अनब्लाक करने को कहा मैनें उन्हे चौपाल पर आकर अपनी सफाई देने को कहा है क्योंकि जब तक राजीव मास खुद आकर कोई सफाई नहीं देते, मेरे लिये क्या किसी के लिये भी यह विश्वास करना बहुत मुश्किल है कि ये दोनों सदस्य एक नहीं । क्योंकि विकि पर पाये जाने वाले समस्त परीक्षण यही सिद्ध करते है और जिस लिंक पर लाजिक एवं राजीवमास के समान रुचि वाले लेखों को प्रदर्शित किया गया था वह भी मुझे विकिमीडीया स्टीवर्ड jyothis ने दिया था। आप सभी जिसको इस परीक्षण के विषय में थोड़ा बहुत भी संदेह हो तो विकिमीडीया स्टीवर्ड jyothis' से इसका प्रमाण ले सकते है। दूसरी बात कि लाजिक ने किसी भी स्टीवर्ड से बात नहीं की, लाजिक महोदय के वाक्यों में झुठ की सफेदी के अलावा कुछ नजर नहीं आ रहा।

परन्तु अब लगता है कि वी के वोहरा वाला इतिहास फिर से दोहराने के मोड़ पर है(क्योंकि लाजिक ने नया खाता logic1 खोल लिया है) जिसमें सदस्य लाजिक कई खाते बनायेंगे और हिन्दी विकि की प्रबंधक अपना समय बर्बाद करते रहेंगे, परन्तु मैं विश्वास दिलाता हूँ कि इस बार ऐसा कुछ नहीं होगा हिन्दी विकि किसी भी तरह की बर्बरताकारी से निपटने के लिये तैयार है। अभी हाल के लिये मैनें लाजिक का नया खाता लाजिक२ भी ब्लाक कर दिया है, शेष इसके बाद देखते है।--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १८:४३, २२ नवंबर २०१० (UTC)

सदस्य लॉजिक की तर्कहीन टिप्पणियाँ

लॉजिकजी आप एक बात समझ लीजिए कि यहाँ कोई राजनीति का मैदान नहीं है जो आप वोट बटोरने के लिए जातिवाद को बीच में ले आए हैं। आपको क्या लगता है कि ऐसी तर्कहीन बातें लिखकर आप किसी की सहानुभूती बटोर पाएंगे? ऐसा नहीं है। आज भारत के लोग पहले से कहीं अधिक समझदार हैं और वे जानते हैं कि आप जैसे ओछे लोग अपने स्वार्थों की पूर्ति के लिए कभी जात तो कभी धर्म विशेष को बीच में ले आते हैं, जैसे कुछ वर्ष पूर्व इमरान हाशमी ने किया था मुम्बई में किसी सोसायटि में बंगला मिलने को लेकर। यदि आपको जातिभेद अनुभव हुआ था तो आपने पहले यह बात क्यों सबके सामने नहीं रखी? अब इस बात को बीच में लाना वास्तव में आपकी ही सोच का परिचायक है। आप कुछ भी लिख लें हिन्दी विकिपीडिया तो प्रगति करती ही रहेगी और आप जैसे विध्वंसात्मक सदस्यों पर प्रतिबन्ध भी लगता रहेगा। मैं लॉजिक जी के किसी भी कथन पर अन्तिम बार टिप्पणी कर रहा हूँ क्योंकि इनकी बातों पर टिप्पणी करना समय बर्बाद करना ही है। लॉजिक के एक कथन पर न जाने कितने सदस्यों को उत्तर देना पड़ जाता है और लम्बी-चौडी बहस आरम्भ हो जाति है जो व्यर्थ है क्योंकि ये तो अपनी हरकतों से बाज आने वाले नहीं हैं। और जहाँ तक रही बात महान दलित लोगों पर लेखों की तो बाबा भीमराव अम्बेडकर पर और अन्यों पर भी लेख बनें हुए हैं। आप बताइये की आपने कितने लेखों में या लेखों का योगदान दिया है? आपने एक तर्क दिया है गुटबाजी का जिसके कारण (आपके अनुसार) बहुत से विकिभाई और विकिबहने यहाँ से चले गए हैं। तो इसका कारण यह है कि विकिपीडिया एक स्वतन्त्र और निष्पक्ष मंच है जिसपर लिखते रहने के लिए कोई भी बाधित नहीं किया जाता। लोग अपनी इच्छा से आते है, योगदान देते हैं और फिर गायब हो जाते हैं। ऐसे तो अंग्रेजी, जर्मन, रूसी, जापानी जैसी विकियों पर भी सैकडो में नहीं बल्कि हजारों की संख्या में सदस्य आते-जाते रहते है। तो क्या वहाँ भी जातिवाद कारण है? नहीं न? तो फिर। आपके द्वारा जातिभेद का व्यर्थ आरोप आपको प्रतिबन्ध मुक्त तो नहीं करेगा, हाँ उल्टे आप पर ही मानहानि का मुकद्दमा दायर किया जा सकता है हिन्दी विकि के सदस्यों और प्रबन्धकों पर आधारहीन आरोप लगाने का। और यदि आपको जातिभेद फिर भी लगता है तो क्यों नहीं आप यह मुद्दा विकिमीडिया बैठकों में उठाते, जो समय-समय पर भारत में भी आयोजित होती रहती हैं?रोहित रावत १५:४८, २२ नवंबर २०१० (UTC)

हाँ यहां पर मेरी मानहानि हुई है,और साथ ही राजीव मास कि भी मै इसका भी जवाब लुंगा। मजे की बात ये है कि दलित लेखो के मामले में आप भी केवल डा अम्बेडकर का नाम ही गिना पाए । अगर वास्तव में आप इस समस्या का कारण खोजेंगे तो आपको पता लगेगा कि यही समस्या है । मै दलित लेखो को बढाने के लिए कृत्संकल्प हुं ।
मुझे उपर लिखे तथ्यों का जवाब चाहिए बस, ऐसा इन दोनो ने कैसे किया और क्युं ?

-लाजिक्

प्रिय लाजिक जी। मुझे लगता है कि अनेक एकाउंट बनाने के कारण और उसमें बहुत जादा इनभाल्भ होने के कारण आप मल्टिपल परसनालिटी डिसआर्डर के शीकार हो गए/गई हैं। अगर आपने ध्यान नहीं दिया तो शायद कल आप जेंडर आइडेंटिटी डिसार्डर के भी शिकार हो जाएंगए। कम से कम आपकी अनर्गल प्रलापों को देखकर तो यही लगता है कि अभी आपका रोग आरंभिक अवस्ता मे है और आपको आराम करना चाहिए। मैं भी एक दलित लेखक हूँ और आपके इस फालतू प्रपंच में नहीं पड़ना चाहता (विकी पर मुझे कभी भी जातिगत बेइमानी नहीं दिखी सिवा आपके चपड़ चपड़ के) फीरभी आपको एक नेक सलाह दे रहा हूँ कि कृपया विकी की इस ज्ञान सरिता को अपने सड़े हुए विचारों से दुषीत न करे। करोड़ो लोगा इसे रेफेरेंस के रूप में पढत है। अगर आपके दिल दिमाग में तनिको भी राष्ट्रभक्ति भाषा सेवा की भावना हो तो अब बस करें। आपका भलाई चाहने वाला - मेटालॉजिक


लॉजिक काण्ड वाला अंश चौपाल से कहीं छुपाया नहीं गया है। यह अंश सामान्य चौपाल पुरालेख प्रक्रिया के यहय चौपाल/पुरालेख०२१ को भेजा गया है। ऐसा हर बार चौपाल पृष्ठ भर जाने पर किया जाता है।
यहां अनेक दलित लोगों के लेख बने हुए हैं, किन्तु उन्हें किसी दलित दृष्टि स४ नहीं बनाया गया है, वरन जैसे कोई अन्य वैसे ही वे लोग। जैसे मीरा कुमार, अर्जुन मुडा, और अनेक अन्य। अतः किसी का नाम लिखने की आवश्यकता नहीं रह जाती।
इसके अलावा यदि ये दलित लोगों पर लेख लिखने के कृतसंकल्प ही हैं तो इनका स्वागत है। मैं ये वादा करता हूं, कि यदि इन्होंने सांसद मीरा कुमार पर २५० शब्दों का आलेख अर्हक लेख बना दिया तो मयूर से कह कर इनका प्रतिबंध हटवा दूंगा।
और यदि इतन्मा भि इनके बस की नहीं तो ये दलित दलित कहकर शब्द का अपमान न करें। इनका उद्देश्य मात्र इस शब्द को उछालकर सनसनी फैलाना और अपना उल्लू सीधा करना मात्र रह जाता है। इससे अधिक लिखने को कुछ नहीं है। --ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागर  वार्ता  ११:०२, २३ नवंबर २०१० (UTC)
ध्नयावद माई बाप , सिफारिश के लिए । वैसे आपको पता हि होगा कि मीरा कुमार कौन हैं । उनका लेख बानाने में आप के हाथ भी मेले तो नही हो जाएंगे ना । आप ही क्यो नही लिख कर अपने पापो का प्राश्चित क्यों नही कर लेते । मुझे तो आपने कुचक्र चला कर प्रतिबन्धित कर दिया हैं

-लौजिक्

लाजिक जी अब आप हिन्दी विकि पर हमेशा के लिये अवरोधित कर दिये गये है। आपके बर्ताव में कोई परिवर्तन नहीं है। इसके साथ में समस्त प्रबंधकों एवं सदस्यों से अनुरोध करुँगा कि लाजिक के किसी प्रशन का कोई उत्तर मत दें जैसा रोहित जी ने कहा कि यह केवल समय की बरबादी होगी। मैनें लाजिक पर पूर्ण रुप से प्रतिबन्ध लगा दिया है। इसके वाबजूद यदि किसी तरीके से यह यहाँ अपनी टिप्पणी देता है तो उसे यहाँ से हटा या रोलबैक कर दें, अंग्रेजी विकि पर यही किया जाता है। अब तक लाजिक के कई खाते जैसे Rajeevmass, Logic, Logic1, Logicc, Anila आदि अवरोधित कर दिये गये है। इसके अब लाजिक को और कोई मौका नहीं दिया जायेगा मैनें अब तक सिर्फ इसलिये लाजिक पर पूरी तरह प्रतिबन्ध नहीं लगाया था कि शायद वह अपनी गलती स्वीकार करे परन्तु बार बार लीगल थ्रेट्स देकर उसने हिन्दी विकि की कई नीतियों को भंग किया है। परन्तु अब यह मामला वीके वोहरा की तरह होता चला जा रहा है जिसमें लाजिक ने कई खाते खोलना आरम्भ कर दिया है अत: अब मैं लाजिक पर पूर्ण रुप से प्रतिबन्ध लगाता हूँ--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १७:४५, २३ नवंबर २०१० (UTC)
"में एक दलित लेखक हूं उपरोक्त संवाद को पढकर पता चला कि किस प्रकार हिन्दी विकि प्रबन्धक राजीव मास ने लौजिक् नामक चालू खाता बनाकर हिन्दी विकि एवं दलित समूदाय के मु पर कालिख पोत दी, आशीष-मयूर जी द्वारा किये गये चेक यूजर टेसट ने यह सिद्ध कर दिया कि लौजिक् राजीव मास है। इसके लिये ये दोनों प्रसंसा के पात्र है कि किस तरह महिला सदस्यों पर टिप्पणी करने वाले प्रबंधक राजीव कुमार(लौजिक्) का परदा फास हुआ। राजीव द्रारा बार बार लाजिक के रुप में दलित समुदाय का मजाक बनाया गया अत्: हम सब दलित मिलकर राजीव कुमार के खिलाफ शिकायत दर्ज करवायेंगे, हिन्दी विकि के प्रबन्धको से अनुरोध है कि वे इन राजीव कुमार उर्फ लाजिक जो दलित वर्ग का मजाक बनाने में लगे हुए है को अवरोधित कर दें साथ ही आशिष एवं मयूर जी से यह अनुरोध है कि वे चेक युजर से मिले इन दोनो सदस्यों के पते हमे दे जिससे इनके खिलाफ कार्यवाही की जा सके। हिन्दी विकि प्रशासको एव प्रबन्धको से निवेदन है कि हिन्दी विकि के इस मंच पर दलित वर्ग का नाम इस प्रकार मत उछ्लने दे-एक दलित पुलिस कर्मी एवं लेखक
आदरणिय लेखक महोदय हम अपनी तरफ से पूरी कोशिश कर रहे है लाजिक एवं राजीवमास को रोकने की, मैनें राजीव मास को रोज ईमेल किये है कि चौपाल पर आकर अपना मत रखें परन्तु अब वो अपना पासवर्ड भूल जाने का बहाना बना रहे है। इस बारे में अब मैंने उन्हे अन्तिम ईमेल संदेश भेज दिया है यदि वह तब भी नहीं आते तो उनका खाता पुन: अवरोधित कर दिया जायेगा। आपसे अनुरोध है कि लाजिक या कहे राजीव जी को क्षमा कर दें। इस प्रकार की घटनाएँ अंग्रेजी विकि पर आम है जहाँ रोजाना चेक युजर टेस्ट की बिनाह पर समान पाये जाने वाले सदस्यों को अवरोधित कर दिया जाता है हाँ बस इससे पहले सदस्य को तीन चेतावनियाँ दे दी जाती है पर हमनें तो लाजिक को कई चेतावनियाँ दे दी थी। आपको यह विश्वास दिलाया जाता है कि हिन्दी विकि पर दलित शब्द का और मखौल नहीं बनने दिया जायेगा, धन्यवाद एवं शुभकामनाएँ--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १९:५१, २५ नवंबर २०१० (UTC)

ऐसे लेखों का क्या किया जाये

नमस्कार प्रिय विकि मित्रों, उपरोक्त लिंक हिन्दी विकि पर उपस्थित १०००० अत्यंत छोटे लेखों को दर्शाता है। यह लेख अधिकतर बहुत पहले बर्बरता पर या अंग्रेजी शीर्षक पर या कई तो एक या दो शब्दों के एकदम निरर्थक बने हुए। हालाँकि हमारी हिन्दी विकि में कुल ५७००० के आस पास लेख है परन्तु आप देख सकते है कि इनमें १०००० -१५००० बिना किसी महत्त्वपूर्ण सूचना पर अधारित है। जिससे रेन्डम सर्च टेस्ट में हमारे प्रोजेक्ट की गलत छवि जाती है। अत: क्या ऐसे लेखों को हटा दिया जाये अथवा कोई अन्य विकल्प चुना जायें। कृपया सभी प्रबंधक एवं सक्रिय सदस्य इस विषय पर अपना सुझाव रखें--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १३:४५, २९ नवंबर २०१० (UTC)

मेरे विचार से इनमें से जो लेख बिल्कुल ही व्यर्थ है या बर्बरता पर अधारित है उन्हे हमें हटा देना चाहिये, इसमें हमें लगभग २०००-३००० लेखों की क्षति होगी।--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १४:१४, २९ नवंबर २०१० (UTC)


 Yes check.svg  मेरा मयूरजी की बातों को पूरा समर्थन है। इस बात पर बहुत बार पहले भी आमराय बनाई जा चुकी है कि छोटे-छोटे बहुत से लेख बनाने से तो किसी विषय पर विस्तृत लेख बनाए जाने चाहिए फिर चाहे संख्या में कम ही क्यों न हों। ऐसे लेखों का भला क्या प्रायोजन जिससे पढ़ने वाला और चिढ़ जाए? दरसल इन लेखों में से अधिकतर पिछले वर्ष बनाए गए होंगे क्योंकि सभी लोग मिलकर हिन्दी दिवस तक लेखों को ५०,००० के पार पहुँचाना चाहते थे जिस कारण बहुत से ऐसे छोटे लेख बनाए गए। मेरे विचार से भी इन लेखों को हटाने का काम तुरन्त किया जाना चाहिए या फिर एक सदस्य समूह बनाकर इन लेखों के विस्तारीकरण और सुधारीकरण का काम किया जाना चाहिए क्योंकि लेख एकदम मिटाने से भी तो लेखों की संख्या में बहुत तीव्र गिरावट आएगी, हालांकि तब भी हम लोग सभी भारतीय भाषाओं के विकियों से आगे ही होंगे क्योंकि दूसरे सबसे बडे भारतीय भाषा के विकि, तेलुगू विकि पर अभी ४७,००० लेख भी नहीं हुए हैं। इसलिए जिन लेखों का विस्तार/सुधार सम्भव नहीं है उन्हें तो हटाया जाए लेकिन जिन्हें विस्तृत किया जा सकता है उन्हें किया जाए। यह मेरी राय थी। अन्य सदस्य भी अपनी राय रखें। रोहित रावत १०:४२, ३० नवंबर २०१० (UTC)

ये बात काफी सार्थक रहेगी, उन बिन्दुओं को ध्यान में रखते हुए जो मयूर ने कहे हैं। किन्तु इनमें से बहुत से लेख ऐसे भी हैं, जिन्हें किसी आलेख या निर्वाचित लेख बनाते हुए सहायक लेख, या लाल कड़ी को नीली करने हेतु बनाया गया होगा। और उन्हें हटाने से निर्वाचित लेख आदि में लाल कड़ियां आ सकती हैं। अतएव इस प्रकार से छटनी करनी चाहिये कि पहले प्रत्येक लेख को यहां क्या जुड़ता है, लिंक के द्वारा जुड़े हुए लेखों को देख कर यदि कहीं कोई अंतर न पड़ रहा हो, तभी हटाना चाहिये। हां बहुत से लेख तो ऐसे ही होंगे जैसे कि जयचंद, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, इंदिरा पाइंट एवं व्यवसाय प्रशासन में स्नातक, आदि। इन्हें तो एक सिरे से ही हटा देर्ना चाहिये। इन लेखों की सूची हेतु देखें: छोटे पन्ने। अधिकतम कार्य तो इससे ही सिद्ध हो जायेगा।--ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागर  वार्ता  ११:५६, ३० नवंबर २०१० (UTC)
मेरे विचार से हमें हिन्दी विकि की गति बढने के साथ इन लेखों को हटाते रहना चाहिये मुझे विकिमीडीया के ही एक सदस्य ने यह सुझाव दिया कि हिन्दी विकि पर इस प्रकार के लेखों को हटाया जाये क्योंकि इससे हमारे प्रोजेक्ट की गलत छवि जाती है। हमारे विकि पर अब प्रतिमाह औसतन ७०० अच्छे लेख बन रहे वह भी बिना किसी बर्बरता वाले इनमें से २००-३०० लेखों का योगदान गुगल ट्रांसलेट उपकरण का प्रयोग करने वालों के होते है। अत: इस गति को ध्यान में रखकर हमें इन लेखों को हटाना चाहिये ताकिं हमारी हमारी लेख सांख्यकी पर कोई असर ना पड़े। अभी के लिये सबसे अच्छी बात यह है कि हमें हर माह ७०० अच्छी गुणवत्ता के लेख मिल रहे है।--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १३:५७, ३० नवंबर २०१० (UTC)
मेरे विचार से इन लेखों को हटाने के बारे में सभी लोग सिद्धान्ततः सहमत होंगे। किन्तु किस प्रकार हटाया जाय, इस बारे में अलग-अलग सोच हो सकती है। मेरा विचार है कि-
  • इन लेखों को एक साथ न हटाया जाय बल्कि शनैः-शनैः हटाया जाता रहे।
  • प्रतिमास लगभग १००-२०० लेख हटाने का विचार ठीक रहेगा। इससे हिन्दी विकि के लेखों में एकाएक गिरावट नहीं दिखेगी बल्कि ऐसा दिखेगा कि लेखों की संख्या निरन्तर बढ़ रही है।
  • किसी लेख को हटाने के पहले देख लिया जाय कि यदि उसी के संगत अंग्रेजी में कोई लेख हो, या उस नाम का लेख बाद में बनाना आवश्यक दिखे, तो उस लेख को हटाने के बजाय उसे अंग्रेजी लेख के इंतरविकि लिंक्स में जोड़ दिया जाय तथा उस हिन्दी लेख में दो-तीन वाक्य जोड़कर उसे बने रहने दिया जाय।
  • ऐसे लेख जो अंठ-संठ नामों से हों या विध्वंसात्मक दिकें, उन्हें हटाने में प्राथमिकता दी जाय या तुरन्त हटा दिया जाय। -- अनुनाद सिंहवार्ता ०४:३९, १ दिसंबर २०१० (UTC)

Contribute Campaign-Fundraiser 2010

Hi everyone, I wanted to inform everyone about the ongoing Contribute campaign for this year's fundraiser. As part of the campaign, we want to drive up participation on the Indian language Wikipedias, We have created a page on Meta where we can discuss and brainstorm Ideas on what we can do to improve Indian Language Wikipedias. I would like to invite anyone who is interested in contributing to join in, and share their thoughts. Thank you. [2]Theo (WMF) १७:४९, ३० नवंबर २०१० (UTC)

कीबैक

दिनेशजी आपने कनाडा के इस प्रान्त के ध्वज और राज्यचिह्न से सम्बन्धित लेखों के नाम क्यों बदल दिए? आपने कीबैक के स्थान पर क्यूबेक कर दिया है। आपने शायद इस शब्द को देखकर इसका यह नाम हिन्दी में भी रख दिया है। दिनेशजी इस प्रान्त को फ़्रान्सीसी में, जो इस प्रान्त की प्रमुख भाषा है, कीबैक कहा जाता है, नाकि क्यूबेक जैसा आपने नाम रख दिया है। अङ्ग्रेज़ी में भी इसे कुइ'बैक कहा जाता है नाकि क्यूबेक और ज़रूरी नहीं कि हर बार विदेशी स्थानों के नाम अङ्ग्रेज़ी से लिए जाएं। इसलिए इस प्रान्त का सही नाम कीबैक होगा नाकि क्यूबेक। और दूसरी बात यह कि आपने बहुत से शब्दों को भी बदल दिया है जैसे अङ्ग्रेज़ी को अंग्रेज़ी कर दिया है। आपने जो शब्द लिखा है वह हिन्दी व्याकरण और मानकों के अनुसार सही नहीं है। हाँ यह बात सही है कि हिन्दी लिखने के सन्दर्भ में सरकार ने कैसे भी शब्द को लिख देने की छूट दे दी थी लेकिन मेरा प्रयास है कि मानकों के अनुसार भाषा लिखी जानी चाहिए फिर भले ही कोई शब्द लिखने में कितना ही अलग सा क्यों न दिखे। दरसल यहाँ पर फिर से मानकीकरण पर बहस आरम्भ हो सकती है। विश्व के बहुत से देशों ने अपनी-अपनी भाषाओं का मानकीकरन कर लिया है। यह तो बस हमारा ही अनोखा देश है जहाँ किसी चीज़ का मानकीकरण नहीं होता और जिसकी जो मन करता है लिखते रहता है। मेरे विचार से यह सही नहीं है क्योंकि शब्दों को अपने मन से लिखकर कम हिन्दी भाषा की उस सबसे बड़ी विशेषता को ही झुठला देते है जो यह है कि हिन्दी जैसी बोली जाती है वैसी लिखी जाती है या जैसी लिखी जाती है वैसी बोली जाती है। हाँ मैं किसी को मानक के अनुसार लिखने के लिए बाध्य नहीं कर रहा हूँ लेकिन मेरा मानना तो यह है कि किसी भाषा का विद्वान होने के लिए उस भाषा के व्याकरण और मानकों का आपको ज्ञान होना चाहिए। बल्कि हमें तो हिन्दी भाषियों को इस बात से अवगत कराना चाहिए कि हमारी भाषा कितनी वैज्ञानिक और सही है जिसमें वर्तनी और उच्चारण का कोई भ्रम नहीं है। इसलिए कृपया मानक के अनुसार लिखे गए शब्द को देखकर, जैसे अङ्ग्रेज़ी, यह न समझें कि यह गलत ढङ्ग से शब्द लिखा गया है। आशा करता हूँ कि आप इसे अन्यथा नहीं लेंगे। धन्यवाद। रोहित रावत १७:५६, ५ दिसंबर २०१० (UTC)

रोहित जी हो सकता है आप सही हों क्योंकि आप ने इन लेखों को बनाने से पहले शोध किया होगा पर एक बात मैं आपको बताना चाहता हूँ कि समय के साथ भाषा और लिपि दोनों मे परिवर्तन आता है आप जानते होंगे जब हम छोटे थे तो झ को भ के पीछे पूँछ लगा कर लिखते थे इसी तरह अ भी प्र की तरह लिखा जाता था पर जब हिन्दी के लिए लिपि का मानकीकरण किया गया तो इस तरह के सभी प्रयोग बंद हो गये आपने जैसे अङ्ग्रेज़ी लिखा है वो तरीका हिन्दी में अब मान्य नहीं है लेकिन नेपाली जैसी भाषाओं में अभी भी चलता है। हिन्दी में इसे अंग्रेजी या अंग्रेज़ी ही लिखा जाता है। जहां तक कीबैक या क्यूबेक का प्रश्न है तो आपको ज्ञात होना चाहिए कि हिन्दी में इसे सभी स्थानों पर क्यूबेक ही लिखा जाता है ना कि कीबैक। हो सकता है कि फ्रांसीसी में इसका उच्चारण कीबैक हो पर हमें इसके हिन्दी उच्चारण की चिंता करनी चाहिए ना कि फ्रांसीसी उच्चारण की। हिन्दी में छपने वाले सभी अखबार और पत्रिकायें क्यूबेक ही लिखती हैं इसका प्रमाण आपको गूगल सर्च से भी मिल सकता है। मेरे हिसाब से हमें वो नहीं लिखना चाहिए जो हमें सही लगता है बल्कि असल मे वो क्या है उसी को तरजीह देनी चाहिए। आशा करता हूँ कि आप इसे अन्यथा नहीं लेंगे। धन्यवाद। Dinesh smita १५:३७, ९ दिसंबर २०१० (UTC)
मेरे विचार से इस समस्या का हल पुनर्निर्देशन करना है जैसे प्रबंधक एवं प्रबन्धक यह दोनों नाम ही प्रचलित है अत: दोनों में से एक पर पुनर्निर्देशन दिया जाना चाहिये। इसी प्रकार यदि कीबैक नाम से पहले से कोई लेख बना हुआ है तो क्यूबेक को उस पर पुनर्निर्देशित किया जा सकता है। इससे हर प्रकार के पाठकों को सहायता मिलेगी। शुद्ध हिन्दी एवं प्रचलित नाम दोनों का अपना अपना महत्त्व है शुद्ध हिन्दी से किसी भाषाविद् विद्वान पाठक को एवं प्रचलित नाम से समान्य पाठको को लेख खोजने में अत्यंत सुविधा रहेगी--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १८:०९, ९ दिसंबर २०१० (UTC)
मयूर जी आप बिल्कुल ठीक कह रहे हैं किंतु, ऐसा करने से करने पर भी हमें इस बात का ध्यान रखना होगा कि, अंतिम पुनर्निर्देशन हिन्दी का कोई मानक शब्द ही होना चाहिए ना कि कोई स्वविचारित शब्द।Dinesh smita ०७:४३, १० दिसंबर २०१० (UTC)
मेरा सभी प्रबुद्ध सदस्यों से आग्रह है कि इस मुद्दे पर मूक दर्शक ना बने रहें अपितु अपने विचार दें कि हमें इस मामले में क्या करना चाहिए? मुझे नहीं पता फ्रांसीसी (सबसे आम तरीका) को फ़्रांसीसी को फ़्रान्सीसी लिखने से क्या बदलेगा? जहां जर्मन जैसी भाषायें अपने शब्दों की वर्तनी को दुरुस्त कर रही हैं, अमेरिकन अंग्रेजी की वर्तनी, ब्रिटिश अंग्रेजी के मुकाबले अधिक सरल है, वहां हिन्दी को आज से 70 साल पुराने तरीके से लिखना कहां तक उचित है?Dinesh smita ०७:५८, १० दिसंबर २०१० (UTC)
यदि ऐसा है तो अधिक प्रचलित नाम को अधिक महत्त्व देना चाहिये, क्योंकि विकिपीडीया का पहला मुख्य उद्देश्य ज्ञान का प्रसार करना है यदि वह ज्ञान शुद्ध भाषा में हो तो उसकी शोभा और निखर जाती है। हमारे देश में समस्त हिन्दी भाषियों में से लगभग .1% लोगो को ही शुद्धतम हिन्दी का ज्ञान होगा, बाकि ९९.९% लोग समान्य बोल चाल की हिन्दी पर चलते है। परन्तु हिन्दी के अस्तित्त्व को बचाय्रे रखने के लिये हमें हिन्दी के शुद्ध शब्दों का भी विकिपीडीया के द्वारा प्रचार करना चाहिये हाँ ये अवश्य ध्यान रखा जा सकता है कि वह शब्द कोई स्वविचारित शब्द न हो। इस प्रकार दोनों शुद्ध एवं अधिक प्रचार वाले शब्दों पर पुनर्निर्देशन देकर हम आम वर्ग एवं विद्वान वर्ग दोनों का हित कर सकते है।--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १०:१७, १० दिसंबर २०१० (UTC)

भाषा वैज्ञानिक दृष्टि से रोहित जी का मत सही है किंतु भाषा समाज की संपत्ति है और एक सीमा के बाद भाषा के विपथन को अपवाद के रूप में व्याकरण और भाषा विज्ञान को मान्यता देनी ही होती है। दिल्ली विश्वविद्यालय में राष्ट्रभाषा के अंतर्गत स्नातक प्रथम वर्ष को पढ़ाई जाने वाली पुस्तक में प्रसिद्ध सांस्कृतिक विमर्शकार श्यामाचरण दूबे का एक निबंध है 'अस्मिताओं का संघर्ष'। उसमें भी कनाडा के क्यूबेक प्रांत का ही उल्लेख है। अनिरुद्ध  वार्ता  ०३:४२, ११ दिसंबर २०१० (UTC)

काफ़ी बाद में इस चर्चा में जुड़ रहा हूं, क्षमाप्रार्थी हूं। मेरा मत भी वही है, जो इस विषय पर बहुमत है। क्या सही है, और क्या शुद्ध है, इन दोनों में अंतर हो सकता है। शुद्ध का ज्ञान होना बहुत अच्छी बात है, किन्तु समय के साथ अद्यतन होते रहना चाहिये, यही विकास का परिचायक होता है, अन्यथा हम मैं को पुरानी हिन्दी फिल्मों की भांति बोलचाल में मैएं ही बोलते रहते। ऐसे ही आवो, जावूंगा, इत्यादि। हां अपभ्रंशों के स्थान पर सही शब्दों/मूल शब्दों को प्राथमिकता देनी चाहिये, किन्तु सभि तद्भवों के स्थान पर तत्सम नहीं चल सकते हैं। अतएव हमें अङ्ग्रेज़ी छोड़कर अंग्रेज़ी सरीखे शब्द सहृदयता सहित अपना लेने चाहिये।--ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागर  वार्ता  ११:४६, १४ दिसंबर २०१० (UTC)

नोट:- निम्नलिखित वार्ता कुछ अधिक लम्बी है इसके लिए क्षमा चाहता हूँ।

सभी सदस्यों के विचार पढ़े। इस विष्य पर अपने-२ विचार रखने के लिए सभी सदस्यों का हार्दिक धन्यवाद। मैंने सदस्यों की राय को देखते हुए उपरोक्त लेख का नाम क्यूबेक कर दिया है। साथ ही में इस लेख से सम्बन्धित अन्य लेखों में भी बदलाव कर दिया है। मैं सभी सदस्यों की इस राय से सहमत हूँ लेकिन भाषा मानकीकरण के बारे में मेरी राय कुछ भिन्न है। दिनेशजी आपने यह तर्क दिया है कि फ़्रांसीसी को फ़्रान्सीसी लिखने से क्या बदलेगा? दिनेशजी आप ही ने यह भी सुझाया है कि मेरे हिसाब से हमें वो नहीं लिखना चाहिए जो हमें सही लगता है बल्कि असल मे वो क्या है उसी को तरजीह देनी चाहिए। यहाँ पर मैं एक बात स्पष्ट करना चाहता हूँ कि मैं वह नहीं लिख रहा था जो मुझे सही लगा बल्कि मैं तो वह लिख रहा था जो सही था। चलिए कीबैक या क्यूबेक विवाद पर मैं आपकी बात से सहमत हूँ कि हमें अंग्रेज़ी या फ़्रान्सीसी उच्चारण पर नहीं अपितु हिन्दी उच्चारण के आधार पर लिखना चाहिए और इन दोनों ही भाषाओं में क्यूबेक का उच्चारण अलग-अलग है। इसके लिए मैंने कीबैक को बदलकर क्यूबैक कर दिया है।
लेकिन जो आपने दूसरा तर्क दिया है कि जिस प्रकार आजकल हिन्दी लिखी जा रही है हमें उसी प्रकार लिखनी चाहिए। तो इस सन्दर्भ मैं यह कहना चाहूँगा कि किसी भाषा को लिखने के बहुत से ढंग होते है, और जो भाषा जितनी व्यापक होती है वह उतनी ही विविध रूपों में पाई भी जाती है। फिर भी किसी भाषा का एक मानकीकृत रूप होता है जो उस भाषा के नियमों और व्याकरण को ध्यान में रखकर मानकीकृत माना जाता है। जैसे कि अङ्ग्रेज़ी, फ़्रान्सीसी, रूसी, स्पेनी, अरबी जैसी भाषाएँ बहुत से देशों में बोली जातीं है और इन भाषाओं के भी विविध स्वरूप पाए जाते हैं लेकिन यदि आप ध्यान दें तो आप पाएंगे कि इन भाषाओं का मानकीकरण किया जा चुका है। इसलिए अङ्ग्रेज़ी का वही स्वरूप मानक माना जाता है जो ब्रिटेन या अमेरिका में प्रचलित है। इसी प्रकार फ़्रान्स में बोली जाने वाली फ़्रान्सीसी ही मानक मानी जाती है और स्पेन में बोली जाने वाली स्पेनी, और इन देशों के निवासी अपनी-अपनी भाषाओं के नियमों का पालन भी करते है जैसे कि वे अपने-अपने देशों के अन्य नियमों का करते हैं। दिनेशजी आपने यह भी लिखा है हिन्दी में छपने वाले सभी अखबार और पत्रिकायें क्यूबेक ही लिखती हैं। तो आप यह बताइए कि किस अखबार और पत्रिका की हिन्दी मानक समझी जाए या किसके द्वारा बोली जा रही हिन्दी को मानक माना जाए? अब मैं आपको बताता हूँ कि फ़्रांसीसी को फ़्रान्सीसी लिखने से क्या बदलेगा?। जैसा कि आप जानते ही होंगे कि हिन्दी भाषा या देवनागरी लिपि में लिखित किसी भी भाषा की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इन भाषाओं में एक शब्द की केवल एक ही वर्तनी होती है। उस शब्द को जैसे लिखते हैं वैसे ही बोलते हैं और जैसे बोल्तए है वैसे ही लिखा भी जाता है। यानी कि हिन्दी में वर्तनी भ्रम तो होना ही नहीं चाहिए था। लेकिन मानकों का पालन न किए जाने के कारण आज हिन्दी में बहुत से शब्द (विशेषकर) बिन्दी वाले शब्दों की वर्तनी को लेकर बहुत भ्रम है। हिन्दी में आजकल ऐसे सभी शब्दों पर एक बिन्दी लगा दी जाती है। अब मैं आपसे और अन्य सदस्यों से यह प्रश्न पूछता हूँ कि उदाहरण के लिए खंडन को क्या पढूँगा? क्या मैं इसे खण्डन पढूँ या खम्डन? इसी प्रकार मैं अंग्रेज़ी को क्या पढूँ, अङ्ग्रेज़ी या अन्ग्रेज़ी या अम्ग्रेज़ी? यही बहुवर्तनीयता अन्य बिन्दी प्रयुक्त शब्दों के उच्चारण को लेकर भी हो सकती है। अब सदस्य कहेंगे कि भई यह बात तो कोई भी हिन्दी जानने वाला बता सकता है कि किस शब्द को क्या पढ़ना है। दरसल हम हिन्दी भाषियों ने यह मान लिया है कि जो भी हिन्दी जानता है उसे यह सब बातें अपने आप पता चल जाएङ्गी कि बिन्दी वाले शब्दों को कैसे उच्चारित करना हैं। लेकिन ऐसा नहीं है। मुझे याद है जब हम लोग बचपन में हिन्दी सीखते थे तो मेरे मन में भी यह प्रश्न उठता था कि खंडन को खण्डन क्यों पढ़ा जाए खन्डन या खम्डन क्यों नहीं क्योंकि आधा न और म के लिए भी बिन्दी प्रयुक्त होती है। देनेशजी आप फ्रान्स और फ्रांस के उच्चारण के अन्तर को इन शब्दों के उच्चारण से समझ सकते हैं: फ़्रैंक और फ़्रैन्क पहले वाले शब्द में बिन्दी का उच्चारण गले से हो रहा है और दूसरे में जीभ ऊपर के तालू से लग रही है। और वैसे भी यदि आप स्वयं भी उच्चारण करके देखें तो पाएंगे कि बिन्दी वाले शब्दों का उच्चारण करते समय जीभ मुंह के विभिन्न भागों को छूती है जैसे गङ्गा में केवल गला थोड़ी देर के लिए बन्द होता है और जीभ हवा में रहती है इसी प्रकार कञ्चन, खण्डन, द्वन्द, और कम्पन सभी में जीभ मुंह के अलग-अलग भागों को छूती है। यह तो रही बात क से म तक के अक्षरों की। अब जहाँ तक य से ह तक के अक्षरों की बात है तो इनके भी उच्चारण से स्पष्ट हो जाता है कि आधा न आएगा या आधा म जैसे फिलीपींस और फिलीपीन्स का उच्चारण अलग हैं। वैसे ही फ़्रांस और फ़्रान्स का उच्चारण भी भिन्न है एक नहीं।

अब आपका एक अन्य तर्क है कि जो चीज़ प्रचलित हो उसे करना चाहिए। यानी कि आप कहना चाहते हैं कि यदि गलत हिन्दी लिखी जा रही है तो गलत ही सही मान लिया जाए? हमारे देश में तो वैसे भी किसी नियम-कानून, मानक को मानने का रिवाज़ नहीं के बराबर है जैसे कि यहाँ लोगों को सीटबेल्ट या हेलमेट (हेलमेट मैंने गूगल अनुवाद से लिया है) पहनने में कष्ट होता है, तो क्या सीटबेल्ट पहनने का नियम अमान्य घोषित कर दिया जाए? जब लोग उनकी अपनी ही सुरक्षा के लिए बनाए गए नियमों को ताक पर रख देते हैं तो भाषा को सही रूप में लिखना तो बहुत दूर की कौड़ी है। गङ्गा (सही) को गंगा (गलत) लिख देने से हाथ-पैरों को अधिक कष्ट नहीं देना पढ़ता इसलिए हमारे देश में आज हर नियम कानून ताक पर रख दिया जाता है कि जी हाथ-पैरों को अधिक कष्ट न देना पढ़े क्योंकि सीटबेल्ट या हेलमेट पहनने के लिए जो थोड़ा हाथ हिलाने पढ़ेंगे उससे अपार कष्ट होगा। अब भले ही गङ्गा शब्द दिखने में कितना ही अजीबोगरीब क्यों न दिखाई दे वह है तो सही वर्तनी न? गंगा को में गन्गा या गम्गा क्यों नहीं पढ़ सकता? दरसल इस सन्दर्भ में मुझे एक बहुत ही रोचक किस्सा याद आ गया है। आपने Nike कम्पनी का नाम सुना होगा? इसका उच्चारण क्या होता है? इसका उच्चारण है नाइकी। लेकिन बहुत से लोग इसे नाइक भी पढ़ते हैं। जैसे बाइक या काइट को पढ़ा जाता है क्योंकि लिखने में तो सारे एक जैसे हैं। इसी प्रकार do को डू पढ़ते हैं। तो इसी आधार पर go को क्षमा कीजिए गू पढ़ा जाना चाहिए। तो आ गया न उच्चारण दोष। यानि कि केवल २६ रोमन अक्षर जान लेने से आप अङ्ग्रेज़ी का कोई शब्द नहीं पढ़ सकते हैं। कदाचित इसीलिए देवनागरी लिपि को सन्सार की सबसे वैज्ञानिक लिपि माना जाता है क्योंकि इसमें शब्दों के उच्चारण के अनुसार ही वे लिखे जाते हैं और किसी नए हिन्दी सीख रहे व्यक्ति को केवल देवनागरी लिपि पढ़ना आना चाहिए वह कोई भी शब्द पढ़ सकता है। तो फिर क्यों हम लोग अपनी भाषा को लिखो कुछ, बोलो कुछ वाली भाषाओं का स्वरूप दे रहे हैं? यदि सारे हिन्दी भाषी मानक के अनुसार हिन्दी लिखें तो वर्तनी भ्रम की तो कोई गुंजाइश ही नहीं रहेगी।

और मानकीकरण के सन्दर्भ में जो सबसे महत्वपूर्ण तर्क है वह यह कि आज के कम्प्यूटर और अन्तरजाल युग में जहाँ ऑनलाइन यान्त्रिक अनुवाद ज़ोरों पर है, एक मानकीकृत भाषा को ही किसी दूसरी भाषा में सही ढङ्ग से अनुवादित किया जा सकता है। क्या आपने कभी सोचा है कि गूगल अनुवाद पर अङ्ग्रेज़ी, जर्मन, फ़्रान्सीसी, रूसी, स्पेनी इत्यादि भाषाओं का एक-दूसरे में और से अनुवाद इतना अच्छा क्यों होता है? क्योंकि यह सभी भाषाएं मानकीकृत हैं और इन देशों के लोग उन भाषा नियमों का पालन करते भी हैं। किसी अन्य भाषा से हिन्दी में या हिन्दी से अनुवाद एकदम हास्यास्पद और निरर्थक होता है। उसका कारण यह है कि गूगल का अनुवाद इञ्जन भी भ्रमित हो जाता होगा कि किस स्वरूप में अनुवाद करूं क्योंकि मानक तो है नहीं (दरसल हैं तो लेकिन उनका पालन नहीं किया जाता) और जिनका पालन किया जाता है उनका कोई स्वरूप निर्धारित नहीं हैं क्योंकि स्वरूप मानक का होता है मनमानी का नहीं। फिर वही बिन्दी वाली बात आ गई न कि गूगल इञ्जन सोचेगा कि मैं ruin का अनुवाद खण्डर करूं, खंडर, खम्डर, या खन्डर। हालांकि अभी खंडर शब्द आता है। अब कोई हिन्दी सीख रहा जापानी या कोरियाई भी खंडर देखकर यह सोचेगा कि इसका उचारण क्या होगा क्योंकि भले ही उसे देवनागरी की समझ हो लेकिन यह तो वर्तनी के उच्चारण की अस्पष्टता हो गई है। तो लगता है कि अब देवनागरी लिपि की भाषाओं के लिए भी आईपीए जैसी कोई पद्यति निकालनी होगी जैसी रोमन लिपि पर आधारित भाषाओं के लिए है क्योम्कि उन भाषाओं में शब्दों के उच्चारण और लेखन में कोई मेल नहीं है। लिखो कुछ और पढ़ो कुछ। दरसल देवनागरी लिपि और इसपर आधारित भाषाओं की सबसे बड़ी वैज्ञानिकता यही है कि इन भाषाओं में किसी शब्द की केवल एक ही वर्तनी हो सकती है और उसे वैसे ही पढ़ा भी जाता है। इसलिए फ़्रान्स और फ़्रांस में बहुत अन्तर है, वर्तनी का भी और उच्चारण का भी भले ही दोनों एक ही देश को सम्बोधित करते हों। आप संयुक्त और सन्युक्त का उच्चारण करके देखिए बात कुछ स्पष्ट हो जाएगी हालाङ्कि इस मामले में संयुक्त सही माना जाता है। इसी प्रकार सन्सद और संसद तथा सन्सार और संसार के उच्चारणों में भी बहुत अन्तर है। सन्सद में न स्पष्ट रूप से उच्चारित हो रहा है और जीभ ऊपर के दाँतों से लग रही है जबकि संसद में न कुछ अस्पष्ट सा है और गले से उच्चारित हो रहा है। इसलिए सन्सद और संसद व्याकरणिक रूप से एक नहीं हैं भले ही उनका उपयोग एक ही वस्तु के सन्दर्भ में किया जाता हो।

ये कुछ बारीकिया हैं भाषा-विज्ञान की। हालांकि मैं किसी को बाधित नहीं कर रहा हूँ मानक के अनुसार लिखने के लिए क्योंकि जिन लोगों ने ये लेख पढ़ने हैं वो भी मानकों से अनभिज्ञ हैं। लेकिन फिर भी मेरा प्रयास यह है कि मानक भाषाई स्वरूप बचा के रखा जाना चाहिए। और इसके लिए यह तर्क बिल्कुल कहीं नही ठहरता कि प्रचलित वस्तु को ही सही माना जाए जैसा मैंने आपको बताया कि कैसे हमारे देश में अन्य नियमों, मानकों इत्यादि की भी अनदेखी होती है। लेकिन अनदेखी किये जाने के कारण वे बातें अमान्य या गलत तो नहीं हो जातीं? नियम तो फिर भी अपने स्थान पर रहता ही है। और जहाँ तक आपने यह एक और बात कही है कि कैसे अपने बचपन में हम लोग को प्र जैसा लिखते थे। तो यह सुधार भी द्विअर्थतता के निवारण हेतु किया गया था।

कृपया कोई भी सदस्य मेरे द्वारा लिखी बातों को अन्यथा न ले। मैंने अपने केवल विचार लिखे हैं और मैं किसी पर कोई दोषारोपंण नहीं कर रहा हूँ। सदस्य अपने हिन्दी लिखने के वर्तमान ढङ्ग को जारी रखें। हिन्दी विकिपीडिया का एक सदस्य होने के नाते मैंने अपने विचार प्रस्तुत किए थे। फिर भी यदि किसी सदस्य को मेरी बातों से ठेस पहुँची हो तो मैं क्षमा चाहूँगा। धन्यवाद। रोहित रावत १५:००, १४ दिसंबर २०१० (UTC)

भारत और उसके निवासियों की तारीफ हमलोग वाली भाषा में करने से अनेक सुविधाएं मिल जाती है। लेकिन गाँव के एक स्कूल में पढ़ाए गए, हजारों साल पहले लिखे गए संस्कृत व्याकरण के कुछ नियम जो हिंदी व्याकरण में भी शामिल हैं, मेरा आज भी मार्गदर्शन करते हैं। अनुस्वार का उच्चारण उसके बाद वाले अक्षर के वर्ग के अंतिम अक्षर के अनुरूप होता है। इसी कारण मुझे गंगा, चंचल, खंडन, चंदन और अंबर के सही उच्चारण पढ़ने में कभी मुश्किल नहीं आई। बाद में मैने देखा कि मानकीकरण के लिए आयोजित संगोष्ठियों में भी इसी नियम को मान्यता मिली हुई है। अनिरुद्ध  वार्ता  १८:००, १४ दिसंबर २०१० (UTC) देवनागरी के मानकीकरण की कोशिशों के पीछे की अपनी कहानी है। इसलिए उसके कुछ नीतियों को स्वीकार एवं कुछ को बेकार करने के लिए हिंदी जाति आलसी और नियमों के उल्लंघन का आदी समाज के रूप में पहचाने जाने योग्य नहीं है। हिंदी को सर्वाधिक वैज्ञानिक लिपि कहना वास्तव में एक आत्ममुग्धता की स्थिति है किंतु इसी में यह भी निहित है कि प्रचलित हिंदी व्याकरण के ठोस एवं मानक आधार पर दृढ़ है। अनिरुद्ध  वार्ता  ०४:५६, १५ दिसंबर २०१० (UTC)

रोहित जी, लगता है आपने बहुत ही भावुक होकर तथ्य दिये हैं शायद इसीलिए हिन्दी के लिए अपनायी मानक नागरी लिपि के नियम आपके ध्यान से उतर गये हैं। जिस प्रकार हिन्दी का कोई भी शब्द ड़ या ढ़ से शुरु नहीं हो सकता उसी प्रकार अनुस्वार (बिन्दु) के नियम के अनुसार जिस भी व्यंजन से पहले इसे प्रयोग किया जाता है तो उसी व्यंजन के अनुसार यह ङ, ञ, ण, न या फिर म की ध्वनि देती है। किसी एक व्यंजन के लिए यह दो प्रकार की ध्वनि नहीं दे सकती. जिस प्रकार खंडन में क्योंकि यह ड से पहले प्रयोग की जा रही है इसलिए यह ण की ध्वनि देती है वहीं चंपा में यह ध्वनि बदलकर म की हो जाती है क्योंकि इसका प्रयोग प से पहले किया जा रहा है।

कृपया नीचे अनुस्वार प्रयोग के नियम देखें.

  • [क ख ग घ ङ] अङ्गद, पङ्कज, शङ्कर या अंगद, पंकज, शंकर
  • [च छ ज झ ञ] अञ्चल, सञ्जय, सञ्चय या अंचल, संजय, संचय
  • [ट ठ ड ढ ण] कण्टक, दण्ड, कण्ठ या कंटक, दंड, कंठ
  • [त थ द ध न] अन्त, मन्थन, चन्दन या अंत, मंथन, चंदन
  • [प फ ब भ म] कम्पन, सम्भव, चम्बल या कंपन, संभव, चंबल

Dinesh smita ०६:४३, १५ दिसंबर २०१० (UTC)

रोहित जी ने बड़ा ही सार गर्भित वार्ता अंश दिया है। शायद काफी मेहनत की होगी, किन्तु उनकी बातें अक्षरशः सही हैं, हां इनका निष्कर्ष जरा अलग निकाल लिया है, जिसे बाद में अनिरुद्ध एवं दिनेश जी ने सही किया है। सीधी सी बात है, कि गूगल अनुवाद भी और कोई भी हिन्दी सीखने वाला, ये नियम या रखे जो ऊपर दिनेश जी ने बतायें हैं, तो उसे अनुस्वार हेतु विभिन्न आधे अक्षर नहीं लिखने होंगे। मात्र एक अनुस्वार और उसके बाद आने वाला अक्षर निर्ह्दारित करेगा कि उस अनुस्वार को कैसे ढ़ा जाये।
वैसे भि शायद गञ्गा, गण्गा, गन्गा, गम्गा आदि को बोलना सरल नहीं होता, बल्कि गङ्गा ही सरलतम लगेगा। इसी प्रकार डण्डा को डम्डा, डञ्डा आदि बोलना सरल नहीं है, जितना कि डण्डा है। तो बस हो गया निर्धारण कि आगे आने वाले अक्षर के वर्ग का अंतिम अक्षर ही बोला जायेगा। इसमें इतनी मुश्किल क्या है। हम बोल तो वैसे ही रहे हैं, मात्र लिपि को सरल किया जा रहा है।--ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागर  वार्ता  ११:४७, १६ दिसंबर २०१० (UTC)
काफि लम्बे समय बाद चौपाल पर एक ज्ञानवर्धक चर्चा हुई है। मेरे विचार से बहुवर्तनी शब्दों का पुनर्निर्देशन करना पाठको की दृष्टि से सही रहेगा क्योंकि इससे विभिन्न प्रकार की वर्तनियों का ज्ञान रखने वाले पाठकों लेख खोजने में परेशानी नहीं होगी।--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १३:१५, १६ दिसंबर २०१० (UTC)
पुनर्निर्देशन से संबंधित नीतियाँ तय करते समय मानक देवनागरी के नियमों का यथायोग्य पालन किया जाना चाहिए। अर्थात् गङ्गा को गंगा की ओर पुनर्निर्देशित किया जाना चाहिए। भाषाविदों की भाषा के सरलता की ओर अग्रसर होने की प्रवृत्ति को जीवित भाषा की प्रकृति के रूप में पहचाने जाने को स्वीकार करें तो भी अनुस्वार संबंधी मानकीकरण समिति की कम-से-कम यह शिफारिश तो उपयुक्त लगती है और इसलिए यह स्वीकृत भी हुई है। कुबेरनाथ राय के शब्दों के सहारे कहुँ तो सरलता के साथ समृद्धि भी आवश्यक है। किंतु इसके लिए लिपि को क्लिष्ट बनाने के बजाय हमें नए और आवश्यक शब्दों के निर्माण की ओर ध्यान देना चाहिए। और इसके लिए भारत के संविधान की धारा 351 सचमुच अनुकरणीय है। यद्यपि उसका उल्लंघन उसी संविधान के अनुसार बनाई गई समितियों ने निर्ममतापूर्वक किया है। अनिरुद्ध  वार्ता  ०४:१३, १७ दिसंबर २०१० (UTC)
वैसे दिनेश जी द्वारा दिए गए अनुस्वार संबंधी नियम बच्चों के अथवा आरंभिक हिंदी सीखने वालों के काम आने वाले नियम है। इसके सहारे अंश, संसद, संशय, अंय, आदि शब्दों में अनुस्वार के रूप की व्याख्या नहीं होती। इसके लिए नागरी की मूल प्रकृति, उच्चारण के अनुसार लिखे जाने की प्रवृत्ति ही काम आती है, जिसका इशारा रोहित जी ने ऊपर किया है। किंतु महाण वैयाकरण पाणिणी के व्याकरण की उत्तराधिकारीणी, कम-से कम उच्चारण के मामले में तो पूर्णतः, हिंदी भाषा में कुछ भी, अवैज्ञानिक और यादृच्छिक लगे भले, है नहीं। अनिरुद्ध  वार्ता  ०४:१३, १७ दिसंबर २०१० (UTC)
हाँ ऐसा अवश्य किया जाना चाहिये, बहुवर्तनिय शब्दों में से व्याकरण की दृष्टि से सबसे शुद्ध वर्तनी पर लेख को रखना चाहिये एवं अन्य वर्तनियों को उस पर पुनर्निर्देशित किया जाना चाहिये, इससे पाठकों को शुद्धतम वर्तनी का अभ्यास भी होगा--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  ०४:३७, १७ दिसंबर २०१० (UTC)

उत्पात नियंत्रक

हिन्दी विकि पर मैनें एक नया सदस्य समूह उत्पात नियंत्रक बनाया है जिसके सदस्य किसी पृष्ठ को हटाने का अधिकार रखते है इसके साथ साथ इनके पास रोलबैक अधिकार भी होता है। इस सदस्य ग्रुप में समस्त विशिष्ट/वरिष्ठ सदस्यों को रखा गया है। आशा है कि अब बर्बरता एवं उत्पात वाले पन्नों को हताने में तेजी आयेगी--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १४:४७, ६ दिसंबर २०१० (UTC)

मयूर जी! आपके अच्छे काम यदि निर्दोष भी रहें तो निस्संदेह स्थिति और भी बेहतर होगी। अब इस सदस्य समूह को ही देखइए। वरिष्ठ सदस्य में 8 सदस्य हैं और इसमें 7। फिर सभी वरिष्ठ सदस्य इस समूह के सदस्य कैसे हुए! वैसे इसका पता भी तभी चला जब एक हटाने योग्य पृष्ठ को हटाने की कोशिश की। अनिरुद्ध  वार्ता  ०३:५०, १७ दिसंबर २०१० (UTC)

शायद भूलवश में कुछ वरिष्ठ सदस्यों को इसमें जोडना भूल गया, कोई बात नहीं अब सभी वरिष्ठ सदस्यों को इसमें जोड़ दिया गया है। आपके इस बिंदु को ध्यान दिलाने हेतु धन्यवाद --यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  ०४:०५, १७ दिसंबर २०१० (UTC)

साँचा:एशिया के राष्ट्रगान

इस साँचे में कुछ सहायता की आवश्यकता है। इसमें जो सबसे नीचे की पट्टी है जिसमें मैंने (१)- कुछ भाग यूरोप में (२)- कुछ भाग अफ़्रीका में लिखा हुआ है उसका रंग अभी हल्का सलेटी है। क्या कोई उपाय है जिससे इस पट्टी का रंग भी आसमानी नीला हो जाए जैसा एशिया के राष्ट्रगान जहाँ पर लिखा है उस पट्टी का है? मैंने अभी कुछ लिखा तो है लेकिन रंग नीला होने के बजाए वह ही प्रदर्शित हो जाता है। किसी तकनीकी रूप से कुशल सदस्य की आवश्यकता है और रंग पूरी पट्टी का नीला चाहिए। यदि न भी हो पाए तो कोई बात नहीं। नीली पट्टी हो जाने से साँच और अच्छा दिखता, बस। अन्यथा साँचे की कार्यात्मकता में कोई परेशानी नहीं हैं। धन्यवाद। रोहित रावत १५:३५, १९ दिसंबर २०१० (UTC)
 Yes check.svg Done, मैनें आपके कहे अनुसार उस पट्टी का रंग आसमानी कर दिया है, आप चाहे तो कोई और रंग भी भर सकते है।--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १८:१५, १९ दिसंबर २०१० (UTC)
मयूरजी आपकी सहायता के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद। रोहित रावत १८:०९, २१ दिसंबर २०१० (UTC)

उपनिषद

मयूर जी के हाल ही में बनाए हुए विभिन्न उपनिषदों के लेखों में एक समान गलतियाँ हैं जो किसी मशीनी प्रक्रिया का परिणाम लगती है। शायद इसे मशीनी रूप से ठीक किया जा सके। उदाहरण के लिए उपनिषदों में बाह्य सूत्र दो बार दिया गया है। और ये बिल्कुल एक ही हैं। पुस्तक परिचय देने वाला साँचा जो प्रायः सबसे उपर लगता है, इन उपनिषद संबंधि लेखों में विवरण के नीचे आया है। यदि इन्हें यांत्रिक रूप से ठीक किया जा सके तो मानव श्रम की जो हिंदी विकिया को वैसे भी अल्प मात्रा में उपलब्ध है, काफी बचत होगी। अनिरुद्ध  वार्ता  १८:४०, २० दिसंबर २०१० (UTC)

 Yes check.svg Done-मेरा कार्य अभी चल ही रहा था कि इतनें में आपका संदेश चौपाल पर देखा, उपरोक्त गलतियों से अवगत कराने के लिये धन्यवाद। हाँ अभी के लिये इन गलतियों को सुधार दिया गया है। परन्तु ज्ञानसंदूक की स्थिति मशीनी तौर पर सबसे ऊपर नहीं की जा सकती, इसके लिये इन लेखों को हटाकर बनाना पड़ेगा, परन्तु बाह्य सूत्र को सही कर दिया गया है जो एक मुख्य कमी थी। --यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १९:१५, २० दिसंबर २०१० (UTC)

हिन्दी विकि ५८००० के पार

हिन्दी विकि के ५८००० से अधिक का आकड़ा छुने पर समस्त सक्रिय सदस्यों को बधाइयाँ। इन बार एक हजार का आकड़ा छुने में सबसे अधिक सहायक अनुनाद जी, रोहित रावत एवं गुगल अनुवादक प्रशंसा के पात्र है। इसके साथ साथ मुख्य पृष्ठ समाचार विभाग को नियमित रुप से आधुनिक बनाने के लिये अनिरुद्ध जी भी प्रशंसा के पात्र है। वैसे यूनानी विकि हिन्दी विकि के अत्यंत पास पहुँच गया है अत: हमें हमारे लेखों की गति तेज करनी होगी वह भी गुणवत्ता बनाये हुए इसलिये मैनें आज कुछ नये ९० लेख बनाकर मशीनी परीक्षण किये यदि सदस्यों को यह पैटर्न पसन्द आता है तो इस प्रकार के लगभग १००० लेख बनाने की सामग्री मेरे पास है। हिन्दी विकि पर लेख निर्माण की गति अत्यंत धीमी हो चुकी है अत: हमें अधिक से अधिक सक्रिय सदस्यों की आवश्यकता है। अभी के लिये अच्छी बात यह है कि हिन्दी विकि की गहराई भी ३० हो गयी है जो अभी तक की हिन्दी विकि की अधिकतम प्राप्त की गयी गहराई है।--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १९:२८, २० दिसंबर २०१० (UTC)

सबको बधाी हो। किंतु उन्नीस-बीस का फ़र्क मिटाने के लिए हिंदी विकिया ने जो ऐतिहासिक भूलें कर ली हैं उनसे सबक लेते हुए ही आगे की दिशा तय करनी चाहिए। मैं बेकार के पृष्ठों को हटाने का कार्य कर रहा हूँ। इस कारण संभव है हम युनानी विकिया से पीछे रहें किंतु विकिया के पृष्ठ खोलकर किसी के निराश होने एवं झुंझलाने की गुंजाइश भी जरूर कम होगी। अनिरुद्ध  वार्ता  २०:३३, २० दिसंबर २०१० (UTC)

पुनर्निर्देशित कर दें

जनतंत्र, प्रजातंत्र, गणतंत्र को लोकतंत्र की ओर पुनर्निर्देशित कर दें। अनिरुद्ध  वार्ता  २०:२६, २० दिसंबर २०१० (UTC)

मुल्य वार्ता

मुल्य वार्ता क्या होती हे ?

मानक हिंदी वर्तनी -आलेख शृंखला

आज का आलेख स्तंभ में मानक हिंदी वर्तनी लेख के अंश शृंखलावार प्रस्तुत करने की योजना मैंने सोची है। इसके लिये १ -९ जनवरी तक के आलेख भी तैयार किये हैं। इस प्रकार से हम हिन्दी के सही एवं मानक रूप को लोगों को सुलभ करा पायेंगे। इसके बारे में अपने विचार शीघ्रातिशीघ्र प्रस्तुत करें, जिससे इसे १ जनवरी (नव वर्ष) से क्रियान्वित किया जा सके। साथ ही सक्रिय सदस्यों से, विशेषकर अनुनाद जी से अनुरोध करूंगा, कि इसमें यथा संभव सन्दर्भ का समर्थन तथा बाहरी कड़ियाँ दें,. जिससे ये लेख निःसंदेह एक उत्कृष्ट लेख बन पाये। --ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागर  वार्ता  ०५:५९, २७ दिसंबर २०१० (UTC)

अवनीश सिंह चौहान

अवनीश जी, आपका हिन्दी विकि पर स्वागत है। आप सदृश साहित्यकार को पाकर हिन्दी विकि को बहुत सी आशाएं जागी हैं। विशेष रूप से साहित्यिक एवं भाषा संबन्धी विषयों पर आपसे अच्छे लेखों की आशा है। मेरा आपसे विशेष अनुरोध है कि साहित्य में प्रयुक्त प्रमुख शब्दों का संक्षिप्त परिचय वाला एक लेख अवश्य रचें। आरम्भ में इसमें पाँच शब्दों की परिभाषाएँ हो तो भी चलेगा। धीरे-धीरे उसे बढ़ा सकते हैं। एक बार पुनः स्वागत् ! -- अनुनाद सिंहवार्ता ०९:३६, २९ दिसंबर २०१० (UTC)

मैसिडोनिया

क्या मैसिडोनिया का नाम हिन्दी में मकदूनिया नहीं होना चाहिए? कृपया अपने विचार दें।Dinesh smita ०९:०५, ३० दिसंबर २०१० (UTC)

मैनें अपनी राज्य पाठ्यचर्या की सातवीं या आठवीं की पुस्तक में मकदूनिया ही पढ़ा है। --आलोक मिश्र ११:१६, ३० दिसंबर २०१० (UTC)
मैं दिनेशजी से पूर्णतः सहमत हूँ। मैसिडोनिया नाम विदेशी भाषाओं में है। हमे जहाँ तक हो सके विदेशी नामों का देसीकरण करना चाहिए और देसी नामों को ही प्रयुक्त करना चाहिए। इसलिए लेख का नाम मकदूनिया कर देना चाहिए। इसी प्रकार यूनान नाम ही हमें प्रयुक्त करना चाहिए नाकी ग्रीस। रोहित रावत १५:३०, ३० दिसंबर २०१० (UTC)

अन्तरफलक प्रबन्धक

मैंने विकिपीडिया:विशेषाधिकार निवेदन पृष्ठ पर अन्तरफलक प्रबन्धक के लिए कई मास पूर्व आवेदन किया था। तब मयूरजी ने मुझे बताया था कि चूंकि मैं स्वयं एक प्रबन्धक हूँ इसलिए मुझे इस अधिकार के लिए समर्थन जुटाने की आवश्यकता नहीं हैं क्योंकि यह अधिकार मुझे प्रबन्धक होने के नाते स्वतः ही प्राप्त है। यदि ऐसा है तो मेरे खाते मैं यह अधिकार मुझे क्यों नहीं दिखता है? मयूरजी इस सम्बन्ध में मैंने आपके वार्ता पृष्ठ पर भी पूछा था लेकिन तब आप कुछ दिनों के लिए विकिपीडिया से दूर थे। पर बाद में भी आपने कोई उत्तर नहीं दिया। कृपया इस सम्बन्ध में मेरा मार्गदर्शन करें क्योंकि इस बारे में मुझे बहुत भ्रामक स्थिति में रहना पड़ रहा है। यदि यह अधिकार मुझे प्राप्त है तो मुझे इस पद से सम्बन्धित कार्य करने के लिए और क्या करना होगा और यदि यह अधिकार मुझे प्राप्त नहीं है तो कृपया सदस्य निवेदन पृष्ठ पर समर्थन या विरोध में अपना मत दें। धन्यवाद। रोहित रावत १५:४२, ३० दिसंबर २०१० (UTC)

रोहित जी इसके लिये आप सदस्य समूह अधिकार देख सकते है इसमें आप प्रबंधको के अधिकारो में भी edit interface मिलेगा और अन्तर्फलक प्रबंधक के अधिकार में भी edit interface मिलेगा। आपने मुख्यत इन्टरफेस अनुवाद करने के लिये मुझसे प्रशन किया था उस समय मैनें आपको बताया था कि इसके लिये आप व्यवस्था संदेशों को संपादित करे, हाँ अन्तरफलक समूह इस लिये बनाया गया था कि जिससे हम किसी अन्य विकि के कुशल तकनीकि प्रबंधक को किसी विशेष इन्टरफेस सुधार हेतु बुला सकें। अब यह स्थिति और भ्रामक न बने इस लिये मैनें आपको इस सदस्य समूह में जोड़ दिया है। क्योंकि किसी विकि के तकनीकि रुप से कुशल प्रबंधक को यह अधिकार हिन्दी विकि पर किसी विशेष तकनीकि समस्या आने पर दिया जा सकता है और रही बात हिन्दी विकि की तो आप पहले से ही इसके प्रबंधक है आपके पास पहले से ही इन्टरफेस संपादन करने का अधिकार है इसलिये मुझे या किसी को भी आपको इस सदस्य समूह में डालने में कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिये। हाँ आपको किसी इन्टर फेस संदेश को बदलना है तो व्यवस्था संदेशों में समस्त इन्टरफेस संदेश है इनको आप या कोई भी प्रबंधक संपादित कर सकता है। --यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १६:५५, ३० दिसंबर २०१० (UTC)

हिन्दी विकिपिडिया के सभी लेखों के शीर्षक

हिन्दी विकिपिडिया के सभी लेखों के शीर्षकों का कोश कैसे प्राप्त किया जा सकता है? मुझे लगता है कि यह बहुत उपयोगी हो सकता है। -- अनुनाद सिंहवार्ता १५:१५, १ जनवरी २०११ (UTC)

मुझे अभीष्ट उत्तर मिल गया है। इसके लिये सभी पेज पर जाना पड़ेगा।
-- अनुनाद सिंहवार्ता ०५:४८, ३ जनवरी २०११ (UTC)

 Yes check.svg  हाँ अनुनाद जी परन्तु यह शीर्षक यदि आपको एक साथ टेक्स्ट फाईल में चाहिये तो,इस लिंक पर जाकर all-titles-in-ns0.gz वाली फाईल डाउनलोड करे, निश्चय ही यह आपके लिये अधिक उपयोगी होगी--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १८:०८, ३ जनवरी २०११ (UTC)

धन्यवाद मयूर जी। मुझे वस्तुतः इसी की तलाश थी। -- अनुनाद सिंहवार्ता ०४:१२, ५ जनवरी २०११ (UTC)

लेखों के इतिहास में आकार

हिन्दी विकि पर काफि समय से लेखों के इतिहास एवं अन्य कई जगहों जैसे विशेष:shortpages मे लेखों के आकार में अकेला बाइट प्रदर्शित होती थी परन्तु कोई संख्या दिखाई नहीं देती थी , मैनें इस समस्या को हटा दिया है अबसे पुन संख्या दिखायी पडेगी--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १८:०२, ३ जनवरी २०११ (UTC)

हिन्दी विकि ६७००० के पार

नमस्कार मित्रों, हिन्दी विकि पर लेखों की संख्या ६७००० के पार हो गयी है इसके साथ ही हिन्दी विकि ४० वें पायदान पर आ गया है २२ गहराई के साथ। दरसल मैनें यह अनुभव किया की अन्य विकियों की तरह हमारे विकि पर तारिख से संबंधित लेख अत्यंत कम है इसके लियें मैनें अंग्रेजी विकि देखा तो पाया की उन्होनें भी तारिख सम्बंधित कई लेख बना रकहे है वह भी बाटस की सहायता से, यही समानता फ्रेंज व अन्य बड़े प्रोजेक्टस में दिखी। इसलिये मैनें भी हिन्दी विकि में कई हजार तारिख सम्बंधित लेख बनाने का निश्चय किया और मैनें अर्ध स्वचालित तरीके से कई तारिख सम्बंधित लेख बना दिये। हालाँकि मेरे द्वार उठाया यह कदम आपको अनुचित लग सकता है परन्तु इसमें चिंता की तनिक भी बात नहीं मैं यह समस्त लेख एक झटके में तुरन्त हटा सकता हूँ लेकिन एक सप्ताह से पहले। मैनें इन लेखों में कुछ जानकारी देने का भरसक प्रयत्न किया है परन्तु इन सबको बनाये रखने के लिये आपका सुझाव वांछित है कृपया शीघ्र अपना सुझाव दें ताँकि समय रहते इन लेखों को तुरन्त हटाया जा सकें। धन्यवाद--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १७:३५, ३ जनवरी २०११ (UTC)

मयूरजी मैं समझा नहीं कि आप कौनसे तारीखों वाले लेखों की बात कर रहे हैं। हिन्दी विकि पर तो वर्ष की सभी तिथियों के लेख पहले से ही उपलब्ध हैं। और आपने जो एक झटके में हज़ारों लेख बनाए हैं वे हाल में हुए परिवर्तनों में भी नहीं दिख रहे हैं। आपने जो नए लेख बनाए है उनकी कड़ी तो चौपाल पर उपलब्ध कराइये तभी तो समझ में आ पाएगा कि इन नए बने लेखों का क्या करना है। और दूसरी बात यह कि हिन्दी विकि की गहराई एकदम से घट कर ३० से २२ हो गई है जो लेखों के एकदम बढ़ने से कम होनी तो स्वाभाविक है लेकिन मयूरजी क्या आप कोई बॉट चलाकर नॉन-आर्टिकल्स की संख्या में वृद्धि कर सकते हैं? इसके लिए आप चाहें तो नए बने लेखों के वार्ता पृष्ठों पर वार्ता साँचा लगाने वाला कोई बॉट चला सकते हैं। इससे विकि पर नॉन-आर्टिकल्स भी बढ़ेंगे और सम्पादन भी और यदि सम्पादनों की संख्या भी दस लाख तक पहुंच जाए तब तो अति उत्तम रहेगा क्योंकि ६७,०००+ लेखों वाली विकि पर दस लाख सम्पादन तो होने ही चाहिए। ऐसा मेरा सुझाव है। रोहित रावत १६:१५, ४ जनवरी २०११ (UTC)
रोहित जी आपके उत्तर एवं अत्यंत उपयोगी सुझावों के लिये धन्यवाद, दरसल मैं २१०० ईसा पूर्व,३१०० ईसा पूर्व इत्यादि ऐसे लेखों की बात कर रहा था अन्य विकियों की तरह मैनें हिन्दी विकि पर भी इस तरह के कई लेख बना दिये है, अब बात रही गहराई की तो उसे बड़े आराम से फिर से ३० पर ही ला दिया जायेगा, इसके लिये मैं अपने कई बाट का प्रयोग कर सकता हूँ। परन्तु इसमें २ सप्ताह तक का समय लगेगा। पहले भी हिन्दी विकि की गहराई २१ पर थी परन्तु मैनें अपने बाट अकाउन्ट से कई संपादन करके इसे ३० तक पहूँचा दिया था। अब मेरा लक्ष्य गहराई को ५० तक लेकर आने का है जिसमें ४ या ५ माह का समय लगेगा। आशा है कि इस ४ या ५ माह में हम नेपाल भाषा के विकि को भी पीछे छोड़ देंगे, दूसरी बात वार्ता पृष्ठ बनाने की तो वह कार्य कल तक पूरा हो जायेगा --यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १६:२६, ४ जनवरी २०११ (UTC)
बधाई ! लेकिन अपने इस पृष्ठ - |विकिपीडियाओं की सूची (नई) पर पता नहीं क्यों हिन्दी अपनी पुरानी स्थिति में ही पड़ि हुई दिख रही है।
विकि बोट का इतिहास पढ़ रहा था तो देखा कि अंग्रेजी विकि पर शायद ८० हजार नगपालिकाओं के पृष्ट बोट से बनाये हैं। इसी तरह बहुत से पेज बोट से बनाए हैं जिनपर गरमागरम बहस भी हुई थी। -- अनुनाद सिंहवार्ता ०४:०८, ५ जनवरी २०११ (UTC)
अब आप पुन: इस |विकिपीडियाओं की सूची (नई) को देखें इसमें हम ४० वें पायदान पर आ गये है और हमारी गहराई अब २२ से बढकर २३ हो गयी है शीघ्र ही यह पुन: ३० तक आ जायेगी। हिन्दी विकि के इस संवर्धन पर सबको बधाईयाँ--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  ०५:३८, ५ जनवरी २०११ (UTC)
इस अर्थहीन प्रतिस्पर्धा के प्रति मैं अपनी असहमति और हिंदी विकिया के मेहनती सदस्यों की इस ओर प्रदर्शित रुचि के प्रति निराशा व्यक्त करता हूँ। अनिरुद्ध  वार्ता  १९:०९, ७ जनवरी २०११ (UTC)
इसमें निराश होने की आवशयकता नहीं है क्योंकि यह लेख निरंतर बर्बरता पर बने लेखों एवं ५००० छोटे लेखों से बेहतर है एवं कई विकियों पर ऐसे लेख बाट की मदद से बनाये जाते है जिसमें धीरे धीरे संपादक और सूचनाएँ डालते रहते है। इस प्रकार के लेख इसी तरह वृद्धि करते है हमने केवल एक आधार सूचना बनाकर इन्हे प्रस्तुत किया है। अब जब भी हम २१०० ईसा पूर्व इत्यादि लिंक किसी पेज पर देंगे तो उस पर यह नीला लिंक दिखायेगा। साथ में यह लेख पूर्व में तारिखों पर बने युकेश बाट द्वारा बनाये गये लेखों से बेहतर है(उद्दारण के लिये ६०० एवं ६०० ईसा पूर्व की तुलना कर सकते है) क्योंकि यह एक आधार सूचना लिये हुए है। --यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  ०१:२३, ८ जनवरी २०११ (UTC)

हिन्दी विकिपिडिया पर पीडीएफ आदि औजार

हिन्दी विकि पर भी लेख को पीडीएफ बनाकर उतारने वाला औजार लगाया जाय। इसके साथ ही बहुत से लेखों को चुनकर उन्हें पुस्तक रूप में बदलकर उतारने की सुविधा देने वाला औजार भी लगाया जाय।-- अनुनाद सिंहवार्ता ०४:३०, १४ जनवरी २०११ (UTC)

अनुनाद जी हिन्दी विकि पर पहले भी पीडिफ कन्वर्टर इन्सटाल किया गया था परन्तु हमारी देवनागरी लिपि के अक्षरों को यह सपोर्ट नहीं कर रहा था, इसके बाद से यह मीडियाविकि डेवेलपर्स के पास सही होने के लिये लम्बित है, जैसे ही वे इसे सही कर देते है वैसे ही इसे पुन हिन्दी विकि पर लगा दिया जायेगा। उद्दारण के लिये आप हिन्दी विकिसोर्स से कोई हिन्दी की सामग्री कन्वर्ट करके देंखें वहाँ भी समान समस्या आ रही है--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १६:३४, १६ जनवरी २०११ (UTC)
धन्यवाद मयूर जी, मुझे भी लग रहा था कि कभी अपने 'उपकरण' समूह में ये औजार देखे थे। कहीं इन औजारों की उपयोगिता के बारे मे पढ़ा ओ लगा कि ये हिन्दी के लिये भी उतना ही उपयोगी हो सकते हैं क्योंकि धीरे-धीरे अब यहाँ भी लेखों की संख्या पर्याप्त हो चुकी है। -- अनुनाद सिंहवार्ता ०४:१४, १७ जनवरी २०११ (UTC)
मैने अंग्रेजी विकि के लेख को गूगल ट्रांसलेट से हिन्दी अनुवाद किया और फिर उसे पीडीएफ में बदला। मजेदार बात है कि वहाँ छोटी 'इ' की मात्रा का स्थानपरिवर्तन या कोई अन्य गलती देखने को नहीं मिली। जबकि हिन्दी विकिबुक्स में पीडीएफ बनाने पर छोटी 'इ' की मात्रा गलत स्थान पर चली जा रही है। -- अनुनाद सिंहवार्ता १४:१३, १९ जनवरी २०११ (UTC)
मैनें फिर से दोनों जगहों पर प्रयास किया परन्तु दोनों जगह से डाउनलोड पीडीफ में त्रुटियाँ आ रही हैं--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १९:५९, २० जनवरी २०११ (UTC)

जानकारी सेना : युवाओं के भविष्य निर्माण का ई-संगठन

क्या आज के युवा बेसहाय है ?
क्या इस नये वेब माध्यम का उपयोग एक नये भविष्य को बनाने के लिये किय जा सकता है क्या ऐसी प्रणाली स्थापित की जा सकती है कि लोग ( युवा और प्रौढ , सभी ) अपने थोडे थोडे योगदान से एक बडी ताकत को आकार दे जो सकारात्मक तरीके से उन्नती कि ओर ले जाये

बहुत ही उर्वर विचार है। -- अनुनाद सिंहवार्ता ०५:०२, १५ जनवरी २०११ (UTC)

Categories

There are double and triple categories:

श्रेणी:अफगानिस्तान, श्रेणी:अफ़गानिस्तान, श्रेणी:अफ़ग़ानिस्तान
श्रेणी:अमरीका, श्रेणी:अमेरिका
श्रेणी:थाईलैंड, श्रेणी:थाईलैण्ड
श्रेणी:दक्षिण अफ़्रीका, श्रेणी:दक्षिण अफ्रीका

Martin-vogel ०३:४४, १६ जनवरी २०११ (UTC)

मार्टिनजी गलत नाम की श्रेणियों की ओर ध्यान दिलाने के लिए धन्यवाद। इनपर उपयुक्त कार्यवाही की जा चुकी है। रोहित रावत १५:२४, १६ जनवरी २०११ (UTC)

मुख पृष्ठ पर प्रकाशित निर्वाचित लेख

मुखपृष्ठ पर प्रकाशित निर्वाचित लेख की एक पंक्ति का अंश देखिए।

  • जैसे कई महत्तवपूर्ण शिक्षण संस्थान हैं। यह एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है। अपनी सुंदर दृश्यवाली

दो छोटी गलतियाँ जिन्हें ठीक किया जाना चाहिए। ये मेरे अधिकार क्षेत्र के बाहर की गलतियां हैं इसलिए इसे मैं ठीक नहीं कर पा रहा हूँ। कृपया उपयुक्त व्यक्ति इसे सही कर दें। अनिरुद्ध  वार्ता  ०८:१२, १९ जनवरी २०११ (UTC)

अनिरुद्ध जी द्वारा बतायी गयी गलतियाँ हिन्दी विकि के निर्वाचित लेख गुणवत्ता पर भी प्रश्न चिन्ह लगाती है, इस समय कोई भी नया निर्वाचित लेख न उपलब्ध होने के कारण मैनें आज का आलेख की तरह पुराने चुने गये निर्वाचित लेखों को रोजना दिखाना आरम्भ कर दिया है ताँकि एक ही लेख रोज रोज देखकर पाठक उदासीन न हो। देहरादून लेख को काफि पहले निर्वाचित लेख घोषित किया गया था। खैर अभी यह गलतियाँ सुधार दी गयी है।--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १२:४१, १९ जनवरी २०११ (UTC)

यह बेहतर होगा। निर्वाचित लेखों की ठीक-ठाक सूची हिंदी विकिया के पास हो गई है। इसके परिवर्तन का समय एक माह से घटाकर एक सप्ताह या उससे भी कम कर दें। और नए उपलब्ध न हों तो क्रम से पुराने लेखों का ही कुछ अद्यतन के साथ पुनः प्रकाशन किया जा सकता है। इससे नवीनता भी बनी रहेगी और गुणवत्ता भी। अनिरुद्ध  वार्ता  ०५:२४, २० जनवरी २०११ (UTC)

अनिरुद्ध जी अभी वही प्रणाली काफि पहले लागु की जा चुकी है जिसका ऊपर आपने जिक्र किया है--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १९:५८, २० जनवरी २०११ (UTC)

आज

विकिया जिस ज्ञान के निरंतर अद्यतित श्रोत के संकल्प के साथ बढ़ रहा है उसमें मुखपृष्ठ पर आज के दिन संबंधी सूचनाओं का अभाव अखरने वाला है। हिंदी विकिया पर इसकी पूर्ती के लिए आवश्यक दिनों के लेख अभी शुरुआती दौर में हैं। क्या इस तरह के कॉलम, जो कि अंग्रेजी एवं अन्य भारतीय विकियों में मौजूद हैं, को लेकर हिंदी विकिया में कुछ किया जा सकता है? शायद ऐसे कॉलम दिनों के लेख को बढ़ाने में हमारी मदद करे। अन्यथा हम इस आवश्यक कॉलम को शायद ही कभी बना पाएँ। दिन विशेष के दिन होने वाले उत्सवों, घटनाओं, अवसरों एवं जन्म एवं निधनों का विवरण हिंदी विकिया मुखपृष्ठ का हिससा होना मुझे अनिवार्य लगता है। इसके बिना कुछ कम सा लगता है। वैसे इतने दिनों के साथ के बाद इसकी वजह से अनजान नहीं हूँ मगर कमी तो दूर की ही जानी चाहिए। अनिरुद्ध  वार्ता  ०५:३६, २० जनवरी २०११ (UTC)

--पूर्ण सहमत हूँ। विकि पर पहुँचने का एक मुख्य रास्ता गूगल खोज है और गूगल पर लोग हाल की घटनाएँ ज्यादा ढूँढते हैं। अतः हाल की घटनाओं का विशेष महत्व है विकि को लोकप्रिय बनाने में। -- सौरभ भारती (वार्ता) ०५:१७, २१ जनवरी २०११ (UTC)
--हिन्दी विकि का नया मुख्य पृष्ठ आशीष जी निर्माणाधीन है आपके उपरोक्त सुझाव को नये पृष्ठ पर अवश्य लागु किया जाना चाहिये--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  ०९:५५, २१ जनवरी २०११ (UTC)

पाठकों को प्ररेणा

क्या कोई सदस्य हिन्दी विकि के पाठको को हिन्दी विकि पर संपादन हेतु प्रेरित करने के लिये एक छोटा संदेश बनाकर दे सकता है अथवा वह संदेश किस प्रकार का होना चाहिये। वह संदेश को हम केन्द्रिय संदेश बनाकर सदस्यों एवं पाठकों को दिखा सकते है तथा उस पर देवनागरी लिखने एवं हिन्दी विकि पर लेख बनाने की विधि के लिंक भी दे सकते है यह संदेश हमारे यहां आने वाले हर पाठकों को हिन्दी विकि पर संपादन करने हेतु प्रेरित एवं उत्साहित करेगा। अत: कृपया प्रबंधक एवं वरिष्ठ सदस्य इस विषय पर अपने सुझाव दें--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १३:४४, २२ जनवरी २०११ (UTC)

-- वार्ता पृष्ठ में डाल सकते हैं इस पाठ को। -- सौरभ भारती (वार्ता) ०७:२०, २३ जनवरी २०११ (UTC)
नहीं वार्ता पृष्ठ से तो हम केवल पंजीकृत सदस्यों तक ही यह संदेश पहूँचा सकते है जो केवल ३८,००० के करीब है एवं उनमें से भी पता नहीं कौन फिर से अपने सदस्य पृष्ठ का भ्रमण करते होंगे परन्तु हिन्दी विकि पर लगभग १०,००,००० पाठक रोजना भ्रमण करते है केन्द्रिय संदेश के जरिये वे जिस भी पृष्ठ को खोलेंगे वहाँ उन्हें हमारा संदेश दिखायी देगा। मतलब कि महीने में लगभग ३०,००,००० पाठकों तक हमारा संदेश पहुँचेगा तो इस बात की प्रायिकता बहुत बढ जाती है कि उनमें से कई हिन्दी विकि पर योगदान करने को प्रेरित हो--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  ०८:२०, २३ जनवरी २०११ (UTC)
-- हालाँकि पहले भी ऐसा प्रस्ताव आया था पर स्पैमिंग के नाम पर इसे छोड़ना पड़ा था। अर्थ ये है कि विकि पर आने वाले सदस्यों को अन्यथा संदेश या सूचना ना भेजे जाएँ सिवाय कोई आपातकालीन या प्रबंधन कारणों के। स्वयं मैं आपके पक्ष में हूँ। फिर भी सबकी राय ले लेना उचित होगा। -- सौरभ भारती (वार्ता) ०८:५०, २३ जनवरी २०११ (UTC)
अभी भी हम "देवनागरी में लिखने के लिये सहायता" आदि केन्द्रिय संदेश दे रहे है, बस इस बार हम इसे थोड़ा अलग तरीके से दिखायेंगे, इसकी जगह कुछ प्रेरित संदेश छोड़कर उसका लिंक एक मुख्य पृष्ठ पर देंगे जिस पर पूरा संदेश एवं विकि पर लेख लिखने के समस्त तरीके एवं सहायता लिंक होंगे, इससे पाठक विकि पर लेख बनाने हेतु प्रेरित होंगे और अंग्रेजी विकि में तो इन केन्द्रिय संदेशों का काफि प्रयोग किया जाता है एवं हिन्दी विकि पर इन से संबंधित कोई नीति भी नहीं अत: यदि अधिकतर सदस्यों को अगर इसमें आपत्ति नहीं तो हम यहां हमारे समुदाय के निर्णय के आधार पर यह संदेश दिखा सकते है--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  ०९:३४, २३ जनवरी २०११ (UTC)
-- समर्थन। -- सौरभ भारती (वार्ता) १५:१८, २५ जनवरी २०११ (UTC)

हाँ। ऐसे थोड़े शब्दों में बड़ी बात करने वाले संदेश देना एक अच्छा कदम है। हाँ उसे दिखाने या छुपाने का बटन साथ में लगा हो तो और भी बेहतर होगा। मयूर जी ने संदेश देने की बात सोची है तो संदेश भी जरूर सोचा होगा। ऐसे संदेश का ड्राफ्ट यदि कहीं उपलब्ध कराएँ तो सुझाव देने में आसानी होगी। संभव है सुझाव की जरूरत ही न हो। और ऐसे किसी भी प्रयास को मेरा समर्थन है। अनिरुद्ध  वार्ता  १८:४६, २५ जनवरी २०११ (UTC)

सुझाव

पीलभीत जिला इस लेख को या तो हटा देना चाहिए या पीलीभीत जिला लेख मे मिला देना चाहिए जो कि सही नाम व बेहतर सामग्री के साथ ज्यादा उप्युक्त है। Jain.dhrj १३:४९, २५ जनवरी २०११ (UTC)

चित्तौड़गढ़ जिला सही लेख है । चित्तौरगढ़ जिला इस लेख को या तो उसमे मिला दिया जाए या मिटा दिया जाये। Jain.dhrj १४:१९, २५ जनवरी २०११ (UTC)

-- सुझाव ठीक हैं। मैंने बदलाव कर दिए हैं। क्या आप चित्तौड़गढ़ जिले पर और लेख लिख सकते हैं? धन्यवाद्। -- सौरभ भारती (वार्ता) १५:३३, २५ जनवरी २०११ (UTC)

इस विषय पर पहले ही ये लेख है सुखोई ३० एमकेआई। इसलिए इसे सुखोई-३० एमकेआई मिटा दिया जाए। Jain.dhrj १८:२३, २५ जनवरी २०११ (UTC)

मेरा सुझाव यह है कि लेख को बजाय पुनर्निर्देशित करने के उसे मिटा दिया जाए। Jain.dhrj १८:२७, २५ जनवरी २०११ (UTC)

जैनजी आपके कहे अनुसार लेख मिटाया गया। इस ओर ध्यान दिलाने के लिए धन्यवाद। रोहित रावत १८:३७, २५ जनवरी २०११ (UTC)

सत्यकाशी

सत्यकाशी

साँचा:कर्नाटक चित्र दीर्घा

उपरोक्त सांचे का अनुवाद एवं अंग्रेज़ी विकि से चित्र अपलोड करने हैं। यदि कोई सदस्य सहायता करे तो काम बन जाये। अग्रिम धन्यवाद। --ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागर  वार्ता  १२:५१, २७ जनवरी २०११ (UTC)

आपके कहे अनुसार सभी चित्र अपलोड कर दिये गए है एवम कई चित्रो के शीर्षक की त्रुटियो को भी दूर कर दिया गया है। शेष शीर्षक भी शीघ्र ही ठीक कर दिये जाएँगे।:--Jain.dhrj १४:२२, २८ जनवरी २०११ (UTC)
प्रयास एवं कार्रवाई का धन्यवाद। --ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागर  वार्ता  ०६:५०, २९ जनवरी २०११ (UTC)

अनुरोध

मेरा सभी से अनुरोध है कि कृपया चौपाल पर उत्पात ना करे।

अपलोड किये गये चित्रो के सन्दर्भ में

मेरा सभी प्रबंधको एवं सदस्यों से निवेदन है कि अपने अपलोड किये गये चित्रों में उपयुक्त लाइसेंस देवें , मैनें हिन्दी विकिपीडीया पर कई लाईसेंस के विकल्प डाले है जो आपको अपलोड करते समय नजर आयेंगे। कृपया इस विषय को गम्भीरता से ले क्योंकि मीडीयाविकि की तरफ से हिन्दी विकि की इस तरह की कई शिकायते आई है जिसके लिये हम सब प्रबंधक ही जिम्मेवार है कृपया प्रबंधक एवं उत्पात नियंत्रक समूह के सदस्य उन सब चित्रों को हटा दें जिन पर कोई लाईसेंस साँचा नहीं लगा हुआ--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  ०३:२७, ३० जनवरी २०११ (UTC)

मयूरजी मैं आपकी बात समझा नहीं। क्या आप ये कहना चाह रहे हैं कि हिन्दी विकि पर अपलोड किए जाने वाले बहुत से चित्र कॉपीराइट वाले हैं जो निशुल्क उपलब्ध नहीं हैं? मैं तो गूगल इमेज पर जाकर चित्रों को खोजता हूं और वहां से चित्र यहां हिन्दी विकि पर अपलोड करता हूं। मुझे यह ज्ञात नहीं था कि ऐसा भी कुछ है। यदि यही बात है तो मैं भविष्य में सावधान रहूंगा। और क्या आप यह भी कहना चाहते हैं कि यदि कॉपीराइट वाले चित्र अपलोड किए भी जाएं तो इसके लिए उपयुक्त व्यक्ति या संस्था को (जिसका उस चित्र पर कॉपीराइट है) को इसका पूरा श्रेय दिया जाए। कृपया यह भ्रामकता दूर करने का कष्ट करें। धन्यवाद। रोहित रावत ११:४१, ३० जनवरी २०११ (UTC)
हम कौन से चित्र अपलोड कर सकते है इसके सन्दर्भ में यह संदेश पढे़, मुख्यत हिन्दी विकि पर हम वही चित्र लगा सकते है जो कापीराईट से मुक्त हो और यदि हमें कोई चित्र लगाना है तो लगाते समय उसका लाईसेंस एवं स्त्रोत जानकारी देनी चाहिये। आज से हिन्दी विकि में विभिन्न लाईसेंस के विकल्प लगा दिये है जो आपको चित्र अपलोड करते समय दिखायी देंगे, ध्यान रहे आपके द्वारा लगाया चित्र इन्हीं लाईसेंस के अन्तर्गत हो। कापीराईट से बचने वाले चित्रो को खोजने का सबसे सरल तरीका ये है कि हम इन चित्रों को विकिमीडीया कामन्स, अंग्रेजी विकिपीडीया या फिल्कर पर उपलब्ध मुक्त चित्र लेवें, गुगलखोज में तो अनेकों कापीराईट वाले लेख आते है अत: वहाँ से कभी चित्र न ले, कृपया सभी सदस्य अपने लगाये गये चित्र जाँच ले यदि उन पर कोई लाईसेंस नहीं लगा हुआ तो लाईसेंस लगायें अन्यथा उस चित्र को हटा दें--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १२:०६, ३० जनवरी २०११ (UTC)

इस साँचे का वार्ता पृष्ठ देखें

साँचा:मुखपृष्ठ स्वागतम। इस साँचे के वार्ता पृष्ठ पर मैंने कुछ निवेदन किया है। कृपया इसे देख लें। धन्यवाद। रोहित रावत ११:४१, ३० जनवरी २०११ (UTC)

 Yes check.svg Done-उपरोक्त साँचे मे आपके बताये अनुसार दोनो कालमस को एक ही स्तर पर किया गया--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १२:२१, ३० जनवरी २०११ (UTC)
सहायता के लिए धन्यवाद। अब मुखखपृष्ठ और अच्छा दिख रहा है। रोहित रावत १२:२९, ३० जनवरी २०११ (UTC)

एक सुझाव

हिन्दी विकि के बांई ओर जो उर्ध्वाधर पट्टी है जिसमें सारे टूल इत्यादि हैं, के लिए मेरे पास एक सुझाव है। सुझाव भाषाओं से सम्बन्धित हैं। कृपया भोजपुरी विकिपीडिया के मुखपृष्ठ को देखें। इसमें बांई ओर की उर्ध्वाधर पट्टी में विविध के नीचे भारतीय विकिपीडिया नामक एक ओर लिंक दिया गया है जिसमें कुछ भारतीय भाषाओं के विकिपीडियाओ के लिंक दिए गए हैं। क्यों न हम भी हिन्दी विकि में ऐसा कुछ करे और उसमें सारी भारतीय भाषाओं की कड़ियां दे दी जाएं। इससे भारतीय और अन्य भाषाओं का वर्गीकरण हो जाएगा। क्योंकि अभी तो हिन्दी विकि के मुखपृष्ठ पर ६० भाषाओं के विकिपीडियाओं की कड़ियां दे रखी हैं जिससे वहां खिचड़ी सी पकी हुई है। इसक्से लिए एक सुझाव तो यही है जो मैंने ऊपर दिया है, और दूसरा सुझाव है कि भाषाओं की संख्या कुछ कम कर दी जाए लगभग २०-२५ तक ही जिसमें प्रमुख विकिपीडियाओं को डाला जाए और साथमें सारी भारतीय भाषाओं की कड़ियां भी ताकि वहां भीड़ जैसी न लगी रहे। वैसे मेरे विचार से तो पहला वाला उपाय अति उत्तम रहेगा। इससे भाषाओं का वर्गीकरण भी हो जाएगा और खिचपिच भी नहीं रहेगी। बहुत सी अच्छी विकियों पर तो १०-१५ भाषाओं से अधिक की कड़ियां नहीं हैं, अब लेकिन हमें अपने मुखपृष्ठ पर भारतीय भाषाओं को तो रखना ही चाहिए तो इसके लिए वर्गी करण ही अच्छा उपाय है। बाकि आपलिग जैसा सही सझें। रोहित रावत १२:२९, ३० जनवरी २०११ (UTC)

अच्छा सुझाव है। लागू किया जाना ठीक रहेगा। -- अनुनाद सिंहवार्ता ०३:५१, ३१ जनवरी २०११ (UTC)
 Yes check.svg लीजिये आपका सुझाव क्रियान्वित कर दिया गया है, परन्तु इस सूची को उपकरणों के नीचे डाला गया हैं।--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १३:०४, ३१ जनवरी २०११ (UTC)
बढिया सुझाव है। धन्यवाद मयूर जी। -- सौरभ भारती (वार्ता) १३:२६, २ फ़रवरी २०११ (UTC)

विकिपीडिया पुस्तकें

मैंने हिन्दी विकि पर यह नई परियोजना वाला पृष्ठ बनाया है विकिपीडिया:पुस्तकें। यह हिन्दी विकि में नया फ़ीचर है। पर इसके लिए कुछ औज़ारों की आवश्यकता है जैसे पीडीएफ़ डाउनलोड करने की सुविधा, बुक क्रिएटर की सुविधा इत्यादि। मैंने परीक्षण के तौर पर यह पुस्तक बनाई है पुस्तक:भारत। लेकिन पीडीएफ़ इत्यादि की सुविधा न होने के कारण यह व्यर्थ है। इसलिए कृपया हिन्दी विकि पर भी यह सुविधाएं लाई जाएं ताकि प्रयोक्ताओं को यह सुविधा उपलब्ध कराई जा सके। धन्यवाद। रोहित रावत १९:१०, ३० जनवरी २०११ (UTC)

रोहित जी जैसा मैनें पहले भी कहा है कि पीडिफ कन्वर्टर अभी हिन्दी भाषा पर सही तरीके से कार्य नहीं कर रहा है उद्दारण के लिये आप हिन्दी विकि बुक्स पर कोई फाइल को किसी किताब में बदलकर देंखे, यह पहले से ही मीडियाविकि डेवलेपरस के पास लम्बित है और इस सुविधा के आने में साल भर का समय भी लग सकता है--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १६:००, ३१ जनवरी २०११ (UTC)
चलिए कोई बात नहीं। सालभर ही लग जाए लेकिन सुविधा हो जाएगी पाठकों को। रोहित रावत ०९:१३, १ फ़रवरी २०११ (UTC)

नामवाचक संज्ञा और व्यक्तिवाचक संज्ञा में अन्तर

कृपया कोई सदस्य मुझे इनमें अन्तर बताए। इसे अंग्रेज़ी में प्रॉपर नाउन कहते है। यह वह नाउन होता है जो किसी संज्ञा को नाम से पहचानता है जैसे भारत, चीन, श्याम, इन्फ़ोसिस इत्यादि प्रॉपर नाउन हैं। मैंने इसका हिन्दी अर्थ खोजा तो मुझे व्यक्तिवाचक संज्ञा मिला, लेकिन मेरे विचार से व्यक्तिवाचक का उपयोग तो केवल व्यक्तियों (अर्थात जीवितों) के नामों के सन्दर्भ में किया जा सकता है और वह भी मनुष्यों के लिए और निर्जीव वस्तुओं के लिए नामवाचक संज्ञा प्रयुक्त होगा। क्या मेरा ऐसा मानना सही है या नामवाचक किसी अन्य प्रकार की संज्ञाओं के लिए प्रयुक्त होगा? रोहित रावत ०९:१८, १ फ़रवरी २०११ (UTC)

जिस संज्ञा को व्यक्तिवाचक कहा जाता है नामवाचक इसलिए नहीं कह सकते क्योंकि हर एक नाम को ही तो संज्ञा कहा जाता है । व्यक्तिवाचक केवल व्यक्तियों के लिए उपयोग न करके दूसरे विशेष नाम के लिए उपयोग करना कैसे उचित होगा यह नहीं पता । व्यक्तिवाचक को विशेषवाचक कहा जाये तो आपकी आपत्ति शायद समाप्त हो जाये मगर यह कौन तय करेगा । फ़ज़ल अब्बास । १० फ़रवरी २०११

भारतीय विकि सर्वेक्षण

भारतीय विकिस के किये गये सर्वे में हिन्दी विकि प्रथम स्थान पर रहा, अधिक जानकारी के लिये यह लिंक देखें--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १३:३४, २ फ़रवरी २०११ (UTC)

यह तो बहुत शुभ समाचार है। इसके लिए सभी सदस्य बधाई के पात्र है। आइए हम सभी अपना प्रयास निरन्तर जारी रखें। रोहित रावत १७:२७, २ फ़रवरी २०११ (UTC)
हाँ परन्तु गुणवत्ता के मामले में हिन्दी विकि ९वें स्थान पर रहा है परन्तु सम्पूर्ण रेंकिंग में हिन्दी विकि प्रथम रहा--यह सदस्य हिन्दी विकिपीडीया के प्रबंधक है।Mayur(TalkEmail)  १७:५९, २ फ़रवरी २०११ (UTC)
हमने प्रथम स्थान प्राप्त किया यह तो उत्साहवर्धक है पर जिस प्रकार हम गुणवत्ता की कसौटी पर 9वें स्थान पर रहे यह तो विचारणीय प्रश्न है। हमारा प्रयास होना चाहिए कि हम अधिक से अधिक ऐसे लेख बनायें (लिखें) जो भले ही छोटे हों पर गुणवत्ता की दृष्टि से उत्तम हों। Dinesh smita ०५:०७, २२ फ़रवरी २०११ (UTC)

हिन्दी विकि विकिमीडीया मेलिंग लिस्ट

कृपया सभी सदस्य हिन्दी विकि एवं मीडियावीकि मे चल रही गतिविधियों से अवगत रहने हेतु यह मेलिंग लिस्ट में शामिल हो--Mayur (talk•Email) १३:१३, ५ फ़रवरी २०११ (UTC)

हिन्दी विकि कार्यशाला सम्मेलन, नई दिल्ली

१२ फरवरी को नई दिल्ली में हिन्दी विकि की प्रथम कार्यशाला आयोजित करवायी जा रही है। सभी हिन्दी विकि सदस्य इसमें सादर आमंत्रित है, अधिक जानकारी के लिये यहाँ देखें--Mayur (talk•Email) १३:१२, ५ फ़रवरी २०११ (UTC)


निर्वाचन हेतु प्रस्ताव

कर्नाटक लेख निर्वाचित लेख हेतु प्रतावित है। यह लेख पूरा हो चुका है। हां निर्वाचन होते-होते इसमें कुछ अन्य सुधार एवं घटा-जोड़ किए जाते रहेंगे। पर्याप्त समर्थन/ सुधा/ सुझाव, आदि अपेक्षित हैं, उपरांत इसे निर्वाचित किया जा सकेगा। आशा है शीघ्र ही लक्ष्य प्राप्त होगा।

सभी सदस्यों से अनुरोध है अपने विचार विकिपीडिया:निर्वाचित लेख उम्मीदवार पृष्ठ पर व्यक्त करें। --ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागर  वार्ता  १२:३४, ५ फ़रवरी २०११ (UTC)

मेरा प्रश्न राज्य के जिलों के सही नाम को लेकर है: -

"कर्नाटक के जिले राज्य में ३० जिले हैं — बागलकोट (बगलकोट), बंगलुरु ग्रामीण (बेंगलुरु देहात), बंगलुरु शहरी (बेंगलुरु शहरी), बेलगाम (बेलगांव), बेल्लारी, बीदर (बिदर), बीजापुर, चामराजनगर, चिकबल्लपुर, चिकमंगलूर, चित्रदुर्ग, दक्षिण कन्नड़, दावणगिरि (दावणगेरे), धारवाड़, गडग, गुलबर्गा, हसन (हासन), हवेरी, कोडगु, कोलार, कोप्पल, मांड्या, मैसूर, रायचूर, रामनगर (रमनग्राम),[४१] शिमोगा (सिमोगा), तुमकुर, उडुपी, उत्तर कन्नड़ एवं यादगीर (यादगिर)"

जहां कोष्टक मे वैकल्पिक नाम दिये गये हैं लेकिन कई स्थानों पर यह प्रयुक्त होते हैं। Dinesh smita १०:०५, २२ फ़रवरी २०११ (UTC)

कहीं कोई प्रतिक्रिया नहीं, लगता नहीं कि कोई इस पृष्ठ को देखता है। Dinesh smita १०:३१, १३ मार्च २०११ (UTC)

राजस्थानी भाषा

मै राजस्थानी भाषा मे सहयोग करना चाहता हु मै ये किस प्रकार कर सकता हु ?

प्रिय योगदानकर्ता, अभी राजस्थानी विकिपीडिया अस्तित्व में नहीं है इसलिए आप अभी राजस्थानी बोली में लेख नहीं लिख पायेंगे। पर आपसे अपेक्षित है कि, आप हिन्दी विकिपीडिया पर राजस्थान से संबंधित लेख लिखकर उसे समृद्ध करेंगे। लेख लिखते समय भाषा की स्पष्टता, उसका विन्यास, वर्तनी और विषय से संबंधित मानक शब्दों के प्रयोग को ध्यान में रखें।Dinesh smita ०५:१३, २२ फ़रवरी २०११ (UTC)

जनीवा

विकि पर जनीवा नाम से एक लेख है, मैने इसे कुछ सुधारा भी है पर, अभी भी इसके नाम को लेकर संशय है कि यह जिनेवा है कि जनीवा क्योंकि आज तक मैने सिर्फ जिनेवा ही सुना है। कृपया जानकार स्थिति स्पष्ट करें।Dinesh smita ०९:१४, २२ फ़रवरी २०११ (UTC)


इस शहर का नाम जिनेवा है। कृपया नाम परिवर्तित कर दीजिए।

--Jain.dhrj १०:१६, २२ फ़रवरी २०११ (UTC)

अवसाद

मैं Antidepressants को हिन्दी में अनुवाद करना चाहता हूँ, पर मैं हिन्दी में इनके सही नाम को लेकर अटक गया हूँ, क्या इसे हिन्दी में अवसादरोधी कहते हैं या फिर अवसादहर या फिर कुछ और? कृपया मानक शब्द सुझायें।Dinesh smita १२:००, २६ फ़रवरी २०११ (UTC)

विकिपिडिया पर एक नया प्रोजेच्ट आरम्भ् करना चाह्ता हू

मै विकिपिडिया पर एक नया प्रोजेच्ट आरम्भ् करना चाह्ता हू। विकिफूडिया जो विभिन्न प्रकार के व्यन्जनो के बारे मे जानकारी देगा। क्र्प्या मुझे विस्त्रित जान्कारी दे।

आप निसंकोच रुप से विकि पर व्यंजनों से संबंधित लेख बना सकते है इसके लिये आपको अनुमति की आवश्यकता नहीं। इसके लिये आप एक परियोजना पृष्ठ विकिपीडीया:विकिफूडिया बनायें तथा जो भी लेख बनाये उसे इस श्रेणी में जोड़ते जायें, बस आप कार्य शुर करें बाकि सब अपने आप होता चला जायेगा। धन्यवाद --Mayur (talk•Email) ०९:४५, ४ मार्च २०११ (UTC)

विश्व में सबसे अधिक बोले जाने वाली भाषा

विश्व में सबसे अधिक बोले जाने वाली भाषा मँडारिन है। जो कि एक चीनी लिपि की भाषा है। तथा दूसरे नम्बर पर सबसे अधिक बोले जाने वाली भाषा स्पेनिस व तीसरे नम्बर पर अंग्रेजी तथा चौथे नम्बर पर सबसे अधिक विश्व में बोले जाने वाली भाषा हिन्दी है।

mujhe kya aap jantte hain type ki kuchh jankari chahiye

अपना नाम और सम्पर्क पता (ईमेल) लिखें तो आपसे बातचीत हो सके और आपको जानकारी देने का प्रयत्न किया जाय। -- अनुनाद सिंहवार्ता ०५:२५, ५ मार्च २०११ (UTC)

समाचार

मुखपृष्ठ पर समाचार स्तंभ में श्रीलंका का झंडा लगा है पर श्रीलंका से संबंधित कोई भी समाचार उसमें नहीं है। कृपया उसे हटायें।Dinesh smita ०९:०६, १० मार्च २०११ (UTC)

आज भी झंडा वहीं का वहीं है।Dinesh smita १०:२९, १३ मार्च २०११ (UTC)
 Yes check.svg  झंडा हटा दिया गया है--Mayur (talk•Email) १०:४७, १३ मार्च २०११ (UTC)

विमानक्षेत्र

विकिपीडिया पर कई स्थानों पर हवाई अड्डा या हवाई अड्डे के स्थान पर विमानक्षेत्र शब्द प्रयोग किया गया है जो कि हिन्दी का एक मानक शब्द नहीं है और शायद कहीं भी प्रयोग किया नहीं जाता। आम और व्यापारिक हिन्दी में हवाई अड्डा या विमानपत्तन ही बोला और लिखा जाता है। क़ृपया किसी बॉट का प्रयोग कर जहाँ जहाँ विमानक्षेत्र लिखा है उसे बदल कर हवाई अड्डा करें।Dinesh smita १०:५८, १० मार्च २०११ (UTC)

अनावश्यक शब्द

हवाई अड्डा या हवाई अड्डे से संबंधित सभी प्रचलित शब्दों को विभिन्न लेखों में लोगों ने अपने हिसाब से इस्तेमाल किया है, जहाँ हवाई अड्डा (प्रचलित, हिन्दी मानक: विमानपत्तन) को विमानक्षेत्र वहीं हवाई पट्टी (प्रचलित, हिन्दी मानक: धावनपथ) को अनावश्यक रूप से उड़ान पट्टी मे बदल दिया गया है। हिन्दी पहले ही एक मानक स्वरूप के लिए संघर्ष कर रही है उस पर हम लोग अनावश्यक रूप से उसके सबसे प्रचलित शब्दों को भी अपने हिसाब से बदल कर पता नहीं क्या हासिल करना चाहते हैं। Dinesh smita ११:३६, १० मार्च २०११ (UTC)

स्पष्टीकरण

एयरपोर्ट के लिये मानक शब्द है विमानक्षेत्र, जैसा कि अधिकतर भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण संबंधित प्रलेखों में देखा जा सकता है। विमानपत्तन शब्द भी Airports के लिये प्रयोग किया जाता है, किन्तु किसी विमानक्षेत्र विशेष के लिये नहीं वरन व्यापक क्षेत्र में इस शब्द को प्रयोग करने हेतु, जैसे कि भारत के विमानपत्तन काफ़ी अच्छे हैं, आदि। किन्तु यदि दिल्ली विमानपत्तन लिखना होगा तो उसके स्थान पर दिल्ली विमानक्षेत्र ही लिखा जाता है। Airports Authority of India के लिये भी व्यापक तौर पर विमानपत्तन शब्द प्रयोग किया जाता है। जैसे कि सागर यात्रा संबंधित शब्द जहाजरानी या जहाजपत्तन कहा जाता है, किन्तु seaport को बंदरगाह ही लिखा जाता है। पत्तन शब्द किसी वस्तु के पतन या उतरने के लिये नियत स्थान को कहते हैं। यहां ये भी स्पष्ट करना आवश्यक है कि मूलतः विमानक्षेत्र का समानांतर अंग्रेज़ी शब्द है Aerodrome जो कि पूरे क्षेत्र के लिये नियत किया गया शब्द होता है, जैसे रेल के लिये रेलवे स्टेशन+यार्ड+वर्कशॉप(यंत्रशाला)होती है। किन्तु मात्र नागरिकों के आवागमन हेत्रु नियत स्थान को Airport या चालू भाषा में हवाई अड्डा कहा जाता है। असल में अड्डा शुद्ध हिन्दी का शब्द नहीं है।

दूसरी बात आपने लिखा है कि हम लोग अनावश्यक रूप से उसके सबसे प्रचलित शब्दों को भी अपने हिसाब से बदल कर पता नहीं क्या हासिल करना चाहते हैं।:-- इस बारे में कहना चाहूंगा कि एक तो मानक शब्दावली कहीं सर्वसुलभ प्रकाशित नहीं हुई है, जिससे कि हर किसी को सुलभ हो। दूसरे यदि किसी ने यहां योगदान किया भी है तो इस प्रकार हमें उसे नकारना नहीं चाहिये। शब्दों के मानक सर्वसम्मति से यहां तय किये जाने चाहिये। मानक हिन्दी केन्द्रीय हिन्दी निदेशालय की मानें, तो वहां अंकों के लिये रोमन अंकों को निश्चित किया गया है, किन्तु हिन्दी विकिपीडिया पर सर्वसम्मति से हिन्दी अंकों के प्रयोग को निश्चित किया गया था। हालांकि मैं तब इसके विरोध में था, किन्तु जो भि अंतिम निर्णय हुआ, उसके लिये बाध्य हूं। ऐसे ही धावन पथ शब्द आपने runway का सीधा सीधा अनुवाद कर बना लिया है, जबकि हवाई पट्टी शब्द airstrip के लिये एवं उड़ानपट्टी या पथ runway के लिये प्रयोग किये जाते हैं। इस बारे में किसी संबंधित क्षेत्र के व्यक्ति की राय लें। मैं स्वयं भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण में १२ वर्षों से कार्यरत हूं, अतः मुझे ये शब्द पता हैं इसीलिये ब्यौरेवार लिखे हैं। शेष जैसी सर्वसम्मति।

मैं उड्डयन (‘एविएशन’) से संबंधित शब्दावली के मानकीकरण के संबंध में तो कुछ भी नहीं कहना चाहता क्योंकि मुझे अभी इसका समुचित ज्ञान नहीं है, पर भारत में मैने जहाँ-जहाँ भी यात्रा की है वहाँ मैंने सिर्फ हवाई अड्डा या फिर नागरी में एयरपोर्ट शब्द ही लिखा देखा है, मैं आजतक कभी भी विमानक्षेत्र नामक शब्द से दो चार नहीं हुआ। Dinesh smita ०७:२६, १२ मार्च २०११ (UTC)

उत्तराखण्ड के गाँव

श्रेणी:उत्तराखण्ड के गाँव में लगभग 9500 बॉट-उत्पन्न लेख हैं, पर इन लेखों की गुणवत्ता काफ़ी खराब है. आदर्श रूप में इन्हें एक लाइन का stub ("आधार") होना चाहिए.

  • हर लेख की सामग्री एक ही है -- केवल् {{PAGENAME}} अलग है!
  • इन लेखों का अधिकान्श भाग गावों के बारे में नहीं, बल्कि उत्तराखंड के बारे में हैं - और यह हिस्सा हर लेख में दोहराया गया है (शायद इन्हें श्रेणी:आधार में वर्गीकृत होने से बचाने के लिए?).
  • सभी गावों का निर्देशांक/मानचित्र एक ही दिखाया गया है, जो कि गलत है.
  • "आधिकारिक भाषा(एं)" सभी के लिये "हिन्दी, अवधी, बुंदेली, भोजपुरी, ब्रजभाषा, पहाड़ी, उर्दु, अंग्रेज़ी" दिखाई गईं हैं - यह भी गलत है.
  • सभी लेखों में 13 "बाहरी कड़ियाँ" दी गईं हैं, परन्तु इनमें से एक-दो को छोड़कर सभी अप्रासंगिक है (जैसे ब्लॉग, फ़ोरम पोस्ट आदि).

इससे हिन्दी विकीपीडिया की "लेख गिनती" (article count) तो बढ़ गई है, परन्तु गुणवत्ता बहुत कम हो गयी है. हिन्दी विकीपीडिया पर गुणवत्ता के बेहतर मानक होने चाहिए - खासकर बॉट-उत्पन्न पन्नों के लिए! Utcursch १०:०२, १२ मार्च २०११ (UTC)

उत्कर्ष की बात में काफी दम है। ऐसे लेखों को हटाना जरूरी है। यदि आज नहीं तो कुछ दिन बाद। -- अनुनाद सिंहवार्ता १३:४६, १२ मार्च २०११ (UTC)
 Yes check.svg मैनें फिल्हाल इस श्रेणी के समस्त लेखों को ह्टा दिया है और जल्द ही उपरोक्त सुधारों के साथ इन लेखोँ को पुन जोड़ दिया जायेगा--Mayur (talk•Email) ०३:०९, १३ मार्च २०११ (UTC)
धन्यवाद -- इन्हें दोबारा बनाते वक्त केवल गावों से सम्भन्धित जानकारी ही शामिल करें (भले ही ये लेख 2 लाइन के हों!). {{PAGENAME}} की जगह गावँ के नाम का प्रयोग करें. "बाहरी कड़ियाँ" अनुभाग में केवल उत्तरखण्ड की आधिकारिक वेबसाइट शामिल करें. Utcursch ०५:५०, १३ मार्च २०११ (UTC)
ऐसे लेख, २ वर्ष पूर्व एक विशेष अभियान के तहत, (सही उद्देश्य हेतु) एक गलत कार्य जैसे किये गए थे। तह उद्देश्य हिन्दी के लेखों की संख्या बढ़ाना था, किन्तु इस प्रकार नहीं। मैंने भि ट्रेनों के लेख बनाये, किन्तु सभि में पृथक जानकारी है, जो कि उस रेल विशेष के लिये बनी है। ये मुद्दा मैंने तब भि उठाया था, किन्तु लोग माने नहीं। फिर भि जब जागें तब सवेरा। उत्कर्ष जी को हार्दिक धन्यवाद हिन्दी विकिपीडिया में उत्साह दिखाने के लिये, शायद इस तरह हमें एक नया उत्साही सदस्य मिलने वाला है!! --ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागर  वार्ता  ०६:०७, १३ मार्च २०११ (UTC)